स्वर-माधुर्य की साम्राज्ञी  लता मंगेशकर का मौन होना - ललित गर्ग-

स्वर-माधुर्य की साम्राज्ञी लता मंगेशकर का मौन होना - ललित गर्ग-

07-Feb-2022

स्वर-माधुर्य की साम्राज्ञी  लता मंगेशकर का मौन होना - ललित गर्ग-

लता मंगेशकर  93 वर्ष  देह  से विदेह हो गयी है। गायन के क्षेत्र में अब वे एक याद बन चुकी हैं। उनका निधन स्वरों की दुनिया में एक गहन सन्नाटा है , वे ईश्वर का साक्षात स्वरूप थी, उनके स्वरों में मां सरस्वती विराजती थी, उनकी स्वरों में भारत की आत्मा बसी थी ,उनका निधन एक अपूरणीय क्षति है। उनकी आवाज दुनिया के किसी हिस्से के भूगोल में कैद न होकर ब्रह्माण्डव्यापी बन चुकी थी। उन्हें संगीत की दुनिया में सरस्वती का अवतार माना जाता है। हम कह सकते थे कि हमारे पास एक चांद है, एक सूरज है तो एक लता मंगेशकर भी है, लेकिन अब वे नहीं है सोचकर ही सिहरन होती है। सचमुच अद्भुत, अकल्पित, आश्चर्यकारी था उनका रचना, स्वर एवं संगीत संसार। इसे चमत्कार नहीं माना जा सकता, इसे आवाज का कोई जादू भी नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि यह हूनर, शोहरत एवं प्रसिद्धि एक लगातार संघर्ष एवं साधना की निष्पत्ति थी। एक लंबी यात्रा है संघर्ष से सफलता की, नन्हीं लता से भारतरत्न स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर बनने तक की। संगीत की उच्चतम परंपराओं, संस्कारों एवं मूल्यों से प्रतिबद्ध एक महान् व्यक्तित्व है-लता मंगेशकर। निश्चित ही उनके निधन से भारत का स्वर संसार थम गया।
लता मंगेशकर एक महान जीवन की अमर गाथा है। उनका जीवन अथाह ऊर्जा से संचालित एवं स्वप्रकाशी था। वह एक ऐसा प्रकाशपुंज थी, जिससे निकलने वाली एक-एक रश्मि का संस्पर्श जड़ में चेतना का संचार करता रहा है। वो ब्रह्म थी। कोई उससे बड़ा नहीं। वो प्रथम सत्य था और वही अंतिम सत्ता भी। वो स्वर है, ईश्वर है, यह केवल संगीत की किताबों में लिखी जाने वाली उक्ति नहीं, यह संगीत का सार है और इसी संगीत एवं स्वर-माधुर्य की साम्राज्ञी  लता मंगेशकर का मौन में विलीन हो जाना दुखद हैं।। गीत, संगीत, गायन और आवाज की जादूगरी की जब भी चर्चा होगी, सहज और बरबस ही एक नाम लोगों के होठों पर आता रहेगा- लता मंगेशकर।
लताजी का जन्म 28 सितंबर, 1929 इंदौर, मध्यप्रदेश में हुआ था। उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर एक कुशल रंगमंचीय गायक थे। लता का पहला नाम ‘हेमा’ था, मगर जन्म के 5 साल बाद माता-पिता ने इनका नाम ‘लता’ रख दिया था और इस समय दीनानाथजी ने लता को तब से संगीत सिखाना शुरू किया। उनके साथ उनकी बहनें आशा, ऊषा और मीना भी सीखा करतीं थीं। लता हमेशा से ही ईश्वर के द्वारा दी गई सुरीली आवाज, जानदार अभिव्यक्ति व बात को बहुत जल्द समझ लेने वाली अविश्वसनीय एवं विलक्षण क्षमता का उदाहरण रहीं हैं। इन्हीं विशेषताओं के कारण उनकी इस प्रतिभा को बहुत जल्द ही पहचान मिल गई थी। लेकिन पांच वर्ष की छोटी आयु में ही आपको पहली बार एक नाटक में अभिनय करने का अवसर मिला। शुरुआत अवश्य अभिनय से हुई किंतु आपकी दिलचस्पी तो संगीत में ही थी। इस शुभ्रवसना सरस्वती के विग्रह में एक दृढ़ निश्चयी, गहन अध्यवसायी, पुरुषार्थी और संवेदनशील संगीत-साधिका-आत्मा निवास करती है। उनकी संगीता-साधना, वैचारिक उदात्तता, ज्ञान की अगाधता, आत्मा की पवित्रता, सृजन-धर्मिता, अप्रमत्तता और विनम्रता उन्हें विशिष्ट श्रेणी में स्थापित करती है।
लताजी के पूर्वजों का पुण्य प्रबल था और उसी पुण्य की बदौलत बचपन के संघर्षपूर्ण हालातों में किसी सज्जन व्यक्ति की प्रेरणा से मास्टर विनायक की ‘प्रफुल्ल पिक्चर्स’ संस्था में लता को प्रवेश मिल गया। उस संस्था ने ‘राजाभाऊ’, ‘पहली मंगल गौर’ ‘चिमुक संसार’ जैसे मराठी चित्रों में छोटी-छोटी भूमिकाएं मिलीं, जिन्हें लताजी ने बड़ी खूबी से निभाया। लताजी का लक्ष्य अभिनय की दुनिया नहीं था, वे संगीत की दुनिया में जाना चाहती थी। सौभाग्य से उन्हें पितृतुल्य संरक्षण और स्नेह देनेवाले गुरु खां साहब अमान अली मिल गए। उन्होंने डेढ़ साल तक लताजी को तालीम दी। तब लताजी ने हिन्दी-उर्दू का अभ्यास कर उच्चारण-दोष दूर करने का प्रयास शुरू कर दिया उनकी इस श्रम-साधना ने ही उन्हें यशस्वी गायिका बनाकर सफलता के सुमेरु पर पहुंचाया। हैदर साहब ने उन्हीं दिनों बाम्बे टाकीज में बन रही फिल्म ‘मजबूर’ के लिए उन्हें पाश्र्वगायिका के रूप में लिया। ‘मजबूर’ के गाने बड़े लोकप्रिय हुए और यहीं से लताजी का भाग्योदय शुरू हुआ। एक गुलाम हैदर ही क्या, 1947 से 2021 तक शायद एक भी ऐसा संगीत-निर्देशक नहीं होगा, जिसने लता से कोई न कोई गीत गवाकर अपने आपको धन्य न किया हो।
लताजी के प्रशंसकों की संख्या दिनोंदिन बढ़ने लगी। इस बीच आपने उस समय के सभी प्रसिद्ध संगीतकारों के साथ काम किया। अनिल विश्वास, सलिल चैधरी, शंकर जयकिशन, एस.डी.बर्मन, आर.डी.बर्मन, नौशाद, मदनमोहन, सी. रामचंद्र इत्यादि सभी संगीतकारों ने आपकी प्रतिभा का लोहा माना। लताजी ने दो आंखें बारह हाथ, दो बीघा जमीन, मदर इंडिया, मुगल-ए-आजम आदि महान फिल्मों में गाने गाए हैं। आपने “महल”, “बरसात”, “एक थी लड़की”, “बड़ी बहन” आदि फिल्मों में अपनी आवाज के जादू से इन फिल्मों की लोकप्रियता में चार चांद लगाए।  
सात दशक की उनकी स्वर यात्रा में उनकी व्यक्तिगत ख्याति इतनी शिखरों पर आरुढ़ हो गई, कि लता अगर किसी संगीत-निर्देशक के लिए गाने से इंकार कर दें तो उसे फिल्म इंडस्ट्री से अपना बोरिया-बिस्तर समेटना पड़ जाता था। लता की एक सिद्धि और भी थी- जिसकी भाषा और उच्चारण की खिल्ली उड़ाई गई थी, एक दिन सभी भाषाओं पर उनका प्रभुत्व स्थापित हो गया। लोग उनसे उच्चारण सीखने लगे। फिल्मी गीतों के अतिरिक्त गैर फिल्मी गीतों और भजनों की भी रिकार्डिंग होती रही। सरकारी सम्मान के लिए भी जहां-तहां लता को ही बुलाया जाता रहा। चीनी आक्रमण के समय पंडित प्रदीप के अमर गीत ‘ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी’ गाने के लिए लताजी को दिल्ली बुलवाया गया था। यह गीत सुनकर नेहरूजी रो पड़े थे। तो इतनी बड़ी मांग की आपूर्ति लता अकेले कैसे कर सकती थीं?
लताजी बहुत ही सादगीप्रिय एवं सरल स्वभाव की हैं। इतनी बड़ी कीर्ति और ऐश्वर्य के अभिमान का अहंकार उनमें कभी नहीं देखा गया। उनको आभूषणों का शौक नहीं था 
 Diya Mali

 


लोकतंत्र दागी राजनीति से कब मुक्त होगा?

लोकतंत्र दागी राजनीति से कब मुक्त होगा?

05-Feb-2022

लोकतंत्र दागी राजनीति से कब मुक्त होगा?
 - ललित गर्ग-

No description available.

आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हुए भारतीय राजनीतिक की शुचिता, चारित्रिक उज्ज्वलता और स्वच्छता पर लगातार खतरा मंडराना गंभीर चिन्ता का विषय है। स्वतंत्र भारत के पचहतर वर्षों में भी हमारे राजनेता अपने आचरण, चरित्र, नैतिकता और काबिलीयत को एक स्तर तक भी नहीं उठा सके। हमारी आबादी पचहतर वर्षों मंे करीब चार गुना हो गई पर हम देश में 500 सुयोग्य और साफ छवि के राजनेता आगे नहीं ला सके, यह देश के लिये दुर्भाग्यपूर्ण होने के साथ-साथ विडम्बनापूर्ण भी है। कभी  सार्वजनिक जीवन में बेदाग लोगों की वकालत की जाती थी, लेकिन अब यह आम धारणा है कि राजनेता और अपराधी एक-दूसरे के पर्याय हो चले हैं। ‘एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ ने हाल ही में एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है, जिसके तथ्य भारतीय राजनीति के दागी होने की तस्वीर प्रस्तुत करते हैं, जो चौंकानेवाले एवं चिन्तनीय भी है।
एडीआर की इस ताजा अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार जिन पांच राज्य में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं, उनमें उत्तर प्रदेश की जिन 58 विधानसभा सीटों पर मत डाले जाएंगे, वहां से कुल 623 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। इसमें से 615 उम्मीदवारों के बारे में एडीआर को जो सूचनाएं मिली हैं, उनसे छनकर आते हुए तथ्यों के अनुसार 156 प्रत्याशी, यानी करीब 25 फीसदी उम्मीदवार दागी, भ्रष्टाचारी एवं अपराधी हैं। 121 पर तो गंभीर आपराधिक मुकदमे चल रहे हैं, जिनमें दोषसिद्ध होने पर पांच साल या इससे भी अधिक की सजा वाले गैर-जमानती जुर्म शामिल हैं। जैसे, हत्या-अपहरण-बलात्कार आदि।
हर बार सभी राजनीति दल अपराधी तत्वों को टिकट न देने पर सैद्धान्तिक रूप में सहमति जताते हैं, पर टिकट देने के समय उनकी सारी दलीलें एवं आदर्श की बातें काफूर हो जाती है। ऐसा ही इन पांच राज्यों के उम्मीदवारों के चयन में देखने को मिला है। एक-दूसरे के पैरों के नीचे से फट्टा खींचने का अभिनय तो सब करते हैं पर खींचता कोई भी नहीं। कोई भी जन-अदालत में जाने एवं जीत को सुनिश्चित करने के लिये जायज-नाजायज सभी तरीकें प्रयोग में लेने से नहीं हिचकता। रणनीति में सभी अपने को चाणक्य बताने का प्रयास करते हैं पर चन्द्रगुप्त किसी के पास नहीं है, आस-पास दिखाई नहीं देता। घोटालों और भ्रष्टाचार के लिए हल्ला उनके लिए राजनैतिक मुद्दा होता है, कोई नैतिक आग्रह नहीं। कारण अपने गिरेबार मंे तो सभी झांकते हैं।
एडीआर की ही रिपोर्ट बताती है कि विधानसभाओं में ही नहीं, बल्कि मौजूदा लोकसभा के लिए 2019 में जीतने वाले 539 सांसदों में से 233, यानी 43 प्रतिशत सदस्यों ने खुद पर आपराधिक मामले होने की जानकारी दी है, जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में 542 विजेताओं में से 185 दागी चुनकर आए थे। 2009 के लोकसभा चुनाव में यह आंकड़ा 30 प्रतिशत 543 सांसदों में से 162 था। यानी, 2009 से 2019 तक आपराधिक छवि वाले सदस्यों की लोकसभा में मौजूदगी 44 फीसदी बढ़ गई थी। इसी तरह, गंभीर आपराधिक मामलों में मुकदमों का सामना करने वाले सांसदों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है, जो चिन्तनीय है। ऐसा प्रतीत होता है कि हम जमीन से आजाद हुए है, जमीर तो आज भी कहीं, किसी के पास गिरवी रखा हुआ है।
लोकतंत्र की कुर्सी का सम्मान करना हर नागरिक का आत्मधर्म और राष्ट्रधर्म है। क्योंकि इस कुर्सी पर व्यक्ति नहीं, चरित्र बैठता है। लेकिन हमारे लोकतंत्र की त्रासदी ही कही जायेगी कि इस पर स्वार्थता, महत्वाकांक्षा, बेईमानी, भ्रष्टाचारिता, अपराध आकर बैठती रही है। लोकतंत्र की टूटती संासों को जीत की उम्मीदें देना जरूरी है और इसके लिये साफ-सुथरी छवि के राजनेताओं को आगे लाना समय की सबसे बड़ी जरूरत है। यह सत्य है कि नेता और नायक किसी कारखाने में पैदा करने की चीज नहीं हैं, इन्हें समाज में ही खोजना होता है। काबिलीयत और चरित्र वाले लोग बहुत हैं पर परिवारवाद, जातिवाद, भ्रष्टाचार, बाहुबल व कालाधन उन्हें आगे नहीं आने देता।
आजादी के अमृत महोत्सव मनाते हुए राजनीति के शुद्धिकरण को लेकर देश के भीतर बहस हो रही है परन्तु कभी भी राजनीतिक दलों ने इस दिशा में गंभीर पहल नहीं की। पहल की होती तो संसद और विभिन्न विधानसभाओं में दागी, अपराधी सांसदों और विधायकों की तादाद बढ़ती नहीं। यह अच्छी बात है कि देश में चुनाव सुधार की दिशा में सोचने का रुझान बढ़ रहा है। चुनाव आयोग एवं सर्वोच्च न्यायालय इसमें पहल करते हुए दिखाई देते हैं, चुनाव एवं राजनीतिक शुद्धिकरण की यह स्वागतयोग्य पहल उस समय हो रही है जब चुनाव आयोग द्वारा पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर व गोवा का चुनावी कार्यक्रम घोषित हो गया है।
विडम्बनापूर्ण स्थिति तो यह है कि चुनाव-दर-चुनाव आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों की जीत का ग्राफ ऊपर चढ़ रहा है, इसलिए राजनीतिक दल भी मानो अब यह मानने लगे हैं कि दागी छवि जीत की गारंटी है। वैसे भी, चुनावों में हर हाल में जीत हासिल करना ही राजनीतिक पार्टियों का मकसद होता है। इसके लिए वे हर वह जायज-नाजायज तरीका अपनाने को तैयार रहते हैं, जिनसे उनकी मौजदूगी सदन में हो। कुछ जन-प्रतिनिधि यह तर्क देते हैं कि राजनीति से प्रेरित मुकदमे उनके ऊपर जबरन लादे गए हैं। यह कुछ हद तक सही भी है। मगर चुनाव आयोग और अदालत, दोनों का यह मानना रहा है कि जिन उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं, उनको तो चुनाव लड़ने से रोका जाना चाहिए।
समय की दीर्घा जुल्मों को नये पंख देती है। यही कारण है कि राजनीति का अपराधीकरण और इसमें व्याप्त भ्रष्टाचार लोकतंत्र को भीतर ही भीतर खोखला करता जा रहा है। एक आम आदमी यदि चाहे कि वह चुनाव लड़कर संसद अथवा विधानसभा में पहुंचकर देश की ईमानदारी से सेवा करे तो यह आज की तारीख में संभव ही नहीं है। सम्पूर्ण तालाब में जहर घुला है, यही कारण है कि कोई भी पार्टी ऐसी नहीं है, जिसके टिकट पर कोई दागी चुनाव नहीं लड़ रहा हो। यह अपने आप में आश्चर्य का विषय है कि किसी भी राजनीतिक दल का कोई नेता अपने भाषणों में इस पर विचार तक जाहिर करना मुनासिब नहीं समझता।
सर्वोच्च अदालत ने दागियों को विधायिका से बाहर रखने के तकाजे से समय-समय पहल की है उसका लाभ इन पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में तो होता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है।  एक समय था जब ऐसे किसी नियम-कानून की जरूरत महसूस नहीं की जाती थी, क्योंकि तब देश-सेवा और समाज-सेवा की भावना वाले लोग ही राजनीति में आते थे। पर अब हालत यह है कि हर चुनाव के साथ विधायिका में ऐसे लोगों की तादाद और बढ़ी हुई दिखती है जिन पर आपराधिक मामले चल रहे हों। हमारे लोकतंत्र के लिए इससे अधिक शोचनीय बात और क्या हो सकती है!
गांधीजी ने एक मुट्टी नमक उठाया था, तब उसका वजन कुछ तोले ही नहीं था। उसने राष्ट्र के नमक को जगा दिया था। सुभाष ने जब दिल्ली चलो का घोष किया तो लाखों-करोड़ों पांवों में शक्ति का संचालन हो गया। नेहरू ने जब सतलज के किनारे सम्पूर्ण आजादी की मांग की तो सारी नदियों के किनारों पर इस घोष की प्रतिध्वनि सुनाई दी थी। पटेल ने जब रियासतों के एकीकरण के दृढ़ संकल्प की हुंकार भरी तो राजाओं के वे हाथ जो तलवार पकड़े रहते थे, हस्ताक्षरों के लिए कलम पर आ गये। आज वह तेज व आचरण नेतृत्व में लुप्त हो गया। आचरणहीनता कांच की तरह टूटती नहीं, उसे लोहे की तरह गलाना पड़ता है। विकास की उपलब्धियों से हम ताकतवर बन सकते हैं, महान् नहीं। महान् उस दिन बनेंगे जिस दिन हमारी नैतिकता एवं चरित्र की शिलाएं गलना बन्द हो जायेगी और उसी दिन लोकतंत्र को शुद्ध सांसें मिलेंगी।
सभी दल राजनीति नहीं, स्वार्थ नीति चला रहे हैं और इसके लिये अपराधों को पनपने का अवसर दे रहे हैं। इन दागी सांसदों और विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतों के गठन की बात लम्बे समय से सुनाई दे रही है, लेकिन इसके गठन का साहस किसी ने नहीं किया। ऐसे आरोपों का सामना कर रहे जनप्रतिनिधियों के खिलाफ एवं लोकतंत्र के सर्वकल्याणकारी विकास लिये भारतीय मतदाता संगठन एवं उसके संस्थापक अध्यक्ष डॉ. रिखबचन्द जैन लम्बे समय से प्रयास कर रहे हैं। आरोपी-दोषी जनप्रतिनिधियों के लंबित मामलों में सुनवाई तेजी से हो, यह अपेक्षित है। इसी से लोकतंत्र का नया सूरज उदित हो सकेगा।

