बीएसएफ के खराब खाने का वीडियो बनाकर चर्चा में आए तेज बहादुर यादव के बेटे ने रिवाल्वर से खुद को मारी गोली

बीएसएफ के खराब खाने का वीडियो बनाकर चर्चा में आए तेज बहादुर यादव के बेटे ने रिवाल्वर से खुद को मारी गोली

18-Jan-2019

नई दिल्ली : एजेंसियों से 

पतली दाल और जली हुई रोटी का वीडियो फेसबुक पर अपलोड करके चर्चा में आने वाले बीएसएफ के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव के बेटे ने आत्महत्या कर ली है. तेज बहादुर यादव के बेटे ने अपने पिता की लाइसेंसी रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली. घटना के समय तेज बहादुर यादव घर पर नहीं थे. घटना की जानकारी मिलने के बाद स्थानीय पुलिस और एफएसएल की टीम मौके पर पहुंची और मामले की तफ्तीश की.

जानकारी के मुताबिक तेज बहादुर यादव का बेटा रोहित कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय में बीएससी द्वितीय वर्ष का छात्र था. इन दिनों तेज बहादुर यादव उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में हो रहे कुंभ में स्नान करने के लिए गए हुए हैं. शुरुआती जांच में यह आत्महत्या का मामला लग रहा है. पुलिस घरवालों से जानकारी ले रही है कि क्या मृतक किसी तरह के तनाव से गुजर रहा था. घटना के वक्त मृतक घर में अकेला था. मृतक की मां नौकरी के लिए घर से बाहर गई हुई थी. उसने घर आकर बेटे के कमरे का दरवाजा खटखटाया तो अंदर से कोई आवाज नहीं आई.

इसके बाद मृतक की मां ने पड़ोसियों को बताया तो लोग दरवाजा तोड़कर अंदर दाखिल हुए. कमरे में तेज बहादुर के बेटे का शव खून से लथपथ पड़ा हुआ था. इसके बाद सभी लोगों ने पुलिस को मामले की जानकारी दी. पुलिस फिलहाल इस मामले की सभी पहलुओं से जांच कर रही है. मृतक के घरवालों ने मौत में साजिश की आशंका जताई है.


दूसरे पार्टियों से 12 गुना ज्यादा बीजेपी को मिला चंदा

दूसरे पार्टियों से 12 गुना ज्यादा बीजेपी को मिला चंदा

17-Jan-2019

नई दिल्ली : केन्द्र की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को पिछले वित्त वर्ष में अन्य राष्ट्रीय पार्टियों के मुकाबले 12 गुना ज्यादा यानि 437 करोड़ रूपये से अधिक राजनीतिक चंदा मिला। बुधवार को चुनाव से जुड़े एक विचार मंच द्वारा जारी रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है। बीजेपी और कांग्रेस को सबसे अधिक चंदा ‘‘प्रूडेंट इलैक्टोरल ट्रस्ट ’’ की ओर से मिला। यह बड़े कारपोरेट घरानों द्वारा समर्थित कंपनी है जिसमें परिसंपत्ति और टेलीकाम सेक्टर से जुड़ी बड़ी कंपनियां शामिल हैं। एसोसिएशन फोर डेमोक्रेटिक रिफोर्म्स (एडीआर) ने अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी है।

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रूडेंट इलैक्टोरल ट्रस्ट ने बीजेपी और कांग्रेस को मिलाकर कुल 164.30 करोड़ रूपये का चंदा दिया। इसमें से बीजेपी को 154.30 करोड़ मिला जो कि उसे मिले कुल चंदे का 35 फीसदी है। कांग्रेस के हिस्से में दस करोड़ रूपया आया जो कि उसे मिले कुल धन का 38 फीसदी है। राष्ट्रीय दलों द्वारा घोषित 20 हजार रूपये से अधिक के चंदे में वर्ष 2017.18 के लिए राष्ट्रीय दलों ने 469.89 करोड़ रूपया मिलने की घोषणा की है। इसमें से ज्यादातर हिस्सा 437.04 करोड़ रूपया बीजेपी के खाते में गया जबकि कांग्रेस को 26.65 करोड़ रूपया मिला।

एडीआर ने एक बयान में बताया, ‘बीजेपी ने अपने जिस चंदे की घोषणा की है वह कांग्रेस, राकांपा, भाकपा, माकपा और तृणमूल कांग्रेस द्वारा इसी अवधि में घोषित कुल चंदे से 12 गुना अधिक है।’ बयान में बताया गया है कि राष्ट्रीय दलों को करीब 90 फीसदी चंदा कोरपोरेट घरानों से और बाकी 10 फीसदी लोगों से मिला। कोरपोरेट घरानों और कारोबारियों ने साल 2017.18 में बीजेपी को 400.23 करोड़ रूपये राजनीतिक चंदे के रूप में दिए जबकि कांग्रेस को केवल 19.29 करोड़ रूपया ही मिला। इस बीच, बहुजन समाज पार्टी ने ऐलान किया है कि इस अवधि में उसे 20 हजार रूपये से अधिक कोई चंदा नहीं मिला। बसपा पिछले 12 साल से हर साल यही घोषणा करती आ रही है। दिल्ली स्थित विचार मंच ने यह जानकारी दी है।

दलों को मिले राजनीतिक चंदे में से दिल्ली से पार्टियों को 208. 56 करोड़ रूपया मिला तो वहीं महाराष्ट्र से 71.93 करोड़ और गुजरात से 44.02 करोड़ रूपया मिला। एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कुल चंदे में से 42.60 करोड़ रूपये यानि करीब 9.07 फीसदी राशि का अधूरी सूचना के कारण, पता नहीं चल सका कि यह किस राज्य से आया है।


Punjab : AAP विधायक मास्टर बलदेव ने दिया इस्तीफा

Punjab : AAP विधायक मास्टर बलदेव ने दिया इस्तीफा

16-Jan-2019

पंजाब : एजेंसी 

पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) को एक और झटका लगा है। पंजाब के जैतो विधानसभा क्षेत्र से आप विधायक मास्टर बलदेव ने आम आदमी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि इससे पहले एचएस फूलका और सुखपाल सिंह खैहरा ने आप से इस्‍तीफा दे दिया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मास्टर बलदेव ने ई-मेल के जरिये आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्‍ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस्तीफा भेजा है। मास्टर बलदेव का आरोप है कि अरविंद केजरीवाल सिर्फ दलित कार्ड का केवल इस्तेमाल करते हैं।

पार्टी छोड़ने के साथ खैरा ने आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा था। खैरा ने केजरीवाल को एक पत्र लिखकर कहा था कि पार्टी उस विचारधारा और सिद्धांतों से पूरी तरह से भटक गई है, जिस पर अन्ना हजारे आंदोलन के बाद इसका गठन हुआ था।


लोकसभा चुनाव : यूपी में अखिलेश-मायावती ने दिया 38-38 सीटों का फॉर्मूला

लोकसभा चुनाव : यूपी में अखिलेश-मायावती ने दिया 38-38 सीटों का फॉर्मूला

12-Jan-2019

एजेंसी 

लखनऊ : समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने आज साझा प्रेस काफ्रेंस की. इसमें मायावती ने ऐलान किया कि उत्‍तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से 38 पर बसपा और 38 पर सपा लड़ेगी. साथ ही 2 सीटें अन्‍‍‍य पार्टियों के लिए रिजर्व रखी गई हैं. इसके अलावा अमेठी और रायबरेली की 2 सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ दी हैं. 

