एक बाइक में सवार 4 युवको को अज्ञात वाहन ने मारी टक्कर, चारो की मौत

एक बाइक में सवार 4 युवको को अज्ञात वाहन ने मारी टक्कर, चारो की मौत

13-Feb-2019

बलौदाबाजार : बीती रात बलौदाबाजार जिले के गिधौरी रायपुर मार्ग में स्थित डोंगरीडीह के पास एक सड़क हादसा हो गया जिसमे 4 युवको की मौत हो गई सभी 10-11 वी कक्षा के छात्र थे पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक डोंगरीडीह के पास अज्ञात वाहन ने बाइक में सवार रेमन दास, देवब्रत यादव, प्रह्लाद, योगेंद्र को अपनी चपेट में ले लिया सभी मृतक डोंगरा गाँव निवासी थे लवन चौकी और थाना कसडोल दोनों के पुलिस ने अज्ञात वाहन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है 

 
 
 

बजट सत्र का तीसरा दिन : नाम बदलने को लेकर विपक्ष का हंगामा

बजट सत्र का तीसरा दिन : नाम बदलने को लेकर विपक्ष का हंगामा

12-Feb-2019

रायपुर : बजट सत्र के आज तीसरे दिन विपक्ष ने जमकर हंगामा मचाया दरअसल विपक्ष भूपेश सरकार के द्वारा योजनाओं के नाम को बदलने को लेकर गुस्से में थी शून्यकाल में नारायण चंदेल ने दीनदयाल के नाम पर संचालित योजनाओं का नाम बदलने को लेकर ऐतराज जताते हुए चर्चा की मांग की। नारायण चंदेल का साथ अजय चंद्राकर, शिवरतन शर्मा, बृजमोहन अग्रवाल और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भी दिया। अजय चंद्राकर ने कहा कि किसी महापुरुष की विचारधारा व उनके नाम पर संचालित योजनाओं कौ बदला जाना अलोकतांत्रिक है, जिसे बदला जाना चाहिये। भाजपा विधायकों ने कहा कि पुण्यतिथि के दिन नाम बदलना महापुरुष का अपमान है, यह अलोकतांत्रिक है। इसके जवाब में नगरीय प्रशासन मंत्री शिव डहरिया ने कहा कि नाम बदलने की शुरुआत को भाजपा ने ही की थी। इंदिरा जी-राजीव गांधी के नाम पर जो योजनाएं चल रही थी, उसे बदला गया था। उन्होंने कहा कि प्रजातंत्र की दुहाई देने वालों को खुद देखना चाहिये, उन्होंने क्या किया। विपक्ष ने कानून व्यवस्था को लेकर भी सवाल उठाया गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि सभी क्राइम की घटनाओं को कंट्रोल करने हर संभव कार्य हो रहे है.

 


EOW के डीएसपी आरके दुबे पर निलंबन की कार्रवाई नहीं की गई है : IG एसआरपी कल्लूरी

EOW के डीएसपी आरके दुबे पर निलंबन की कार्रवाई नहीं की गई है : IG एसआरपी कल्लूरी

11-Feb-2019

रायपुर : कुछ दिनों पहले मीडिया में खबर आई थी कि ईओडब्लू के डीएसपी आरके दुबे को सस्पेंड कर दिया गया है अब इस मामले में EOW औऱ ACB के आईजी एसआरपी कल्लूरी ने विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी है कि ईओडब्लू के डीएसपी आरके दुबे पर निलंबन की कार्रवाई नहीं की गई है. उन पर कोई निलंबन की कोई नोटशीट नहीं चलाई गई है. गौरतलब हो कि आरके दुबे ने अफसरों पर आरोप लगाया था कि प्रेशर डालकर फोन टेपिंग मामले में उनके बयान लिए गए हैं.

 
 
 

भूपेश सरकार का पहला बजट पेश, सभी राशन कार्ड पर 35 किलो चावल, बिजली बिल 400 यूनिट तक हाफ !

भूपेश सरकार का पहला बजट पेश, सभी राशन कार्ड पर 35 किलो चावल, बिजली बिल 400 यूनिट तक हाफ !

08-Feb-2019

रायपुर : छत्तीसगढ़ प्रदेश के नए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज शुक्रवार 8 फरवरी को बतौर वित्त मंत्री के रूप में विधानसभा में अपना पहला और राज्य का 19वां बजट पेश किया उन्होंने अपने बजट भाषण में चुनावी घोषणापत्र में किए गए वादों को अमलीजामा पहनाने की कोशिश की विधानसभा में श्री बघेल ने कहा कि- एक-एक पाई जनता की भलाई पर खर्च की जाएगी। बजट किसान और कृषि पर केंद्रित है। उनके लिए बजट में 19000 करोड़ रुपए से ज्यादा का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि व्यावसायिक बैंक के 4 हजार करोड़ अल्पकालीन कर्ज माफ होगा। 2019-20 में 2500 रुपए में होगी धान खरीदी। वहीँ भूपेश सरकार ने इस बजट में विधायक निधि की राशी एक करोड़ से बढ़ाकर दो करोड़ कर दिया है ।

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की आर्थिक विकास दर कम है. 96887 रुपये प्रति व्यक्ति आय का अनुमान है. हमने बजट में किसान और अल्प आय वालों का पूरा ध्यान रखा है. धान की खरीद के लिए 5000 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है.