प्रेषक

(ललित गर्ग)
लेखक, पत्रकार, स्तंभकार
ई-253, सरस्वती कंुज अपार्टमेंट
25 आई. पी. एक्सटेंशन, पटपड़गंज, दिल्ली-92
फोनः 22727486, 9811051133


अमर जवान ज्योति’ की आधारशिला ऱखते हुए श्री राहुल गांधी ने कहा   हिन्दुस्तान अलग-अलग विचारधाराओं का एक गुलदस्ता है

अमर जवान ज्योति’ की आधारशिला ऱखते हुए श्री राहुल गांधी ने कहा हिन्दुस्तान अलग-अलग विचारधाराओं का एक गुलदस्ता है

04-Feb-2022


TNIS 
सांसद श्री राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ को दी कई ऐतिहासिक सौगातें

राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना’ का किया शुभारंभ

3.55 लाख भूमिहीन परिवारों के खाते में अंतरित की पहली किश्त की राशि

राजीव युवा मितान क्लब योजना का किया शुभारंभ

 

लोकसभा सांसद श्री राहुल गांधी ने आज राजधानी रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में छत्तीसगढ़ को कई ऐतिहासिक सौगातें दी। सांसद श्री राहुल गांधी ने राज्य शासन की महत्वाकांक्षी ‘राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना’ और ‘राजीव युवा मितान क्लब योजना’ का शुभारंभ किया। सांसद श्री राहुल गांधी, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल सहित अन्य गणमान्य अतिथियों और हजारों की संख्या में लोगों की मौजूदगी में भूमिहीन श्रमिक श्री रामकुमार निषाद दुर्ग, श्रीमती खुजी मौर्य बस्तर, श्रीमती सोना नेताम बलौदाबाजार-भाटापारा, श्री मसियस तिर्की बलरामपुर-रामानुजगंज ने महात्मा गांधी की स्मृतियों को संजोने के लिए नवा रायपुर में ‘सेवाग्राम’ और देश के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले शहीदों की याद में ‘छत्तीसगढ़ अमर जवान ज्योति’ की आधारशिला रखी। 
सांसद श्री राहुल गांधी ने इस अवसर पर वर्तमान समय में देश के समक्ष विद्यमान चुनौतियों का उल्लेख करते हुए कहा कि यह देश एक गुलदस्ता जैसा है। देश में अलग-अलग विचारधाराएं हैं। छत्तीसगढ़ की जो भाषा, संस्कृति और जीवनशैली है, वह दूसरे प्रदेशों की नहीं हो सकती है। छत्तीसगढ़ के लोगों को कैसे जीवन जीना चाहिए, आदिवासियों का जंगल और खेत से क्या रिश्ता होना चाहिए, यह अन्य क्षेत्रों के लोग नहीं बता सकते। इसी तरह अन्य राज्यों की भी संस्कृति, भाषा, इतिहास एवं जीवनशैली है। हिन्दुस्तान विभिन्न विचारधाराओं, संस्कृति, भाषा एवं जीवनशैली के लोगों का ऐसा गुलदस्ता है, जहां प्यार है, भाई-चारे की भावना है। यही हमारा देश है, इसी को हिन्दुस्तान कहते हैं। उन्होंने कहा कि देश भक्ति का मतलब देश को मजबूत करना और गरीबों की मदद करना है। 
सांसद श्री राहुल गांधी ने आगे कहा कि हमने छत्तीसगढ़ की जनता से जो वायदा किया था, वह पूरा करके दिखाया है। किसानों के साथ हमारे प्यारे मजदूर भाई भी काम करते हैं। हमने कहा था कि हमें छत्तीसगढ़ के गरीब मजदूर भाईयों की मदद करनी होगी। आज राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के माध्यम से यह काम भी हम पूरा करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह पहला कदम है, इस योजना के माध्यम से हम आपका पैसा आपको ही वापस दे रहे हैं। सांसद श्री राहुल गांधी ने कहा कि किसानों को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जो इनपुट सब्सिडी की राशि छत्तीसगढ़ सरकार ने दी है। इससे हमारे किसान-भाईयों ने फसल उत्पादकता में बढ़ोत्तरी की है। छत्तीसगढ़ के हर किसान भाई को उसकी मेहनत का मान दिया है। 
सांसद श्री राहुल गांधी ने कहा कि आज देश ने जो तरक्की की है। यह किसी दल यह पार्टी की देन नहीं है, बल्कि देश के किसानों, मजदूरों, कारीगरों, छोटे उद्यमियों और  व्यवसायियों की मेहनत का परिणाम है। करोड़ों लोगों ने अपना खून-पसीना देकर देश को बनाया है। आज इन्हीं मेहनतकश लोगों को परे किया जा रहा है। लोग रोजी-रोजगार के लिए भटके, जीवन-यापन के लिए परेशान हो, हम ऐसा नहीं होने देंगे। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य में किसानों और मेहनतकश लोगों के हित में संचालित योजनाओं की सराहना की और कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना से 3 लाख 55 हजार मजदूर भाई-बहनों को सीधा फायदा होगा। उन्हें राहत मिलेगी। उनके कंधों का बोझ हल्का होगा। 
सांसद श्री राहुल गांधी से मंच पर पहुंचते ही कार्यक्रम स्थल पर हजारों लोगों ने तालियों की गड़गड़ाहट के बीच उनका जोरदार स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल एवं विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरण दास महंत ने राजकीय गमछा पहनाकर सांसद श्री राहुल गांधी का स्वागत अभिनंदन किया। सांसद श्री राहुल गांधी ने इस अवसर पर छत्तीसगढ़ सरकार की तीन साल की उपलब्धियों पर प्रकाशित कॉफी-टेबल बुक ‘‘जो कहा-सो किया’’ का विमोचन भी किया। उन्होंने राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के हितग्राहियों एवं राजीव युवा मितान क्लब पदाधिकारियों को अनुदान राशि का चेक भेंट कर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। श्री राहुल गांधी ने इस मौके पर उक्त दोनों योजनाओं की राशि हितग्राहियों के खाते में ऑनलाईन अंतरित की।  
    मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस मौके पर अपने उद्बोधन में कहा कि आज का दिन छत्तीसगढ़ के लिए बहुत बड़ा दिन है। छत्तीसगढ़ राज्य को, कल्याणकारी राज्य बनाने की दिशा में एक कदम हमने और आगे बढ़ा लिया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी जी ने एक वर्ष पूर्व भूमिहीन मजदूरों की स्थिति को लेकर जो चिंता जताई गई थी, वह आज दूर हो गई है। राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना का शुभारंभ कर उन्होंने राज्य के साढ़े तीन लाख से अधिक भूमिहीन परिवारों के बैंक खाते में राशि अंतरित की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूमिहीन मजदूरों को मदद पहुंचाने का यह देश में पहला उदाहरण है। योजना के माध्यम से खेत में काम करने वाले भूमिहीन मजदूरों, चरवाहों, नाई, धोबी, पुजारी, पुरोहित एवं पौनी-पसारी का काम करने वाले परिवारों को हर साल छह हजार रूपए राशि मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सांसद श्री राहुल गांधी हमेशा कहते हैं कि आज जनता की जेब में पैसा जाना चाहिए। हर वर्ग के लोगों को यह लगना चाहिए कि छत्तीसगढ़ की सरकार उनकी अपनी सरकार है। मुझे यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि बीते तीन वर्षों में हमने छत्तीसगढ़ के किसानों मजदूरों, संग्राहकों सहित अन्य वर्ग के लोगों की जेब में 91 हजार करोड़ रूपए पहुंचाया है। 
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर किसानों की कर्ज माफी, सिंचाई कर की माफी, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, धान खरीदी, गोधन न्याय योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि इसके जरिए छत्तीसगढ़ के लोगों की जेब में लगातार पैसा जा रहा है। यही वजह है कि कोरोना संक्रमण काल में जब पूरे देश में मंदी रही छत्तीसगढ़ इससे अछूता रहा। मुख्यमंत्री ने गोधन न्याय योजना की सफलता का विस्तार से उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में देश का 74 प्रतिशत लघु वनोपज संग्रहित होता है। इसका वैल्यू एडिशन कर हम संग्राहकों की आमदनी को बढ़ाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने छत्तीसगढ़ चाय और कॉफी के उत्पादन को बढ़ावा देने तथा लोगों को रोजी-रोजगार से जोड़ने के प्रयासों का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि दंतेवाड़ा की महिलाओं द्वारा तैयार किए जा रहे डेनेक्स ब्रांड के गॉरमेंट आज हिन्दुस्तान के कोने-कोने में बिक रहे हैं। बस्तर के तिखूर का शेक ताईवान जा रहा है। उन्होंने कहा कि बीते तीन सालों में राज्य में लाखों लोगों को शासकीय नौकरी और रोजगार से जोड़ने का काम किया है।  
मुख्यमंत्री ने कहा कि नवा रायपुर में बनने वाला ’सेवाग्राम’ गांधी जी और गांधीवाद को समझने, महसूस करने, सीखने और याद रखने के लिये आधुनिक भारत के एक तीर्थ के रूप में विकसित किया जायेगा। जैसे वर्धा का सेवाग्राम आश्रम गांधी जी के विचार, चिंतन, दर्शन और गांधीवाद के केंद्र में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर रहा है, वैसा ही नवा रायपुर सेवाग्राम एक उत्कृष्ट गांधीवादी केंद्र बनेगा। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में नई दिल्ली इंडिया गेट की तर्ज पर ’छत्तीसगढ़ अमर जवान ज्योति’ की स्थापना का निर्णय लिया गया है। छत्तीसगढ़ के जिन सपूतों ने वर्दीधारी सेवाओं में जाकर देश के लिये प्राण न्यौछावर किये, साथ ही छत्तीसगढ़ में देश भर के जिन वीरों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी, उनकी शहादत का सम्मान हम ’छत्तीसगढ़ अमर जवान ज्योति’ के माध्यम से करेंगे, जिसे हम माना रायपुर के चौथी वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के परिसर में बनाने जा रहे हैं। हम सभी के लिये बहुत ही गर्व की बात है कि नई दिल्ली के अमर जवान ज्योति को श्रीमती इंदिरा गांधी जी ने प्रज्ज्वलित किया था और छत्तीसगढ़ अमर जवान ज्योति का भूमिपूजन आज श्री राहुल गांधी जी ने किया है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना, नवा रायपुर में स्थापित होने वाले सेवाग्राम और छत्तीसगढ़ अमर जवान ज्योति की स्थापना देश को एक नई प्रेरणा देगी। 
कार्यक्रम के प्रारंभ में राजस्व मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल ने स्वागत उद्बोधन दिया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत, मंत्री सर्वश्री टी.एस. सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू, रविन्द्र चौबे, डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, मोहम्मद अकबर, डॉ. शिवकुमार डहरिया, कवासी लखमा, श्रीमती अनिला भेड़िया, गुरू रूद्रकुमार, उमेश पटेल, अमरजीत भगत, राज्य सभा सांसद श्रीमती फूलो देवी नेताम, विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज मंडावी, विधायक श्री मोहन मरकाम सहित अन्य जनप्रतिनिधि मंचस्थ थे। 

 


26 दिसंबर को रायपुर में आयोजित ‘धर्म संसद’ का एक साध्वी का मुस्लिम महिलाओं पर आपत्ति जनक भाषा का प्रयोग करते हुए वीडियो ट्विटर पर सामने आया !

26 दिसंबर को रायपुर में आयोजित ‘धर्म संसद’ का एक साध्वी का मुस्लिम महिलाओं पर आपत्ति जनक भाषा का प्रयोग करते हुए वीडियो ट्विटर पर सामने आया !

03-Feb-2022

छत्तीसगढ़  धर्म संसद का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है, जिसमें एक हिंदुत्व नेता साध्वी को मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते देखा जा सकता है।

https://twitter.com/alishan_jafri/status/1488875434783608833?s=20&t=M9Erf2nypmwAu84EOiXaNw
 
No description available.

साध्वी ने हिंदू युवाओं से हिंदुओं और मुसलमानों के बीच अंतर-धार्मिक विवाह के खिलाफ कार्रवाई करने का आह्वान किया। वह युवाओं को हिंदू लड़कियों से दूर रहने के लिए मुस्लिम पुरुषों में डर पैदा करने का निर्देश देती हैं।

साध्वी ने खुलेआम मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा भड़काने की धमकी देते हुए कहा, “अगर आज से किसी मुस्लिम पुरुष की नजर किसी हिंदू लड़की पर पड़ी, तो उनकी महिलाएं बिना निकाह या फेरे के हिंदू बच्चों को जन्म देंगी।”

साध्वी आगे युवाओं को हिंदू महिलाओं पर नज़र रखने का निर्देश देती हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे मुस्लिम पुरुषों के झांसे में न आएं। “अगर कोई हिंदू लड़की मुस्लिम युवक के साथ भाग जाती है, तो उसके पीछे जाओ, उसे वापस लाओ। लड़की और उसके माता-पिता की पिटाई करें और उनसे सवाल करें,” वह कहती हैं।

साध्वी का जो वीडियो ट्विटर पर सामने आया है, वह 26 दिसंबर को रायपुर में आयोजित ‘धर्म संसद’ का है, उसी कार्यक्रम में जहां महाराज कालीचरण ने महात्मा गांधी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था।

कालीचरण एकमात्र आरोपी था जिसे छत्तीसगढ़ धर्म संसद कार्यक्रम में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन केवल महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल करने के लिए राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।


दिल्ली में लुटती नारी अस्मत़ ने फिर शर्मसार कर दिया

दिल्ली में लुटती नारी अस्मत़ ने फिर शर्मसार कर दिया

01-Feb-2022

दिल्ली में लुटती नारी अस्मत़ ने फिर शर्मसार कर दिया
 

No description available.

 

-ः ललित गर्गः-

No description available.

