वोडाफोन M-paisa और PhonePay समेत 5 कंपनियों पर RBI ने लगाया जुर्माना

वोडाफोन M-paisa और PhonePay समेत 5 कंपनियों पर RBI ने लगाया जुर्माना

04-May-2019

नई द‍िल्‍ली: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank of India) ने शुक्रवार को पांच प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट इंश्यूर्स (PPI) पर जुर्माना लगाया है। जी हां रिजर्व बैंक (Reserve Bank) ने रेग्युलेटरी नॉर्म्स (Regulatory Norms) के उल्लंघन पर वोडाफोन एम-पेसा (Vodafone m-pesa) और फोनपे (PhonePe) सहित 5 प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रुमेंट (PPI) पर जुर्माना लगाया है। जानकारी दें कि इसके साथ ही वेस्टर्न यूनियन फाइनेंशियल सर्विसेस और मनीग्राम पेमेंट सिस्टम्स (MoneyGram Payment Systems) पर भी गाइडलाइंस (Guidelines) का पालन नहीं करने पर जुर्माना लगाया गया है, जो अमेरिकी कंपनी हैं। 

बता दें कि आरबीआई (RBI) ने एक बयान में कहा हैं कि पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम्स एक्ट (Payment and Settlement Systems Act) , 2007 के सेक्शन 30 में निहित अधिकारों के तहत आरबीआई (RBI) ने रेग्युलेटरी गाइडलाइंस (Regulatory Guideline) का पालन नहीं करने पर 5 पीपीआई (PPI) इश्युअर्स (Issues) पर पेनल्टी (Penalty) लगाई है। 


फिल्म ''दृश्यम'' की तर्ज पर प्रेमिका की हत्या कर आंगन में दफना दिया था शव, 6 महीने बाद खुला राज

फिल्म ''दृश्यम'' की तर्ज पर प्रेमिका की हत्या कर आंगन में दफना दिया था शव, 6 महीने बाद खुला राज

03-May-2019

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के सआदतगंज से 6 महीने पहले लापता हुई रामजानकी (32) का शव बुधवार को मानकनगर निवासी उसके प्रेमी के आंगन में गड़ा मिला। हत्याकांड का खुलासा करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। जानकारी के अनुसार, सआदतगंज निवासी रामजानकी (32) बीते साल 27 अक्टूबर की रात अचानक घर से लापता हो गई थी। उसकी मां ने दूसरे दिन सआदतगंज थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। एएसपी पश्चिमी विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि जांच पड़ताल में बिजेंद्र कुमार यादव का नाम प्रकाश में आया। 

बिजेंद्र के महिला से थे संबंध

पुलिस ने बताया कि बिजेंद्र कुमार यादव उर्फ मोटू के संबंध महिला से था। इंस्पेक्टर महेश पाल ने बताया कि महिला के फोन का सीडीआर निकाला गया तो गायब होने वाली रात आखिरी कॉल जितेंद्र की मिली। पुलिस घर पहुंची तो पता चला कि कई महीने से घर छोड़कर भागा हुआ था। बुधवार को वह घर आया तो पुलिस ने पकड़ लिया। 

एएसपी पश्चिमी विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि रामजानकी के पति की कुछ साल पहले मौत हो गई थी। 8 साल के बेटे व 5 साल की बेटी को अकेली पाल रही थी। करीब एक साल पहले जितेंद्र से उसका प्रेम संबंध हो गया था। 27 अक्टूबर की रात रामजानकी उसके घर पहुंचीं तो वह शराब के नशे में धुत था। वहां दोनों के बीच झगड़ा हुआ और विजेंद्र ने ईंट से रामजानकी पर हमला कर दिया। सिर पर ईंट लगने से वह लहूलुहान होकर गिर पड़ी। इसके बाद विजेंद्र ने कमरे में बिखरा खून साफ किया और घर के पीछे स्थित खाली जगह पर गड्ढा खोदकर उसे गाड़ दिया। पुलिस ने विजेंद्र के घर जाकर उक्त जगह पर खोदाई की जहां रामजानकी का कंकाल मिल गया। 


ओडिशा में समुन्द्र की तट से टकराया चक्रवाती तूफान फोनी, हो रही है बारिश!

ओडिशा में समुन्द्र की तट से टकराया चक्रवाती तूफान फोनी, हो रही है बारिश!

03-May-2019

ओडिशा की तरफ बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ‘फनि’ सूबे में दस्तक दे चुका है। ओडिशा के तट से फनि की टक्कर के साथ ही तेज हवाओं के साथ बारिश भी शुरू हो गई है। इससे पहले रफ्तार पकड़ चुका फनि तेजी से ओडिशा के तट की तरफ बढ़ रहा था।
इंडिया टीवी न्यूज़ डॉट कॉम के अनुसार, तटीय ओडिशा में चक्रवात फनि की वजह से बारिश और तेज हवाएं चलने के बीच राज्य सरकार ने 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा और लोगों से शुक्रवार को घरों में रहने की सलाह दी।
अत्यंत प्रचंड च्रकवात ओडिशा के तट की ओर बढ़ रहा है और यह अनुमानित समय दोपहर बाद 3 बजे से बहुत पहले ही सुबह में तटीय क्षेत्र से टकरा गया। राज्य के मुख्य सचिव ए. पी. पधी ने कहा था कि चक्रवात के धार्मिक नगरी पुरी के बेहद करीब शुक्रवार को पुरी पहुंचने की संभावना है।
बताया जा रहा है कि फनि ओडिशा में 4-5 घंटे तक तांडव मचाएगा। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लोगों से अपील की है कि वे इस दौरान घरों के अंदर ही रहें और कहा कि लोगों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं।