बजट के मुख्य बिन्दुए

  • प्रत्येक राशन कार्ड पर 35 किलो चावल, धान खरीदी के लिए 5 हजार करोड़ का प्रावधान
  • मुख्यमंत्री बघेल ने कहा की बिजली बिल 400 यूनिट तक आधा होगा, यह एक मार्च 2019 से लागू होगा। 
  • पुलिस को दिया जाएगा रिस्पांस भत्ता 
  • राज्य में बनाए जाएँगे 50 नए फूड पार्क 
  • छात्रो को दी जाने वाली छात्रवृति को बढ़ाया गया है, छात्रों की भोजन राशि को बढ़ाकर 700 रुपए कर दिया गया है।  
  • कृषि विभाग का नाम बदलकर अब कृषि विकास एवं जैव प्रौद्योगिकी  विभाग कर दिया गया है।
  • स्कूलों में मध्यान्ह भोजन बनाने वाले रसोइयों का मानदेय बढ़ाया गया अब उन्हें 1200 के बजाए 1500 रुपए दिए जाएँगे  
  • सोया और गन्ना की फसल पर प्रोत्साहन दिया जाएगा।
  • दुर्ग और शाजा में खुलेंगे नए कृषि महाविद्यालय खोले जाएंगे।
  • श्री बघेल ने कहा कि-  20 लाख किसानों का 10 करोड़ रुपए का कर्ज माफ हुआ है। गिरौदपुरी भंडारपुरी के विकास के लिए 5 करोड़ और दामाखेड़ा के विकास के लिए 5 करोड़ का प्रावधान किया गया है। मक्का खरीदी को और व्यवस्थित किया जाएगा।
  • गांव की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए सुराजी योजना शुरू होगी
  • फसल बीमा योजना में बढ़ोत्तरी। 20 नए पशु औषधालय का प्रावधान। बेमेतरा में नवीन कृषि महाविद्यालय खोला जाएगा।
  •  
  • सभी गांवों में जल संचय को बढ़ाया जाएगा। गन्ना बोनस के लिए 50 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।
  • 1542 करोड़ का प्रावधान मनरेगा के लिए किया गया है। मनरेगा को कृषि से जोड़ा जाएगा। 
  • गोबर गैस प्लांट के लिए हर गांव में 10 युवा को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इनको कौशल विकास योजना में प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे दो लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा। 
  • फसल बीमा योजना में बढ़ोतरी। कृषि विकास के लिए 21 हजार करोड़ का प्रावधान। नरवा-गरवा-घुरवा-बारी के लिए 1542 करोड़ का प्रावधान।  
  • शैक्षणिक संस्थानों में गुणवत्ता में बढ़ोतरी के लिए 25 हाई स्कूलों का हायर सेकंडरी उन्नयन किया जाएगा।
  • बालोद में महिला महाविद्यालय की स्थापना की जाएगी। 
  • प्रदेश के महाविद्यालयों में रिक्त 1347 सहायक प्राध्यापकों की नियुक्त की प्रक्रिया शुरू 
  • पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज के लिए 10 करोड़ का प्रावधान। एससी/एसटी  छात्रावसों में सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी। 
  • प्रदेश में यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम लागू की जाएगी।
  • बिलासपुर में बर्न यूनिट खोला जाएगा। 
  • जगदलपुर में मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल खुलेगा। 
  • जिला अस्पताल गरियाबंद में 100 बिस्तर हॉस्पिटल बनाया जाएगा। 
  • हर संभाग में कामकाजी महिला आवास गृह बनेंगे। 
  • अब मुख्यमंत्री कन्या दान योजना में 2500 रुपए मिलेंगे। 
  • दिव्यांगजनो को शादी के लिए सरकार 1 लाख रुपए देगी 
  • नए खुलने वालों अस्पतालों के 242 स्टाफ नर्सों की भर्ती होगी। 
  • प्रदेश में 2 हजार पुलिसकर्मियों की भर्ती होगी।
  • रायपुर में नई सेंट्रल जेल बनाई जाएगी।
  • वहीँ बेमेतरा और बिलासपुर में 1500 और 200 क्षमता वाले जेल का निर्माण किया जाएगा 

तीन जिलो के चिकित्सा अधिकारियो का हुआ तबादला

तीन जिलो के चिकित्सा अधिकारियो का हुआ तबादला

08-Feb-2019

रायपुर : रायपुर, बिलासपुर और मुंगेली के तीन चिकित्सा अधिकारियों का आज तबादला हो गया स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने आज तबादले का यह आदेश जारी किया है खाद्य एवं औषधी प्रशासन रायपुर में पदस्थ चिकित्सा अधिकारी डॉ. अजय शंकर कन्नौजे को प्रभारी जिला टीकाकरण अधिकारी, जिला मुंगेली भेजा गया वहीँ मुंगेली में प्रभारी जिला टीकाकरण अधिकारी के पद पर पदस्थ डॉ. कमलेश कुमार खैरवार को सहायक आयुक्त, कार्यालय खाद्य एवं औषधी प्रशासन रायपुर में पदस्थ किया गया. डॉ राजेश कुमार शुक्ला प्रभारी जिला मलेरिया अधिकारी, जिला बिलासपुर को सहायक आयुक्त, कार्यालय खाद्य एवं औषधी प्रशासन, रायपुर भेजा गया ।

TRANSFER LIST OF HEALTH

 


रामकुंड से लापता हुए दोनों बच्चो का शव तालाब में मिला

रामकुंड से लापता हुए दोनों बच्चो का शव तालाब में मिला

07-Feb-2019

रायपुर : मंगलवार 5 फरवरी को रामकुंड उत्कल बस्ती से लापता हुए दोनों बच्चो का शव आज मोहल्ले के तालाब में मिला मंगलवार को लापता हुए बच्चो के परिजनों ने पुलिस में बच्चो के लापता होने की सूचना दी थी जिसके बाद आजाद चौक पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज करके जाँच में जुटी थी आज गुरुवार 7 फरवरी की सुबह कुछ लोगों ने एक लापता बच्चे जयकिशन यादव 8 वर्ष की लाश तालाब में तैरते हुए देखी जिसके बाद पुलिस को सूचना दी मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए रवाना किया वहीँ दूसरे बच्चे की तलाश के लिए गोताखोरों को तालाब में उतारा जिसपर दूसरे बच्चे मोनू ध्रुव 7 वर्ष की भी लाश बरामद हुई पुलिस ने उसके भी शव को पीएम के लिए भेज दिया है और मामले की जाँच कर रही है ।

 
 
 

