मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के स्वागत में उमड़ा सारंगढ़ शहर...

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के स्वागत में उमड़ा सारंगढ़ शहर...

03-Sep-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

सारंगढ़ : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का  हैलीपैड में जनप्रतिनिधियों ने किया जोरदार स्वागत.सारंगढ़ में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का रोड शो शुरू, मुख्यमंत्री के स्वागत में उमड़ पड़ा सारंगढ़ शहर, सड़क के दोनों ओर लंबी कतारें जिला बनने पर मुख्यमंत्री का ऐतिहासिक स्वागत |

 


 नवगठित जिला मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी के शुभारंभ अवसर पर 106 करोड़ 27 लाख 95 हजार रूपएके  कार्य का किया भूमि पूजन एवं लोकार्पण...

नवगठित जिला मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी के शुभारंभ अवसर पर 106 करोड़ 27 लाख 95 हजार रूपएके कार्य का किया भूमि पूजन एवं लोकार्पण...

02-Sep-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

मोहला-मानपुर : मुख्यमंत्री  ने नवगठित जिला मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी के शुभारंभ अवसर पर 106 करोड़ 27 लाख 95 हजार रूपएके  कार्य का किया भूमि पूजन एवं लोकार्पण

- जिला शुभारंभ कार्यक्रम मोहला में 103 हितग्राहियों को 12 लाख 10 हजार रूपए की सामग्री का किया वितरण
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज  मोहला-मानपुर-अम्बागढ़ चौकी में 106 करोड़ 27 लाख 95 हजार रूपए के 54 कार्यों का भूमि पूजन एवं लोकार्पण किया। जिसमें 52 करोड़ 16 लाख 8 हजार रूपए के 42 कार्यों का भूमि पूजन एवं 54 करोड़ 11 लाख 87 हजार रूपए के 12 कार्यों का लोकार्पण शामिल है। इस अवसर पर उन्होंने 103 हितग्राहियों को 12 लाख 10 हजार रूपए की सामग्री का वितरण भी किया।


भेंट मुलाकात: युवक ने कहा स्कूली बच्चों के लिए सड़क नहीं... मुख्यमंत्री ने दी तत्काल स्वीकृति

भेंट मुलाकात: युवक ने कहा स्कूली बच्चों के लिए सड़क नहीं... मुख्यमंत्री ने दी तत्काल स्वीकृति

01-Sep-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा सेवा' से साभार 

पिछले पौने चार साल में किसानों, गरीबों ,महिलाओं के हित में लिए गये अभूतपूर्व निर्णय : मुख्यमंत्री

भेंट मुलाकात कार्यक्रम के अंतर्गत रायगढ़ के नवापारा पहुंचे मुख्यमंत्री

रायगढ़ : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल लोगों की समस्याओं के तत्काल निराकरण के लिए जाने जाते हैं । ऐसा ही नजारा रायगढ़ जिले के नवापारा(अ) गांव में देखने को मिला जब वे लोगों से भेंट मुलाकात कार्यक्रम में मिलने पहुँचे । कार्यक्रम में एक युवा सुरेंद्र कुमार ने बताया कि सोडेकेला गांव में सड़क नही है , बच्चों को कीचड़ से होकर स्कूल जाना होता है , कृपया सड़क बनवा दें, स्कूली बच्चों की सुविधा के लिए  मुख्यमंत्री ने तत्काल स्वीकृति प्रदान करते हुए सड़क बनवाने के निर्देश जारी कर दिए ।

इसी प्रकार मुख्यमंत्री ने लारा एनटीपीसी में प्रभावित बेरोजगार युवाओं की मांग पर कहा कि आपके संघर्ष में मैं भी साथ देने आया था, पता चला है कि कुछ लोगों को नौकरी मिल गयी है । बाकी सभी लोगों के लिए लारा एनटीपीसी के अधिकारियों को निर्देश देंगे कि प्रभावित योग्य लोगों को तत्काल रोजगार उपलब्ध कराएं ।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार को  कुछ माह के अंतराल के बाद फिर से भेंट मुलाकात कार्यक्रम की शुरुआत रायगढ़ के नवापारा (अ) से हुई । ग्रामीणों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य में पिछले पौने 4 साल में अभूतपूर्व विकास हुए हैं। गरीब, किसान और महिलाओं के हित में अनेक निर्णय लिए गए हैं। सभी लोगों को आगे आकर इनका लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने बताया कि किसानों के लिए पहले केवल 1300 सहकारी समितियां थीं। किसानों की सुविधा के लिए इसे बढ़ाकर लगभग 2000 किया गया है।राजीव गांधी किसान न्याय योजना से किसानों का हौसला बढ़ा है। उत्साह के साथ अब खेती करने लगे हैं। इसलिए 4 साल पहले जहां लगभग 70 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी होती थी वह बढ़कर अब 98 लाख मीट्रिक टन हो चुका है। श्री बघेल ने कहा कि गोधन न्याय योजना लोगों की समृद्धि के महत्वपूर्ण कारक साबित हो रहे हैं। गोठान में एक जगह मवेशियों के संकलाने से अनेक फायदे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में लोगों की मांग पर 400 और आत्मानंद स्कूल खोले जायेंगे। फिलहाल 279 स्कूलों में लाखों बच्चों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा दी जा रही है। भेंट मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री  को किसान बसन्त कुमार ने बताया कि मुझे राजीव गांधी किसान न्याय योजना की 94 - 94 हजार की दो क़िस्त मिली हैं । इसके साथ ही बिजली बिल में अब तक 9 हजार 194 रु की छूट मिल चुकी है । मेरा 70 हजार का कर्जा भी माफ हुआ है । इस पर मुख्यमंत्री ने चुटकी लेते हुए कहा कि इतना फायदा हुआ तो बहू को भी कुछ लाकर दो ।

कार्यक्रम में  लाल कुमार पटेल ने बताया कि गोधन न्याय योजना बहुत अच्छी है । मैं हर महीने 36 हजार का गोबर बेचता हूं। इस पैसे से अच्छे से घर- परिवार चल रहा है । मुख्यमंत्री से मृत्युंजय कुमार ने कहा कि हरियाली योजना से बहुत लाभ हुआ है, मैंने 5 हजार सागौन के पेड़ लगाए हैं । इससे 15 साल बाद करीब 4 करोड़ का फायदा होगा । मुझे राजीव गांधी किसान न्याय योजना  का 32 हजार 300 रु का  लाभ मिला है । मुख्यमंत्री ने किसान को लगाए गए पौधों की जानकारी पट्टे में दर्ज कराने को कहा ताकि बाद में वृक्ष काटकर बेचने में कोई दिक्कत न आए।

समारोह को स्कूल शिक्षा मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल और स्थानीय विधायक श्री प्रकाश नायक ने भी संबोधित किया ।

 


मुख्यमंत्री बघेल विकास की नीति पर कर रहे हैं काम... गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू

