गूगल बंद कर रहा है अपने सोशल नेटवर्क ‘गूगल प्लस’

गूगल बंद कर रहा है अपने सोशल नेटवर्क ‘गूगल प्लस’

09-Oct-2018

सैन फ्रांसिस्को: गूगल ने उपभोक्ताओं द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले अपने सोशल नेटवर्क गूगल+ (गूगल प्लस) को बंद करने की सोमवार को घोषणा की. गूगल ने कहा है कि इस सोशल नेटवर्किंग साइट को बंद करने से पहले उसने उस बग को ठीक कर लिया था, जिसकी वजह से 50,000 लोगों के अकाउंट में निजी डाटा में सेंध लगाई गई थी. अमेरिका की दिग्गज इंटरनेट कंपनी ने कहा कि उपभोक्ताओं के लिए ‘गूगल+ ’ का सूर्यास्त हो गया. 

यह सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक को चुनौती देने में विफल रही थी. गूगल के एक प्रवक्ता ने ‘गूगल+’ को बंद करने की मुख्य वजह बताते हुए कहा कि गूगल+ को बनाने से लेकर प्रबंधन में काफी चुनौतियां थी जिसे ग्राहकों के आशा के अनुरूप तैयार किया गया था, लेकिन इसका कम इस्तेमाल किया जाता था.  उन्होंने कहा कि यही इसके बंद होने की वजह है.


IRCTC की नई सुविधा, ऑनलाइन कैंसिल करा सकते हैं काउंटर से खरीदा गया रेल टिकट

IRCTC की नई सुविधा, ऑनलाइन कैंसिल करा सकते हैं काउंटर से खरीदा गया रेल टिकट

21-Sep-2018

दिल्ली :  आईआरसीटीसी ने रेल यात्रियों को बड़ी सुविधा प्रदान की है। अब आप रेलवे काउंटर से खरीदे गए टिकट को ऑनलाइन कैंसिल करा सकते हैं। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आईआरसीटीसी) ने अपनी वेबसाइट पर इस सुविधा को शुरू किया है। फिलहाल यात्रियों को यह सुविधा सिर्फ आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर ही मिलेगी। 

अभी तक ऐसी सुविधा नहीं थी, ऑनलाइन टिकट ही वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन ही केंसिल हो सकती थी और काउंटर से खरीदे गये आरक्षित टिकटों को काउंटर पर ही रद्द कराकर रिफंड लिया जाता था, किंतु अब काउंटर से खरीदे गए टिकटधारियों को ऑनलाइन केंसिल कराने की सुविधा प्रदान कर दी गई है। रेल यात्री अपने कंफर्म, प्रतीक्षारत और आरएसी टिकट को ऑनलाइन कैंसिल करा सकते हैं। हालांकि कंफर्म टिकट वालों को चार्ट बनने से चार घंटे पहले और प्रतीक्षारत व आरएसी वाले यात्रियों को 30 मिनट पहले ऐसा करना होगा।

यात्रियों को आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर लॉगिन करना होगा। इसके बाद उनको अपना पीएनआर और ट्रेन नंबर व कैप्चा कोड सबमिट करना होगा। इसके बाद आपको सारे नियम पढ़ कर बॉक्स में क्लिक कर सब्मिट बटन को दबाना होगा। सब्मिट करते ही आपके पास ओटीपी आएगा। ओटीपी डालने के बाद आपके पास पीएनआर डिटेल्स आ जाएंगे जिसके बाद आप टिकट को कैंसिल कर सकते हैं। टिकट कैंसिल करने के बाद यात्री को रिफंड होने वाली राशि भी स्क्रीन पर दिखेगी। यह सुविधा केवल वेबसाइट पर यात्री को फिलहाल मिलेगी।

टिकट कैंसिल कराने के बाद यात्रियों को काउंटर से जाकर के रिफंड लेना होगा। इसके लिए यात्रियों को अपना टिकट भी लेकर के जाना होगा और इसे वापस करना होगा हालांकि इस सुविधा के लिए एक शर्त भी है। रेल यात्रियों को टिकट बुक करते समय अपना मोबाइल नंबर भी देना होगा।

 

 


अब Jio के दोनों फोन में चलेगा WhatsApp

अब Jio के दोनों फोन में चलेगा WhatsApp

11-Sep-2018

नई दिल्ली। लंबे इंतजार के बाद अब आखिरकार जियो फोन यूजर्स अपने मोबाइल में पॉप्यूलर इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप चला पाएंगे। फेसबुक ने खास जियो यूजर्स के लिए व्हाट्सऐप का नया वर्जन तैयार किया है, जो 4G जियो फोन में चलेगा। व्हाट्सऐप जियो के KaiOs ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करेगा। अभी तक जियो फोन यूजर्स मोबाइल में व्हाट्सऐप का इस्तेमाल नहीं कर सकते थे, लेकिन अब वो व्हाट्सऐप को फोन में डाउनलोड कर सकते हैं। जियो फोन के ऐप स्टोर में व्हाट्सऐप का ये नया वर्जन रिलीज कर दिया गया है। 

जियो फोन यूजर्स के लिए खुशखबरी है। अब जियो फोन का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स अपने फोन में व्हाट्सऐप चला पाएंगे। फेसबुक ने जियो यूजर्स के लिए व्हाट्सऐप का नया वर्जन बनाया है जिसमें यूजर्स को सभी तरह के फीचर्स मिलेंगे। ये नया वर्जन जियो के KaiOS ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करेगा। व्हाट्सऐप में तुरंत मैसेज भेजा जा सकेगा और ये एंड-टू-एंड इन्क्रिप्टिड भी होगा। इसके जरिये अब जियो फोन यूजर्स व्यॉइस नोट्स, वीडियो, फोटो भेज पाएंगे और ग्रुप भी बना सकेंगे।   

जियो फोन के ऐप स्टोर पर व्हाट्सऐप का नया वर्जन सोमवार 10 सितंबर को रिलीज कर दिया गया है। सभी जियो फोन पर ये वर्जन 20 सितंबर तक जारी किया जा सकता है। जियो के मार्केट में अभी दो फोन हैं, Jio Phone और Jio Phone2। व्हाट्सऐप के वाइस प्रेसीडेंट क्रिस डेनियल्स ने कहा, 'KaiOS के लिए नया ऐप डिजाइन कर जियो फोन यूजर्स को सर्वोत्तम संदेश अनुभव प्रदान करके लोगों और दुनियाभर में किसी के साथ संवाद करने की क्षमता का विस्तार करने की उम्मीद करते हैं।' 