आत्म अवलोकन कर विद्यार्थी अपनी कमजोरी को अवसर में बदले: श्री भूपेश बघेल

आत्म अवलोकन कर विद्यार्थी अपनी कमजोरी को अवसर में बदले: श्री भूपेश बघेल

31-Jan-2019

भिलाई : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज भिलाई-3 स्थित डॉ. खूबचंद बघेल शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के वार्षिक स्नेह सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए विद्यार्थियों से कहा कि ऐसा कोई भी लक्ष्य नहीं है, जिसे व्यक्ति हासिल नहीं कर सकता, जरूरत है तो केवल ईमानदार प्रयास, और सही प्लानिंग के साथ कड़ी मेहनत करने की। मुख्यमंत्री ने विद्यार्थियों को लक्ष्य प्राप्ति के लिए आत्म अवलोकन कर आगे बढ़ने और अपनी कमजोरी को अवसर में बदलने का सुझाव दिया।

मुख्यमंत्री ने यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर प्रदर्शित छायाचित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया और छत्तीसगढ़ राज्य के प्रथम स्वप्न दृष्टा डॉ. खूबचंद बघेल और ज्ञान की देवी माता सरस्वती के तैलचित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलित कर स्नेह सम्मेलन का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्नेह सम्मेलन महाविद्यालय का एक उत्सव है तथा विद्यार्थियों के लिए अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर भी है। यह एक संक्रमण काल भी होता है, जो विद्यार्थियों को परीक्षा की तैयारी करने के लिए तरोताजा करता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी के नेतृत्व में देश की आजादी की लड़ाई दुनिया की एक ऐसी लड़ाई है, जो बिना अस्त्र-शस्त्र के तथा सत्य एवं अहिंसा के बल पर लड़ी गई। इससे देश को आजाद करने में कामयाबी मिली। मुख्यमंत्री ने भिलाई-3 में महाविद्यालय खोलने के लिए पूर्व विधायक दाऊ चोलाराम चन्द्राकर का जिक्र करते हुए कहा कि प्रारंभिक सत्र में 5 कमरों में संचालित यह महाविद्यालय अब एक भव्य भवन में संचालित हो रहा है। प्राचार्य द्वारा ध्यान आकर्षित किए जाने पर श्री बघेल ने कहा कि महाविद्यालय परिसर से अतिक्रमण हटाया जाएगा।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय मंत्री श्री गुरू रूद्र कुमार ने अपने उद्बोधन में कहा कि देश के भविष्य निर्माण और व्यक्तिगत विकास के लिए शिक्षा जरूरी है। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. ज्योति राजे सिंह ने महाविद्यालय की शैक्षणिक एवं अन्य गतिविधियों से संबंधित प्रतिवेदन का वाचन किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापकगण, स्थानीय जनप्रतिनिधि और महाविद्यालयीन छात्र-छात्राएं उपस्थित थीं।

 
 
 

कपड़े धोने निकला था युवक, मिली लाश

कपड़े धोने निकला था युवक, मिली लाश

31-Jan-2019

बालोद : बालोद जिला के रोशन नगर क्षेत्र में नहर के पास आज गुरुवार 31 जनवरी को एक 33 वर्षीय शख्स की लाश मिली है मिली जानकारी के अनुसार डौंडीलोहारा विकासखंड के ग्राम सिरपुर निवासी रामावतार साहू 33 वर्ष अपने दोस्त के यहाँ रोशन नगर में रुका हुआ था वह कल (बुधवार ) दोपहर करीब 3 बजे अपने दोस्त से अपने कपड़े धोने के लिए नहर जाने की बात कहकर निकला जब काफी देर के बाद भी रामावतार नहीं लौटा तब उसके साथी ने उसे ढूंढते हुए नहर की ओर गया जहाँ उसे उसके कपड़े दिखे लेकिन उसका दोस्त वहां नहीं था जिसके बाद उसने पुलिस में सूचना दी साथ ही मृतक के परिजन को भी सूचना दी पुलिस रामावतार की खोज के लिए नहर की ओर गया और गोताखोरों से नहर में खोज करने कहा जहाँ से रामावतार की लाश मिली पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है पुलिस पूछताछ में पता चला है की मृतक को मिर्गी की बीमारी थी संभवतः मिर्गी के झटके आने से वह नहर में गिर गया होगा जिससे उसकी जान चली गई फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत की वजह सामने आएगी. 


बाहर से दरवाजे पर लगा था ताला, परिजन तोड़कर पहुंचे अन्दर, ..............दीवान में मिली महिला की लाश

बाहर से दरवाजे पर लगा था ताला, परिजन तोड़कर पहुंचे अन्दर, ..............दीवान में मिली महिला की लाश

30-Jan-2019

कोरबा : जिले के मानिकपुर पुलिस चौकी क्षेत्र के कृष्णा नगर खटाल पारा के एक मकान में एक महिला की प्लास्टिक से लिपटी हुई लाश मिलने से सनसनी फैल गई मीडिया में आई खबरों के अनुसार कृष्णा नगर खटाल पारा निवासी सुप्रिया मल्लिक 24 वर्ष 1 वर्ष पहले अपने पति के गुजरने के बाद अकेली रहती थी मृतका सुप्रिया की एक बेटी है जिसे उसने अपने माता-पिता के पास भेज दिया था और घर पर अकेली रहती थी

सुप्रिया ने अपनी माँ को शादी समारोह में शामिल होने के लिए 23 जनवरी को कोंडागांव आने की बात कही थी लेकिन वह नहीं पहुंची विवाह समारोह संपन्न होने के बाद उसकी मां, पुत्री और भतीजा बीते मंगलवार को कोरबा पहुंचे जहाँ उन्होंने देखा घर पर ताला लगा हुआ है उन्होंने सुप्रिया के मोबाइल पर कॉल किया लेकिन वह बंद था जिसके बाद उन्होंने पुलिस में इसकी सूचना दी और वापस सुप्रिया के घर लौट कर घर का ताला तोड़ा अंदर घुसने पर पूरे मकान से बदबू आ रही थी इस पर उन्होंने पुलिस को सूचना दी मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरे की छानबीन करते हुए दीवान खोला तो उसमे सुप्रिया की प्लास्टिक में लिपटी हुई बिना कपड़ो की लाश मिली इस जानकारी के बाद लोगों की भीड़ लग गई पुलिस ने कमरे को सील कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा साथ ही इस केस में आगे जाँच कर रही है बताया जा रहा है की शव पर चोट के निशान नहीं हैं संभवतः महिला की गला घोंटकर हत्या की गई होगी ।