मायावती ने कहा है कि अमेठी और रायबरेली की लोकसभा सीट कांग्रेस के साथ गठबंधन किए बिना ही पार्टी (कांग्रेस) के लिए छोड़ दी हैं. ताकि बीजेपी के लोग कांग्रेस अध्यक्ष को य‍हीं उल्‍झा कर ना रख सकें. वहीं सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी की सरकार ने यूपी में जातिवादी सरकार बनाकर रख दिया है. 

कांग्रेस और बीजेपी पर हमला
मायावती ने कहा '25 साल बाद सपा और बसपा का गठबंधन बना है. आज यह प्रेस कांफ्रेंस पीएम मोदी और अमित शाह की नींद उड़ाएगी.' उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर प्रदेश की जनता बीजेपी से त्रस्‍त आ गई है. इसलिए हमने गठबंधन कर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है. जिससे किसी भी कीमत पर बीजेपी को केंद्र या राज्‍य की सत्‍ता पर आने से रोका जा सके.' उन्‍‍‍‍‍‍‍होंनेे कहा कि कांग्रेस के समय घोषित इमरजेंसी लगी थी, जबकि BJP के राज में अघोषित इमरजेंसी लगी हुई है. उन्‍होंंने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन केंद्र में BJP को नहीं आने देगा.

कांग्रेस गठबंधन से बाहर
मायावती ने कांग्रेस को शामिल न करने पर कहा 'हमने गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किया है. कांग्रेस पार्टी को हम जैसी पार्टियों से अच्‍छा फायदा मिलता है, लेकिन हम जैसी ईमानदार पार्टिेयों को इसका लाभ नहीं मिल पाता. हमारा वोट प्रतिशत कम हो जाता है. वोट ट्रांसफर हो जाता है. हमारी पार्टी कांग्रेस पार्टी की तरह किसी भी अन्‍य, ऐसी पार्टी से मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी जिससे हमारा नुकसान हो.' 

मायावती जी का अपमान मेरा अपमान : अखिलेश
अखिलेश यादव ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी से अगर हमें दो कदम पीछे भी हटना पड़ेगा तो हम हटेंगे और बीजेपी को कड़ा जवाब देंगे. आदरणीय मायावती का सम्‍मान मेरा सम्‍मान है और अगर कोई भी मायावती जी का अपमान करता है तो वो मेरा अपमान होगा. हमें संयम और धैर्य से काम लेना है. बीजेपी के हर षड्यंत्र को बेकार करना है.

प्रेस कांफ्रेंस के लिए होटल पहुंचे अखिलेश यादव और मायावती एक-दूसरे से गर्मजोशी से मिले. दोनों ने एक-दूसरे को गुलदस्‍ता देकर स्‍वागत किया. हाल ही में दोनों दलों के नेताओं ने दिल्ली में मुलाकात कर लोकसभा चुनावों में महागठबंधन के स्वरूप पर चर्चा की थी.

उपचुनाव में मिली थी जीत
2014 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश की 80 सीटों में से भारतीय जनता पार्टी गठबंधन ने 73 सीटें जीती थीं और इस बार उसके नेता 73 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं. बसपा-सपा और रालोद ने साथ मिलकर उपचुनाव लड़ा था जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर सीट और उप मुख्यमंत्री की फूलपुर सीट से सपा प्रत्याशियों को जीत मिली थी. जबकि कैराना सीट पर रालोद प्रत्याशी ने भाजपा से यह सीट छीनी थी.

अखिलेश का वार
समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि सपा और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मिलकर लोकसभा चुनाव में जीत का परचम लहराएंगे. उन्होंने कहा कि पिछले साल लोकसभा उप-चुनाव में हम साथ आए तो प्रदेश के मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री की सीट पर भाजपा चुनाव हार गई. इस बार भी हमारा गणित सटीक बैठेगा और भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ेगा. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश शुक्रवार को कन्नौज में ई-चौपाल में लोगों को संबोधित कर रहे थे.


गौरी लंकेश के शूटर के एक ठिकाने से टूथब्रश से मैच हुआ आरोपी का डीएनए सैंपल

गौरी लंकेश के शूटर के एक ठिकाने से टूथब्रश से मैच हुआ आरोपी का डीएनए सैंपल

11-Jan-2019

5 सितंबर, 2017 को अपने घर पर पत्रकार गौरी लंकेश को गोली मारने के आरोपी परशुराम वाघमोर (26) के एक ठिकाने पर एक टूथब्रश से डीएनए मैच हुआ है जो मामले में दायर कर्नाटक एसआईटी आरोप पत्र में सबूतों के प्रमुख टुकड़ों में से एक है। वाघमोर का डीएनए प्रोफ़ाइल “समान है और डीएनए 376/2018 के आइटम नंबर 6 में भेजे गए टूथब्रश पर पाए गए कोशिकाओं के डीएनए प्रोफ़ाइल परिणाम के साथ मेल खाता है”, यह रिपोर्ट 16 नवंबर 2018 को कर्नाटक फॉरेंसिक साइंस के डीएनए अनुभाग से मिलती है। प्रयोगशाला, जो 18 लोगों के खिलाफ दायर 9,235 पृष्ठों की चार्जशीट का हिस्सा है।

श्री राम सेना के एक पूर्व कार्यकर्ता, वाघमोर, जिन्हें सनातन संस्था से जुड़े एक अति दक्षिणपंथी समूह द्वारा बंदूकों का उपयोग करने के लिए भर्ती किया गया और प्रशिक्षित किया गया था, की पहचान एसआईटी ने उस व्यक्ति के रूप में की है जिसने लंकेश को गोली मारी थी। वाघमोर के डीएनए वाला टूथब्रश एक संदिग्ध व्यक्ति की हत्या के बाद डंप की गई सामग्री के बीच था – एक इमारत के ठेकेदार एच एल सुरेश, जिनके घर का इस्तेमाल हत्या की योजना बनाने और उसे अंजाम देने के लिए किया जाता था।