भारत में 6 सितंबर को लॉन्च होगा Vivo V11 Pro स्मार्टफोन

भारत में 6 सितंबर को लॉन्च होगा Vivo V11 Pro स्मार्टफोन

04-Sep-2018

दिल्ली : Vivo अपने खास स्मार्टफोन Vivo V11 Pro को 6 सितंबर को भारत में लॉन्च करेगा. Vivo V11 Pro को भारत में Vivo V9 का नेक्सट लेवल माना जा रहा है. चाइनीज कंपनी वीवो ने बताया कि Vivo V11 Pro में खासतौर पर इन डिस्पले फिंगरप्रिंट सेंसर होगा. Vivo V11 Pro में कैमरे पर खास ध्यान दिया गया है, कंपनी का दावा है कि इस स्मार्टफोन से न सिर्फ रोशनी में बल्कि कम रोशनी में भी साफ तस्वीरें खींची जा सकेंगी. कंपनी ने यह भी बताया है कि स्मार्टफोन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के साथ डुअल कैमरा भी दिया गया है.

Vivo V11 Pro फुल व्यू डिस्पले के साथ आएगा. खबरों के मुताबिक मोबाइल में 6.41 इंच की फुल एचडी स्क्रीन के साथ AMOLED डिस्पले होगा और फोन में नीचे की तरफ फिंगरप्रिंट सेंसर भी दिया जाएगा. Vivo V11 Pro का सुपर AMOLED डिस्पले वीडियो देखने के लिए शानदार एक्सपीरियंस देगा. Vivo V11 Pro की और खासियत होगी इसका वाटरड्रोप नॉच, फोन में टॉप पर वाटरड्रोप नॉच का इस्तेमाल किया गया है, ये ठीक उसी तरह है जैसे Oppo R17 में. Vivo V11 Pro की कुछ तस्वीरें भी लीक हुई हैं जिनमें दिखाई दे रहा है कि Vivo V11 Pro स्मार्टफोन का डिजाइन काफी स्लीक होगा लेकिन नीचे की तरफ से फोन पहले से थोड़ा मोटा होगा.

फोन में डुअल रियर कैमरा का इस्तेमाल किया जाएगा जिसमें प्राइमरी सेंसर 12 मेगापिक्सल और सेकंडरी सेंसर 5 मेगापिक्सल का होगा. Vivo V11 Pro में आर्टिफिशियल इंटेजीजेंस भी होगी. फ्रंट में 25 मेगापिक्सल का AI बेस्ड कैमरा फोन में दिया गया है.

ऐसी भी खबरें हैं कि Vivo V11 Pro में फेस अनलॉक फीचर भी होगा. इसके अलावा फोन में बैटरी जल्दी चार्ज हो इसकी भी कोशिश की गई है और फास्ट चार्जिंग टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया गया है. फोन में 3400mAh की बैटरी दी गई है. लीक हुई जानकारी के मुताबिक Vivo V11 Pro में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 660 AI चिपसैट का इस्तेमाल किया गया है. इसके अलावा फोन में 6जीबी रैम और 64 जीबी की इंटरनल मेमरी भी दी गई है जिसे जरूरत पड़ने पर माइक्रो एसडी कार्ड के जरिए 256 जीबी तक बढ़ाया जा सकता है. फोन में ट्रिपल कार्ड स्लॉट दिया गया है. इसका मतलब हुआ कि यूजर्स दो सिमकार्ड और एक माइक्रो एसडी कार्ड का इस्तेमाल एक साथ कर सकेंगे.

Vivo V11 Pro को Vivo V9 का अगला लेवल बताया जा रहा है. Vivo V9 मिड रेंज का स्मार्टफोन है. इसलिए इस बात की काफी संभावना है कि Vivo V11 Pro की कीमत भी 30 हजार रुपए के आसपास होगी. अगर ऐसा होता है तो इस स्मार्टफोन की टक्कर Xiaomi के Poco F1 और OnePlus 6 से होगी.

फोन के बारे में जानकारी इंटरनेट पर लीक हो चुकी है. ऐसे में माना जा रहा है कि मोबाइल के 12 सितंबर से लोगों को मिलने की उम्मीद है. ऐसा माना जा रहा है कि लोग 11 सितंबर तक अपना प्री ऑर्डर करवाएंगे और फिर 12 सितंबर को सेल के जरिए उन्हें फोन दिया जाएगा. हालांकि कंपनी ने अभी इस बारे में कुछ साफ नहीं किया है.


सभी मोटरसाइकिलों में यह जरूरी सेफ्टी फीचर्स बढ़ाएगा Royal Enfield

सभी मोटरसाइकिलों में यह जरूरी सेफ्टी फीचर्स बढ़ाएगा Royal Enfield

30-Aug-2018

Royal Enfield, बुलेट मोटरसाइकिल में कुछ बदलाव करने जा रही है। यह बदलाव कंपनी की सभी बाइकों में किए जाएंगे। दरअसल भारत सरकार ने 125CC या इससे ऊपर की सभी बाइकों में सुरक्षा के लिए एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS) को अनिवार्य कर दिया है। 1 अप्रैल 2019 से 125CC या इससे ज्यादा की सभी नई बाइक्स में सेफ्टी के लिए एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम देन अनिवार्य है। ऐसे में रॉयल एनफील्ड ने इसी दिशा में कदम उठाना शुरू कर दिया है और समयसीमा से अपनी सभी मॉडल्स पोर्टफोलियो में ABS फीचर देना शुरू कर दिया है। हाल ही में कंपनी ने रॉयल एनफील्ड क्लासिक सिग्नल्स 350 को ABS फीचर के साथ लॉन्च किया है।

कंपनी अपनी 500cc रेंज और हिमालयन को अगले महीने से ABS फीचर के साथ उतार रही है। ऐसे में माना जा रहा है कि रॉयल एनफील्ड अपनी मोटरसाइकिल रेंज में इस साल के अंत से पहले ही ABS फीचर दे सकती है। यानी रॉयल एनफील्ड अपनी बाइक्स में अब ABS फीचर स्टैंडर्ड रखेगी न कि वैकल्पिक। इसके अलावा अभी तक हम बुलेट 500 में रियर डिस्क ब्रेक भी नहीं देख रहे थे, लेकिन अब कंपनी ABS के साथ रियर डिस्क ब्रेक भी अपने सभी मॉडल्स में देगी।

