आईपीएल - King खान की KKR पहुंची IPL के फाइनल में !

आईपीएल - King खान की KKR पहुंची IPL के फाइनल में !

14-Oct-2021

आईपीएल - King खान की KKR पहुंची IPL के फाइनल में !

No description available.

IPL 2021 के दूसरे क्वालिफायर मुकाबले में बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान की फ्रेंचाइजी वाली टीम कोलकाता नाइट राइडर्स ने दिल्ली कैपिटल्स को 3 विकेट से हराकर फाइनल में प्रवेश कर लिया। इस बेहद रोमांचक मुकाबले में कोलकाता ने छक्के के साथ फाइनल में जगह बनाई है, जहां उसका सामना 15 अक्टूबर को चेन्नई सुपरकिंग्स से होगा।
 
दिल्ली कैपिटल्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 5 विकेट पर 135 रन बनाकर कोलकाता को जीत के लिए 136 रनों का लक्ष्य दिया। कोलकाता नाइट राइडर्स को जीत के लिए अंतिम ओवर में 7 रन चाहिए थे। अश्विन ने दो बल्लेबाजों को आउट कर मैच काफी रोमांचक बना दिया था, लेकिन राहुल त्रिपाठी ने पांचवी गेंद पर छक्का लगाकर अपनी टीम को जीत दिला।
 
इस मैच में कोलकाता की जीत के हीरो राहुल त्रिपाठी, वेंकटेश अय्यर और शुभमन गिल बने। अय्यर ने अहम मुकाबले में 41 गेंदों में 55 रन बनाए। अय्यर ने शुभमन गिल के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 74 गेंदों में 96 रनों की शानदार साझेदारी की। दिल्ली कैपिटल्स पर यही साझेदारी भारी पड़ी।
 
अय्यर ने अपनी अर्धशतकीय पारी में 3 छक्के और 4 चौके लगाए। शारजाह की पिच पर उनका स्ट्राइक रेट 134।15 का रहा। जो सच में कमाल की बात है। हालांकि अय्यर का विकेट गिरते ही मैच का रुख अचानक से बदला। कागिसो रबाडा ने अय्यर को आउट कर 18वें ओवर में महज 1 रन देकर दिनेश कार्तिक का भी विकेट चटका दिया।
 
नॉर्किया ने भी 19वें ओवर में महज 3 रन देकर ऑयन मॉर्गन को आउट कर दिया। आखिरी ओवर में कोलकाता को 7 रनों की दरकार थी। अश्विन ने आखिरी ओवर फेंका और पहली 4 गेंदों पर मात्र 1 रन देकर शाकिब अल हसन तथा सुनील नरेन को आउट कर मैच को काफी रोमांचक बना दिया। अब कोलकाता का जीत के लिए अंतिम दो गेंदों पर 6 रन चाहिए थे। यहीं पर राहुल त्रिपाठी ने लॉन्ग ऑफ पर छक्का लगाकर अपनी टीम को फाइनल में पहुंचा दिया।
 
इसके साथ ही कोलकाता नाइट राइडर्स ने तीसरी बार फाइनल में जगह बना ली। इससे पहले जब दोनों बार कोलकाता ने फाइनल में जगह बनाई थी तब उसने खिताबी जीत हासिल की थी। साल 2012 और साल 2014 में कोलकाता ने आईपीएल चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया था।


अफगानिस्तान के स्पिनर राशिद खान ने विश्व नेताओं से अपने देश को बचाने की अपील की!

अफगानिस्तान के स्पिनर राशिद खान ने विश्व नेताओं से अपने देश को बचाने की अपील की!

11-Aug-2021

अफगानिस्तान के स्पिनर राशिद खान ने विश्व नेताओं से अपने देश को बचाने की अपील की!