कुटीर उद्योगों के प्रोत्साहन से मजबूत होगी ग्रामीण अर्थव्यवस्था: मुख्यमंत्री श्री बघेल

कुटीर उद्योगों के प्रोत्साहन से मजबूत होगी ग्रामीण अर्थव्यवस्था: मुख्यमंत्री श्री बघेल

30-Jan-2019

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने से ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुधार आएगा और बहनों को रोजगार मिलेगा। गांव में निर्मित वस्तुओं की पूरे देश भर में बिक्री होगी और स्व सहायता समूहों द्वारा निर्मित खाद्य सामग्रियों का आनंद ग्राहकों को भी मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल कल रात राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में क्षेत्रीय सरस मेले का शुभारंभ किया । ग्रामीण महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के लिए पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग और जिला पंचायत रायपुर द्वारा आगामी 5 फरवरी तक चलने वाले इस आठ दिवसीय मेले का आयोजन किया गया है। 

    मेले में महिला स्व सहायता समूहों द्वारा उत्पादित सामग्रियों का विक्रय सह प्रदर्शन किया गया है। नगरीय प्रशासन एवं श्रम मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। राज्यसभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा, रायपुर नगर पश्चिम के विधायक श्री विकास उपाध्याय और जिला पंचायत रायपुर की अध्यक्ष श्रीमती शारदा वर्मा कार्यक्रम में विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थी। 

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा, गरुवा, घुरवा और बाड़ी को बचाने के लिए महिला स्व सहायता समूहों की बहनों से सहयोग का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि गौ पालन हमारी परंपरागत ग्रामीण व्यवस्था का अभिन्न अंग रहा है। गौ पालन को घरेलू कार्य माना जाता था और बेटियां दूध दुहने का काम करती थी इसीलिए बेटियों को दुहिता भी कहा जाता है। उन्होंने कहा कि रायपुर जिले के धनेली गांव में गोठान और चारागाह को मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां पशुओं के लिए पेयजल और सेड की व्यवस्था की जाएगी। निकट भविष्य में यह केंद्र दूध कलेक्शन और विक्रय के केंद्र के रूप में विकसित होंगे। इसी तरह प्रदेश के सभी गांवों का विकास किया जाएगा। 
    मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी भाषा में जनता को संबोधित करते हुए आयोजन की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ के बीजापुर से लेकर सरगुजा तक की बहनें भागीदारी कर रही हैं इसके साथ ही साथ महाराष्ट,ª ओडिशा, पश्चिम बंगाल, असम, केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, हरियाणा, जम्मू एवं कश्मीर, उत्तर प्रदेश, झारखंड, मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड की महिला स्व सहायता समूह और अन्य उद्यमियों ने भी प्रदर्शनी में हिस्सा लिया है। श्री बघेल ने इसके पहले प्रदर्शनी के विभिन्न स्टॉलों का अवलोकन कर महिलाओं का उत्साहवर्धन किया। रायगढ़ जिले के एकताल ग्राम की श्रीमती पदमा बाई अझारा के स्टॉल में जाकर मुख्यमंत्री ने बेलमेटल से निर्मित तुरही सहित विभिन्न कलाकृतियों का अवलोकन किया। श्री बघेल ने तुरही को बजाकर भी देखा। शंख ध्वनि करने वाले इस वाद्य यंत्र का उपयोग छत्तीसगढ़ के ग्रामीण क्षेत्रों में मंदिरों और मड़ाई मेलों में लोक संगीत और नृत्य के दौरान किया जाता है। मुख्यमंत्री ने समूह की महिलाओं द्वारा निर्मित खाद्य सामग्रियों का भी स्वाद लिया। 

नगरीय प्रशासन एवं श्रम मंत्री डॉ शिव कुमार डेहरिया ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा है कि महिलाएं अपने पैरों पर खड़ी हो और गढ़वो नवा छत्तीसगढ़ में सहभागी बने। उन्होंने यह भी बताया कि विभिन्न विभागों में जेम पोर्टल की जगह विभिन्न वस्तुओं की खरीददारी छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम सीएसआईडीसी के माध्यम से की जाएगी इससे कुटीर उद्योगों को भी लाभ होगा । 

    कलेक्टर डॉ. बसवराजु ने बताया कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्व सहायता समूहों द्वारा हेन्डलूम, वेलमेटल बैम्बू क्राफ्ट, कोसा साड़ी, शूट, मेटल्स, लकड़ी के खिलौने, बुडन क्राफ्ट, आचार, पापड़, बड़ी, जैविक खाद सहित अन्य उत्पादों का विक्रय सह प्रदर्शन किया जा रहा है। मेला में प्रतिदिन शाम 5 बजे से रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जा रहे है। 

     जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री दीपक सोनी ने बताया कि छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत बिहान मिशन 25-25 संचालित किया जा रहा है। जिले में 2 हजार 186 महिला स्व सहायता समूह लिंकेज किए गए है।  रायपुर जिले में 2 हजार 383 संस्थाओं से संपर्क कर 2 हजार 397 कार्यादेश प्राप्त किए गए है और अभी तक करीब 5 करोड़ 5 लाख रूपए के कार्य समूहों द्वारा प्राप्त किए गए है। जिले में बिहान महिला समूहों द्वारा फ्लाई ऐश ईंट, पेवर ब्लाक सहित विभिन्न उत्पादों का कुशलतापूर्वक निर्माण किया जा रहा है। 


प्रदेश में संसाधनों की कमी नहीं, लोहा और कोयला के अलावा अन्य उद्योगों को दिया जाएगा बढ़ावा

प्रदेश में संसाधनों की कमी नहीं, लोहा और कोयला के अलावा अन्य उद्योगों को दिया जाएगा बढ़ावा

30-Jan-2019

रायपुर : प्रदेश में संसाधनों की कमी नहीं है। इन संसाधनों का समुचित उपयोग करने की जरूरत है, साथ ही इस बात पर जोर देने की आवश्यकता है कि पर्यावरण का नुकसान भी नहीं हो। प्रदेश में लोहा और कोयला पर आधारित उद्योग के अलावा अन्य उद्योग को बढ़ावा देना है, विशेष कर कृषि आधारित उद्योगों को। उक्त बातंे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीय (सीआईआई) द्वारा कल रात को आयोजित कार्यक्रम में कही। 

