IPL पर भड़के वेस्टइंडीज के पूर्व दिग्गज कार्ल हूपर

IPL पर भड़के वेस्टइंडीज के पूर्व दिग्गज कार्ल हूपर

06-Oct-2018

नई दिल्ली। भारत-वेस्टइंडीज के बीच पहले टेस्ट का आज दूसरा दिन है इस मुकाबले में भारतीय बल्लेबाजों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 649 रनों पर अपनी पारी घोषित की, वहीं, इस मुकाबले में तीन भारतीय बल्लेबाजों ने शतक जड़ा। कप्तान कोहली, पृथ्वी शॉ और जडेजा ने शानदार शतक जड़ा वहीं वेस्टइंडीज के गेंदबाज भारत के सामने बेबस नजर आए। टीम के इस प्रदर्शऩ को देख वेस्टइंडीज के पूर्व आलराउंडर का गुस्सा आईपीएल पर फूटा और कहा कि आईपीएल में खेलने की इच्छा ने टीम का कबाड़ा कर रखा है। 

हूपर का मानना है कि आइपीएल ने लंबी अवधि के प्रारूप में टीम की परेशानियां बढ़ाई हैं। वेस्टइंडीज की तरफ से 102 टेस्ट मैच खेलने वाले हूपर दो टेस्ट मैचों की सीरीज में कमेंट्री करने के लिए 16 साल बाद भारत आए हैं। उन्होंने कहा कि हमें इससे (वेस्टइंडीज क्रिकेट पर आइपीएल के प्रभाव) अवगत होना चाहिए।हूपर ने कहा, 'आईपीएल केवल छह सप्ताह के लिए होता है, लेकिन हमारी स्थिति यह है कि सुनील नारायण जैसे गेंदबाज 2013 के बाद से टेस्ट मैच नहीं खेले।

उन्होंने अपने अंतिम टेस्ट मैच में छह विकेट निकाले थे, वह फिर से हमारे लिए नहीं खेले। यही बात गेल और पोलार्ड पर भी लागू होती है। पोलार्ड अगर 26-27 की उम्र में टेस्ट क्रिकेट खेलते, तो हो सकता था कि वह बहुत अच्छे टेस्ट क्रिकेटर बन जाते। गौरतलब हो कि भारत के विराट स्कोर का पीछा करने जब वेस्टइंडीज के बल्लेबाज मैदान में पहुंचे तो यहां भी उनकी शुरुआत बेहद खऱाब दिखा और खबर लिखे जाने तक वेस्टइंडीज का स्कोर 21 रन पर 2 विकेट था। 


विजय हजारे ट्रॉफी : पंजाब की जीत में युवराज सिंह और गुरकीरत मान ने दिखाई चमक

विजय हजारे ट्रॉफी : पंजाब की जीत में युवराज सिंह और गुरकीरत मान ने दिखाई चमक

03-Oct-2018

बेंगलुरु : विजय हजारे ट्रॉफी के अंतर्गत खेले गए मुकाबले में पंजाब ने रेलवे को डकवर्थ लुईस नियम के तहत 58 रन से हरा दिया. पंजाब के लिए इस मैच में युवराज सिंह और गुरकीरत सिंह मान ने शानदार प्रदर्शन किया. जहां गुरकीरत सिंह मान ने 101 रन बनाए, वहीं युवराज सिंह ने 96 रन का योगदान टीम को दिया. एक अन्‍य मैच में अखिल हर्वाडकर के शानदार 108 रन की मदद से मुंबई ने गोवा को सात विकेट से हराया. विदर्भ ने महाराष्ट्र को तीन विकेट से पराजित किया.

ग्रुप-ए के मैच में पंजाब ने रेलवे को डकवर्थ लुईस नियम के तहत 58 रन से पराजित किया. पंजाब ने गुरकीरत सिंह मान के 101 और युवराज सिंह के 96 रन की बदौलत छह विकेट पर 284 रन का विशाल स्कोर बनाया. इसके जवाब में रेलवे की टीम 44.3 ओवर में 210 रन ही बना सकी. रेलवे के लिए कप्तान सौरभ वकास्कर ने 104 रन की पारी खेली, लेकिन वह अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके. पंजाब के लिए मयंक मार्कंडे ने तीन, सिद्धार्थ कौल और अक्षदीप सिंह ने दो-दो जबकि कप्तान मंदीप सिंह, करण कालिया और शरद लुम्बा को एक-एक विकेट मिले.

दूसरे मैच में मुंबई ने पहले गेंदबाजी करते हुए गोवा को 49.5 ओवर में 186 रन पर रोक दिया और फिर 35.3 ओवर में तीन विकेट पर 189 रन बनाकर मैच जीत लिया. अखिल हर्वाडकर ने 112 गेंदों पर 11 चौके और चार छक्के लगाए. उनके अलावा जय गोकुल बिस्टा ने 32 और सिद्धेश लाड ने 26 रन बनाए. गोवा के लिए कृष्णा दास ने दो और अमूल्य पांडरेकर ने एक विकेट लिए. इससे पहले, गोवा की टीम 49.5 ओवर में 186 रन ही बना सकी. गोवा के लिए सुयास प्रभुदेसाई ने 52, अमित वर्मा ने 49 और कीनन वाज ने 29 रन बनाए. मुंबई की तरफ से धवल कुलकर्णी ने तीन और रॉयटस्टन दियास, शम्स मुलानी और शिवम दुबे ने दो-दो विकेट चटकाए. इसी ग्रुप के दूसरे मैच में विदर्भ ने महाराष्ट्र को तीन विकेट से पराजित किया. महाराष्ट्र ने पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट पर 205 रन का स्कोर बनाया जिसे विदर्भ ने 49.2 ओवर में सात विकेट खोकर हासिल कर लिया. विदर्भ के लिए अक्षय वाल्डकर ने नाबाद 82 रन बनाए. महाराष्ट्र की ओर से समद फलाह ने दो बाकी गेंदबाजों ने एक-एक विकेट लिए.