इस बीच, नई दिल्ली मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय तटरक्ष बल और नौसेना ने भी राहत इंतजाम में अपने पोत और कर्मियों को तैनात किया है। तट रक्षक बल ने ट्वीट कर कहा कि चक्रवाती तूफान फनि को देखते हुए 34 राहत दलों और 4 तटरक्षक पोतों को राहत कार्य के लिए तैनात किया गया है।

नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने दिल्ली में कहा कि भारतीय नौसेना के पोत सहयाद्री, रणवीर और कदमत को राहत सामग्री तथा चिकित्सा दलों के साथ तैनात किया गया है, जिससे वे चक्रवात के तटीय इलाके से गुजरने के फौरन बाद राहत कार्य शुरू कर सकें।


थाईलैंड में राजा ने अपनी बॉडीगार्ड से की चौथी शादी

थाईलैंड में राजा ने अपनी बॉडीगार्ड से की चौथी शादी

02-May-2019

नई दिल्ली: थाईलैंड के राजा वाजीरालोंग्कोर्न ने अपने राजतिलक से ठीक पहले एक ऐसा अप्रत्याशित कदम उठाया है जिसकी चर्चा पूरे विश्व में हो रही है. आपको बता दें कि वाजीरालोंग्कोर्न ने अपने निजी सुरक्षा गार्ड्स के डिप्टी कमांडर से शादी कर ली है. बुधवार को शादी के बाद राजघराने की तरफ एक अधिकारिक बयान जारी किया गया. इस शादी के बाद वाजीरालोंग्कोर्न की पत्नी सुथिदा को रानी की उपाधि मिल गई है. शादी को लेकर जारी किए गए शाही बयान में कहा गया है, "राजा वाजीरालोंग्कोर्न ने "जनरल सुथिदा वाजीरालोंग्कोर्न ना अयुध्या को उनकी शाही पत्नी, रानी सुथिदा के तौर पर प्रमोट करने का फैसला किया है, और वह शाही खिताब और शाही परिवार के हिस्से के रूप में दर्जा रखेंगी".

राजा पहले कर चुके हैं तीन शादी और तीन तलाक
आपको यहां यह भी बता दें कि 66 साल के वाजिरालोंगकोर्न को उनके पिता राजा भूमिबोल अदुलयादेज की अक्टूबर 2016 में हुई मौत के बाद 'सम्राट' बनाए जाने की घोषणा की गई थी. वाजिरालोंगकोर्न के पिता ने 70 साल तक सिंहासन संभाला था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वाजिरालोंगकोर्न को शनिवार को एक पारंपरिक समारोह में आधिकारिक रूप से ताज पहनाया जाएगा. लेकिन उससे पहले ही इन दोनों की शादी ने थाईलैंड की जनता को आश्चर्य में डाल दिया. वाजीरालोंग्कोर्न की इससे पहले तीन शादियां हो चुकी हैं और तीनों पत्नी से इनका तलाक हो चुका है. इन शादियों से उनके 7 बच्चे भी हैं.

पहले से होती रही है इनके रिश्तों की चर्चा
बुधवार को थाईलैंड के सरकारी टीवी चैलन पर इन दोनों की शादी समारोह को दिखाया गया. वीडियो में देखा गया कि शादी के दौरान किंग वाजीरालोंग्कोर्न क्वीन सुथिदा के सिर पर पवित्र जल डाल रहे थे. इसके बाद इन दोनों ने रजिस्टर में साइन किए. आपको यह भी बता दें कि साल 2014 में वाजिरालोंगकोर्न ने सुथिदा तिदजई को बॉडीगार्ड यूनिट की डिप्टी कमांडर के तौर पर नियुक्त किया था. इससे पहले सुथिदा थाई एयरवे में फ्लाइट अटेंडेंट थीं. दिसंबर 2016 में वाजीरालोंग्कोर्न ने सुथिदा को रॉयल थाई आर्मी की फुल जनरल बना दिया था. इसके बाद सुथिदा को 2017 में राजा के निजी सुरक्षा बल की डिप्टी कमांडर बनाया गया. इन दोनों के रिश्ते कई बार मीडिया की सुर्खियां भी बन चुके हैं लेकिन इससे पहले राजघराने की तरफ से उस पर किसी तरह की कोई टिप्पणी नहीं की गई थी.


हिमाचल प्रदेश: तेज रफ़्तार जीप गहरी खाई में पलटी, 5 लोगों की मौत

हिमाचल प्रदेश: तेज रफ़्तार जीप गहरी खाई में पलटी, 5 लोगों की मौत

02-May-2019

एजेंसी 

मंडी : हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी में एक सड़क हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई। यह हादसा गुरुवार को पधर उपमंडल के अंतर्गत पधर-बल्ह वाया डायना पार्क मार्ग में फागनी (ठंडा मगरू) के पास हुआ है।
बताया जा रहा है कि एक मैक्स कैब जीप अनियंत्रित होकर गहरी ढांक (खाई) में लुढ़क गई। इस घटना में पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को सिविल अस्पताल पधर में भर्ती कराया है। सभी मृतकों की पहचान हो गई है।

 


महाराष्ट्र : गढ़चिरौली में नक्सलियों ने किया IED ब्लास्ट, 16 जवान शहीद

महाराष्ट्र : गढ़चिरौली में नक्सलियों ने किया IED ब्लास्ट, 16 जवान शहीद

01-May-2019

मुंबई: महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में एक बड़े नक्सली हमले की की खबर है. महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलिओं ने IED ब्लास्ट कर पुलिस की गाड़ी उड़ा दी है. सूत्रों की मानें तो इस नक्सली हमले में 16 जवानों की मौत हो गई है. महाराष्ट्र के नक्सल प्रभावित जिले गढ़चिरौली में माओवादियों ने पुलिस की गाड़ी को उस वक्त निशाना बयाना जब पुलिस की टीम उस जगह जा रही थी, जहां सुबह में ही नक्सलियों ने करीब 25 से 30 गाड़ियों को आग के हवाले किया था. बताया जा रहा है कि जिस पुलिस की गाड़ी पर नक्सलियों ने हमला किया है, उसमें 16 सुरक्षा कर्मी मौजूद थे. हालांकि, इस ब्लास्ट के बाद पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ जारी है. दोनों ओर से गोलीबारी हो रही है. महाराष्ट्र के मंत्री सुधीर मुन्गान्तीवर गढ़चिरौली नक्सली हमले पर कहा कि हमें लग रहा है कि इस हमले में 15 पुलिस जवान और एक ड्राइवर ने अपनी जान गंवा दी है. 