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि प्रदेश में कृषि उत्पाद जैसे-केला, मक्का, टमाटर, चना की पैदावार अधिक है, लेकिन सिर्फ धान पर ध्यान देकर उद्योगों की स्थापना की गई है। आने वाले दिनों में अन्य फसलों से संबंधित उद्योगों का भी विकास किया जाना चाहिए। राज्य में आईटी, हेल्थ, कृषि से संबंधित उद्योग लगाए जाने हेतु पर्याप्त संसाधन है, सभी राज्यों से आवागमन की उचित सुविधाएं हैं। उद्योग विभाग आपके सहयोग के लिए है। उद्योगों की स्थापना पर्यावरण नियमों के दायरे में रहकर लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। प्रदेश में उद्योगों की स्थापना से रोजगार का अवसर मिलेगा तथा सरकार को राजस्व की प्राप्ति भी होगी।

इस अवसर पर उद्योगपतियों ने विभिन्न उद्योगों से संबंधित सुझाव तथा समस्याओं को रखा तथा नई उद्योग नीति बनाने की मांग की। मुख्यमंत्री ने उद्योग नीति के लिए हाई पावर कमेटी का गठन करने तथा अधिकारियों, उद्योगपतियों की सम्मलित बैठक करने के निर्देश दिए। चर्चा में उद्योगपतियों ने बताया कि प्रदेश की संसाधनों का लाभ यहां के उद्योगों के बजाय कई बार अन्य राज्यों को मिलता है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ से लोहा, कोयला एवं अन्य संसाधनों की कमी नही है। प्राथमिकता के तौर पर प्रदेश के उद्योगों को पर्याप्त संसाधन मिलने चाहिए। डेयरी उद्योग या पशुपालन से संबंधित कार्याे के लिए सरकार ने नरवा, गरूवा, घुरवा, बारी कार्यक्रम के तहत फोकस किया जा रहा है। गौठान के माध्यम से गोबर गैस व खाद का निर्माण किया जाएगा। उद्योगपति भी गोबर गैस व्यवसाय में सहयोग करे तो बेहतर है।

रासायनिक खाद की जगह वर्मी खाद या गोबर खाद को प्राथमिकता देने का प्रयास किया जा रहा है। गौठान से दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा दिया जा रहा है, इसके लिए चैनलाइन बनाया जाएगा जिसे हर गांव को जोड़ने की कार्ययोजना है। इस अवसर पर सीआईआई के पदाधिकारी श्री पंकज शारदा, रमेश अग्रवाल, नीता करमाकर, सतीश पाण्डेय सहित प्रदेश के विभिन्न उद्योगोें से संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।


कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में बोले मुख्यमंत्री- आम जनता की समस्याओं का निराकरण है राज्य की पहली प्राथमिकता

कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में बोले मुख्यमंत्री- आम जनता की समस्याओं का निराकरण है राज्य की पहली प्राथमिकता

29-Jan-2019

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि आम जनता की समस्याओं का निराकरण उनकी सरकार की पहली प्राथमिकता है। समस्याओं को ढकने या उसे मैनेज करने के बजाय समस्याओं का स्थाई हल निकालने पर अधिकारी जोर दें। श्री बघेल ने आज रायपुर के नवीन विश्रामगृह के सभागार में पहली कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में यह बात कहीं। 

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि आम नागरिकों को अपनी छोटी-छोटी समस्याओं के निराकरण के लिए भटकना ना पड़े। तहसील स्तर की समस्या का निराकरण तहसीलदार स्तर पर, थाना स्तर की समस्या थाना स्तर पर और जिला स्तर की समस्या का निराकरण जिला स्तर पर होना चाहिए। नामांतरण, बटवारा, सीमांकन, बिजली कनेक्शन लेने जैसी स्थानीय स्तर पर निराकृत होने वाली की समस्या के हल के लिए नागरिकों को राजधानी तक भटकने की जरूरत नही पड़नी चाहिए। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि मुझे अपने अधिकारियों पूरा भरोसा और मुझे जनहित में सरकारी अमले से काम लेना भी आता है।

डीएमएफ की राशि से शिक्षा, स्वास्थ्य एवं जीवन स्तर का हो सुधार

    मुख्यमंत्री ने जिला खनिज न्यास निधि (डीएमएफ फंड) की राशि का इस्तेमाल खनन प्रभावित क्षेत्र में निवास करने वाले आदिवासी एवं ग्रामीणों की शिक्षा, स्वास्थ्य एवं जीवन स्तर के सुधार के लिए करने पर जोर दिया और कहा कि इस राशि का उपयोग वहां के नागरिकों के उत्थान और विकास में लगाना चाहिए। अगर इस फंड का उपयोग प्रभावित क्षेत्रों में स्कूलों में अच्छे शिक्षकों की व्यवस्था करने, अस्पतालों में डॉक्टरों की नियुक्ति करने, पशुओं के जीवनरक्षा या संवर्धन के लिए किया जाता है तो उसका स्वागत है। 

    मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना ‘‘नरवा, गरूवा, घुरवा, बारी‘‘ की परिकल्पना से छत्तीसगढ़ के ग्रामीण क्षेत्रों की दशा में अमूल चूक परिवर्तन आएगा और ग्रामीण स्वावलंबन की अर्थव्यवस्था की दिशा में भी कार्य होगा। छत्तीसगढ़ के ग्रामीण क्षेत्र के लोग पहले बाहर से केवल नमक लेते थे, शेष जरूरत की सभी चीजें गांव में ही पैदा कर लेते थे, लेकिन आज गांव के लोग रोजगार तथा सामग्री के लिए शहर के ओर भाग रहे है। इसे बदलने की जरूरत है। मुख्यमंत्री अपने धारा प्रवाह उद््गार में ‘‘नरवा, गरूवा, घुरवा, बारी‘‘ के एक-एक बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा की, इसके माध्यम से जल संसाधनों को बढ़ाने, पशुधन का संवर्धन करने, जैविक खाद के माध्यम से फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, रोजगार देने तथा खेतो में स्वास्थ्य कृषि उत्पाद के माध्यम से पोषक तत्वों को बढ़ाने की चर्चा की और उनसे भूस्तर जैसे तालाब आदि के साथ नदियों के जल का संवर्धन करने के तथा जमीन के नीचे के जल स्तर को बढ़ाने, गोबर गैस का भरपूर उपयोग करने, पर जोर दिया। उन्होंने अधिकारियों से अपने ज्ञान, कौशल तथा उच्च तकनीकी जैसे सेटेलाईट इमेजिंग, जीआईएस के माध्यम से ऐसी व्यवस्था करने पर जोर दिया जिससे नदियों में ज्यादा से ज्यादा पानी उपलब्ध रहे।

