म.प्र.में दर्दनाक हादसा, बारात ले जा रहा मिनी ट्रक नदी में गिरा, 20 की मौत

म.प्र.में दर्दनाक हादसा, बारात ले जा रहा मिनी ट्रक नदी में गिरा, 20 की मौत

18-Apr-2018

सीधी। मध्यप्रदेश के सीधी जिले के अमलिया थाना क्षेत्र में मंगलवार रात एक मिनी ट्रक के दुर्घटनाग्रस्त होकर सोन नदी के पुल से नीचे गिर गया। हादसे में लगभग बीस बारातियों की मौत हो गई और पच्चीस घायल हो गए।
पुलिस सूत्रों के अनुसार सिंगरौली जिले के देवसर से सीधी के पमरिया गांव बारात लेकर आ रहा मिनी ट्रक बहरी और अमलिया थाना क्षेत्र के बीचों बीच स्थित सोन नदी पर बने जोगदहा पुल पर दुर्घटनाग्रस्त होकर नदी के बीच में गिर गया। घायलों में पंद्रह को बरही के अस्पताल में तथा दस को सीधी जिला अस्पताल ले जाया गया है।
देर रात्रि हुई दुर्घटना की सूचना के बाद पुलिस और प्रशासन ने स्थानीय नागरिक की मदद से राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया। अनुमान है कि ट्रक में लगभग पचास यात्री सवार थे। बताया गया है कि अब तक पन्द्रह बारातियों के शव नदी से निकाल जा चुके हैं।
अंधेरा होने के बजह से राहत एवं बचाव कार्य में परेशानियां हो रही है। जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित अन्य आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। वाहन नदी के बीचों बीच गिरा है। बताया गया है कि मुस्लिम परिवार की एक बारात सिंगरौली जिले के देवसर के हर्राबिजी गांव से सीधी जिले के पमरिया जा रही थी। (वार्ता)

 


रायपुर : प्रदर्शन कर रहे 108 और 102 के कर्मचारियों ने मुंडवाया अपना सिर

रायपुर : प्रदर्शन कर रहे 108 और 102 के कर्मचारियों ने मुंडवाया अपना सिर

07-Apr-2018

रायपुर : अपने 6 सूत्रीय मांगो को लेकर धरने पर बैठे संजीवनी 108 और 102 महतारी एक्सप्रेस सेवा के कर्मचारियों ने आज शनिवार 7 अप्रैल को राज्य सरकार के खिलाफ नाराजगी जताते हुए अपना मुंडन कराया 15 ड्राईवरों ने अपना मुंडन कराया है आपको बता दें की संजीवनी और महतारी एक्सप्रेस के कर्मचारी अपने छः सूत्रीय मांग जिसमें न्यूनतम मजदूरी लागू कर एरियर्स का भुगतान, कार्य का समय 8 घंटे करना ठेका प्रथा को खत्म करने को लेकर हड़ताल पर हैं ।

 
 
 

जगदलपुर : इंद्रावती सेतू घूमने आए एक बच्चे की डूबकर मौत

जगदलपुर : इंद्रावती सेतू घूमने आए एक बच्चे की डूबकर मौत

04-Apr-2018

जगदलपुर: जगदलपुर जिले से कोतवाली थाना क्षेत्र के पथरागुडा इलाके में इंद्रावती सेतू घूमने आए एक बच्चे की डूबकर मौत हो गई मामले की जानकारी अनुसार कोतवाली थाना क्षेत्र के पथरागुडा इलाके में रहने वाले दो बच्चे इंद्रावती सेतू घूमने निकले थे. उसी दौरान एक बच्चा नदी में डूब गया. बच्चे की तलाश अभी भी जारी है बालक की उम्र 12 वर्ष बताई जा रही है विस्तृत खबर की प्रतीक्षा है अभी पूर्ण जानकारी प्राप्त नहीं हो पाई है ।


व्यक्ति विशेष : गरीब,असहाय लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार, मो. सज्जाद खान

व्यक्ति विशेष : गरीब,असहाय लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार, मो. सज्जाद खान

31-Mar-2018

UPDATE : KP STAFF

रायपुर : मानवता की सेवा ही सबसे बड़ा धर्म है. गरीब व असहायों की मदद के लिए संपन्न समाज को सदैव आगे आना चाहिए. अगर समाज में जागरूकता रहे तो गरीबों जरूरत मंद असहाय लोगों की मदद सरलता से की जा सकती हैं। आज हमारे सामाजिक जीवन में बहुत से विषय है जिस पर लोगों की ध्यान केंद्रित नहीं हो पाती जिसको लेकर चिंतन की आवश्यकता हैं । हम सभी के लिए जवाबदेहीं बनतीं हैं हर इंसान के लिए जीवन बहुत ही अमूल्य धरोहर है इसें एक मजबूत धागों मे मजबूती के साथ मोतियों मे पिरोये रखने जरूरत है यदि पिरोये हुए धागे एकता मजबूत बनाने में सफल होतें हैं तो मोतियों की चमक भी वक्त के मुताबिक धरोहर के रूप रखें जा सकते हैं। कभी कभी मनुष्य के जीवन के संकट के बादल घिर जाए तो सारा जमाना भी काली घटा नजर आती हैं.

कहते हैं ना की डूबते हुए लोगों को एक तिनके का सहारा बहुत बड़ी उम्मीदें बांध दिया करती हैं। जिसके अंदर इंसानियत का जज्बा हो और कुछ कर गुजरने के लिए व्यक्ति विशेष पर विश्वास आज उसी विश्वास को जानने के लिए हम समाज सेवकों के करीब गया जिसमें गरीबों एवं जरूरत मंदो के सेवा से ही उनके जीवन के जरिए ही लोगों के उद्धार देखने को मिला वो हैं इंसानियत और जरूरतमंद बेसहारा असहाय लोगों का सहारा जिनका नाम मोहम्मद सज्जाद खांन जी समाज के हितों को ध्यान मे रखते हुए समाज के ही कुछ शिक्षित एवं जागरूक लोगों द्वारा सामाजिक संस्था गठित की जाती हैं ।

ठीक उसी प्रकार समाज मे हो रहे अत्याचार,अपराध,अन्याय का विरोध करने बेसहारा लोगों को सहारा देने आज से 20 वर्षों पूर्व मोहम्मद सज्जाद खांन जी नें निस्वार्थ रूप से समाज एवं देश हित के लिए मानव समाज के सेवा करने के उद्देश्य से संस्था “अवाम-ए- हिन्द सोशल वेलफेयर कमेटी” का गठन किया। इस संस्था के द्वारा विगत 20 वर्षों से समाज में गरीबो बेसहारो की मदद, शिक्षा के क्षेत्र मे गरीब बच्चों को निरंतर सहायता प्रदान की जा रही हैं। मो. सज्जाद खान जी ने समाज की पीड़ा को अपनी पीड़ा समझा