ABS फीचर के आते ही मोटरसाइकिल्स की कीमतों में 12,000 रुपये से 15,000 रुपये तक की बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। इसके अलावा सिंगल चैनल ABS वाली बाइक्स की कीमतों में 7,000 रुपये या इससे ज्यादा की बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। हालांकि, इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि रॉयल एनफील्ड अपनी सभी बाइक्स में ABS फीचर समयसीमा से पहले देगी। कंपनी ने हाल ही में रॉयल एनफील्ड थंडरबर्ड के 350X और 500X को पेश किया था। जब आप नई रॉयल एनफील्ड थंडरबर्ड 500X को देखते हैं तो सिवाय फ्यूल टैंक के बदलने के अलावा आपको तत्काल कुछ खास बदलाव नजर नहीं आते हैं।

कंपनी ने इस बाइक में और भी आकर्षक और स्पोर्टी फ्यूल टैंक का प्रयोग किया है। पिछले मॉडल के मुकाबले रॉयल एनफील्ड थंडरबर्ड 500X में कंपनी ने कुछ नए फीचर्स को शामिल किया है ताकि इनमें कुछ अलग और नयापन नजर आये। इसमें 9-स्पोक एलॉय व्हील्स, ट्यूबलेस टायर्स, सिंगल पीस सीट, ब्लैक फॉर्क कवर्स, ब्लैक एग्जॉस्ट और ब्लैक हेडलैंप्स दिए हैं। इस बाइक में LED डे टाइम रनिंग लैंप और LED टेल लैंप दिए हैं। कंपनी ने इसके साइकिल पार्ट्स को समान रखा है। इसके अलावा इसमें सस्पेंशन, ब्रेक्स और इंजन को मौजूदा थंडरबर्ड मॉडल जैसा ही रखा है।


Moto Z3 स्मार्टफोन हुआ लॉन्च

Moto Z3 स्मार्टफोन हुआ लॉन्च

06-Aug-2018

दिल्ली : मोटोरोला कंपनी ने गुरुवार को अमेरिका के शिकागो में अपने हेडक्वार्टर में मोटो Z3 को लॉन्च कर दिया. मोटो Z3 जून में लॉन्च किए गए मोटो Z3 का ही अपडेटेड वर्जन है. मोटो Z सीरीज के बाकी मोबाइल की तरह इस नए मोबाइल में भी मोटो मोड्स के लिए सपोर्ट मौजूद है.

मोटोरोला के इस मोबाइल में यूजर्स को स्टॉक एंड्रॉयड अनुभव मिलेगा. इस मोबाइल में मोटो मॉड के लिए के लिए साझेदारी की गई है ताकि मोटो Z3 में आने वाले समय में 5जी नेटवर्क का भी इस्तेमाल किया जा सके.

मोटो Z3 की लॉन्चिंग के साथ ही कंपनी ने उन खबरों पर भी विराम लगा दिया जिसमें कहा जा रहा था कि कंपनी जल्द ही मोटो Z3 फोर्स को भी लॉन्च कर सकती है. कंपनी ने साफ कर दिया कि फिलहाल मोटो Z3 फोर्स को लॉन्च करने की उसकी कोई योजना नहीं है और इस साल मोटो Z3 और मोटो Z3 प्ले को ही लॉन्च किया जाएगा.

अमेरिका में लॉन्च हुए इस फोन को भारत में कब लॉन्च किया जाएगा इसकी फिलहाल कोई जानकारी कंपनी ने नहीं दी है. अमेरिका में इस मोबाइल की कीमत 480 डॉलर यानी लगभग 33 हजार रुपए रखी गई है. अमेरिका में मोटो Z3 की बिक्री 16 अगस्त से शुरू होगी.

Moto Z3 फीचर्स


Moto Z3 स्मार्टफोन एंड्रॉयड 8.1 ओरियो पर चलेगा. Moto Z3 में 6 इंच की फुल-एचडी डिस्पले एमोलेड डिस्प्ले के साथ दिया गया है जो (1080×2160 पिक्सल) के साथ आता है. यह मैक्स विजन 18:9 आस्पेक्ट रेशियो और 2.5डी कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास प्रोटेक्शन से लैस है.

स्मार्टफोन में ऑक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 835 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है जिसे बीते साल जनवरी में लॉन्च किया गया था. बात कैमरे की करें तो फोन में डुअल कैमरा दिया गया है. प्राइमरी सेंसर 12 मेगापिक्सल का है जो एफ/2.0 अपर्चर से लैस है जबकि पिछले हिस्से पर डुअल एलईडी फ्लैश भी दी गई है.

फ्रंट पैनल पर एफ/2.0 अपर्चर वाला 8 मेगापिक्सल का कैमरा है. यह 84 डिग्री फील्ड ऑफ व्यू के साथ आता है. फ्रंट कैमरे से यूज़र फेस अनलॉक फीचर को भी इस्तेमाल कर पाएंगे.

Moto Z3 में इनबिल्ट स्टोरेज 64 जीबी है जिसे यूजर जरूरत पड़ने पर माइक्रोएसडी कार्ड द्वारा 2 टीबी तक बढ़ा सकते हैं. Moto Z3 हैंडसेट 4जी VoLTE, वाई-फाई, ब्लूटूथ 5.0, जीपीएस/ ए-जीपीएस, एनएफसी और यूएसबी-टाइप सी कनेक्टिविटी के साथ आता है. हैंडसेट की बैटरी 3000 एमएएच की है और फोन के रिटेल बॉक्स में 15 वॉट का टर्बो चार्जर दिया गया है.


eBay समेट रही है बोरिया बिस्तर, अगले महीने से भारत में बंद

eBay समेट रही है बोरिया बिस्तर, अगले महीने से भारत में बंद

25-Jul-2018

दिल्ली 

ई-कॉमर्स कंपनी ईबे डॉट इन अगले महीने से काम करना बंद कर देगी. कंपनी अभी मुख्य तौर पर अपने मंच पर पुराने उत्पादों को फिर से ठीक (रीफर्बिश) कर के बेचती है. ईबे की मालिक कंपनी फ्लिपकार्ट ने इसके बदले एक नया मंच शुरू करने की घोषणा की है.

बता दें कि ईबे ने अपने इस भारतीय परिचालन को पिछले साल फ्लिपकार्ट को बेच दिया था. साथ ही उसमें 50 करोड़ डॉलर का निवेश भी किया था. इस प्रक्रिया में फ्लिपकार्ट ने ईबे के अलावा टेंसेंट और माइक्रोसॉफ्ट से भी निवेश जुटाया था. कुल निवेश 1.4 अरब डॉलर का था.