देश की राजधानी दिल्ली के कस्तूरबा नगर में गणतंत्र दिवस जैसे राष्ट्रीय पर्व के दिन हुई गैंगरेप की घटना ने एक बार फिर हमें शर्मसार किया है, झकझोर दिया है। बड़ा सवाल यह है कि नारी अस्मिता को कुचलने की हिंसक मानसिकता का तोड़ हम अब भी क्यों नहीं तलाश पा रहे हैं? क्यों नये-नये एवं सख्त कानून बन जाने के बावजूद नारी की अस्मिता एवं अस्तित्व असुरक्षित है? क्यों हमारे शहरों को ‘रेप सिटी ऑफ द वर्ल्ड’ कहा जाने लगा है। आखिर कब तक महिलाओं के साथ ये दरिन्दगीभरी एवं त्रासद घटनाएं होती रहेंगी? नारी की अस्मत का सरेआम लूटा जाना एवं उन पर हिंसा - एक घिनौना और त्रासद कालापृष्ठ है और उसने आम भारतीय को भीतर तक झकझोर दिया। भले ही दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के दखल के बाद सभी दलों के लोगों ने इस मसले को उठाया और पुलिस ने भी देर किए बगैर 11 लोगों को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में जो शुरुआती तथ्य सामने आ रहे हैं वे रोंगटे खड़े कर देने वाले हैं।
सामूहिक गैंगरेप की पीड़िता 20 साल की शादीशुदा महिला है, जो एक बच्चे की मां है। पिता की बीमारी के चलते वह मायके में रह रही थी, जहां पड़ोस में रहने वाले एक परिवार का 16 साल का एक लड़का उसकी ओर आकर्षित हो गया था। उसके प्यार के प्रस्तावों को जब इस लड़की ने ठुकरा दिया तो पिछले साल नवंबर महीने में उसने खुदकुशी कर ली। आरोपी परिवार ने अपने घर के बच्चे की मौत के लिए इस महिला को जिम्मेदार माना। गणतंत्र दिवस के दिन हुई घटना उसे सबक सिखाने के मकसद से अंजाम दी गई बताई जा रही है। आश्चर्य नहीं कि इस पूरी घटना में परिवार की महिलाएं बढ़-चढ़ कर शामिल रहीं। जिन नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनमें सात इसी परिवार की महिलाएं हैं। बड़ा सवाल है कि आखिर हम किस तरह का व्यभिचारी, बलात्कारी एवं यौन विकृति का समाज बना रहे हैं, उसमें महिलाओं के सपने एक झटके में ही खत्म हो रहे हैं। आज देश की कोई बेटी खुद को सुरक्षित नहीं मानती। सब इसी आशंका में जीती हैं कि न जाने कब, किसके साथ कुछ गलत हो जाए। दिल्ली सरकार के साथ-साथ केन्द्र सरकार के सम्मुख नारी अस्मिता की सुरक्षा की बड़ी चुनौती है।
इस गैंगरेप का सबसे त्रासद, शर्मनाक एवं खौफनाक दृश्य यह है कि पीड़िता के साथ गैंगरेप के दौरान कमरे में कई महिलाएं मौजूद थीं, जो बलात्कारियों को और ज्यादा क्रूरता के लिए उकसा रही थीं। वायरल हुए एक विडियो में भी पीड़िता के मुंह पर कालिख पोत, उसे जूतों की माला पहनाकर गलियों में घुमाते हुए महिलाएं ही दिख रही हैं। इस घृणित प्रकरण के आरोपियों को लेकर गुस्सा और उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग उठना जायज है, लेकिन भूलना नहीं चाहिए कि यह प्रकरण हमारे समाज में प्रचलित पारिवारिक संस्कारों में बैठी पितृसत्तात्मक सोच एवं नारी को दोयम दर्जा दिये जाने की मानसिकता को बड़ी निर्ममता से उजागर करती है। सभ्य समाज में ऐसी घटनाएं बर्दाश्त से बाहर हैं। यह कैसा समाज है जो किसी असहाय महिला की मदद की बजाय उसे बीच बाजार अपनी अस्मत लुटाने को विवश कर देता है। लोगों द्वारा मदद नहीं करने का कारण आरोपी परिवार की दबंग पृष्ठभूमि भी है। भारत में महिलाओं पर अत्याचार, हिंसा और शोषण जैसी अमानवीय घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं।
दुखद पहलू यह है कि न सिर्फ आरोपी परिवार अपने बच्चे की खुदकुशी के लिए उस शादीशुदा महिला की ‘ना’ को जिम्मेदार मान रहा था बल्कि सम्पूर्ण मौहल्ला-आसपडौस एवं उपस्थित भीड़ इस अपराध में शामिल रही, तभी पीड़िता को जूते पहनाकर गलियों में घूमाने पर सभी तमाशबीन बन इस हैवानियत को देखता रहा। भीड़ केवल हूटिंग करती दिखी। तमाशबीनों की भीड़ असहाय बनकर देखती रही। यह हृदय विदारक दृश्य दूरदराज के ग्रामीण इलाके का नहीं बल्कि महानगर दिल्ली में देखने को मिला। दिल्ली एक बार फिर शर्मसार हुई। एक नाबालिग लड़के की आत्महत्या के लिए इस महिला को दोषी मानते हुए दबंग परिवार के तीन लोगों ने उसका यौन शोषण भी किया।
 कौन मानेगा कि यह वही दिल्ली है, जो करीब दस साल पहले निर्भया के साथ हुई निर्ममता पर इस कदर आन्दोलित हो गई थी कि उसे इंसाफ दिलाने सड़कों पर निकल आई थी। जाहिर है, समाज की विकृत सोच को बदलना ज्यादा जरूरी है। रेप जैसे अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए रेपिस्टों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने और पुलिस व्यवस्था को और चाक-चौबंद करने की मांग के साथ समाज के मन-मिजाज को दुरुस्त करने का कठिन काम भी हाथ में लेना होगा। यह घटना शिक्षित समाज के लिए बदनुमा दाग है। अगर ऐसी घटनाएं होती रहीं तो फिर कानून का खौफ किसी को नहीं रहेगा और अराजकता की स्थिति पैदा हो जाएगी। ऐसी हिंसा के खिलाफ महिलाओं को स्वयं आवाज बुलंद करनी चाहिए। कानून कितने भी क्यों न हों जब तक समाज स्वयं महिलाओं को सम्मान नहीं देगा तब तक कुछ नहीं हो सकता। समाज तमाशबीन बना रहेगा तो फिर कौन रोकेगा हैवानियत, दरिन्दगी को, बलात्कार को।
जैसे-जैसे देश आधुनिकता की तरफ बढ़ता जा रहा है, नया भारत-सशक्त भारत-शिक्षित भारत बनाने की कवायद हो रही है, वैसे-वैसे महिलाओं पर हिंसा के नये-नये तरीके और आंकड़े भी बढ़ते जा रहे हैं। अवैध व्यापार, बदला लेने की नीयत से तेजाब डालने, साइबर अपराध और लिव इन रिलेशन के नाम पर यौन शोषण हिंसा के तरीके हैं। जबकि पहले से ही डायन समझ कर महिलाओं को पीट-पीट कर मार डालना, जादू-टोना के नाम पर महिलाओं का यौन शोषण और घरेलू हिंसा आज भी जारी है। पहले कहा जाता था कि ऐसे अपराध केवल निरक्षर और दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा होते हैं लेकिन आजकल शहरों और महानगरों में महिलाओं के साथ अन्याय की खबरें देखने और पढ़ने को मिल जाती हैं।
हम सभी कल्पना रामराज्य की करते हैं पर रच रहे हैं महाभारत। महाभारत भी ऐसा जहां न कृष्ण है, न युधिष्ठिर और न अर्जुन। न भीष्म पितामह हैं, न कर्ण। सब धृतराष्ट्र, दुर्योधन और शकुनि बने हुए हैं। न गीता सुनाने वाला है, न सुनने वाला। बस हर कोई द्रोपदी का चीरहरण कर रहा है। सारा देश चारित्रिक संकट में है। जब समाज की मानसिकता दुराग्रहित है तो दुष्प्रचार एवं दुष्प्रवृत्तियां ही होती हैं। कोई आदर्श संदेश राष्ट्र को नहीं दिया जा सकता। जब कभी ऐसी किसी खौफनाक, त्रासद एवं डरावनी घटना की अनेक दावों के बावजूद पुनरावृत्ति होती है तो यह हमारी जबावदारी पर अनेक सवाल खड़े कर देती है। प्रश्न है कि आखिर हम कब औरत की अस्मत को लुटने की घटना और हिंसक मानसिकता पर नियंत्रण कर पायेंगे?
राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो के आंकड़ों का विश्लेषण करें तो नाजुक और अबला समझी जाने वाली महिलाओं की दिल दहला देने वाली आपराधिक वारदातें बढ़ती ही जा रही हैं। दिल्ली की घटना रंजिश का परिणाम मानी जा सकती है लेकिन पीड़ित महिला पर अत्याचार ढाने में महिलाओं की भागीदारी भी ज्यादा दिखाई देती है। महिला ही महिला की दुश्मन बनी है। मान्य सिद्धांत है कि आदर्श ऊपर से आते हैं, क्रांति नीचे से होती है। पर अब दोनों के अभाव में तीसरा विकल्प ‘औरत’ को ही ‘औरत’ के लिए जागना होगा। सरकार की उदासीनता एवं जनआवाज की अनदेखी भीतर-ही-भीतर एक लावा बन रही है, महाक्रांति का शंखनाद कब हो जाये, कहां नहीं जा सकता? दामिनी की घटना ने ऐसी क्रांति के दृश्य दिखायें, लगता है हम उसे भूल गये हैं। एक सृसंस्कृत एवं सभ्य देश एवं समाज के लिये ऐसी घटनाओं का बार-बार होना भी शर्मनाक ही कहा जायेगा।
आज जब सड़कों पर, चौराहों पर किसी न किसी की अस्मत लुट रही हो, औरतों से सामूहिक बलात्कार की अमानुषिक और दिल दहला देने वाली घटनाएं हो रही हों, तो इसे देश का दुर्भाग्य ही कहा जायेगा। देश का इस तरह बार-बार घायल होना और आम आदमी की आत्मा को झकझोर कर रख देना- सरकार एवं प्रशासन की विफलता को ही उजागर करता है। हौसला रहे कि आने वाले वक्त की डोर हमारे हाथ में रहे और ऐसी ‘दुर्घटनाएं’ दुबारा ना हो। आज के दिन लोग कामना करें कि नारी शक्ति का सम्मान बढ़े, उसे नौंचा न जाये। समाज ‘दामिनी’ एवं ‘निर्भया’ के बलिदान को न भूले और अपनी मानसिकता बदले। हर व्यक्ति एक न्यूनतम आचार संहिता से आबद्ध हो, अनुशासनबद्ध हो। जो व्यवस्था अनुशासन आधारित संहिता से नहीं बंधती, वह विघटन की सीढ़ियों से नीचे उतर जाती है।
प्रेषकः

(ललित गर्ग)
लेखक, पत्रकार, स्तंभकार
ई-253, सरस्वती कंुज अपार्टमेंट
25 आई. पी. एक्सटेंशन, पटपड़गंज, दिल्ली-92
फोनः 22727486, 9811051133


जिस दिन राष्ट्र ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि मनाई गईं , उसी दिन को  हिंदू महासभा ने गोडसे-आप्टे स्मृति दिवस” ​​मनाकर श्रद्धांजलि दी

जिस दिन राष्ट्र ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि मनाई गईं , उसी दिन को हिंदू महासभा ने गोडसे-आप्टे स्मृति दिवस” ​​मनाकर श्रद्धांजलि दी

31-Jan-2022

जिस दिन राष्ट्र ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि मनाई, उस दिन हिंदू महासभा ने रविवार को उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे और गांधी हत्याकांड के सह-आरोपी नारायण आप्टे को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में “गोडसे-आप्टे स्मृति दिवस” ​​मनाकर श्रद्धांजलि दी।

इंदौर और ग्वालियर में संगठनो  के सदस्यों ने मध्यप्रदेश पुलिस की मौजूदगी में खुलेआम ‘गोडसे जिंदाबाद’ के नारे लगाए। इंदौर में नाथूराम गोडसे के बयानों की प्रदर्शनी भी लगाई गई।

दक्षिणपंथी संगठन ने ग्वालियर में गोडसे-आप्टे भारत रत्न से जेल में बंद धार्मिक नेता कालीचरण महाराज को भी सम्मानित किया, जिन्हें पिछले दिसंबर में छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित एक धर्म संसद के दौरान महात्मा के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के लिए गिरफ्तार किया गया था, और महासभा के चार नेता थे।

“हमने भारत माता की ‘आरती’ की, भारत को पाकिस्तान के साथ ‘अखंड भारत’ बनाने के संकल्प के साथ किया। हम 30 जनवरी, 1948 को उनकी गिरफ्तारी पर अपना गुस्सा व्यक्त करने के लिए 30 जनवरी को ‘गोडसे आप्टे स्मृति दिवस’ के रूप में मना रहे हैं, “हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने ग्वालियर से फोन पर पीटीआई को बताया।

देश ने रविवार को राष्ट्रपिता को उनकी 74वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि दी।

भारद्वाज ने कहा कि महासभा ने ग्वालियर में कालीचरण महाराज और हिंदू महासभा के चार नेताओं को गोडसे-आप्टे भारत रत्न से सम्मानित किया है।

भारद्वाज ने कहा, “चूंकि कालीचरण महाराज जेल में हैं, इसलिए प्रमोद लोहपात्रे ने उनकी ओर से सम्मान प्राप्त किया।”

उन्होंने 1947 में भारत के विभाजन के लिए महात्मा गांधी को दोषी ठहराया, जिसके बारे में उन्होंने कहा कि लाखों हिंदुओं की हत्या और विस्थापन हुआ।

ग्वालियर के दौलतगंज इलाके में महासभा के कार्यालय में कार्यक्रम में शामिल होने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए भारद्वाज ने दावा किया कि हिंदू महासभा ने स्वतंत्रता संग्राम में बहुत बड़ा योगदान दिया है।

उन्होंने कहा, “लोगों को यह विश्वास करने के लिए गुमराह नहीं किया जाना चाहिए कि भारत को चरखे (महात्मा गांधी द्वारा लोकप्रिय कताई चक्र) के कारण आजादी मिली।”

भारद्वाज ने आरोप लगाया कि कांग्रेस और भाजपा ने लोगों को संतों और “स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अपनी जान गंवाने वाले सात लाख लोगों” के बलिदान के बारे में जानकारी नहीं दी। उन्होंने कहा कि महासभा सभी क्रांतिकारियों को श्रद्धांजलि और सम्मान देती है।

पिछले नवंबर में, हिंदू महासभा ने कहा था कि वह हरियाणा की अंबाला सेंट्रल जेल से लाई गई मिट्टी का उपयोग करके नाथूराम गोडसे की एक मूर्ति की मूर्ति बनाएगी, जहां उन्हें 1949 में फांसी दी गई थी।

नवंबर 2017 में, ग्वालियर जिले के अधिकारियों ने गोडसे के कार्यालय को गोडसे के ‘मंदिर’ में बदलने के दक्षिणपंथी संगठन के प्रयास को विफल करते हुए गोडसे की प्रतिमा को जब्त कर लिया था।

महासभा द्वारा कालीचरण और अन्य को “गोडसे आप्टे भारत रत्न” से सम्मानित करने के बारे में पूछे जाने पर, मध्य प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि यह केंद्र की मौजूदा भाजपा सरकार थी जिसने महात्मा गांधी के काम को लोगों तक पहुंचाया।

केंद्र द्वारा ‘भारत रत्न’ (भारत में सर्वोच्च नागरिक सम्मान) प्रदान करने की एक प्रक्रिया है। यह सड़क पर खड़े किसी को नहीं दिया जा सकता है, ”उन्होंने कहा, देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है।

19 जनवरी को, महाराष्ट्र में ठाणे पुलिस ने महात्मा गांधी के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक टिप्पणी करने के लिए ठाणे में उनके खिलाफ दर्ज एक मामले में छत्तीसगढ़ से कालीचरण को गिरफ्तार किया।

 


भारत की स्वतंत्रता संघर्ष का महान कर्मयोद्धा

भारत की स्वतंत्रता संघर्ष का महान कर्मयोद्धा

22-Jan-2022

भारत की स्वतंत्रता संघर्ष का महान कर्मयोद्धा  
-ललित गर्ग-

No description available.

