समाचार वेबसाइट द क्विंट के संस्थापक पत्रकार राघव बहल के नोएडा स्थित घर और दफ्तर पर आयकर विभाग का छापा

समाचार वेबसाइट द क्विंट के संस्थापक पत्रकार राघव बहल के नोएडा स्थित घर और दफ्तर पर आयकर विभाग का छापा

11-Oct-2018

दिल्ली 

आयकर विभाग की टीम ने गुरुवार (11 अक्टूबर) को ‘द क्विंट’ वेबसाइट के संस्थापक और मालिक राघव बहल के नोएडा स्थित घर और दफ्तर पर छापा मारा है। यह जानकारी समाचार एजेंसी पीटीआई ने दी है। पीटीआई के मुताबिक अधिकारियों ने बताया कि आयकर विभाग की यह कार्रवाई कथित टैक्स चोरी की आशंका पर हुई है। आपको बता दें कि बहल ‘द क्विंट’ वेबसाइट के संस्थापक और देश के जाने माने पत्रकार हैं। 

रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली से सटे नोएडा वाले उनके घर पर छापेमारी हुई है। आयकर विभाग ने गुरुवार को कथित कर चोरी के मामले में राघव बहल के घर पर तलाशी ली है। रिपोर्ट के मुताबिक, आयकर विभाग की एक टीम ने गुरुवार सुबह नोएडा में बहल के घर और दफ्तर पर छापा मारा और जांच के मामले में दस्तावेजों और अन्य सबूतों की तलाशी ली। इस वक्त वह ‘द क्विंट’ वेबसाइट का संचालन करते हैं। रिपोर्ट की मानें तो बहल को मोदी सरकार द्वारा एक नया टीवी चैनल लॉन्च करने का लाइसेंस भी नहीं दिया जा रहा है। द क्विंट के अलावा राघव बहल नेटवर्क 18 ग्रुप के भी संस्थापक रह चुके हैं। आयकर विभाग की टीम टैक्स से जुड़े दस्तावेजों को खंगालने के मकसद से उनके घर और दफ्तर पर पहुंचीं है।

राघव बहल द्वारा इस मामले में एक बयान जारी किया गया है। उन्होंने कहा है कि मैं इस मामले को एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के सामने उठाऊंगा। उन्होंने कहा कि जब वह जब मुंबई में थे तब सुबह आयकर विभाग के दर्जनों अधिकारी उनके घर और द क्विंट के दफ्तर पर सर्वे के लिए पहुंचे। हम पूरी तरह से टैक्स चुकाते हैं। हम उन्हें सभी वित्तीय दस्तावेज उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने कहा कि मैं एक अधिकारी मिस्टर यादव से बात की है और उनसे अनुरोध किया है कि वह किसी भी अन्य मेल और दस्तावेज को न देखें या उठाएं, जिसमें बहुत गंभीर और संवेदनशील पत्रकारिता की सामग्री हो। अगर वो ऐसा करेंगे तो हम विरोध करेंगे। मुझे उम्मीद है कि एडिटर्स गिल्ड इस मसले पर मेरा समर्थन करेगा। मैने अधिकारियों से निवेदन किया है कि वह अपने स्मार्टफोन का दुरुपयोग कर अनाधिकारिक रूप से किसी प्रति की फोटो न लें। उन्होंने कहा कि मैं जल्द ही दिल्ली ऑफिस पहुंचने वाला हूं।

 

 


UP : 8 गांवों में बोर्ड- बीजेपी नेताओं की एंट्री बैन, गए तो सुरक्षा की गारंटी नहीं

UP : 8 गांवों में बोर्ड- बीजेपी नेताओं की एंट्री बैन, गए तो सुरक्षा की गारंटी नहीं

09-Oct-2018

लखनऊ 

हाल में किसान आंदोलन के चलते दिल्ली में प्रशासन के साथ हुई झड़प को लेकर किसानों की नाराजगी शांत होने का नाम नहीं ले रही है। अब ऐसी खबरें हैं कि उत्तर प्रदेश के अमरोहा में आठ गावों के किसानों ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं से बदला लेने का मूड बना लिया है।

गावों में ऐसे बोर्ड देखे जा रहे हैं जिनमें लिखा गया है, ”किसान एकता जिंदाबाद। बीजेपी वालों का इस गांव में आना सख्त मना है। जान, माल की स्वयं रक्षा करें।” मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीजेपी नेताओं के लिए धमकी भरे ये बोर्ड रसूलपुर माफी, गालिब बड़ा, छज्जापुर माफी, बाखरपुर माफी, अम्हेड़ा और रामपुर जुन्नारदार आदि गांवों में देखे गए हैं। खबर है कि इन बोर्ड्स को लेकर प्रशासन का भी सुस्त रवैया देखा जा रहा है। कुछ एक गावों में बोर्ड्स को रात में पुलिस के द्वारा पुतवाने या हटाने की कोशिश की गई लेकिन नतीजा सिफर कर रहा। बोर्ड्स पर फिर से बीजेपी के खिलाफ संदेश लिख दिए गए। अमरोहा के ही नवगवां सादात विधासभा सीट से आने वाले बीजेपी विधायक और उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान ने इस घटना पर अफसोस जताया है।

चौहान ने किसानों की नाराजगी को देखते हुए इसका ठीकरा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सिर फोड़ा है। उन्होंने बीजेपी को किसानों के हितों की रक्षा करने वाली पार्टी करार दिया और दिल्ली की घटना के लिए आम आदमी पार्टी सरकार पर आरोप मढ़ा। बीजेपी नेता ने आश्वासन दिया के किसानों की जो शर्तें मानी जा सकती हैं, उन पर सरकार मंथन कर रही है।

 


क्राइम शो ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ के एंकर सुहैब इलियासी को दिल्ली हाईकोर्ट ने किया बरी, पत्नी के मर्डर केस में था आरोपी  !

क्राइम शो ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ के एंकर सुहैब इलियासी को दिल्ली हाईकोर्ट ने किया बरी, पत्नी के मर्डर केस में था आरोपी !

05-Oct-2018

दिल्ली 

टीवी के चर्चित क्राइम शो ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ के एंकर सुहैब इलियासी को दिल्ली हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिल गई है। हाईकोर्ट ने एंकर-प्रोड्यूसर सुहैब इलियासी को अपनी पत्नी की हत्या के मामले में बरी कर दिया है। यहां आपको बता दें कि इस मामले में पिछले साल 16 दिसंबर को सुहैब इलियासी दोषी करार दिये गये थे। 20 दिसंबर 2017 को कड़कड़डूमा कोर्ट ने इलियासी को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। अदालत ने सुहैब पर दो लाख का जुर्माना भी लगाया था। उस वक्त अदालत ने कहा था कि सुहैब ने अपनी पत्नी कर हत्या कर इसे सुसाइड का रंग दिया है। हालांकि उस वक्त तिहाड़ जेल से अदालत जाते वक्त सुहैब ने चीखते हुए कहा था कि वह बेकसूर हैं और उम्रकैद की सजा नाइंसाफी है।

अपनी सजा के खिलाफ सुहैब इलिसासी ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। सुहैब इलियासी की याचिका पर सुनवाई जस्टिस ए मुरलीधर और जस्टिस विनोद गोयल की खंडपीठ ने की। इस बेंच ने इलियासी की अपील को मंजूर किया। इस अपील में ट्रायल कोर्ट के आजीवन कारावास के फैसले को चुनौती दी गई थी।