फ्लिपकार्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कल्याण कृष्णमूर्ति ने कर्मचारियों को भेजे ईमेल में कहा है, ‘‘ ईबे डॉट इन पर अपने अनुभव के आधार पर हमने इसे बंद करने का निर्णय किया है. साथ ही रीफर्बिश सामानों की बिक्री के लिए हमने एक नया ब्रांड बनाया है. मौजूदा समय में रीफर्बिश बाजार में असंगठित क्षेत्र का दबदबा है. इस नए ब्रांड को शुरू करने की प्रक्रिया के तहत हम 14 अगस्त 2018 से ईबे डॉट इन पर सभी लेनदेन बंद कर रहे हैं. ग्राहकों के इन लेनदेनों को नए मंच पर स्थानांतरित किया जा रहा है.’’


जियो फोन के ऑपरेटिंग सिस्‍टम KaiOS ने मचाई धूम, apple को छोड़ा पीछे

जियो फोन के ऑपरेटिंग सिस्‍टम KaiOS ने मचाई धूम, apple को छोड़ा पीछे

14-Jul-2018

नई दिल्‍ली। रिलायंस जियो ने दो साल पहल भारतीय टेलिकॉम बाजार में कदम रखा था। तब से लेकर कंपनी लगातार रिकॉर्ड बनाती जा रही है। चाहे वह तेजी से कस्‍टमर जुटाने की बात हो या फिर एक झटके में करोड़ों जियो फोन की बिक्री हो, रिलायंस ने हमेशा दुनिया को चौंकाया है। अब रिलायंस ने एक ऐसी उपलब्धि हासिल की है जिसके समाने एप्‍पल भी बौना नज़र आ रहा है। दर असल अब दुनिया में तहलका मचाया है उस ऑपरेटिंग सिस्‍टम ने जिस पर जियो फोन चलता है। हम बात कर रहे हैं JioPhone में चलने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम KaiOS की। इस ऑपरेटिंग सिस्‍टम ने भारत में ऐपल के आईओएस को पछाड़ते हुए ऐंड्रॉयड के बाद दूसरा स्थान हासिल कर लिया है।

मार्केट इंटेलिजेंस फर्म डिवाइस एटलस के ताजा सर्वे के अनुसार KaiOS ने मात्र एक साल में ही 15 फीसदी मार्केट पर कब्‍जा कर लिया है। बता दें कि अपने लॉन्च के बाद रिलायंस का जियोफोन तेजी से मार्केट में काफी लोकप्रिय हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, कुल 15 प्रतिशत हिस्‍सेदार के साथ KaiOS भारत में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला दूसरा ऑपरेटिंग सिस्टम है। KaiOS  के बाद तीसरे स्थान पर एप्‍पल का आईओएस है। जिसका मार्केट शेयर 9.6 प्रतिशत है। हालांकि ऐंड्रॉयड 70 प्रतिशत शेयर के साथ अभी भी भारतीय मार्केट में राज कर रहा है।


FAKE NEWS पर लगाम लगाने 2.5 करोड़ डॉलर निवेश करेगा यूट्यूब

FAKE NEWS पर लगाम लगाने 2.5 करोड़ डॉलर निवेश करेगा यूट्यूब

10-Jul-2018

न्यूयॉर्क। गूगल की वीडियो प्लेटफॉर्म कंपनी यूट्यूब फर्जी खबरों पर शिकंजा कसने और समाचार संगठनों की मदद के लिए खबर की सच्चाई परखने के वास्ते कई कदम उठा रही है. इसके अलावा कंपनी इन चुनौतियों से मुकाबला करने के लिए 2.5 करोड़ डॉलर का निवेश भी करेगी. यूट्यूब ने यह जानकारी दी.

कंपनी ने कहा कि वह समाचार स्त्रोतों को और अधिक विश्वसनीय बनाएगी, खासतौर से ब्रेकिंग न्यूज के मामले में एहतियत बरतेगी जहां गलत सूचनाएं आसानी से फैल सकती है. इसी क्रम में यूट्यूब वीडियो सर्च के परिणाम में वीडियो और उससे जुड़ी खबर का एक छोटा सा विवरण उपयोगकर्ताओं को दिखाना शुरू करेगा. इसी के साथ चेतावनी भी देगा कि ये खबरें बदल सकती हैं. इसका उद्देश्य फर्जी वीडियो पर रोक लगाना है जो कि गोलीबारी, प्राकृतिक आपदा और अन्य प्रमुख घटनाओं के मामले में तेजी से फैल सकती है.

यूट्यूब ने कहा कि वह अपने प्लेटफॉर्म पर खबरों में सुधार और भ्रामक सूचनाएं जैसी गंभीर चुनौतियों से निपटने के लिए अगले कुछ सालों में 2.5 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी. इसमें दुनिया भर के समाचार संगठनों में टिकाऊ और बेहतर वीडियो परिचालन स्थापित करने के लिए कर्मचारी प्रशिक्षण और वीडियो प्रोडेक्शन सुविधा में सुधार जैसे चीजें शामिल हैं. इसके अलावा कंपनी विकिपीडिया और इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका जैसे सामान्य विश्वसनीय सूत्रों के साथ विवादित वीडियो से निपटने के तरीकों का भी परीक्षण कर रही है.


8GB रैम, 256GB स्टोरेज के साथ आया OnePlus 6 का नया एडिशन

8GB रैम, 256GB स्टोरेज के साथ आया OnePlus 6 का नया एडिशन

28-Jun-2018

स्मार्टफोन बनानेवाली चीनी कंपनी वनप्लस ने भारत में अपने वनप्लस 6 सिरीज का नया स्मार्टफोन का मिडनाइट ब्लैक वेरिएंट लांच किया है. नये मॉडल में 8 जीबी रैम और 256 जीबी इंटरनल स्टोरेज दी गयी है. इसकी कीमत 43,999 रुपये है. कंपनी की अोर से दी गयी जानकारी के मुताबिक, इसे 10 जुलाई से अमेजन इंडिया पर और 14 जुलाई से ऑफलाइन स्टोर्स से खरीदा जा सकेगा. इसके अलावा Amazon.in पर नोटिफाई मी टैब को एक्टिव कर दिया गया है, ताकि इच्छुक ग्राहक फोन की उपलब्धता पर नजर बनाये रख सकें.