लम्बे इंतजार के बाद अच्छी बात हुई है कि देश के क्रांतिकारी आंदोलन के महानायक, कर्मयोद्धा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को केंद्र सरकार ने ‘राष्ट्रीय पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाने की घोषणा करके देश के असंख्य लोगों की भावनाओं का सम्मान किया है। वास्तव में हमारी आजादी हमारे ऐसे ही वीरों के पराक्रम, शौर्य, समर्पण और साहस सेे मिली थी। यह सही है कि स्वतंत्रता संग्राम में महात्मा गांधी का योगदान महत्वपूर्ण था, परंतु नेताजी के योगदान को कमतर आंकना या उनके योगदान का विस्मृत करना, किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं कहा जा सकता। भारत के स्वाधीनता संग्राम में आजाद हिंद फौज एवं नेताजी का सर्वाधिक योगदान रहा है, उनके योगदान की अमर कहानी अभी लिखी जानी शेष है और इसकी शुभ शुरुआत हो गयी है।
आजाद हिन्द सरकार के माध्यम से सुभाषचन्द्र बोस ने एक ऐसा भारत बनाने का वादा किया था, जिसमें सभी के पास समान अधिकार हों, सभी के पास समान अवसर हों। जो अपनी प्राचीन परम्पराओं से प्रेरणा लेगा और गौरवपूर्ण बनाने वाले सुखी और समृद्ध सशक्त भारत का निर्माण करेगा। यह करोड़ों भारतीयों का सपना था, किंतु सुभाष बाबू से भय खाने वाले अंग्रेजों और बाद में उसी लीक पर चलकर सत्ता और परिवारवाद को मजबूत करने वाले राजनीतिक दलों एवं सत्ताधारियों ने उस महानायक के योगदान एवं सपनों को कुचलने का षड़यंत्रपूर्वक प्रयत्न किया। जब वर्ष 2018 को आजाद हिन्द सरकार के 75वीं वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से तिरंगा फहराया तो देश को मानो उसका बिसराया प्यार, स्वतंत्रता संग्राम की अनूठी स्मृतियों की जीवंतता से देश को वास्तविक रूप में आजादी का स्वाद चगने का अवसर मिल गया है।
नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने जिस अमृत को अपने संघर्ष से बटोरो एवं सुरक्षित भारत की भावी पीढ़ियों के लिए रखा था, वह तो राजनीतिक स्वार्थों की भेंट चढ़ गया। उस अमृत पर तो कोरी राजनीतिक स्वार्थ की रोटियां सेकी गयी, अपने-अपने स्वार्थ सिद्ध किये गये, देश को भूला दिया गया, नेताजी के योगदान को भूला दिया गया। यही कारण है कि 75 वर्षों के कालखण्ड में राष्ट्र मजबूत होने की बजाय दिन-ब-दिन कमजोर होता गया। राष्ट्र कभी भी केवल व्यवस्था पक्ष से ही नहीं बनता, उसका सिद्धांत, चरित्र पक्ष एवं राष्ट्रीय भावना भी सशक्त होनी चाहिए। किसी भी राष्ट्र की ऊंचाई वहां की इमारतों की ऊंचाई से नहीं मापी जाती बल्कि वहां के नागरिकों के चरित्र से मापी जाती है। उनके काम करने के तरीके से मापी जाती है, उनके बलिदानी स्वतंत्रता संग्रामियों की जीवंतता से आंकी जाती है। हमारी सबसे बड़ी असफलता है कि आजादी के 75वर्षों के बाद भी राष्ट्रीय चरित्र नहीं बन पाया, इसका कारण नेताजी जैसे नेताओं के योगदान को भूला देना है।
सुभाष चन्द्र बोस भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी तथा सबसे बड़े नेता थे। आपका जन्म 23 जनवरी 1897 को को ओड़िशा के कटक शहर में हिन्दू कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माँ का नाम प्रभावती था। जानकीनाथ बोस कटक शहर के मशहूर वकील थे। पहले वे सरकारी वकील थे मगर बाद में उन्होंने निजी प्रैक्टिस शुरू कर दी थी। उन्होंने कटक की महापालिका में लम्बे समय तक काम किया था और वे बंगाल विधानसभा के सदस्य भी रहे थे। अंग्रेज़ सरकार ने उन्हें रायबहादुर का खिताब दिया था। प्रभावती देवी के पिता का नाम गंगानारायण दत्त था। दत्त परिवार को कोलकाता का एक कुलीन परिवार माना जाता था। प्रभावती और जानकीनाथ बोस की कुल मिलाकर 14 सन्तानें थी जिसमें 6 बेटियाँ और 8 बेटे थे। सुभाष उनकी नौवीं सन्तान और पाँचवें बेटे थे। अपने सभी भाइयों में से सुभाष को सबसे अधिक लगाव शरद चन्द्र से था।
सुभाषचन्द्र बोस आजीवन भारतीय स्वाधीनता संघर्ष के लिये युद्ध तथा सैन्य संगठन में रत रहते हुए भारत को आजादी दिलाने के प्रभावी एवं सार्थक प्रयत्न किये। सुभाष बाबू के जीवन पर स्वामी विवेकानंद, उनके गुरु स्वामी रामकृष्ण परमहंस तथा महर्षि अरविंद के गहन दर्शन और उच्च भावना का प्रभाव था। नेताजी ऋषि अरविंद की पत्रिका आर्य को बहुत ही लगाव से पढ़ते थे। पिताजी की इच्छा का निर्वाहन करते हुए उन्होनें उन दिनों की सर्वाधिक महत्वपूर्ण परीक्षा आईसीएस में बैठने के लिए कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया तथा मात्र आठ माह में ही परीक्षा उत्तीर्ण कर ली किंतु राष्ट्रीय भाव एवं भारत को आजाद कराने के संकल्प के चलते उन्होंने आईसीएस की नौकरी का परित्याग करके एक अनोखा उदाहरण प्रस्तुत किया। तब तक आइसीएस के इतिहास में किसी भारतीय ने ऐसा नहीं किया था। युवा सुभाष ने 16 जुलाई 1921 को बम्बई  में महात्मा गांधी से मिलने के बाद सम्पूर्ण देश में अंग्रेजों के खिलाफ चल रहे असहयोग आंदोलन में हिस्सा लिया। उस समय देश में गांधीजी के नेतृत्व में असहयोग की लहर थी तथा अंग्रेजी वस्त्रों का बहिष्कार, विधानसभा, अदालतों एवं शिक्षा  संस्थाओं का बहिष्कार भी इसमें शामिल था।
सुभाषचन्द्र बोस ने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये, जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था। उनके द्वारा दिया गया जय हिंद का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। ‘तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूँगा’ का नारा देकर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ हुंकार भरी। आजाद हिन्द सरकार ने वादा किया था ‘बांटो और राज करो’ की उस नीति को जड़ से उखाड़ फेंकने का, जिसकी वजह से भारत सदियों तक गुलाम रहा था। इसके लिये नेताजी ने 5 जुलाई 1943 को सिंगापुर के टाउन हाल के सामने ‘सुप्रीम कमाण्डर’ के रूप में आज़ाद हिंद फौज की सेना को सम्बोधित करते हुए ‘दिल्ली चलो!’ का नारा दिया और जापानी सेना के साथ मिलकर ब्रिटिश व कामनवेल्थ सेना से बर्मा सहित इंफाल और कोहिमा में एक साथ जमकर मोर्चा लिया। आजाद हिन्द फौज को छोड़कर विश्व-इतिहास में ऐसा कोई भी दृष्टांत या उदाहरण नहीं मिलता जहाँ तीस-पैंतीस हजार युद्धबन्दियों ने संगठित होकर अपने देश की आजादी के लिए ऐसा प्रबल संघर्ष छेड़ा हो। उस समय देश में नेताजी और आजाद हिंद फौज के प्रति सहानुभूति की व्यापक लहर दौड़ रही थी। दमनचक्र के बावजूद देशवासियों का जोश, उत्साह व उमंग देखते ही बन रहा था। ब्रिटिश सरकार डर गयी थी। आजाद हिंद फौज ने जिस प्रकार से देश का वातावरण बनाया उससे अंग्रेजों को साफ पता चल गया था कि अब यहां अधिक समय तक रहा नहीं जा सकता, आजाद हिंद फौज का देश की आजादी में अप्रतिम योगदान है जिसे भुलाया नहीं जा सकता।
21 अक्टूबर 1943 को सुभाषचन्द्र बोस ने आज़ाद हिंद फौज के सर्वाेच्च सेनापति की हैसियत से स्वतंत्र भारत की अस्थायी सरकार बनायी जिसे जर्मनी, जापान, फिलीपींस, कोरिया, चीन, इटली, मान्चुको और आयरलैंड सहित 11 देशो की सरकारों ने मान्यता दी थी। जापान ने अंडमान व निकोबार द्वीप इस अस्थायी सरकार को दे दिये। नेताजी उन द्वीपों में गये और उनका नया नामकरण किया। 1944 को आज़ाद हिंद फौज ने अंग्रेजों पर दोबारा आक्रमण किया और कुछ भारतीय प्रदेशों को अंग्रेजों से मुक्त भी करा लिया। कोहिमा का युद्ध 4 अप्रैल 1944 से 22 जून 1944 तक लड़ा गया एक भयंकर युद्ध था। इस युद्ध में जापानी सेना को पीछे हटना पड़ा था और यही एक महत्वपूर्ण मोड़ सिद्ध हुआ। 6 जुलाई 1944 को उन्होंने रंगून रेडियो स्टेशन से महात्मा गांधी के नाम एक प्रसारण जारी किया जिसमें उन्होंने इस निर्णायक युद्ध में विजय के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनाएँ माँगीं।
अपने संघर्षपूर्ण एवं अत्यधिक व्यस्त जीवन के बावजूद नेताजी सुभाष चन्द्र बोस स्वाभाविक रूप से लेखन के प्रति भी उत्सुक रहे हैं। अपनी अपूर्ण आत्मकथा एक भारतीय यात्री-ऐन इंडियन पिलग्रिम के अतिरिक्त उन्होंने दो खंडों में एक पूरी पुस्तक भी लिखी भारत का संघर्ष-द इंडियन स्ट्रगल, जिसका लंदन से ही प्रथम प्रकाशन हुआ था। यह पुस्तक काफी प्रसिद्ध हुई थी। उनकी आत्मकथा यद्यपि अपूर्ण ही रही, लेकिन उसे पूर्ण करने की उनकी अभिलाषा रही थी। नेताजी की मृत्यु को लेकर आज भी विवाद है। जहाँ जापान में प्रतिवर्ष 18 अगस्त को उनका शहीद दिवस धूमधाम से मनाया जाता है वहीं भारत में रहने वाले उनके परिवार के लोगों का आज भी यह मानना है कि सुभाष की मौत 1945 में नहीं हुई। वे उसके बाद रूस में नज़रबन्द थे। यदि ऐसा नहीं है तो भारत सरकार ने उनकी मृत्यु से संबंधित दस्तावेज अब तक सार्वजनिक क्यों नहीं किये? 16 जनवरी 2014 को कलकत्ता उच्च न्यायालय ने नेताजी के लापता होने के रहस्य से जुड़े खुफिया दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की माँग वाली जनहित याचिका पर सुनवाई के लिये विशेष पीठ के गठन का आदेश दिया। सुभाषचन्द्र बोस की 125वीं जन्म जयन्ती मनाते हुए भारत को भारतीयता की नजर से देखना और समझना जरूरी है। ये आज जब हम देश की स्थिति देखते हैं तो और स्पष्ट रूप से समझ पाते हैं कि स्वतंत्र भारत के बाद के दशकों में अगर देश को सुभाष बाबू, सरदार पटेल जैसे व्यक्तित्वों का मार्गदर्शन मिला होता, भारत को देखने के लिए विदेशी चश्मा नहीं होता तो स्थितियां बहुत भिन्न होतीं। नेताजी के विचारधारा के लोग इस देश में ही जीवित होने पर भी बिसराए जाते रहे हैं। लेकिन इन सब झंझावातों के बीच वह सपना सांस लेता रहा। उसे जीवित रहना ही था, क्योंकि उस सपने में नेताजी सरीखे अनगिनत राष्ट्रपुरुषों की जान बसी है। वह सपना है भारतीयता का सपना। यह सपना जीवित रहेगा, उसी सपने को आकार देकर ही सशक्त भारत का निर्माण होगा। जिसमें संघर्ष, समर्पण एवं शौर्य की सुभाषचन्द्र बोस की गाथाएं आने वाली पीढ़ियों को उनके मूल्यों को अपनाने के लिये प्रेरित करती रहेगी। प्रेषकः


(ललित गर्ग)
ई-253, सरस्वती कुंज अपार्टमेंट
25 आई पी एक्सटेंसन, पटपड़गंज, दिल्ली-110092
फोनः-22727486, मोबाईल:- 9811051133  

 


अमीरी-गरीबी की बढ़ती खाई को पाटना जरूरी

अमीरी-गरीबी की बढ़ती खाई को पाटना जरूरी

21-Jan-2022

अमीरी-गरीबी की बढ़ती खाई को पाटना जरूरी

-ललित गर्ग-
No description available.

गरीबी-अमीरी के असंतुलन को कम करने की दिशा में काम करने वाली वैश्विक संस्था ऑक्सफैम ने अपनी ताजा आर्थिक असमानता रिपोर्ट में समृद्धि के नाम पर पनप रहे नये नजरिया, विसंगतिपूर्ण आर्थिक संरचना एवं अमीरी गरीबी के बीच बढ़ते फासले की तथ्यपरक प्रभावी प्रस्तुति देते हुए इसे घातक बताया है। आज देश एवं दुनिया की समृद्धि कुछ लोगों तक केन्द्रित हो गयी है, भारत में भी ऐसी तस्वीर दुनिया की तुलना में अधिक तीव्रता से देखने को मिल रही है। देश में मानवीय मूल्यों और आर्थिक समानता को हाशिये पर डाल दिया गया है और येन-केन-प्रकारेण धन कमाना ही सबसे बड़ा लक्ष्य बनता जा रहा है। आखिर ऐसा क्यों हुआ? क्या इस प्रवृत्ति के बीज हमारी परंपराओं में रहे हैं या यह बाजार के दबाव का नतीजा है? कहीं शासन-व्यवस्थाएं गरीबी दूर करने का नारा देकर अमीरों को प्रोत्साहन तो नहीं दे रही है? इस तरह की मानसिकता राष्ट्र को कहां ले जाएगी? ये कुछ प्रश्न ऑक्सफैम की आर्थिक असमानता रिपोर्ट के सन्दर्भ महत्त्वपूर्ण हैं, आम बजट से पूर्व इस रिपोर्ट का आना और उसके तथ्यों पर मंथन जरूरी है।

ताजा रिपोर्ट के चौंकाने वाले तथ्य है कि कोरोना महामारी के बावजूद दुनिया भर में धनपतियों का खजाना तेजी से बढ़ा है। भारत में भले 84 फीसदी परिवारों की आमदनी महामारी की वजह से कम हो गई, लेकिन अरबपतियों की संख्या 102 से बढ़कर 142 हो गई है। इतना ही नहीं, मार्च 2020 से लेकर 30 नवंबर, 2021 के बीच अरबपतियों की आमदनी में करीब 30 लाख करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है और वह 23.14 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 53.16 लाख करोड़ रुपये हो गई है, जबकि 2020 में 4.6 करोड़ से अधिक नए भारतीय अति-गरीब बनने को विवश हुए।
इस रिपोर्ट में साफ-साफ कहा गया है कि पूरे विश्व में आर्थिक असमानता बहुत तेजी से फैल रही है। अमीर बहुत तेजी से ज्यादा अमीर हो रहे हैं। साम्राज्यवाद की पीठ पर सवार पूंजीवाद ने जहां एक ओर अमीरी को बढ़ाया है तो वहीं दूसरी ओर गरीबी भी बढ़ती गई है। यह अमीरी और गरीबी का फासला कम होने की बजाय बढ़ता ही जा रहा है जिसके परिणामों के रूप में हम आतंकवाद को, नक्सलवाद को, सांप्रदायिकता को, प्रांतीयता को देख सकते हैं, जिनकी निष्पत्तियां समाज में हिंसा, नफरत, द्वेष, लोभ, गलाकाट प्रतिस्पर्धा, रिश्तांे में दरारें आदि के रूप में देख सकते हैं। सर्वाधिक प्रभाव पर्यावरणीय असंतुलन एवं प्रदूषण के रूप में उभरा है। चंद हाथों में सिमटी समृद्धि की वजह से बड़े और तथाकथित संपन्न लोग ही नहीं बल्कि देश का एक बड़ा तबका मानवीयता से शून्य अपसंस्कृति का शिकार हो गया है। अमीर और गरीब के बीच बढ़ती खाई तब तक नहीं कम होगी, जब तक सरकार की तरफ से इसको लेकर ठोस कदम नहीं उठाए जाते हैं। असमानता दूर करने के लिए सरकार को गरीबों के लिए विशेष नीतियां अमल में लानी होगी।
वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम के सालाना सम्मेलन एवं भारत के आम बजट के आसपास ऑक्सफेम इस तरह की रिपोर्ट जारी कर बताना चाहता है कि भले वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम पूंजीपतियों की वकालत करे, लेकिन उसका मुख्य उद्देश्य दुनिया में बढ़ आर्थिक असमानता को दूर करने का भी होना चाहिए। अमीरी और गरीबी की बढ़ती खाई को पाटना जरूरी इसलिये भी है कि पिछले दो वर्षों से हम महामारी से गुजर रहे हैं और यह उम्मीद थी कि कम से कम कोरोना काल में गरीबों को ज्यादा मदद दी जाएगी और उनकी आमदनी सुरक्षित रखी जाएगी। मगर ऐसा नहीं हुआ। आंकड़े यही बता रहे हैं कि महामारी में जिस वर्ग ने सबसे ज्यादा फायदा उठाया, वह धनाढ्य वर्ग है। उसकी संपत्ति और आमदनी बढ़ी है, जबकि गरीबों का जीना और दुश्वार हो गया है। इसके लिए सरकारों को निचले तबके की आमदनी में इजाफा करने और धनाढ्य तबके से जायज टैक्स वसूलने की कोशिश करनी होगी।
आर्थिक असमानता घटाने का तरीका ही यही है कि मजदूरों को उनकी वाजिब मजदूरी मिले, खेती करने वालों को अपनी उपज का उचित दाम मिले, मजदूरों को खून-पसीने की कमाई मिले और कोई भी इंसान व्यवस्था का लाभ उठाकर जरूरत से ज्यादा अपनी तिजोरी न भर सके। ऐसा होने से समाज में एक विद्रोह पनपेगा, जो हिंसक क्रांति का कारण बनेगा। भारत में सरकार की नीतियां गरीब दूर करने का स्वांग करती है। असलियत में सरकार अमीरों को ही लाभ पहुंचाती है। वर्ष 2019 में केंद्र सरकार ने टैक्स में छूट देकर देश के पूंजीपति वर्ग को दो लाख करोड़ रुपये की माफी दे दी। मदद की जरूरत धनाढ्यों को नहीं, गरीबों को थी। असंगठित क्षेत्र के लोग थे, जिनको सहायता मिलनी चाहिए थी। मगर वे मुंह ताकते रह गए और मलाई धनाढ्य ले उड़े। सच यही है कि पिछले पांच साल से लोगों की वास्तविक आमदनी नहीं बढ़ी है। मनरेगा की मजदूरी, जो सरकार खुद तय करती है, वह भी बाजार में मिलने वाली मजदूरी से कम है। जबकि इसके बरक्स शेयर बाजार नित नई ऊंचाइयों पर दिखने लगा है। इन सबसे स्वाभाविक तौर पर अमीरी-गरीबी के बीच की खाई बढ़ रही है।
हमारे देश में जरूरत यह नहीं है कि चंद लोगों के हाथों में ही बहुत सारी पूंजी इकट्ठी हो जाये, पूंजी का वितरण ऐसा होना चाहिए कि विशाल देश के लाखों गांवों को आसानी से उपलब्ध हो सके। लेकिन क्या कारण है कि महात्मा गांधी को पूजने वाले सत्ताशीर्ष का नेतृत्व उनके ट्रस्टीशीप के सिद्धान्त को बड़ी चतुराई से किनारे कर रखा है। यही कारण है कि एक ओर अमीरों की ऊंची अट्टालिकाएं हैं तो दूसरी ओर फुटपाथों पर रेंगती गरीबी। एक ओर वैभव ने व्यक्ति को विलासिता दी और विलासिता ने व्यक्ति के भीतर क्रूरता जगाई, तो दूसरी ओर गरीबी तथा अभावों की त्रासदी ने उसके भीतर विद्रोह की आग जला दी। वह प्रतिशोध में तपने लगा, अनेक बुराइयां बिन बुलाए घर आ गईं। अर्थ की अंधी दौड़ ने व्यक्ति को संग्रह, सुविधा, सुख, विलास और स्वार्थ से जोड़ दिया। नई आर्थिक प्रक्रिया को आजादी के बाद दो अर्थों में और बल मिला। एक तो हमारे राष्ट्र का लक्ष्य समग्र मानवीय विकास के स्थान पर आर्थिक विकास रह गया। दूसरा सारे देश में उपभोग का एक ऊंचा स्तर प्राप्त करने की दौड़ शुरू हो गई है। इस प्रक्रिया में सारा समाज ही अर्थ प्रधान हो गया है।
समाज को अर्थ नहीं, जीवन प्रधान बनाना होगा। इसके लिये सरकारों को लंबी अवधि और छोटी अवधि, दोनों के लिए योजनाएं बनानी होंगी। अल्पावधि कार्यक्रमों में जहां असंगठित क्षेत्र को समर्थन देना, उस तक सीधी नकदी पहुंचाना बहुत जरूरी है, मनरेगा जैसी योजनाओं का बजट बढ़ाना भी जरूरी है, ताकि मजदूर वर्ग तक नकद राशि पहुंचे। हमारे गांवों में एक बड़ा तबका अब भी कृषि पर आधारित है। उन लोगों की आमदनी बढ़ाने के लिए जरूरी है कि उनकी लागत कम की जाए और आय बढ़ाई जाए। दीर्घावधि की योजनाओं में शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण और रोजगार पर खर्च करने की जरूरत है। जबकि सरकारें इन जीवन से जुड़ी सेवाओं को अपने हाथ में रखने की बजाय निजी क्षेत्रों को सौंप रही है, जिससे ये सेवाएं अब व्यवसाय हो गयी है। इस प्रक्रिया में सारी सामाजिक मान्यताओं, मानवीय मूल्यों, मर्यादाओं को ताक पर रखकर कैसे भी धन एकत्र कर लेने को सफलता का मानक माने जाने लगा है जिससे राजनीति, साहित्य, कला, धर्म सभी को पैसे की तराजू पर तोला जाने लगा है। इस प्रवृत्ति के बड़े खतरनाक नतीजे सामने आ रहे हैं। अब तक के देश की आर्थिक नीतियां और विकास का लक्ष्य चंद लोगों की समृद्धि में चार चांद लगाना हो गया है। चंद लोगों के हाथों में समृद्धि को केन्द्रित कर भारत को महाशक्ति बनाने का सपना भी देखा जा रहा है। संभवतः यह महाशक्ति बनाने की बजाय हमें कमजोर राष्ट्र के रूप में आगे धकेलने की तथाकथित कोशिश है।                                                                                       प्रेषकः


(ललित गर्ग)
ई-253, सरस्वती कुंज अपार्टमेंट
25 आई पी एक्सटेंसन, पटपड़गंज, दिल्ली-110092
फोनः-22727486, मोबाईल:- 9811051133  

 


आदमी को चाहिए... वक्त से डरकर रहें

आदमी को चाहिए... वक्त से डरकर रहें

19-Jan-2022

राजकुमार सोनी 

छत्तीसगढ़ : छत्तीसगढ़ के निलंबित पुलिस अफसर जीपी सिंह ने अपने जीवन में अगर पैसों के साथ-साथ थोड़े अच्छे लोग और संबंधों को कमा लिया होता तो यह तय था कि उन्हें जेल की हवा नहीं खानी पड़ती. जेल में भी उन्हें कालीचरण महाराज ( वहीं कालीचरण जिन्होंने बापू के हत्यारे गोडसे को रायपुर की धर्म संसद में सलाम ठोंका था ) की बैरक से सटी हुई एक बैरक में रखा गया है. 