पीएम मोदी ने ट्वीट कर इस हमले की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया- महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हमारे सुरक्षाकर्मियों पर हुए घृणित हमले की कड़ी निंदा करते हैं. मैं सभी बहादुर सुरक्षाकर्मियों को सलाम करता हूं. उनके बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा. मेरे विचार और एकजुटता शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं. ऐसी हिंसा करने वाले अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा. 

 


आसाराम के बेटे नारायण साईं को उम्रकैद की सजा

आसाराम के बेटे नारायण साईं को उम्रकैद की सजा

30-Apr-2019

दिल्ली : साध्वी से बलात्कार के मामले में गुजरात की सूरत सेशंस कोर्ट ने मंगलवार (30 अप्रैल) को आसाराम के बेटे नारायण साईं को उम्र कैद की सजा सुनाई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट ने नारायण साईं पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। बता दें कि, सूरत की रहने वाली दो बहनों ने 2013 में पुलिस में दर्ज अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि आसाराम बापू और नारायण साईं ने उनके साथ बलात्कार किया।

नारायण साईं के लिए इमेज परिणाम

दोनों बहनों ने साईं और आसाराम के खिलाफ कथित शोषण की अलग-अलग शिकायत दर्ज कराई थी। इनमें से एक पीड़िता ने आरोप लगाया कि जब वह आश्रम में रह रही थी तो 2002 से 2005 के बीच नारायण साईं ने उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया। पीड़ित छोटी बहन ने नारायण साईं के खिलाफ ठोस सबूत दिए थे और मौका-ए-वारदात को पहचाना था। वहीं, बड़ी बहन ने आसाराम के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था।

केस दर्ज होने के बाद साईं अंडरग्राउंड हो गया था। करीब दो महीने बाद दिसंबर, 2013 में उसे हरियाणा-दिल्ली सीमा के पास गिरफ्तार कर लिया गया। वह सिख के वेश में मिला था। नारायण पर जेल में रहते हुए पुलिस कर्मचारी को 13 करोड़ रुपए की रिश्वत देने का भी आरोप लगा था। बता दें कि आसाराम जोधपुर में बलात्कार के एक दूसरे मामले में दोषी पाया जा चुका है और वह आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा है।


केरल : तीन महिलाओं ने डाल दिया फर्जी वोट, दर्ज होगी FIR

केरल : तीन महिलाओं ने डाल दिया फर्जी वोट, दर्ज होगी FIR

30-Apr-2019

एजेंसी 

नई दिल्ली। केरल में लोकसभा चुनाव के दौरान फर्जी वोट डालने का मामला सामने आया है। इस बात की पुष्टि खुद चुनाव अधिकारी ने की है। केरल के मुख्य चुनाव अधिकारी टीआर मीणा ने इसकी पुष्टि की है। यह फर्जी वोट कसरगोड़ लोकसभा सीट के तहत तीसरे चरण में डाला गया है। 23 अप्रैल को जब मतदान प्रक्रिया पूरी हुई तो कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि तीन महिलाओं ने फर्जी तरीके से नियमों का उल्लंघन करते हुए दो बार मतदान किया है। इस बाबत एक वीडियो भी साझा किया गया था। 

 मीणा ने बताया कि पीठासीन अधिकारी की शुरुआती रिपोर्ट के अनुसार इस बात की पुष्टि हुई है कि महिला ने दो बार वोट डाला है। इनमे से दो महिलाएं इस क्षेत्र की निवासी नहीं थीं, लेकिन इन लोगों ने वोट डाला है। शुरुआती जांच के अनुसार दोनों महिलाएं एलडीएफ समर्थक हैं। लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट केरल में सीपीआई की पार्टी है, जिसकी अगुवाई में प्रदेश की सरकार चल रही है। मुख्य चुनाव अधिकारी ने बताया कि तीन में से एक महिला पंचायत सदस्य है, मुमकिन है कि उन्हें अपने पद से हटना पड़े। 

केरल के मुख्य चुनाव अधिकारी ने बताया कि रिटर्निंग अधिकारी से इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने को कहा गया है। साथ ही पोल अधिकारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी जोकि अपनी चुनावी ड्यूटी को सही से नहीं निभा सके। वहीं कम्युनिस्ट पार्टी ने आरोपों को सिरे से खारिज किया है। पार्टी का कहना है कि तीनों महिलाएं पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की मदद के लिए थी और वह उनकी मदद कर रही थीं। हालांकि पार्टी ने किसी भी तरह की जांच का स्वागत किया है। 


रोहित शेखर हत्याकांड में बड़ा खुलासा - मां ने बहू अपूर्वा के खोले ये राज

रोहित शेखर हत्याकांड में बड़ा खुलासा - मां ने बहू अपूर्वा के खोले ये राज

28-Apr-2019

नई दिल्‍ली। रोहित शेखर तिवारी की मां उज्ज्वला ने गुरुवार को बताया कि उन्होंने बेटे को पहले ही उसकी पत्नी अपूर्वा के व्यव्हार को लेकर चेतावनी दी थी। हालांकि रोहित मामले को सुलझाना चाहता था इसलिए लगातार अपूर्वा से बातचीत जारी थी। उज्ज्वला के मुताबिक रोहित उनके काफी करीब था जिस बात से अपूर्वा को काफी चिढ़ होती थी और वो उसे बार-बार 'ममाज बॉय' कहकर ताने भी दिया करती थी।
 
