रायपुर : मुख्यमंत्री ने आवासीय कॉलोनियों की स्वीकृति के लिए एकीकृत एकल खिड़की प्रणाली का किया शुभारंभ

रायपुर : मुख्यमंत्री ने आवासीय कॉलोनियों की स्वीकृति के लिए एकीकृत एकल खिड़की प्रणाली का किया शुभारंभ

25-Nov-2019

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज विधानसभा परिसर स्थित कार्यालय कक्ष में आवासीय कॉलोनियों की स्वीकृति के लिए आवास एवं पर्यावरण विभाग द्वारा विकसित ’’सीजीअवास’’ एकल खिड़की प्रणाली का बंटन दबाकर शुभारंभ किया। इस प्रणाली के माध्यम से कॉलोनियों के लिए भू-व्यपवर्तन प्रमाण पत्र, अनुमोदित अभिन्यास, कॉलोनी विकास की अनुज्ञा एक ही खिड़की से निर्धारित समय-सीमा में मिलेगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता आवास तथा पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर ने की। आज इस एकीकृत एकल खिड़की प्रणाली का शुभारंभ हुआ है। एक दिसम्बर से इसका ट्रायल होगा और 15 दिसम्बर से आवेदक इसमें आवेदन कर सकेगा। 

छत्तीसगढ़ शासन के आवास एवं पर्यावरण विभाग द्वारा विकसित इस प्रणाली से अब आवासीय कॉलोनी के अनुमोदन की प्रक्रिया में तेजी आएगी और यह प्रक्रिया सरल तथा सुगम हो जाएगी। एकल खिड़की में समस्त दस्तावेज जमा होने के उपरांत 100 से अधिकतम 140 दिवस के अंदर विकास अनुज्ञा जारी हो जाएगी। विभिन्न विभागों द्वारा कॉलोनी विकास के लिए आवश्यक अनापत्तियां भी एकल खिड़की पर प्राप्त हो जाएगी। पहले आवासीय कॉलोनी के विकास की अनुज्ञा प्राप्त करने के लिए जहां डेढ़ से दो साल का समय लग जाता था, वहीं अब इसकी समय-सीमा तय कर दी गई है और आवेदकों को 100 से 140 दिन के भीतर विकास की अनुज्ञप्ति प्राप्त हो सकेगी। पहले आवेदकों को प्रकरण की स्थिति जानने के लिए जहां संबंधित कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ते थे, वहीं अब एकल खिड़की प्रणाली से इससे मुक्ति मिलेगी।

इस प्रणाली के लागू होने से एक बार में समस्त अनापत्तियां मिलेंगी। भूमि स्वामित्व के परीक्षण, भूमि नामांतरण, राजस्व विभाग, नगरीय निकाय द्वारा अखबार में विज्ञापन के प्रकाशन, भूमि एकीकरण सम्पूर्ण सर्वें में लगने वाले समय में बचत होगी। एक ही जगह से कॉलोनाईजन को कॉलोनी का अनुमोदन मिलेगा।  आवेदन की हर स्तर पर ट्रेकिंग की जा सकेगी। प्रक्रिया में पारदर्शिता आयेगी। 

आवेदक अब अपने आवेदन की अद्यतन स्थिति मोबाईल में एस.एम.एस. के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उन्हें कार्यालय में सम्पर्क करना नहीं पड़ेगा एवं कार्यों में पारदर्शिता रहेगी। एकल खिड़की प्रणाली के अंतर्गत आवासीय कॉलोनी के विकास अनुज्ञा के लिए राजस्व, नगर तथा ग्राम निवेश तथा नगरीय प्रशासन विभाग को एकल खिड़की के माध्यम से एकीकरण किया गया है। इसके तहत 100 दिन में कॉलोनी विकास की अनुज्ञा प्रदान करना है। अगर नामांतरण एवं भूमि संविलयन की प्रक्रिया नहीं की गई है, तो कॉलोनी विकास अनुज्ञा के लिए 140 दिवस का समय लगेगा। इससे आवासीय कॉलोनी के अनुमोदन की प्रक्रिया में पारदर्शिता लायी गई है। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी, विशेष सचिव आवास एवं पर्यावरण सुश्री संगीता पी., उप सचिव आवास एवं पर्यावरण भोसकर विलास संदीपन सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

 


मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना : ग्रामीणों को मिल रहा है बेहतर स्वास्थ्य सुविधा का लाभ

मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना : ग्रामीणों को मिल रहा है बेहतर स्वास्थ्य सुविधा का लाभ

24-Nov-2019

मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना से ग्रामीण अंचल के जनता को बेहतर स्वास्थ्य लाभ मिल रहा है। हाट बाजार में इस प्रकार की सुविधा के मिलने से इसके प्रति ग्रामीणों में विशेष रूचि दिखाई दे रही है। 

    बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के आदिवासी बाहुल कसडोल और बिलाईगढ़ विकासखंड के 12 गांव की हाट-बाजारों में संचालित है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की 150वीं जयंती के अवसर पर विगत 2 अक्टूबर को जिले में इसका शुभारंभ हुआ है। इस योजना से लगभग तीन हजार से अधिक ग्रामीण को सुविधा का लाभ मिला है। प्रति सप्ताह आयोजित होने वाले हाट बाजार में डॉक्टरों की टीम जरूरी दवाईयां लेकर वहां पहुंचती है। साग-सब्जी अथवा अन्य मनिहारी दुकानों के बीच में वे भी अपना स्टॉल लगा लेते हैं और आत्मीयता पूर्वक स्थानीय लोगों की बोली-भाषा में बात-चीत करते हुए उनका इलाज कर दिल जीत रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल पर संचालित यह योजना राज्य के दूरस्थ अंचलों में लगने वाले हाट-बाजारों में आने वाले लोगों को स्वास्थ्य सुविधा का भी मिल पाना संवेदनशील सरकार की अभिनव पहल है। 

    मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. खेमराज सोनवानी ने बताया कि योजना को जिले में अच्छा प्रतिसाद मिला है। सरकार द्वारा निर्धारित मापदण्डों के अनुरूप कसडोल विकासखण्ड में 8 हाट-बाजार एवं बिलाईगढ़ विकासखण्ड में 4 हाट-बाजार में प्रति सप्ताह टीम पहुंचती है। कसडोल के थरगांव, रवान, अर्जुनी,छाता, असनीद, बार, बफरा, नवागांव और बिलाईगढ़ के बगमल्ला, चारपाली, गेड़ापाली एवं ढनढनी मंे लगने वाली साप्ताहिक हाट-बाजार में यह योजना संचालित हो रही है। हाट-बाजार में आने वाले आस-पास के ग्रामीणों को भी इस योजना का फायदा मिल रहा है। उनका कहना है कि छोटे-मोटे बीमारियों के इलाज के लिए ग्रामीणों को दूरस्थ स्थित स्वास्थ्य केन्द्र तक आने की जरूरत ना हो और इसके लिए अतिरिक्त समय गंवाना ना पड़े, इसे ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार यह योजना लांच की है। हाट-बाजार में डॉक्टर, नर्स, फार्मासिस्ट सहित पूरी टीम साथ रहती है। उनके द्वारा छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याएं जैसे- मौसमी बुखार, दर्द, मलेरिया, पेचिस, दस्त, उल्टी एनीमिया, कमजोरी, रक्तचॉप, मधुमेह, त्वचा रोग आदि बीमारियांे की जांच एवं इलाज किया जाता है। स्वस्थ्य रहने के उपाय भी बताये जाते हैं।
    उल्लेखनीय है कि हाट बाजारों में आने वाले और वहां अपने जीविकापार्जन करने वाले अधिकांश ग्रामीण जनता अपने इलाज के लिए विभिन्न कारणों से अस्पताल नहीं जा पाते उनके लिए यह लाभदायक सिद्ध हो रहा है।


कवर्धा : पति गया था काम पर घर लौटकर पत्नी को देखा मृत, हत्या की आशंका, पुलिस जांच में जुटी

कवर्धा : पति गया था काम पर घर लौटकर पत्नी को देखा मृत, हत्या की आशंका, पुलिस जांच में जुटी

23-Nov-2019

कवर्धा जिले के भोरमदेव थाना क्षेत्र में ग्राम हरमो कडगो में एक मकान में एक महिला की लाश बरामद हुई है मृतका की पहचान कौशिल्या धुर्वे बताया जा रहा है मृतका की डेढ़ साल पहले शादी हुई थी. महिला की मौत की खबर पुलिस को पति अभिषेक धुर्वे ने दी मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजा मृतका के सिर और चेहरे पर चोट के मिलें है जिससे मामला संदिग्ध भी लग रहा है पति ने अपने बयान में बताया कि वह काम पर गया हुआ था काम से लौटने पर उसने अपनी पत्नी को इस अवस्था में देखा बहरहाल पुलिस जांच में कर रही है.  


बलौदाबाजार : खदान के गड्ढे में मिली महिला की लाश, हत्या या आत्महत्या का खुलासा नहीं

बलौदाबाजार : खदान के गड्ढे में मिली महिला की लाश, हत्या या आत्महत्या का खुलासा नहीं

22-Nov-2019

बलौदाबाजार : जिले के कसडोल थाना के कटगी गांव में एक खदान के गड्ढे में एक महिला की लाश बरामद हुई है मृतका की पहचान कटगी गांव निवासी 28 वर्षीया के रूप में की गई है बताया जा रहा है कि महिला बुधवार रात अपने मायके हसुवा गांव से किसी को बिना बताए निकली थी. लोगों ने खदान के गड्ढे में महिला की लाश देखने पर पुलिस को सूचना दी जिसके बाद पुलिस पहुंची और महिला के शव को बाहर निकालकर उसकी शिनाख्त की व उसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा यह हत्या है या आत्महत्या इसका खुलासा पीएम रिपोर्ट पर ही होगा बहरहाल कसडोल थाना और गिधौरी थाना की पुलिस जांच में जुटी है.


 बीजापुर जिले में 14 सालो से बंद पड़े 26 स्कूल  फिर से हुए गुलजार

बीजापुर जिले में 14 सालो से बंद पड़े 26 स्कूल फिर से हुए गुलजार

22-Nov-2019

बस्तर अंचल के बीजापुर जिले में लंबे समय से बंद पड़े 26 स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के साथ धमाचौकड़ी देखने को मिल रही है। अरसे बाद ये स्कूल फिर से गुलजार हुए हैं। जिला प्रशासन की विशेष पहल से वनांचल में रहने वाले बच्चों के भविष्य को सवारने का काम शुरू हो गया है। 

जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि नक्सली भय और आतंक के चलते बीजापुर जिले के इन बंद पड़े स्कूलों में फिर से पढ़ाई-लिखाई का काम शुरू हुआ है। स्कूलों के संचालन के लिए अस्थाई शैड की व्यवस्था की गई है। इन स्कूलों में ग्रामीणों को समझाईश देकर उनके बच्चों को दाखिला दिया जा रहा है। बच्चों की पढ़ाई-लिखाई का जिम्मा स्थानीय युवाओं को दिया गया। इन्हें शिक्षा दूत के रूप में मानदेय आधार पर नियुक्त किया गया है। बच्चों के लिए कापी, किताब, स्लेट, पेनसिल आदि की व्यवस्थ की गई है। इन स्कूलों में मध्यान्ह  भोजन की व्यवस्था की गई है। 

अधिकारियों ने बताया कि जिले के बीजापुर और भैरमगढ़ के पांच-पांच, उसूर के छह और भोपालपट्टनम के दस स्कूलों में लंबे अरसे बाद फिर से पढ़ाई -लिखाई शुरू हुई है। इससे ग्रामीणों में शासन प्रशासन के प्रति विश्वास बढ़ा है। अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए इन स्कूलों में भेज रहे हैं। ग्रामीणों द्वारा कई स्थानों में स्कूल शुरू करने की मांग भी आ रही है। 

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2005 में सलवा-जुड़ूम अभियान के दौरान आतंक और भय के कारण जिले के कई स्कूल बंद हो गये थे जिसके चलते यह ईलाका पूरी तरह से मुख्य धारा से कट कर शासन प्रशासन की योजनाओ से वंचित हो गया था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल से इन इलाकांे में बच्चों को शिक्षा से जोड़ने की मुहिम जिला प्रशासन द्वारा चलाई गई जिसके तहत् अतिसंवेदनशील ईलाको में ग्रामीणों का साथ लेकर शालाओं को फिर से शुरू किया गया है। 


भिलाई : रेलवे क्रासिंग के कुछ दूरी पर मिला युवक का जला हुआ शव, पुलिस जांच में जुटी

भिलाई : रेलवे क्रासिंग के कुछ दूरी पर मिला युवक का जला हुआ शव, पुलिस जांच में जुटी