सज्जाद खान जी के लिए सबसे बड़ी धर्म इंसानियत ही धर्म हैं जिसनें मानव सेवा निस्वार्थ भाव से की वो आत्म शांति को प्राप्त कर लिया वहीं एक चीज हैं जो मनुष्य  को ऊंचा उठा सकती है बुंलदियों पर उठा कर महान बना सकती हैं शांति दे सकती हैं। और समाज के लिए उपयोगी बना पाने में मदद कर सकती हैं विचार करने का क्रम आदमी का किसका कैसा है।? बस असल में वहीं उसका स्वरूप हैं। ऐसी सेवा भाव के स्वरूप हैं। सज्जाद खांन जी का कहना है की आज मानव विज्ञान टेक्नोलॉजी के उत्कर्ष के कारण समस्त सुविधाओं और संसाधनों से परिपूर्ण जीवन जी रहा है। ऐसे समय मे भी मानवता को अत्याचार हिंसा आक्रोश से छुटकारा नहीं मिल रहा हैं । सभी प्रकार के सुख सुविधाओं और विपुल उपग्रह पर लोग भौतिक सुख का लाभ उठा पा रहे हैं दूसरी ओर करोड़ों लोग आध्यात्मिक कुपोषण से ग्रस्त है और यही कारण है की सारा समाज बारूद के ढ़ेर पर बैठा हैं ।

इन सब की चिंता दुनिया के तमाम चिंतको  को हैं लेकिन विगत कई वर्षो रामनगर गुढ़ियारी रायपुर छत्तीसगढ़ मे सालो से निवास करने वाले सज्जाद भाई ने इस इलाके की असामाजिक तत्वों शराबखोरी से उजड़ते हुए घरों मे समाजसेवा करके एक मिसाल कायम की है। सज्जाद जी ने बताया बचपन से ही वे अन्याय अपराध का विरोध करने में अस्मर्थ रहे क्योंकि वे एक कम उम्र की वजहों से और धनवान रसूखदारो उनकी बातें अनसुनी कर दिया जाता रहा। इसी बातों को लेकर बहुत ही चिंतित रहते थे लोगों पर हो रहे अत्याचार अपराध असहाय बेबस लोगों को तकलीफ मे देख उन्हें बहुत दुख होता था।  सज्जाद जी बचपन से ही लोगों की समस्या को महसूस किया खुद की चिंता किये बगैर समाज के कल्याण एवं जनमानस की समस्याओं का निराकरण के चिंतन व्यक्त करने लगे

युवा अवस्था में पहुँचकर सज्जाद जी ने समाज मे पीड़ित लोगों को साथ देना शुरू किया महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर उनकों उनका हक दिलाने अपनी संभव सहायता प्रदान की, सज्जाद जी ने सामाजिक संस्था को मजबूती मिलते देख सन 1997 को अवाम-ए-हिन्द नाम से संस्था गठित किया जो हिन्द की जनता के नाम से जाना जा रहा। वर्तमान में संस्था के संस्थपाक मों सज्जाद खांन जी हैं। जो संस्था सोसायटी अधिनियम सोसायटी परामर्श छत्तीसगढ़ शासन से मान्यता प्राप्त है। आज उनके द्वारा निरंतर प्रयास से संस्था “अवाम-ए-हिन्द सोशल वेलफेयर कमेटी” विगत सन 1997 से जरूरत मंद गरीब बेसहारा लोगों के जमीनी स्तर पर। हर समाज हर वर्ग के लिए जनहित एवं सामाजिक कार्य करते हुए आ रही हैं। वर्ष 2005 से निरंतर सेवा की इस कड़ी में अवाम ए हिन्द सोशल वेलफेयर कमेटी द्वारा गरीब महिलाओं एवं बच्चियों के लिए निःशुल्क प्रशिक्षण, सिलाई, कड़ाई, बुनाई, मेहंदी, पेंटिंग की परीक्षा आयोजित की गई प्रशिक्षण केंद्र में गरीब परिवार के महिलाओं एवं बच्चियों को आत्मनिर्भर बनाया गया। संस्था द्वारा निरंतर प्रयास से जब इस बात की जानकारी शहर मे पहुंची तब 31 जनवरी 2006 मे प्रदेश में शहीद हुए पुलिस अधीक्षक स्वर्गीय बीके चौबे की धर्मपत्नी के माध्यम से पुलिस लाईन मे शहीद हुए पुलिस जवानों के बच्चियों एवं महिलाओं को जा कर संस्था ने निःशुल्क प्रशिक्षण दिये गए। तत्पश्चात संस्था के क्रियाकलापों से अवगत होकर संस्था के बेहतर कार्यों को देखकर राज्य की प्रथम महिला वीणा सेठ ने मुतासिर होकर संस्था से जुड़ने की कोशिश की इस बीच कई प्रकार की अफवाह फैलाकर उन्हें गरीब मोहल्ले में आने के लिए रोका गया क्योंकि उस वक्त क्षेत्र में संक्रमण बीमारियों का बोलबाला था।


बोरियाकला क्षेत्र में एक युवक की हत्या, पुलिस जाँच में जुटी

बोरियाकला क्षेत्र में एक युवक की हत्या, पुलिस जाँच में जुटी

30-Mar-2018

रायपुर : राजधानी के बोरियाकला क्षेत्र में आज व्यक्ति की बीच सड़क लाश मिलने से सनसनी फैल गई मिली जानकारी अनुसार व्यक्ति की हत्या आज सुबह किया गया है मृतक राजेन्द्र खंडेलवाल रोज की तरह आज भी अपने प्रेमिका से मिलने आया था वह 4 बजे घर से टहलने के लिए निकला था। इस दौरान प्रेमिका के घर से करीब आधे किलोमीटर की दूरी पर टंगिया जैसी धारदार हथियार से उस पर हमला कर हत्या कर दी गई। इससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। 

एक पत्नी, चार बच्चे फिर भी चढ़ा था इश्क का भूत, रोज की तरह आया था प्रेमिका से मिलने, पहले से ही बाहें फैलाए खड़ी थी मौत

मृतक पहले से ही शादीशुदा है और उसकी पहली पत्नी रेलवे कॉलोनी में रहती है। उसके चार बच्चे हैं। वहीँ मृतक की प्रेमिका बोरियाकला में रहती है। उसके साथ भी उसके 3 बच्चे हैं। कहा जा रहा है की युवक ने अपनी प्रेमिका से शादी नहीं की थी मृतक दोनों ही महिलाओं के साथ रहता था फ़िलहाल पुलिस अज्ञात हत्यारे की तलाश में है ।

 
 
 

बाइक सवारों को ट्रक ने मारी टक्कर, 4 की मौत

बाइक सवारों को ट्रक ने मारी टक्कर, 4 की मौत

27-Mar-2018

रायगढ़ : रायगढ़ जिले से आज मंगलवार 27 मार्च को एक बाइक के एक्सीडेंट होने की खबर आई है सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार दुर्घटना छाल थानाक्षेत्र का है जहाँ एक बाइक पर पांच लोग सवार थे जिसमें पति-पत्नी दो बेटियां और एक बेटा शामिल था बताया जा रहा है की बाइक को एक ट्रक ने टक्कर मार दी जिससे पति-पत्नी और दोनों बेटियों की मौत हो गई जबकि पुत्र की हालत भी चिंताजनक बताई जा रही है बहरहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और फरार ट्रक चालक की तलाश में है । 

 
 
 