 


एशिया कप फाइनल : भारत-बांग्लादेश के बीच आज टक्कर

एशिया कप फाइनल : भारत-बांग्लादेश के बीच आज टक्कर

28-Sep-2018

दुबई : अब तक टूर्नामेंट में अजेय रही भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार को यहां होनेवाले एशिया कप फाइनल में कुछ प्रमुख खिलाड़ियों के चोटिल होने से कमजोर पड़ी बांग्लादेश की टीम को कड़ा सबक सिखा कर महाद्वीपीय स्तर पर अपनी बादशाहत कायम रखने की कोशिश करेगी. 

 
बांग्लादेश को वैसे किसी भी स्तर पर कम करके नहीं आंका जा सकता है, क्योंकि बुधवार को उसने कुछ प्रमुख खिलाड़ियों की अनुपस्थिति के बावजूद पाकिस्तानी टीम को हरा कर भारत और पाकिस्तान के बीच खिताबी मुकाबले की संभावना समाप्त कर दी थी. कागजों पर भारत अब भी रिकॉर्ड सातवीं बार खिताब जीतने का प्रबल दावेदार है, जबकि बांग्लादेश को उम्मीद होगी कि खिताबी मुकाबले में तीसरी बार भाग्य उसका साथ देगा. 


राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार न मिलने से नाराज स्वर्ण पदक विजेता बजरंग पूनिया ने दी अदालती कार्रवाई की धमकी

राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार न मिलने से नाराज स्वर्ण पदक विजेता बजरंग पूनिया ने दी अदालती कार्रवाई की धमकी

21-Sep-2018

दिल्ली : राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार न मिलने से नाराज 18वें एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता स्टार पहलवान बजरंग पूनिया ने सरकार के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी है। बजरंग ने इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों और जकार्ता एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल किये थे। इस प्रदर्शन के आधार पर उन्हें भारतीय कुश्ती महासंघ द्वारा खेल रत्न के लिए नामांकित किया गया था। लेकिन सरकार ने यह पुरस्कार संयुक्त रूप से भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली और विश्व चैम्पियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू (48 किग्रा) को देने का फैसला किया है। बजरंग इस फैसले से खफा हैं जिन्होंने 2013 विश्व चैम्पियनशिप में भी कांस्य पदक जीता था। अब यह पहलवान कल इस मामले पर बात के लिए कल खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ से मिलेगा। बजरंग ने यहां पत्रकारों से कहा, 'मैं सचमुच निराश और हैरान हूं। मैं कल खेल मंत्री से मिलूंगा। मेरे मेंटर योगी भाई (योगेश्वर दत्त) ने उनसे बात की है और मिलने के लिये समय लिया। मैं सिर्फ यह जानना चाहता हूं कि मेरी अनदेखी क्यों की गयी। मैं इसका कारण जानना चाहता हूं।' 

उन्होंने कहा, 'अब यह उनके हाथों में है। मैं यह जानना चाहता हूं कि मैं इसका हकदार हूं या नहीं। अगर मैं हकदार हूं तो तभी मुझे यह पुरस्कार दो।' यह पूछने पर कि अगर वह खेल मंत्री को अपनी बात से सहमत नहीं कर सके तो क्या वह अदालत का दरवाजा खटखटायेंगे, इस पर उन्होंने कहा, 'यह मेरे लिये अंतिम विकल्प होगा। मुझे लगता है कि मैं इस साल इस पुरस्कार का हकदार था, इसलिये ही मैंने इसके लिये नामांकन भेजा था। किसी को भी पुरस्कार के लिये भीख मांगना अच्छा नहीं लगता लेकिन किसी भी खिलाड़ी के लिये यह बड़ा सम्मान है और पहलवान का करियर काफी अनिश्वित होता है। किसी भी समय लगी चोट करियर खत्म कर सकती है।'

उन्हें लगता है कि पिछले कुछ वर्षों में अपने निरंतर अच्छे प्रदर्शन को देखते हुए वह इस सम्मान के हकदार थे। उन्होंने कहा, 'मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी कि मुझे इस साल यह पुरस्कार नहीं मिलेगा। पिछले चार साल के मेरे प्रदर्शन को देखिये। पहले कोई अंक प्रणाली नहीं थी लेकिन अब अंक प्रणाली आ गयी है तो मुझे लगता है कि अब संख्यायें मेरे साथ हैं।' बजरंग ने कहा कि खेल रत्न पुरस्कार की अनदेखी करने से उनकी विश्व चैम्पियनशिप की तैयारियों पर बड़ा असर पड़ा है जिसका आयोजन हंगरी के बुडापेस्ट में 20 से 28 अक्तूबर तक किया जायेगा। 

 


INDvsPAK मैच पर अब तक लगा 500 करोड़ का सट्टा

INDvsPAK मैच पर अब तक लगा 500 करोड़ का सट्टा

19-Sep-2018

नई दिल्ली: आज दुबई में भारत और पाकिस्तान के बीच एशिया कप में महामुकाबला खेला जाना है जहां दोनों टीमें तैयार हैं. आज के मैच को लेकर भारत, पाकिस्तान समेत दुनिया भर के फैन्स में जबरदस्त उत्साह है. अटकलों का बाजार भी गर्म है, कोई कह रहा है कि आज भारत चैंम्पियन्स टॉफी में हार का बदला लेगा तो कोई पाकिस्तान की जीत का दावा कर रहा है. सट्टा बाजार भी मैच पर नजरें गड़ाए बैठा है.