उज्ज्वला ने बताया कि रोहित को छोड़कर जाने के बाद अपूर्वा ने रोहित को 2 बार कानूनी नोटिस भेजा था। उज्ज्वला ने कहा, 'उसने (अपूर्वा) रोहित को कानूनी नोटिस भेजकर धमकी दी थी कि अगर उसने उसके साथ सुलह नहीं की तो वह उसके खिलाफ फौजदारी या दीवानी कार्रवाई करेगी। अपूर्वा ने ये नोटिस भी तब भेजे जब उज्ज्वला अस्पताल में भर्ती थीं और रोहित काफी परेशान था।
 
उज्ज्वला के मुताबिक उन्होंने रोहित को समझाया था कि शांति से तलाक ले ले और अगर वो चाहती है तो हम गुजारा भत्ता देने के लिए भी तैयार हैं, लेकिन वो नहीं माना। उज्जवला ने बताया - उसने (रोहित शेखर) मुझसे कहा कि हमारे परिवार में काफी विवाद हुए हैं अगर मैं पत्नी से अलग होता हूं तो इससे और अधिक विवाद होगा। मैं उसे जून तक का समय देता हूं, शायद वह बदल जाए।
 
पिछले साल 12 सितंबर को रोहित की सर्जरी हुई थी और अगले दिन उज्ज्वला वकील वेदांत वर्मा के घर पर अपूर्वा से मिलने वाली थीं। लेकिन जब वह अपूर्वा का इंतजार कर रही थीं, तब रोहित ने उन्हें बताया कि उसने पत्नी के साथ सुलह कर ली है। 75 वर्षीय उज्ज्वला ने कहा कि रोहित ने अपूर्वा से सुलह इसलिए की कि वह चाहता था कि उसके पिता (उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एन. डी. तिवारी) की अंतिम यात्रा शांतिपूर्ण हो। 

media in put 


AAP के आरोप पर बीजेपी ने कहा- केजरीवाल के पास है 3 वोटर आईडी

AAP के आरोप पर बीजेपी ने कहा- केजरीवाल के पास है 3 वोटर आईडी

27-Apr-2019

नई दिल्ली। हाल ही में आम आदमी पार्टी ने बीजेपी के गौतम गंभीर की पूर्वी दिल्ली से उम्मीदवारी पर सवाल उठाए थे। इसमें कहा गया था कि गंभीर का वोटर लिस्ट में दो बार नाम है और वे दो जगह से मतदाता हैं। इसके पलटवार में अब बीजेपी ने आप संयोजक अरविंद केजरीवाल पर 2013 में 3 वोटर कार्ड रखने के आरोप लगाए हैं। 

बीजेपी के प्रवक्ता ने केजरीवाल पर 3 वोटर आईडी रखने के आरोप के साथ ही उनकी पत्नी पर भी यही आरोप लगाया है। बीजेपी का कहना है कि केजरीवाल की पत्नी के पास अभी तीन वोटर आईडी कार्ड हैं। ये कार्ड दिल्ली, यूपी और पश्चिम बंगाल के हैं। बीजेपी के इन आरोपों पर आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि- मुख्यमंत्री की पत्नी राजनीति से बाहर है। साथ ही अगर केजरीवाल के मामले में बीजेपी बराबरी करना चाहती हैं तो केजरीवाल और गौतम गंभीर दोनों को ही लोकसभा चुनाव की उम्मीदवारी के लिए अयोग्य करार दे दिया जाए। वहीं बीजेपी के दिल्ली अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि गंभीर के नामांकन पत्र में सभी जानकारियां सही हैं। आप लोगों को बरगलाना चाहती है। 

आम आदमी पार्टी की स्टार उम्मीदवार अतिशी ने पूर्वी दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर पर आरोप लगाया है कि उनके पास दो वोटर आईडी कार्ड है। अतिशी पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ रही है। उनका आरोप है कि गंभीर के पास दिल्ली में दो अलग-अलग जगहों के वोटर आई़डीकार्ड है। आतिशी ने इसके खिलाफ तीस हजारी कोर्ट में आपराधिक शिकायत दर्ज की है। कोर्ट अब इस मामले में एक मई को सुनवाई करेगा। 


सुप्रीम कोर्ट ने RBI से कहा- जान-बूझकर कर्ज ना चुकाने वालों की सूची सार्वजनिक करे

सुप्रीम कोर्ट ने RBI से कहा- जान-बूझकर कर्ज ना चुकाने वालों की सूची सार्वजनिक करे

26-Apr-2019

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया को कड़ा संदेश देते हुए आदेश दिया है कि वह जान-बूझकर कर्ज ना चुकाने वालों और अपनी वार्षिक जांच रिपोर्टों को सूचना के अधिकार के तहत सार्वजनिक करे. शीर्ष अदालत ने आरटीआई कार्यकर्ता सुभाष चन्द्र अग्रवाल द्वारा दायर की गई अवमानना याचिका की सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया. याचिका में कहा गया था कि आरबीआई ‘रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया बनाम जयंतीलाल मिस्त्री और अन्य’ मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी विशेष दिशा-निर्देशों का पालन नहीं कर रहा है.  इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया था कि आरबीआई के लिए सूचना के अधिकार के तहत सूचनाएं सार्वजनिक करना अनिवार्य है.

वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण और प्रणव सचदेवा के माध्यम से दायर इस याचिका में कहा गया था कि आरबीआई ने सूचनाओं को सार्वजनिक नहीं करने के लिए अलग से नीति बना ली और अपने सूचना अधिकारियों को भी यह आदेश दे दिया कि वह इस केंद्रीय बैंक से मांगी जाने वाली सभी तरह की सूचनाओं को सार्वजनिक नहीं करे. याचिका में कहा गया था कि इन सूचनाओं में वे सूचनाएं भी शामिल थीं जिनको सार्वजनिक करने का आदेश खुद सुप्रीम कोर्ट ने ही दिया था. इस तरह आरबीआई ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन किया.

‘रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया बनाम जयंतीलाल मिस्त्री और अन्य’ मामले में सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया था कि वह उन सभी बैकों से जुड़ी सूचनाएं सार्वजनिक करें जिनका विनियमन वह करता है. आरबीआई ने बैंकों के साथ आर्थिक हितों का हवाला देकर ऐसी सूचनाएं सार्वजनिक करने का विरोध किया था. उसने कहा था कि ऐसा करना बैकों के साथ विश्वासघात करना होगा. सुप्रीम कोर्ट ने इस तर्क को पूरी तरह निराधार बताते हुए कहा था कि वास्तव में सूचनाएं सार्वजनिक नहीं करने से आर्थिक नुकसान होगा. जस्टिस एल नागेश्वर राव और एम आर शाह की पीठ इस मामले में आरबीआई से इस कदर नाराज़ थी कि उसने केंद्रीय बैंक को शीर्ष कोर्ट के आदेशों का सख्ती से पालन करने की हिदायत दी. पीठ ने कहा कि अगर बैंक ऐसा नहीं करता है तो उसे कोर्ट की अवमानना के गंभीर परिणाम भुगतने होंगे. कोर्ट के आदेश का पालन करने का उसके पास आखिरी अवसर है.


तेजप्रताप यादव गुट के उम्मीदवार अंगेश कुमार सिंह का नामांकन रद्द

तेजप्रताप यादव गुट के उम्मीदवार अंगेश कुमार सिंह का नामांकन रद्द

25-Apr-2019

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 के बीच तेजप्रताप यादव को बड़ा झटका लगा है. बिहार के शिवहर लोकसभा सीट से तेजप्रताप यादव गुट के उम्मीदवार अंगेश कुमार सिंह का नामांकन रद्द हो गया है. नामांकन रद्द होने के बाद अंगेश ने इसे साजिश करार दिया है. अंगेश सिंह ने कहा कि वह इस मामले को लेकर हाई कोर्ट में जाएंगे. दरअसल, अंगेश सिंह ने नामाकंन पत्र में उस कॉलम में भी क्रॉस का निशान लगा दिया था जिसे खाली छोड़ना होता है. क्रॉस को आधार बनाते हुए अधिकारी उनका पर्चा रद्द कर दिया. अंगेश सिंह के अलावा यहां से अन्य 8 उम्मीदवारों का नामांकन रद्द हुआ है.

पूर्वी चम्पारण के जिला निर्वाची पदाधिकारी ने बताया कि नामाकंन पत्रों की जांच के दौरान शिवहर से आठ प्रत्याशियों के नामाकंन पत्रों में गलती और कागजातों में कमी पाई गई. शिवहर से 26 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया था. 8 प्रत्याशियों के नामांकन रद्द होने के बाद अब यहां मैदान में कुल 18 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं. अभी तक किसी भी प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र वापस नहीं लिया है. नाम वापस लेने का आज आखिरी दिन है. अंगेश के नामांकन में खुद तेज प्रताप भी पहुंचे थे और वहां अपने उम्मीदवार के लिए लोगों से वोट देने की अपील की थी. अंगेश की ओर से आयोजित रोड शो में भी तेज प्रताप साथ थे. ऐसे में उनका नामांकन रद्द होना तेज प्रताप के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

बता दें कि पारिवारिक कारणों से तेज प्रताप यादव शिवहर और जहानाबाद की सीट अपने दोस्त के लिए मांग रहे थे. वह चाहते थे कि शिवहर सीट से आरजेडी के टिकट पर अंगेश को उतारा जाए जबकि जहानाबाद सीट से चंद्रप्रकाश को टिकट दिया जाए. हालांकि, पार्टी ने शिवहर से सैयद फैलस अली को टिकट दिया है जबकि जहानाबाद में पार्टी ने फिर से सुरेंद्र यादव पर भरोसा जताया है. शिवहर में छठे चरण में 12 मई जबकि जहानाबाद में सांतवें चरण में 19 मई को मतदान है. राज्य में कुल 40 लोकसभा सीट हैं. यहां से आरजेडी 19 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि अन्य सीटें गठबंधन सहयोगियों को दिया है. गठबंधन में कांग्रेस 9, आरएलएसपी 5, हम 3, वीआईपी 3 और सीपीएमएल 1 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.


प्रज्ञा ठाकुर का नामांकन खारिज होने का संकट ! बीजेपी ने भोपाल में उतारा 'डमी' कैंडिडेट

प्रज्ञा ठाकुर का नामांकन खारिज होने का संकट ! बीजेपी ने भोपाल में उतारा 'डमी' कैंडिडेट

24-Apr-2019

भोपाल: भारतीय जनता पार्टी की भोपाल से उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर के खिलाफ पुलिस के एफआईआर दर्ज होने के एक दिन बाद भोपाल के मौजूदा सांसद आलोक संजर ने अपना नामांकन दाखिल किया। उन्होंने 'डमी' उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन मंगलवार को दाखिल किया। नियमों के मुताबिक अगर किसी पार्टी के पहले उम्मीदवीर का नामांकन किन्हीं वजहों से खारिज हो जाता है तो पार्टी के 'डमी' उम्मीदवार को पार्टी का चुनाव चिह्न मिल जाता है। 