गन्ने की खेत में लगी भयंकर आग, 20 एकड़ में लगा हुआ है गन्ना, लोग बुझाने में जुटे

गन्ने की खेत में लगी भयंकर आग, 20 एकड़ में लगा हुआ है गन्ना, लोग बुझाने में जुटे

26-Mar-2018

कवर्धा : कवर्धा जिले के दौजरी गांव से एक बड़ी खबर आ रही है खबरों के अनुसार जिले के दौजरी गाँव में आज सोमवार 26 मार्च को अचानक गन्ने के 20 एकड़ एक खेत में आग लग गई है जिसे बुझाने के लिए ग्रामीणों का प्रयास जारी है खबरों में कहा जा रहा है की खेत में पहुँचने के लिए रास्ता न होने के करण फायर ब्रिगेड की गाड़ियाँ वहां नहीं पहुँच पाई है फिर भी ग्रामीण अपने स्तर तक आग बुझाने की कोशिश में लगे हुए हैं बहरहाल विस्तृत खबर की प्रतीक्षा है ।

 
 
 

NRDA द्वारा नया रायपुर के स्कूली बच्चों को आज से इम्मीरशिव डोम में दिखाया जाएगा शिक्षात्मक फिल्मे

NRDA द्वारा नया रायपुर के स्कूली बच्चों को आज से इम्मीरशिव डोम में दिखाया जाएगा शिक्षात्मक फिल्मे

23-Mar-2018

रायपुर : नया रायपुर डेवलपमेंट अथॉरिटी द्वारा आज शुक्रवार  से नया रायपुर के स्कूली बच्चों को इम्मीरशिव डोम में शिक्षात्मक फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा ।1 दिन में 2 फिल्म दिखाई जाएगी ।एक पाली में डेढ़ सौ बच्चों को फिल्म दिखाई जाएगी। बच्चों को लाने ले जाने हेतु बीआरटीएस की बसों एवं पब्लिक बाइक शेयरिंग के साइकलों का उपयोग किया जाएगा। विदित हो कि नया रायपुर के सेक्टर 21 क्याबन्धा में 5 डी डोम में प्रतिदिन फिल्म दिखाई जाती है।


कमल विहार के प्लाटों पर दी जा रही छूट लेने के लिए बचे अब सिर्फ दो मौके

कमल विहार के प्लाटों पर दी जा रही छूट लेने के लिए बचे अब सिर्फ दो मौके

23-Mar-2018

रायपुर : रायपुर विकास प्राधिकरण की कमल विहार योजना के प्लाटों पर दी जा रही छूट लेने के अब सिर्फ दो मौके ही रह गए है. बुधवार 28 मार्च और शनिवार 31 मार्च को ही विभिन्न प्रकार के प्लाटों के लिए निविदाएं और लाटरी होगी. इसके अंतर्गत बिजनेस, मिश्रित, सार्वजनिक व अर्ध्द सार्वजनिक उपयोग के भूखंड, मिश्रित उपयोग के भूखंड, सेक्टर व स्कीम लेवल के बिजनेस प्लॉटों पर 20 प्रतिशत की छूट दी जा रही है.31 मार्च के बाद यह छूट समाप्त हो जाएगी.

प्राधिकरण के सीईओ श्री एम.डी. कावरे ने बताया कि गत दिनों आवास एवं पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत के निर्देश पर अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव की अध्यक्षता में आयोजित संचालक मंडल की बजट बैठक में कमल विहार योजना के विक्रय किए जा रहे प्लाटों हेतु डिसकांऊट मॉडल तैयार कर उसके आधार पर छूट देने का निर्देश दिया गया था. इस संबंध में प्राधिकरण व्दारा कमल विहार में मिश्रित, सार्वजनिक व अर्ध्द सार्वजनिक उपयोग के भूखंड, मिश्रित उपयोग के भूखंड, सेक्टर व स्कीम लेवल के प्लॉटों पर 20 प्रतिशत की छूट दी जा रही है. अन्य प्रकार के भूखंडों यथा आवासीय भूखंडों में 2 हजार वर्गफुट के आवासीय भूखंड पर 2 प्रतिशत, 2001 से तीन हजार वर्गफुट तक के आवासीय़ भूखंड पर 10 प्रतिशत, 3001 से 5 हजार वर्गफुट के आवासीय भूखंड पर 12 प्रतिशत, 5001 से अधिक आकार के आवासीय भूखंड पर 15 प्रतिशत तथा स्वास्थ्य एवं शैक्षणिक भूखंडों पर 15 प्रतिशत की छूट 31 मार्च 2018 तक ही मिलेगी. छूट का लाभ तभी मिलेगा जब भूखंड की पूरी राशि 60 दिनों में प्राधिकरण कोष में जमा की जाए. 30 दिनों में पूरी राशि जमा करने पर 0.75 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट का लाभ आवंटिती ले सकते हैं. इस हेतु आवेदक को आवेदन पत्र के साथ 10 प्रतिशत की राशि जमा करना होगा.

प्लाटों में बिजनेस के स्कीम लेवल के प्लाटों की दर रुपए 2680 प्रति वर्गफुट, सेक्टर लेवल के बिजनेस प्लाटों पर रुपए 2245 प्रति वर्गफुट, सार्वजनिक अर्ध्द सार्वजनिक उपयोग के प्लाटों पर रुपए 2094 प्रति वर्गफुट, 2000 से बड़े आवासीय भूखंडों पर रुपए 1696 प्रति वर्गफुट, 2000 वर्गफुट से छोटे आकार के आवासीय भूखंडों पर रुपए 1781 प्रति वर्गफुट, शैक्षणिक प्रयोजन के भूखंडों पर रुपए 696 प्रति वर्गफुट तथा स्वास्थ्य उपयोग के भूखंडों पर रुपए 1392 प्रति वर्गफुट की दर पर प्लाट विक्रय किए जा रहे हैं.

 
 
 

साजा : घूस की रकम डकारने बैठा था पटवारी, एसीबी ने दी दबिश और हुआ गिरफ्तार

साजा : घूस की रकम डकारने बैठा था पटवारी, एसीबी ने दी दबिश और हुआ गिरफ्तार

22-Mar-2018

बेमेतरा : एसीबी (एंटी करप्शन ब्यूरो) ने आज गुरुवार 22 मार्च को बेमेतरा जिले के साजा में एक रिश्वतखोर पटवारी को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर किया है मिली जानकारी अनुसार भैसामुडा निवासी मीना राम साहू अपने पिता के निधन के बाद अपने 51 डिसमिल जमीन का नामकरण एवं ऋण पुस्तिका के लिए पटवारी कन्हैया सिंह ठाकुर हल्का नंबर एरिया 5 के पास गया था जहाँ इन कामो के लिए पटवारी ने प्रार्थी से 30 रिश्वत की मांग की किसान ने पटवारी को 25 हजार रुपए इकठ्ठा करके दे दिया लेकिन पटवारी 5 हजार और रुपए की मांग करने लगा जिसके बाद किसान ने एसीबी से इसकी शिकायत की शिकायत पर एसीबी ने किसान को पांच हजार रुपए देकर देने भेजा और एसीबी की टीम तहसील कार्यालय में पहले से ही मौजूद थी रकम जैसे ही पटवारी के हाथ में पहुंचा अचानक एसीबी ने दबिश दी जिसके बाद पटवारी को हिरासत में ले लिया गया 

बेमेतरा में 5 हजार की रिश्वत लेते पटवारी रंगे हाथों गिरफ्तार

 


मुख्यमंत्री शामिल हुए अमोरा के समाधान शिविर में अमोरा-अकलतरा मार्ग नवीनीकरण के लिए भूमिपूजन

मुख्यमंत्री शामिल हुए अमोरा के समाधान शिविर में अमोरा-अकलतरा मार्ग नवीनीकरण के लिए भूमिपूजन