मुख्यमंत्री बघेल विकास की नीति पर कर रहे हैं काम... गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू

30-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

नई पर्यटन नीति से बेरोजगारों को हो रहा है लाभः श्री ताम्रध्वज साहू

ट्राइबल टूरिज्म में बन रही है छत्तीसगढ़ की अलग पहचान

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल विकास की नीति अपनाकर राज्य की जनता के लिए काम कर रहे हैं और इस नीति से प्रत्येक वर्ग का ध्यान रखा जा रहा है। छत्तीसगढ़ में पिछले साढ़े तीन वर्षों में सर्वाधिक नक्सलियों ने सरेंडर किया है और उनकी गिरफ्तारी की गई है। छत्तीसगढ़ में पहले नक्सलियों के उन्मूलन के लिए कैंप लगाए जाते थे और अब बस्तर के विकास के लिए कैंप लगाए जा रहे हैं जिसकी वजह से ग्रामीण खुद कैंप लगाने के लिए सरकार से कहते हैं। उक्त बातें छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने एक टीवी चैनल के साक्षात्कार में कही हैं। स्वराज एक्सप्रेस के 'बदल गे छत्तीसगढ़ संवर गे छत्तीसगढ़' में सवालों के जवाब दे रहे थे।  

गृह,पर्यटन एवं लोक निर्माण विभाग मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने कहा है कि ग्रामीणों का मुख्यमंत्री की योजनाओं पर पूरा विश्वास है। आज अबूझमाड़ जैसी जगहों पर भी खेती हो रही है और ग्रामीण 65 प्रकार के लघु वनोपज बेच रहे हैं। श्री साहू ने कहा है कि वर्तमान में अपराध का प्रकार बदल रहा है और उसी के अनुसार ही छत्तीसगढ़ की पुलिसिंग भी बदल रही है। इसी कड़ी में पुलिस द्वारा साइबर अपराधों को लेकर लोगों को लगातार जागरूक करने का भी काम किया जा रहा है।

श्री साहू ने कहा है कि छत्तीसगढ़ नई पर्यटन नीति लागू होने के बाद इस क्षेत्र में तेजी से विकसित हो रहा है। ट्राइबल टूरिज्म में छत्तीसगढ़ की अलग पहचान बन रही है और राम वन गमन पथ के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने 75 स्थानों का चिन्हांकन किया है जिसमें से पहले चरण में 9 स्थानों को विकसित किया जा रहा है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ के मैदानी इलाकों के पर्यटन स्थलों को विकसित करने के लिए प्रोजेक्ट तैयार हैं जिसमें सिरपुर जैसे स्थान शामिल हैं।


 जिला सरपंच संघ दंतेवाड़ा के द्वारा 13 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया

जिला सरपंच संघ दंतेवाड़ा के द्वारा 13 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया

30-Aug-2022

जय प्रकाश ठाकुर

दंतेवाड़ा : आज जिला सरपंच संघ दंतेवाड़ा के द्वारा दंतेवाड़ा दंतेवाड़ा जिले की विधायिका सम्माननीय देवती कर्मा जी को सरपंचों की 13 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया

जिसमें जिले के समस्त सरपंच के द्वारा अनिश्चितकालीन कलम बंद काम बंद हड़ताल में अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे हुए हैं।


छात्रों के हित में बड़ा फैसला... मुख्यमंत्री बघेल ने  500 करोड़ रुपए स्वीकृत कर तत्काल कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए

छात्रों के हित में बड़ा फैसला... मुख्यमंत्री बघेल ने 500 करोड़ रुपए स्वीकृत कर तत्काल कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए

29-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का स्कूली छात्रों के हित में बड़ा फैसला

शाला भवनों की मरम्मत एवं रखरखाव के लिए स्वीकृत किए 500 करोड़ रुपए

मुख्य सचिव को दिए निर्देश-'वर्षा ऋतु समाप्त होते ही शालाओं की मरम्मत का कार्य तत्काल प्रारंभ किया जाए

भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान मुख्यमंत्री को ग्रामीणों, जनप्रतिनिधियों तथा मीडिया प्रतिनिधियों से मिली थी शाला भवनों की दशा के बारे में जानकारियां

लंबे समय से शाला भवनों की मरम्मत के लिए पर्याप्त राशि का प्रावधान ना होने से छात्रों की पढ़ाई में उत्पन्न हो रही थी बाधा

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के विभिन्न शाला भवनों की मरम्मत एवं रखरखाव के लिए 500 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की है। उन्होंने मुख्य सचिव को 'सभी शालाओं में निर्विघ्न पढ़ाई सुनिश्चित करने के लिए वर्षा ऋतु समाप्त होते ही शाला भवनों की मरम्मत का कार्य तत्काल प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने मुख्य सचिव को दिए गए निर्देशों में कहा है कि प्रदेश व्यापी भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान ग्रामीणों, जनप्रतिनिधियों तथा मीडिया प्रतिनिधियों से शाला भवनों की दशा के बारे में जानकारी मिली थी। लंबे समय से शाला भवनों की मरम्मत के लिए पर्याप्त राशि का प्रावधान ना होने से मरम्मत का कार्य नहीं हो सका इससे छात्रों की पढ़ाई में बाधा उत्पन्न हो रही थी।

मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए हैं कि आगामी शालेय सत्र (जून 2023) आरंभ होने के पूर्व शालाओं की मरम्मत एवं रखरखाव हेतु कम से कम 500 करोड़ रूपये (पांच सौ करोड़ रुपये) का प्रावधान किया जाए।


खेल दिवस... मुख्यमंत्री बघेल ने हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को नमन किया

खेल दिवस... मुख्यमंत्री बघेल ने हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को नमन किया

29-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज खेल दिवस के अवसर पर अपने निवास कार्यालय में हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा की मेजर ध्यानचंद ने अपने उत्कृष्ट खेल के बदौलत देश को गौरवान्वित किया है। 

उनके दौर में भारत ने हॉकी का स्वर्णिम दौर देखा है। ध्यानचंद में गोल करने की क्षमता कमाल की थी। उनके दौर में भारत ने 1928, 1932 एवं 1936 के ओलंपिक में गोल्ड मैडल जीते थे। उनसे प्रेरणा पाकर आज भी हॉकी के खिलाड़ी अपना बेहतर प्रदर्शन कर देश का नाम रोशन कर रहे हैं। गौरतलब है कि हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्मदिवस को खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

 


आज पूरे प्रदेश में पोरा तिहार का धूम... मुख्यमंत्री ने नंदी-बैल की पूजा कर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

आज पूरे प्रदेश में पोरा तिहार का धूम... मुख्यमंत्री ने नंदी-बैल की पूजा कर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

27-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

मुख्यमंत्री निवास में धूम-धाम से मनाया गया पोरा-तीजा तिहार

मुख्यमंत्री ने सपरिवार भगवान शिव और नंदी-बैल की पूजा कर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