गौरतलब है कि मई में लांच हुए स्मार्टफोन के पुराने मॉडल में 6 जीबी रैम/64 जीबी इंटरनल मेमोरी वाले वेरिएंट की कीमत 34,999 रुपये और 8 जीबी रैम/128 जीबी इंटरनल मेमोरी वाले वेरिएंट की कीमत 39,999 रुपये रखी गयी थी.

अब OnePlus ने अपने इस बेहद पावरफुल वेरिएंट को मार्केट में उपलब्ध कराने की जानकारी दी है. 256 जीबी वेरिएंट को ग्लोबल मार्केट में खासा पसंद किया गया है और भारतीय मार्केट में भी कम समय में यह बेहद लोकप्रिय हुआ है.

OnePlus 6 के फीचर्स

6.28 इंच का फुल-एचडी+ फुल ऑप्टिक एमोलेड डिस्प्ले
1080x2280 पिक्सल का रेजॉल्यूशन
19:9 ऐस्पेक्ट रेशियो वाली स्क्रीन
क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 प्रोसेसर
टॉप क्लॉक स्पीड 2.8 गीगाहर्ट्ज
6 जीबी, 8 जीबी रैम वेरिएंट्स
64 जीबी, 128 जीबी, 256 जीबी स्टोरेज वेरिएंट्स
पिछले हिस्से पर 16+20MP डुअल कैमरा सेटअप
16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा
डाइमेंशन 155.7x75.4x7.75 मिलीमीटर
वजन 177 ग्राम
एक्सेलेरोमीटर, एंबियंट लाइट सेंसर, डिजिटल कंपास, जायरोस्कोप और प्रॉक्सिमिटी सेंसर
कनेक्टिविटी फीचर्स : 4जी वीओएलटीई, वाई-फाई 802.11एसी, ब्लूटूथ 5.0, यूएसबी टाइप-सी पोर्ट और 3.5 हेडफोन जैक


OnePlus 6 स्मार्टफोन में कंपनी ने अपना डैश चार्ज फीचर दिया है, जो 3300 एमएएच की बैटरी को शून्य से 100 प्रतिशत चार्ज करने में लगभग 80 मिनट का समय लेती है.
इसमें 6.28 इंच की एमोलेड डिस्प्ले, डुअल 16 मेगापिक्सेल और 20 मेगापिक्सेल के प्राइमरी कैमरा, 16 मेगापिक्सेल का सेल्फी कैमरा दिया गया है. हैंडसेट में एंड्रॉयड 8.1 ओरियो ओएस पर आधारित एंड्रॉयड ऑक्सीजन ओएस दिया गया है.


लौकी का जूस फ़िर हुआ ख़तरनाक : जूस पीने से पुणे में महिला की मौत

लौकी का जूस फ़िर हुआ ख़तरनाक : जूस पीने से पुणे में महिला की मौत

22-Jun-2018

पुणे में लौकी का जूस पीने से 41 साल की स्वस्थ महिला की मौत होने की सनसनीखेज खबर सामने आई। महिला कोई बीमारी नहीं और न किसी बीमारी पहले से इलाज चल रहा था। लौकी का जूस पीने से महिला की मौत के बाद लोग सकते में हैं।

12 जून को खराब हुई थी तबीयत-
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 12 जून को सुबह महिला ने जब एक गिलास लौकी का जूस पिया तो इसके आधे घंटे  बाद ही उसे उल्टी दस्त शुरू हो गए। इस उसे पास के अस्पताल में ले जा गया लेकिन अगले  दो-दिन में उसकी हालत और खराब होती गई। और अंत में 16 जून की आधी रात को उसकी मौत हो गई।

लोग इसलिए पीते हैं लौकी का जूस-
आयुर्वेदिक दवाओं की सलाह देने वालों के अनुसार, खाली पेट लौकी का जूस पीने से डायबिटीज, हृदयरोग, पेशाब से संबंधित समस्याओं में लाभ होता है। इसलिए लोग किसी की सलाह पर लौकी का जूस पीने लगते हैं। लेकिन जब लौकी का जूस कड़ुवा हो तो इसे पीने परहेज करना चाहिए नहीं तो घातक साबित हो सकता है।

नुकसान देह है लौकी का कड़वा जूस-
यदि कसैली लौकी का रस या लौकी का कड़वा जूस पीता है पेट में यह जहरीले रसायन बढ़ाता है। इसके परिणाम स्वरूप बेचैनी, पेट में दर्द, उल्टी या खून की उल्टी और तनाव बढ़ जाता है। अगर स्थिति नियंत्रित नहीं हुई तो मरीज के लिए घातक भी साबित हो सकता है। इसलिए किसी भी चीज का विशेष प्रकार से सेवन करने से पहले उससे जुड़े विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


अब बाबा रामदेव के पतंजलि ने लांच किया नया सिम कार्ड

अब बाबा रामदेव के पतंजलि ने लांच किया नया सिम कार्ड

29-May-2018

Image result for अब बाबा रामदेव के पतंजलि ने लांच किया नया सिम कार्ड

नई दिल्ली। योगगुरू बाबा रामदेव की उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली कंपनी पतंजलि ने अब दूरसंचार क्षेत्र में अपने पैर पसार लिये हैं। कंपनी ने इस नये क्षेत्र में अपने कारोबार का आगाज करते हुए आज 'स्वदेशी समृद्धि सिम कार्ड' को लांच किया। पतंजलि और भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) ने मिलकर इसे सिम कार्ड को लॉन्च किया है। उपभोक्ता को इस सिम कार्ड में 144 रुपये के रिचार्ज पर दो जीबी डाटा,100 एसएमएस और अनलिमिटेड कॉंलग की सुविधा मिलेगी। उपभोक्ता को इसके साथ ही ढाई लाख रुपए तक का मेडिकल बीमा और पांच लाख रुपए तक का जीवन बीमा भी दिया जायेगा। इसके अलावा इस सिम के जरिये पतंजलि के अन्य उत्पादों पर दस प्रतिशत की छूट की भी घोषणा की गयी है। हालांकि अभी यह सिम कार्ड शुरूआत में सिर्फ पतंजलि के कर्मचारियों को दिया जाएगा। लेकिन इसे जल्द ही भारतीय बाजार में उतारा जायेगा। पतंजलि के कर्मचारी सिर्फ अपना आईडी कार्ड दिखाकर इस सिम को ले सकते हैं। 