अपनी नौकरी के दौरान जीपी सिंह ने ना जाने कितने बेगुनाहों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाया था.अपने कंधे पर स्टार की संख्या को बढ़ाने के लिए ना जाने कितने बेकसूर ग्रामीणों को नक्सली साबित किया था. लोगों को एक आईपीएस राहुल शर्मा की आत्महत्या के पीछे का घटनाक्रम भी याद है. जीपी सिंह को अब वहीं सब कुछ भुगतना पड़ रहा है जो कभी उन्होंने दूसरों के लिए किया था. 

राजनीति हो या अफसरशाही...जीवन के हर क्षेत्र में संतुलन को बेहद अहम माना गया है. जीपी सिंह अपने जीवन में संतुलन को कायम नहीं रख पाए. देर से ही सही मगर उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. ( इसे वे कितने दिनों तक भुगतेंगे फिलहाल यह भी साफ नहीं है ) जेल सूत्रों से जो जानकारी मिली है उस पर यकीन करें तो जीपी सिंह को खाने के लिए वहीं भोजन दिया गया है जो जेल मैन्युअल में तय है और सामान्य कैदियों को परोसा जाता है. सूत्र बताते हैं हैं कि जीपी ने जैसे-तैसे एक रोटी खाई है और बाकी भोजन को ग्रहण करने से इंकार कर दिया. चूंकि जेल में अभी जीपी सिंह की हैसियत एक विचाराधीन बंदी के तौर पर है सो वहां सामान्य कैदियों की तरह उनके शरीर में मौजूद प्रत्येक वस्त्र की बारीकी से जांच की गई है. यानी कि उनके शरीर के एक-एक कपड़े को उतारकर यह जांचा-परखा गया है कि कहीं वे ऐसी-वैसी चीज़ को लेकर तो प्रवेश नहीं कर रहे हैं जो घातक हैं या फिर जेल प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बन सकती हैं ? 

जो भी पाठक इस टिप्पणी को पढ़ रहे हैं वे यह सोचकर कदापि विचलित ना होंवे कि यह कोई खतरनाक किस्म की आध्यात्मिक टिप्पणी है. देश के प्रसिद्ध शायर साहिर लुधियानवी जो ठेठ वामपंथी मिज़ाज के थे...वे भी अपने एक गीत में यह मानते हैं कि वक्त से बड़ा सिकन्दर कोई नहीं हैं. वे सभी लोग जो शोषित-पीड़ितों का खून चूसकर अकूत धन संपत्ति के मालिक बन बैठे हैं और दर्प से भरे हुए हैं उन्हें साहिर के इस गीत के गहरे अर्थ पर एक बारगी मंथन अवश्य करना चाहिए. साहिर लुधियानवी ने बीआर चोपड़ा की मशहूर फिल्म वक्त के लिए यह गीत लिखा था. इस गीत का एक-एक शब्द आज भी मौजूं और प्रेरणादायक हैं- 

वक़्त से दिन और रात 
वक़्त से कल और आज
वक़्त की हर शह ग़ुलाम 
वक़्त का हर शह पे राज
 
वक़्त की पाबन्द हैं 
आते जाते रौनके
वक़्त है फूलों की सेज
वक़्त है काँटों का ताज
वक़्त से दिन और रात ... 

आदमी को चाहिए 
वक़्त से डर कर रहे
कौन जाने किस घड़ी 
वक़्त का बदले मिजाज़


भ्रष्टाचार है सशक्त भारत बनाने की बड़ी बाधा

भ्रष्टाचार है सशक्त भारत बनाने की बड़ी बाधा

19-Jan-2022

भ्रष्टाचार है सशक्त भारत बनाने की बड़ी बाधा

-ः ललित गर्ग:-

No description available.

भ्रष्टाचार एक दीमक की तरह है जो देश को, उसकी अर्थव्यवस्था को और कुल मिलाकर नैतिकता एवं मूल्यों को खोखला कर रहा है। यह उन्नत एवं मूल्याधारित समाज के विकास में बड़ी बाधा है, वही शासन व्यवस्था की भ्रष्टता सशक्त भारत निर्माण का बड़ा अपरोध है। बड़े पदों पर आसीन अधिकारियों एवं मंत्रियों-राजनेताओं के भ्रष्टाचार ज्यादा बड़ी समस्या है क्योंकि उनके उजागर होने, उजागर हो जाने पर उन्हें दबा दिये जाने की त्रासद स्थितियां अधिक चुनौतीपूर्ण है, उन पर लगाम लगाना ज्यादा जटिल है। यह बात हाल ही में भ्रष्टाचार के आरोप में गैस अथारिटी आफ इंडिया लिमिटेड के मार्केटिंग निदेशक ईएस रंगनाथन की गिरफ्तारी बताती है। सरकार के तमाम दावों के बावजूद भ्रष्टाचार पर प्रभावी लगाम नहीं लग पा रही है।
सीबीआइ ने रंगनाथन के साथ पांच अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया है। इनमें कुछ कारोबारी भी हैं। इन दिनों भ्रष्टाचार का एक अन्य मामला भी चर्चा में है जिसमें नेशनल सिक्योरिटी गार्ड के डिप्टी कमांडेंट प्रवीण यादव को 131 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किया गया है। इस अधिकारी ने कितने बड़े पैमाने पर अपनी धोखाधड़ी का जाल फैला रखा था इसका पता इससे चलता है कि उसके करीब 45 खाते फ्रीज किए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ईमानदार एवं भ्रष्टाचारमुक्त शासन देने के संकल्प के साथ कहा गया वाक्य कि न खाऊंगा और न खाने दूंगा, का असर मंत्रियों, सांसदों पर तो ऊपरी तौर पर दिख रहा है, लेकिन विभिन्न सरकारी कम्पनियों में भ्रष्टाचार व्यापकता से आज भी पसरा है, गैल का ताजा भंडाफोड इसका उदाहरण है। सरकार को इसकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए कि अधिकारियों और कारोबारियों, अधिकारियों एवं गैर सरकारी संगठनों के बीच साठगांठ के चलते बड़े पैमाने पर टैक्स चोरी भी हो रही है और सरकारी धन सेवा के नाम पर किन्हीं खास लोगों एवं संगठनों तक पहुंच रहा है। यह टैक्स चोरी या किन्हीं खास लोगों-संगठनों को स्व-लाभ की शर्तों पर लाभ पहुंचाना भी भ्रष्टाचार का ही रूप है। लिहाजा सरकार भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए नए उपायों पर विचार करे।
आसान शब्दों में कहें तो भ्रष्टाचार उन लोगों के द्वारा जिनमें पॉवर होती है एक प्रकार का बेईमान या धोखेबाज आचरण को दर्शाता है। यह समाज की बनावट को भी खराब एवं भ्रष्ट करता है। यह लोगों से उनकी आजादी, स्वास्थ्य, धन और कभी-कभी उनके जीवन को ही खत्म कर देता है। किसी ने सही कहा है कि भ्रष्टाचार एक मीठा जहर है। भारत में हर साल खरबों की राशि या तो रिश्वतखोरी या फिर भ्रष्ट तरीकों की भेंट चढ़ जाती है जिससे कानून के शासन की अहमियत तो कम होती ही है, साथ ही स्वस्थ शासन व्यवस्था का सपना चकनाचूर होता है। आज हमारे कंधे भी इसीलिये झुक गये कि भ्रष्टाचार का बोझ सहना हमारी आदत हो गयी है। भ्रष्टाचार के नशीले अहसास में रास्ते गलत पकड़ लिये और इसीलिये भ्रष्टाचार की भीड़ में हमारे साथ गलत साथी, संस्कार, सलाह, सहयोग जुड़ते गये। जब सभी कुछ गलत हो तो भला उसका जोड़, बाकी, गुणा या भाग का फल सही कैसे आएगा? तभी भ्रष्टाचार से एक नया भारत-सशक्त भारत बनाने के प्रयासों के रास्ते में भारी रुकावट पैदा हो रही है।
प्रवीण यादव हो या रंगनाथन-ये शासन व्यवस्था पर बदनुमा दाग है। भ्रष्टाचार के ये दोनों मामले महज अपवाद के रूप में नहीं देखे जाने चाहिए, क्योंकि तथ्य यह है कि इस तरह के मामले रह-रहकर सामने आते ही रहते हैं। सीबीआइ के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान के तहत जब भी छापेमारी होती है तो भ्रष्टाचार के अनेक मामले सामने आते हैं। इनमें कुछ की गिरफ्तारी भी होती है, लेकिन इसके बाद भी यह मुश्किल से ही पता चलता है कि भ्रष्ट तत्वों के खिलाफ क्या कठोर कार्रवाई हुई। विडम्बना तो यह भी है कि भ्रष्टाचार के जितने मामले प्रकाश में आते हैं, उन्हें दबाने में भी एक नये तरीके का भ्रष्टाचार होता है। भ्रष्टाचार में कमी कैसे आए इस पर सरकार को गंभीरता से विचार करना होगा। आवश्यक केवल यह नहीं है कि भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारियों की निगरानी हो और उनके खिलाफ समय-समय पर छापेमारी भी की जाए। इसके साथ ही आवश्यक यह भी है कि उन कारणों का निवारण भी किया जाए जिनके चलते अधिकारी भ्रष्टाचार करने में सक्षम बने हुए हैं। यदि भ्रष्ट अधिकारियों को यथाशीघ्र सजा देने में सफलता नहीं मिलती तो फिर भ्रष्ट तत्वों को हतोत्साहित नहीं किया जा सकता।
भ्रष्टाचार के ज्यादातर मामलों में यही सामने आता है कि अधिकारी और कारोबारी मिलकर मनमानी करते हैं। भ्रष्ट अधिकारियों और कारोबारियों के बीच मिलीभगत कोई नई बात नहीं है, लेकिन यह चिंता की बात है कि इस मिलीभगत को तोड़ने में अपेक्षित सफलता मिलती हुई नहीं दिख रही है। यह ठीक है कि केंद्र सरकार के शीर्ष स्तर पर भ्रष्टाचार पर लगाम लगी है और भ्रष्टाचार का कोई बड़ा मामला पिछले छह-सात सालों में सामने नहीं आया है, लेकिन यह तो चिंताजनक है ही कि निचले स्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार में कोई उल्लेखनीय कमी आती नहीं दिख रही है।
भ्रष्टाचार एक गंभीर अपराध है जो सभी समाजों में नैतिक, सामाजिक और आर्थिक विकास को कमजोर करता है। आज के समय में भ्रष्टाचार से भारत का कोई क्षेत्र या समुदाय बचा नहीं है। यह देश के सभी हिस्सों में फैल गया है, जो राजनीतिक, सामाजिक या आर्थिक ही नहीं बल्कि लोकतांत्रिक संस्थानों को भी कमजोर करता है, सरकारी अस्थिरता में योगदान देता है और आर्थिक विकास को भी धीमा करता है, तभी इस विकराल होती समस्या पर नियंत्रण पाने के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कुछ राजनीतिक एवं शासन-व्यवस्था के अरूचि के कठोर निर्णय लिये हैं, जिनके कारण मंत्रियों एवं सांसदों के मुख से दबे स्वरों में नाराजगी शासन-व्यवस्था के गलियारों में सुनी जाती है।
दुःखद स्थिति है कि भारत अपनी आजादी के अमृत महोत्सव तक पहुंचते हुए भी स्वयं को ईमानदार नहीं बना पाया, चरित्र सम्पन्न राष्ट्र नहीं बन पाया। यह सत्य है कि जब राजनीति भ्रष्ट होती है तो इसकी परछाइयां दूर-दूर तक जाती है। हमारी आजादी की लड़ाई सिर्फ आजादी के लिए थी- ईमानदार एवं आदर्श व्यवस्था के लिए नहीं थी। यही कारण है कि आजादी के बाद बनी सरकारों के भ्रष्टाचार का विष पीते-पीते भारत की जनता बेहाल हो गई। हजारों लोग बेकसूर जेलों में पड़े हैं। रोटी के लिए, शिक्षा के लिये, चिकित्सा के लिये, रोजगार के लिए तरसते हैं। उपचार के लिए अस्पतालों के धक्के खाते हैं। आयुष्मान जैसी योजना भी भारत में भ्रष्टाचार की शिकार हो गई। जबकि कुछ सत्तापतियों की सात पीढ़ियों सुरक्षित हो गयी। आज हमारी व्यवस्था चाहे राजनीति की हो, सामाजिक हो, पारिवारिक हो, धार्मिक हो, औद्योगिक हो, शैक्षणिक हो, चरमरा गई है। दोषग्रस्त एवं भ्रष्ट हो गई है। उसमें दुराग्रही इतना तेज चलते हैं कि ईमानदार बहुत पीछे रह जाता है। जो सद्प्रयास किए जा रहे हैं, वे निष्फल हो रहे हैं। प्रगतिशील कदम उठाने वालों ने और शासन नायकों ने अगर व्यवस्था सुधारने में मुक्त मन से सहयोग नहीं दिया तो आजादी के कितने ही वर्ष बीत जाये, हमें जैसा होना चाहिए, वैसा नहीं हो पायेंगे, लगातार भ्रष्ट होते चले जायेंगे।
भारत अभी भी विकासशील देशों में से एक है। पूर्ण रूप से विकसित ना होने का सबसे बड़ा कारण यहां देश मे बढ़ता भ्रष्टाचार ही है। भ्रष्टाचार की बढ़ती विभीषिका को नियंत्रित करने के लिये 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबन्दी की घोषणा की थी। भारत में मोदी सरकार ने देश में एक नयी चुस्त-दुरूस्त, पारदर्शी, जवाबदेह और भ्रष्टाचार मुक्त कार्यसंस्कृति को जन्म दिया है, इस तथ्य से चाह कर भी मुंह नहीं मोड़ा जा सकता। न खाऊंगा का प्रधानमंत्री का दावा अपनी जगह कायम है लेकिन न खाने दूंगा वाली हुंकार अभी अपना असर नहीं दिखा पा रही है।
सरकार को भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिये सख्ती के साथ-साथ व्यावहारिक कदम उठाने की अपेक्षा है। पिछले 75 वर्षों की भ्रष्ट कार्यसंस्कृति ने देश के विकास को अवरूद्ध किया। आजादी के बाद से अब तक देश में हुये भ्रष्टाचार और घोटालों का हिसाब जोड़ा जाए तो देश में विकास की गंगा बहायी जा सकती थी। दूषित राजनीतिक व्यवस्था, कमजोर विपक्ष और क्षेत्रीय दलों की बढ़ती ताकत ने पूरी व्यवस्था को भ्रष्टाचार के अंधेरे कुएं में धकेलने का काम किया। विडम्बना है कि पांच राज्यों में हो रहे चुनावों में भ्रष्टाचार मुख्य मुद्दा होना चाहिए, लेकिन कोई राजनीतिक दल इसे मुद्दा बनाने का साहस नहीं दिखा रहा है। देखना यह है कि क्या वास्तव में हमारा देश भ्रष्टाचार मुक्त होगा? यह प्रश्न आज देश के हर नागरिक के दिमाग में बार-बार उठ रहा है कि किस प्रकार देश की रगों में बह रहे भ्रष्टाचार के दूषित रक्त से मुक्ति मिलेगी। वर्तमान सरकार की नीति और नियत दोनों देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने की है, लेकिन उसका असर दिखना चाहिए।
प्रेषकः

(ललित गर्ग)
ई-253, सरस्वती कंुज अपार्टमेंट
25 आई. पी. एक्सटेंशन, पटपड़गंज, दिल्ली-92
फोनः 22727486, 9811051133

 

 


रोहित वेमुला को उनकी छठी पुण्यतिथि पर नमन

रोहित वेमुला को उनकी छठी पुण्यतिथि पर नमन

18-Jan-2022

“एक आदमी का मूल्य उसकी तत्काल पहचान और निकटतम संभावना तक कम हो गया था। एक वोट को। एक नंबर को। किसी बात को। एक आदमी को कभी भी दिमाग के रूप में नहीं माना गया था। तारे की धूल से बनी एक शानदार चीज के रूप में। हर क्षेत्र में, पढ़ाई में, गलियों में, राजनीति में, और मरने और जीने में, ”पीएचडी छात्र रोहित वेमुला ने इस दिन छह साल पहले आत्महत्या करके मरने से पहले दुनिया को अपने अंतिम शब्दों में कहा था।

रोहित वेमुला के आख़िरी शब्द: 'मेरा जन्म एक भयंकर हादसा था' - BBC News हिंदी

हैदराबाद विश्वविद्यालय के 26 वर्षीय छात्र वेमुला की 17 जनवरी, 2016 को आत्महत्या से मृत्यु हो गई, क्योंकि उन्हें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की स्थानीय इकाई की शिकायत के बाद चार अन्य लोगों के साथ विश्वविद्यालय से निलंबित कर दिया गया था। , आरएसएस की छात्र शाखा।

वेमुला की मृत्यु ने उच्च शिक्षा संस्थानों में जातिवाद के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन छेड़ दिया।


एबीवीपी द्वारा एएसए के खिलाफ शिकायत के बाद, केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय द्वारा मामले को पूर्व मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को सौंप दिया गया था। ईरानी ने विश्वविद्यालय को छात्र राजनीति के मामले को देखने का निर्देश दिया था, जिसके बाद वेमौल को निलंबित कर दिया गया था और उनकी 25,000 रुपये की फेलोशिप भी वापस ले ली गई थी।

वेमुला को यूओएच ने कथित तौर पर “अंबेडकर स्टूडेंट्स एसोसिएशन के बैनर तले मुद्दों” (एएसए) को उठाने के लिए निलंबित कर दिया था।

जब वेल्मुला और अन्य को उनके छात्रावास के कमरों से बाहर निकाल दिया गया, और उन्हें बिना अनुदान के प्रबंधन करना मुश्किल लगा, तो उन्होंने भूख हड़ताल के साथ अनुचित निर्णय के विरोध में विश्वविद्यालय के शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में शिविर स्थापित किया।

17 जनवरी, 2016 को, वेमुला ने अपने पीछे एक दिल दहला देने वाला नोट छोड़ कर फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली, जिसमें उनके संघर्ष का वर्णन किया गया था, और उनके जन्म को एक घातक दुर्घटना बताया।

“मेरा जन्म मेरी घातक दुर्घटना है। मैं अपने बचपन के अकेलेपन से कभी उबर नहीं सकता। मेरे अतीत से अप्राप्य बच्चा, ”वेमुअल ने अपने सुसाइड लेटर में कहा।

कई छात्रों, कार्यकर्ताओं और शिक्षकों ने मांग की थी कि विश्वविद्यालय ‘रोहित अधिनियम’ लागू करें, जिसमें सामाजिक न्याय के लिए संयुक्त कार्रवाई समिति के सदस्य भी शामिल हैं। यह कानून शैक्षणिक संस्थानों में हाशिए के समुदायों के छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगा।