तीजहारिन माताओं व बहनों के साथ मुख्यमंत्री ने भी किया पारंपरिक नृत्य

स्थानीय कलाकारों और नर्तक दलों ने बिखेरी छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा

फुगड़ी-कबड्डी और जलेबी दौड़ का उत्साह

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज अपने निवास में आयोजित पोरा-तीजा तिहार में परिवार के साथ भगवान शिव और नंदीश्वर की पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों की सुख और सृमद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने खेती-किसानी और छत्तीसगढ़ी संस्कृति के प्रतीक पोला तिहार की प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ धन-धान्य से भरपूर रहे और हमारे पशुधन हमारी तरक्की में सहायक बने रहें।

स्थानीय कलाकारों और नर्तक दलों ने बिखेरी छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने तीजा-पोरा की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए सभी अतिथियों का स्वागत एवं अभिनंदन किया।

उन्होने कहा कि तीजा-पोरा खेती- किसानी, बहु बेटियों का त्यौहार है। मैं आप सभी का स्वागत करता हूं।

तीजा-पोरा के उत्सव में सीएम हाउस पहुंची छत्तीसगढ़ की सुप्रसिद्घ लोकगायिका और खैरागढ़ विश्वविद्यालय की कुलपति ममता चंद्राकरजी ने 'तोर मन कइसे लागे राजा' गीत से तीजा के उत्सव  को और खास बनाया।  सीएम भूपेश बघेल और तीज मनाने पहुंची छत्तीसगढ़ की बहनों ने उनके गीतों का आनंद लिया और तीजहारिन महिलाओं के साथ मुख्यमंत्री भी खुद को थिरकने से रोक नहीं सके. 

हरेली के बाद छत्तीसगढ़ के पारम्परिक त्यौहारों ‘पोरा-तीजा‘ को व्यापक स्तर पर मनाने के लिए मुख्यमंत्री के रायपुर स्थित निवास में विशेष इंतजाम किए गए थे। छत्तीसगढ़ की परम्परा और रीति-रिवाज के अनुसार साज-सज्जा  स्थानीय खेलों का आयोजन किया गया और सवाल जवाब भी किए गए, इसके बाद स्थानीय कलाकारों और नर्तक दलों की प्रस्तुति ने छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा बिखेर दी।

 इस मौके पर गृहमंत्री श्री ताम्रध्वज साहू,अनुसूचित जाति एवं आदिमजाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, छत्तीसगढ़ हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष श्री कुलदीप जुनेजा, राज्यसभा सांसद श्री के टी एस तुलसी, श्रीमती रंजीता रंजन, श्रीमती फूलो देवी नेताम, खैरागढ़ संगीत विश्व विद्यालय की कुलपति श्रीमती ममता चंद्राकर, पूर्व राज्यसभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा सहित समस्त जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में महिलाएं उपस्थित थी।  

    पोरा-तीजा तिहार में रंग-बिरंगे परिधानों में प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में महिलाएं मुख्यमंत्री निवास पहुंची थीं। मुख्यमंत्री निवास में तीज मनाने आयी महिलाओं के लिए श्रृंगार की व्यवस्था भी की गई थी। महिलाओं के लिए मेंहदी, आलता लगाने के साथ ही रंग-बिरंगी चूड़ियों की व्यवस्था भी थी। महिलाओं ने इस अवसर पर आयोजित जलेबी दौड़, मटकी डांस, कबड्डी सहित अनेक खेलों में बड़े ही उत्साह से हिस्सा लिया।

पोरा-तीजा तिहार के अवसर पर भगवान शिव और नंदी-बैल की पूजा की गई। तीजा महोत्सव के लिए प्रदेश के विभिन्न स्थानों से बहनों को यहां आमंत्रित किया गया था। इस अवसर पर बहनों द्वारा करूभात खाने की रस्म पूरी की गई।


अपेक्स बैंक एवं जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों पर मुख्यमंत्री बघेल ने जतायी नाराजगी... दिए जांच के निर्देश

अपेक्स बैंक एवं जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों पर मुख्यमंत्री बघेल ने जतायी नाराजगी... दिए जांच के निर्देश

27-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

मुख्यमंत्री ने जतायी नाराजगी : अपेक्स बैंक एवं जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में समकक्ष पदों पर विगत 10 वर्षों में 2 गुना से अधिक वेतन भत्तों की बढ़ोतरी

मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के बैंकों की तुलना में 2 गुना से अधिक वेतन बढ़ोतरी पर जांच कराने के दिये निर्देश

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अपेक्स बैंक एवं जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में समकक्ष पदों पर विगत 10 वर्षों में 2 गुना से अधिक वेतन भत्तों की बढ़ोतरी पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त की है । मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के बैंकों की तुलना में 2 गुना से अधिक वेतन बढ़ोतरी पर जांच कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने यह भी निर्देशित किया है कि भविष्य में होने वाली रिक्तयों की पूर्ति शासन के समान वेतनमान पर की जाये।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में अपेक्स बैंक एवं प्रदेश के सभी जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों के प्रचलित सेवा नियम एवं उनके वेतनमान के संबंध में बैठक आयोजित की गयी थी ।

बैठक में मुख्यमंत्री जी द्वारा निर्देश दिए गए कि नवीन सेवा नियम लागू होने के बाद अपेक्स बैंक एवं जिला सहकारी बैंकों में लगभग 2900 पदों की रिक्तियां उद्भूत होंगी, उनमें शीघ्र भर्ती की कार्यवाही राज्य एजेंसी व्यापम के माध्यम से भर्ती की कार्यवाही शीघ्र की जाये, जिससे प्रदेश के बेरोजगार युवकों को लाभ प्राप्त हो सके।


गुलाम नबी आज़ाद के इस्तीफा पर आया मुख्यमंत्री बघेल का बड़ा बयान... बोले- पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा

गुलाम नबी आज़ाद के इस्तीफा पर आया मुख्यमंत्री बघेल का बड़ा बयान... बोले- पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा

27-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

रायपुर : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे  गुलाम नबी आजाद ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. गुलाम नबी आजाद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से लेकर सभी पदों से इस्तीफा दे दिया. वरिष्ठ नेता रहे  गुलाम नबी आजाद के इस्तीफा पर अपना प्रतिक्रिया देते हुए  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा गुलाम नबी आज़ाद जी लगातार पार्टी में रहकर पार्टी को नुकसान पहुँचाने की कोशिश कर रहे थे। उनके इस्तीफा देने से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

बता दे की वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है. गुलाम नबी आजाद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से लेकर सभी पदों से इस्तीफा दे दिया.आजाद ने कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी को 5 पन्नों का इस्तीफा भेजा है |


बिजली उपभोक्ता रहें सावधान... साइबर ठग कनेक्शन काटे जाने का संदेश भेजकर उपभोक्ताओं को कर रहे भ्रमित

बिजली उपभोक्ता रहें सावधान... साइबर ठग कनेक्शन काटे जाने का संदेश भेजकर उपभोक्ताओं को कर रहे भ्रमित