आज के मैच पर अरबों रुपये का फेरबदल होने वाला है. सट्टे के शौकीन विनिंग टीम से लेकर टॉस, सेंचुरी, हॉफ सेंचुरी, चौके-छक्के और एक-एक विकेट पर पैसा लग रहे हैं. विराट कोहली के टीम में नहीं होने के बावजदू टीम इंडिया सट्टेबाजों की हॉट फेवरेट बनी हुई है. भारत के जीतने की उम्मीद 80 फीसदी है. सटोरियों ने सबसे ज्यादा पैसा भारत की जीत पर लगाया है.

भारत और पाकिस्तान के बीच आज होने वाले महामुकाबले पर अबतक 500 करोड़ रुपये लग चुके हैं. सट्टा बाजार में भारत का भाव 70 पैसे है. भारत जीता तो सट्टा लगाने वाले को 1 रुपये 70 पैसे मिलेंगे.


वीरेंद्र सहवाग ने DDCA से दिया इस्तीफा

वीरेंद्र सहवाग ने DDCA से दिया इस्तीफा

17-Sep-2018

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग अपने बेबाक अंदाज के लिए हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। वहीं एक बार फिर उनका ऐसा ही रवैया देखने को मिला, दरअसल सहवाग ने सोमवार को दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के सर्वश्रेष्ठ हितों को ध्यान में रखते हुए संस्था की क्रिकेट समिति से इस्तीफा दे दिया। वहीं सहवाग के साथ-साथ पूर्व भारतीय खिलाड़ी आकाश चोपड़ा और राहुल सांघवी ने भी अपने-अपने पद छोड़ते हुए अपना इस्तीफा सौंप दिया है। हालांकि सहवाग के इस्तीफे के कारणों का अभी पूरी तरह से खुलासा नहीं हुआ है। वहीं डीडीसीए के अनुसार इन तीनों का इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है। 

इस्तीफे के बाद जब पत्रकारों ने सहवाग से पूछा कि क्या प्रभाकर की नियुक्त नहीं होने के चलते उन्होंने इस्तीफा दिया तो पूर्व सलामी बल्लेबाज ने कहा, 'हम सब एक साथ आए और अपना समय और प्रयास दिया जिससे कि क्रिकेट समिति के रूप में अपनी भूमिका के दायरे में दिल्ली क्रिकेट के सुधार में मदद और योगदान दे सकें। सूत्रों की मानें तो गौतम गंभीर प्रभाकर की नियुक्ति के खिलाफ थे क्योंकि उनका नाम वर्ष 2000 के मैच फिक्सिंग प्रकरण में आया था। बता दें कि दिल्ली की टीम को मौजूदा सीजन का अपना पहला मैच विजय हज़ारे ट्रॉफी में सौराष्ट्र के खिलाफ खेलना है। ये मुकाबला 20 सितंबर को खेला जाएगा।


धोनी ने कहा - विराट कोहली के लिए मुझे कप्तानी छोड़नी पड़ी

धोनी ने कहा - विराट कोहली के लिए मुझे कप्तानी छोड़नी पड़ी

14-Sep-2018

दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 2017 के शुरू में ही कप्तान के पद से इस्तीफा दे दिया था। 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद धोनी वन-डे और टी-20 टीम की कमान संभाल रहे थे, लेकिन 2017 में अचानक उन्होंने इस जिम्मेदारी को भी छोड़ दिया। जब महेंद्र सिंह धोनी ने कप्तानी छोड़ने का फैसला सुनाया तो हर किसी के मन में यही सवाल था कि आखिर वह ऐसा क्यों कर रहे हैं। क्या कोई दबाव है, जिसने धोनी को कप्तानी छोड़ने पर मजबूर किया है।

हालांकि, उस वक्त धोनी ने इन सवालों पर यह कहते हुए चु्प्पी साध ली थी कि यह उनका निजी फैसला है, लेकिन अब तकरीबन दो साल बाद उन्होंने इस राज से पर्दा उठा दिया है।

रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल द्वारा आयोजित एक मोटिवेशनल कार्यक्रम के दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने बताया कि आखिरी उन्होंने कप्तानी क्यों और किसके लिए छोड़ी थी। महेंद्र सिंह धोनी ने बताया कि उन्होंने कप्तानी विराट कोहली के लिए छोड़ी थी। उन्होंने कहा, ‘मैंने कप्तानी इसलिए छोड़ी थी क्योंकि आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के लिए मैं नए कप्तान को तैयार करना चाहता था।’ बता दें कि आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के लिए तैयार होने वाले यह नए कप्तान विराट कोहली थे। धोनी ने कहा कि, ‘2019 के वर्ल्ड कप के लिए नए कप्तान को तैयार करने के लिए वक्त की जरूरत थी, ताकि वह अपनी टीम तैयार कर सके और इसीलिए मैंने कप्तानी छोड़ने का फैसला किया। धोनी ने इस दौरान यह भी कहा कि उस वक्त कप्तानी छोड़ने का फैसला सही था और सही समय पर लिया गया था।


युवराज सिंह ने खरीदी बीएमडब्ल्यू की दमदार मोटरसाइकिल

युवराज सिंह ने खरीदी बीएमडब्ल्यू की दमदार मोटरसाइकिल

12-Sep-2018

दिल्ली : टीम इंडिया के बल्लेबाज युवराज सिंह के गैराज में एक नई सुपरबाइक शामिल हुई है। इस दमदार मोटरसाइकिल का नाम है- बीएमडब्ल्यू जी310आर (BMW G310R)। मंगलवार (11 सितंबर) को वह इसे लेने कंपनी के शोरूम पहुंचे। बाइक की डिलीवरी के बाद जर्मन मूल की ऑटो कंपनी ने युवी और इस सुपर बाइक के फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर किए। युवी इनमें बाइक का जायजा लेते और शोरूम में थोड़ी सी मस्ती करते नजर आ रहे थे। शोरूम अधिकारियों ने युवी को उस दौरान बाइक की चाभी थमाई, जिससे पहले उन्होंने शोरूम में केक काटा था। अधिकारियों ने इस दौरान उन्हें नई मोटरबाइक के लिए शुभकामनाएं दीं। युवराज ने जाते-जाते शोरूम में लगे बोर्ड पर फीबैक पर लिखा।