20-Mar-2018

जांजगीर-चाम्पा : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज 20 मार्च प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान के तहत हेलीकॉप्टर से जांजगीर-चाम्पा जिले के ग्राम अमोरा (विकासखंड-अकलतरा) पहुंचे। मुख्यमंत्री ने अमोरा में आयोजित समाधान शिविर में अचानक पहुंचे। उन्होंने वहां ग्रामीणों से उनकी समस्याओं और मांगों के संबंध में जानकारी ली और गांव के विकास के लिए अनेक कार्याें की मंजूरी की घोषणा की। उन्होंने लोक सुराज अभियान के प्रथम चरण में अमोरा क्लस्टर के गांवों में प्राप्त आवेदनों के निराकरण के लिए की गई कार्रवाई के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली। अधिकारियों ने बताया कि इस क्लस्टर के 12 गांवों से चार हजार 883 आवेदन प्राप्त हुए थे, जिनका निराकरण किया गया।

शिविर में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को अमोरा से अकलतरा तक 11 किलोमीटर की सड़क के जर्जर होने की जानकारी दी और इस मार्ग का नवीनीकरण कराने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने शिविर में बताया कि इस मार्ग के नवीनीकरण के लिए 29 करोड़ 63 लाख रूपए की राशि स्वीकृत की गई है। डॉ. सिंह ने शिविर के बाद इस मार्ग के नवीनीकरण का भूमिपूजन किया।

    मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर अमोरा में उच्च क्षमता का नया ट्रांसफार्मर लगवाने की घोषणा की। ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को गांव में बिजली के कम वोल्टेज की समस्या के बारे में बताया था। मुख्यमंत्री ने शिविर में जानकारी दी कि सरोदा में एक विद्युत उपकेन्द्र का निर्माण किया जा रहा है, जो आगामी जून माह तक पूरा हो जाएगा। इस विद्युत उपकेन्द्र के बनने से पूरे क्षेत्र में कम वोल्टेज की समस्या का स्थायी समाधान होगा।

मुख्यमंत्री ने अमोरा गांव की नल-जल योजना के लिए 10 लाख रूपए, वहां सामुदायिक भवन के निर्माण के लिए 12 लाख और डीएमएफ की राशि से अमोरा हाईस्कूल के भवन निर्माण की स्वीकृति की घोषणा की। ग्रामीणों की मंाग पर उन्होंने अमोरा में स्थायी लाइनमेन की पदस्थापना की मंजूरी दी। इस दौरान डॉ. सिंह ने अमोरा प्राथमिक शाला के बच्चों से मुलाकात भी की। समाधान शिविर में लोकसभा सांसद श्रीमती कमलादेवी पाटले, विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष श्री नारायण चंदेल, पूर्व विधायक श्री सौरभ सिंह, मुख्य सचिव श्री अजय सिंह, मुख्यमंत्री के विशेष सचिव श्री मुकेश बंसल और जनसम्पर्क विभाग के विशेष सचिव श्री राजेश सुकुमार टोप्पो सहित अनेक जनप्रतिनिधि और ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

 


Lok Suraj 2018 : टुरीझर पहुंचे मुख्यमंत्री, राशन दुकान के सेल्समेन को हटाने का दिया निर्देश

Lok Suraj 2018 : टुरीझर पहुंचे मुख्यमंत्री, राशन दुकान के सेल्समेन को हटाने का दिया निर्देश

19-Mar-2018

बागबाहरा : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज लोक सुराज अभियान के अंतर्गत महासमुंद जिले के बागबाहरा ब्लाक के टुरीझर पहुंचे मुख्यमंत्री ने यहाँ तालाब की मेड़ पर चौपाल लगाई। ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री से शिकायत की, कि यहाँ राशन दुकान समय पर नहीं खुलता इस शिकायत के बाद मुख्यमंत्री ने ग्राम‌ डोकरपाली के सेल्समैन शिवराज साहू को हटाने का आदेश दिया। सीएम ने टुरीझर से डोकरापाली तक पक्की सड़क निर्माण और महिलाओं के लिए सामुदायिक भवन निर्माण की घोषणा की। टुरीझर में दो साल से अधूरे स्टाप डैम का निर्माण जून माह तक पूर्ण कराने के निर्देश दिए।

 ग्रामीणों को अपने गांव के आकाश में जैसे ही मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर नजर आया, किसान, मजदूर और स्थानीय बच्चे तथा युवा उनके स्वागत के लिए दौड़ पड़े। उनका हेलीकाप्टर एक खेत में उतरा। मुख्यमंत्री ग्रामीणों के साथ  खेतों की मेड़ से पैदल चलकर तालाब के किनारे निर्माणाधीन मंदिर परिसर पहुंचे जहां, चौपाल लगी और गांव वालों से बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ। क्षेत्रीय विधायक श्री चुन्नीलाल साहू और टुरीझर सहित आसपास के गांवों के अनेक पंचायत प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। डॉ. सिंह ने ग्रामीणों की अनेक मांगों पर तत्काल अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी।

चौपाल में उन्होंने टुरीझर के तालाब गहरीकरण और सामुदायिक भवन सहित टुरीझर से डोकरपाली सड़क निर्माण की मंजूरी दी। उन्होंने टुरीझर के पुरानापारा में सी.सी.रोड के लिए पांच लाख मंजूर कर दिए। साथ ही नीचेपारा में भी सीसी रोड बनवाने की घोषणा की। डॉ. सिंह ने वन परिक्षेत्र अधिकारी को निर्देश दिए कि टुरीझर वन प्रबंधन समिति को बांस के विक्रय से मिलने वाले लाभांश की राशि 31 मार्च तक प्रदान कर दी जाए। डॉ. सिंह ने पटवारी को ग्रामीणों के लिए आमदनी प्रमाणपत्र और जाति प्रमाण पत्र बनवाने टुरीझर में शिविर लगाने के भी निर्देश दिए। ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत घरों में निर्मित शौचालयों में से कुछ शौचालयों की राशि बकाया है। इस पर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को बकाया राशि का भुगतान 15 दिनों के भीतर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्य सचिव श्री अजय सिंह भी चौपाल में मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने टुरीझर की चौपाल में उचित मूल्य दुकान के सेल्समेन के बारे में ग्रामीणों से मिली शिकायत को गंभीरता से लिया। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सेल्समेन को तत्काल हटाया जाए और वहां राशन वितरण के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाए।  मुख्यमंत्री के आगमन की सूचना मिलते ही महासमुंद कलेक्टर श्री हिमशिखर गुप्ता भी वहां पहुंच गए थे।


लोक सुराज अभियान में नया कीर्तिमान : एक दिन में एक साथ ग्यारह सौ शादियां : मुख्यमंत्री ने दिया आशीर्वाद

लोक सुराज अभियान में नया कीर्तिमान : एक दिन में एक साथ ग्यारह सौ शादियां : मुख्यमंत्री ने दिया आशीर्वाद

19-Mar-2018

जगदलपुर : प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान के तहत बीते दिन 18 मार्च छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर में एक दिन में एक साथ ग्यारह सौ शादियों का एक नया कीर्तिमान बनाया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शाम को बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में गरीब परिवारों की ग्यारह सौ बेटियों की शादी में शामिल होकर सभी जोड़ों को आशीर्वाद प्रदान किया। उन्होंने वर-वधुओं को उनके खुशहाल गृहस्थ जीवन के लिए अपनी शुभकामनाएं दी। समारोह का आयोजन मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा जिला प्रशासन के सहयोग से किया गया।