26-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

फर्जी मोबाइल नंबरों से आए एसएमएम से बिजली उपभोक्ता सावधान रहें

कनेक्शन काटे जाने का संदेश भेजकर उपभोक्ताओं को कर रहे भ्रमित

बेमेतरा : छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के संज्ञान में आया है कि उपभोक्ताओं के मोबाइल पर फेक एसएमएस भेजे जा रहे हैं, जिसमें बिजली बिल भुगतान नहीं होने पर कनेक्शन काटने का संदेश लिखा होता है तथा 10 अंकों का फर्जी मोबाइल नंबर से संपर्क करने कहा जाता है। इस नंबर पर फोन करने पर साइबर ठग बिजली कनेक्शन कटने का झांसा देते हैं।

छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने अपने उपभोक्ताओं को एसएमएस के जरिए हो रही साइबर ठगी से सावधान रहने को कहा है। कंपनी कभी भी अपने उपभोक्ताओं को 10 अकों के मोबाइल नंबर से कोई मैसेज नहीं भेजती है और न ही 10 अंकों के मोबाइल नंबर पर किसी तरह के भुगतान स्वीकार किया जाता है। कभी किसी लिंक को क्लिक करने के लिए कहती है और न ही श्मोर बिजली ऐपश् के अलावा किसी ऐप को डाउनलोड करने या उपयोग करने को कहती है।

साइबर ठग उपभोक्ता नंबर के बजाय उपभोक्ता का मोबाइल नंबर मांगते हैं और भुगतान संबंधी जानकारी देने की बात कहते हैं। साथ ही ये प्ले स्टोर में जाकर किसी एप को डाउनलोड करने कहते हैं, जिससे उपभोक्ता धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं।

उपभोक्ताओं से आग्रह किया गया है कि बिजली संबंधी सभी भुगतान विद्युत वितरण कंपनी के काउंटरों, एटीपी सेंटरों, मोर बिजली ऐप, कंपनी की वेबसाइट cspc.co.in अथवा सीएससी या पेय प्वाइंट के अधिकृत आउटलेट्स पर ही करें। इनके अलावा किसी दूसरे माध्यम से किसी भी तरह की राशि का भुगतान न करें। छत्तीसगढ़ स्टेट पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी द्वारा बिजली उपभोक्ताओं को सूचनार्थ भेजे जाने वाले अधिकृत एसएमएस हमेशा सीएसपीडीसीएल सेन्डर आई डी के साथ भेजे जाते हैं। इसके अलावा कंपनी ने अपने सभी उपभोक्ताओं को ऐसे किसी भी अनाधिकृत एस. एम. एस. को नज़र अंदाज़ करने की सलाह दी है। इसके अलावा कंपनी की टोल फ्री नंबर 1912 पर संपर्क कर अपने संदेह का समाधान कर सकते हैं।


छत्तीसगढ़ को आउटलुक ट्रैवलर अवार्ड्स-2022 प्रदान किया गया

छत्तीसगढ़ को आउटलुक ट्रैवलर अवार्ड्स-2022 प्रदान किया गया

26-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

छत्तीसगढ़ के बस्तर को 'बेस्ट ऑफ बीट डेस्टिनेशन' के रूप के चुना गया 

पर्यटन और संस्कृति विभाग के सचिव श्री. अन्बलगन पी. ने ग्रहण किया पुरस्कार

रायपुर : आउटलुक ग्रुप की ओर से विभिन्न श्रेणियों में दिए जाने वाले पुरस्कार की कड़ी में इस बार आउटलुक ट्रैवलर्स अवार्ड-2022 श्रेणी में छत्तीसगढ़ के बस्तर को एक विशेष जूरी पुरस्कार के साथ 'बेस्ट ऑफ बीट डेस्टिनेशन' के रूप में सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार समारोह बीते 24 अगस्त को नई दिल्ली में आयोजित किया गया था। केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री किशन रेड्डी के मुख्य आतिथ्य में संपन्न समारोह में छत्तीसगढ़ की ओर से यह अवॉर्ड पर्यटन और संस्कृति विभाग के सचिव श्री. अन्बलगन पी. ने ग्रहण किया। 

उल्लेखनीय है कि इस वर्ष पुरस्कारों का 19वां वर्ष है। वहीं इस वर्ष आउटलुक ग्रुप के शिखर सम्मेलन का विषय "यात्रा का तीसरा युग" निर्धारित है। इन पुरस्कारों का निर्णय एक शोध एजेंसी द्वारा किए जा रहे यात्रा सर्वेक्षण के आधार पर किया गया था और फिर जूरी सदस्यों द्वारा फीडबैक की जांच की गई थी।


एसटी, एससी अधिनियम-1989 के प्रावधान के तहत दर्ज प्रकरणों का शीघ्र निराकरण करें: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

एसटी, एससी अधिनियम-1989 के प्रावधान के तहत दर्ज प्रकरणों का शीघ्र निराकरण करें: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

26-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम-1989 की राज्य स्तरीय सतर्कता एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक

सतर्कता एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक हुई। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की

रायपुर : मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम-1989 की राज्य स्तरीय सतर्कता एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक हुई। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में ST, SC वर्ग को विभिन्न प्रावधानों के तहत मिलने वाले लाभों और अधिनियम-1989 के अंतर्गत 2019, 2020 एवं 2021 में दर्ज प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा की गई। साथ ही अधिनियम-1989 के अंतर्गत 2019, 2020 एवं 2021 में स्वीकृत राहत राशि की भी समीक्षा की गई। उक्त बैठक में गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम समेत संसदीय सचिव व मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन,  गृह सचिव श्री मनोज पिंगुआ, विभागीय सचिव श्री डी. डी. सिंह तथा आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास आयुक्त श्रीमती शम्मी आबिदी उपस्थित थीं। वहीं संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत सिंह भगत व पुलिस महानिदेशक श्री अशोक जुनेजा समेत अन्य संसदीय सचिव वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल हुए।  

अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के प्रावधान अनुसार गठित राज्य स्तरीय सतर्कता एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक में सदस्यगण ऑनलाइन वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से भी शामिल हुए। समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अधिनियम-1989 के प्रावधान के तहत दर्ज पुलिस के पास लंबित प्रकरणों के शीघ्र निराकरण करने के निर्देश देते हुए कहा कि पुलिस अन्वेषण स्तर पर स्थायी जाति प्रमाण पत्र बनवाने में यदि विलंब होता है तो संबंधित ग्राम सभा से यह तस्दीक कर लिया जाये कि पीड़ित व्यक्ति अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग का है या नहीं। इसके लिए विधि विभाग, गृह विभाग एवं आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास विभाग समन्वय कर समीक्षा कर लें। विशेष न्यायालयों में दर्ज प्रकरणों के त्वरित निराकरण किये जाने बाबत् विशेष लोक अभियोजकों के स्तर से यथोचित प्रयास करने संबंधी निर्देश दिये जाने हेतु विधि विभाग को आवश्यक कार्यवाही करने कहा गया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार जिला स्तरीय एवं उपखण्ड स्तरीय बैठकों का आयोजन नियत समयावधि में आवश्यक रूप से किये जाने हेतु जिला कलेक्टरों को एवं अनुविभागीय अधिकारी को आवश्यक निर्देश जारी किये जाने के लिए भी निर्देशित किया।