Image result for yuvraj bought bmw bike

बाइक के फीचर्स: बीएमडब्ल्यू जी310आर कुछ हफ्ते पहले ही लॉन्च हुई थी। 313 सीसी के सिंगल सिलेंडर वाली इस बाइक में लिक्विड कूल्ड इंजन दिया गया है, जो कि 34 बीएचपी और 28 एनएम पर 7500 आरपीएम का टॉर्क पैदा करता है। मोटरसाइकिल की टॉप स्पीड 143 केएमपीएच है। डुअल चैनल एंटी ब्रेकिंग सिस्टम (एबीएस) भी दिया गया है। हेड लैंप में हैलोजन है, जबकि की टैकोमीटर पूरी तरह से डिजिटल है। बाइक में छह गेयर दिए गए हैं। बाइक की कीमत 2.99 लाख रुपए (दिल्ली में एक्स-शोरूम दाम) है। 36 वर्षीय भारतीय क्रिकेटर कार्स के काफी शौकीन हैं। उनके कलेक्शन में ऑडी क्यू 5, बेंटले कॉन्टिनेंटल, बीएमडब्ल्यू एम3 कनवर्टिबल, पोर्श 911, बीएमडब्ल्यू एम5 और मर्सिडीज बेंज एस क्लास हैं।


इरफान पठान पर चयन मामलों में हस्तक्षेप का आरोप, जम्मू-कश्मीर टीम में मचा बवाल!

इरफान पठान पर चयन मामलों में हस्तक्षेप का आरोप, जम्मू-कश्मीर टीम में मचा बवाल!

10-Sep-2018

दिल्ली 

जम्मू कश्मीर क्रिकेट महासंघ के चयन समिति के चार सदस्यों में से एक ध्रुव महाजन ने भारतीय टीम के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी इरफान पठान पर चयन मामलों में हस्तक्षेप का आरोप लगते हुए इस्तीफा दे दिया। इरफान को हाल ही में जेकेसीए ने 2018-19 के सत्र के लिए राज्य टीम के साथ खिलाड़ी और मेंटर के तौर पर जोड़ा है।

रणजी ट्राफी में 14 वर्षों के दौरान 48 मैचों में राज्य का प्रतिनिधित्व कर फरवरी 2015 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास लेने वाले महाजन ने पीटीआई से कहा, ‘‘मैंने अपना इस्तीफा सौंप दिया है। पठान टीम चयन प्रक्रिया में बहुत ज्यादा दखल दे रहे है जो संविधान का उल्लंघन है।’’ महाजन ने कहा कि उन्होंने जेकेसीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आशिक बुखारी, बीसीसीआई और जेकेसीए के मुख्य चयनकर्ता परवेज कैसर को अपना इस्तीफा भेजा है।’’

उन्होंने कहा,‘‘मैं अपने अधिकार क्षेत्र में किसी आने नहीं दूंगा। मेरी जिम्मेदारी खिलाड़ियों का चयन करना है और हम चयन प्रक्रिया के लिए जवाबदेह हैं। चयन समिति में चार सदस्य होते हैं जिसमें से दो जम्मू क्षेत्र और दो कश्मीर क्षेत्र का होते हैं।’’ उन्होंने कहा,‘‘टीम चयन का काम चयन समिति का है और खिलाड़ी एवं मेंटर का काम टीम के लिए खेलना और मेंटर की भूमिका निभाना है। उन्होंने टीम से जुड़ने के बाद अभी तक एक भी मैच नहीं खेला है।’’

साभार- ‘इंडिया टीवी डॉट कॉम’


इंग्लैड में सीरीज हारने पर टीम इंडिया पर भड़के कपिल देव

इंग्लैड में सीरीज हारने पर टीम इंडिया पर भड़के कपिल देव

06-Sep-2018

एजेंसियों से 

नई दिल्ली। भारत-इंग्लैंड के बीच खेली जा रही 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत 3-1 से पीछे होने के साथ ही यह सीरीज भी गंवा बैठा है। विराट सेना के इस प्रदर्शन पर तमाम खिलाड़ी और दिग्गज इस प्रदर्शन की आलोचना कर रहे हैं। वहीं इसी बीच पूर्व भारतीय कप्तान और दिग्गज ऑलराउंडर कपिल देव का मानना है कि भारत और इंग्लैंड के बीच जारी टेस्ट सीरीज मेहमान टीम के लिए मौके चूकने की कहानी है। कपिल देव ने कहा कि भारत के पास कई मौके थे लेकिन वो अपने मौके का फायदा नहीं उठा पाई। 

कपिल देव ने कहा कि साउथेम्पटन टेस्ट में एक बार भारतीय टीम के पास इंग्लैंड को पछाड़ने का मौका था, जब उसके 6 विकेट 86 रन तक गिर गए थे लेकिन मेजबानों ने इस स्कोर तक 246 तक पहुंचा दिया। इससे पता चलता है कि भारतीय टीम साउथम्पटन में मौके भुनाने में नाकाम रही। उन्होंने साथ ही कहा कि भारतीय टीम काफी हद तक कैप्टन विराट कोहली पर निर्भर करती है और यह दूसरा कारण है कि एक टीम के तौर पर उसके खिलाड़ी प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं। कपिल ने कहा, 'यह सही नहीं है कि आप केवल कोहली पर इतना ज्यादा निर्भर करने लगें। एक टीम के तौर पर भारत प्रदर्शन नहीं कर सका। सिर्फ साउथम्पटन में ही नहीं, बल्कि पहले टेस्ट में भी टीम इंडिया जीत दर्ज कर सकती थी लेकिन मौके चूक गए। 