हिंदू जनजागृति समिति (HJS) के एक कार्यकर्ता – सुरेश की गिरफ्तारी के बाद एसआईटी ने अगस्त 2018 में नकली वाहन नंबर प्लेट जैसे टूथब्रश, कपड़े और अन्य सामग्री से भरा एक बैग बरामद किया था- जिसे कथित रूप से डिस्पोजल सामग्री के साथ छिपाकर पीछे छोड़ दिया गया था। एसआईटी ने हत्या के कथित मास्टरमाइंड अमोल काले (39), जो एचजेएस के पूर्व पुणे संयोजक हैं, के डीएनए प्रोफ़ाइल के साथ ठिकाने पर कंबल पर मिले बालों से मिले डीएनए स्ट्रैंड्स का भी मिलान किया है।

SIT ने गुजरात डायरेक्टोरेट ऑफ़ फॉरेंसिक साइंसेज की एक रिपोर्ट को भी हत्या के वीडियो फुटेज की तुलना में अदालत में रखा है, जो उसके घर पर एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है, शूटिंग के एक मनोरंजन के साथ जो जून 2018 में वाघमोर की गिरफ्तारी के बाद आयोजित किया गया था। गैट एनालिसिस रिपोर्ट बताती है कि वाघमोर की प्रोफाइल और तौर-तरीके लंकेश को गोलियों से भूनते हुए दिखाई देते हैं।

मुख्य संदिग्धों द्वारा कथित तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले मोबाइल फोन के कॉल डेटा रिपोर्ट (सीडीआर) का विश्लेषण भी एसआईटी ने आरोप पत्र में प्रस्तुत किए गए परिस्थितिजन्य सबूतों में से है। एसआईटी ने पाया है कि मुख्य संदिग्धों ने ऐसा प्रतीत करने का प्रयास किया कि वे हत्या के समय बेंगलुरु में नहीं थे, लेकिन अपने गृहनगर में या तो अपने फोन को घर पर छोड़ दिया था या उन्हें बंद कर दीया गया था।

वाघमोर को लंकेश के घर तक लाने वाले मोटरसाइकिल के सशस्त्र सवार होने के आरोपी गणेश मिस्किन (26) की सीडीआर विश्लेषण रिपोर्ट के अनुसार, उसका फोन, जो हुबली में था, के पास रात 6 सितंबर, 2017 को 1.24 बजे तक कोई इनकमिंग या आउटगोइंग कॉल नहीं थी। एसआईटी ने यह भी पाया कि हत्या को अंजाम देने के लिए मिस्किन 4 सितंबर और 5 सितंबर, 2017 को बेंगलुरु में था, जो 5 सितंबर को रात 8 बजे हुआ और वह बेंगलुरु से लगभग 350 किलोमीटर दूर हुबली लौटने के लिए बस में सवार हुआ।

सुरेश की छह साल की बेटी का सरकारी स्कूल में उपस्थिति रजिस्टर भी इस बात के प्रमाण के रूप में प्रस्तुत किया गया है कि उसने अपने परिवार को कुनिगल शहर में अपने घर भेजा था ताकि कथित हत्यारे उसके घर का इस्तेमाल कर सकें। स्कूल ने यह कहते हुए एक रिपोर्ट प्रदान की है कि सुरेश की बेटी 4 सितंबर से 9 सितंबर, 2017 तक अनुपस्थित थी, साथ ही 7 से 12 अगस्त और 17 से 20 जून, 2017 तक, जब हत्या की कुछ तैयारी कथित रूप से हुई थी।

एसआईटी ने चार्जशीट के बारे में एक आधिकारिक बयान में कहा “अब तक की जांच से पता चला है कि सभी 18 आरोपी एक संगठित अपराध सिंडिकेट के सक्रिय सदस्य हैं। यह सिंडिकेट वर्ष 2010-11 में डॉ वीरेंद्र तावड़े उर्फ ​​बडे भाईसाहब के नेतृत्व में बनाया गया था। सनातन प्रभात के एक पूर्व संपादक ने इस सिंडिकेट को वित्तीय सहायता प्रदान की”।

साभार : hindi.siasat.com


दक्षिण अफ्रीका दौरा बीच में ही छोड़कर घर लौटा पाकिस्तानी क्रिकेटर, कहा- मुझ पर काला जादू किया गया

दक्षिण अफ्रीका दौरा बीच में ही छोड़कर घर लौटा पाकिस्तानी क्रिकेटर, कहा- मुझ पर काला जादू किया गया

10-Jan-2019

एजेंसी 

पाकिस्तान के बल्लेबाज हैरिस सोहेल टीम के दौरे को बीच में ही छोड़कर घर लौट आए हैं। हैरिस ने वापस आने के लिए सनसनीखेज दावा किया है। पाक बल्लेबाज का कहना है कि उन पर काला जादू किया गया। जिसके चलते उन्हें साउथ अफ्रीका से लौटना पड़ा। सोहेल अब अपने घर सियालकोट में हैं। हालांकि सोहेल के दौरे से लौटने पर पहले कहा गया था कि घुटने में चोट के कारण यह फैसला लिया।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सोहेल ने काले जादू के डर के कारण दक्षिण अफ्रीका दौरे को बीच में छोड़कर स्वदेश लौटने का फैसला किया था। बाएं हाथ के बल्लेबाज सोहेल ने पाकिस्तान लौटने से पहले ‘काले जादू के डर’ में जानकारी दी और अपने शहर सियालकोट चले गए। हालांकि सोहेल ने रिहैबिलेटेशन कैंप जाने की बात कही थी। बताया जा रहा है कि, वह पहले टेस्ट में टीम में शामिल नहीं हो पाए थे और वह नेट्स से भी दूरी बनाए हुए थे। टीम मैनेजमेंट ने सोहेल की शिकायत और उनके तनाव में रहने की स्थिति के मद्देनजर कोई जानकारी न देने का फैसला किया था।

बता दें कि, ऐसा पहली बार नहीं है जब हैरिस सोहेल ने इस तरह का कोई दावा किया हो। इससे पहले साल 2015 में भी सोहेल ने कुछ ऐसा ही दावा किया था। न्यूजीलैंड दौरे पर गई पाकिस्तानी टीम शामिल रहे सोहेल ने दावा किया था कि जादुई शक्तियों के कारण वह होटल का कमरा बदलने के लिए मजबूर हो गए थे। हालांकि इस बार की तरफ 2015 में भी उन्हें दौरा छोड़ पाकिस्तान वापस लौटना पड़ा था। उस दौरान सोहेल के दावे पर विवाद भी छिड़ा था।