    डॉ. रमन सिंह ने लालबाग मैदान में आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा- प्रदेश में लोक सुराज अभियान के तहत लोगों को विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलाया जा रहा है। इसी कड़ी में चैत्र नवरात्रि तथा भारतीय नववर्ष विक्रम संवत 2075 के शुभारंभ के दिन गरीब परिवारों की ग्यारह सौ बेटियों के लिए मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत इस विशाल सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन वास्तव में एक बड़ा पुण्य का कार्य है।

मुख्यमंत्री ने कहा-विवाह सिर्फ एक मिलन उत्सव नहीं, बल्कि गृहस्थ जीवन में प्रवेश के साथ अपनी पारिवारिक और सामाजिक जिम्मेदारियों के निर्वहन का भी एक संकल्प है। मुख्यमंत्री ने सभी नव-दम्पत्तियों को आशीर्वाद प्रदान करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में अब सभी परिवारों के घर बिजली से रौशन होंगे। राज्य सरकार समस्त विद्युत विहीन घरों को जून माह तक बिजली का कनेक्शन देने के लिए विशेष अभियान चला रही है। सभी घरों में पक्के शौचालयों का निर्माण किया जा रहा है। लोकसभा सांसद श्री दिनेश कश्यप और विधायक श्री संतोष बाफना ने भी नवदंपत्तियों को आशीर्वाद प्रदान करते हुए शुभकामनाएं दी।

     समारोह में आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप, राज्य औषधीय पादप बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामप्रताप सिंह, राज्य युवा आयोग के अध्यक्ष श्री कमलचंद भंजदेव, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री श्रीनिवास मद्दी और जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती जबिता मंडावी सहित अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि, विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी और बड़ी संख्या में नागरिक इस मौके पर उपस्थित थे। संभागीय कमिश्नर श्री दिलीप वासनीकर तथा कलेक्टर श्री धनंजय देवांगन और प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी कार्यक्रम में मौजूद थे।

समारोह में महिला एवं बाल विकास विभाग की विभिन्न परियोजनाओं के गांवों से चयनित कन्याओं के विवाह उनके अपने रीति-रिवाजों के अनुसार संपन्न हुए। इनमें से तोकापाल परियोजना की 115, जगदलपुर शहरी परियोजना की 80, जगदलपुर ग्रामीण परियोजना की 150, बकावण्ड की दोनों परियोजनाओं से 181, दरभा परियोजना की 165, लोहाण्डीगुड़ा परियोजना की 143, बास्तानार परियोजना की 87 और बस्तर परियोजना की 179 कन्याएं शामिल हैं। बस्तर जिले में मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत इन्हें मिलाकर अब 8647 जोड़ों के विवाह संपन्न हो चुके हैं।

 
 
 

Lok Suraj 2018 : कुमारी बाई ने मीठे तेंदूफलों से किया मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत

Lok Suraj 2018 : कुमारी बाई ने मीठे तेंदूफलों से किया मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत

17-Mar-2018

धमतरी : लोक सुराज अभियान के तहत मुख्यमंत्री आज धमतरी जिले के नगरी विकासखण्ड ग्राम डोंगरडुला अचानक पहुंचे। गांव के भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री गांव के मंदिर के पास निवासरत श्रीमती कुमारी बाई के घर भी गए। कुमारी बाई विधवा है। उनके पति रति राम का कुछ साल पहले निधन हो गया। कुमारी बाई को प्रधानमंत्री आवास मिला है जहां वह अकेली रहती है। उसकी कोई संतान नही हैं। कुमारी बाई ने मुख्य मंत्री से कहा कि मुश्किल वक्त में सरकार से उन्हें बहुत सहारा मिला। मकान नही था, मकान मिल गया। उनके पास कोई जमीन नही है। सरकार उन्हें हर महीने 350 रुपये पेन्शन देती है। कुमारी बाई ने भावुक होते हुए कहा कि आज उनके घर आये हैं लेकिन मैं स्वागत नही कर पा रही हूं। उन्होंने आंगन में रखे तेंदू के फल मुख्यमंत्री को खाने को दिए। मुख्यमंत्री ने तेंदू शौक से खाया और कहा कि बचपन में मैं भी बहुत तेंदू फल स्वाद से खाया करता था। मुख्य सचिव श्री अजय सिंह ने भी तेंदू फल चखा।


Lok Suraj 2018 : मुख्यमंत्री अचानक पहुंचे धमतरी जिले के ग्राम डोंगरडुला

Lok Suraj 2018 : मुख्यमंत्री अचानक पहुंचे धमतरी जिले के ग्राम डोंगरडुला

17-Mar-2018

धमतरी : मुख्यमंत्री डॉ .रमन सिंह प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान के तहत आज अचानक धमतरी जिले के ग्राम डोंगरडुला (विकासखण्ड-नगरी) पहुंचे। वहां देखते ही देखते ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। उन्होंने गांव में साल के पेड़ के नीचे ग्रामीणों की चौपाल लगायी और उनसे चर्चा कर प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, तेंदूपत्ता बोनस वितरण, शौचालय निर्माण, राशन वितरण एवं पेयजल व्यवस्था की जानकारी ली। डॉ. सिंह ने तेंदूपत्ता संग्राहकों को 8 दिवस के भीतर चरणपादुका वितरित कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने ग्रामीणों की मांग पर ग्राम डोंगरडुला में एक नये आंगनबाड़ी भवन और बेहड़ापारा में प्राथमिक शाला भवन को तत्काल मंजूरी प्रदान की। साथ ही गांव में निस्तारी व्यवस्था के लिए तीन तालाबों का गहरीकरण तथा तालाबों के नजदीक सोलर पंप लगाने के लिए स्वीकृति दी। इसी प्रकार तीन किसानों के लिए व्यक्तिगत तालाब खनन के लिए भी मंजूरी दी। उन्होंने गांव में संचालित किए जा रहे उचित मूल्य दुकान का भी निरीक्षण किया। इस दौरान ग्रामीणों ने बताया कि गांव में लोगों को समय पर राशन मिल रहा है। इस माह का राशन गांव के लोग उठा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने कक्षा सातवीं में पढ़ने वाले छात्र सोमेन्द्र साहू तथा कक्षा चौथी की छात्रा कु. पोमेश साहू, संजना साहू और ज्ञानेन्द्र को अपने समीप बुलाकर नौ तथा चौदह का पहाड़ा भी पूछा, जिसका वाचन करके बच्चों ने सुनाया।