कपिल ने कहा, 'मैं इसमें नहीं पड़ना चाहता कि टीम में किसे रखा गया या किसे छोड़ा गया लेकिन खुश हूं कि पूरी सीरीज में भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण सफल रहा।' उन्होंने युवा पेसर जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और उमेश यादव को गेंदबाजी में अपनी पसंद बताया। बता दें कि भारत और इंग्लैंड के बीच इस सीरीज का आखिरी मुकाबला 7 सितंबर से खेला जाएगा। 


ड्रेसिंग रूम में बैठ कर बातें बनाने से टीम नहीं बनती बेस्‍ट, रवि शास्त्री पर सहवाग का निशाना

ड्रेसिंग रूम में बैठ कर बातें बनाने से टीम नहीं बनती बेस्‍ट, रवि शास्त्री पर सहवाग का निशाना

04-Sep-2018

नई दिल्ली : इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय खिलाड़ियों के खराब प्रदर्शन से पूर्व खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग निराश हैं। पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने इंडिया टीवी से बात करते हुए हार पर अपनी नाराजगी जाहिर की। सहवाग ने कहा, ”भारतीय बल्लेबाजों में पूरे सीरीज के दौरान कॉन्फिडेंस की कमी नजर आई। इतनी मजबूत टीम होने के बावजूद कठिन परिस्थितियों में टीम विपक्ष के सामने लड़खड़ा जाती है।” बता दें कि मुख्य कोच रवि शास्त्री ने इंग्लैंड दौरे पर जाने से पहले टीम को सर्वश्रेष्ठ टीम कहा था। शास्त्री के इस बयान पर सहवाग ने कहा, ” ड्रेसिंग रूम में बैठ कर बातें बनाने से टीम बेस्ट नहीं बनती, खिलाड़ियों को मैदान पर अपने प्रदर्शन से इसे साबित करना होता है। भारतीय खिलाड़ी खासतौर पर बल्लेबाज इस पूरे सीरीज के दौरान दबाब के समय कमजोर नजर आए हैं। ऐसे में इन बातों का कोई मतलब नहीं रह जाता। आप भले ही दुनिया की नजरों में खुद को बेस्ट टीम कहकर संबोधित करते हों, लेकिन अगर खिलाड़ियों का बल्ला नहीं चला तो आप मजाक के पात्र बन जाओगे।”

हार की वजह पूछे जाने पर सहवाग ने कहा, ”मोइन अली की गेंदों को भारतीय बल्लेबाज नहीं खेल पा रहे थे ये देख हैरानी हुई। चार साल पहले साल 2014 में भी जब भारतीय टीम इंग्लैंड दौरे पर गई थी तो स्पिनर्स में मोइन अली ने ही सबसे अधिक विकेट झटके थे। दूसरी पारी के दौरान इंग्लैंड के लो-ऑर्डर बल्लेबाज और गेंदबाजों ने भारतीय टीम से बेहतर प्रदर्शन किया। यही भारतीय टीम के लिए हार की सबसे बड़ी वजह बनी।” सहवाग के मुताबिक भारतीय टीम के पास इस सीरीज को जीतने का एक सुनहरा अवसर था, जिसे उन्होंने खो दिया।

 


टेस्ट सीरीज हारने के बाद बोले कोहली, कठिन परिस्थितियों में इंग्लैड हमसे ज्यादा साहसी था

टेस्ट सीरीज हारने के बाद बोले कोहली, कठिन परिस्थितियों में इंग्लैड हमसे ज्यादा साहसी था

03-Sep-2018

साउथम्पटन : इंग्लैंड में 3-1 से टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद भारतीय  किक्रेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि भारत के मुकालबे इंग्लैंड कठिन परिस्थियों में ज्यादा साहसी था और चौथे टेस्ट में दोनों पक्षों के बीच यही अंतर था जिसके कारण घरेलू टीम ने 60 रनों से जीत हासिल कर पांच मैचों की सीरीज में 3-1 की बढ़त बना ली है. 

कोहली ने कहा, ‘हमारे मुकाबले कठिन परिस्थितियों में वे ज्यादा साहसी थे.निचले क्रम से मिला योगदान महत्वपूर्ण रहा.' उन्होंने 245 रनों का कठिन लक्ष्य देने के लिए घरेलू टीम की सराहना की जहां रन बनाना वास्तव में आसान नहीं था.


एशियाड: धाविका दुती चंद ने दूसरा सिल्वर मैडल जीता

एशियाड: धाविका दुती चंद ने दूसरा सिल्वर मैडल जीता

29-Aug-2018

जकार्ता : भारत की फर्राटा धाविका दुती चंद ने महिलाओं की 200 मीटर की दौड़ में सिल्वर मेडल जीता है। यह एशियन गेम्स-2018 में दुती का दूसरा सिल्वर मेडल है। दुती ने 23.20 सेकंड में 200 मीटर की दौड़ पूरी की। पहले स्थान पर बहरीन की इडिडियॉन्ग ओडियॉन्ग ने 22.96 सेकंड के साथ गोल्ड मेडल पर कब्जा किया। चीन की योंग ली वी ने 23.27 सेकंड के साथ ब्रॉन्ज मेडल जीता। 

दुती इस रेस में भारत की ओर से पदक की प्रबल दावेदार थीं। भारत की एक और धाविका हिमा दास मंगलवार को सेमीफाइनल में गलत शुरुआत के कारण डिस्क्वॉलिफाइ कर दी गईं थी। इससे पहले दुती ने महिलाओं की 100 मीटर दौड़ में भी सिल्वर मेडल जीता था। उन्होंने 200 मीटर के सेमीफाइनल में 23.00 सेकंड के अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ फाइनल में जगह बनाई थी। 