पंजाब यूनिवर्सिटी के भूविज्ञानी का दावा, भगवान ब्रह्मा ने डायनासोर को खोजा

पंजाब यूनिवर्सिटी के भूविज्ञानी का दावा, भगवान ब्रह्मा ने डायनासोर को खोजा

07-Jan-2019

नई दिल्ली। पंजाब यूनिवर्सिटी के एक भूविज्ञानी ने भगवान ब्रह्मा को ब्रह्मांड का सबसे महान वैज्ञानिक बताया है। इस भूविज्ञानी का कहना है कि भगवान ब्रह्मा डायनासोर के बारे में जानते थे और इसका उन्होंने उल्लेख वेदों में भी किया है। बता दें कि ये भूविज्ञानी करीब 25 सालों से भारत में डायनासोर की उत्पत्ति और उनकी मौजूदगी पर शोध कर रहे हैं। असिस्टेंट प्रोफेसर अंशु खोसला के अनुसार इस दुनिया की हर चीज के बारे में ब्रह्मांड निर्माता जानते हैं। 

भूविज्ञानी अंशु खोसला ने लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के 106वें भारतीय विज्ञान कांग्रेस में डेक्कन ट्रैप से संबंधित दृश्यों के बायोटिक असेंबलीज पर शोध पत्र पेश किया, उसी दौरान उन्होंने ये बातें भी कहीं। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई चीज दुनिया में नहीं जिसके बारे में ब्रह्मांड के निर्माता को जानकारी न हो। वे डायनासोर की उत्पत्ति और उनकी मौजूदगी के बारे में भी जानते थे। इसका उल्लेख उन्होंने वेदों में भी किया है। 

भूविज्ञानी ने कहा कि डायनासोर 6.5 करोड़ साल पहले ही विलुप्त हो गए थे लेकिन भगवान ब्रह्मा को आध्यात्मिक शक्तियों के जरिए उनके बारे में मालूम हो गया होगा। उन्होंने कहा कि डायनासोर ही नहीं, हर चीज की उत्पत्ति के बारे में वेदों में बताया गया है। डायनासोर शब्द की उत्पत्ति भी संस्कृत शब्द डिनो से हुई जिसका मतलब होता है भयानक और इसका अनुवाद डायन शब्द से किया गया। जबकि सोर का मतलब छिपकली होता है और जिसका संबंध असर (राक्षस) से होता है। 

इससे साफ होता है कि हर चीज का जिक्र वेदों में मौजूद है। अंशु खोसला ने कहा कि भगवान ब्रह्मा ने धरती पर किसी के जानने से डायनासोर की खोज की थी। उन्होंने कहा कि विलुप्त होने से पहले डायनासोर के प्रजनन और विकास का केंद्र भारत ही था। यहीं नहीं उन्होंने कहा कि ब्रिटिश और अमेरिकियों ने वेदों के जरिए ही डायनासोर के बारे में जाना और समझा। 

साभार : hindi.oneindia.com


ठांय-ठांय बोलकर बदमाशों को डराने वाले इंस्पेक्टर मनोज कुमार को दो बाइक सवारों ने मारी गोली

ठांय-ठांय बोलकर बदमाशों को डराने वाले इंस्पेक्टर मनोज कुमार को दो बाइक सवारों ने मारी गोली

05-Jan-2019

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के संभल में एक एन्काउंटर के दौरान अपराधियों को मुंह से 'ठांय-ठांय' बोलकर डराने की कोशिश में चर्चा में आए इन्सपेक्टर मनोज कुमार को दो बाइक सवार बदमाशों ने गोली मार दी है. संभल के एसपी यमुना प्रसाद ने बताया है कि दो बाइक सवारों ने इंस्पेक्टर मनोज कुमार की टीम पर फायरिंग कर दी जिसमें वह घायल हो गए हैं. वहीं जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश भी घायल हुआ और दूसरा भागने में कामयाब रहा. घायलों को अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया है. फिलहाल फरार हुए बदमाश को पकड़ने के लिए घेराबंदी शुरू कर दी गई है. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के संभल में मुठभेड़ के दौरान बदमाशों की पुलिस घेराबंदी कर चुकी थी, मगर जैसे ही फायरिंग की बारी आई, बंदूक ने धोखा दे दिया और फायरिंग नहीं हो पाई. मगर मुठभेड़ जैसी स्थित में पुलिस के सामने बदमाशों को डराने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं था, इसलिए ऐसी स्थिति देख इंस्पेक्टर मनोज कुमारने बदमाशों में दहशत पैदा करने के लिए बंदूक से फायरिंग के बदले मुंह से ही 'ठांय-ठांय' की आवाज निकालनी शुरू कर दी. 

हालांकि यह वीडियो सामने आने के बाद एएसपी का कहना था कि ' मारो और घेरो जैसे शब्दों का इस्तेमाल बदमाशों पर मानसिक दवाब पैदा करने के लिए किया गया. साथ ही उन्होंने कहा कि कार्ट्रिज के फंसने की वजह से रिवॉल्वर में तकनीकी खामी आ गई थी. 

साभार : NDTV से 


बीजेपी विधायक के विवादित बोल- जिन्हें भारत में डर लगता है उन पर बम गिरा दो

बीजेपी विधायक के विवादित बोल- जिन्हें भारत में डर लगता है उन पर बम गिरा दो

04-Jan-2019

दिल्ली 

विवादित बयानों की कड़ी में नया विवादित बयान सामने आया है बीजेपी विधायक का. उत्तर प्रदेश के खतौली विधानसभा सीट से बीजेपी के विधायक विक्रम सैनी ने भारत में असुरक्षित महसूस करने वालों को बम से उड़ा देने की बात कही है. हाल ही में बॉलीवुड अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने इसी तरह की असुरक्षा को लेकर चिंता जताई थी. बीजेपी नेता के इस बयान को बॉलीवुड अभिनेता की चिंता से जोड़कर देखा जा रहा है. उनके इस बयान का वीडियो भी सामने आया है. हालांकि उन्होंने कहा है कि यह भावना उनकी व्यक्तिगत है. 

विक्रम सैनी ने कहा कि ऐसे लोग जो देशद्रोही हैं जो कहते हैं कि हमें देश में खतरा है. मैंने उनके लिए बोला है कि उनका कुछ न कुछ इंतजाम होना चाहिए. ऐसा कानून बनाया जाए कि जो ऐसा बोले उसके लिए सजा का प्रावधान हो और इस तरह के बयान देशद्रोह की श्रेणी में आए. सैनी ने कहा कि अगर सरकार मुझे मंत्रालय दे तो मैं ऐसे लोगों को बम से उड़ा दूंगा. सेना के पास बहुत बम है वहां से लेकर फोड़वा दूंगा. 

सैनी के इस बयान के बाद पीछे खड़े उनके समर्थक ने भारत माता की जय के नारे लगाने शुरू कर दिए. सैनी ने कहा कि जिनकों डर लग रहा है वो देश में क्यों हैं, वह जिंदा क्यों है. जिनके अंदर देश भक्ति की भावना नहीं है उन्हें यहां रहने की जरूरत है. सैनी के मुताबिक जो लोग असुरक्षित महसूस करते हैं वो वहां चले जाएं जहां सुरक्षित महसूस करते हैं. उन्हें रोका किसने है. विक्रम के इस बयान पर हंगामा होना तय माना जा रहा है.     


गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, सभी सरकारी दस्तावेजों से पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर हटाने का आदेश

गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, सभी सरकारी दस्तावेजों से पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर हटाने का आदेश

03-Jan-2019

जयपुर : राजस्थान की गहलोत सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए सभी सरकारी दस्तावेजों से पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर हटाने का आदेश जारी किया है। जानकारी के मुताबिक, अब दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर की जगह राष्ट्रीय चिह्न अशोक चक्र होगा। तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पूर्व की बीजेपी सरकार के कुछ फैसले बदले जा रहे हैं। इस पर सियासी विवाद भी शुरू हो गया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव रवि शंकर श्रीवास्तव की ओर से जारी इस आदेश के अनुसार राज्य मंत्रिमंडल की 29 दिसंबर को हुई बैठक में किए गए फैसले के तहत यह कदम उठाया गया है। 

इसमें लिखा है कि राज्य के समस्त राजकीय विभागों, निगमों, बोर्ड एवं स्वायत्तशासी संस्थाओं के लेटर पैड पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर का लोगो के रूप में प्रयोग/मुद्रण करने के संबंध में 11 दिसंबर, 2017 को जारी परिपत्र को वापस लिया जाता है।


चीन ने चंद्रमा पर उतारा पहला स्पेसक्राफ्ट, रचा इतिहास

चीन ने चंद्रमा पर उतारा पहला स्पेसक्राफ्ट, रचा इतिहास

03-Jan-2019

एजेंसी 

चीन ने अंतरिक्ष में गुरुवार को एक और मील का पत्थर स्थापित कर लिया है। अमेरिकी मीडिया के अनुसार चीन ने चंद्रमा के बाहरी हिस्से पर इतिहास में पहली बार एक स्पेस क्राफ्ट उतारा है। जिसका नाम चांगे-4 बताया जा रहा है। इससे पहले 2013 में चीन ने चांद पर एक रोवर उतारा था। इससे पहले अमेरिका और सोवियत संघ ने ही वहां पर लैंडिंग करवाई थी। लेकिन चांगे-4 को चंद्रमा पर नीचे की तरफ उस हिस्से पर उतारा गया है जो पृथ्वी से दूर रहता है।

चीन के अंतरिक्ष प्रबंधन पर बारीकी से काम करने वाली मकाऊ यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रोफेसर झू मेंघुआ ने कहा, 'यह अंतरिक्ष अभियान दिखाता है कि चीन गहरे अंतरिक्ष अन्वेषण में उन्नत विश्व स्तर पर पहुंच गया है। हम चीनी लोगों ने कुछ ऐसा कर दिया है जिसे करने की हिम्मत अमेरिकीयों ने नहीं की।'

विशेषज्ञों का कहना है कि चीन चीजों को बहुत जल्दी पकड़ रहा है। वह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, क्वांटम कंप्यूटिंग और दूसरे क्षेत्रों में अमेरिका को चुनौती दे सकता है। चीन 2022 तक अपने तीसरे अंतरिक्ष स्टेशन का पूरी तरह से संचालन शुरू करने की योजना बना रहा है। हालांकि चीन ने चंद्रमा पर एक ऐसी जगह पर विमान उतारा है जहां अभी तक कोई भी नहीं पहुंच सका है। विशेषज्ञों का कहना है कि स्पेसक्राफ्ट की यह लैंडिंग प्रोपेगैंडा से ज्यादा कुछ नहीं है। 


गुरुग्राम में दिल दहला देने वाली घटना 6 ऑटोरिक्‍शा चालकों ने 42 साल की महिला के साथ गैंगरेप किया

गुरुग्राम में दिल दहला देने वाली घटना 6 ऑटोरिक्‍शा चालकों ने 42 साल की महिला के साथ गैंगरेप किया

02-Jan-2019

गुरुग्राम। राष्‍ट्रीय राजधानी से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में दिन दहाड़े दिल दहला देने वाली घटना हुई है। यहां 6 ऑटोरिक्‍शा चालकों ने 42 साल की महिला के साथ गैंगरेप किया, जिसने मानेकर के लिए ऑटो लिया था। यह घटना एनएच-8 पर गुरुग्राम के नखरोला चौक के पास दिनदहाड़े दोपहर करीब 2.30 बजे हुई, जहां से उस ऑटो ड्राइवर ने महिला को अगवा कर लिया, जिसमें वह बैठी थी।
 
दिल्‍ली की रहने वाली यह महिला किसी कंपनी के साथ वित्‍तीय मामलों को सुलझाने के स‍िलसिले में मानेसर जा रही थी, जहां उसके पति काम करते थे। न्‍यूज18 की रिपोर्ट के मुताबिक, 2013 में महिला के पति की मौत हो गई थी, लेकिन उनके निधन को 5 साल बीत जाने के बाद भी कंपनी के साथ वित्‍तीय मामलों का निपटारा नहीं हुआ था, जिसके लिए वह शनिवार को मानेसर जा रही थी, जब ऑटो ड्राइवर ने उसे अगवा कर लिया।
 
ऑटो ड्राइवर उसे गुरुग्राम के भंगरोला गांव में एक मकान के भीतर ले गया, जहां पहले से ही उसके 3 दोस्‍त मौजूद थे और उनका इंतजार कर रहे थे। उन्‍होंने महिला को यहां बंधक बना लिया और बारी-बारी से उसके साथ दुष्‍कर्म किया। इसके बाद उन्‍होंने महिला को दो अन्‍य लोगों के हवाले कर दिया, जिन्‍होंने भी उसके साथ दुष्‍कर्म किया। इन दोनों ने एनएच-8 के पास चलते ऑटोरिक्‍शा में उसके साथ दुष्‍कर्म किया और फिर उसे रामपुरा फ्लाइओवर के पास एक फूड स्‍टॉल के करीब फेंक दिया। ये दोनों भी ऑटोरिक्‍शा ड्राइवर थे।
 
राहगीरों ने महिला को अस्‍पताल में भर्ती कराया, जहां उसका उपचार किया गया। इसके बाद उसने गुरुग्राम पुलिस में अपने साथ हुई दरिंदगी की शिकायत दर्ज कराई। मेडिकल जांच में महिला के साथ दरिंदगी की पुष्टि हुई है। महिला की शिकायत के आधार पर पुलिस ने इस मामले में उसे अगवा करने वाले ऑटो रिक्‍शा ड्राइवर अंकित और उसके दोस्‍तों दीपक, महिपाल, अजीत और सुन्‍नू को रविवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस इस मामले में दो अन्‍य आरोपियों की पहचान सुनिश्चित करने और उन्‍हें गिरफ्तार करने की कोशिशों में जुटी है।
 