भूपेश सरकार का बड़ा फैसला... कोरबा में 1320 मेगावाट के नए बिजली संयंत्र का होगा स्थापना

भूपेश सरकार का बड़ा फैसला... कोरबा में 1320 मेगावाट के नए बिजली संयंत्र का होगा स्थापना

26-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

 भविष्य की ऊर्जा की मांग को देखते हुए लिया गया फैसला

 राज्य बनने के बाद पहली बार इतनी बड़ी क्षमता का लगेगा संयंत्र

 कोरबा पश्चिम में 2x660 मेगावॉट के नवीन विद्युत संयंत्र स्थापना के निर्देश

रायपुर :  छत्तीसगढ़ में 1320 मेगावाट के नए बिजली संयंत्र की स्थापना के निर्देश माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने दिए हैं। यह छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर जनरेशन कंपनी का सबसे बड़ा और सबसे आधुनिक संयंत्र होगा। इसकी स्थापना से छत्तीसगढ़ स्टेट जनरेशन कंपनी के स्वयं की विद्युत उत्पादन क्षमता बढ़कर 4300 मेगावाट हो जाएगी। राज्य स्थापना के बाद पहली बार इतनी क्षमता का विद्युत संयंत्र स्थापित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने अपने निवास में पॉवर कंपनियों की समीक्षा बैठक ली गई जिसके अंतर्गत भविष्य में विद्युत की मांग की आपूर्ति के लिए आवश्यक विद्युत उपलब्धता की समीक्षा की गई। वर्ष 2030-31 तक अपेक्षित विद्युत मांग में वृद्धि की आपूर्ति हेतु नवीन विद्युत संयंत्र की आवश्यकता होगी ।

माननीय मुख्यमंत्रीजी ने राज्य की विद्युत उत्पादन कंपनी को कोरबा पश्चिम में उपलब्ध भूमि पर 2x660 मेगावॉट सुपर क्रिटीकल नवीन विद्युत उत्पादन संयंत्र की स्थापना समुचित कार्रवाई के निर्देश दिये ।

विद्युत उत्पादन कंपनी के प्रबंध निदेशक श्री एनके बिजौरा ने बताया गया कि यह सुपर क्रिटिकल संयंत्र  अत्याधुनिक तकनीक से स्थापित की जाएगी।  इससे एक ओर बिजली की  उपलब्ध सुनिश्चित होगी,  वहीं रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

उन्होंनो बताया कि कोरबा पश्चिम में संयंत्र स्थापना हेतु स्वयं की भूमि उपलब्ध है । साथ ही अपेक्षित परियोजना स्थल पर कोयले की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए वर्तमान चलित उत्पादन संयंत्रों के लिए कंवेयर बेल्ट की सुविधा भी उपलब्ध है।

माननीय मुख्यमंत्रीजी के निर्देश उपरांत संयंत्र स्थापना के लिए आवश्यक स्वीकृतियां, कोयला आबंटन, जल आबंटन सहित विस्तृत डी.पी.आर इत्यादि तैयार करने का कार्य विद्युत उत्पादन कंपनी द्वारा त्वरित गति से किया जावेगा जिससे वर्ष 2030-31 तक अपेक्षित विद्यत आपूर्ति संभव हो सके ।

कन्वेयर बेल्ट से कोयला उपलब्धता, स्वयं की भूमि उपलब्धता तथा सूपर क्रिटिकल प्लांट होने के कारण नवीन प्रस्तावित प्लांट से उत्पादित विद्युत की दर सस्ती होना अपेक्षित है। नवीन उत्पादन संयंत्र की स्थापना से स्थानीय रोजगार का विकास भी संभव होगा ।


बच्चों की मानसिक स्थिति को समझेंगे शिक्षक...

बच्चों की मानसिक स्थिति को समझेंगे शिक्षक...

25-Aug-2022

बच्चों की मानसिक स्थिति को समझने को शिक्षकों की हुई कार्यशाला

बच्चों का व्यवहार समझने को बनेगा मॉड्यूल

No description available.

रायपुर : बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखने के उद्देश्य से राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) में स्वास्थ्य विभाग और निमहांस (नेशनल इंस्टीट्यूट आफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंस) बेंगलुरु के सहयोग से शिक्षकों के लिए राज्य स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया । इस कार्यशाला में बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखने के बारे में जानकारी दी गयी और बच्चों के व्यवहार को समझने के लिए मॉड्यूल बनाने के साथ साथ स्किल डेवलपमेंट के बारे में बताया गया। कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य बच्चों में समय रहते मानसिक विकार की पहचान कर उन्हें बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के साथ-साथ उनके व्यवहार में परिवर्तन लाना है ।

कार्यशाला का आयोजन स्वास्थ्य सेवाओं के संचालक नीरज बांसोड एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन संचालक भोस्कर विलासन राव संदीपन, के मार्गदर्शन में किया गया ।

इस सम्बन्ध में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के उप संचालक डॉ. महेंद्र सिंह ने बताया: ‘’ कार्यशाला का आयोजन मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत शिक्षकों के लिए किया गया जिसमें निमहांस  बेंगलुरू द्वारा तकनीकी सहयोग प्रदान किया गया। कार्यशाला में बच्चों के मानसिक व्यवहार को समझने के लिए निमहांस के विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है।“

आगे उन्होंने कहा: “कार्यशाला के माध्यम से बच्चों के व्यवहार को समझने के लिए मॉड्यूल बनाने पर भी समझ को बढ़ाने का प्रयास किया गया। इससे शिक्षक और बच्चों के मध्य व्यवहार प्रबंधन पर समझ को विकसित करने में मदद मिलेगी। साथ ही कार्यशाला के अगले चरण में शिक्षकों को गेट कीपर के रूप में भी प्रशिक्षित किया जाएगा।  जिससे वह बच्चों के भीतर हो रहे मानसिक बदलाव को समझें और उसका बेहतर तरीके से हल भी बताएं । “

कार्यशाला में तकनीकी सहयोग दे रहे निमहांस  बेंगलुरू के विशेषज्ञ डॉ. संजीव कुमार और के.सेखार ने बच्चों के मनोविज्ञान को समझना और उसके अनुरूप व्यवहार करने के बारे में बताया। उन्होंने जानकारी दी कि बच्चों में कभी-कभी अपने विषय पर समझ विकसित नहीं हो पाती जिसके कारण बच्चे डिप्रेशन या अवसाद में चले जाते हैं उस डिप्रेशन को समझना और उन्हें उस समस्या से बाहर निकालना एक शिक्षक का काम होता है उत्पन्न हुई समस्या को गतिविधि के माध्यम से कैसे दूर किया जा सकता है पर भी उन्होंने लोगों को विस्तार से बताया।

राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) के अतिरिक्त संचालक डॉ. योगेश शिवहरे एवं उप संचालक डीपीआईजी आशुतोष चावड़े के सहयोग से कार्यशाला का आयोजन किया गया ।


दिव्यांग बच्चों के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बांटी अपने जन्मदिन की खुशियां...