इसके साथ ही भारत के कुल पदकों की संख्या 52 हो गई है। भारत ने 9 गोल्ड, 20 सिल्वर और 23 ब्रॉन्ज मेडल जीत लिए हैं। एशियन गेम्स के 11वें दिन का यह भारत का दूसरा मेडल रहा। इससे पहले मणिका बत्रा और शरत कमल की जोड़ी ने टेबल टेनिस (मिक्स्ड डबल्स) में देश को ब्रॉन्ज मेडल दिलाया। आईएएएफ ने 2014 में अपनी हाइपरएंड्रोगेनिजम नीति के तहत दुती को निलंबित कर दिया था जिस वजह से उन्हें उस साल के कॉमनवेल्थ गेम्स के भारतीय दल से बाहर कर दिया गया था। ओड़िशा की 22 साल की दुती ने आईएएएफ के फैसले के खिलाफ खेल पंचाट में अपील दायर की और इस मामले में जीत दर्ज करते हुए वापसी की।


India vs England: विराट के अकेले मैन ऑफ द मैच बनने पर सचिन तेंदुलकर ने उठाए सवाल

India vs England: विराट के अकेले मैन ऑफ द मैच बनने पर सचिन तेंदुलकर ने उठाए सवाल

25-Aug-2018

दिल्ली : भारत ने बुधवार को नॉटिंघम में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच 203 रनों से जीत लिया था। विराट कोहली ने पहली पारी में 97 और दूसरी पारी में 103 रनों का योगदान दिया था, जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया था। हालांकि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की माने तो विराट इस अवॉर्ड के अकेले हकदार नहीं थे। अपनी ऐप 100 एमबी पर लाइव इंटरैक्शन के दौरान तेंदुलकर ने इस बात को कहा।

तेंदुलकर से जब पूछा गया कि क्या नॉटिंघम टेस्ट में विराट की जगह हार्दिक पांड्या को मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड दिया जाना चाहिए था। इस पर तेंदुलकर ने कहा, 'अगर मेरे बस में होता तो मैं हार्दिक और विराट दोनों को मैन ऑफ द मैच चुनता। मैं दोनों को ये अवॉर्ड शेयर करने के लिए देता। भारत की जीत में दोनों का बहुत बड़ा योगदान था। विराट की 97 रनों की पारी ने भारत को अच्छा स्कोर दिया और दूसरी पारी में सेंचुरी से इंग्लैंड को बड़ा टारगेट मिला। मेरी नजर में हार्दिक ने पहली पारी में बहुत अहम रोल अदा किया।' पांड्या ने पहली पारी में पांच विकेट झटके थे और भारत को अच्छी लीड दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी, इसके अलावा उन्होंने दूसरी पारी में तेज फिफ्टी भी जड़ी थी। तेंदुलकर ने पांड्या के लिए कहा, 'वो पांच विकेट बहुत जरूरी थे। जो रूट, जॉनी बेयरस्टो जैसे बल्लेबाजों को आउट करना बड़ी बात थी।'

 


सोना जीतने वाले निशानेबाज सौरभ चौधरी को 50 लाख रु. देगा यूपी सरकार

सोना जीतने वाले निशानेबाज सौरभ चौधरी को 50 लाख रु. देगा यूपी सरकार

21-Aug-2018

Asian Games 2018: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को मेरठ के रहने वाले सौरभ चौधरी को इंडोनेशिया में जारी एशियाई खेलों में पुरुषों की 10 मीटर एयर पिस्टल निशानेबाजी स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने पर ईनाम स्वरूप 50 लाख देने की घोषणा की। सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री ने यह भी ऐलान किया है कि सौरभ को राज्य सरकार में राजपत्रित अधिकारी का पद दिया जाएगा। आदित्यनाथ ने सौरभ को उत्तर प्रदेश के लिए पदक लाने की इस सफलता के लिए बधाई दी। सौरभ ने एशियाई खेलों में इस स्पर्धा का रिकॉर्ड तोड़ते हुए कुल 240.7 अंक हासिल किए और सोना जीता। यह भारत के खाते में गिरा कुल तीसरा स्वर्ण पदक है।

सोलह बरस के सौरभ चौधरी आज 10 मीटर एयर पिस्टल में विश्व और ओलंपिक चैम्पियनों को पछाड़ते हुए पीला तमगा जीतने के साथ ही एशियाई खेलों के इतिहास में स्वर्ण जीतने वाले भारत के पांचवें निशानेबाज बन गए । पहली बार सीनियर स्तर पर खेल रहे चौधरी ने बेहद परिपक्वता और संयम का परिचय देते हुए 2010 के विश्व चैम्पियन तोमोयुकी मत्सुदा को 24 शाट के फाइनल में हराया । अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण कर रहे भारत के अभिषेक वर्मा ने 219 . 3 के स्कोर के साथ कांस्य पदक जीता।

 

 


गजब खबर ! स्‍लो ओवर-रेट के चलते लगा छह रन का जुर्माना, 5 रन से हार गई टीम

गजब खबर ! स्‍लो ओवर-रेट के चलते लगा छह रन का जुर्माना, 5 रन से हार गई टीम

17-Aug-2018

गुरुवार को सोमरसेट और केंट के बीच एक बेहद ही दिलचस्प टी-20 मुकाबला खेला गया। हाई स्कोरिंग इस मैच को केंट की टीम ने अपने नाम किया। सोमरसेट को इस मैच को जीतने के लिए अंतिम गेंदों में छह रनों की जरूरत थी, जिसे बनाने में टीम के बल्लेबाज नाकाम रहे। सोमरसेट के कप्तान लुईस ग्रेगरी ने टॉस जीतकर केंट को बल्लेबाज के लिए आमंत्रित किया। केंट की शुरुआत अच्छी रही और सलामी बल्लेबाज ने शुरुआती पांच ओवर में टीम को तेज शुरुआत दिलाई। जो डेनली और बेल ड्रमंड ने पहले विकेट के लिए 5.5 ओवर में 67 रनों की साझेदारी की। जो डेनली 17 गेंदों में 26 रन बनाकर टेलर की गेंद पर अपना कैच दे बैठे। इसके बाद टीम के कप्तान सैम बिलिंग्स ने स्कोर को आगे बढ़ाने का काम किया। उन्होंने 35 गेंदों में नाबाद 57 रन बनाए, इस दौरान उनके बल्ले से 8 शानदार चौके भी निकले। बिलिंग्स के अलावा एलेक्स ब्लेक ने भी 22 गेंदों में 42 रनों की जोरदार पारी खेली।