21-Nov-2019

आज गुरुवार भिलाई भट्टी थाना क्षेत्र के पॉवर हाउस वूलन मार्केट के पीछे रेलवे क्रासिंग से कुछ दूरी पर एक युवक की जली हुई लाश मिली है मीडिया रिपोर्टो के अनुसार मार्केट के पीछे कुछ लोगों ने युवक का जला हुआ शव देखा जिसकी सूचना लोगों ने पुलिस को दी मौके पर पहुंची पुलिस ने युवक की शिनाख्त की कोशिश की लेकिन खबर लिखे जाने तक उसकी पहचान नहीं हो पाई थी उसकी उम्र 30-35 वर्ष के आसपास बताई जा रही है बहरहाल पुलिस जांच में जुटी है ।


रायपुर : छत्तीसगढ़ी फिल्म ऐक्ट्रेस माया साहू पर डंडे से हमला करने के आरोप में दो युवक गिरफ्तार

रायपुर : छत्तीसगढ़ी फिल्म ऐक्ट्रेस माया साहू पर डंडे से हमला करने के आरोप में दो युवक गिरफ्तार

19-Nov-2019

रायपुर : छत्तीसगढ़ी फिल्म ऐक्ट्रेस माया साहू पर डंडे से हमला करने के आरोप में दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दोनों की पहचान सागर साहू और लकी साहू बताया जा रहा है। युवकों ने ऐक्ट्रेस पर हमला क्यों किया इसका खुलासा नहीं हो पाया है बता दें कि कुछ दिनों पहले माया पर भिलाई स्थित उनके निवास के करीब युवको ने डंडे से हमला कर दिया था और फरार हो गया था जिसकी तलाश में पुलिस थी 

 


इस बुधवार को मुख्यमंत्री निवास में नहीं होगा ‘जनचौपाल: भेंट-मुलाकात‘

इस बुधवार को मुख्यमंत्री निवास में नहीं होगा ‘जनचौपाल: भेंट-मुलाकात‘

18-Nov-2019

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के रायपुर स्थित निवास में आगामी 20 नवम्बर बुधवार को आयोजित होने वाला ‘जनचौपाल भेंट-मुलाकात‘ का कार्यक्रम अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दिया गया है।


मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक, लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक, लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय

15-Nov-2019

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज निवास कार्यालय में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए - छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य के सभी नागरिकों को बेहतर एवं गुणवत्तापूर्ण उपचार सुविधा प्रदान करने हेतु नई स्वास्थ्य योजना शुरू करने का निर्णय लिया गया। (अब ट्रस्ट मोड पर कार्य किया जाएगा )

1. डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना में राज्य में स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने वाली समस्त योजनाएं आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना, संजीवनी सहायता कोष, मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना, मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना एवं राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (चिरायु) योजना इस नई योजना में समाविष्ट हो जाएंगी।
        इस नई योजना में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में शामिल परिवार के साथ ही सभी प्राथमिकता एवं अंत्योदय राशन कार्डधारी परिवारों को 5 लाख रूपए तक स्वास्थ्य सुविधा मिलेगी एवं अन्य राशन कार्डधारी परिवारों को 50 हजार रूपए तक इलाज की सुविधा मिलेगी।
 
2. मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना- वे बीमारियां जो योजनांतर्गत शामिल नही है या हितग्राही का नाम सूची में नही है या नई योजना अंतर्गत बीमा कवर राशि इलाज हेतु पर्याप्त नही है, उन परिवारों के लिए वर्तमान में लागू संजीवनी सहायता कोष का विस्तार करते हुए मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना शुरू करने का निर्णय लिया गया। इसमें मुख्यमंत्री के अनुमोदन से प्रति परिवार 5 लाख रूपए से अधिकतम 20 लाख रूपए तक के इलाज की सुविधा प्रदान की जाएगी।

डॉ. नरेन्द्र वर्मा द्वारा लिखित छत्तीसगढ़ी गीत- ‘‘अरपा पइरी के धार महानदी हे अपार‘‘......को राज्य-गीत घोषित करने का अनुमोदन किया गया।

छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मण्डल के स्वावित्तीय, भाड़ाक्रय आवासीय योजनाओं के भवनों की बकाया राशि पर भारित पूंजीगत ब्याज और दाण्डिक ब्याज में छूट एवं विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत निर्मित अविक्रित आवासीय एवं व्यावसायिक भवनों के मूल्यों में छूट की कार्ययोजना का अनुमोदन किया गया। जिसके तहत अविक्रित आवासीय एवं व्यावसायिक संपदा के निर्माण दिनांक से वर्तमान रिक्त अवधि के आधार पर भवनों के मूल्यों में 15 से 20 प्रतिशत तक कमी का निर्णय लिया गया।

         इसी तरह स्ववित्तीय योजना के तहत विलंबित अवधि की राशि एकमुश्त जमा करने पर   ब्याज में छूट एवं भाड़ा क्रय योजना के तहत लंबित राशि एकमुश्त जमा करने पर दण्ड ब्याज में छूट प्रदान करने के निर्णय का अनुमोदन किया गया।

खनन प्रभावित लोगों के लिए आवास, दैनिक उपयोग के लिए आवश्यक सामग्री तथा महिलाओं एवं बच्चों के लिए वस्त्र आदि की उपलब्धता के लिए छत्तीसगढ़ जिला खनिज न्यास नियम-2015 में नया सेक्टर प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया। इसमें अन्य प्राथमिकता के क्षेत्र अंतर्गत प्राप्त होने वाली राशि में से 5 प्रतिशत अधिकतम राशि का उपयोग उपरोक्त कार्यो के लिए किया जा सकेगा।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर (एम्स) को नवा रायपुर, अटल नगर में निःशुल्क भूमि  आबंटन का निर्णय लिया गया। नया रायपुर डेव्लपमेंट अथॉरिटी (एनआरडीए) द्वारा सेक्टर-40 में आबंटित भूमि के संबंध में एम्स रायपुर से किए जाने वाले एम.ओ.यू. प्रारूप का अनुमोदन किया गया।

छत्तीसगढ़ राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के पास उपलब्ध चावल का निराकरण राज्य और केन्द्र शासन द्वारा संचालित विभाग और संस्थाओं की विभिन्न योजनाओं में उपयोग करने का निर्णय लिया गया।

छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण एवं अन्य पिछड़ा वर्ग क्षेत्र विकास प्राधिकरण निधि नियम-2012 में आवश्यक संशोधन का अनुमोदन किया गया। इसमें नए कार्यो (शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण आदि) को सम्मिलित किया गया।

जेम एण्ड ज्वेलरी पार्क रायपुर शहर में स्थापित करने का निर्णय लिया गया ।

नंदनवन जंगल सफारी नवा रायपुर में प्रचलित प्रवेश शुल्क को आधा करने का निर्णय लिया गया। 12 वर्ष से कम और दिव्यांग लोगों के लिए निःशुल्क रहेगा।