टीवी 9 को दिए गए इंटरव्यू में प्रज्ञा ठाकुर ने साल 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस में अपनी भूमिका को लेकर बयान दिया है। इसी टिप्पणी को लेकर चुनाव आयोग ने प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा पूर्व महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे पर उनकी विवादित टिप्पणी को लेकर एक रिपोर्ट चुनाव आयोग के पैनल को भेजी गई है। सोमवार को प्रज्ञा ठाकुर ने बीजेपी के उम्मीदवार के तौर अपना नामांकन भरा था। उन्होंने शुभ समय का हवाला देते हुए इस दिन नामांकन किया था। लेकिन मंगलवार को उन्होंने एक रोड शो निकाला। इसमें मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, कई कार्यकर्ता और कुछ धार्मिक कार्यकर्ता मौजूद थे। 

प्रज्ञा ठाकुर के कागजी कार्रवाई पूरी करने के थोड़ी देर बाद मंगलवार को भोपाल के मौजूदा सासंद आलोक संजर ने 'डमी' उम्मीदवार के तौर पर नामांकन दाखिल किया। संजर ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि उन्होंने डमी' उम्मीदवार के तौर पर नामांकन सिर्फ एहितायत के तौर पर किया है। उन्होंने दावा किया कि साल 2014 में जब उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया था, तब भी ऐसा ही हुआ था। लेकिन उनसे जब विस्तार से इस बारे में पूछा गया तो वो 'डमी' उम्मीदवार का नाम नहीं बता सके। 


साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का बचाव करते हुए बाबा रामदेव ने कहा ,साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के साथ बहुत अन्याय हुआ है!

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का बचाव करते हुए बाबा रामदेव ने कहा ,साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के साथ बहुत अन्याय हुआ है!

23-Apr-2019

नई  दिल्ली :योग गुरु स्वामी रामदेव ने मुंबई हमले में शहीद हुए आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे को श्राप देने संबंधी बयान देने पर घिरी भोपाल से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के साथ बहुत अन्याय हुआ है।
केवल आशंका के आधार पर किसी को गिरफ्तार कर प्रताड़ित किया जाना उचित नहीं है। उन्होंने प्रज्ञा ठाकुर द्वारा हेमंत करकरे के संबंध में की गई टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर यह बात कही। स्वामी रामदेव ने कहा कि जिस समय प्रज्ञा ठाकुर और उनके साथियों को गिरफ्तार किया गया था।
जांच और जेल में रखे जाने के दौरान उन्हें बहुत ज्यादा प्रताड़ित किया गया। वह मौत के मुंह से निकलकर आई हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया को भी दोनों पक्ष पर ध्यान देना चाहिए। साध्वी प्रज्ञा ने जो कहा उसे तो देखें ही, लेकिन उनके साथ जो बीता और उन्होंने जो बर्दाश्त किया उस पक्ष को भी देखें।
अमर उजाला पर छपी खबर के अनुसार, हरिद्वार में एक कार्यक्रम में शिरकत करने के दौरान अपने संबोधन में स्वामी रामदेव ने कहा कि पाकिस्तान ने देश को आतंकवाद दिया है लेकिन पतंजलि योगपीठ ने भविष्य में विकास की राह दिखाई है।
उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा कुछ समय पूर्व दिए गए उस वक्तव्य का जिक्र किया जिसमें सुषमा स्वराज ने कहा था कि पाकिस्तान ने देश को आतंकवाद दिया है। हमनें आईएमएम और आईआईटी जैसे प्रतिष्ठान दिए हैं।

 


पत्रकार राजू लामाा को अखिल भारतीय पत्रकार एवम् संपादक एसोसिएशन ने किया नोमिनेशन

पत्रकार राजू लामाा को अखिल भारतीय पत्रकार एवम् संपादक एसोसिएशन ने किया नोमिनेशन

21-Apr-2019

रायपुर । नेपाल भारत पत्रकार मंच के अध्यक्ष और नेपाल के वरिष्ठ पत्रकार राजू लामा को पुरस्कृत करने को अखिल भारतीय पत्रकार एवम् संपादक एसोसिएशन ने नोमिनेशन किया है।

नेपाल और भारत के पत्रकारिता जगत में पहुचाये योगदान को कदर करते हुए लामा को पुरस्कृत करने को नोमिनेशन किया है ।

भारत के छत्तीसगढ़ राज्य रायपुर में जून 2 तारीख मे लामा को संमानित किया जाएगा । इसके अलावा एसोसिएशन ने कहीं लोगों को भी बिबिध क्षेत्र से नोमिनेशन किया है । 

उन लोगों को भी एसोसिएशन संमानित करेगा । कार्यक्रम में भारत के विशिष्ट लोगों की उपस्थिति रहेगी ।

एसोसिएशन के महासचिव आशिष मिश्रा ने कार्यक्रम की तयारियो के बारे मे जानकारी देते हुए भव्य और सभ्य रुप मे सफलता पुर्वक संपन्न करने को लगे हुए दावा किया है ।


ईवीएम तोड़ने के आरोप में BJP उम्मीदवार गिरफ्तार

ईवीएम तोड़ने के आरोप में BJP उम्मीदवार गिरफ्तार

20-Apr-2019

नई दिल्ली : बीजेपी के एक उम्मीदवार को ईवीएम तोड़ने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है. मामला ओडिशा के गंजाम जिले का है. यहां बृहस्पतिवार को दूसरे चरण के मतदान के दौरान सोरादा विधानसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार नीलमणि बिसोई ने अपने समर्थकों के साथ कथित रूप से सोरादा थानांतर्गत रेनती गांव में एक मतदान केन्द्र में प्रवेश किया और मतदान अधिकारियों को अपने कर्तव्य का निर्वहन करने से रोका.