अंत में शॉन डिक्सन 2 छक्के और एक चोके की मदद से 9 गेंदों में 20 रन बनाए। 20 ओवर खत्म होने पर केंट ने 5 विकेट खोकर 225 रन बना लिए थे , लेकिन सोमरसेट के कप्तान लुईस ग्रेगरी की एक गलती की वजह से उनके स्कोर में 6 रन और जुड़ गए। दरअसल, लुईस ग्रेगरी ने गेंदबाजी तबदीली में समय लिया, इस वजह से स्‍लो ओवर-रेट के चलते टीम को 6 रनों का नुकसान हुआ। वहीं केंट का स्कोर 20 ओवर में 231 रनों का हो गया।

232 रनों का पीछा करने उतरी सोमरसेट की शुरुआत खराब रही ओर टीम ने 15 के स्कोर पर ही अपना पहला विकेट खो दिया। टीम को स्टीवन डेविस से उम्मीद थी और उन्होंने 52 गेंदों में 45 रनों की शानदार पारी खेली। टीम को अंतिम गेंद पर मैच जीतने के लिए 6 रनों की जरूरत थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया और टीम को 5 रनों से हार का सामना करना पड़ा।

साभार : जनसत्ता से 


रॉस टेलर ने T20 क्रिकेट में धोनी के छक्कों का रिकॉर्ड तोड़ा

रॉस टेलर ने T20 क्रिकेट में धोनी के छक्कों का रिकॉर्ड तोड़ा

16-Aug-2018

नई दिल्ली : कैरेबियाई प्रीमियर लीग में खेल रहे न्यूजीलैंड के बल्लेबाज रॉस टेलर ने तालावाह की ओर से खेलते हुए सेंट किट्स एंड नेविस पेट्रियोट के खिलाफ शानदार बल्लेबाजी की नुमाइश की और 35 गेंदों पर 51 रन ठोके. टेलर ने अपनी इस धमाकेदार पारी में 4 छक्के जड़े, जिसकी बदौलत उन्होंने टी20 क्रिकेट में छक्के लगाने के मामले में एमएस धोनी (267 छक्के) को पीछे छोड़ दिया है. . टेलर के नाम अब 248 टी20 मैचों में 271 छक्के हो गए हैं. इस तरह से दुनिया में छक्के लगाने के मामले में टेलर 12वें नंबर पर पहुंच गए हैं.

T20 में सर्वाधिक छक्के जड़ने वाले भारतीय बल्लेबाजों में रोहित शर्मा 313 छक्कों के साथ नंबर 1 हैं. जबकि, वर्ल्ड क्रिकेट में वो ऐसा करने वाले 7वें बल्लेबाज है. वहीं, दूसरे नंबर पर 299 छक्कों के साथ सुरेश रैना हैं, जो दुनिया में 11 वें नंबर पर हैं. यानी, रॉस टेलर के निशाने पर धोनी का रिकॉर्ड तोड़ने के बाद अब जिस भारतीय बल्लेबाज के छक्कों का रिकॉर्ड होगा वो नाम सुरेश रैना का है.

बहरहाल, रॉस के दमदार अर्धशतक की बदौलत तालावाह ने 20 ओवर में 4 विकेट खोकर 178 रन बनाए. जवाब में सेंटकिट्स की टीम 9 विकेट खोकर सिर्फ 131 रन ही बना सकी और मुकाबला 47 रन से हार गई. सेंट किट्स की ओर से सबसे ज्यादा 24 रन कप्तान गेल ने बनाए. इस हार के बाद गेल की टीम अब प्वाइंट्स टैली में 5वें नंबर पर लुढ़क गई है.


डेम्बा बा पर नस्लभेदी टिप्पणी करने वाले खिलाड़ी पर लगा प्रतिबंध

डेम्बा बा पर नस्लभेदी टिप्पणी करने वाले खिलाड़ी पर लगा प्रतिबंध

11-Aug-2018

एजेंसी 

इंग्लैंड के शीर्ष क्लब चेल्सी के पूर्व स्ट्राइकर डेम्बा बा पर चीन सुपर लीग में एक मैच के दौरान नस्लभेदी टिप्पणी करने वाले खिलाड़ी झांग ली पर छह मैच का प्रतिबंध लगा है। डेम्बा बा चीनी क्लब शंघाई शेनहुआ से खेल रहे हैं। ली को जुमार्ने के रूप में 42,000 चीनी युआन भी देना होगा। शनिवार को चांगचुन याताई के खिलाफ 1-1 से ड्रॉ हुए मैच के दौरान सेनेगल के 33 वषीर्य स्ट्राइकर बा का विपक्षी टीम के एक खिलाड़ी के साथ विवाद हुआ था।

चीन एफए ने कहा, 'चांगचुन के मिडफील्डर झांग ली ने सामान्य रूप से चल रहे मैच में हस्तक्षेप किया जिसके कारण गड़बड़ी हुई और सामाजिक रूप से प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।' एफए ने हालांकि, अपने बयान में नस्लभेदी टिप्पणी के संदर्भ में कुछ नहीं कहा। मैच के बाद शंघाई शेनहुआ के कोच वू जिंगुई वू ने कहा, 'मुझे जानकारी मिली कि याताई के एक खिलाड़ी ने बा के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया। पूरे विश्व भर में इस पर जोर दिया जाता है कि अश्वेत खिलाड़ियों के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल नहीं किया जाए।'