जशपुर : आदिवासी दलों के साथ थिरके विधायक

जशपुर : आदिवासी दलों के साथ थिरके विधायक

14-Nov-2019

जशपुर के रणजीता स्टेडियम में आज आयोजित नेशनल ट्राईबल डांस फेस्टिवल में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल जशपुर के विधायक विनय भगत आदिवासी गीत एवं नृत्य की प्रस्तुति के दौरान अपने आप को रोक नहीं पाए और मंच से उतर कर नर्तक दलों के बीच पहुंचकर उनके साथ लयबद्ध होकर नगाड़ा बजाने लगे। 

विधायक विनय भगत के साथ कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल उनकी धर्मपत्नि श्रीमती श्वेता भगत, जनपद अध्यक्ष श्रीमती शारदा प्रधान एवं श्रीमती ममता भगत भी महिला नर्तक दल के साथ नगाड़े और मादर की थाप पर करमा नृत्य करने लगी। विधायक एवं अन्य अतिथियों द्वारा नर्तक दलों के साथ नृत्य की प्रस्तुति को देखकर सभी लोगों ने करतल ध्वनि से उनकी प्रस्तुति को सराहा।


धमतरी : खाना लेने गया था पुत्र अस्पताल से निकलकर बीमार बुजुर्ग पिता ने पेड़ पर लगा ली फांसी

धमतरी : खाना लेने गया था पुत्र अस्पताल से निकलकर बीमार बुजुर्ग पिता ने पेड़ पर लगा ली फांसी

13-Nov-2019

धमतरी जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग 30 से लगे ग्राम पंचायत श्यामतराई के पास आज बुधवार (13 नवम्बर) को एक इमली के पेड़ में फांसी के फंदे पर लटके हुए एक बुजुर्ग की लाश मिली पूछताछ में पता चला कि मृतक सुखऊराम साहू 63 वर्ष गोकुलपुर वार्ड निवासी मंगलवार को जिला अस्पताल में भर्ती था वह बीती रात अस्पताल से किसी तरह बाहर निकल गया और राष्ट्रीय राजमार्ग से लगे इमली पेड़ में फांसी लगा ली अस्पताल में मृतक के साथ उसका पुत्र रमेश साहू था वह खाना लेने वार्ड से गया था इसी दौरान बुजुर्ग भी वहां से निकल गया और फांसी लगा ली परिजनों ने सुखऊराम साहू को रात भर ढूंढा लेकिन उसका पता नहीं चल पाया और आज सुबह उनके परिजनों को पुलिस से पता चला कि उनके पिता ने फांसी लगा ली है बताया जा रहा है कि मृतक सुखऊराम को सांस की तकलीफ थी


भिलाई : रिटायर्ड रेलवे कर्मी से ढाई लाख रुपए की उठाईगिरी, बदमाशो ने खुद को बताया था पुलिस

भिलाई : रिटायर्ड रेलवे कर्मी से ढाई लाख रुपए की उठाईगिरी, बदमाशो ने खुद को बताया था पुलिस

12-Nov-2019

भिलाई : आज मंगलवार (12 नवम्बर) को एक रेलवे का रिटायर्ड कर्मी ढाई लाख रुपए की उठाईगिरी का शिकार हो गया ठगों ने बुजुर्ग को अपने आप को पुलिस वाला बताया और उससे ठगी कर ली मामले की पूरी जानकारी के अनुसार सीएसईबी कॉलोनी में रहने वाला रिटायर्ड कर्मी दूधनाथ शर्मा सीएसईबी भिलाई तीन कॉलोनी से जा रहा था इसी दौरान बाइक सवार युवकों ने उसे देखकर अपनी बाइक रोकी और उससे कहने लगे की आगे पुलिस चेकिंग चल रही है आप पहने हुए अपने चेन अंगूठी उतार दें जिसके बाद बुजुर्ग उनके झांसे में आ गया और  सोने की चेन, अंगूठी और ब्रेसलेट उतारकर उसे दे दिया ठगी का अहसास होने के बाद बुजुर्ग ने इसकी शिकायत भिलाई तीन थाने में की पुलिस सोने के सामानों की कीमत लगभग ढाई लाख रुपए आंक रही है । पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने इलाके की नाकेबंदी शुरू कर दी है और संदिग्धों की जांच कर रही है । 


रायपुर : छत्तीसगढ़ में नई सरकार के गठन के बाद लगभग साढ़े पांच लाख लोगों को मिला रोजगार

रायपुर : छत्तीसगढ़ में नई सरकार के गठन के बाद लगभग साढ़े पांच लाख लोगों को मिला रोजगार

11-Nov-2019

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृव में सरकार बनने के बाद माह जनवरी से अक्टूबर तक 10 माह में प्रदेश में 5 लाख 41 हजार 259 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है। इनमें से ग्रामीण क्षेत्रों में 5 लाख 10 हजार 117 लोगों को शासकीय सेवा के क्षेत्र में 20 हजार 502 लोगों को और उद्योगों में 10 हजार 640 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है।

ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए राज्य सरकार द्वारा नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना प्रारंभ की गई है। जिसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के बीच उद्यमियता के विकास के साथ रोजगार के अवसर उत्पन्न करने के प्रयास किए जा रहे हैं। अधिक से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर दिलाने के लिए राज्य में अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं। इनमें से ग्रामीण क्षेत्र में छत्तीसगढ़ राज्य आजीविका मिशन के तहत लगभग 2 लाख 29 हजार 374 महिलाओं को रोजगार मिला है। राज्य सरकार द्वारा शासकीय उपयोग के वस्त्रों की खरीदी प्रदेश के राज्य बुनकर सहकारी संघ के माध्यम से की जा रही हैं। इस फैसले से प्रदेश में लगभग 51 हजार बुनकरों को रोजगार मिला है। छत्तीसगढ़ में लगभग 32 प्रतिशत जनसंख्या आदिवासी लोगों की है। इनकी आजीविका और रोजगार वनों पर निर्भर है। लघु वनोपजों के संग्रह में लगे आदिवासी महिलाओं समूहों के माध्यम से भी बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिला है। राज्य सरकार द्वारा आदिवासियों की आय में वृद्धि के उद्देश्य से लघु वनोपजों की खरीदी 3500 महिला समूहों के माध्यम से 821 हाट बाजारों में की जा रही है। इसके माध्यम से लगभग 42 हजार महिलाओं को रोजगार मिला है।