दिव्यांग बच्चों के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बांटी अपने जन्मदिन की खुशियां...

24-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

रायपुर : दिव्यांग बच्चों के साथ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने बांटी अपने जन्मदिन की खुशियां। राजधानी रायपुर की समाज सेवी संस्था 'कोपलवाणी' से बड़ी संख्या में मूक- बधिर बच्चे मुख्यमंत्री जी को जन्मदिन की शुभकामनाएं देने पहुंचे।


एनजीटी के नियमों का उल्लंघन करने वालों के उपर होगी कार्यवाही...

एनजीटी के नियमों का उल्लंघन करने वालों के उपर होगी कार्यवाही...

24-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

जिल स्तरीय टास्ट फोर्स समिति की बैठक आयोजित

बेमेतरा : कलेक्टर श्री जितेन्द्र कुमार शुक्ला की अध्यक्षता में आज यहां जिला स्तरीय टास्ट फोर्स की बैठक आयोजित की गई, जिसमें माननीय नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल नई दिल्ली के निर्देशानुसार बेमेतरा जिले में गठित जिला स्तरिय टॉस्क फोर्स की बैठक में सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बेमेतरा श्रीमती जसविन्दर कौर अजमानी मलिक, क्षेत्रीय अधिकारी छ.ग. पर्यावरण संरक्षण मंडल भिलाई, विश्वास राव म्हस्के, मुख्य नगर पालिका अधिकारी नगर पालिका परिषद बेमेतरा होरी सिंह ठाकुर सहित सर्व मुख्य नगर पालिका अधिकारी नगर पंचायत जिला बेमेतरा उपस्थित थे।

जिला स्तरीय टॉस्क फोर्स समिति की बैठक द्वारा निर्णय लिया गया कि सभी नगरीय निकायों में डोर टू डोर कचरा कलेक्शन करने हेतु विशेष प्राथमिकता के साथ कार्यवाही किए जाने हेतु निर्देशित किया गया, जिसे निरंतर निरीक्षण हेतु निर्देशित किया गया। तथा कचरा कलेक्शन करने वाले सफाई मित्रो बहनो को प्रोत्साहित किया जावे। निर्माण गतिविधियों से उत्पन्न निर्माण एवं विध्वंस अपशिष्ट के प्रबंधन हेतु कार्य योजना बनाने अपशिष्ट को पृथक पृथक संग्रहित करने अपशिष्ट को ना जलाने नियमों के उप बंधुओं का पालन न करने वालों के विरुद्ध उपविधि बनाने पुराने मलबा स्थल को वैज्ञानिक तरीकों से कैंपिंग करने हेतु निर्देशित किया गया। बेमेतरा जिला के अंतर्गत नगरीय निकायों के द्वारा परफॉर्मेंस इंडिकेटर्स 18 बिंदुओं के तहत् विस्तृत चर्चा किया गया सभी बिन्दुओं पर गंभीरता पूर्वक समय-सीमा में कार्यवाही करने का निर्देश दिया गया। निजी हॉस्पिटल का निरीक्षण आगामी बैठक के पूर्व किया जावे, जिनका मेडिकल वेस्ट विधिवत निप्टान किये जाने हेतु प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जावे, साथ ही हॉस्पिटलों में फायर सेफ्टिकी व्यवस्था सुनिश्चित किया जावे, जिसका भी प्रतिवेदन आगामी बैठक में रखा जावे। नगर पंचायत देवकर क्षेत्र में एस.टी.पी. स्थापना हेतु मुख्य नगर पालिका अधिकारी नगर पंचायत देवकर द्वारा शासन को प्रस्ताव प्रेषित किया जावे। जिले के सभी शैक्षणिक संस्थाओं महाविद्यालयों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन तथा वृक्षारोपण के संबंध में स्कूली छात्र छात्राओं के मध्य बैनर व पोस्टर के माध्यम से जन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाने हेतु निर्देशित किया गया।

सभी दुकानदारों को प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग में समझाइश दिए जाने के साथ ही बाजारों में प्रतिबंधित प्लास्टिक सामग्री की जब्ती, पेनाल्टी की कार्यवाही की जावे। ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 के अनुसार ठोस अपशिष्टों का उचित अपवहन किए जाने हेतु आवश्यक कार्यवाही जिला पंचायत जनपद पंचायत एवं ग्राम पंचायत स्तर से किए जाने हेतु निर्देशित किया गया। समस्त मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को नियमित रूप से मुख्यालय में रहने एवं प्रातः काल सफाई का निरीक्षण स्वयं करने निर्देश दिया गया। शादी हॉल कैटरर्स को चिन्हित कर एकल उपयोग के उपयोग को बढ़ावा देने के निर्देश दिए गए हैं। प्लास्टिक के विकल्प के रूप में दोना पत्तल, एनजीटी के नियमों का उल्लंघन करने वाले पर कार्यवाही कर जुर्माना वसूलने हेतु निर्देशित किया गया। नगर में निदान 1100 के फ्लैक्स प्रदर्शित किया जावे। बैठक में कलेक्टर ने अनुपस्थित रहने वाले मुख्य नगर पालिका अधिकारी नगर पंचायत मारो एवं नवागढ को शो-काज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।


 माफ़ीवीर भी तो वीर होता है

माफ़ीवीर भी तो वीर होता है

23-Aug-2022

व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा

मोदी जी कुछ भी करें, इन सेकुलरवादियों को तो विरोध करना ही करना है। बताइए! अमृतकाल की पहली सुबह वाली आजादी की सालगिरह पर मोदी जी ने लालकिले से बापू, सुभाष और अम्बेडकर के साथ वीर सावरकर जी का नाम क्या ले दिया, इन्हें इसमें भी आब्जेक्शन हो गया। कह रहे हैं कि मोदी जी ने देश के प्रात:स्मरणीयों में बापू, सुभाष और अम्बेडकर की बगल में, सावरकर को कैसे बैठा दिया। वह स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास को क्यों तोड़-मरोड़ रहे हैं?

नेहरू, पटेल को तीसरी लाइन में श्यामाप्रसाद मुखर्जी, दीनदयाल उपाध्याय, नानाजी देशमुख वगैरह की बगल में बैठाना क्या कम था, जो सावरकर को भगतसिंह, आजाद, अशफाक, बिस्मिल जैसे बेशुमार शहीदों से भी आगे की लाइन मे बैठा दिया! और सावरकर को स्वतंत्रता सेनानी पेंशन देने, ताम्रपत्र वगैरह देने तक तो फिर भी ठीक था; पर पीएम जी ने सावरकर को इकलौता वीर कैसे बना दिया? अब क्या माफीवीर को भी वीर कहना होगा? क्या यही अमृतकाल है!