Image result for suhaib ilyasi

आपको बता दें कि सुहैब इलियासी की पत्नी अंजू इलियासी 11 जनवरी सन् 2000 को ईस्ट दिल्ली स्थित अपने घर में मृत मिली थीं। उस वक्त यह कहा गया था कि अंजू इलियासी की हत्या किसी धारदार हथियार से की गई है और उनकी हत्या का आरोप उनके पति सुहैब इलियासी पर लगा था। जिसके बाद 28 मार्च को सुहैब को गिरफ्तार कर लिया गया था। अंजू की मां रुकमा सिंह और बहन रश्मि सिंह का कहना था कि सुहैब अपनी पत्नी को दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे।

Image result for suhaib ilyasi

सुहैब इलियासी साल 1998 से 2000 के बीच टीवी पर्दे पर काफी लोकप्रिय रहे थे। सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी। अंजू ने परिवार वालों के विरोध के बावजूद साल 1993 में लंदन में जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत सुहैब से शादी की। बाद में दोनों के रिश्तों में दरार पड़ गई।


डॉलर के मुकाबले फिर गिरा भारतीय रुपया, राहुल बोले - यह ब्रेकिंग नहीं...ब्रोकेन है

डॉलर के मुकाबले फिर गिरा भारतीय रुपया, राहुल बोले - यह ब्रेकिंग नहीं...ब्रोकेन है

04-Oct-2018

नई दिल्ली: भारतीय रुपये की कीमतों में लगातार गिरावट जारी है. डॉलर के मुकाबला रुपया अब तक के सबसे न्यूनतम स्तर पर पहुंचा तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी निशाना साधने से नहीं चूके. राहुल गांधी ने ट्वीट कर इसे ब्रेकिंग नहीं ब्रोकेन करार दिया. दरअसल राहुल ने यह टिप्पणी रुपये की गिरती कीमतों की लगातार आ रही ब्रेकिंग न्यूज पर किया. राहुल गांधी ने अंग्रेजी में ट्वीट करते हुए लिखा, ब्रेकिंग-रुपया गिरकर 73.77 पर पहुंचा.  यह ब्रेकिंग नहीं, ब्रोकेन(टूटा हुआ) है. 18 मिनट में ही उनका ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. 18 मिनट में ही करीब 17 सौ लोगों ने लाइक्स किए तो 845 लोगों ने रिट्वीट. उससे 15 घंटे पहले एक और ट्वीट राहुल गांधी ने रुपये की गिरती कीमतों को लेकर किया था. जिसमें कहा था-रुपया गया 73 पार.महंगाई मचाए हाहाकार.तेल-गैस में लगी है आग.बाजार में मची भागम-भाग.ओ 56 इंच सीने वाले. कब तक चलेगा ‘साइलेंट मोड’, कहां है ‘अच्छे दिन का कोड’?

डॉलर(Dollar) की तुलना में भारतीय रुपये की कीमतों में लगातार गिरावट जारी है. अमेरिकी डॉलर की तुलना में भारतीय रुपया फिर लुढ़का, बुधवार के बंद 73.34 के मुकाबले गुरुवार को 73.60 के स्तर पर खुलने के बाद शुरुआती कारोबार के दौरान 73.79 के नए रिकॉर्ड निम्नतम स्तर पर पहुंचा.बता दें कि बुधवार को  एक डॉलर की तुलना में रुपये की कीमत गिरकर 73.33 हो गई थी. जबकि उसके पहले कीमत डॉलर के मुकाबले 73.24 रुपये थी. पिछले काफी समय से अमेरिकी डॉलर की तुलना में भारतीय रुपया कमजोर हुआ है. नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से बयान जारी कर रुपये की कीमतें गिरने से रोकने की बात कही गई है, हालांकि अभी उपायों का असर दिखना बाकी है.

NDTV से साभार 


फेसबुक फ्रेंड ने किया रेप तो महिला ने फेसबुक के खिलाफ ठोंका केस

फेसबुक फ्रेंड ने किया रेप तो महिला ने फेसबुक के खिलाफ ठोंका केस

03-Oct-2018

मीडिया रिपोर्ट 

टेक्सास। अमेरिका के टेक्सास की रहने वाली एक महिला ने दावा किया है कि, वह 15 साल की उम्र में रेप, मारपीट और सेक्स ट्रैफिकिंग की शिकार हो गई थी। दलाल ने उससे फेसबुक पर दोस्ती कर उसे अपने चुंगल में फंसा लिया था। महिला ने सोशल नेटवर्क के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। आरोप लगाया है कि उसके अधिकारियों को पता था कि नाबालिगों लालच देकर इस प्लेटफ़ॉर्म पर सेक्स व्यापार के लिए फंसाया जा रहा था। 

इस महिला ने सोमवार को ह्यूस्टन के हैरिस काउंटी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में मुकदमा दायर किया है। कोर्ट पेपर में महिला ने अपना नाम केवल जेन डो (Jane Doe) लिखा है। हालांकि फेसबुक ने इन आरोपों के बारे में अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है। वहीं महिला ने एक बंद हो चुकी क्लासिफाइड वेबसाइट बैकपेपर और उसके संस्थापक के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराा है। मामला साल 2012 का बताया जा रहा है। 

केस के मुताबिक 2012 में जब महिला किशोरी थी तब फेसबुक के एक यूजर के साथ उसकी दोस्ती हुई। वह यूजर ने खुद को किशोरी के कई कॉमन दोस्तों को जानने की बात कही थी। वह किशोरी को फेसबुक के जरिए मैसेज भेजता था। इस केस में महिला ने बताया कि, एक दिन किसी बात को लेकर उसके और मां के बीच झगड़ा हो गया। दलाल ने उसे मदद की पेशकश की। इसके बाद वह उसे घर ले गया। जहां पर उसके आरोपी ने रेप किया और मारपीट की। इसके बाद उसकी नंगी फोटो Backpage.com पर पोस्ट कर दीं।

महिला ने अपनी याचिका में कहा है कि फेसबुक यूर्जस को वेरिफाइ करने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाता। फेसबुक ने पीड़िता को कभी यह चेतावनी नहीं दी कि इस सोशल नेटवर्किंग साइट पर सेक्स रैकेट चलाने वाले लोग भी एक्टिव हैं। इस बारे में अभी तक सरकारी वकीलों ने भी कोई टिप्पणी नहीं आई है। Backpage.com अमेरिकी प्रशासन ने इसी साल बंद कर दिया है। Backpage.com को देह व्यापार को बढ़ावा देने का दोषी पाया गया था। 


योगी सरकार से नहीं बनी किसानो की बात, दिल्ली बॉर्डर तक पहुंचा किसानों का मार्च

योगी सरकार से नहीं बनी किसानो की बात, दिल्ली बॉर्डर तक पहुंचा किसानों का मार्च

02-Oct-2018

दिल्ली 

हरिद्वार से दिल्ली के लिए भारतीय किसान क्रांति यात्रा को राजधानी में प्रवेश करने से रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इसके लिए यूपी से दिल्ली में प्रवेश करने के सभी रास्तों को सील कर दिया गया है।  ये किसान मंगलवार को गांधी जयंती पर राजघाट से संसद तक विरोध मार्च करने की तैयारी में हैं। लिहाजा राजघाट और संसद के आस-पास भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसानों की इस यात्रा को देखते हुए जगह-जगह नाकेबंदी की गई है और कई इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है। इससे पहले सोमवार को किसानों की यात्रा साहिबाबाद पहुंच गई। इस दौरान हजारों की संख्या में किसानों ने जीटी रोड को पूरी तरह जाम कर दिया दिल्ली के लिए कूच करने लगे। जिलाधिकारी और एसएसपी ने करीब एक घंटे तक किसानों को समझाने की कोशिश की लेकिन किसान दिल्ली जाने पर अड़े रहे। देर रात प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों के साथ किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली से वापस लौटे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर मुलाकात की।