गणवेश तैयार करने के काम में प्रदेश के लगभग 900 महिला समूह कार्यरत हैं। स्कूल के विद्यार्थियों के गणवेश तैयार करने में लगभग नौ हजार महिलाओं को रोजगार मिला है। वनोत्पादों के माध्यम से लगभग 35 हजार वनवासियों को गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के काम में लगभग पांच हजार ग्रामीणों को, माहुल पत्ता, कपड़े और जूट से पत्तल और प्लेट तैयार करने के काम में लगभग पांच हजार बांस से ट्री-गार्ड और टोकरी तैयार करने में लगभग पांच हजार लोगों को रोजगार मिला है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत खेती-किसानी संबंधी गतिविधियों आर्गेनिक खाद (वर्मी कम्पोस्ट) आर्गेनिक औषधियां के क्षेत्र में लगभग 61 हजार 991 लोगों को, गैर कृषि क्षेत्र में 22 हजार 762 लोगों को रोजगार मिला है। इसी प्रकार नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना के तहत बनाएं गए क्रियाशील गौठानों में महिला समूह द्वारा वर्मी कम्पोस्ट और चारा उत्पादन का कार्य किया जा रहा है। प्रत्येक गौठान में 14 से 15 महिला कार्यरत हैं। गौठानों में लगभग 27 हजार 990 महिलाओं को इसी प्रकार महिला और बाल विकास विभाग के सुपोषण अभियान के कार्यो में लगभग 16 हजार महिलाओं को रोजगार के अवसर मिल रहें हैं। इन महिलाओं को 2750 रूपए प्रतिमाह आमदनी हो रही है। इस प्रकार ग्रामीण अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में पिछले 10 माह में पांच लाख 10 हजार 117 लोगों को रोजगार मिला।

इसी प्रकार शासकीय क्षेत्र में लगभग 20 हजार 502 लोगों को नौकरी मिली है। पिछले 10 माह में स्कूलों में 5441 शिक्षकों, 4000 सहायक शिक्षकों, 2767 व्याख्याताओं, विज्ञान प्रयोगशाला में 1200 सहायक शिक्षकों, 410 अंग्रेजी व्याख्याता, 306 अंग्रजी माध्यम के सहायक शिक्षकों के साथ अन्य पदों पर 1420 लोगों की भर्ती की गयी है। पुलिस विभाग में 3682 कॉन्सटेबल के पदों पर भर्ती की जा रही है।  छत्तीसगढ़ लोक सेवा के माध्यम से 503 पदों पर भर्ती की गई तथा 1972 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग में 250 पटवारियों, स्वास्थ्य विभाग 228 लेब टेक्निशियन, उच्च न्यायालय में हेल्पर ग्रेड-3 और कम्प्यूटर ऑपरेटर के 177 पदों तथा लोक निर्माण विभाग में 118 सब इंजीनियर (सिविल) की भर्ती की गई है।

उद्योगों के माध्यम से पिछले 10 माह में लगभग 10 हजार 640 लोगों को रोजगार के अवसर मिलें हैं। राज्य सरकार द्वारा उद्योगों को दी जा रही सुविधाओं और प्रोत्साहन से पूरे देश में आर्थिक मंदी के माहौल के बीच छत्तीसगढ़ में उद्योगों और इससे जुड़े क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति दर्ज की गई है। पिछले 10 माह में अल्ट्रा-मेगा उद्योगों की 2 यूनिट स्थापित की गई है, जिनमें  411 लोगों को प्रबंधन के क्षेत्र में, 1520 कुशल श्रमिकों तथा 948 अकुशल श्रमिकों को रोजगार के अवसर मिले। इस अवधि में एक मेगा उद्योग की स्थापना हुई जिसमें 170 लोगों को प्रबंधन में, 551 कुशल श्रमिकों तथा 194 अकुशल श्रमिकों और सात बड़े उद्योगों स्थापना में 73 लोगों को प्रबंधन, 192 कुशल श्रमिकों और 374 अकुशल श्रमिकों को रोजगार मिला। इसके अलावा मध्यम श्रेणी के 17 उद्योग स्थापित हुए, जिनमें 94 लोगों को प्रबंधन, 251 कुशल श्रमिकों और 431 अकुशल श्रमिकों इसी प्रकार 274 छोटे उद्योग की स्थापना हुई जिसमें 570 लोगों प्रबंधन में, 1138 कुशल श्रमिकों और 2146 अकुशल श्रमिकों, इसी अवधि में स्थापित किए गए 215 सूक्ष्म उद्योगों में 248 लोगों को प्रबंधन, 493 कुशल श्रमिकों और 836 अकुशल श्रमिकों को रोजगार मिला।


मुख्यमंत्री ने सुकमा में गौठान का निरीक्षण किया : ग्रामीणों ने जैविक सब्जियों से किया  मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत

मुख्यमंत्री ने सुकमा में गौठान का निरीक्षण किया : ग्रामीणों ने जैविक सब्जियों से किया मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत

07-Nov-2019

सुकमा : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज जिला मुख्यालय सुकमा के दौरे पर सुकमा के रामपुरम के पास गीदम में गौठान का अवलोकन किया। ग्रामीणों ने तुमा और तरोई जैसी जैविक सब्जियां भेंट कर और खुमरी पहनाकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया। सीएम बघेल ने सुकमा के मिनी स्टेडियम में आयोजित पंच-सरपंच एवं किसान सम्मेलन में लगभग 168 करोड़ 59 लाख रूपए की लागत के 64 विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस अवसर पर उद्योग मंत्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, लोकसभा सांसद दीपक बैज और विधायक सर्वश्री मोहन मरकाम, लखेश्वर बघेल और विक्रम मण्डावी सहित अनेक जनप्रतिनिधि और ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने सुकमा में आयोजित कार्यक्रम में लगभग 85 करोड़ 26 लाख रुपए से अधिक के 28 विकास कार्यों का लोकार्पण और 83 करोड़ 32 लाख 97 हजार रुपए के 36 विकास कार्यों का भूमिपूजन किया। 