    मुख्यमंत्री ने अपने सार्वजनिक जीवन और छत्तीसगढ़ के ग्रामीण जनजीवन के अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि इसके लिए हमें व्यवहारिक दृष्टि अपनाने की जरूरत है। उन्होंने सभी ग्राम पंचायतों और गांवों में गौठानों के लिए छायादार बड़ी जगह चिन्हांकित करने के निर्देश दिए, जो पशुधन के लिए ‘डे केयर सेन्टर‘ की तरह कार्य करें। आज हमारे मवेशी पशुधन है लेकिन आज सुव्यस्थित प्रबंधन तथा फसलों को चरने के कारण लोगों को ये बोझ लगने लगे है, उनके सड़कों में बैठने से दुर्घटना हो रही है। यह राज्य की सबसे बड़ी समस्या में से एक है। छत्तीसगढ़ की मवेशी भले दुध कम देते हो लेकिन उनमें बीमारियों से लड़ने की अधिक ताकत है और उनका गोबर भी बेहद उपयोगी है। हर कलेक्टर पशुधन संर्वधन के लिए गौठान के माध्यम से कार्ययोजना बनाएं। 

    गांवों में गौठानों को इस प्रकार बनाया जाए जिससे कीचड़ न हो, मवेशियों को पानी और छाया मिले और यहां उनके गोबर का उपयोग गोबर गैस प्लांट, कम्पोस्ट प्लांट और वर्मी कम्पोस्ट प्लांट लगाए में किया जाए। गोबर गैस का उपयोग गांव में ईधन या गैस चूल्हा जलाने में भी किया जाए जिससे उज्ज्वला गैस के माध्यम से लगने वाली बड़ी राशि में कमी आए। उन्होंने इसी तरह गांव में चारागाह विकास करने और समतलीकरण कराने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा इन प्रयासों से गांव में रोजगार के साधन बढे़ंगे, कृषि को बढ़ावा मिलेगा और ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुधार होगा। उन्होंने कहा ‘‘नरवा, गरूवा, घुरवा, बारी‘‘ की माध्यम से आप एक बड़ा ही कार्य के लिए आगे आ रहे है और इसके माध्यम से छत्तीसगढ़ को एक मॉडल राज्य बनाना है। 

    मुख्यमंत्री ने वन अधिकार मान्यता पत्र के सामुदायिक एवं व्यक्तिगत दावे के प्रकरणों की समीक्षा कर लंबित प्रकरणों के निराकरण के निर्देश दिए। उन्होंने जुआ, सट्टा, अवैध शराब, कोयला की तस्करी पर लागाम लगाने के लिए पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए। उन्होंने छत्तीसगढ़ लोक सेवा गारंटी अधिनियम के अंतर्गत समय सीमा में सेवाएं प्रदान करने कहा। 
    बैठक में मुख्य सचिव श्री सुनील कुजूर, पुलिस महानिदेशक श्री डी.एम. अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सर्वश्री अमिताभ जैन, के.डी.पी. राव, आर.पी. मंडल, सी.के. खेतान, मुख्यमंत्री के सचिव श्री गौरव द्विवेदी सहित विभिन्न विभागों के प्रमुख सचिव, सचिव, कमिश्नर, पुलिस महानिरीक्षक, कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक उपस्थित थे। 

 


सीआरपीएफ कैम्प में सामान सप्लाई करने वाले पिकअप पर नक्सली हमला, तीर से घायल हुआ चालक

सीआरपीएफ कैम्प में सामान सप्लाई करने वाले पिकअप पर नक्सली हमला, तीर से घायल हुआ चालक

29-Jan-2019

दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने सीआरपीएफ के कैम्प में जवानों को सामान सप्लाई कर लौट रही पिकअप को अपना निशाना बनाने की कोशिश की नक्सलियों ने पिकअप के ड्राईवर पर तीर और पत्थरों से हमला कर दिया इस हमले में ड्राईवर के हाथ में दो तीर लगे जिससे वह घायल हो गया किसी तरह पिकअप के चालक ने घायल अवस्था में ही गाड़ी दौड़ाकर अपनी जान बचाई बताया जा रहा है की पिकअप चालक CRPF कैम्प में सप्लाई कर वापस लौट रहा था की रास्ते में नक्सलियों ने एक पेड़ काटकर बिछा दी थी खतरा भांपकर ड्राईवर ने गाड़ी की रफ्तार बढ़ा दी जिसके बाद नक्सलियों ने पिकअप पर धनुष तीर और पत्थरों से हमला कर दिया इस घटना की पुष्टि अरनपुर थाना टीआई सोन सिंह सोढ़ी ने की है.


राजधानी रायपुर पहुंचे राहुल गाँधी, किसान आभार रैली का आगाज

राजधानी रायपुर पहुंचे राहुल गाँधी, किसान आभार रैली का आगाज

28-Jan-2019

रायपुर : राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी आज छत्तीसगढ़ दौरे पर राजधानी रायपुर पहुँच चुके हैं स्वामी विवेकानंद एअरपोर्ट पर राहुल गाँधी का स्वागत करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया सहित अन्य कांग्रेसी नेता मौजूद थे राहुल गाँधी किसान आभार रैली को संबोधित करने के लिए रायपुर पहुंचे हुए हैं एअरपोर्ट से वे अटल नगर (नया रायपुर) के लिए रवाना हुए अभी ताजा जानकारी के अनुसार किसान आभार रैली की शुरुआत हो चुकी है विस्तृत खबर की प्रतीक्षा है.  