मुख्यमंत्री और प्रतिनिधिमंडल के बीच करीब दो घंटे चली वार्ता विफल रही और प्रतिनिधिमंडल के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की मांग पर अड़े रहे जिस पर मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्रियों से बातचीत की। इसके बाद भाकियू का एक प्रतिनिधिमंडल गन्ना मंत्री सुरेश राणा के साथ दिल्ली के लिए रवाना हो गया।

 


तीन तलाक पर नए अध्यादेश के बाद बिजनौर में पहला तीन तलाक पर केस दर्ज

तीन तलाक पर नए अध्यादेश के बाद बिजनौर में पहला तीन तलाक पर केस दर्ज

29-Sep-2018

उत्तर प्रदेश में तीन तलाक के मामले रुक नहीं रहे हैं। तीन तलाक पर नए अध्यादेश के बाद बिजनौर में पहला तीन तलाक पर केस तो दर्ज हो गया, लेकिन बरेली में कानून का डर अभी दिखाई नहीं दे रहा है।

ठिरिया निजावत खां में बीवी मकान की छत पर गई तो शौहर ने उसे तीन तलाक दे दिया।

बरेली के ठिरिया निजावत खां निवासी गुलशन का निकाह चार महीने पहले गांव के कौसर खां के साथ हुआ था। 27 सितंबर को गुलशन मकान की छत पर चली गई।
उसके शौहर कौसर खां ने इस पर नाराजगी जताई। उसने बीवी से नीचे जाकर बैठने की बात कही मगर बीवी ने उसकी बातों को नजरअंदाज कर दिया।

गुस्से में  शौहर ने बीवी को तीन तलाक दे दिया। शौहर का गुस्सा यहीं नहीं रुका। वह अपनी बीवी को थाने ले गया। वहां उसने पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी।

पुलिस ने उसकी एक न सुनी तो कौसर खां ने कागजी कार्रवाई करते हुए बीवी से अंगूठा लगवा लिया। इसके बाद कौसर ने गुलशन को घर से निकाल दिया।


कनाडा ने वापस ली आंग सान सू ची की मानद नागरिकता

कनाडा ने वापस ली आंग सान सू ची की मानद नागरिकता

28-Sep-2018

मीडिया रिपोर्ट 

कनाडा की संसद ने म्यांमार की नेता आंग सान सू ची को गयी मानद नागरिकता को वापस लेने संबंधी प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित कर दिया। म्यांमार में चल रहे रोहिंग्या संकट की पृष्ठभूमि में यह कदम उठाया गया है। ओटावा ने लंबे समय तक जेल में रही और नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित सू ची को साल 2007 में कनाडा की नागरिकता दी थी। रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यकों के खिलाफ म्यामां की सेना के अत्याचारों पर चुप्पी साधने से सू ची की छवि अंतरराष्ट्रीय स्तर काफी खराब हुई है। कनाडा ने गत सप्ताह रोहिंग्या अत्याचारों को नरसंहार करार दिया था।

विदेश मंत्री क्रिस्टिया फ्रीलैंड के प्रवक्ता एडम ऑस्टिन ने गुरुवार को कहा, ''साल 2007 में हाउस ऑफ कॉमन्स ने आंग सान सू ची को कनाडा की मानद नागरिकता दी थी। आज सदन ने सर्वसम्मति से यह नागरिकता वापस लेने के प्रस्ताव पर मतदान किया। म्यामां के रखाइन प्रांत में सेना के बर्बर अभियान के कारण 7,00,000 से ज्यादा रोहिंग्या मुस्लिमों को पड़ोसी देश बांग्लादेश भागना पड़ा जहां वे शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं। ऑस्टिन ने सू ची के ''रोहिंग्या नरसंहर की निंदा करने से इनकार करने को कनाडाई सम्मान वापस लेने की वजह बताई।


नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के बीच न्यूयॉर्क मे मुलाकात

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के बीच न्यूयॉर्क मे मुलाकात

27-Sep-2018

काठमांडू ( राजू लामा ) : नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बीच न्यूयॉर्क मे मुलाकात हुइ हैं । संयुक्त राष्ट्र संघ के महासभा मे भाग लेने के लिए पहुंचे नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के बीच दो मिनट के मुलाकात के लिए समय तय हुवा था । नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ  मुलाकात के बक्त दो देशो के बीच मे आपसी संबंध और सहयोग के बिषय मे बातचीत हुई थी । अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ उनके पत्नी फस्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प और नेपाल के प्रधानमंत्री पत्नी राधिका शाक्य भी उस वक्त मौजुद थे । 

न्यूयोर्क मे चल रही  राष्ट्रसंघ के महासभा मे भाग लेने के लिए पहुंचे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली अभी बिश्व के अन्य देशों को राष्ट्र प्रमुख के साथ मुलाकात मे इस वक्त व्यस्त है. इस से पहेले ओली ने कैनेडियन प्रधानमंत्री ट्रेड्यू, भारत के विदेश मंत्री स्वराज से लेके अन्य राष्ट्र प्रमुखो से भी दो देशो के बीच मे संबंध सुधारने के लिए मुलाकात और बातचीत किया था ।


योगी आदित्‍यनाथ के खिलाफ केस लड़ने वाला शख्स रेप के केस में गिरफ्तार

योगी आदित्‍यनाथ के खिलाफ केस लड़ने वाला शख्स रेप के केस में गिरफ्तार

27-Sep-2018

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मुकदमा लड़ रहे 64 वर्षीय परवेज परवाज को गोरखपुर पुलिस ने बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया है. फिलहाल पुलिस ने परवेज को जेल भेज दिया गया है.

गोरखपुर के एसपी सिटी विनय सिंह ने बताया कि परवेज परवाज और एक अन्य व्यक्ति महमूद उर्फ जुमैन के खिलाफ बीती चार जून को एक महिला ने राजघाट थाने में गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराया था. इस मामले में परवेज परवाज (64) नामक व्यक्ति को गिरफ्तार कर बुधवार को जेल भेज दिया गया. पीड़िता के मुताबिक, जुम्मन तांत्रिक है. मामला दर्ज कराने वाली महिला का आरोप है कि परवेज और महमूद ने इलाज कराने के बहाने उससे गैंगरेप किया था. मेडिकल की जांच में बलात्कार की पुष्टि हुई है.

एसपी (सिटी) विनय सिंह ने बताया कि परवेज़ को नक्खास स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया गया. उसके साथी जुम्मन की तलाश जारी है. बता दें कि सामाजिक कार्यकर्ता परवेज परवाज वही व्यक्ति है जिसने 27 जनवरी 2007 को गोरखपुर के कोतवाली थाने में योगी आदित्यनाथ समेत कई अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी. इसमें योगी पर दो समुदायों के बीच साम्प्रदायिक तनाव फैलाने का आरोप लगाया गया था. इसको लेकर उसने सेशन कोर्ट और इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका खारिज होने के बाद परवेज़ ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था.