सीएम बघेल ने कोकराल से पुसपाल मार्ग पर बारुनदी में 5 करोड़ 46 लाख रुपए की लागत से निर्मित उच्चस्तरीय पुल, 8 करोड़ रुपए की लागत से सुकमा में निर्मित एकलव्य आदर्श आवासीय परिसर, 11 करोड़ 61 लाख रुपए की लागत से सुकमा में निर्मित 500 सीटर अनुसूचित जनजाति कन्या शिक्षा परिसर भवन, 3 करोड़ 82 लाख रुपए की लागत से छिन्दगढ़़, कोडरीपाल, पुसपाल, तोंगपाल, लेदा, गादीरास, केरलापाल, कोर्रा, चिन्तागुफा, मुण्डपल्ली, कुकानार और कोण्टा में निर्मित सहकारिता गोदाम, 8 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित 250 सीटर बालक छात्रावास भवन, 8 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित बालिका छात्रावास भवन, 2 करोड़ 17 लाख 16 हजार रुपए की लागत से पुसपाल में निर्मित 33/11 केवी विद्युत उपकेन्द्र और 1 करोड़ 56 लाख रुपए की लागत से एर्राबोर में निर्मित 33/11 केवी विद्युत उपकेन्द्र का लोकार्पण किया। 

उन्होंने कार्यक्रम में 10 करोड़ 46 लाख रुपए की लागत से सुकमा में बनने वाले आदर्श महाविद्यालय भवन, सुकमा में 4 करोड़ 17 लाख रुपए की लागत के फूड पार्क, मारोकी, मानकापाल, पोंगाभेज्जी, बड़े गुरवे, बाड़नपाल, कांकेरलंका, कनकापाल, गोलापल्ली, आगरगट्टा, कांजीपानी, कोर्रा, गगनपल्ली, गंजेनार, गोरखा, हमीरगढ़ में लगभग 6 करोड़़ रुपए की लागत से बनने वाले उप स्वास्थ्य केन्द्र, जिला चिकित्सालय सुकमा में 1 करोड़ 14 लाख रुपए की लागत के ट्रांजिस्ट हॉस्टल, रोकेल में फूल नदी पर 2 करोड़ रुपए की लागत के डायवर्सन कार्य, छिंदगढ़ और गंजेनार में 8 करोड़ रुपए की लागत के बनने वाली समूह जल प्रदाय योजना, 49 लाख 66 हजार रुपए की लागत से पोलमपल्ली के आश्रिम ग्राम इत्तागुड़ा, पातापारा, बरदेलतोंग में नलजल योजना, 2 करोड़ 47 लाख 84 हजार रुपए की लागत के गोरली नदी व्यपवर्तन योजना भूमिपूजन और शिलान्यास किया।


रायपुर : युवक को चाकू मारकर 30 हजार की लूट, आरोपियों की पहचान हुई

रायपुर : युवक को चाकू मारकर 30 हजार की लूट, आरोपियों की पहचान हुई

06-Nov-2019

रायपुर : टिकरापारा क्षेत्र में आज बुधवार (6 नवम्बर) की सुबह एक युवक को चाकू मारकर उससे 30 हजार की लूट होने की खबर आई है मीडिया में आ रही जानकारी के अनुसार घटना आज सुबह की बताई जा रही है जहां दो बदमाश चंदन और गब्बर ने एक युवक से नशे के लिए पैसे मांगे पीड़ित द्वारा पैसे नहीं देने पर आरोपियों ने उसे चाकू मारकर उससे 30 हजार रुपए ​लूट लिए। टिकरापारा पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और दोनों ही आरोपियों की तलाशी कर रही है।


दुर्ग : सांई प्रसाद, कंस्टो प्राइवेट लिमिटेड एवं संस्कारधानी इंफ्रा हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टरों की संपत्ति होगी कुर्क

दुर्ग : सांई प्रसाद, कंस्टो प्राइवेट लिमिटेड एवं संस्कारधानी इंफ्रा हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टरों की संपत्ति होगी कुर्क

06-Nov-2019

दुर्ग : चिटफंड पाबंदी अधिनियम एवं छत्तीसगढ़ निक्षेपकों के हितों के संरक्षण अधिनियम के तहत् आम जनता को लोक लुभावनी योजना बताकर रूपए जमाकर लोगों के साथ धोखाधड़ी, छल, फरेब कर राशि गबन किए जाने के कारण संस्था सांई प्रसाद प्राइवेट लिमिटेड, कंस्टो प्राइवेट लिमिटेड एवं संस्था संस्कारधानी इंफ्रा हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड के संचालकों की संपत्ति कुर्क की जाएगी। जिला दंडाधिकारी श्री अंकित आनंद ने छत्तीसगढ़ निक्षेपकों के हितों के संरक्षण अधिनियम के तहत् उक्त संस्थाओं के संचालकों की संपत्ति कुर्क किए जाने के संबंध में आदेश जारी किए हैं।

सांई प्रसाद प्राइवेट लिमिटेड एवं कंस्टो प्राइवेट लिमिटेड के संचालक बाला साहब भापकर, शशांक भापकर, पता सांई दरबार उद्यान सोसायटी पिकरी चिचवंड, लिंक रोड पुणे महाराष्ट्र के द्वारा आम जनता को अपने संस्था में राशि जमा कराकर धोखाधड़ी किया गया है। इसी प्रकार संस्था संस्कारधानी इंफ्रा हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड, पता प्लाट नं. 81 कमर्शियल काम्पलेक्स नेहरू नगर भिलाई के संचालक इदरिस अहमद एवं शहनवाज हुसैन पता गौसीया मस्जिद के पास केम्प 01 भिलाई के द्वारा लोक लुभावनी योजना के नाम पर लोगों से रूपए जमा कराकर धोखाधड़ी व गबन करने पर उनके संपत्ति को कुर्क करने के आदेश जारी किए गए हैं।


दंतेवाड़ा : मुठभेड़ में मारे गए 2 ईनामी नक्सली, दो भरमार बंदूक और भारी मात्रा में डेटोनेटर बरामद

दंतेवाड़ा : मुठभेड़ में मारे गए 2 ईनामी नक्सली, दो भरमार बंदूक और भारी मात्रा में डेटोनेटर बरामद

05-Nov-2019

दंतेवाड़ा जिले में सुरक्षा बल के जवानो और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ होने की खबर आई है मिल रही जानकारी के अनुसार मुठभेड़ में मारे गए नक्सलियों की पहचान हिड़मा मंडावी कटेकल्याण एलजीएस सदस्य व हूंगा मंडावी कटेकल्याण मिलिशिया प्लाटून कमांडर के रूप में की गई है। दोनों पर एक - एक लाख का इनाम घोषित किया गया था। सर्च के दौरान जवानो ने वहां से दो भरमार बंदूक और भारी मात्रा में डेटोनेटर बरामद किया है।

 


बीजापुर : इंद्रावती नदी में एक नाव  पलटने से 2 लोग बहे, तलाश जारी, नाव में थे 8 लोग सवार

बीजापुर : इंद्रावती नदी में एक नाव पलटने से 2 लोग बहे, तलाश जारी, नाव में थे 8 लोग सवार