जी हां! यही अमृतकाल है। अब सावरकर की सीट तो सबसे आगे की लाइन में ही लगेगी, बल्कि सबसे आगे वाले सोफों पर। एक तरफ बापू, दूसरी तरफ सुभाष बाबू और बीच में सावरकर। और हां जरा हटकर, सुरक्षित दूरी पर डा. अम्बेडकर। बाकी सब पीछे की लाइनों में। जगह कम पड़ जाए तो नेहरू-वेहरू सबसे पीछे खड़े रह सकते हैं या फोटो से बाहर भी किए जा सकते हैं, 76वीं सालगिरह पर कर्नाटक और बंगाल की सरकार के विज्ञापनों के फोटो की तरह। वैसे हो सकता है कि अपनी इज्जत बचाकर, नेहरू जी खुद ही उन तस्वीरों से बाहर चले गए हों। खैर! क्या फर्क पड़ता है। अमृतकाल में ले जाने वाली रेलगाड़ी में हर किसी को सीट थोड़े ही मिल सकती है। बिना सीट के भी लोग सफर करते ही हैं। अगर नेहरू जी में अब भी इतनी अकड़ है कि खड़े होकर या पायदान पर लटक कर अमृतकाल में नहीं जाएंगे तो, उनकी मर्जी। ड्राइविंग सीट पर मोदी जी हैं, नेहरू जी के नखरे अब थोड़े ही उठाए जाएंगे!

फिर मोदी जी ने तो 2014 में आते ही एलान कर दिया था कि जो सत्तर साल में नहीं हुआ, वही-वही होगा! और पिछले साल, अमृत वर्ष का फीता काटते समय तो साफ-साफ कह दिया था कि आजादी की लड़ाई को अब नये अंदाज में याद किए जाएगा। जिनका नाम पहले नहीं आया, उनका नाम लिया जाएगा। जिनको मान नहीं दिया गया, उनको मान दिया जाएगा। जिन्हें गिनती में नहीं लिया गया, उन्हें गिनती में लिया जाएगा। जिन्हें सबसे पीछे रखा गया, उन्हें सबसे आगे बैठाया जाएगा, वगैरह।

इसीलिए तो अमृत काल की पहली सुबह, सिर्फ नेहरू ही नहीं पटेल को भी श्यामा प्रसाद मुखर्जी ही नहीं, दीनदयाल उपाध्याय और नानाजी देशमुख की भी बगल में बैठा दिया है और बापू को सावरकर की बगल में। और यह तो पहली सुबह यानी शुरूआत थी। आगे-आगे देखिए, अमृतकाल में आगे आता है कौन-कौन और पीछे ठेला जाता है कौन-कौन? अब कोई आगे आएगा, तो कोई न कोई पीछे भी जाएगा ही। कतार का यही नियम है। 2047 में जब भारत अपनी स्वतंत्रता के सौ साल मनाएगा, तब तक बापू कहां होंगे, यह तो नहीं पता, पर सावरकर का आसन जरूर और आगे आ जाएगा!

पर सेकुलरवादियों का यह इल्जाम सरासर झूठा है कि मोदी जी, अपने वैचारिक कुनबे के लोगों की छवि चमकाने में लगे हैं, जबकि स्वतंत्रता की लड़ाई में उनके कुनबे वाले तो शामिल ही नहीं थे। ऐसा हर्गिज नहीं है। उल्टे मोदी जी तो कुनबापरस्ती के एकदम खिलाफ हैं। इतने खिलाफ कि अपना कुनबा ही नहीं बनाया। न होगा कुनबा, न होगी कुनबापरस्ती। अगर सारी राजनीतिक पार्टियां और राजनीतिक नेता, मोदी जी के आदर्श को अपना लें, तो एक ही झटके में इस देश से कुनबापरस्ती का नाम ही मिट जाएगा। और रही बात वैचारिक कुनबे को जबर्दस्ती स्वतंत्रता सेनानी बनाकर बैठाने की, तो मोदी जी को भी ताम्रपत्रों के घपलों का खूब पता है। पर मजाल है, जो मोदी जी ने संघ के एक भी बड़े नेता का लाल किले से नाम तक लिया हो। न हेडगेवार न गोलवलकर, एक सरसंघचालक तक नहीं। क्यों? क्योंकि मोदी जी भाई-भतीजावाद के ही नहीं, वैचारिक भेदभाव के भी खिलाफ हैं। उनका पक्का विश्वास है कि देशभक्त तो देशभक्त होता है, वह देश सब का मानता हो, तो भी और देश को सिर्फ हिंदुओं का मानता हो, तो भी। इसी एकता का नमूना पेश करने के लिए तो उन्होंने ‘‘हिन्दू राष्ट्र"’ वाले सावरकर को, सबका राष्ट्र वाले बापू की बगल में बैठाया है। अमृत काल में सबका साथ नहीं होगा, तो सब का विकास कैसे होगा?
 
बापू और सावरकर में ये सेकुलरवादी जो झगड़ा लगाने की कोशिश करते हैं, अब नहीं चलने वाली। व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी की रिसर्च में पता चला है कि दोनों में पक्की दोस्ती थी। बल्कि सावरकर, तो बापू की हर बात मानते थे। माफी-वाफी की जो भी चिट्ठियां उन्होंने लिखी बताते हैं, सावरकर ने कौन-सी अपनी मर्जी से लिखी थीं। माफी की चिट्ठियां तो सावरकर ने बापू के कहने पर ही लिखी थीं। वह बापू की बात टाल जो नहीं पाते थे। बापू की बात तो सावरकर इतनी मानते थे, इतनी मानते थे कि, उनके जरा से इशारे पर उन्होंने आठ-आठ चिट्ठियां लिख डालीं।

वह तो तब तक चिट्ठियां लिखते रहे, जब तक अंगरेजों ने ही आजिज़ आकर, और चिट्ठी नहीं लिखने की शर्त पर, उन्हें छोड़ नहीं दिया। सुनते हैं कि उनकी चिट्ठियों से बचने के लिए ही अंगरेजों ने उन्हें, जब तक उनका राज बना रहा, सावरकर को महीना-दर-महीना पेंशन भी दी थी।

माफी की सावरकर की जिन  चिट्ठियों से अंगरेज थर-थर कांपते थे, दुश्मन को कंपाने वाली ऐसी चिट्ठियां लिखने को वीरता नहीं, तो क्या कहेंगे? और माफी की चिट्ठियां लिखने के लिए सावरकर को भले ही माफीवीर कहा जाए, पर माना तो वीर ही जाएगा।