पुलिस ने कहा घटना मतदान खत्म होने से एक घंटे पहले हुई, तब तक उस मतदान केन्द्र के कुल 539 में से 414 मतदाता वोट दे चुके थे. बिसोई को मतदान केन्द्र के पीठासीन अधिकारी पीके जेना और असका के अनुविभागीय पुलिस अधिकारी सूर्यमणि प्रधान से शिकायत मिलने के बाद गिरफ्तार किया गया. कलेक्टर-सह-जिला निर्वाचन अधिकारी विजय अमृता कुलंगे ने कहा, "ईवीएम को पूरी तरह तोड़ दिया गया. हमने मतदान केन्द्र के पीठासीन अधिकारी की रिपोर्ट को मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेज दिया है. 

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग मतदान केन्द्र पर दोबारा चुनाव कराने पर अंतिम फैसला लेगा. नीलमणि के भाई बसंत कुमार बिसोई ने हालांकि दावा किया कि सत्ताधारी बीजू जनता दल के कार्यकर्ताओं ने ईवीम को तोड़ा ना कि नीलमणि ने. ओडिशा में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ हो रहे हैं.  इससे पहले आंध्र प्रदेश में जन सेना पार्टी के एक उम्मीदवार ने लोकसभा और विधानसभा चुनाव के लिए हो रहे मतदान के दौरान ईवीएम मशीन को तोड़ दिया था, इसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने बताया कि मधुसूदन गुप्ता नाम के उम्मीदवार ने अनंतपुर जिले की गुंटाकल विधानसभा सीट के एक पोलिंग बूथ में ईवीएम को उठाकर जमीन पर फेंक दिया. न्यूज एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक गुप्ता गुट्टी में पोलिंग बूथ पर अपना वोट डालने आए थे, वहां पर वह चुनाव कर्मचारियों पर गुस्सा हो गए, क्योंकि उनका कहना था कि ईवीएम में संसदीय और विधानसभा सीट सही से नहीं दिख रही थी.

साभार : KHABAR.NDTV से 


पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त बोले, पीएम मोदी और EC ने छवि सुधारने का मौका गंवा दिया

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त बोले, पीएम मोदी और EC ने छवि सुधारने का मौका गंवा दिया

19-Apr-2019

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हेलीकॉप्टर की कथित रूप से जांच करने वाले अधिकारी के निलंबन का मामला बढ़ता दिखाई दे रहा है. अब पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ. एसवाई कुरैशी ने इस मामले में बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा, 'पीएम मोदी के हेलीकॉप्टर की जांच करने वाले अफसर का निलंबन दुर्भाग्यपूर्ण तो है ही, साथ ही पीएम और चुनाव आयोग ने अपनी छवि को सुधारने का एक मौका भी गंवा दिया'. कुरैशी ने आगे कहा, 'इन दोनों संस्थाओं की जनता के प्रति जवाबदेही है, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी लगातार चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं और चुनाव आयोग इसे बार-बार नजर अंदाज कर रहा है. पीएम के हेलीकॉप्टर की जांच को इस तरीके से लिया जाना चाहिए था कि कानून सबके लिए बराबर है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ'. 

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ. एसवाई कुरैशी ने आगे ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक के हेलीकॉप्टर की तलाशी का जिक्र करते हुए कहा कि, 'उन्होंने जिस धैर्य और सज्जनता परिचय दिया, वह काबिलेतारीफ है. हर नेता को वैसा ही व्यवहार करना चाहिए'. दूसरी तरफ, बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी डॉ. एसवाई कुरैशी की बातों के समर्थन में ट्वीट कर चुनाव आयोग को निशाने पर लिया. मायावती ने आयोग पर सवाल खड़े करते हुए कहा, 'चुनाव आयोग के पास ऐसा कौनसा अधिकार है जिससे पीएम के विमान की तलाशी पर रोक है व ऐसा करने पर आईएएस पर्यवेक्षक को निलम्बित कर दिया गया. बीएसपी पूर्व सीईसी  कुरैशी की बातों से सहमत है कि ऐसी कार्रवाई अनुचित है. आयोग को निष्पक्ष काम करना चाहिए ना कि पीएम मोदी को हर प्रकार की खुली छूट मिले'.


बारिश से तबाही पीएम मोदी ने सिर्फ गुजरात के लिए किया मुआवजे का एलान, कमलनाथ बोले एमपी का क्या ?

बारिश से तबाही पीएम मोदी ने सिर्फ गुजरात के लिए किया मुआवजे का एलान, कमलनाथ बोले एमपी का क्या ?

17-Apr-2019

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, बिहार और नई दिल्ली के कई इलाकों में आज भी भारी बारिश और आंधी तूफान से लोगों को सामना करना पड़ सकता है. बारिश की वजह से अब तक इन राज्यों में 35 लोगों की मौत हो चुकी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जानमाल के नुकसान पर गहरा दुख जताया है और गुजरात के लोगों के लिए मुआवजे की घोषणा की है. इसी बात पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ऐतराज जताया है. कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि आप देश के पीएम हैं न कि केवल गुजरात के.

उन्होंने कहा, ''मोदी जी , आप देश के पीएम ना कि गुजरात के. एमपी में भी बेमौसम बारिश व तूफ़ान के कारण आकाशीय बिजली गिरने से 10 से अधिक लोगों की मौत हुई है.लेकिन आपकी संवेदनाएं सिर्फ़ गुजरात तक सीमित ? भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है लेकिन लोग यहां भी बस्ते है. इससे पहले प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर कहा, ''पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात के विभिन्न इलाकों में बारिश और तूफान से जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के लिए प्रधानमंत्री आपदा राहत कोष से 2-2 लाख रुपये मुआवजे को मंजूरी दी है.'' प्रधानमंत्री मोदी ने घायलों को 50-50 हजार रुपये मुआवजा देने का एलान किया है.

मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, बिहार और नई दिल्ली में तेज हवाएं, बारिश और बिजली गिरने के कारण 35 लोगों की मौत हुई है. मध्य प्रदेश में 15, राजस्थान-गुजरात में 9-9, जबकि दिल्ली और बिहार में 1-1 व्यक्ति की जान गई है.