02-Nov-2019

बीजापुर जिले से एक बड़ी खबर प्राप्त हो रही है बताया जा रहा है कि इंद्रावती नदी में एक नाव पलट गया है जिससे 3 लोग नदी में डूब गए हैं डूबने वाले में  1 मासूम सहित 3 ग्रामीण शामिल हैं जिसमें से रंजीत नाम के बच्चे को एक महिला ने बचा लिया. वही 2 अन्य ग्रामीण पोनेडवाया निवासी टिंगरी वेकको और बेलनार निवासी गल्ले कोरसा की तलाश की जा रही है. बताया जा रहा है कि इंद्रावती नदी के नेलसनार के शतवा घाट पर छोटी सी डोंगी में कुल 8 ग्रामीण सवार होकर तुमनार बाजार जा रहे थे और यह हादसा घटित हो गया पानी का तेज बहाव के कारण डूबे हुए दोनों लोगों की मौत होने की आशंका जताई जा रही है. सूचना मिलने के बाद मौके पर तहसीलदार पहुंचे हुए है. 

 


RAIPUR : ’राज्य स्थापना दिवस पर विशेष लेख’ : वनांचलों में खुशहाली और तरक्की की नई बयार

RAIPUR : ’राज्य स्थापना दिवस पर विशेष लेख’ : वनांचलों में खुशहाली और तरक्की की नई बयार

31-Oct-2019

रायपुर : छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में आदिवासियों की उन्नति और बेहतरी के लिए कई अभिनव योजनाएं बनाकर सार्थक पहल की जा रही है। तेंदूपत्ता संग्रहण की दर ढाई हजार रूपए से बढ़ाकर चार हजार रूपए प्रति मानक बोरा कर दी गई है। यह दर देश में सबसे अधिक है। अब 15 वनोपजों की खरीदी समर्थन मूल्य पर की जाएगी। बस्तर में प्रस्तावित स्टील प्लांट नहीं बनने पर लोहंड़ीगुड़ा क्षेत्र के किसानों की अधिगृहित भूमि लौटाने का महत्वपूर्ण निर्णय भी लिया गया है। यहां आदिवासियों को 4200 एकड़ जमीन वापस कर राजस्व अभिलेखों में नाम दर्ज करने की कार्रवाई भी पूर्ण कर ली गई है। राज्य सरकार ने आदिवासियों के हित में अनेक ऐतिहासिक निर्णय लिए हैं, जिनमें वन अधिकार अधिनियम-2006 के सुचारू संचालन के लिए प्रशिक्षण, कार्यशाला आयोजित कर स्वीकृत नहीं किए गए प्रकरणों की समीक्षा कर निराकरण किया जा रहा है। अबूझमाड़ क्षेत्र के विशेष रूप से कमजोर जनजाति अबूझमाड़िया को वन अधिकार पत्र प्रदान करने की विशेष पहल की जा रही है। इसी तरह बच्चे के जन्म लेने के उपरांत पिता की जाति के आधार पर उसे जाति प्रमाण पत्र तत्काल प्रदान करने का निर्णय भी विशेष रूप से उल्लेखनीय है।

    राज्य सरकार द्वारा वनांचल क्षेत्रों में शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के लिए कई नए निर्णय लिए गए हैं। वनवासियों के वन अधिकार कानूनों का लाभ दिलाने के लिए वन अधिकार मान्यता पत्र की समीक्षा, वन क्षेत्रों में किसानों को सिंचाई सुविधा के लिए नदी-नालों के पुर्नजीवन के कार्यों को प्राथमिकता दी जा रही है। इन अंचलों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए हाट बाजारों में मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना और महिलाओं और बच्चों में कुपोषण को दूर करने के लिए गरम पौष्टिक भोजन देने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान शुरू की गयी। इन योजनाओं की सफलता को देखते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती से इस योजना को पूरे प्रदेश में लागू किया गया है।

 राज्य सरकार द्वारा जनगणना वर्ष 2011 की आबादी के अनुसार राज्य स्तरीय सीधी भर्ती के पदों में अनुसूचित जनजाति के लिए 32 प्रतिशत और अनुसूचित जाति के लिए 13 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई है साथ ही आरक्षण के अनुरूप ही पदोन्नति में भी लाभ देने का निर्णय लिया गया है। आदिवासी संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल राजधानी रायपुर में 27, 28 और 29 दिसंबर को आयोजित किया जाएगा। इसी प्रकार नक्सल प्रभावित क्षेत्र अबूझमाड़ अंतर्गत बस्तर संभाग के जिला नारायणपुर, बीजापुर तथा दंतेवाड़ा के लगभग 275 से अधिक असर्वेक्षित ग्रामों में वर्षों से निवासरत लगभग 50 हजार से अधिक लोगों को उनके कब्जे में धारित भूमि का मसाहती खसरा एवं नक्शा उपलब्ध कराया जाएगा। इस निर्णय से किसान परिवारों के पास उनके कब्जे की भूमि का शासकीय अभिलेख उपलब्ध हो सकेगा तथा वे अपने काबिज भूमि का अंतरण कर सकेंगे। इससे अबूझमाड़ क्षेत्र अंतर्गत लगभग 10 हजार किसानों को 50 हजार हेक्टेयर से अधिक भूमि का स्वामित्व प्राप्त होगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा आदिवासी समाज के हित में विश्व आदिवासी दिवस पर सामान्य अवकाश घोषित करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। बस्तर और सरगुजा में कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड का गठन करने की घोषणा से स्थानीय युवाओं को भर्ती में प्राथमिकता मिलेगी। पांचवीं अनुसूची के जिलों में बस्तर, सरगुजा संभाग और कोरबा जिले में तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के पदों पर स्थानीय लोगों की भर्ती के लिए आयु सीमा में तीन वर्षीय छूट के आदेश जारी किए हैं। एनएमडीसी के नगरनार प्लांट में गु्रप सी और गु्रप डी की भर्ती परीक्षा दंतेवाड़ा में ही कराने के लिए राज्य सरकार की पहल पर एनएमडीसी द्वारा सहमति दी गई है। मुख्यमंत्री ने नक्सल पीड़ित युवा बेरोजगारों को डीएमएफ मद से बीएड की डिग्री पूर्ण होने पर रोजगार प्रदान करने और भोपालपट्टनम में बांस आधारित कारखाना स्थापित करने की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने आदिवासी क्षेत्र विकास प्राधिकरणों का अध्यक्ष स्थानीय विधायकों को बनाने का फैसला लिया गया है। बस्तर एवं दक्षिण क्षेत्र विकास प्राधिकरण तथा सरगुजा एवं उत्तर क्षेत्र विकास प्राधिकरण को समाप्त करते हुए अब तीन प्राधिकरण बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण, सरगुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण और मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण का गठन कर आदिवासियों को अधिकार सम्पन्न बनाया गया है। प्रत्येक प्राधिकरण में क्षेत्रीय अनुसूचित जनजाति विधायकों में से एक अध्यक्ष और दो उपाध्यक्ष नियुक्त किए गए हैं। पहले इन प्राधिकरणों के अध्यक्ष मुख्यमंत्री होते थे। अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण अब स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल जैसे कार्यों तथा अन्य प्राथमिकता के 11 प्रकार के कार्यों को स्वीकृत किए जाएंगे। ये कार्य अब बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण, सरगुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण और मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के अंतर्गत भी किए जाएंगे। सरकार ने निर्णय लिया है कि नक्सल प्रभावित अंचलों में अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहवासियों के विरूद्ध दर्ज प्रकरणों की समीक्षा की जाएगी। आपराधिक प्रकरणों से प्रभावित आदिवासियों को राहत और प्रकरण वापसी के लिए सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में समिति गठित की गई है।