डॉ. सिंह ने ग्रामीणों से चर्चा के बाद यहां हायर सेकेण्डरी भवन निर्माण के लिए कलेक्टर एवं वन मण्डलाधिकारी को जल्द भूमि चिन्हांकित करने कहा। उन्होंने गांव में बनाए गए प्रधानमंत्री आवास का अवलोकन किया और योजना से लाभांवित हितग्राही श्रीमती कुमारीबाई नेताम, श्रीमती बहुराबाई यादव, फूलकुंवर निषाद और श्रीमती तुलसीबाई साहू से मुलाकात की। डॉ. सिंह ने ग्रामीणों की मांग पर कोटेश्वर धाम के लिए पहुंच मार्ग तथा सोलर पैनल और सामुदायिक निर्माण की भी घोषणा की।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने ग्राम डोंगरडुला के बूढ़ादेव मंदिर में पूजा-अर्चना की और प्रदेश की जनता की खुशहाली के लिए कामना की। उन्होंने ग्रामीणों की मांग बूढ़ादेव मंदिर के फर्शीकरण कार्य के लिए तीन लाख रूपए प्रदान करने की घोषणा भी की। इस अवसर पर सिहावा विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री श्रवण मरकाम, पूर्व विधायक श्रीमती पिंकी शाह, मुख्य सचिव श्री अजय सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह और बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

 

बारूदी सुरंग के हमलों से कैसे निपटे पुलिस ? एंटी माईंस व्हीकलें नकारा हो रहीं

बारूदी सुरंग के हमलों से कैसे निपटे पुलिस ? एंटी माईंस व्हीकलें नकारा हो रहीं

16-Mar-2018

सुधीर जैन की रिपोर्ट 

जगदलपुर । बस्तर पुलिस के लिए नक्सलियों की बारूदी सुरंग विस्फोट के हमले सिरदर्द बने हुए हैं, क्योंकि ऐसे हमलों से क्षति भी ज्यादा होती है और विस्फोट बाद बदहवास में पुलिस बल इनका प्रतिरोध भी नहीं कर पाते हैं। यही कारण है कि नक्सली अपने नापाक मंसूबों में कामयाब होते जा रहे हैं। बारूदी सुरंगों को नाकाम करने की आज पर्यंत कोई स्थायी तथा कारगर तरकीब भी नहीं ढूंढी जा सकी है। दम तोड़ती एंटी माईंस व्हीकलें भी बस्तर में नकारा सिद्ध हुई हैं। शायद इसीलिए नक्सली बुलंद हौसलों से मुख्य मार्गों तक बेखौफ घुसपैठ बढ़ाकर खून-खराबा किए जा रहे हैं।

पूर्व में नक्सली कच्ची सडक़ों पर ही बारूदी सुरंगे बिछाकर वारदात को अंजाम दिया करते थे, किंतु अब उन्होंने एक विशेष किस्म की मशीन के जरिए पक्के डामरीकृत मार्गों में सुरंगे बिछाने का काम शुरू कर दिया है। इस मशीन से सडक़ के एक छोर से दूसरे किनारे तक, जमीन की सतह से पांच-सात फुट नीचे सुरंग खोदकर, मशीन के सहारे आसानी से बारूद दबा दिया जाता है। इस तकनीक से सुरंग बिछाए जाने से सडक़े खराब भी नहीं होतीं और सुरंगें रोड ओपनिंग पार्टी के नजर में भी नहीं आ पातीं।

हाल ही में सुकमा जिले में एक के बाद एक हुई लगातार बारूदी सुरंग विस्फोट की घटनाओं ने पुलिस की नींद ही उड़ा दी है। पुलिस चिंतित है कि नक्सलियों की इस कुटिल चाल का हल कैसे ढूंढा जाए और वह इसका तोड़ निकालने की जुगत में जुट गई है। सडक़ों को लगातार निशाना बनाए जाने के पीछे नक्सलियों की यह मंशा झलकती है कि, वे इन मार्गों में आवाजाही प्रतिबंधित करना चाहते हैं, ताकि वे अपनी गैर कानूनी गतिविधियां बेरोकटोक जारी रख सकें। हालांकि पुलिस सर्चिंग तथा अन्य कानूनी प्रक्रियाओं के निष्पादन के लिए पूर्णतया ऐहतियात बरतते हुए ज्यादातर पैदल मार्च ही किया करती है, बावजूद सडक़ों पर हो रहे सिलसिलेवार धमाकों ने, पुलिस की कार्यप्रणाली में नए सिरे से समीक्षा करने के लिए विवश कर दिया है।

दरअसल जिला मुख्यालय का, अंदरूनी नक्सल प्रभावी इलाकों से संपर्क विच्छेदकर नक्सली यहां अपना एकछत्र साम्राज्य कायम रखना चाहते हैं। यातायात का दबाव, पुलिस व सुरक्षा बलों की आमदरफ्त ज्यादातर सडक़ मार्गों से ही होती है, इसीलिए नक्सली सडक़ों पर दहशत फैलाने के लिए अपनी तमाम उर्जा खपा रहे हैं। नित नई व्यूह रचनाओं से पुलिस बलों पर कातिलाना हमले कर रहे नक्सली, दरअसल बस्तर की शांति प्रक्रिया के परखच्चे उड़ाने पर आमादा हैं। इसी तारतम्य में संगठनात्मक ढांचे में व्यापक फेरबदल करते हुए नक्सलियों द्वारा आतंकी हरकतें तेज करने की रणनीति तैयार की गई है।


मुख्यमंत्री अचानक पहुंचे भैंसामुंडा समाधान शिविर में, स्कूली बच्चों के साथ भोजन किया

मुख्यमंत्री अचानक पहुंचे भैंसामुंडा समाधान शिविर में, स्कूली बच्चों के साथ भोजन किया

15-Mar-2018

भैंसामुंडा : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान के तहत कोरबा जिले के ग्राम भैंसामुंडा (विकासखंड-करतला) में अचानक पहुंचकर समाधान शिविर में आम जनता से मुलाकात की। उन्होंने वहां महिलाओं के स्वसहायता समूह द्वारा निर्मित बांस की आकर्षक कलाकृतियों की प्रशंसा करते हुए महिलाओं का उत्साह बढ़ाया। स्वसहायता समूह की महिलाओं ने उन्हें ये कलाकृतियां भेंट की।

मुख्यमंत्री ने शिविर में ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों के आग्रह पर क्षेत्र की छह ग्राम पंचायतों में विकास कार्यों के लिए कुल तीन करोड़ 66 लाख रूपए तत्काल मंजूर करने की घोषणा की। इसमें से भैंसामुड़ा में आंगनबाड़ी भवन के लिए 6 लाख 45 हजार रूपए, भैंसामुड़ा पंचायत के आश्रित गांव कुररिहा में बरसाती नाले पर पुल निर्माण के लिए 19 लाख 50 हजार रूपए, ग्राम पंचायत मुख्यालय गुमिया में 200 मीटर सी.सी. रोड के लिए 5 लाख 20 हजार रूपए, ग्राम पंचायत कनकी में पुलिया निर्माण के लिए 19 लाख 50 हजार रूपए और मुक्तिधाम निर्माण के लिए चार लाख 79 हजार रूपए शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने सरगबुंदिया से भैंसामुड़ा पहुंच मार्ग (लगभग चार दशमलव आठ किलोमीटर) के लिए तीन करोड़ रूपए मंजूर करने की घोषणा की। उन्होंने ग्राम पंचायत कथरीमाल में 200 मीटर सीसी रोड़ निर्माण के लिए पांच लाख 20 हजार रूपए और दादरकला में नल-जल योजना की मरम्मत के लिए पांच लाख 59 हजार रूपए तुरंत मंजूर करने का ऐलान किया। मुख्यमंत्री के साथ शिविर में प्रदेश के पूर्व मंत्री श्री ननकीराम कंवर और क्षेत्र के अनेक जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

उनके अलावा मुख्य सचिव श्री अजय सिंह भी शिविर में मौजूद थे। डॉ. रमन सिंह ने समाधान शिविर में श्रम विभाग के अधिकारियों को असंगठित श्रमिकों का पंजीयन करवाने के निर्देश दिए ताकि उन्हें योजनाओं का लाभ दिलाया जा सके। डॉ. सिंह को शिविर में यह जानकर खुशी हुई कि कोरबा जिले के 42 युवाओं को सीपेट रायपुर में प्लास्टिक इंजीनियरिंग का प्रशिक्षण दिलाया गया और उन सबका प्लेसमेंट गुडगांव में हो गया है। मुख्यमत्रंी ने भैंसामुंडा में स्कूली बच्चों के साथ बैठकर भोजन भी किया।


तेंदूपत्ता खरीदी में घोटाले का आरोप लगाते हुए कांग्रेस का रमन सरकार पर अटैक !