पंजाब पुलिस का अमानवीय चेहरा, महिला को जीप की छत पर बांधकर घुमाया फिर नीचे फेंका

पंजाब पुलिस का अमानवीय चेहरा, महिला को जीप की छत पर बांधकर घुमाया फिर नीचे फेंका

27-Sep-2018

मीडिया रिपोर्ट 

नई दिल्ली: पंजाब पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है. आरोप है कि पुलिस वालों ने एक आरोपी की पत्नी को जीप की छत पर बांध कर घुमाया और अंत में सड़क किनारे फेंक कर फरार हो गए. मामला अमृतसर के चाविंडा देवी गांव का है. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस की इस करतूत पर सवाल उठ रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस मजीठा के चविंडा देवी गांव में एक आरोपी को पकड़ने गई थी. आरोप है कि जब वह घर में नहीं मिला तो पुलिस ने उसकी पत्नी के साथ बदसलूकी की. इस दौरान पुलिसकर्मियों की महिला से कहासुनी हो गई. महिला का आरोप है कि पुलिस बिना किसी वजह के उसके पति को गिरफ्तार करने घर पहुंची थी. उसने जब इसका विरोध किया तो पुलिसवालों ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया. कहासुनी के बाद पुलिसकर्मी महिला को अपने साथ ले गए और अपनी गाड़ी की छत पर बांध दिया. इसके बाद उन्होंने उसे पूरे गांव में घुमाया.

पुलिस की इस मनमानी के बीच गांव के लोग भी जुट गए. बताया जा रहा है कि पीड़िता गाड़ी से गिर भी गई थी, जिससे उसे चोटें आई हैं. आखिर में लोगों के गुस्से को भांपते हुए पुलिसकर्मी पीड़िता को छोड़कर चले गए. पीड़िता को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस वीडियो के सामने आने के बाद पंजाब पुलिस के कामकाज के तरीके पर सवाल उठ रहे हैं. विपक्षी पार्टी शिरोमणि अकाली दल ने राज्य में बढ़ती इस तरह की घटनाओं के लिए कांग्रेस सरकार को दोषी ठहराया है. गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में संगरूर शहर में अपनी पत्नी के साथ एक प्रमुख एसएडी कार्यकर्ता को गोली मार दी गई थी. कुछ दिन पहले ही उत्तर प्रदेश के मेरठ में मेडिकल की एक छात्रा को महिला कॉन्स्टेबल को थप्पड़ मारते हुए वीडियो वायरल हुआ था.


ट्विटर यूजर ने अभिषेक बच्चन से कहा- एक्टिंग छोड़ वडा पाव बेचें, भिड गए अभिषेक

ट्विटर यूजर ने अभिषेक बच्चन से कहा- एक्टिंग छोड़ वडा पाव बेचें, भिड गए अभिषेक

26-Sep-2018

मुंबई : 

अभिषेक बच्चन की फिल्म  ‘मनमर्जियां’ बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह पिट गई जिसके बाद ट्विटर पर कुछ लोग फिर से अभिषेक को ट्रोल करने लगे फिल्म में अभिषेक बच्चन की परफॉर्मेंस को क्रिटिक्स द्वारा काफी सराहा गया। दर्शकों को भी फिल्म एंटरटेंनमेंट के हिसाब से पसंद आई। वहीं फिल्म के पब्लिक रिव्यू भी अच्छे रहे। लेकिन कमाई के मामले में फिल्म फिसड्डी साबित हुई। ऐसे में मनमर्जियां की बॉक्स ऑफिस कमाई पर तंज कसते हुए एक ट्विटर यूजर ने अभिषेक बच्चन को भी निशाने पर ले लिया। यूजर ने अपने पोस्ट में अभिषेक को नेपोटिजम का हिस्सा भी बताया। जब अभिषेक ने इस ट्वीट को देखा तो उन्होंने इस ट्विटर यूजर को जवाब देने का फैसला किया।

ट्विटर यूजर ने लिखा- ‘मनमर्जियां बॉक्स ऑफिस पर बेहोश हो गई। एक बार फिर से ये साबित होता है कि अभिषेक फ्लॉप देने में लेजेंड हैं। सबके पास ये काबिलियत नहीं होती। अब नेपोटिजम का समय गया। स्टार किड्स को अब वड़ा पाव बेचना शुरू कर देना चाहिए। लोल।’ इस ट्वीट को जवाब देते हुए अभिषेक बच्चन ने लिखा, ‘आपको सम्मान के साथ लिखता हूं सर, आप एक डॉक्टर हैं आपको खुद सारे फैक्ट और फिगर्स को देखकर और समझ कर बात करनी चाहिए। आशा है आप अपने पेशेंट्स के साथ ठीक से पेश आते होंगे। ट्वीट करने से पहले फिल्म की इकॉनोमिक्स के बारे में जानें, यह आपको अंबेरेस करेंगे।’

बता दें, फिल्म ‘मनमर्जियां’ के जरिए अभिषेक बच्चन अनुराग के साथ 13 साल बाद काम करते नजर आए। फिल्म में अभिषेक पगड़ी पहने नजर आ रहे हैं। अभिषेक फिल्म में रॉबी भाटिया के किरदार में हैं। अभिषेक के अपोजिट फिल्म में तापसी पन्नू हैं। अनुराग की फिल्म में अभिषेक और तापसी के अलावा विक्की कौशल भी हैं।


शिवसेना ने कहा- पर्रीकर को गोवा का सीएम बनाए रखना क्रूर और अमानवीय

शिवसेना ने कहा- पर्रीकर को गोवा का सीएम बनाए रखना क्रूर और अमानवीय

25-Sep-2018

एजेंसी 

नई दिल्ली। मनोहर पर्रिकर की त​बीयत खराब होने के कारण गोवा के मुख्यमंत्री पद को लेकर ऊहापोह की स्थिति बनी हुई थी। हालांकि, गोवा के सीएम पद के लिए नए चेहरे को लेकर लगाई जा रही अटकलों पर विराम तब लगा था जब रविवार को बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने साफ कर दिया था कि मनोहर पर्रिकर गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगे। वहीं, बीजेपी के इस फैसले पर शिवसेना ने हमला बोलते हुए इसे क्रूर और अमानवीय करार दिया है। 

शिवसेना के मुखपत्र सामना में बीजेपी द्वारा मनोहर पर्रिकर को गोवा का सीएम बनाए रखने के फैसले की कड़ी आलोचना की गई है। सामना के संपादकीय में कहा गया है कि पार्टी को डर था कि कहीं उनके हाथ से गोवा निकल न जाए। पार्टी में पर्रिकर के स्थान पर गोवा का सीएम बनने लायक कोई योग्य चेहरा नहीं होना, प्रदेश बीजेपी के लिए मुसीबत का सबब बन गया था। 