 सीएम भूपेश बघेल ने आदिवासी अंचलों में नई पहल करते हुए इन्द्रावती नदी विकास प्राधिकरण के गठन, बस्तर में आदिवासी संग्राहलय की स्थापना की घोषणा की है। राज्य सरकार द्वारा निर्णय लिया गया है कि डीएमएफ की राशि का उपयोग खदान प्रभावित क्षेत्र में लोगों के जीवन में बेहतर परिवर्तन लाने के लिए किया जाएगा। आदिवासी क्षेत्रों में कुपोषण दूर करने के लिए चना वितरित किया जा रहा है, यहां गुड़ भी दिया जाएगा। बस्तर संभाग में कुपोषण दूर करने के लिए बच्चों और महिलाओं को विशेष पोषण आहार के वितरण का काम प्रारंभ हो चुका है। राज्य सरकार के प्रयासों की सराहना नीति आयोग ने भी की है। इसी तरह सुकमा जिले के घोर नक्सल प्रभावित जगरगुण्डा सहित 14 गांवों की एक पूरी पीढ़ी 13 वर्षों से शिक्षा से वंचित थीं। अब यहां स्कूल भवनों का पुनर्निर्माण कर दिया गया है। साथ ही कक्षा पहली से बारहवीं तक के बच्चों को प्रवेश दिलाकर उनकी शिक्षा प्रारंभ की गई है। यहां 330 बच्चों को निःशुल्क आवासीय सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इस तरह 13 साल के अंधकार के बाद शिक्षा की ज्योति फिर एक बार प्रज्ज्वलित हो उठी हैं। मुख्यमंत्री द्वारा तोंगपाल, गादीरास और जगरगुण्डा को उप तहसील का दर्जा देने की घोषणा की गई है। सरगुजा में नये 100 बिस्तर जिला अस्पताल के लिए 135 पदों का सृजन, उद्यमिता विकास संस्थान की स्थापना की जाएगी। जशपुर जिले में मानव तस्करी रोकने विशेष सेल का गठन, शंकरगढ़ विकासखण्ड में को-ऑपरेटिव बैंक की शाखा खोली जाएगी। जशपुर में एस्टोटर्फ हॉकी मैदान का निर्माण किया जाएगा।

मुख्यमंत्री बघेल के नेतृत्व में सरकार द्वारा रोजगार की बेहतर व्यवस्था करने के प्रयास लगातार किए जा रहे हैं। लोक निर्माण विभाग के माध्यम से संचालित निर्माण कार्यों के द्वारा भी स्थानीय युवाओं को रोजगार देने के प्रयास हो रहा है। इन क्षेत्रों में लघु वनोपज पर आधारित लघु उद्योगों और प्रसंस्करण इकाईयों को प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया गया है। जिससे यहां के नागरिकों को रोजगार और आय अर्जन के अवसर मिल सकेंगे। सीएम बघेल ने इन क्षेत्रों में लघु वनोपजों पर आधारित प्रसंस्करण इकाईयों की स्थापना के लिए प्रधानमंत्री से वन अधिनियम के प्रावधानों को शिथिल करने का आग्रह किया गया है, जिससे यहां रोजगारमूलक इकाईयों के लिए जमीन आवंटित करने और संचालित करने के लिए सुविधा मिलेगी। 


घर पर अकेली युवती से सामूहिक दुष्कर्म, वीडियो बनाकर वायरल करने और जान से मारने की दी धमकी

घर पर अकेली युवती से सामूहिक दुष्कर्म, वीडियो बनाकर वायरल करने और जान से मारने की दी धमकी

30-Oct-2019

श्याम नारायण गुप्ता पत्थल गांव 

जशपुर। दिनों-दिन बलात्कार का ग्राफ बढ़ते ही जा रहा है। महिलाओं को डरा-धमका कर चुप रहने को कहा जाता है। ऐसा ही घटना छत्तीसगढ़ के जश्पुर जिला के बगीचा से सामने आया है। सरकार द्वारा कठोर कानून बने के बाद भी बेखोप बलात्कार जैसी घटना को दिनदहाड़े अंजाम दिया जा रहा है ।अपराधी को कानून का कोई डर नही । यहां एक महिला को घर में अकेला पाकर उसके साथ सामूहिक बलात्कार को अंजाम दिया गया है। वहीं महिला को जान से […]

जशपुर। दिनों-दिन बलात्कार का ग्राफ बढ़ते ही जा रहा है। महिलाओं को डरा-धमका कर चुप रहने को कहा जाता है। ऐसा ही घटना छत्तीसगढ़ के जश्पुर जिला के बगीचा से सामने आया है। यहां एक महिला को घर में अकेला पाकर उसके साथ सामूहिक बलात्कार को अंजाम दिया गया है। वहीं महिला को जान से मारने और बलात्कार के वक़्त बनाया गया वीडियो वायरल करने की धमकी दी है। लेकिन, महिला के साहस दिखाने के बाद एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

बगीचा थाना क्षेत्र में रहने वाली युवती के साथ घर में घुसकर इलताब अंसारी और उसके तीन दोस्तो ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया। घटना के बाद से आरोपी पीड़िता को फोन पर लगातार जान से मारने की धमकी दे रहे थे। आरोपियों ने युवती का वीडियो बनवाकर उसे वायरल करने की धमकी भी दे रहे थे। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, मामले की तीन आरोपी घटना के बाद से फरार हैं जिनकी तलाश  पुलिस सरगर्मी से कर रही है।