फरवरी 2016 में, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) ने वेमुला की मौत के कारण तथ्यों और परिस्थितियों को देखने के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश अशोक कुमार रूपनवाल को नियुक्त किया।

एक दलित छात्र की मौत की जांच के लिए गठित एक व्यक्ति आयोग ने वेमुला के शुभचिंतकों में भय की भावना पैदा की क्योंकि यह अल्पसंख्यक समुदाय का व्यक्ति नहीं था।

15 अगस्त 2017 को प्रकाशित आयोग की रिपोर्ट ने न्यायिक प्रणाली में उनके विश्वास को हिलाते हुए उनके संदेह को सही साबित किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि वेमुला “एक परेशान व्यक्ति” था जिसने आत्महत्या की, न कि जातिगत भेदभाव के कारण। रिपोर्ट ने यह भी साबित करने की कोशिश की कि वेमुला दलित नहीं थे।

“उनका सुसाइड नोट रिकॉर्ड में है जो दर्शाता है कि रोहित वेमुला की अपनी समस्याएं थीं और वह सांसारिक मामलों से खुश नहीं थे। वह उन कारणों से निराश महसूस कर रहा था जो उसे सबसे अच्छी तरह से जानते थे। उन्होंने लिखा कि प्यार, दर्द, जीवन और मृत्यु को समझने की कोई जल्दी नहीं थी लेकिन वह उनके पीछे दौड़ रहा था। यह इंगित करता है कि वह अपने आसपास हो रही गतिविधियों से खुश नहीं था। उन्होंने यह भी लिखा कि वह बचपन से बिल्कुल अकेले थे और एक अनपढ़ व्यक्ति थे। यह उनकी हताशा को भी दर्शाता है, ”रिपोर्ट में कहा गया है।

रिपोर्ट ने सामाजिक और आर्थिक रूप से हाशिए के छात्रों की समस्याओं और मुद्दों को समझाने और दोष देने का भी प्रयास किया, उनके लिए विफलता के अर्थ को परिभाषित किया और इसका वजन उन्हें किनारे पर धकेल दिया।

“असफलता का इन छात्रों के लिए एक विशिष्ट अर्थ है। कई कारणों से, गरीब, ग्रामीण छात्रों के लिए ‘बंद करना’ और घर वापस जाना एक व्यवहार्य विकल्प नहीं है, जो भविष्य में मौत का चयन कर सकते हैं, जिसमें उन्हें गरीब गरीब परिवारों को शिक्षित करने के लिए सब कुछ दांव पर लगाने में असमर्थता को देखना होगा। उन्हें। कई मामलों में वे गांव या समुदाय में अकादमिक ‘टॉपर्स’ भी थे और असफलताओं के रूप में लौटने की अपमान भी असहनीय होगी।”

रिपोर्ट को यूओएच के शिक्षकों और छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने रिपोर्ट की प्रतियां जला दीं और वेमुला को न्याय दिलाने के लिए अभियान चलाया।

वेमुला ने अपने पत्र में अपनी मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया और पूरी जिम्मेदारी लेते हुए कहा, “यह मेरा फैसला है और इसके लिए मैं अकेला जिम्मेदार हूं। मेरे जाने के बाद मेरे दोस्तों और दुश्मनों को इस पर परेशान मत करो, ”लेकिन आम आदमी छह साल बाद भी वेमुला और समुदाय के साथ हुए अन्याय को भूलने से इनकार करता है।

हैदराबाद विश्वविद्यालय में अम्बेडकर छात्र संघ ने 17 जनवरी, 2022 को वेमुला की छठी पुण्यतिथि मनाने के लिए एक ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित किया, क्योंकि उन्होंने जातिगत भेदभाव और सामाजिक बहिष्कार से लड़ते हुए अपना जीवन खो दिया था।

सियासत डॉट कॉम से साभार 


छत्तीसगढ़ में युवा प्रतिभाओं को संवारने, अवसर देने और आगे बढ़ाने की दिशा में हो रहे निरंतर कार्य : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ में युवा प्रतिभाओं को संवारने, अवसर देने और आगे बढ़ाने की दिशा में हो रहे निरंतर कार्य : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

10-Jan-2022


लोकवाणी (आपकी बात- मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के साथ) की 25वीं कड़ी प्रसारित

मुख्यमंत्री ने ‘युवा सपने और छत्तीसगढ़ विषय‘ पर की बात


प्रदेश के 13 हजार 269 नगरीय निकायों एवं ग्राम पंचायतों में गठित होंगे ‘राजीव युवा मितान क्लब‘

राज्य में 09 खेल अकादमियां शुरू: छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण का गठन शीध्र

प्रदेश के 200 से अधिक विकासखंडों में फूडपार्क की स्थापना हेतु भूमि आबंटित

कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करने अपील

छत्तीसगढ़ में विगत तीन वर्षों में रोजगार के अवसरों में हुई बढ़ोत्तरी

रायपुर, 09 जनवरी 2022

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आकाशवाणी से आज प्रसारित रेडियो वार्ता लोकवाणी की 25वीं कड़ी में ‘युवा सपने और छत्तीसगढ़‘ विषय पर प्रदेशवासियों से चर्चा की। उन्होंने बातचीत की शुरूआत करते हुए पूरे छत्तीसगढ़ वासियों को नववर्ष की बधाई दी और कहा कि राज्य में विगत तीन वर्षों में जनभागीदारी और विकास का जो ताना-बाना बना है, उससे यह विश्वास जागा है कि नए वर्ष में सफलताओं और जन सशक्तिकरण के नए रंग भरे जाएंगे। हमारा छत्तीसगढ़ राज्य भी अब 21 वर्ष पूर्ण कर चुका, एक युवा राज्य है। 12 जनवरी को युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानंद का जन्म दिवस है, जिसे हम युवा दिवस के रूप में मनाते हैं।
 
श्री बघेल ने कहा कि नया वर्ष, युवा सपने, युवा दिवस और नवा छत्तीसगढ़ के बीच एक अंतर्संबंध है। स्वामी विवेकानंद जी का रायपुर से अटूट नाता है। उसे चिरस्थायी बनाने के लिए हमने उनके जन्मदिन 12 जनवरी को ‘युवा महोत्सव’ का आयोजन करने की शुरुआत सन् 2020 में की थी। स्वामी जी ने कहा था कि अगर जात-पात, धर्म-सम्प्रदाय के नाम पर हिंसा न होती तो आज का मानव समाज बहुत उन्नत होता। उस जमाने में भी स्वामी जी दुनिया में घूम-घूम कर कहते थे कि मैं यहां किसी एक धर्म का प्रचार करने नहीं आया बल्कि ऐसे दर्शन का प्रचार कर रहा हूं, जो दुनिया के सभी धर्माें में निहित है। उन्होंने कहा था कि मैं किसी धर्म का विरोधी नहीं हूं, हर धर्म के लोगों को तेजस्वी बनाने का प्रयास कर रहा हूं। आज जो स्वामी जी को आध्यात्मिक संत बताकर उनके योगदान को छोटा करना चाहते हैं उन्हें बताना चाहता हूं कि स्वामी जी विरक्ति की बात नहीं करते थे बल्कि क्रान्ति की बात करते थे। कुरीतियों से लड़ने और समाधान की बात करते थे।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के युवाओं ने अपनी बहुमुखी प्रतिभा का प्रदर्शन पिछले दिनों किया है। यहां युवा प्रतिभाओं को संवारने, उन्हें अवसर देने और आगे बढ़ाने की दिशा में बहुत से नए कदम उठाए गए है, मेरा मानना है कि आज के जमाने में युवाओं का कॅरियर केवल सरकारी नौकरी से ही नहीं बनता, बल्कि हमारे युवा साथियों ने अपनी रुचि और प्रतिभा के बल पर संभावनाओं का नया आकाश खोल दिया है। आपमें जो संभावनाएं दिखाई पड़ी हैं, उन्हें साकार करने की दिशा में हम निरंतर प्रयास कर रहे हैं।

हम प्रदेश में युवाओं की शिक्षा-दीक्षा तथा रोजगार के अवसरों पर ध्यान देने के साथ ही एक संस्कारवान युवा पीढ़ी तैयार करने की पहल कर रहे हैं। मेरा मानना है कि पढ़ाई और अन्य गतिविधियों में सक्रिय होने के साथ ही युवा अवस्था में अपने परिवेश, अपने आसपास के लोगों की जिंदगी को करीब से देखने समझने और बेहतरी के लिए स्वस्फूर्त कदम उठाने की भावना बहुत जरूरी है। अपना नाम तथा अपनी कमाई का सपना तो एक दिन पूरा हो जाता है, लेकिन लोगों के दुख-दर्द में शामिल होने, अपनी संस्कृति तथा कमजोर तबकों की भलाई के लिए योगदान करने की भावना एक बीज की तरह युवाओं में डाली जानी चाहिए। हम छत्तीसगढ़ में ऐसी ही संस्कारवान युवा पीढ़ी का विकास करना चाहते हैं।

छत्तीसगढ़ के युवाओं को संगठित करने, सामूहिक रूप से समाज और प्रदेश में सकारात्मक बदलाव का आह्वान करते हुए हमने राजीव युवा मितान क्लब गठित करने की घोषणा भी की है, ताकि युवा इस क्लब में शामिल होकर रचनात्मक कार्यों में अपना सहयोग कर सके। इसके तहत प्रदेश के 13 हजार 269 नगरीय निकायों एवं ग्राम पंचायतों में राजीव युवा मितान क्लब गठित करने हेतु कार्ययोजना तैयार कर ली गई है। प्रत्येक क्लब में 20 से लेकर 40 तक युवा शामिल होंगे। जिनकी आयु 15 से 40 वर्ष के बीच हो। वर्षभर में इन क्लबों को 132 करोड़ 69 लाख रुपए की राशि अनुदान के रूप में प्रदान की जाएगी। इसकी पहली किस्त के रूप में 19 करोड़ 43 लाख रुपए की राशि जारी की जा चुकी है।

छत्तीसगढ़ में विगत तीन वर्षों में रोजगार के अवसरों में बहुत बढ़ोतरी हुई है तथा निश्चित तौर पर इसका लाभ युवाओं को भी मिला है। मुझे खुशी है कि पिछले तीन वर्षों में सरकारी, अर्द्धसरकारी कार्यालयों में सीधी भर्ती के अलावा अन्य माध्यमों से भी भर्ती की गई है, जिसके कारण 4 लाख 65 हजार से अधिक लोगों को सरकारी और अर्द्धसरकारी कार्यालयों में कार्य करने का अवसर मिला है, इसके अलावा 30 हजार नौकरियां नए उद्योगों में मिली हैं। प्रदेश में निजी क्षेत्र में भी बड़े पैमाने पर नौकरियों का सृजन हुआ है। हमने ग्रामीण अंचलों में युवाओं को निर्माण कार्यों से जोड़ने के लिए ई-श्रेणी पंजीयन कराया था, जिसके अंतर्गत 3 हजार से अधिक युवाओं ने पंजीयन कराया है, जिन्हें बिना टेंडर के निर्माण कार्य का ठेका दिया जा रहा है। अभी तक लगभग एक हजार पंजीकृत युवाओं को सड़क, भवन आदि निर्माण कार्य आवंटित किए जा चुके हैं।

छत्तीसगढ़ में हम युवाओं के सर्वांगीण विकास की बात करते हैं। राज्य में बहुत बड़ी आबादी की आजीविका का साधन आज भी कृषि है। बहुत लंबे अरसे का अनुभव रहा है कि हमारे युवा साथी कृषि को व्यवसाय की तरह अपनाने में हिचकते थे, लेकिन विगत तीन वर्षों में स्थिति-परिस्थितियां बदली हैं। हमने निश्चित तौर पर राज्य गठन के बाद सर्वाधिक सरकारी नौकरियों का सृजन किया है। छत्तीसगढ़ में परम्परागत रूप से रोजगार का सबसे बड़ा साधन कृषि क्षेत्र है। लेकिन गलत नीतियों के कारण डेढ़ दशक में खेती के काम को अंधेरी सुरंग बना दिया गया था, जहां से उजाले की किरण दूर-दूर तक दिखाई नहीं पड़ती थी। हमने इस सुरंग में भी उजाला बिखेरने का काम किया है। हमने खेती-किसानी को बेहतर आय और प्रतिभा दिखाने के बेहतर अवसरों से जोड़ दिया है। एक ओर हमने छत्तीसगढ़ की फसलों को समर्थन मूल्य पर खरीदने की बेहतर व्यवस्था की है, पशुधन पालन को लाभ का जरिया बनाया है। वहीं दूसरी ओर ग्रामीण अर्थव्यवस्था, नई उपजों को बढ़ावा, उनकी प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, मार्केटिंग जैसी व्यवस्थाओं को संस्थागत रूप दिया है। कृषि की वैज्ञानिक शिक्षा के साथ शोध, अनुसंधान और आविष्कार के लिए बड़े पैमाने पर व्यवस्थाएं सुनिश्चित की हैं।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि युवा खतरे के खिलाड़ी होते है, उनमें न तो लगन की कमी है और न ही वे मेहनत से डरते है। हमारा मानना है कि बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलेगी तभी उनकी बुनियाद मजबूत होगी। तभी वे एक सक्षम युवा के रूप में बड़ी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल हो सकेंगे। शिक्षा में दो चीजे महत्वपूर्ण है, पहला उसकी व्यापकता अर्थात सभी को शिक्षा का अवसर तथा अधिकार मिलना चाहिए। वहीं दूसरी ओर शिक्षा उपयोगी, सार्थक हो इसके लिए शिक्षा का गुणवत्तापूर्ण होना आवश्यक है। हमने इन दोनों ही मोर्चों पर काम किया है। कमजोर आर्थिक स्थिति वाले परिवार केे बच्चों को कक्षा 12वीं तक निःशुल्क शिक्षा दिलाने के लिए देश में पहली बार हमने शिक्षा के अधिकार के प्रावधान को बढ़ाया है। बेटियों को स्नातकोत्तर तक निःशुल्क शिक्षा दिलाने की व्यवस्था की है। शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय योजना लागू की गई है। हिन्दी माध्यम की शालाओं के लिए भी यह सुविधा उपलब्ध कराने की शुरुआत कर दी गई है। स्कूल से लेकर कॉलेज तक सुविधाओं में वृद्धि की गई है। साथ ही कमजोर तबकों की सुविधाओं में भी वृद्धि की गई है जैसे स्कॉलरशिप, भोजन सहायता राशि आदि में बढ़ोतरी की गई ताकि वे अपनी पढ़ाई पूरी करके बेहतर रोजगार के अवसर हासिल कर सकें।

मुझे यह बताते हुए खुशी है कि हमने प्रयास आवासीय विद्यालयों की संख्या और गुणवत्ता भी बढ़ाई है, ताकि नक्सल प्रभावित जिलों और अनुसूचित क्षेत्रों के प्रतिभावान बच्चे देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में उच्च शिक्षा हासिल कर सकें। इन्हीं प्रयासों के कारण पहली बार नेशनल टैलेंट सर्च परीक्षा में छत्तीसगढ़ के 22 बच्चों ने सफलता पाई। वर्ष 2021 में आईआईटी में 27, एनआईटी एवं समकक्ष शैक्षणिक संस्थानों में 35, सीएस फाउंडेशन में 5, क्लैट में दो, इंजीनियरिंग कॉलेज में 61 विद्यार्थी सफल हुए हैं। प्रयास संस्थाओं की संख्या बढ़कर अब 9 हो गई है तथा इसमें सीटों की संख्या बढ़कर 4 हजार 500 कर दी गई है। यहां के नतीजे न सिर्फ शत्-प्रतिशत आए हैं बल्कि सभी बच्चे 80 प्रतिशत से अधिक अंक लेकर उत्तीर्ण हुए हैं।

छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार खेल प्रशिक्षण की समग्र अधोसंरचना का निर्माण किया गया है, जिसके अंतर्गत 9 अकादमी स्थापित की जा चुकी है। फुटबाल में बालिकाओं के लिए तथा कबड्डी, तीरंदाजी, एथलेटिक्स तथा हॉकी में बालक-बालिकाओं दोनों के लिए, इस तरह 9 अकादमियां शुरू हो चुकी हैं। टेनिस स्टेडियम और अकादमी भवन निर्माण के लिए राशि स्वीकृत की जा चुकी है। जहां तक ‘मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना’ का सवाल है तो मैं यह बताना चाहता हूं कि हमारे राज्य के युवा खिलाड़ियों को आवश्यक सुविधाएं नहीं मिलने के कारण वे देश की अन्य संस्थाओं के लिए खेलते हैं। अब हम यह प्रयास कर रहे हैं कि हमारे खिलाड़ियों को प्रशिक्षण, उपकरण तथा अन्य खर्चों की व्यवस्था छत्तीसगढ़ शासन की तरफ से हो, जिससे वे भविष्य में अपने राज्य की ओर से ही राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग ले सकें। छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण के गठन का काम शीघ्र पूरा करके, जल्दी ही इसका कामकाज शुरू कर दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि आपने थिंक बी के बारे में अच्छा सवाल किया है। मैं बताना चाहता हूं कि यह पहल बस्तर के युवाओं के लिए है। ‘थिंक बी’ का फुलफॉर्म है- ‘टेक्नोलॉजी हब एंड इनोवेशन फॉर नॉलेज बस्तर’। इस परियोजना के अंतर्गत हम बस्तर के युवाओं को नवाचार, स्वरोजगार और उद्यमिता के लिए प्रोत्साहित करेंगे। बादल का फुलफॉर्म है- ‘बस्तर अकादमी ऑफ डांस, आर्ट, लिटरेचर एण्ड लैंग्वेज’। इस संस्था के माध्यम से एक ओर जहां विभिन्न आदिवासी कलाओं, लोकगीत, नृत्यकला, शिल्पकला, संस्कृति, भाषा, साहित्य, खान-पान, वेशभूषा का संरक्षण तथा विकास किया जाएगा। इससे युवाओं को अपनी माटी से जुड़े रहते हुए अपनी रुचि का काम भी मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर के युवाओं की बदौलत हम डेनेक्स रेडिमेड गॉरमेंट फैक्ट्री, काजू प्रसंस्करण इकाई, कॉफी उत्पादन से लेकर बंजर जमीन में पपीता उत्पादन तक के इंद्रधनुषी सपने पूरे कर पा रहे हैं। बस्तर के युवाओं ने यह साबित किया है कि थोड़ी मदद, थोड़ी सुविधाएं और थोड़ा मार्गदर्शन मिलने पर वे बस्तर को बदल सकते हैं। स्वावलंबन की नई कहानी लिखकर नक्सलवाद को पीछे हटा सकते हैं।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना, मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, समर्थन मूल्य पर वनोपज खरीदी, वनोपज प्रसंस्करण, फूडपार्क की स्थापना जैसे प्रयासों से युवाओं को यह विश्वास हुआ है कि खेती-किसानी के काम में भी बहुत कुछ करने को है, जो नवीनता के अभाव में दिखाई नहीं पड़ता था। हमने तीन वर्षों में आधा दर्जन कृषि और उद्यानिकी महाविद्यालय खोले जैसे बेमेतरा, जशपुर, धमतरी, अर्जुन्दा, लोरमी में। महात्मा गांधी के नाम पर दुर्ग जिले के पाटन विकासखण्ड के ग्राम सांकरा में उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय की स्थापना की गई, जिसमें अब प्रवेश की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। कोदो, कुटकी, रागी जैसी फसलों के लिए कांकेर जिले में तथा विभिन्न कृषि उत्पादों की प्रोसेसिंग हेतु दुर्ग जिले में प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित की जा रही है। 200 से अधिक विकासखंडों में फूडपार्क की स्थापना हेतु भूमि आवंटन किया जा चुका है। बंजर जमीन को कृषि के लिए उपयोगी बनाने हेतु डीएमएफ तथा अन्य मदों से सहायता दी जा रही है।     इस तरह अब युवाओं को यह दिखने लगा है कि छत्तीसगढ़ में खेती-किसानी अब लाभ का धंधा है। यही वजह है कि बहुत से किसान पुत्र तथा पुत्रियां उच्च शिक्षित होने के बावजूद अब खेती-किसानी तथा इससे जुड़े हुए कारोबार अपना रहे हैं।