मनोहर पर्रिकर का इलाज इस वक्त दिल्ली स्थित एम्स में चल रहा है। शिवसेना ने कहा कि वे इस वक्त गोवा में नहीं है। पर्रिकर के कैंसर का इलाज दिल्ली के अस्पताल में चल रहा है। इस स्थिति में उन्हें गोवा का सीएम बनाए रखने का फैसला राज्य ही नहीं, उनके साथ भी अन्याय है। शिवसेना ने कहा कि पर्रिकर के स्वास्थ्य के लिए इस वक्त तनाव हानिकारक साबित होगा। लेकिन बीजेपी आलाकमान को ये बात कौन समझाए। बीजेपी को पर्रिकर की सेहत से अधिक गोवा के हाथ से चले जाने का डर है। 


शाहजहां अंसारी पर हमले की असली कहानी ?  और इसके पीछे षड़यंत्र का खुलासा

शाहजहां अंसारी पर हमले की असली कहानी ? और इसके पीछे षड़यंत्र का खुलासा

24-Sep-2018

जिस तरह से जमालुद्दीन खाँ पूर्व प्रधान और  रशीद खाँ पूर्व प्रमुख ने षड़यंत्र करके शाहजहां अंसारी के ऊपर घर में घुस कर जानलेवा हमला करवाया वो आश्चर्यचकित करने वाला और अपने आप में असाधारण था. इससे पूरा कमसार स्तब्ध है. यह घटना असाधारण इसलिए भी है क्योंकि जिस घर पर हमला हुआ वो घर एक समाज में बहुत ही सम्मानित और प्रतिष्ठा वाला घराना है और उस घर पर हमला करना कोई छोटी घटना नहीं थी. इस अंसारी परिवार ने दो बड़े अधिकारी जनाब वज़ीर अंसारी (पूर्व डीजीपी) और प्रोफेसर मुख़्तार अंसारी(पूर्व सुचना आयुक्त) दिए जो ना सिर्फ अपने समाज के लिए अनुकरणीय कार्य किये हैं बल्कि पुरे समाज को इनसे भारी लाभ हुआ है. शाहजहां अंसारी के पिता श्री बादशाह अंसारी भी काफी सामाजिक रहे हैं और गांव के भले कार्यों ने उनका अच्छा योगदान रहा है. जब तक उनकी तबियत अच्छी थी वो इस्लामिया स्कूल के मैनेजर के पद पर कार्यरत रहे. खास तौर से पठान बिरादरी अंसारी परिवार की वजह से काफी लाभ उठाते रहे हैं. प्रोफेसर मुख़्तार अंसारी(पूर्व सुचना आयुक्त)  ने जहाँ कमसार को  एसकेबीऍम जैसी डिग्री कॉलेज की मान्यता दिलवायी, वहीँ  श्री वज़ीर अंसारी कमसार ही क्या पुरे गाज़ीपुर में काफी लोकप्रिय रहे हैं और इनको इलाक़े का बच्चा-बच्चा जानता और इज़्ज़त करता है और प्रेरणा स्त्रोत समझता है. 
जमालुद्दीन खाँ पूर्व प्रधान और  रशीद खाँ पूर्व प्रमुख जैसे चतुर राजनेताओं की वजह से जिन्होंने उत्तर मोहल्ला (जामा मस्जिद पर) के कुछ लोगों को उकसाया और पंचायत करके इस प्रकरण में शाहजहां अंसारी के सम्मलित न होने के बावजूद भी और सिर्फ शक के आधार पर उनका नाम घसीटा गया और उनको लक्ष्य बनाया। बाद में एक इज़्ज़तदार खातून को मोहरा बनाकर उससे हर जगह झूठा गवाही दिलवाई और ३१ दिन बाद झूठा मुक़दमा करने  में सफल रहे।  हाजी बादशाह अंसारी जो कि स्वास्थ्य ठीक न होने की वजह से पिछले ५ वर्षों से बिस्तर पर है और चल -फिर नहीं सकते हैं, उनके साथ भी इन बदमाशों ने घर में खुलकर गाली गलोज की, शाहजहां अंसारी की माँ जो बीमार रहती हैं, उनके साथ भी अभद्र व्यवहार किया गया और यदि वह वहां से हटती नहीं तो उनको भी बदमाशों के धक्का मुक्की करने से चोट आ सकती थी. इतना ही नहीं लगभग ३0-४० लोग जो घर में घुस आये थे शाहजहां अंसारी को घसीटते हुए बाहर ले गए और इतना पीटा की वो बेचारा मौके पर ही बेहोश हो गया और सर में, सीने में और कमर में काफी गंभीर छोटे आयी हैं जिसका इलाज अभी भी चल रहा है. यदि गांव वालों का विश्वाश किया जाये तो जमालुद्दीन खां और रशीद प्रमुख का मूल षड़यंत्र ये था कि शाहजहां अंसारी को रेलवे स्टेशन पर लिटा दिया जाये और ट्रैन के आने से इसकी मौत हो जाये। इसी को अंजाम देने के लिए ये लोग शाहजहां अंसारी के बेहोश होने के बावजूद भी खटिया पर लाद कर जमालुद्दीन खां के दुवारे में ले गए और ट्रैन आने का इंतज़ार करने लगे. लेकिन वही पर पुलिस के समय पर आ जाने से और तत्काल एम्बुलेंस द्वारा भदौरा सरकारी अस्पताल में भर्ती होने और फिर गाज़ीपुर सिटी हॉस्पिटल रेफर होने की वजह से शाहजहां अंसारी की जान बचायी जा सकी. इस घटना क्रम में पुलिस का कार्य काफी सराहनीय रहा और पुलिस के समय पर आने से बड़ी अनहोनी घटना को टाला जा सका. 
इस घटना से पहले कुछ खास घटना क्रम जो इस बड़ी साजिश की तरफ इशारा करता हैं:
१)  शाहजहां अंसारी के ऊपर लांछन लगा कर झूठे केस में फ़साने की पूर्व  में भी जमालुद्दीन खां की महत्वपूर्ण भूमिका रही है . इसलिए इस बार कोई आश्चर्य नहीं है इनकी भूमिका पर और साजिश में बढ़ जढ़कर कर हिस्सा लेने पर.  
२) महिला के साथ छिनताई की घटना में ४-५ लोगों का नाम उछाल रहा था जिसमे इरफ़ान खान और शाहनवाज़ खान का नाम मुख्य रूप से था लेकिन जब इन लोगों ने महिला से थाने में तहरीर दिलवाई तो कुछ पठानों का नाम निकाल दिया और शाहजहां अंसारी को मुख्य अभियुक्त बनाया ताकि जो एफ.आई.आर शाहजहां अंसारी ने करवाया है इनके खिलाफ उसको क्रॉस एफ.आई.आर करके  कमज़ोर किया जा सके.    
३) इन लोगों ने खाप पंचायत बुलाकर शाहजहाँ अंसारी की आड़ में बड़ी घटना को घर में घुसकर अंजाम दिया और बूढ़े माता पिता और घर की महिलाओं  के  साथ अभद्र भेवहार किया और ये ही नहीं घर की औरतों को भद्दी-भद्दी गाली दी.  अपाहिज पिता को भी बुरी-बुरी गलियां दी. इनलोगों ने उससे बड़ा अपराध किया। 
४) अंसारी परिवार की रेलवे स्टेशन वाली ज़मीन विवाद में भी जमालुद्दीन खां ने इनाम खान को उकसाया और उसको हाई कोर्ट से स्टे दिलवाने में भारी मदद की ताकि वज़ीर अंसारी का स्कूल बनाने का सपना चूर हो जाये और कार्य रुक जाये और वही हुआ। रातो रात इनको स्टे मिल गया और एक अच्छा कार्य होने से रह गया जिससे गांव के भविष्य को भरी नुकसान हुआ. अन्यथा अंसारी परिवार की गांव के लोगों के लिए एक अच्छा स्कूल बनाने की योजना थी. 
५) श्री वज़ीर अंसारी का नाम कुछ लोग जैसे शमशाद खान नेता (उत्तर मोहल्ला, उसिया) और मोहम्मद एकराम खान (दखिन मोहल्ला, उसिया) फेसबुक पर उनका फोटो लगा कर लोगों से सलाह मांग रहे थे की श्री वज़ीर अंसारी को कौन सी पार्टी ज्वाइन करनी चाहिए। जब उनसे पूछा गया इसबारे में तो इनको इसकी कोई जानकारी नहीं थी. इससे मालूम चलता है की ये लोग जान बुझ कर इनका नाम उछाल रहे थे और जो नेता कमसार में बरसो से जमे हुए है उनको ये डर सताने लगा था की कहीं ये नौकरी से रिटायरमेंट के बाद गांव पर आ गए और किसी राजनीति पार्टी में शामिल हो गए तो इनकी अच्छी छवि होने की वजह से इन सारे जमे जमाये नेताओं की दुकाने बंद हो जाएगी. 
६) महिला के साथ घटना १९ अगस्त को हुई थी, लेकिन इन लोगों ने ६ दिन तक इंतज़ार किया और हमला २५ अगस्त को किया। ऐसा प्रतीत होता है की मामला कुछ और था अन्यथा पठान ६ दिन तक इंतज़ार नहीं करते किसी को पीटने के लिए. महिला के साथ घटना होने के ६ दिन के बाद इन लोगों ने शाहजहां अंसारी पर योजनाबद तरीके से ४०-५० लोगों के