मोदी सरकार ने विज्ञापन पर खर्च किए 5245.73 करोड़

मोदी सरकार ने विज्ञापन पर खर्च किए 5245.73 करोड़

28-Dec-2018

दिल्ली :

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने गुरुवार (27 दिसंबर) को संसद में बताया कि मई 2014 में पद संभालने के बाद से केंद्र सरकार ने सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। यह धनराशि वर्ष 2014 से लेकर सात दिसंबर 2018 तक की अवधि के दौरान खर्च हुई है।

कार्यभार संभालने के पहले वर्ष में मोदी सरकार ने विज्ञापन पर 979.78 करोड़ रुपये खर्च किए। जिसमें प्रिंट (समाचार पत्रों) पर 424.84 करोड़ रुपये, इलेक्ट्रॉनिक और ऑडियो विजुअल विज्ञापनों पर 473.67 करोड़ रुपये और आउटडोर प्रचार पर 81.27 करोड़ रुपये शामिल थे। अगले वर्ष में, विज्ञापनों पर खर्च की गई राशि बढ़कर 1160.16 करोड़ रुपये हो गई। इसमें प्रिंट विज्ञापनों पर खर्च किए गए 508.22 करोड़ रुपये, इलेक्ट्रोनिक और ऑडियो विजुअल पर 531.60 करोड़ रुपये और आउटडोर प्रचार पर खर्च किए गए 120.34 करोड़ रुपये शामिल थे।

सरकारी विज्ञापनों पर खर्च किए गए पैसे अगले दो वर्षों में क्रमशः 1264.26 करोड़ रुपये और 1313.57 करोड़ रुपये 2016-17 और 2017-18 में खर्च हुए। नरेंद्र मोदी सरकार ने इस साल अप्रैल से सात दिसंबर तक 527.96 करोड़ रुपये खर्च किए। लोकसभा में इस मामले से जुड़े एक सवाल का जवाबा देते हुए राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की योजनाओं को लाभार्थियों के बीच पहुंचाने के लिए इस राशि को खर्च किया गया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबुक, राठौड़ ने कहा कि I&B मंत्रालय के तहत ब्यूरो ऑफ़ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन (BOC), इन योजनाओं और कार्यक्रमों के संबंध में IEC अभियानों का संचालन मंत्रालयों और विभागों के साथ मिलकर करता है।

 


मशहूर Youtuber दानिश जेहन की मौत को मौलवियों ने बताया खुदा का दंड

मशहूर Youtuber दानिश जेहन की मौत को मौलवियों ने बताया खुदा का दंड

27-Dec-2018

दिल्ली 

पॉपुलर यूट्यूबर और ब्लॉगर दानिश जेहन की मौत के बाद उनका परिवार इस वक्त सदमे में है। 21 साल के दानिश की मौत बीते 20 दिसंबर को एक कार हादसे में हो गई थी। जानकारी के मुताबिक नवी मुंबई के पास सिऑन-पनवेल हाइवे पर दानिश की कार हादसे का शिकार हो गई थी। दानिश एक शादी समारोह में शामिल होकर अपने घर वापस लौट रहे थे। दानिश की दुखद मौत के बाद उनके जनाजे में काफी भीड़ जुटी थी। इधर दानिश के परिवार वालों ने उनकी मौत के बाद बताया था कि कई मौलवी उनके घर आए थे और उनसे कहा था कि वो दानिश के यूट्यूब चैनल पर एक मैसेज अपलोड करें तथा इस मैसेज में लिखें कि दानिश ने गलत रास्ता चुना था इसलिए उन्हें दंड मिला है।

बता दें कि दानिश एमटीवी के मशहूर शो Ace Of Space में नजर आए थे। दानिश एक यूट्यूब चैनल #fambruh चलाते थे। दानिश युवाओं के बीच काफी पॉपुलर थे। वो लोगों को हेयरस्टाइल और ब्यूटी प्रोडक्ट्स के बारे में भी जानकारियां दिया करते थे। दानिश जेहन का सोशल मीडिया पर भी काफी क्रेज था। उनके फॉलोअर्स की संख्या लाखों में थी। दानिश ने अपने माता-पिता के लिए हाल ही में एक फ्लैट भी खरीदा था।


अवैध शिकार मामले में इंटरनेशनल गॉल्फर और शूटर ज्योति रंधावा गिरफ्तार

अवैध शिकार मामले में इंटरनेशनल गॉल्फर और शूटर ज्योति रंधावा गिरफ्तार

26-Dec-2018

नई दिल्ली: इंटरनेशनल गोल्फर शूटर ज्योति सिंह रंधावा गिरफ्तार किए गए हैं. वन विभाग की टीम ने बहराइच के कतर्नियाघाट में अवैध शिकार करते हुए गिरफ्तार किया है. रंधावा के पास से एक .22 राइफल , गाड़ी जिसका नंबर HR 26 DN 4299 है और दूसरी चीजें बरामद की गई है. वहीं रंधावा के पास से वन्य जीवन के कुछ आर्टिकल भी मिले है. रंधावा के साथ फिलहाल DFO कतर्नियाघाट और उसकी टीम पूछताथ कर रही है. ज्योति सिंह रंधावा अभिनेत्री चित्रांगदा सिंह के एक्स हस्बैंड रह चुके हैं. दोनों का तलाक साल 2014 में हो चुका है. अभी तक मिली जानकारी के अनुसार रंधावा के साथ महेश विराजदार की भी इसी केस में गिरफ्तारी हुई है.


दुधवा के फील्ड डायरेक्टर रमेश पांडे ने कहा कि, कतर्नियाघाट के मोतीपुर में रंधावा का अपना एक फॉर्म है. पिछले तीन दिनों से वो अपनी गाड़ी लेकर जंगलों में घूम रहे थे जिसके बाद वन विभाग के लोगों ने उनपर नजर रखी और उन्हे गिरफ्तार किया. बता दें कि रंधावा कई अंतरराष्ट्रीय शूटिंग इवेंट में हिस्सा ले चुके हैं. वहीं ऑफिशियल वर्ल्ड गोल्फ रैंकिंग में वो साल 2004 से लेकर 2009 तक टॉप 100 में रह चुके हैं.