विशेष पिछड़ी जनजाति के शिक्षित युवाओं के लिए नियम को शिथिल करते हुए उन्हीं बसाहटों में शिक्षक के रूप में नौकरी दी गई है। आदिवासी अंचलों में शिक्षा के प्रति रूझान बढ़ाने के लिए संभाग स्तर पर कनिष्ठ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर स्थानीय युवाओं की भर्ती सुनिश्चित की गई है। हमारे युवाओं की उपलब्धियों और कीर्तिमानों की खबरें सुनकर मेरा यह विश्वास और अधिक मजबूत हो जाता है कि छत्तीसगढ़ के युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। भरोसा और सुविधाओं से ही हम वास्तविक युवा क्रांति कर सकते हैं।     

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि वर्तमान में कोरोना के नए वेरिएंट को ओमिक्रॉन के नाम से पहचाना गया है। लेकिन इसके भी शुरुआती लक्षण सर्दी, बुखार, गले में खराश जैसे, पहले की तरह ही हैं। हमारा पुराना अनुभव है कि कोरोना को लेकर किसी भी तरह की दहशत नहीं होनी चाहिए। सबसे पहले तो इतनी सावधानी बरतनी चाहिए कि कोरोना हो ही नहीं। सरकार की ओर से हरसंभव तैयारी की गई है। लेकिन प्रत्येक व्यक्ति को सचेत रहकर निजी सावधानी बरतनी आवश्यक है। नाक, मुंह ढंककर रखें। फेस मास्क को सही ढंग से लगाएं। साबुन, पानी से हाथ धोते रहें। भीड़ वाली जगह से बचें। फिजिकल डिस्टेंसिंग रखकर ही किसी से मेल-मुलाकात करें। हमने जिला प्रशासन को निर्देशित किया है कि स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार सार्वजनिक प्रतिबंधात्मक उपाय किए जाएं। कोरोना प्रोटोकाल का पालन करें। कोरोना से बचने के लिए टीके का दोनों डोज लगवाना जरूरी है। जिन्होंने पहला डोज लेकर छोड़ दिया है वे दूसरा डोज पूरा करें। 15 से 18 वर्ष के उम्र के किशोर-किशोरियों के लिए टीकाकरण शुरू हो गया है और मुझे खुशी है कि हमारे नवयुवा बड़ी संख्या में टीका लगवा रहे हैं। मैं चाहूंगा कि यह अभियान शत-प्रतिशत सफल हो।


छत्तीसगढ़ सरगुजा में दक्षिण पंथी विचारधारा ने मुसलमानों का बहिष्कार करने संकल्प लिया(video)

छत्तीसगढ़ सरगुजा में दक्षिण पंथी विचारधारा ने मुसलमानों का बहिष्कार करने संकल्प लिया(video)

08-Jan-2022

खुलासा पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क- सरगुजा ब्यूरों 

छत्तीसगढ़ सरगुजा में दक्षिण पंथी विचारधारा ने मुसलमानों का बहिष्कार करने संकल्प लिया

भारतीय जनता पार्टी के करारी हार होने के बाद से छत्तीसगढ़ में नफ़रत फ़ैलाने का खेल जारी है  ,कवर्धा और कालीचरण का मामला अभी थमा भी नहीं था की अब  छत्तीसगढ़ के शान्ति प्रिय छत्तीसगढ़ के सरगुजा लुंड्रा थाना अंतर्गत ग्राम कुंडी कला का मामला है दक्षिण पंथी विचारधारा  के एक समूह के द्वारा अल्पसंख्यकों को उनके समुदाय से अलग करके मुसलमानों  का बहिष्कार करने का संकल्प लिया गया । सोशल मीडिया पर सामने आए वीडियो में, हिंदुत्ववादियों के एक बड़े समूह को छोटे बच्चों के साथ, मुसलमानों  के साथ व्यापार व्यव्हार  करने से इनकार करते हुए, उनके बहिष्कार का शपथ दिलाते स्पष्ट रूप से देखा और सुना जा सकता है। क्या है शपथ 

"आज से, हम हिंदू, किसी भी मुसलमान को अपनी जमीन नहीं बेचेंगे या पट्टे पर नहीं देंगे। अगर हमने अपनी जमीन मुसलमानों को लीज पर दी है तो हम उन्हें तुरंत वापस ले लेंगे। आज से हम किसी भी तरह के काम के लिए न तो मुसलमानों के लिए काम करेंगे और न ही उन्हें रोजगार देंगे”

“हम पहले एक विक्रेता के धर्म को सत्यापित करेंगे जो हमारे समुदाय या गांव में बेचने के लिए आता है और अगर वे हिंदू के रूप में पहचान करते हैं तो खरीदारी करेंगे और अन्यथा नहीं,” उन्होंने प्रतिज्ञा की।

यहां देखें विडियो -

शपथ का समापन “जय श्री राम” और “भारत माता की जय” के नारों के साथ हुआ, क्योंकि लोग इस कार्यक्रम में एकत्र हुए, अपने जीवन के अंत तक अपने निर्णय का पालन करने का संकल्प लिया।

हिंदुत्व नेता और मुखपत्र, यति नरसिंहानंद के नेतृत्व में हरिद्वार में तीन दिवसीय हेट कॉन्क्लेव के बाद, सोशल मीडिया पर सामने आए एक सार्वजनिक कार्यक्रम में अभद्र भाषा देने की कई घटनाओं में से यह सिर्फ एक और घटना है।

हिंदुत्व नेताओं द्वारा मुसलमानों के खिलाफ नफरत भड़काने, अल्पसंख्यकों का बहिष्कार करने का वादा करने की एक और हालिया घटना में, उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में स्कूली बच्चों को कथित तौर पर भारत को एक ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाने का संकल्प दिलाया गया।

स्कूल की वर्दी पहने बच्चे स्कूल समय के बाद पार्क में जमा हो गए थे। अपने माता-पिता के साथ पार्क में आने वाले कुछ बच्चे भी शपथ ग्रहण समारोह का हिस्सा थे।


छात्रों को भारत को एक ‘हिंदू’ राष्ट्र बनाने का संकल्प दोहराने के लिए कहा गया। भारत को एक हिंदू राष्ट्र में बदलने के लिए “लड़ो, मरो और यदि आवश्यक हो तो मारो” की शपथ ली गई।

सोनभद्र जिले के नेहरू पार्क में स्कूली बच्चों को शपथ दिलाई गई और “भारत माता की जय”, “वंदे मातरम” और “जय हिंद” के नारों के साथ समाप्त हुआ।

प्रतिज्ञा में कहा गया है: “हम भारत को एक हिंदू राष्ट्र बनाने और बनाए रखने की दिशा में काम करने का वादा करते हैं। हम इसके लिए लड़ेंगे, इसके लिए मरेंगे और जरूरत पड़ी तो इसके लिए जान से मार देंगे। लेकिन हम एक पल के लिए भी पीछे नहीं हटेंगे, चाहे कितनी भी कुर्बानी दे दी जाए। हमारे पूर्वज, शिक्षक, भारत माता हमें इतनी शक्ति दें कि हम अपना संकल्प पूरा कर सकें। वे हमें जीत दिलाएं।”


देश में इस्लामोफोबिक और सेक्सिस्ट मानसिकता का सबूत है बुली बाई

देश में इस्लामोफोबिक और सेक्सिस्ट मानसिकता का सबूत है बुली बाई

06-Jan-2022

हाल ही में “बुली बाई ऐप” के संबंध में जिसमें भारतीय मुस्लिम महिलाओं की ऑनलाइन “नीलामी” की गई थी, यह सामने आया है कि इस मामले में आरोपी उत्तराखंड की 18 वर्षीय श्वेता सिंह, 21 वर्षीय विशाल झा हैं। – बंगलौर में पढ़ाई कर रहे वृद्ध और उत्तराखंड के रहने वाले मयंक रावल भी।

No description available.


हालांकि इस बात की कोई निश्चितता नहीं है कि ये तीन व्यक्ति “नीलामी” में किस हद तक शामिल थे, यह ध्यान देने योग्य है कि नीलामी स्वयं मुस्लिम महिलाओं के लिए अपमानजनक और आक्रामक थी क्योंकि यह देश में इस्लामोफोबिक और सेक्सिस्ट मानसिकता का सबूत है।

No description available.

जबकि इस अधिनियम को ही कड़ी निंदा मिली, अभियुक्तों को उप-महाद्वीप के प्रमुख चेहरों से गंभीर आलोचना नहीं मिली। उदाहरण के लिए, कवि और गीतकार जावेद अख्तर ने अपने ट्विटर प्रोफाइल पर ट्वीट किया, “अगर बुल्ली बाई ऐप मास्टरमाइंड 18 साल की है, तो श्वेता सिंह, जिन्होंने हाल ही में अपने माता-पिता के कैंसर और COVID-19 को खो दिया है, ने बुली बाई नीलामी के पीड़ितों से पूछा। युवा लड़की से मिलने और उसे समझाने के लिए कि उसने जो कुछ भी किया वह गलत क्यों था।”

No description available.

पत्रकार राहुल कंवल ने अपने ट्विटर प्रोफाइल पर ट्वीट किया कि एक 18 वर्षीय लड़की काफी असाधारण और अप्रत्याशित मास्टरमाइंड है और उसे उसके व्यक्तिगत नुकसान और वित्तीय संकट के प्रति सहानुभूति है।

नीलामी के बाद से निपटने वाली महिलाओं में से एक, सिदरा ने अपने ट्विटर प्रोफाइल को लिया और कंवल से ‘इस आपराधिकता को अपवादित करना बंद करने’ के लिए कहा।

No description available.

पीड़ितों के इस उत्तेजित आक्रोश के बीच, बॉलीवुड अभिनेता स्वरा भास्कर ने ट्वीट किया और आतंकवादी अजमल कसाब के समानांतर और श्वेता सिंह पर आरोप लगाया और कहा, अजमल कसाब जिसने 2008 के मुंबई हमलों में निर्दोष लोगों की हत्या की थी। वह अपने बिसवां दशा में था और अपंग गरीबी से आया था।

देश में दक्षिणपंथी ब्रिगेड को निशाना बनाते हुए वह सवाल करती हैं कि क्या गोदी मीडिया के दिग्गजों को लगता है कि संदर्भ अपराध को सही ठहराता है।


कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए सभी कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक हर सम्भव उपाय करें- मुख्यमंत्री श्री बघेल

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए सभी कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक हर सम्भव उपाय करें- मुख्यमंत्री श्री बघेल

05-Jan-2022

सभी जिलों में जुलूस, रैलियों, पब्लिक गैदरिंग, सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और खेल आयोजनों पर लगाई जाए रोक
चार प्रतिशत या अधिक पॉजिटिव रेट वाले जिलों में सभी स्कूलों, आंगनबाड़ी केन्द्रों, पुस्तकालयों, स्वीमिंग पूल और सार्वजनिक स्थानों को बंद रखा जाए: रात्रि 10 बजे से सुबह 6 बजे तक रात्रिकालीन क्लैम्प डाउन लगाएं
सार्वजनिक स्थानों, भीड़-भाड़ वाले बाजारों और दुकानों में संक्रमण से बचाव के लिए मास्क के उपयोग को सख्ती से लागू करें
सभी एयरपोर्ट पर आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य की जाए
सभी रेल्वे स्टेशनों और राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की रेन्डम टेस्टिंग के निर्देश
आवश्यतानुसार माइक्रो और मिनी कंटेनमेन्ट जोन बनाएं
होम आईसोलेशन वाले मरीजों के लिए सप्ताह में सातों दिन 24 घंटे कॉल सेंटर्स संचालित हों
कोविड-19 संक्रमण के नियंत्रण के लिए निजी डॉक्टरों, निजी अस्पतालों, एनजीओ, मीडिया प्रतिनिधियों के साथ आयोजित की जाएं बैठकें
हॉस्पिटल बेड, दवाईयों के स्टॉक, पीएसए प्लांट्स और ऑक्सीजन की उपलब्धता की डेली रिपोर्टिंग के निर्देश
चार प्रतिशत या अधिक पॉजिटिव रेट वाले स्थानों में मॉल, सिनेमा, स्वीमिंग पूल, मेरिज पैलेस, होटल, रेस्टोरेंट, ऑडिटोरियम पर प्रतिबंध लगाने और अन्य जिलों में एक तिहाई क्षमता से संचालित करने के निर्देश

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेश मेें कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए कोविड-19 गाइडलाईन के तहत सख्ती से हर संभव उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि हमारा मुख्य उद्देश्य कोविड-19 संक्रमण और इससे संबंधित रिस्क को सीमित करना है, न कि आर्थिक गतिविधियों को धीमा करना।
इस संबंध में जारी निर्देश में कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से कहा गया है कि प्रदेश के ऐसे जिले जहां पॉजिटिव रेट 4 प्रतिशत या इससे अधिक है, वहां रात्रि 10 बजे से सुबह 6 बजे तक रात्रिकालीन क्लैम्प डाउन लगाया जाए और नॉन कमर्शियल गतिविधियों पर सख्ती से रोक लगाई जाए। इसके लिए जहां जरूरी हो वहां धारा 144 तथा महामारी अधिनियम के प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाए, जिन जिलों में पॉजिटिव रेट 4 प्रतिशत से ज्यादा है, वहां सभी स्कूलों और आंगनबाड़ी केन्द्रों, पुस्तकालयों, स्वीमिंग पूल और ऐसे सार्वजनिक स्थानों को बंद रखा जाए। ऐसे जिले जहां बीते 7 दिनों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 4ः से कम है,  वहां कलेक्टर अन्य जिलो के प्रावधान लागू कर सकेंगे।
सभी जिलों में जुलूसों, रैलियों, पब्लिक गैदरिंग, सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और खेल आयोजनों पर प्रतिबंध लगाने के निर्देश दिए गए हैं। जहां जरूरी हो वहां धारा 144 तथा महामारी अधिनियम के प्रावधानों के तहत कार्रवाई करने को कहा गया है।
       सभी कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से कहा गया है कि कोविड-19 संक्रमण के नियंत्रण के लिए निजी डॉक्टरों, निजी अस्पतालों, एनजीओ, मीडिया प्रतिनिधियों के साथ बैठकें आयोजित की जाएं। कोरोना संक्रमण नियंत्रण के उपायों का स्थानीय प्रचार माध्यमों में प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाए और नकारात्मक तथा असत्य खबरों पर सख्ती से रोक लगाई जाए। कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक, चेम्बर ऑफ कामर्स के प्रतिनिधियों, मॉल के मालिकों, थोक विक्रेताओं, जिम, सिनेमा और थिएटर के मालिकों, होटल-रेस्टोरेंट, स्वीमिंग पूल, ऑडिटोरियम, मेरिज पैलेस, इवेंट मैनेजमेंट समूहों के साथ बैठक करके यह सुनिश्चित करें कि इन स्थानों में क्षमता के केवल एक तिहाई लोगों को प्रवेश दिया जाए। ऐसे जिलों में जहां पॉजिटिव रेट 4 प्रतिशत से अधिक है, वहां इनकी गतिविधियों पर रोक लगाई जाए।
    कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को यह भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं कि प्रदेश के सभी एयरपोर्ट पर आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य की जाए। ऐसे व्यक्ति जिन्हें कोविड-19 के दोनो टीके लगाए जा चुके हैं वे यात्रा की तिथि के 72 घंटे की आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट प्रस्तुत करें। साथ ही एयरपोर्ट पर आने वाले सभी यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य रूप से की जाए। सभी रेल्वे स्टेशनों और राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की रेन्डम जांच के निर्देश दिए गए हैं।
    मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को यह निर्देश भी दिए हैं कि जहां आवश्यक हो, वहां कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए माइक्रो या मिनी कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं। जहां आवश्यक हो वहां संक्रमितों की पहचान के लिए ट्रेसिंग और ट्रेकिंग की जाए। होम आईसोलेशन वाले संक्रमितों के लिए सप्ताह में सातों दिन 24 घंटे कॉल सेंटर्स को सक्रिय किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में मितानिनों के माध्यम से संक्रमण की स्थिति पर नजर रखी जाए। उन्होंने जिला प्रशासन को हॉस्पिटल बेड, दवाईयों के स्टॉक, पीएसए प्लांट्स और ऑक्सीजन की उपलब्धता डेली रिपोर्टिंग के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने जिला प्रशासन को यह सुुनिश्चित करने के यह भी निर्देश दिए हैं कि कोरोना की पिछली दो लहर के दौरान सभी शासकीय और निजी अस्पतालों में बिस्तरों की उपलब्धता की जानकारी रियल टाईम में ऑनलाईन उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री ने एनजीओ और निजी संगठनों को कोरोना नियंत्रण के उपायों के लिए सहयोग और आवश्यक सामाग्रियों के दान हेतु प्रोत्साहित किया जाए।
    मुख्यमंत्री ने सार्वजनिक स्थानों, भीड़-भाड़ वाले बाजारों और दुकानों में संक्रमण से बचाव के लिए मास्क के उपयोग को सख्ती से लागू करने के निर्देश जिला प्रशासन को दिए हैं। ऐसे लोग जो मास्क नहीं लगाते हैं उनका पुलिस और नगर निगम के स्टाफ के माध्यम से सख्ती से चालान किया जाए। मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठकें आयोजित करने तथा शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों को जब तक बहुत जरूरी न हो हवाई यात्रा या रेल से यात्रा नहीं करने को कहा है।