अंडा खाने से नहीं बढ़ता दिल की बीमारियों का खतरा

अंडा खाने से नहीं बढ़ता दिल की बीमारियों का खतरा

24-May-2018
मेलबर्न। अंडे खाने से उन लोगों में दिल की बीमारी होने का खतरा नहीं बढ़ता जिनके मधुमेह की चपेट में आने की आशंका है या जिन्हें टाइप टू डायबिटीज है। एक नए अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है। ऑस्ट्रेलिया के सिडनी विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ता अंडों के सेवन को लेकर दी जाने वाली आहार संबंधी परस्पर विरोधी सलाह को लेकर स्थिति साफ करना चाहते थे।
 
उनके इस अध्ययन में पाया गया कि साल भर तक एक हफ्ते में 12 अंडों तक का सेवन करने से उन लोगों में दिल की बीमारियों से जुड़े जोखिम कारकों में कोई बढ़ोतरी नहीं होती जिन्हें डायबिटीज होने का खतरा है या फिर जिन्हें टाइप टू डायबिटीज है। अनुसंधानकर्ता निक फुलर ने बताया कि अंडे प्रोटीन और सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक स्रोत हैं जो आंखों व दिल की सेहत , सेहतमंद नसों व सेहतमंद गर्भावस्था , फैट और कार्बोहाइड्रेट के सेवन का नियमन समेत स्वास्थ्य और आहार संबंधी कई कारकों को बढ़ावा देते हैं। यह अध्ययन ‘ अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन ’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

अधिक AC में रहने से हो सकती हैं ये बीमारियां

अधिक AC में रहने से हो सकती हैं ये बीमारियां

10-May-2018

गर्मियों के मौसम में ज्यादातर लोग AC में रहना पसंद करते हैं। AC चलाने से गर्मी का एहसास नहीं होता है। पर क्या आपको पता है ज्यादा देर AC में रहने से आपकी स्वास्थ्य को बहुत नुकसान हो सकता है। आज हम आपको ज़्यादा देर तक AC में रहने के कुछ नुक़्सानो के बारे में बताने जा रहे हैं।
 
अगर आप ज्यादा देर तक AC के संपर्क में रहते हैं तो इससे आपको वायरल इन्फेक्शन, जुकाम वसर्दी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसके अतिरिक्त AC में रहने से आपके सिर में भी दर्द हो सकता है।
 
AC में रहने के कारण आपकी म्यूकस ग्रंथि सख्त हो जाती है। जिससे साइनस की बीमारी के होने का खतरा होता है।
 
ज्‍यादा देर तक AC की हवा में रहने से गर्दन हाथ व घुटनों का दर्द बढ़ जाता है। व उनकी कामक्षमता कम हो जाती है।
 
लंबे समय तक AC में रहने से जोड़ों में दर्द होने की समस्या हो सकती है। अधिक देर तक AC रूम में रहने से आंखों में ड्राईनेस की समस्या हो सकती है। इसके अतिरिक्त इससे आपकी आंखों में चुभन, जलन व पानी आने की भी समस्या हो सकती है।

 


युवाओं में बढ़ रहा है ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

युवाओं में बढ़ रहा है ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

28-Apr-2018

आरामतलब जीवनशैली, मोटापा, जंक फूड के अधिक सेवन और तनाव के कारण युवाओं में ब्रेन स्ट्रोक के मामले में वृद्धि हो रही है। इसका इलाज नहीं कराने पर दिमागी कोशिकाओं और आवाज को नुकसान हो सकता, जिसके परिणामस्वरूप मरीज जीवन भर के लिए दिव्यांग हो सकता है। फोर्टिस अस्पताल (नोएडा) में न्यूरोसर्जरी विभाग के अतिरिक्त निदेशक एवं वरिष्ठ न्यूरो एवं स्पाइन सर्जन डॉ. राहुल गुप्ता ने अस्पताल द्वारा आयोजित एक विशेष सत्र में कहा, “कुछ समय पहले तक युवाओं में स्ट्रोक के मामले सुनने में नहीं आते थे, लेकिन अब युवाओं में भी ब्रेन स्ट्रोक अपवाद नहीं है। युवाओं में स्ट्रोक के बढ़ते मामलों का मुख्य कारण उच्च रक्तचाप, मधुमेह, रक्त शर्करा, उच्च कोलेस्ट्रॉल, शराब, धूम्रपान और मादक पदार्थों की लत के अलावा आरामतलब जीवनशैली, मोटापा, जंक फूड का सेवन और तनाव है। युवा रोगियों में यह अधिक घातक साबित होता है, क्योंकि यह उन्हें जीवन भर के लिए दिव्यांग बना सकता है।”

वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. ज्योति बाला शर्मा ने कहा, “देश में हर साल ब्रेन स्ट्रोक के लगभग 15 लाख नए मामले दर्ज किए जाते हैं। दुनिया भर में हर साल स्ट्रोक से लगभग 2 करोड़ लोग पीड़ित होते हैं, जिनमें से 50 लाख लोगों की मौत हो जाती है और अन्य 50 लाख लोग दिव्यांग हो जाते हैं।”

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (एनसीबीआई) के अनुसार, कोरोनरी धमनी रोग के बाद स्ट्रोक मौत का सबसे आम कारण है। इसके अलावा यह ‘क्रोनिक एडल्ट डिसेबिलिटी’ का एक आम कारण है। 55 वर्ष की आयु के बाद 5 में से एक महिला को और 6 में से एक पुरुष को स्ट्रोक का खतरा रहता है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान संस्थान परिषद के एक अध्ययन के अनुसार, हमारे देश में हर तीन सेकेंड में किसी न किसी व्यक्ति को ब्रेन स्ट्रोक होता है और हर तीन मिनट में ब्रेन स्ट्रोक के कारण किसी न किसी व्यक्ति की मौत होती है। डॉ. राहुल गुप्ता ने कहा कि ब्रेन अटैक के नाम से भी जाना जाने वाला ब्रेन स्ट्रोक भारत में कैंसर के बाद मौत का दूसरा प्रमुख कारण है। मस्तिष्क के किसी हिस्से में रक्त की आपूर्ति बाधित होने या गंभीर रूप से कम होने के कारण स्ट्रोक होता है। मस्तिष्क के ऊतकों में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी होने पर कुछ ही मिनटों में मस्तिष्क की कोशिकाएं मृत होने लगती हैं, जिसके कारण मृत्यु या स्थायी रूप से व्यक्ति दिव्यांग हो सकता है।