आगरा संजलि मर्डर केस में खुलासा चचेरे भाई ने ही जलाया था

आगरा संजलि मर्डर केस में खुलासा चचेरे भाई ने ही जलाया था

25-Dec-2018

आगरा। यूपी के आगरा में 18 दिसंबर को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाई गई 10वीं की छात्रा संजलि की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस के अनुसार, संजलि की हत्या एक तरफा प्यार के चलते उसके ताऊ के बेटे ने की है। पुलिस ने इस हत्याकांड में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

आगरा एसएसपी अमित पाठक ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि थाना मलपुरा के अंतर्गत गांव लालऊ निवासी संजलि को उसके ताऊ के पुत्र योगेश ने जलाया था। योगेश के साथ थाना जगदीशपुरा के अंतर्गत कलवारी गांव निवासी और ममेरा भाई विजय तथा उसकी पहन का देवर आकाश (निवासी शास्त्रीपुरम, थाना सिंकदरा) था। विजय और आकाश पुलिस की गिरफ्त में हैं। घटना में प्रयुक्त हुई मोटर साइकिलें भी पुलिस ने बरामद कर ली हैं। 

मलपुरा थाना क्षेत्र के गांव लालऊ में हरेंद्र सिंह जाटव की बेटी संजलि (15) गांव से डेढ़ किमी दूर नौमील गांव में स्थित अशरफी देवी छिद्दा सिंह इंटर कॉलेज में पढ़ती थी। 18 दिसंबर को संजलि छुट्टी के बाद साइकिल से घर लौट रही थी। तभी गांव के पास आगरा जगनेर रोड पर हेलमेट पहने दो अज्ञात बाइक सवारों ने उसे रोक लिया और उस पर पेट्रोल डाल कर आग लगा दी। 

संजलि की मौते के बाद योगेश ने भी खाया जहर

आग लगते ही छात्रा तड़पते हुए इधर-उधर भागने लगी। आग लगने के बाद भागते समय युवती पुलिया के नीचे खाई में गिर गई। युवती की चीख सुनकर वहां से गुजर रहे एक बस चालक ने उसे बचाया और आग बुझाई। सूचना पर पुलिस भी मौके पर आ गई और छात्रा को एसएन मेडिकल की इमरजेंसी में भर्ती कराया था। संजलि को गंभीर अवस्था में आगरा के एसएन मेडिलकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। यहां से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में रेफर कर दिया गया। जहां गुरुवार तड़के उसकी मौत हो गई। बता दें कि संजलि की मौत के बाद उसके ताऊ के बेटे योगेश ने भी जहर खाकर जान देने की कोशिश की थी। परिजनों ने योगेश को आनन-फानन में इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया था। उसकी भी मौत हो गई। 

एसएसपी अमित पाठक ने मीडिया को बताया कि जांच पड़ताल में पुलिस को योगेश के घर से संजलि के नाम लिखा एक लव लटैर मिला था। साथ ही पुलिस ने योगेश के मोबाइल फोन की चैट भी चेक की तो घटना का खुलासा हुआ। पुलिस की मानें तो योगेश ने संजलि को साइकिल भी लाकर दी थी। लेकिन संजलि अपने भाई का विरोध करती थी, जिससे नाराज होकर योगेश ने संजलि को अपने साथियों के साथ मिलकर जिंदा जला दिया। 


अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस ने दिया इस्तीफा, सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर थे खफा

अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस ने दिया इस्तीफा, सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर थे खफा

22-Dec-2018

मीडिया रिपोर्टो से 

नई दिल्ली: अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस ने सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ मतभेदों के बाद इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने एक पत्र में कहा है कि राष्ट्रपति पेंटागन के शीर्ष पद पर किसी ऐसे व्यक्ति को चाहते हैं, जो उनके विचारों से मेल रखता हो. सेवानिवृत्त मरीन जनरल, मैटिस ने यह घोषणा ऐसे समय में की है, जब एक दिन पहले ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि सीरिया से अमेरिकी सैनिकों की पूर्ण वापसी जारी है. मैटिस ने कहा कि वह फरवरी के अंत तक पद से हट जाएंगे.

वाशिंगटन पोस्ट के अनुसार, ट्रंप ने सीरिया से सैनिकों की वापसी पर मैटिस सहित अपने सलाहकारों को दरकिनार कर दिया और इस इस्लामिक राज्य पर जीत की घोषणा कर दी. हालांकि पेंटागन और विदेश विभाग महीनों से कह रहे हैं कि सीरिया में समूहों के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है. राष्ट्रपति ने मैटिस की सिफारिश के विपरीत पेंटागन को यह आदेश भी दिया कि वह अफगानिस्तान में तैनात 14,000 अमेरिकी सैनिकों में से लगभग आधी संख्या को वापस बुलाने की एक योजना तैयार करें. इस कदम से युद्धग्रस्त अफगानिस्तान अतिरिक्त संकट में फंस सकता है.

व्हाइट हाउस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मैटिस ने ट्रंप के साथ आमने-सामने हुई एक बैठक के बाद अपना त्याग-पत्र जारी किया. बैठक में दोनों नेताओं ने अपने मतभेदों पर चर्चा की. मैटिस ने ट्रंप के विपरीत अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन का पक्ष लिया और कहा कि अमेरिका अपने सहयोगियों के साथ अपने संबंधों से अपनी शक्ति हासिल करता है और इसलिए उनके साथ सम्मान से पेश आना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि देश को इस्लामिक स्टेट जैसे समूहों से उत्पन्न खतरों सहित अन्य खतरों को लेकर बिल्कुल स्पष्ट रहना चाहिए.

मैटिस ने लिखा है, "हमें एक ऐसी अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को आगे लाने के लिए यथासंभव सबकुछ करना चाहिए, जो हमारी सुरक्षा, समृद्धि और मूल्यों के सवार्धिक अनुकूल हो और हम हमारे गठबंधन सहयोगियों के जरिए इस प्रयास में मजबूत हुए हैं." पेंटागन ने मैटिस का त्यागपत्र तब जारी किया, जब इसके पहले ट्रंप ने ट्विटर पर घोषणा की कि मैटिस जा रहे है. उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्त मरीन जनरल सेवानिवृत्त होंगे. ट्रंप ने मैटिस के साथ अपने मतभेदों का कोई जिक्र नहीं किया.

 


कैम्ब्रिज एनालिटिका डेटा स्कैंडल मामले में फेसबुक पर मुकदमा दर्ज

कैम्ब्रिज एनालिटिका डेटा स्कैंडल मामले में फेसबुक पर मुकदमा दर्ज

20-Dec-2018

नई दिल्ली: कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल मामले में वाशिंगटन का शीर्ष अभियोजक फेसबुक पर मुकदमा दायर कर रहा है. वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया के अटॉर्नी जनरल कार्ल रेसिन ने बुधवार को फेसबुक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया. उन्होंने फेसबुक पर अपने करोड़ों यूजर्स के निजी डेटा में सेंधमारी करने की अनुमति देने का आरोप लगाया.