उन्होंने कहा, 'चीन सुपर लीग में विभिन्न देशों के खिलाड़ी खेलते हैं। हमें अपने विपक्षी का सम्मान करना चाहिए और किसी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चाहिए।'


ICC ने टी10 लीग के दूसरे सत्र को दी मंजूरी

ICC ने टी10 लीग के दूसरे सत्र को दी मंजूरी

08-Aug-2018

दिल्ली : 

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने टी10 लीग के दूसरे सत्र को आधिकारिक मंजूरी दे दी है जिसका आयोजन 23 नवंबर से शारजाह में किया जाएगा। क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था से मंजूरी मिलना लीग के लिए बेहद महत्वपूर्ण है जिसमें इस बार दो नई टीमें जोड़ी गई हैं और यह आठ टीमों के बीच खेला जाएगा। आईसीसी के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘हां, आईसीसी ने टी10 टूर्नामेंट को मंजूरी दे दी है। आयोजकों ने किसी क्रिकेट प्रतियोगिता को मंजूरी दिए जाने संबंधी सभी शर्तों और औपचारिकताओं को पूरा किया जिसके बाद उन्हें मंजूरी मिली।’

टी10 आईसीसी के एसोसिएट सदस्य अमीरात क्रिकेट बोर्ड का घरेलू फ्रेंचाइजी टूर्नामेंट है। हालांकि यह पता चला है कि मंजूरी देने का मतलब यह नहीं है कि आईसीसी इसके संरक्षक या लीग या प्रारूप को बढ़ावा देगी। टी10 लीग के चेयरमैन शाजी उल मुल्क ने कहा, ‘आईसीसी से मंजूरी मिलने से टी10 लीग के हमारे भागीदारों, हितधारकों और विशेषकर खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ेगा। इससे हमारे साथ यह सुनिश्चित करने के लिये अतिरिक्त जिम्मेदारी भी जुड़ गई है कि हम वर्ष दर वर्ष इसको आगे बढ़ायें और इस प्रारूप को वैश्विक स्तर पर स्वीकार्य बनाएं। ’

टी20 फॉर्मेट के सफल हो जाने के बाद टी10 लीग भी लोगों के बीच अपनी जगह बना रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए आईसीसी खास काम कर रही है। कई और देश भी इस दिशा में भी काम कर रहे हैं।


भारतीय टीम ने द.अफ्रीका ए को बुरी तरह हराया, सिराज ने झटके 10 विकेट

भारतीय टीम ने द.अफ्रीका ए को बुरी तरह हराया, सिराज ने झटके 10 विकेट

08-Aug-2018

एजेंसियों से 

नई दिल्ली: अगर भारत में तेज गेंदबाजों की बात करें तो मौजूदा टीम में कई बेहतरीन गेंदबाज हैं. इनमें भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव मुख्य है. इनके अलावा कई प्रतिभाशाली गेंदबाज ऐसे भी हैं जो घरेलू मैचों में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. एक ऐसे ही गेंदबाज हैं मोहम्मद सिराज. सिराज ने हाल ही में इंडिया ए की तरफ से खेलते हुए एक अनऑफीशियल टेस्ट मैच में 10 विकेट झटके. उनके इस प्रदर्शन की बदौलत इंडिया ए ने दक्षिण अफ्रीका ए को बुरी तरह हराया.

सिराज के नेतृत्व में गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर इंडिया-ए ने बैंगलोर के एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए टेस्ट मैच के आखिरी दिन मंगलवार को दक्षिण अफ्रीका-ए को पारी और 30 रनों से हरा दिया. सिराज ने इस मैच की दूसरी पारी में पांच विकेट लिए. दक्षिण अफ्रीका-ए ने अपनी पहली पारी में 246 रन बनाए थे. इंडिया-ए ने मयंक अग्रवाल (220) और पृथ्वी शॉ (136) की बेहतरीन पारियों के दम पर अपनी पहली पारी आठ विकेट के नुकसान पर 584 रनों पर घोषित कर दी थी.

इसी के साथ इंडिया-ए ने 338 रनों की बढ़त ले ली थी. इसके बाद गेंदबाजों के दम पर मेहमान टीम को आखिरी दिन 308 रनों पर ढेर कर मैच अपने नाम किया. दक्षिण अफ्रीका-ए के लिए विकेटकीपर बल्लेबाज रूडी सेकेंड ने सबसे ज्यादा 94 रन बनाए. जुबेर हमजा ने 63 और शॉन वान बोर्ज ने 50 रनों की पारी खेली.

मेहमान टीम ने दिन की शुरुआत चार विकेट के नुकसान पर 99 रनों के साथ की थी. हमजा अपना अर्धशतक पूरा करने के कुछ देर बाद रजनीश गुरबानी का शिकार हो गए. उनका विकेट 121 के कुल स्कोर पर गिरा. यहां से रूडी और शॉन ने छठे विकेट के लिए 119 रनों की साझेदारी कर टीम को मैच में बनाए रखा. गुरबानी ने 240 के कुल स्कोर पर शॉन को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा. डेन पेइडेट सात रनों के निजी स्कोर पर पवेलियन लौटे. रूडी का विकेट 286 के कुल स्कोर पर गिरा. उनको लेग स्पिनर यजुवेंद्र चहल ने अपना शिकार बनाया. रूडी ने 214 गेंदों का सामना करते हुए 15 चौके लगाए. सिराज ने डुआने ओलिवर को आउट कर अपने पांच विकेट पूरे करते हुए दक्षिण अफ्रीका-ए को ऑल आउट कर इंडिया-ए को जीत दिलाई.