डॉ. ज्योति बाला शर्मा ने कहा कि इलाज में देरी होने पर लाखों न्यूरॉन्स क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और मस्तिष्क के अधिकतर कार्य प्रभावित होते हैं, इसलिए रोगी को समय पर चिकित्सा सहायता प्रदान करना महत्वपूर्ण है। ऐसा इसलिए, क्योंकि स्ट्रोक होने पर शीघ्र बहुआयामी उपचार की आवश्यकता होती है। स्ट्रोक का इलाज किया जा सकता है। इसके बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात समय का सदुपयोग है। एक स्ट्रोक के बाद हर दूसरे स्ट्रोक में अत्यधिक मस्तिष्क कोशिकाओं की मृत्यु हो जाती है, इसलिए स्ट्रोक होने पर रोगियों को निकटतम स्ट्रोक उपचार केंद्र में जल्द से जल्द ले जाया जाना चाहिए।

BY : IANS


खबर चौकाने वाली : अच्छा नहीं लगता रोज नहाना..............

खबर चौकाने वाली : अच्छा नहीं लगता रोज नहाना..............

21-Apr-2018

अपने शरीर की साफ-सफाई के लिए सचेत सभी लोगों को यह खबर चौंका सकती है। एक अध्ययन में विशेषज्ञों ने कहा है कि रोज नहाना सेहत के लिए अच्छा नहीं काफी नुकसानदेह होता है। विशेषज्ञों का कहना है कि रोज नहाने से शरीर में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी में हुए अध्ययन में यह खुलासा हुआ है। संस्थान के संक्रामक रोग विभाग में विशेषज्ञ डॉक्टर एलेन लार्सन का कहना है कि नहाने सिर्फ शरीर की दुर्गंध दूर होती है। मगर इससे लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इससे त्वचा की नमी घटने लगती है और रूखापन व दरारें बढ़ सकती हैं। इनसे त्वचा में हो सकता है। एलेन ने कहा कि लोग मानते हैं कि रोज नहाने से उनके बीमार पड़ने का खतरा कम होता है। मगर, इसके विपरीत नहाने से सिर्फ शरीर की दुर्गंध दूर होती है। 

जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के डर्मेटोलॉजी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर ब्रैंडन मिशेल का कहना है कि नहाने से शरीर में प्राकृतिक तेल कम होने लगता है। इससे शरीर में मौजूद गुड बैक्टीरिया नकारात्मक रूप से प्रभावित होता है, जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं। डॉ. मिशेल के मुताबिक हफ्ते में सिर्फ एक या दो बार नहाने काफी होता है। रोज नहाना कोई जरूरी नहीं है। हमारा शरीर प्राकृतिक रूप से तेलयुक्त मशीन है। इसलिए मुझे लगता है कि अक्सर लोग आवश्यक्ता से अधिक नहाते हैं। 


जाने शरीर में पानी की कमी के संकेत

जाने शरीर में पानी की कमी के संकेत

18-Apr-2018

गर्मी हो या सर्दी अच्छी सेहत के लिए पानी पीना बहुत जरूरी है। शरीर का दो-तिहाई हिस्सा पानी से बना होता है। यह बॉडी से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है, जिससे बीमारियों से बचाव रहता है। तरल पदार्थों का सेवन कम करने से शरीर को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आइए जाने पानी की कमी होने पर किस तरह के संकेत देता है शरीर।

1. सिर दर्द 
पानी का कमी होने पर शरीर में ऑक्सीजन और रक्त प्रवाह में कमी हो जाती है। जिससे सिर में दर्द होना शुरू हो जाता है। जब बिना किसी बीमारी या कारण सिर में दर्द हो तो समझ लेना की शरीर में पानी की कमी है।

2. चीजें भूलना 
पानी की कमी होना सामान्य बात नही है। कई बार इससे याद्दाशत की कमी भी होनी शुरू हो जाती है। मस्तिषक में पानी की कमी होने पर सोचने-समझने की शक्ति पर भी इसका असर पड़ता है।

3. थकान 
सुबह उठते ही या फिर बिना कोई काम किए भी थकान महसूस होना शरीर में पानी की कमी का संकेत हो सकता है।

4. बेजान त्वचा 
त्वचा से जुड़ी परेशानियां,रूखापन,एग्जिमा, मुहांसे,रूखापना आदि जैसे लक्षण दिखाई दे तो इसका दिन में कम से कम 10-12 गिलास पानी जरूर पीएं। यह पानी की कमी के संकेत हो सकते हैं।

5. कब्ज 
कुछ लोग पेट साफ न होने या फिर कब्ज के कारण परेशान रहते हैं। पानी की कमी का असर पेट पर भी पड़ता है। इससे पाचन क्रिया सही तरीके से नहीं हो पाती। इसके लिए जरूरी है कि भरपूर पानी पिएं।


चश्मा पहनकर अगर आपके नाक पर बन गए हैं काले निशान तो यूँ दूर करें

चश्मा पहनकर अगर आपके नाक पर बन गए हैं काले निशान तो यूँ दूर करें

03-Apr-2018

क्‍या आपके नाक पर पिंगमेंटेशन मार्क बन गए है और ये आपका चेहरे पर भद्दे से नजर आते है। क्‍या आपके आंखों की नजरें कमजोर है। आप कॉन्‍टेक्‍ट लैंसेस से बचने के लिए ही चश्‍मा पहनती है। लेकिन क्‍या आप जानती है कि रोजाना चश्‍मा पहनना आपके चेहरे और नाक पर हाइपर पिंगमेंटेशन बढ़ा सकता है। इसके अलावा आपके चेहरे पर एक गहरा निशान भी छोड़ सकता है। लेकिन आप चाहे तो चश्‍में के दबाव से बनें इस निशान को कुछ घरेलू नुस्‍खों से भी घर बैठे इलाज कर सकती है। ऐसी बहुत सी चीजें है जिससे आप इसका इलाज कर सकती है। आइए जानते है कैसे? 