७) शाजहाँ अंसारी पर घर में घुसकर जानलेवा हमला करने से एक हफ्ते पहले ही उसिया सैफन पर हारुन  खान और उसके बेटों ने (जामा मस्जिद पर) ने अंसारी परिवार की जमीन पर कब्ज़ा करने का प्रयत्न किया था जिसपर शाहजहां अंसारी ने आपत्ति किया तो इनलोगों ने गाली गलोज और हाथापाई की. इन लोगों ने कई बार जिसमे  रियाजुल खान (लकड़ी वाला) भी  शामिल है, रास्ते में आते-जाते शाहजहां अंसारी को धमकी दी थी कि तुमको किसी दिन हम लोग बहुत मारेंगे, और वही हुआ. शाहजहां अंसारी पर २५ अगस्त के हमले में हारुन  खान और उसके दोनों लड़के सद्दाम और अफजाल खान भी शामिल थे जिससे इस बड़ी शाजिश कर पता चलता है.
८) घटना के ३१ दिन के बाद इन लोगों ने ज़मानिया सी.ओ. पर दबाव बनाकर क्रॉस FIR करने में सफल रहे ताकि इनपर जो शाहजहां अंसारी पर जान से मारने के लिए ३०७ का मुक़दमा लगा है उसको कमज़ोर किया जा सके और परिवार पर दबाव बनाया जा सके.

इन तथ्यों को देखते हुए अब गांव की जनता को निश्चित करना है की ऐसे गुंडा तत्वों को भविष्य में कैसे सबक सिखाना है, ऐसा आज अंसारी परिवार के साथ हुआ है, कल को किसी और के साथ भी हो सकता है. लोग आपके घर में घुसकर गुंडागर्दी कर सकते हैं, कानून को अपने हाथ में लेकर कुछ भी अपराध कर सकते हैं. ऐसे में पुरे समाज को बैठकर ऐसे बदमाश तत्वों और आपराधिक छवि की लोगों द्वारा पंचायत का गलत इस्तेमाल पर लगाम कसने की जरूरत है और साथ ही साथ पुलिस और न्यायालय को ऐसे संगीन जुर्म को नज़र अंदाज़ नहीं करकर उचित कार्यवाही करते हुए इस गुंडागर्दी में शामिल सारे नामजद आरोपियों को अविलम्ब जेल भेजना चाहिए।

 


नेपाल कें ओली सरकार ने सबसे बडे हाईड्रो प्राजेक्ट  चीन को देकर  भारत के साथ फिर से धोखा किया

नेपाल कें ओली सरकार ने सबसे बडे हाईड्रो प्राजेक्ट चीन को देकर भारत के साथ फिर से धोखा किया

24-Sep-2018

काठमांडू, {राजु लामा नेपाल } भारत से सुधरते रिस्ते कों नेपाल कें प्रधानमंत्री ने फिर से ब्रेक लगा दिया हैं । यही प्रधानमंत्री हे जिसके पहेली कार्यकाल में नेपाल कों भारत ने अघोषित नाकाबन्दी लगाया था । मगर कुछ बक्त गुजरने कें बाद बर्तमान प्रधानमंत्री केपी ओली ने भारत कें साथ रिस्ते कों नई आयाम दिया था । नेपाल कें ही  नेतृत्व में बिम्सटेक राष्ट्रों की सम्मेलन भी नेपाल ने काठमांडू मे आयोजित किया था । मगर बिम्सटेक सम्मेलन के कुछ ही दिनों बाद भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान में बिम्सटेक राष्ट्रों की संयुक्त सैन्य अभ्यास में नेपाल की और से सहभागिता नही जनाई बल्कि बद्ले मे चीन के साथ उसने संयुक्त सैन्य अभ्यास करने को मन्जुरी दे दिई गयी । 
यें नेपाल के बर्तमान प्रधानमंत्री केपी ओली के ही कडे निर्देशन मे हुवा हैं । बिम्सटेक राष्ट्राें की सहभागिता में भारत कें पुणे में हुई सैन्य संयुक्त अभ्यास कों ना मञ्जुरी देने में ओली के ही हात रहाँ था । भारत सरकार और भारतीय सेना ने ये निर्णय कों बडी शब्दो में नेपाल की निंदा और आलोचना किया था  । इसी कदम सें कुछ समय से नेपाल और भारत के बीच में सुधरते सम्बंधो में नेपाल के ही प्रधानमंत्री केपी ओली कें और से दरार पैदा कर दिया हैं । 
अब नेपाल इस मे ही नही रुकी नेपाल कें उर्जा मंत्रालय ने नचाहते हुये प्रधानमंत्री केपी ओली ने नेपाल के सबसे बढी हाईड्रो प्रोजेक्ट बुढी गण्डकी हाईड्रो प्रजेक्ट की चाँबी चीन कों दे दिया है । ओली के सिधे और कडे निर्देशन में चीनी कम्पनी गेजुवा कों ये प्रोजेक्ट देने के बाद नेपाल और भारत के बीच में रिस्ते में फिर दरार खडा करने की संभावना बढ् गई  हैं क्युकि भारत ने भी इस प्रोजेक्ट कों अप्ने और से बनाने का प्रस्ताव नेपाल कों किया था मगर नेपाल कें प्रधानमंत्री केपी ओली ने भारत कों इस प्रोजेक्ट नदेते हुये चीन को दे दिया हैं । 
इस से नेपाल और भारत कें बीच मे फिर से संबधो में समस्या आने की संभावना दिखाई दिया हैं । नेपाल कें प्रधानमंत्री जित्ने भी भारत से संबंध सुधारने की बात करते हें वो भारत कें खिलाफ में काम करते आये हें इस से ये साबित होता हें की केपी ओली भारत कों चकलेट दिखा के चक्मा देने मे माहिर नजर आ रही हैं । इस से नेपाल और भारत के बीच में चल रही सदियौं पुरानी रिस्ते और दोस्ती में भबिष्य में बडा दरार पैदा होती नजर आ रही हैं ।