फेसबुक के प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया, "हम इस शिकायत की समीक्षा कर रहे हैं और वाशिंगटन और अन्य जगहों पर अटॉर्नी जनरल के साथ हमारी चर्चा आगे बढ़ाना जारी रखेंगे." फेसबुक की सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमिशन, फेडरल ट्रेड कमिशन और न्याय विभाग भी जांच कर रहा है. ब्रिटेन में कंपनी पर कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल मामले में 500,000 पाउंड का जुर्माना लगाया गया है. 

बता दें कि यह कंपनी बीते कुछ समय से भारत समेत विश्व के कई देशों की राजनीतिक पार्टियों को चुनाव के दौरान आम लोगों से जुड़े डेटा देने का आरोप झेल रही है. भारत में इस पर कांग्रेस और बीजेपी को भी ऐसी मदद देने के आरोप लगे. इस मामले के सामने आने के बाद पता चला था कि कंपनी फेसबुक पर मौजूद लोगों के डेटा की स्टडी कर एक ऐसा डेटा बेस तैयार करती थी जो चुनाव के समय में राजनीतिक पार्टियों के लिए काफी मददगार साबित होती थी. खास बात यह है कि कुछ दिन पहले ही भारत सरकार ने डेटा लीक मामले में कैंब्रिज एनालिटिका की जांच जारी रखने की बात कही थी.

साभार : एनडीटीवी से 


PM मोदी और BJP सरकार की आलोचना करना पत्रकार को पड़ा भारी, एक साल की सजा

PM मोदी और BJP सरकार की आलोचना करना पत्रकार को पड़ा भारी, एक साल की सजा

19-Dec-2018

दिल्ली 

मणिपुर के एक पत्रकार को बीजेपी सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करना महंगा पड़ गया. उसे मंगलवार को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत एक साल तक हिरासत में रखने की सजा सुनाई गई है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 39 वर्षीय किशोर चंद्र वांगखेम को पहले 27 नवंबर को हिरासत में लिया गया था. उन्होंने फेसबुक पर एक वीडियो के जरिये मुख्यमंत्री बीरेन सिंह और साथ ही पीएम मोदी की कथित तौर पर आलोचना की थी.

बताया जा रहा है कि सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आलोचना का मामला एक माह पुराना है. दरअसल, पत्रकार वांगखेम ने अपने फेसबुक पर झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर एक वीडियो अपलोड किया था, जिसमें उन्होंने मणिपुर की बीजेपी सरकार की आलोचना की थी.

वीडियो में कथित तौर पर पत्रकार वांगखेम ने मुख्यमंत्री के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी. पत्रकार ने अंग्रेजी और मेइती भाषा में कई वीडियो अपलोड किए थे. इस वीडियो में वांगखेम ने कहा था, 'मैं दुखी और हैरान हूं कि मणिपुर की सरकार लक्ष्मीबाई की जयंती (19 नवंबर को) मना रही है. मुख्यमंत्री यह दावा करते हैं कि भारत को एकता के सूत्र में पिराने में झांसी की रानी का योगदान था. लेकिन, मणिपुर के लिए उन्होंने कुछ नहीं किया.'

उन्होंने राज्य की बीजेपी सरकार पर यह आरोप लगाया था कि मणिपुर सरकार ऐसा केवल इसलिए कर रही है क्योंकि केंद्र सरकार ने इसके लिए कहा है. उन्होंने इसे मणिपुर के स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान बताया और हिंदुत्व की कठपुतली बताते हुए पीएम नरेंद्र मोदी और मणिपुर के सीएम पर अपमानजनक शब्दों का भी इस्तेमाल किया.

यह वीडियो सामने आने के बाद पत्रकार किशोर चंद्र वांगखेम को 20 नवंबर को गिरफ्तार कर लिया गया. हालांकि, 26 नवंबर को वेस्ट इंफाल की सीजेएम कोर्ट ने उन्हें 70 हजार के बॉन्ड पर जमानत दे दी. जमानत के वक्त कोर्ट ने यह भी कहा कि, पत्रकार की टिप्पणी भारत के प्रधानमंत्री और मणिपुर के मुख्यमंत्री के खिलाफ अपने विचार की अभिव्यक्ति थी, लेकिन इसे राजद्रोह नहीं का जा सकता.

कोर्ट के कहने के बावजूद अगले ही दिन 27 नवंबर को पत्रकार वांगखेम को एनएसए के तहत फिर गिरफ्तार कर लिया गया और जेल भेज दिया गया. इस बार वेस्ट इंफाल के जिला न्यायाधीश ने एक नया ऑर्डर जारी किया और कहा कि, अगले आदेश तक पत्रकार को एनएसए 1980 के सेक्शन 3(2) के तहत हिरासत में रखना चाहिए. फिर दोबारा उन्होंने नए आदेश जारी किए जिसमें यह कहा गया है कि पत्रकार को 12 महीनों तक हिरासत में रहना होगा.


आगरा : बीजेपी MLA ने महिला एसडीएम को धमकाया- क्या आपको नहीं पता है कि मैं विधायक हूं

आगरा : बीजेपी MLA ने महिला एसडीएम को धमकाया- क्या आपको नहीं पता है कि मैं विधायक हूं

18-Dec-2018

मीडिया रिपोर्ट 

नई दिल्ली: आगरा में बीजेपी विधायक उदयभान चौधरी  ने एसडीएम गरिमा सिंह को धमकाया है जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब हावी हो रहा है. वीडियो में विधायक जी कह हैं, 'क्या आपको नहीं पता है कि मैं विधायक हूं? क्या तुमको मेरी ताकत और लोकतंत्र की ताकत का अंदाजा नहीं है? मिली जानकारी के मुताबिक वह किसानों के मुद्दे पर एसडीएम से बात करने गए थे. लेकिन एक विधायक का सबके सामने किसी महिला अधिकारी को इस तरह से धमकाना कितना जायज है, इसको लेकर सवाल उठ रहे हैं.  गौरतलब है कि इससे पहले भी कई अधिकारियों के साथ नेता इस तरह का बुरा बर्ताव कर चुके हैं.

इससे पहले पिछले साल 2017 में भी एक ऐसा वीडियो सामने आया था जिसमें जेल में बंद एनसीपी के एक विधायक का एक पुलिस अधिकारी के साथ बदसलूकी का मामला सामने आया था. घटना उस वक्‍त की है जब मुंबई की बायखुला जेल के बाहर खड़े होकर पिकप वैन का इंतजार कर रहे थे. वैन के आने में देरी के कारण इस विधायक रमेश कदम का पारा चढ़ गया और वहां मौजूद पुलिस अफसर के साथ अभद्र भाषा का इस्‍तेमाल करने लगे. यह पूरी घटना कैमरे में कैद हो गई और यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. रमेश कदम पिछले 19 महीने से जेल में थे और 300 करोड़ के घोटाले में अगस्‍त, 2015 को गिरफ्तार किया गया था.