आलू या टमाटर की एक स्‍लाइस लेकर इस चेहरे पर बनें निशान पर हल्‍का रगड़े। और इसे कुछ देर के लिए छोड़ दे। ये उपाय आप रोजाना नियमित रुप से करें। कुछ ही दिनों में ये निशान चला जाएगा। 

ऐलोवेरा से जेल निकालें और इसे निशान पर लगाएं। इसके अलावा आप इसमें से ऐलोवेरा की चंद बूंदे रस निकालकर भी निशान में लगाकर चेहरे पर बने इस दाग और निशान से छुटकारा पा सकते हैं। 

संतरे का छिलका आपके बड़े काम का है। इससे चेहरे के दाग-धब्बे औसंतरों के छिलकों को धूप में सुखा लें और फिर उन्हें पीस लें। अब एक चम्मच संतरे के सूखे छिलके का पाउडर लेकर उसमें आधा चम्मच दूध मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को नाक में निशान वाली जगह पर लगाएं। तीन-चार दिन के लगातार प्रयोग से नाक से निशान मिट जाते हैं। 

खीरे से भी चेहरे के दाग-धब्बों को आसानी से मिटाया जा सकता है। इसके लिए बस एक खीरे के छोटे-छोटे गोल स्लाइस काटिए और इसे निशान वाली जगह पर 10 से 15 मिनट तक रगड़िये। थोड़ी देर बाद ठंडे पानी से मुंह धुल लीजिए। 

एक चम्मच नींबू के रस में आधा चम्मच पानी मिलाकर थोड़ा डायल्यूट कर लें। अब इसी रस के घोल में रूई डुबाकर चेहरे में निशान वाली जगह पर लगाएं और 15 से 20 मिनट तक लगा रहने दें। इसके बाद चेहरे को ठंडे पानी से धुल लें। इसे लगाने से निशान धीरे-धीरे खत्म हो जाते हैं। 

बादाम के तेल में कई पौष्टिक तत्व होते हैं जो त्वचा को पोषण देते हैं और उसको मॉश्चराइज रखते हैं। बादाम भी त्वचा के दाग को मिटाकर उसे स्किन के रंग में मिलाता है। इसके लिए बादाम के तेल को रोजाना सोने से पहले नाक पर मलें। बादाम के तेल से चेहरे के धब्बे भी कम होते हैं और चेहरा बेदाग बनता है। 

अगर लगातर चश्मा पहनने के कारण नाक पर निशान पड़ गए हैं, तो ऐसे में आप सबसे पहले शहद, दूध और जौ का आटा का मिश्रण तैयार कर लें, फिर इस मिश्रण को नाक पर पड़े निशान पर लगाएं और कुछ देर बाद धो लें। यदि आप कुछ दिनों तक इस मिश्रण को लगातार प्रयोग करती हैं तो जल्दी नाक के निशान साफ हो जाएंगे। इसके अलावा नाक की डेड स्किन भी निकल जाएगी। 


रिलायंस जियो ने लॉन्च किया JioFi की नई डिवाइस

रिलायंस जियो ने लॉन्च किया JioFi की नई डिवाइस

21-Mar-2018

नई दिल्ली। रिलायंस जियो ने JioFi के बाद एक और नई डिवाइस 4G LTE JioFi हॉटस्पॉट को लॉन्च किया है। ये डिवाइस जियोफाई की ही नई रेंज है लेकिन खास बात ये है कि जहां जियोफाई डिवाइस की कीमत 1999 रुपये हैं वहीं 4G LTE JioFi को महज 999 रुपये में लॉन्च किया गया है। रिलायंस जियो ने अपनी इस नई डिवाइस को लॉन्च करने के लिए ई-कॉमर्स साइस फ्लिपकार्ट के साथ एक्सक्लूसिव करार किया है। फ्लिपकार्ट पर ये डिवाइश 999 रुपये में कीमत में उपल्ब्ध है। जियोफाई की ये नई डिवाइस एक वाई-फाई राउटर की तरह काम करेगी जो आपको 150Mbps की डाउनलोड स्पीड और 50Mbps की शानदार अपलोड स्पीड देगी। 

जियोफाई की ये नई डिवाइस गोलाकर डिजाइन में है। इस नए मॉडल में जियो WPS (वाई-फाई प्रोटेक्टेड सेटअप) बटन के साथ नेटवर्क और बैटरी इंडिकेटर दिया है। जियो ने जो जानकारी दी है उसके मुताबिक इस JioFi हॉटस्पॉट डिवाइस एक साथ 32 यूजर्स कनेक्ट हो सकते हैं। इनमें से 31 यूजर्स हॉटस्पाट के जरिए जबकि 1 यूजर्स यूएसबी के जरिए कनेक्ट हो सकता है। 


पहली ‘वास्तविक’ फ्लाइंग कार का उत्पादन शुरू, 180 किमी होगी स्पीड

पहली ‘वास्तविक’ फ्लाइंग कार का उत्पादन शुरू, 180 किमी होगी स्पीड

10-Mar-2018

जिनेवा में एक मोटर शो में दुनिया की पहली ‘वास्तविक’ फ्लाइंग कार का उत्पादन संस्करण पेश किया गया है। डच फर्म पाल-वी इंटरनेशनल के मुताबिक, $ 600,000 (3,91,17,000.00 रुपए)कीमत वाले पर्सनल एयर एंड लैंड व्हीकल (पाल-वी) लिबर्टी सड़कों पर और आकाश में 112 मीटर प्रति (180 किमी) की रफ्तार से चल सकेगी. दो इंजन वाला यह फ्लाईंग कार एक मोटरबाइक और हेलिकॉप्टर के बीच का हाइब्रिड जैसा दिखता है, जो 2019 में प्री-ऑर्डर के शुरुआती बैच के शिपिंग से पहले कंपनी द्वारा प्रदर्शित किया गया है।

स्विट्जरलैंड में जिनेवा मोटर शो में मंगलवार को दिखाया गया वाहन, एक तीन-पहिए वाली फ्लाईंग मोटर है जो दो लोगों को ले जा सकता है और आधिकारिक तौर पर सड़कों और हवा पर अमेरिका सहित यूरोप में उपयोग के लिए प्रमाणित है।

यह कार्बन फाइबर, टाइटेनियम, और एल्यूमीनियम से बना है और 1,500 एलबीएस वजन (680 किग्रा) का है, और लैंडिंग के लिए 540 एफटी (165 मीटर) रनवे और सिर्फ 100 फीट (30 मीटर) की आवश्यकता है।

छह साल के परीक्षण के बाद, पाल-वी इंटरनेशनल का लक्ष्य है कि एक फ्लाइंग कार का दुनिया का पहला सामूहिक निर्माता बनने के बाद अपने प्रतिद्वंद्वियों को तगड़ा झटका देना जो अभी भी सिर्फ डिजाईन ही पेश कर सके हैं।