 


अमेरिका ने भारत से कहा- रूस से खरीदा मिसाइल तो लगेगा प्रतिबन्ध

अमेरिका ने भारत से कहा- रूस से खरीदा मिसाइल तो लगेगा प्रतिबन्ध

22-Sep-2018

मीडिया रिपोर्ट 

भारत के रूस के साथ होने वाले सैन्य समझौतों पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने तेवर कड़े कर लिए हैं। चीन पर प्रतिबंध लगाने के बाद ट्रंप प्रशासन ने अब धमकी दी है कि वह अगर भारत ने रूस के साथ एस-400 डील की तो उस पर भी बैन लगाया जा सकता है। दरअसल भारत अरबों डॉलर खर्च कर रूस से S-400 ट्रायम्फ मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम्स खरीदने के आखिरी चरण में पहुंच चुका है। इससे पहले भी अमेरिका ने भारत को इस सौदे पर चेतावनी दी थी, लेकिन भारत ने उसे नजरअंदाज कर दिया था। अब अमेरिकी प्रशासन ने कहा है कि वह इस सौदे को ‘अहम सौदा’ मानेगा। इसके कारण भारत पर प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है।

अमेरिका पहले ही कह चुका है कि भारत रूस से ये डील न करे और एयर डिफेंस सिस्टम न खरीदे। कहा जा रहा है कि ट्रंप ने उन आदेशों पर साइन कर दिए हैं, जिसके कारण उन देशों पर प्रतिबंध लगाया जा सकेगा, जो काउंटरिंग अमेरिका एडवर्सिरीज थ्रो सेंक्शन एक्ट (CAATSA) का उल्लंघन करेगा। इसी का पालन करते हुए अमेरिका ने चीन पर भी प्रतिबंध जड़ दिए हैं। इस कानून के तहत अमेरिका, ईरान, उत्तर कोरिया और रूस पर भी प्रतिबंध लगा चुका है। रक्षा विशेषज्ञ के अनुसार, S-400 सिस्टम का इस्तेमाल न सिर्फ अमेरिका के F-35s से जुड़े रेडार ट्रैक्स की पहचान करने में किया जा सकता है बल्कि इससे F-35 के कॉन्फिगरेशन का भी ठीक-ठीक पता लगाया जा सकता है। माना जा रहा है कि F-35 लाइटनिंग 2 जैसे अमेरिकी एयक्राफ्ट में स्टील्थ के सभी फीचर्स नहीं हैं।


डीजे के तेज आवाज में दबी 4 युवकों की आवाजें, गणपति विसर्जन के दौरान डूबे, 1 की मौत

डीजे के तेज आवाज में दबी 4 युवकों की आवाजें, गणपति विसर्जन के दौरान डूबे, 1 की मौत

20-Sep-2018

मीडिया रिपोर्ट 

लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ में गणपति विसर्जन करने के लिए गए चार युवक बुधवार शाम को नदी में डूब गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद गोताखोरों ने मौके पर पहुंचकर एक युवक के शव को बाहर निकाला है, जबकि तीन युवक अभी भी लापता हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। जानकारी के अनुसार एक युवक हरदोई बाईपास स्थित घैला पुल के पास गणपति विसर्जन करने के दौरान डूब गया है, जिसका अभी तक पता नहीं चल सका है। 

जानकारी के अनुसार खदरा में गणेश पूजा के बाद लोग शाम को पांच बजे गणपति विसर्जन करने के लिए शिवनगर बंधे के पास गोमती न दी में गए थे। इस दौरान गणेश जी की भारी मूर्ति को नदी में विसर्जित करने के लिए कुछ युवक पानी में उतरे और बाकी किनारे से ही मूर्ति को धक्का दे रहे थे। तभी मूर्ति अचानक से पानी में गिरी और एक युवक उसके नीचे दब गया। लेकिन डीजे की तेज आवाज की वजह से युवक की चीख नहीं सुनाई दी। लेकिन कुछ देर बाद जब युवक की तलाश शुरू हुई तो जानकारी मिली की वह लापता है। 

मूर्ति विसर्जन में राजा निषाद, राहुल, नरेंद्र और विशाल पानी में डूब गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस की टीम को यहां पहुंचने में 2 घंटे लग गए। किसी तरह से गोताखोरो ने विशाल के शव को तलाश कर बाहर निकाला और उसे ट्रॉमा सेंटर भेजा गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं इस पूरी घटना के बारे में पुलिस का कहना है कि हम युवकों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं। 


चोर को पकड़ने गई क्राइम ब्रांच की टीम ही बन गई बंधक, ग्रामीणों ने बनाया बंधक

चोर को पकड़ने गई क्राइम ब्रांच की टीम ही बन गई बंधक, ग्रामीणों ने बनाया बंधक

20-Sep-2018

एजेंसी 

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में चोरी के आरोपी को पकड़ने गई क्राइम ब्रांच की टीम को ग्रामीणों ने बंधक बना लिया। इस घटना का पता चलते ही पुरानी छावनी थाने के साथ ही अन्य थानों के पुलिस बल घटनास्थल पर पहुंच गए और गांव की घेराबंदी कर दी। ग्रामीणों को जैसे ही पता चला की पुलिस ने गांव की घेराबंदी कर दी है गाव वालों ने क्राइम ब्रांच के जवानों को मुक्त कर दिया। 

क्राइम ब्रांच की टीम बुधवार की सुबह साल 2017 में हुई चोरी के संदेही को पकड़ने के लिए पुरानी छावनी थाना क्षेत्र के खालसा गांव में गई थी। क्राइम ब्रांच को एएसआई सत्यवीर सिंह लीड कर रहे थे। गांव में पहुंची टीम ने आरोपी की घेराबंदी भी कर ली लेकिन टीम आरोपी को दबोचकर गांव से बाहर निकलती इससे पहले ही ग्रामीणों ने क्राइम ब्रांच को घेर लिया और बंधक बना लिया।  घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी तत्काल सक्रिय हुई और गांव की घेराबंदी कर ली। पुरानी छावनी और रिठौरा थाना पुलिस के साथ ही अन्य थानों के पुलिस बल ने एक साथ गांव में दबिश दी। पुलिस घेराबंदी का पता चलते ही ग्रामीण घबरा गए और पुलिस ने क्राइम ब्रांच टीम को मुक्त करा लिया। पुलिस ने गांव से एक आरोपी को भी पकड़ा है और उससे पूछताछ की जा रही है। 