क्यों ओमिक्रोन संस्करण इतनी तेजी से फैल रहा है, रिपोर्ट

क्यों ओमिक्रोन संस्करण इतनी तेजी से फैल रहा है, रिपोर्ट

04-Jan-2022

 भारत ओमिक्रॉन के साथ अन्य सभी मौजूदा रूपों को लेने के साथ तीसरी कोविड लहर के चरम के लिए तैयार है, वैज्ञानिक यह पता लगाने के लिए हाथ-पांव मार रहे हैं कि यह भारी-उत्परिवर्तित वायरस इतनी जल्दी कैसे फैलता है और लोगों को खतरनाक रूप से उच्च दर पर प्रभावित करता है, फिर भी फेफड़ों को बख्शता है कोविड -19 श्वसन रोग की चपेट में आने वाला प्रमुख अंग।

 

हांगकांग विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के अनुसार, ओमाइक्रोन संस्करण डेल्टा संस्करण की तुलना में मानव श्वसन पथ के ऊतकों के अंदर लगभग 70 गुना तेजी से गुणा करता है।

संक्रमण के 48 घंटे बाद डेल्टा की तुलना में ओमाइक्रोन भी ऊतक में उच्च स्तर तक पहुंच जाता है।

“निष्कर्ष इंगित करता है कि ओमाइक्रोन में उत्परिवर्तन ने ऊतक के अंदर प्रवेश या प्रतिकृति (या दोनों) की प्रक्रिया को तेज कर दिया है,” एनपीआर की रिपोर्ट।

हालांकि, यह पिछले वेरिएंट की तुलना में कम गंभीर है क्योंकि यह फेफड़ों में उतना नुकसान नहीं पहुंचाता है, जैसा कि कई अध्ययनों ने सुझाव दिया है।

हैम्स्टर्स और चूहों पर अमेरिकी और जापानी वैज्ञानिकों के एक संघ द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि ओमाइक्रोन से संक्रमित लोगों के फेफड़ों की क्षति कम थी, उनका वजन कम था और अन्य प्रकार के लोगों की तुलना में उनके मरने की संभावना कम थी।

स्पाइक प्रोटीन में 36 उत्परिवर्तन तक ओमिक्रॉन संस्करण, टीका प्रभावकारिता से बचने के लिए जाना जाता है।

मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल (एमजीएच), हार्वर्ड और एमआईटी के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में एक और हालिया अध्ययन ने उन लोगों के रक्त का परीक्षण किया, जिन्होंने ओमाइक्रोन संस्करण के समान दिखने वाले स्यूडोवायरस के खिलाफ मॉडर्न, जॉनसन एंड जॉनसन, और फाइजर/बायोएनटेक टीके प्राप्त किए।

इनमें ऐसे व्यक्ति शामिल थे जिन्हें हाल ही में टीका लगाया गया था या जिन्होंने हाल ही में बूस्टर खुराक ली थी, और उन्हें पहले SARS-CoV-2 संक्रमण भी था।

निष्कर्षों से पता चला है कि अधिकांश टीकाकरण वाले व्यक्तियों में ओमाइक्रोन का निष्प्रभावीकरण “पता नहीं” था।

“अध्ययन दर्शाता है कि एमआरएनए-1273 (मॉडर्ना), बीएनटी162बी2 (फाइजरबायोएनटेक) या एड26.सीओवी2.एस (जॉनसन एंड जॉनसन/जेनसेन) के साथ प्राथमिक टीकाकरण श्रृंखला के बाद ओमाइक्रोन वैक्सीन-प्रेरित प्रतिरक्षा से काफी हद तक बच जाता है और इन विट्रो में बढ़ी हुई संक्रामकता को प्रदर्शित करता है। बढ़ी हुई संप्रेषणीयता की संभावना, ”विल्फ्रेडो एफ। गार्सिया-बेलट्रान, पैथोलॉजी विभाग, बोस्टन में एमजीएच ने कहा।

गार्सिया-बेलट्रान और उनके सहयोगियों ने अपने अध्ययन में लिखा है, “आश्चर्यजनक रूप से, ओमाइक्रोन जंगली प्रकार (वायरस का मूल संस्करण) से 4 गुना अधिक संक्रामक था और डेल्टा की तुलना में 2 गुना अधिक संक्रामक था।”

डेटा से पता चलता है कि ओमाइक्रोन डेल्टा या मूल संस्करण की तुलना में कम खुराक पर लोगों को संक्रमित करने में सक्षम हो सकता है।

फेफड़े के ऊतकों के अंदर, ओमाइक्रोन को डेल्टा या वायरस के मूल संस्करण की तुलना में कोशिकाओं को संक्रमित करने में कम कुशल बताया गया है।

लिस्बन विश्वविद्यालय के एक इम्यूनोलॉजिस्ट मार्क वेल्डोएन ने ट्विटर पर पोस्ट किया, “संक्रमण फेफड़ों की तुलना में ब्रोन्किया पर अधिक केंद्रित है और बहुत तेज है।”

वैज्ञानिकों को अब लोगों के श्वसन तंत्र के अंदर वायरल लोड को मापने की जरूरत है।

डेल्टा के साथ, लोगों के श्वसन पथ में मूल रूपों की तुलना में औसतन 1,000 गुना अधिक वायरस कण होते हैं।

“मैं देखना चाहता हूं कि ओमाइक्रोन के लिए वायरल लोड कैसा दिखता है। वास्तव में संक्रमित लोगों के नमूने – यही स्वर्ण मानक है। यहीं पर कार्रवाई होती है, ”गार्सिया-बेलट्रान ने कहा।

26 नवंबर, 2021 को, WHO ने वेरिएंट B.1.1.1.529 को चिंता का एक प्रकार नामित किया, जिसका नाम Omicron रखा गया।

दक्षिण अफ्रीका और दुनिया भर के शोधकर्ता ओमाइक्रोन के कई पहलुओं को बेहतर ढंग से समझने के लिए अध्ययन कर रहे हैं।

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, “कोविड -19 के सभी प्रकार, डेल्टा संस्करण सहित, जो दुनिया भर में प्रमुख है, विशेष रूप से सबसे कमजोर लोगों के लिए गंभीर बीमारी या मृत्यु का कारण बन सकता है, और इस प्रकार रोकथाम हमेशा महत्वपूर्ण है।”

कोविड-19 वायरस के प्रसार को कम करने के लिए व्यक्ति सबसे प्रभावी कदम उठा सकते हैं, दूसरों से कम से कम 1 मीटर की शारीरिक दूरी बनाए रखना, अच्छी तरह से फिट होने वाला मास्क पहनना, वेंटिलेशन में सुधार के लिए खिड़कियां खोलना, खराब हवादार या भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचना है। , हाथों को साफ रखें, खांसें या छींकें, मुड़ी हुई कोहनी या टिश्यू में रखें और जब उनकी बारी हो तो टीका लगवाएं।

 

द फॉरगॉटेन एजुकेशनिस्टः सावित्री बाई फुले और फातिमा शेख

द फॉरगॉटेन एजुकेशनिस्टः सावित्री बाई फुले और फातिमा शेख

03-Jan-2022

भोपाल: छत्तीसगढ़ के पूर्व डीजीपी श्री एम. डब्ल्यू अंसारी साहब ने आज 3 जनवरी को सावित्री बाई फुले की जन्मदिन के अवसर पर सावित्री बाई फुले और शेख फातिमा (9 जनवरी, 1827) को श्रद्धांजलि दी.

उन्होंने कहा कि फातिमा शेख एक भारतीय महिला शिक्षाविद् थीं. जो समाज सुधारक ज्योति बा फुले और सावित्री बा फुले के साथी थीं। फातिमा शेख मियां उस्मान शेख की बहन थीं जिनके घर पर ज्योति बाई और सौत्री बाई फुले का ने रिहाइश इख्तियार कीं (रहीं)। उन्होंने विस्तार से बताते हुए कहा कि, “आज के सामाजिक-राजनीतिक माहौल में, किसी से यह पूछना हास्यास्पद होगा कि क्या वे महिला शिक्षा का समर्थन करते हैं, क्योंकि  यह न केवल हमारे संविधान में निहित है, बल्कि मुख्यधारा के सार्व जनिक प्रवचन में भी समर्थित है। जाति या धर्म की परवाह किए बिना लड़कियों की शिक्षा के लिए समर्पित कई सरकारी कार्यक्रम और योजनाएं हैं। हालाँकि, 175 साल से भी अधिक पहले, यह मुख्यधारा के सामाजिक-राजनीतिक प्रवचन का हिस्सा भी नहीं था, और वास्तव में , जिन लोगों ने इस
पर जोर दिया, उन्हें गंभीर शत्रुता और सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ा।

वाजेह रहे कि भारत में शिक्षा के पीछे के इतिहास का सरसरी ज्ञान रखने वालों ने सावित्री बाई फुले के बारे में सुना होगा, जिन्होंने अस्पृश्यता को चुनौती देने और लड़कियों को शिक्षित करने के लिए जाति और लिंग के दमनकारी वर्गीकरण के खिलाफ बहादुरी से  लड़ाई लड़ीं, और फातिमा शेख वह महिला थीं जिन्होंने अन्य महत्वपूर्ण सामाजिक हस्तक्षेपों  का सामना किया। और 1847 के दशक मे ं “बेटी पढ़ाओ“ आंदोलन शुरू किया गया। सभी नियम तोड़ते हुए फातिमा शेख और सावित्री बाई ने एक स्कूल की स्थापना की और यहां तक कि पेशावर शिक्षक बनने के लिए एक प्रशिक्षण संस्थान में भी गईं। उनके विद्यालय का पाठ्यक्रम ब्राह्मण शिक्षकों द्वारा उनके गृह विद्यालयों में पढ़ाए जाने वाले पाठ्यक्रम से भिन्न था। इसमें वेद और शास्त्र जैसे ब्राह्मणवादी ग्रंथों के बजाय गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान शामिल थे। अधिकांश पुरुष शिक्षा तक सार्व भौमिक पहुंचने से डरते थे, जो उस वक्त तक केवल उच्च जाति के पुरुषों के लिए एक सम्मान था। उच्च जातियों ने इन स्कूलों के खुलने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की और यहां तक कि हिंसक रूप से भी इसकी निंदा की। उन्होंने रास्ते में  फातिमा और सावित्री बाई पर पथराव किया और गोबर भी फेंके। कहा जाता है कि फातिमा और सावित्री बाई स्कूल जाते समय एक अतिरिक्त साड़ी ले जाती थीं क्योंकि लोगों ने गाली-गलौज के अलावा उन पर पत्थर और गोबर फेंकते थे। लेकिन दोनों महिलाओं ने इन सभी अत्याचारों का डटकर सामना किया। फातिमा ने 1856 तक स्कूल में पढ़ाया और भारत में उन्हें पहली मुस्लिम महिला शिक्षक के रूप में जानी जाती हैं। लड़कियों को शिक्षित बनाने के लिए उन्हें कई तरह के दुव्र्यवहार और बद सुलूकी का शिकार होना पड़ा।

इन महान महिलाओं ने शिक्षित महिलाओं के लिए हर तरह के अत्याचार सहे, लेकिन आज उन्हें कम ही लोग जानते हैं। हम सभी लोगों से अपील करते हैं कि जिस तरह सीवी रमन की याद में जवाहरलाल नेहरू की याद में “बाल दिवस“ और “राष्ट्रीय विज्ञान दिवस“ मनाया जाता है।


जमीन हड़पने को लेकर चीन का नाम लेने से क्यों कतरा रहे हैं मोदी: कांग्रेस

जमीन हड़पने को लेकर चीन का नाम लेने से क्यों कतरा रहे हैं मोदी: कांग्रेस

31-Dec-2021

चीनी सरकार द्वारा अरुणाचल प्रदेश के 15 स्थानों का नाम बदलने के बाद, कांग्रेस ने शुक्रवार को मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को ‘निष्क्रियता और भारतीय क्षेत्र की भूमि हड़पने के लिए चीन का नाम लेने से कतराने’ के लिए नारा दिया।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘चीन अरुणाचल प्रदेश में 15 जगहों का ‘नाम बदल रहा है। सैटेलाइट इमेज ने हाल ही में दिखाया था कि चीन ने हमारे क्षेत्र में दो गांव भी बनाए हैं। पीएम मोदी और उनकी बीजिंग जनता पार्टी के नेता चीन का नाम लेने से भी कतराते हैं! वे बस इतना करते हैं कि चीनियों द्वारा इस जमीन पर कब्जा करने से इनकार करते हैं। ”

यह प्रतिक्रिया चीन द्वारा अपने नए सीमा कानून को लागू करने से पहले आती है, चीनी सरकार ने अपने नक्शे में अरुणाचल प्रदेश के 15 स्थानों का नाम बदल दिया था।

चीन के नागरिक मामलों के मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि उनके पास अरुणाचल प्रदेश में 15 स्थानों के लिए ‘मानकीकृत’ नाम हैं, जिनका उपयोग चीनी मानचित्रों पर किया जाएगा।

यह दूसरी बार है जब चीन ने अरुणाचल प्रदेश के कुछ स्थानों का नाम बदला है। 2017 में चीन ने छह जगहों के नाम बदल दिए थे।

23 अक्टूबर को, चीन के शीर्ष विधायी निकाय, नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति ने “देश के भूमि सीमा क्षेत्रों के संरक्षण और शोषण” का हवाला देते हुए एक नया कानून पारित किया। समिति ने कहा था कि नया कानून एक जनवरी से लागू होगा।

कानून विशेष रूप से भारत के साथ सीमा के लिए नहीं है। चीन भारत सहित 14 देशों के साथ अपनी 22,457 किलोमीटर भूमि सीमा साझा करता है, जो मंगोलिया और रूस के साथ सीमाओं के बाद तीसरी सबसे लंबी सीमा है।

नए सीमा कानून में 62 अनुच्छेद और सात अध्याय हैं। कानून के अनुसार, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना सीमा को स्पष्ट रूप से चिह्नित करने के लिए अपनी सभी भूमि सीमाओं पर सीमा चिह्न स्थापित करेगा।

संबंधित पड़ोसी राज्य के साथ समझौते में मार्कर का प्रकार तय किया जाना है।

कांग्रेस चीन के साथ विवादों से निपटने के लिए सरकार की आलोचना करती रही है।


संत कालीचरण महाराज गिरफ्तार...(video)

संत कालीचरण महाराज गिरफ्तार...(video)

30-Dec-2021

संत कालीचरण महाराज गिरफ्तार...

मनोज शुक्ला 

रायपुर : राजधानी रायपुर में आयोजित धर्म संसद में ‘अपमानजनक' टिप्पणी करने और उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे की तारीफ करने के आरोप में कालीचरण महाराज को गिरफ्तार कर लिया गया है. मध्यप्रदेश के खजुराहो से कालीचरण की गिरफ्तारी हुई है.रायपुर एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने कालीचरण की गिरफ्तारी की पुष्टि की है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कालीचरण ने खजुराहो में एक गेस्ट हाउस में बुकिंग कराई थी लेकिन वो वहां रूका नहीं था, उस गेस्ट हाउस से उसने चेक आउट भी नहीं किया ताकि पुलिस को चकमा दे सके. कालीचरण खजुराहो से 25 किलोमीटर दूर बाघेश्वरी धाम के करीब एक शख्स के घर पर रुका था. पुलिस से बचने के लिये उसके तमाम साथियों ने भी फोन बंद कर दिये थे. पूरे दिन पुलिस ने सुराग तलाशे और सुबह तड़के 8-10 पुलिसकर्मियों की टीम उसे गिरफ्तार कर रायपुर रवाना हो गई. आज शाम तक उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा.

देखें विडियो - 

कालीचरण का संबोधन- 
कालीचरण महाराज ने अपने संबोधन में कहा था कि इस्लाम का उद्देश्य राजनीति के माध्यम से राष्ट्र पर कब्जा करना है. उसने यह भी घोषणा की 'मोहनदास करमचंद गांधी ने देश को नष्ट कर दिया... नाथूराम गोडसे को सलाम, जिन्होंने उन्हें मार डाला.


ये कैसा धर्म संसद : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का अपमान और हत्यारें गोडसे का सम्मान ?(video)

ये कैसा धर्म संसद : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का अपमान और हत्यारें गोडसे का सम्मान ?(video)

27-Dec-2021

ये कैसा धर्म संसद : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का अपमान और हत्यारें गोडसे का सम्मान ?

खुलासा पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क 

राजधानी रायपुर में धर्म संकट को लेकर आयोजित धर्म संसद में अचानक एक संत हिंदुत्व की चर्चा को छोड़ महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे की चर्चा करने लगे, महाराष्ट्र से आए संत कालीचरण ने मोहनदास करमचंद गांधी पर विवादित बयान दिया  कालीचरण ने महात्मा गांधी के लिए अपशब्द का प्रयोग करते हुए गोडसे को प्रणाम किया। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी की वजह से देश का विभाजन हुआ, गोडसे को नमस्कार है कि उन्होंने महात्मा गांधी को गोली मार दी. उनको मार डाला।

वहीं उन्होंने कहा कि इस्लाम का मकसद राजनीति के जरिए राष्ट्र पर कब्जा करना है। 1947 में हमने अपनी आंखों से देखा कि कैसे पाकिस्तान और बांग्लादेश पर इस्लामाबाद ने कब्जा किया। मोहनदास करमचंद गांधी ने उस वक्त देश का सत्यानाश किया।

देखें विडियो- 

इस बयान के बाद धर्म संसद में हंगामा मच गया। कुछ लोगों ने इसका भारी विरोध भी किया। अमन और शांति का पदेश के राजधानी रायपुर में जहां सभी जाती और समुदाय के लोग एक साथ सहजता से रहते है लेकिन बहर से आये कुछ लोग धर्म के नाम पर यहां नफरत का जहर घोल रहे है जो कभी कामयाब नहीं होगा इसमें बहुंत हद तक आयोजक भी जिम्मेदार है जिन्होंने इस तरह की आयोजन सभा किया |