 
 
 

डाक्टरों से मारपीट मामला : 30 जनवरी को सुबह 8 बजे से 2 बजे तक सभी अस्पतालों के ओपीडी रहेगी बंद, IMA का निर्णय

डाक्टरों से मारपीट मामला : 30 जनवरी को सुबह 8 बजे से 2 बजे तक सभी अस्पतालों के ओपीडी रहेगी बंद, IMA का निर्णय

28-Jan-2019

रायपुर : आज इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने 30 जनवरी को सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक ओपीडी बंद रखने का निर्णय लिया है. इस बंद के दौरान आपातकालीन सेवाएँ जारी रहेंगी आईएमए ने कोरबा और भिलाई में डॉक्टरों के साथ हुई हाथापाई के विरोध में यह फैसला किया है आईएमए के एक्शन कमेटी चेयरमैन डॉ. महेश सिन्हा के नेतृत्व  में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू को भी ज्ञापन दिया जाएगा 


नक्सली उत्पात, सड़क निर्माण में लगे वाहनों को किया आग के हवाले

नक्सली उत्पात, सड़क निर्माण में लगे वाहनों को किया आग के हवाले

25-Jan-2019

बलरामपुर : नक्सली उत्पात एक बार फिर सामने आई है दरअसल बीती रात गुरुवार को नक्सलियों ने चांदो से सबाग तक सड़क निर्माण कार्य में लगे वाहनों को आग के हवाले कर दिया और वहां पर्चा छोड़कर चेतावनी दी की यहाँ सड़क निर्माण न किया जाए जिन गाड़ियों को नक्सलियों ने आग के हवाले किया है उसमें पोकलेन, हाइवा सहित कई गाड़ियां है गाड़ियों के आंकड़े स्पष्ट रूप से नहीं मिल पाया है. 


बलौदाबाजार-भाटापारा जिले में 51 पुलिसकर्मियों का ट्रांसफर

बलौदाबाजार-भाटापारा जिले में 51 पुलिसकर्मियों का ट्रांसफर

24-Jan-2019

बलौदाबाजार : गणतंत्र दिवस के पहले बलौदाबाजार और भाटापारा जिले में 17 प्रधान आरक्षकों और 34 आरक्षकों का ट्रांसफर किया गया है कुल 51 पुलिसकर्मियों को ट्रांसफर हुए हैं इनमें से ज्यादातर आरक्षक थानों में तैनात हैं तो कुछ रक्षित आरक्षी केंद्र में तैनात बताए जा रहे हैं। पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने यह तबादला आदेश जारी किया हैं। प्रधान आरक्षक रामगोपाल शर्मा को थाना गिधौरी से यातायात शाखा भाटापारा में भेजा गया है। वहीं प्रधान आरक्षक अलखराम डहरिया का तबादला पुलिस चौकी लवन से गिधपुरी थाना किया गया है। 


वन अधिकार मान्यता एक्ट से  नागरिक बने अधिकार सम्पन्न : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

वन अधिकार मान्यता एक्ट से नागरिक बने अधिकार सम्पन्न : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

24-Jan-2019

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में कल ‘‘अनुसूचित जनजाति एवं अन्य परम्परागत वन निवासी (वन अधिकारों की मान्यता) अधिनियम-2006’’ एवं इसके संशोधित नियमों के क्रियान्वयन के संबंध में समीक्षा-परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस एक्ट के माध्यम से 13 दिसम्बर 2005 से पूर्व वन क्षेत्रों में तीन पीढि़यों एवं 75 सालों से रहने वाले नागरिकों को लाभान्वित करने का प्रावधान है। जरूरत इस बात की है कि इन नियमों का भली-भॉति पालन हो और वन क्षेत्रों में रहने वाले नागरिकों को उनका अधिकार मिल सके, वे समृद्ध बने और इससे छत्तीसगढ़ भी बेहतर बनें। उन्होंने इसके लिए अनुविभाग स्तर, जिला स्तर और राज्य स्तर पर कमेटी बनाकर लंबित प्रकरणों के निराकरण करने को कहा। 

    श्री बघेल ने कहा कि वन क्षेत्रों में नागरिक हजारों वर्षो से रह रहे हैं। उन्होंने अपना नाम पटवारी रिकार्ड में दर्ज कराने के लिए संघर्ष नहीं किया। रिकार्ड में उनका नाम नहीं होना, अपराध नहीं है। सरकार ने उनकी भावना और समस्याओं को समझा है। उनके जायज अधिकार उन्हें मिलने चाहिए। उन्होंने इस कार्य को एक अभियान की तरह लेने की जरूरत है, लेकिन इस बात की भी सावधानी रखने की जरूरत है कि हड़बड़ी में रिकार्ड गलत न बन जाए, क्योकि गलत रिकार्ड को सुधारवाने में बरसों का समय लग जाता है। इस एक्ट के क्रियान्वयन केलिए राजस्व, वन एवं आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारी कर्मचारियों को मिलजुल कर समन्वय से कार्य करने की जरूरत है, जिससे कानून का सहीं ढ़ंग से पालन हो। 

    मुख्यमंत्री ने पूर्व में अपनाये गए सामुदायिक दावों के प्रति उपेक्षापूर्ण रवैय्या को बदलने को कहा तथा यह भी कहा कि जंगल को बचाने का कार्य जंगल के लोग ही अच्छे से कर सकते हैं। अगर समुदाय द्वारा सामुदायिक दावा नहीं किया गया तो उसे अभी भी लिया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिकों को लगना चाहिए कि यह सरकार हमारी है और इसके अधिकारी और कर्मचारी उनके सहयोगी और मार्गदर्शक है।