AMAZON पर आरएसएस बेचेगा गौ-मूत्र से बने साबुन और टूथपेस्ट

AMAZON पर आरएसएस बेचेगा गौ-मूत्र से बने साबुन और टूथपेस्ट

19-Sep-2018

मीडिया रिपोर्ट 

नई दिल्ली। यदि आप उन लोगों में से हैं जो गाय के मूत्र और गोबर से बने उत्पादों का उपयोग करते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। अक्टूबर से ये सारे उत्पाद आपकी उंगली की एक टच पर उपलब्ध होंगे। राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ समर्थित एक फॉर्मेसी ऐसे दर्जनों नेचुरल कॉस्‍मेटिक प्रॉडक्‍टों और दवाओं को ऑनलाइन शॉपिंग साइट आमेजन पर लाने जा रही है। पोर्टल पर बेचे जाने वाला सारा सामान आरएसएस की अपनी लैब में ही तैयार किया जाएगा जो उत्तर प्रदेश के मथुरा में स्थित है। 

लोगों के पास गौ-मूत्र और गोबर के उत्पादों के अलावा खरीद के कई और विकल्प भी आरएसएस मुहैया करा रही है। अमेजन की वेबसाइट पर योगी और मोदी स्टाइल के कुर्ते भी उपलब्ध होंगे। मथुरा में आरएसएस की ओर से चलाए जा रहा दीन दयाल धाम शुरू में 30 सामानों को ऑनलाइन बेचेगा। इनमें पर्सनल केयर से लेकर चिकित्‍सा संबंधी प्रॉडक्‍ट जैसे कामधेनु अर्क शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक इस प्रॉडक्ट्स में लोगों को कैंसर, डायबिटीज की दवाएं, सौंदर्य उत्पाद जिसमें चेहरे पर लगाने वाले फेसपैक और नहाने के साबुन शामिल हैं। 

इसके अलावा दीन दयाल धाम 10 तरह के कपड़े भी ऑनलाइन बेचेगा। इनमें योगी और मोदी स्टाइल के कुर्तों को प्रमुख तौर पर शामिल किया गया है। ऑनलाइन पोर्टल में इन सब चीजों को बेचे जाने पर संघ के प्रवक्ता अरुण कुमार ने कहा, इस ऑनलाइन पोर्टल को शुरू करने के पीछे का असली मकसद स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर देना है। उन्होंने कहा, अगर ये ऑनलाइन पोर्टल लोगों के बीच लोकप्रिय होता है तो इससे रोजगार में बढ़ोतरी होगी। धाम हर माह एक लाख रुपये का पर्सनल केयर और तीन लाख रुपये के कपड़े बेचता है। 

अरुण कुमार ने बताया कि गोमूत्र और सौंफ से बनने वाले कामधेनू अर्क के अलावा कामधेनू गोशाला फॉर्मेसी घनवटी, कामधेनू मधुनाशक चूर्ण, शूलहार तेल, सैंपू, नहाने का साबुन, फेसपैक, टूथपेस्‍ट बनाती है। गुप्‍ता ने बताया कि साबुन और फेसपैक गोमूत्र और गाय के गोबर से बनाए गए हैं और इसमें किसी सिंथेटिक कैमिकल का इस्‍तेमाल नहीं किया गया है। उन्‍होंने बताया कि धाम में तैयार सारे प्रॉडक्‍ट के दाम 10 रुपये से लेकर 220 रुपये के बीच हैं। 


RTI से खुलासा- नोटबंदी के दौरान नेताओं की अध्‍यक्षता वाले सहकारी बैंकों में बदले गए सबसे ज्यादा पुराने नोट

RTI से खुलासा- नोटबंदी के दौरान नेताओं की अध्‍यक्षता वाले सहकारी बैंकों में बदले गए सबसे ज्यादा पुराने नोट

18-Sep-2018

दिल्ली : भ्रष्टाचार और कालेधन पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार ने नोटबंदी की घोषणा की, लेकिन इससे न तो भ्रष्टाचार कम हुआ और न ही कालेधन पर लगाम लगी। एक आरटीआई में  हुए खुलासे से पता चला है कि देश के 10 केंद्रीय सहकारी बैंकों में सबसे ज्यादा नोट बदले गए हैं और उन सभी बैंकों में शीर्ष पदों पर भाजपा, कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना तक के नेता शामिल हैं।

जानकारी के मुताबिक, देश के 370 जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों में नोटबंदी के दो दिन बाद यानी 10 नवंबर, 2016 से 31 दिसंबर तक 500 और 1 हजार के पुराने नोट 22.270 करोड़ रुपए नए नोटों से बदले गए थे। जिन सहकारी बैंको में इन पैसों को बदला गया, उसमें से चार गुजरात में स्थित हैं तो चार महाराष्ट्र में, जबकि एक कर्नाटक और एक हिमाचल में है। 18.82 फीसदी राशि इन बैंकों में जमा कराई गई है। यह जानकारी सूचना के अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के तहत इंडियन एक्सप्रेस ने दी है।

इन बैंकों में जमा कराए गए पुराने नोट

जिस सहकारी बैंक में सबसे ज्यादा 745.59 करोड़ रुपए के पुराने नोट जमा किए गए हैं, वो गुजरात के अहमदाबाद का जिला सहकारी बैंक है, जिसके निदेशक बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और अजयभाई एच पटेल हैं।
राजकोट का जिला सहकारी बैंक पुराने नोट जमा करवाने में दूसरे नंबर पर है, जिसमें 693.19 करोड़ रुपए जमा कराए गए, जिसके अध्यक्ष हैं बीजेपी नेता जयेशभाई राडियाडिया।

तीसरे नंबर पर है पुणे का जिला केंद्रीय सहकारी बैंक, जिसमें 551.62 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदलवाए गए हैं। इस बैंक के अध्यक्ष हैं एनसीपी के पूर्व विधायक रमेश थोराट। इस बैंक की उपाध्यक्ष कांग्रेस की नेता अर्चना गारे हैं।

चौथे नंबर पर कांगड़ा जिला केंद्रीय सहकारी बैंक है, जिसमें 543.11 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदलवाए गए हैं। इस बैंक के अध्यक्ष कांग्रेस नेता जगदीश पहेलिया हैं।

सबसे ज्यादा पुराने नोट बदलवाने की सूची में पांचवें नंबर पर है सूरत का जिला सहकारी बैंक, जिसमें 269.85 करोड़ रुपए बदले गए हैं। इस बैंक के अध्यक्ष हैं भाजपा नेता नरेशभाई भिखाभाई पटेल।

छठे नंबर पर है सबरकंठा का जिला केंद्रीय सहकारी बैंक जहां 328.5 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदले गए हैं। इस बैंक के अध्यक्ष हैं बीजेपी के नेता महेशभाई अमितचंदभआई पटेल।

सातवें नंबर पर है साउठ केनार जिला सहकारी बैंक, जिसमें 327.81 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदले गए हैं और इसके अध्यक्ष हैं कांग्रेस के नेता एमएन राजेंद्र कुमार।

आठवें नंबर पर नासिक का जिला केंद्रीय सहकारी बैंक है, जिसमें 319.68 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदले गए हैं। इस बैंक के अध्यक्ष हैं शिवसेना के नेता रेंद्र दारडे।

नौवें नंबर पर सतारा जिला का केंद्रीय सहकारी बैंक है, जिसमें 312.04 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदले गए थे। इस बैंक के अध्यक्ष हैं रांकपा नेता छत्रपति शिवेंद्र सिंह राजे।

10वें नंबर पर है सांगली जिला का सहकारी बैंक, जिसमें 301.08 करोड़ रुपए के पुराने नोट बदले गए हैं। इस बैंक के उपाध्यक्ष हैं भाजपा नेता संग्राम सिंह समपत्रो देशमुख।