तेंदूपत्ता खरीदी में घोटाले का आरोप लगाते हुए कांग्रेस का रमन सरकार पर अटैक !

15-Mar-2018

रायपुर : कांग्रेस ने आज तेंदूपत्ता की नीलामी को लेकर रमन सरकार पर हमला बोला है आज कांग्रेस के द्वारा बुलाए गए प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस ने रमन सरकार पर गंभीर आरोप लगाए उन्होंने कहा की तेंदूपत्ता खरीदी में घोटाला हुआ है और इस तेंदूपत्ता नीलामी की दोबारा जांच होनी चाहिए कांग्रेस ने यह मांग की, कि हाईकोर्ट के जज की निगरानी में इसकी जांच होनी चाहिए।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा की बेहतर क्वालिटी का 20 % तेंदूपत्ता छत्तीसगढ़ में होता है सरकार तेंदूपत्ता का एडवांस टेंडर बुलाकर भुगतान करती है। भूपेश ने आगे कहा की कारोबारियों ने कम रेट पर इस बार टेंडर डाले हैं। उन्होंने कहा कि यह घोटाला 300 करोड़ का होगा। इसमे सीएम और अफसरों को मोटी रकम मिलने वाली है। वहीँ भूपेश ने ये भी मांग की है की किसी भी सामान के लिए बेस प्राइज तय होनी चाहिए। आज तक रमन सरकार ने तेंदूपत्ता का बेस प्राइज तय नहीं किया है। इस प्रेस कांफ्रेंस को प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल, उप नेता प्रतिपक्ष कवासी लखमा और विधायक मोहन मरकाम ने लिया 


लोक सुराज में डॉ. रमन सिंह पढ़ाई की गुणवत्ता भी परख रहे

लोक सुराज में डॉ. रमन सिंह पढ़ाई की गुणवत्ता भी परख रहे

15-Mar-2018

कोरिया : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेशव्यापी लोक सुराज के तहत आज कोरिया जिले के ग्राम पंचायत मुख्यालय-मेरो (विकासखंड-खडगवां) का दौरा किया। उन्होंने कोरबा जिले के ग्राम भैंसामुंडा (विकासखंड-करतला) पहुंचकर वहां के समाधान शिविर में भी हिस्सा लिया।

    मुख्यमंत्री को ग्राम पंचायत मुख्यालय मेरो (जिला-कोरिया) में अचानक अपने बीच पाकर ग्रामीणों में भारी उत्साह देखा गया। डॉ. सिंह ने वहां के स्कूली बच्चों से मुलाकात कर आत्मीय बातचीत की। मुख्यमंत्री की सहज आत्मीयता से बच्चे और उनके अभिभावक काफी खुश नजर आए। डॉ. सिंह ने ग्राम पंचायत-मेरो के स्कूल में जाकर बच्चों से मुलाकात की।
    उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री लोक सुराज अभियान में गांवों के आकस्मिक भ्रमण के दौरान स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को भी स्वयं परख रहे हैं। वे इसके लिए स्कूली बच्चों से मिलकर गिनती और पहाड़ा भी पूछते हैं। ग्राम पंचायत मुख्यालय मेरो के भ्रमण के दौरान आज उन्होंने प्राथमिक स्कूल की पहली कक्षा के छात्र विकास से 16 का पहाड़ा सुनकर उसे शाबाशी दी और इस नन्हें बच्चे का उत्साह बढ़ाते हुए उसे पुरस्कार के रूप में अपनी कलम भेंट कर दी।

इस दौरान वहां के सरकारी हाईस्कूल की 9वीं कक्षा की रामवती, सोनकुंवर, लीलावती, राजकुमारी सहित कई बालिकाओं ने सरस्वती सायकल योजना के तहत उन्हें सरकार से निःशुल्क सायकल मिलने पर मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। डॉ. सिंह ने बालिकाओं को शुभकामनाएं दी। उल्लेखनीय है कि राज्य में सरस्वती सायकल योजना के तहत स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा विगत 14 वर्ष में एक लाख 82 हजार बालिकाओं को निःशुल्क साइकिल दी जा चुकी है। इससे प्रदेश के हाईस्कूलों में दर्ज संख्या 65 प्रतिशत से बढ़कर 101 प्रतिशत हो गई है।

    डॉ. सिंह ने ग्राम मेरो की चौपाल में वहां के सरकारी प्राथमिक स्कूल के नये भवन निर्माण के लिए छह लाख रूपए और हाईस्कूल में टेबल-कुर्सी आदि फर्नीचर के लिए दो लाख रूपए और निकटवर्ती टिपकापानी नाले में पुलिया निर्माण की स्वीकृति तुरंत प्रदान करने की घोषणा की। चौपाल में ग्रामीणों से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने वहां पड़ोस के कोरबा जिले से दो पीढ़ी पहले आकर रहने वाले श्री जयराम गोंड की सुपुत्री कुमारी सुनीता का जाति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने चौपाल में विभिन्न सरकारी योजनाओं की प्रगति की भी समीक्षा की। ग्राम पंचायत मेरो में 106 परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान निर्माण के लिए राशि मंजूर की गई है। इनमें से 91 मकानों का निर्माण पूरा हो गया है।
    मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि शेष मकानों का निर्माण भी जल्द पूर्ण कर लिया जाए।

उन्होंने मनरेगा के तहत पंचायत में स्वीकृत 19 कुंओं का निर्माण भी जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए। डॉ. सिंह ने ग्रामीणों को बताया कि प्रधानमंत्री सहज हर घर योजना के तहत सभी विद्युत विहीन घरों में बिजली पहुंचाने का काम तेजी से किया जा रहा है। सरकार का लक्ष्य है कि पूरे प्रदेश में प्रत्येक घर बिजली से रौशन हो। इसके लिए अभियान चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने चौपाल में विद्युत कंपनी के अधिकारियों को इस योजना का शत्-प्रतिशत लक्ष्य जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए। चौपाल में डॉ. सिंह ने किसानों और ग्रामीणों के राजस्व अभिलेखों के नामांतरण, सीमांकन, बंटवारा आदि के मामलों की भी जानकारी ली। उन्होंने पटवारी से कहा कि ऐसे मामलों का तत्परता से निराकरण किया जाए। लोक सुराज अभियान के दौरे में मुख्य सचिव श्री अजय सिंह भी मुख्यमंत्री के साथ थे।