ऐसा भाव अधिकारियों और कर्मचारियों के मन में भी होना चाहिए। उन्होंने विशेष रूप से पिछड़ी जनजातियों के नागरिकों को उनका वास्तविक हक दिलाने के लिए स्वयं आगे बढ़ कर कार्य करने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले भविष्य में जंगलों में अतिक्रमण नहीं हो, इसके लिए भी पूरी तरह से सावधानी बरतने की जरूरत है। अतिक्रमण से जंगल को बचाने में वन प्रबंधन समिति और ग्राम सभा सक्षम है और उन्हें अपनी अहम भूमिका निभाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस एक्ट के क्रियान्वयन में जहां वन एवं राजस्व विभाग की महत्वपूर्ण भूमिका है, वहीं आदिम जाति कल्याण विभाग नोडल विभाग है। उन्हें अपने दायित्वों का सक्रियतापूर्वक निर्वहन करने की जरूरत है। 

    अनुसूचित जाति एवं जनजाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने कहा कि वन अधिकार पत्र सरकार की घोषणा पत्र में शामिल है। इसका कड़ाई से पालन किया जाएगा। वन क्षेत्र में रहने वाले पात्र व्यक्तियों एवं समुदाय को वन अधिकार पत्र एवं सामुदायिक अधिकार पत्र दिए जाएगें। वन क्षेत्रों में निवास करने वाले आदिवासी एवं गैर आदिवासी जंगल को नुकसान नहीं पहुंचाते, बल्कि उसका बेहतर प्रबंधन करते हैं। वन क्षेत्र में खेती करने वालों को भी अधिकार मिलना चाहिए। वन अधिकार पत्र देने के लिए गठित समितियों को पुर्नजीवित किया जाएगा। अधिनियम के प्रावधान के तहत निर्धारित तिथि की एक दिन पहले का भी कब्जा है तो उसे अधिकार दिया जाएं। उन्होंने इस संबंध में जनजागरूकता बढ़ाने और स्थानीय भाषा में जानकारी दिए जाने की जरूरत है।

    वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत जो अधिकार पत्र दिए गए है, उसमें काबिज भूमि कम होने या कब्जा का स्थान परिवर्तित होने जैसी शिकायतों भी आती है इनका भी निराकरण होना चाहिए। वन विभाग वन अधिकार पत्र वितरण के बाद इसका प्रबंधन भी देखे। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव ने सुझाव दिया कि वन अधिकार मान्यता पत्र में जाति का उल्लेख किया जाए जिससें भविष्य में इसका उपयोग जाति प्रमाण पत्र बनाने में भी किया जा सकें। प्रसिद्ध समाज सेवी श्री राजगोपाल ने वन क्षेत्रों में अपने अधिकार के लिए संघर्ष करने वालों के लिए सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए इसे ऐतिहासिक कदम बताया और कहा कि महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती वर्ष में छत्तीसगढ़ की सरकार गरीबों और वनवासियों के कल्याण के बारे में समुचित कदम उठा रही है।  

    परिचर्चा में मुख्य सचिव श्री सुनील कुजूर, अपर मुख्य सचिव श्री सी.के. खेतान, अपर मुख्य सचिव श्री के.डी.पी. राव, मुख्यमंत्री एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव श्री गौरव द्विवेदी, मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री राजेश तिवारी एवं श्री प्रदीप शर्मा सहित महाराष्ट्र और ओडिशा राज्यों में वन अधिकार अधिनियम के क्षेत्र में कार्य करने वाले स्वयं सेवी संस्थाओं, राज्य शासन के वरिष्ठ अधिकारी, जिला कलेक्टर, वन एवं आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारी, वन समितियों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


सिम्स आगजनी घटना : आज एक और बच्चे की मौत, स्वास्थ्य मंत्री पहुंचे बिलासपुर

सिम्स आगजनी घटना : आज एक और बच्चे की मौत, स्वास्थ्य मंत्री पहुंचे बिलासपुर

23-Jan-2019

बिलासपुर : बीते दिन सिम्स अस्पताल में लगे आग के बाद ICU से शिफ्ट किए गए बच्चो में आज एक बच्चे की निजी अस्पताल में मौत हो गई बीते दिन ही एक बच्चे की धुंए से दम घुटकर मौत हो गई थी आपको जानकारी दे दें की मंगलवार 23 जनवरी को सिम्स में आग लगने की घटना हो गई थी जिसके कारण ICU में धुंआ भर गया था जिससे एक बच्चे की दम घुटकर मौत हो गई थी और आज एक और बच्चे की मौत की खबर आ रही है स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहेदव आज शाम बिलासपुर पहुंचे जहाँ जहाँ  बच्चो को भर्ती किया गया है वहां पहुंचकर उनका जायजा लिया स्वास्थ्य मंत्री ने कहा की इस घटना की जाँच की जाएगी दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा 


राजीव दीक्षित की मौत की नए सिरे से होगी जाँच, PMO से आदेश जारी

राजीव दीक्षित की मौत की नए सिरे से होगी जाँच, PMO से आदेश जारी

23-Jan-2019

दुर्ग : स्वदेशी उत्पादों के प्रणेता रहे भारत स्वाभिमान आंदोलन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव दीक्षित की मौत की जाँच के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय ने निर्देश दिया है अब राजीव दीक्षित की मौत की जाँच नए सिरे से होगी एक दुर्ग के प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी ने पीएमओ से जांच के लिए पत्र आने की पुष्टि करते हुए कहा कि जांच के लिए दुर्ग पुलिस अधीक्षक के पास इसे भेजा जा रहा है। आपको बता दें कि  29-30 नवंबर 2010 की दरम्यानी रात को भिलाई के बीएसआर अपोलो अस्पताल में राजीव दीक्षित की मौत हो गई थी। भिलाई में प्रवास के दौरान हुई उनकी अचानक मौत पर तत्कालीन जिला प्रशासन ने उनका पोस्टमार्टम कराए बिना ही अंतिम संस्कार हेतु गृहनगर भेज दिया था। जबकि कई लोगों का यह कहना था कि उनका शव नीला पड़ गया था आपको बता दें कि राजीव दीक्षित एलोपैथी चिकित्सा के धुर विरोधी थे वह स्वदेशी दवाइयों से उपचार पर जोर दिया करते थे फिलहाल इस जाँच से यही उम्मीद लगाया जा रहा है की राजीव दीक्षित की मौत पर नया खुलासा हो सकता है