बाटा ने एक पेपर बैग के लिए ग्राहक से वसूले थे 3 रुपए, उपभोक्ता फोरम ने ठोंका 9 हजार रुपये जुर्माना

बाटा ने एक पेपर बैग के लिए ग्राहक से वसूले थे 3 रुपए, उपभोक्ता फोरम ने ठोंका 9 हजार रुपये जुर्माना

15-Apr-2019

नई दिल्ली : चंडीगढ़ उपभोक्ता फोरम ने बाटा इंडिया लिमिटेड को एक पेपर बैग के लिए ग्राहक से 3 रुपए वसूल करने पर 9 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। साथ ही सेवाओं में कमी और पेपर बैग के भुगतान को लेकर चंडीगढ़ कंपनी को फटकार भी लगाई है। साथ ही, उपभोक्ता फोरम ने कंपनी को निर्देश दिए हैं कि वह सामान खरीदने वाले अपने सभी ग्राहकों को फ्री कैरी बैग दे।

सेक्टर 23-बी निवासी दिनेश प्रसाद ने अप्रैल में सेक्टर-22 डी स्थित बाटा शो रूम से एक जोड़ी जूते खरीदे थे। जूते के लिए दिनेश ने स्टोर को 402 रुपए का भुगतान किया, बिल में पेपर बैग भी शामिल था। उन्होंने पेपर बैग के 3 रुपए के रिफंड को लेकर चंडीगढ़ उपभोक्ता फोरम में शिकायत की थी। पहले कंपनी ने ग्राहक के आरोपों का खंडन किया था। हालांकि फोरम ने कंपनी को सेवा में कोताही का दोषी करार देते हुए उस पर जुर्माना लगाया है।

दिनेश के मुताबिक, उन्होंने पेपर बैग के 3 रुपए रिफंड मांगे थे और कंपनी के सर्विस पर सवाल उठाए थे। उपभोक्ता फोरम ने कहा कि ग्राहक को पेपर बैग के भुगतान के लिए मजबूर करना गलत है। ये कंपनी के खराब सर्विस को दर्शाता है। पेपर बैंग कंपनी को मुफ्त देना चाहिए। पेपर बैग के पैसे ग्राहक से नहीं लिए जाने चाहिए बल्कि सुविधा के लिए लिहाज से उसे बैग मुहैया कराना चाहिए। फोरम ने कहा कि अगर कंपनियां सच में पर्यावरण के बारे में चिंतित हैं तो उन्हें अपने ग्राहकों को पर्यावरण के अनुकूल बैग देना चाहिए। फोरम ने अपने फैसले में बाटा लिमिटेड को पेपर बैग के पैसे लौटाने को कहा है। साथ ही 1000 हजार रुपए के अलावा मानिसक पीड़ा के लिए ग्राहक को 3 हजार रुपए के भुगतान के आदेश दिए हैं। इसके अलावा उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के लीगल एड अकाउंट में 5000 रुपये जमा करने का भी आदेश दिया है।


पूर्व सैनिकों की चिट्ठी के दावे पर राष्ट्रपति भवन का खंडन

पूर्व सैनिकों की चिट्ठी के दावे पर राष्ट्रपति भवन का खंडन

12-Apr-2019

दिल्ली 

सेना के राजनीतिकरण के आरोप को लेकर 150 पूर्व सैनिकों के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को खत लिखने की बात झूठी साबित होती दिख रही है। राष्ट्रपति भवन के सूत्रों ने इन खबरों का खंडन करते हुए किसी भी खत के मिलने से इनकार किया है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी में कहा गया है कि पूर्व सैनिकों द्वारा लिखित कोई भी खत राष्ट्रपति को नहीं मिला है।  राष्ट्रपति भवन के इन खबरों का खंडन करने के बाद पूर्व सेना प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) एसएफ रॉड्रिग्ज ने भी इन खबरों को झूठ बताया है। उन्होंने किसी भी तरह के हस्ताक्षर करने से भी इनकार किया है।

रिटायर्ड एयर चीफ मार्शल एनसी सूरी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताय कि राष्ट्रपति को यह चिट्ठी एडमिरल रामदास ने नहीं लिखी जैसा दावा किया जा रहा है। बल्कि यह किसी मेजर चौधरी ने लिखी है। ये व्हॉट्सएप और ईमेल पर घूम रही थी।  पूर्व सेना उपाध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल एमएल नायडु का नाम कथित चिट्ठी में 20वें नंबर पर है। उन्होंने कहा, 'नहीं इस तरह के किसी भी पत्र के लिए मेरी सहमति नहीं ली गई और न ही मैंने कोई पत्र लिखा है।'

 चिट्ठी में मेजर जनरल हर्ष कक्कड़ का नाम 31वें नंबर पर है। उन्होंने पत्र लिखने की बात स्वीकार करते हुए कहा, 'हां मैंने पत्र में हस्ताक्षरकर्ता होने के लिए अपनी सहमति दी है। मैंने इसकी सामग्री जानने के बाद ही अपनी सहमति दी थी।'

बता दें कि गुरूवार से खबरें आ रही हैं कि सेना के आठ पूर्व प्रमुखों और 148 अन्य पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर सशस्त्र सेनाओं का राजनीतिक उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किए जाने पर आक्रोश जताया। पत्र पर जिन लोगों के हस्ताक्षर की बात कही जा रही है उनमें पूर्व सेना प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) एसएफ रॉड्रिग्ज, जनरल (सेवानिवृत्त) शंकर रॉयचौधरी और जनरल (सेवानिवृत्त) दीपक कपूर, भारतीय वायु सेना के पूर्व प्रमुख एयर चीफ मार्शल (सेवानिवृत्त) एनसी सूरी शामिल हैं।