रही गांधी मर्डर वाले मुकद्दमे की बात, तो वह सब नेहरू-पटेल की गलतफहमी का नतीजा था। बाद में अदालत ने सबूत पेश नहीं होने से उन्हें बरी भी तो कर ही दिया था। अदालत में गोडसे ने खुद कहा था कि उसने गुरुजी के कहने पर गांधी का वध नहीं किया था! और अगर सावरकर के कहने से किया भी हो तो, अगर कहने भर के लिए सावरकर को गांधी वध के लिए जिम्मेदार माना जा सकता है, तो सावरकर की माफी की  चिट्ठियों के लिए, गांधी को जिम्मेदार क्यों नहीं माना जाना चाहिए? फिर असली माफीवीर कौन हुआ? तब सावरकर की ही वीरता पर सवाल क्यों? माफीवीरता भी वीरता का ही एक भारतीय प्रकार है। माफीवीर भी वीर होता है।


राजीव गांधी किसान न्याय योजना...मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसानों को इनपुट सब्सिडी के रूप 1745 करोड़ रूपए हस्तांतरित किया

राजीव गांधी किसान न्याय योजना...मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसानों को इनपुट सब्सिडी के रूप 1745 करोड़ रूपए हस्तांतरित किया

20-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

सद्भावना दिवस पर राजीव गांधी किसान न्याय योजना और गोधन न्याय योजना राशि अंतरण कार्यक्रम का आयोजन

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना की खरीफ वर्ष 2021 की दूसरी किश्त के तहत 26 लाख 21 हजार किसानों को इनपुट सब्सिडी के रूप 1745 करोड़ रूपए की राशि उनके बैंक खातों में ट्रांसफर की 

इससे पूर्व 21 मई 2022 को राज्य के किसानों को इस योजना की प्रथम किस्त के रूप में 1745 रूपए का भुगतान किया गया था

आज द्वितीय किस्त के भुगतान की गई राशि को मिलाकर किसानों को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के शुरू होने के बाद से अब तक 14 हजार 665 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया है
 इस योजना में खरीफ 2019 में 18.43 लाख किसानों को 4 किस्तों में इनपुट सब्सिडी के रूप में 5627 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया
खरीफ वर्ष 2020 के 20.59 लाख किसानों को 5553 करोड़ रूपए की इनपुट सब्सिडी दी जा चुकी है

किसानों को फसल लागत मूल्य कम करने,उत्पादकता बढ़ाने, फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने के लिए इनपुट सब्सिडी की यह राशि दी जा रही है
मुख्यमंत्री ने गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को 5 करोड़ 24 लाख रूपए का किया भुगतान

इस राशि मे से गोबर विक्रेताओं को 2.64 करोड़ रूपए तथा गौठान समितियों तथा स्व-सहायता समूह को 2.60 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया
 गोबर बेचने वाले ग्रामीणों को योजना शुरू होने के बाद से अब तक 155.60 करोड़ रूपए का भुगतान किया जा चुका है 

गौठान समितियों तथा स्व-सहायता समूह को अब तक  154.02 करोड़ रूपए का किया गया भुगतान
 राज्य में 8408 गौठान निर्मित

गोधन न्याय योजना से 2 लाख 52 हजार से अधिक पशुपालक ग्रामीण गोबर बेच कर सीधे लाभान्वित हो रहे हैं

इनमें 1 लाख 43 हजार से अधिक भूमिहीन शामिल हैं

छत्तीसगढ़ की गोधन न्याय योजना देश-दुनिया की इकलौती योजना है, जिसके तहत गौठानों में 2 रूपए किलो की दर से गोबर तथा 4 रूपए लीटर की दर से गौमूत्र की खरीदी की जा रही है 

गोधन न्याय योजना के तहत हितग्राहियों को अब तक दिए जा चुके हैं 335 करोड़ 24 लाख रूपए 

गौठानों से जुड़ी महिला समूहों को हो चुकी 78.62 करोड़ रूपए की आमदनी

जब भी बात आधुनिक भारत के विकास होगी तो उनमें प्रमुख नाम स्व राजीव गांधी जी का होगा।
 
•    राजीव जी का सबसे बड़ा योगदान यह है कि उन्होंने हर नागरिक के जीवन की सभी जटिलताओं को न्यूनतम् करने के लिए काम किया। चाहे वे जटिलताएं प्रशासनिक कामकाज से संबंधित रही हों, चाहे नागरिक सुविधाओं से, या फिर आर्थिक विकास से: मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल
•    भारत में टेलीकॉम, कम्प्यूटर, साइंस एंड टेक्नॉलॉजी के क्षेत्र में हुए विकास के लिए हम उनके योगदान को याद करते हैं।
•    गांवों को अधिकार संपन्न बनाने के लिए राजीव जी द्वारा की गई पहल को आगे बढ़ाते हुए हमारे नेता श्री राहुल गांधी जी ने न्यूनतम आय योजना का विचार सामने रखा था। इसी योजना को हम न्याय योजना के रूप में भी जानते हैं।
•    आज के इस कार्यक्रम के माध्यम से दोनों ही न्याय योजनाओं के हितग्राहियों को 1750 करोड़ रुपये से अधिक की राशि सीधे उनके बैंक खातों में अंतरित की जा रही है : मुख्यमंत्री
•    राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत खरीफ सीजन 2021 के लिए 26 लाख 21 हजार 352 पंजीकृत किसानों के बैंक खातों में इनपुट सब्सिडी की द्वितीय किश्त 1745 करोड़ रुपये सीधे अंतरित की जा रही है।
•    आज गोधन न्याय योजना के अंतर्गत पशुपालक ग्रामीणों, गौठान समितियों और महिला समूहों को कुल 5 करोड़ 24 लाख रुपए का भुगतान किया जा रहा है।
सबसे ज्यादा वर्मी कंपोस्ट उपयोग करने वाले किसानों का राज्योत्सव में सम्मान किया जाएगा : मुख्यमंत्री


 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिलायी सद्भावना दिवस की शपथ...

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिलायी सद्भावना दिवस की शपथ...

20-Aug-2022

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में पूर्व प्रधानमंत्री स्व श्री राजीव गांधी की जयंती पर दिलाई शपथ

मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में पूर्व प्रधानमंत्री स्व श्री राजीव गांधी की जयंती पर दिलाई शपथ

सद्भावना दिवस पर राजीव गांधी किसान न्याय योजना और गोधन न्याय योजना राशि अंतरण कार्यक्रम का आयोजन

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में देश के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न श्री राजीव गांधी की जयंती 'सद्भभावना दिवस' के अवसर पर उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस अवसर पर उपस्थित सभी लोगों को सद्भावना दिवस की शपथ दिलाई। सभी लोग ने जाति, सम्प्रदाय, क्षेत्र, धर्म अथवा भाषा का भेदभाव किए बिना सभी भारतवासियों की भावनात्मक एकता और सद्भावना के लिए कार्य करने तथा हिंसा का सहारा लिए बिना सभी प्रकार के मतभेद बातचीत और संवैधानिक माध्यमों से सुलझाने की शपथ ली