ज्ञान क्रांति और हरित क्रांति की राह पर चल पड़ा आदिवासी बहुल दंतेवाड़ा

ज्ञान क्रांति और हरित क्रांति की राह पर चल पड़ा आदिवासी बहुल दंतेवाड़ा

12-Mar-2018

दंतेवाड़ा : छत्तीसगढ़ का आदिवासी बहुल दंतेवाड़ा जिला अब नक्सल हिंसा और आतंक के साये से तेजी से मुक्त हो रहा है। यह जिला अब शिक्षा के जरिए ज्ञान क्रांति और जैविक खेती के जरिए हरित क्रांति के रास्ते पर चल पड़ा है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान 2018 के तहत जब इस जिले का दौरा किया, तो उन्हें वहां विकास की तेज गति से बहती बयार के बीच जिले की बदलती तस्वीर भी देखने को मिली। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए आज कहा कि जिला मुख्यालय दंतेवाड़ा के पास ग्राम जावंगा में राज्य सरकार द्वारा स्थापित एजुकेशन सिटी अपने जिले का और राज्य का भी नाम रौशन कर रही है। ग्लोबल ऑडिट यूनिट केपीएमजी ने इस एजुकेशन सिटी को दुनिया की सौ नवाचारी संरचनाओं में शामिल किया है।

    यह विशाल शैक्षणिक परिसर एक सौ एकड़ से ज्यादा रकबे में संचालित है, जहां करीब एक सौ करोड़ रूपए की लागत से निर्मित भवनों में 20 से ज्यादा स्कूल और कॉलेज संचालित हो रहे हैं। परिसर में पूर्व प्राथमिक (यूकेजी) से लेकर आईटीआई, पॉलीटेकनिक और डिग्री कॉलेज तक सर्वश्रेष्ठ शिक्षा की सुविधाएं विकसित की गई हैं। एक ही परिसर में प्राथमिक, मिडिल, हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी और कॉलेज का संचालन इस संस्था को एक नई पहचान दे रहा है। यह परिसर पांच हजार से ज्यादा विद्यार्थियों की चहल-पहल से गुलजार रहता है। स्कूली बच्चों के लिए वहां आवासीय सुविधा भी है। परिसर में विद्यार्थी हुनरमंद बनते हुए अपने भविष्य का निर्माण कर रहे हैं। दंतेवाड़ा की इस एजुकेशन सिटी परिसर का नामकरण देश के पूर्व प्रधानमंत्री और छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माता श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर किया गया है। इस परिसर में दिव्यांग बच्चों के लिए छत्तीसगढ़ का पहला बाधारहित सक्षम विद्यालय भी संचालित किया जा रहा है।

    परिसर में नक्सल पीड़ित परिवारों के बच्चों के लिए मुख्यमंत्री बाल भविष्य योजना के तहत सीबीएसई पाठ्यक्रम का आवासीय स्कूल ‘आस्था विद्या मंदिर’ के नाम से सुचारू रूप से चल रहा है। इसमें एक हजार बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि स्वयं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने लगभग ढाई साल पहले नौ मई 2015 को छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान दंतेवाड़ा की एजुकेशन सिटी का भी दौरा किया था, बच्चों से मुलाकात की थी। उनके साथ बैठकर वैचारिक आदान-प्रदान किया था और वहां संचालित शैक्षणिक प्रकल्पों की जमकर तारीफ की थी। इस परिसर में जहां छात्र-छात्राओं की खेल प्रतिभा को निखारने के लिए स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स बनाया गया है, वहीं उनकी सांस्कृतिक गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए एक ऑडिटोरियम का भी निर्माण किया गया है।

    इस बीच जिले में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के विस्तार के लिए ‘पढ़े दंतेवाड़ा-लिखे दंतेवाड़ा’ नाम से एक नये शैक्षणिक प्रकल्प की भी शुरूआत हो चुकी है। जिले के बच्चे धारा प्रवाह हिन्दी पढ़ और लिख सके और गणित की सामान्य बातों को भी आसानी से सीख सकें, यह इस नये प्रकल्प का उददेश्य है। इसके अंतर्गत मोबाइल एप्प के जरिए प्रोजेक्ट की मॉनिटरिंग की जा रही है। जिले के 36 हजार से ज्यादा बच्चों को इस प्रकल्प का लाभ मिल रहा है। इससे बच्चों में सीखने की क्षमता भी काफी तेजी से बढ़ रही है। इस प्रकल्प में बच्चों के स्वास्थ्य से जुड़े प्रोफाइल को भी शामिल किया गया है। आश्रम शालाओं और छात्रावासों तथा अन्य आवासीय स्कूलों में पढ़ाई कर रहे 19 हजार बच्चों के स्वास्थ्य की निःशुल्क जांच करने का प्रावधान भी इस प्रकल्प में किया गया है। इन बच्चों के हीमोग्लोबिन टेस्ट रिपोर्ट भी पोर्टल में अपलोड की जा रही है, ताकि कमजोर बच्चों को चिन्हांकित कर अच्छे स्वास्थ्य के लिए उन्हें पौष्टिक आहार देने की भी पहल की जा सके।

अधिकारियों ने बताया कि ‘पढ़े दंतेवाड़ा-लिखे दंतेवाड़ा’ प्रकल्प में हाईस्कूल और हायर सेकेण्डरी बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले बच्चों के लिए टेस्ट सीरिज भी शुरू किया गया है। इसके फलस्वरूप दसवीं और बारहवीं बोर्ड की परीक्षाओं के उत्साहजनक नतीजे आ रहे हैं। इसी कड़ी में दंतेवाड़ा के बच्चों के लिए ‘छू लो आसमान’ प्रकल्प भी काफी उपयोगी साबित हो रहा है। इस प्रकल्प में नवमीं से बारहवीं तक की नियमित पढ़ाई के साथ-साथ उन्हें जेईई, आईआईटी और नीट जैसी प्रतियोगी प्रवेश परीक्षाओं के लिए निःशुल्क कोचिंग दी जाती है, ताकि बच्चे देश के प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश ले सकें। इस परियोजना के तहत अब तक 19 विद्यार्थियों का चयन राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) के लिए और 155 विद्यार्थियों का चयन इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिए हो चुका है। इनके अलावा मेडिकल कॉलेज के लिए तीन विद्यार्थियों का चयन हुआ है।

    इसी तरह दंतेवाड़ा जिले के चार हजार से ज्यादा किसानों ने जैविक खेती से जुड़कर हरित क्रांति के एक नये युग की भी शुरूआत कर दी है। इनमें अधिकांश आदिवासी किसान हैं। राज्य सरकार ने जैविक खेती के लिए मोचो बाड़ी परियोजना के तहत किसानों को खेतों की फेंसिंग के लिए भी मदद कर रही है। इन किसानों ने ‘भूमगादी’ नामक अपनी कंपनी बनाकर जैविक खेती में तैयार चावल और अन्य उत्पादों का कारोबार भी शुरू कर दिया है। किसानों की कंपनी ‘भूमगादी’ ने अपने जैविक उपजों का ब्राण्ड नेम ‘आदिम’ रखा है। उनके खेतों के चावल तथा अन्य उपजों की मांग देश के महानगरों में बढ़ती जा रही है। अपनी कम्पनी के जरिए किसानों ने धान और अन्य लघु धान्य फसलों का प्रसंस्करण का काम भी शुरू किया है। इससे उन्हें अब तक 50 लाख रूपए से ज्यादा की आमदनी हो चुकी है।