अफगानिस्तान के लेग स्पिनर राशिद खान ने दुनिया से गुहार लगाई है और उनसे गृहयुद्ध के कारण अपने देश में सामने आ रहे मानवीय संकट का जवाब देने को कहा है।

“प्रिय विश्व नेताओं! मेरा देश अराजकता में है, बच्चों और महिलाओं सहित हजारों निर्दोष लोग हर रोज शहीद हो जाते हैं, घर और संपत्ति नष्ट हो जाती है। हजारों परिवार विस्थापित.. हमें अफरातफरी में मत छोड़ो। अफगानों को मारना और अफगानिस्तान को नष्ट करना बंद करो । हम शांति चाहते हैं। इमोटिकॉन: फोल्डेड हैंड, “खान ने मंगलवार को ट्वीट किया, जो दुनिया के सर्वश्रेष्ठ लेग स्पिनरों में से एक है।


खान इंडियन प्रीमियर लीग में सनराइजर्स हैदराबाद का प्रतिनिधित्व करते हैं और वह अक्टूबर-नवंबर में टी20 विश्व कप के दौरान अपने देश के लिए प्रमुख खिलाड़ी होंगे।

अफगानिस्तान में तालिबान और अफगान राष्ट्रीय बलों के बीच भीषण लड़ाई देखी जा रही है। पिछले कुछ दिनों में तालिबान द्वारा कथित तौर पर देश के उत्तरी क्षेत्र में व्यापक हिंसा के साथ हिंसा बढ़ गई है।


टोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक में जीता गोल्ड मेडल, रचा इतिहास

टोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक में जीता गोल्ड मेडल, रचा इतिहास

07-Aug-2021

टोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक में जीता गोल्ड मेडल, रचा इतिहास

नई दिल्ली : भारत के एथलीट नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचा दिया है। नीरज ने जैवलिन थ्रो प्रतियोगिता में भारत को टोक्यो ओलंपिक में पहला गोल्ड मेडल दिला दिया है। क्वालीफाइंग राउंड की तरह ही नीरज का प्रदर्शन फाइनल में भी बेहद शानदार रहा और उन्होंने एथलेक्टिक्स में मेडल के 100 साल के सूखे को भी खत्म कर दिया है। नीरज ने फाइनल मैच में अपना पहला ही थ्रो 87.03 मीटर का फेंका और गोल्ड की उम्मीद जगा दी। इसके बाद दूसरे प्रयास में नीरज ने 87.58 मीटर का थ्रो फेंककर गोल्ड मेडल पक्का कर लिया।  

नीरज ने इससे पहले क्वालीफाइंग राउंड में भी अपने प्रदर्शन से सनसनी फैला दी थी। उन्होंने टॉप पर रहते हुए पहले ही प्रयास में 86.65 मीटर का थ्रो फेंका था और 83.65 के क्वालीफिकेशन लेवल को आसानी से पार कर लिया था। नीरज इससे पहले एशियाई खेलों, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई चैंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुके हैं और यही वजह है कि पूरा देश की निगाहें उनके ऊपर टिकी हुईं थीं। टोक्यो ओलंपिक में यह भारत का पहला गोल्ड मेडल है और अब पदकों की कुल संख्या 7 हो गई है, जिसमें एक गोल्ड, 2 सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं। रेसलिंग में बजरंग पूनिया ने कजाखस्तान के दौलेत नियाजबेकोव को एकतरफा मुकाबले में हराकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया।

नीरज भारत की तरफ से ओलंपिक खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाले महज दूसरे ही खिलाड़ी हैं। उनसे पहले साल 2008  में अभिनव ब्रिंदा ने निशानेबाजी में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया था। एथलेटिक्स में यह ओलंपिक खेलों में भारत का पहला गोल्ड मेडल है और इसके साथ ही 23 साल के नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया है। नीरज ने अपने पहले दो थ्रो में ही गोल्ड मेडल पक्का कर लिया था। बाकी एथलीटों ने काफी प्रयास किया, लेकिन वह नीरज के 87.58 मीटर के थ्रो को पार नहीं कर सके।  


41 साल बाद जीता ओलंपिक हॉकी पदक , भारत ने रचा इतिहास

41 साल बाद जीता ओलंपिक हॉकी पदक , भारत ने रचा इतिहास

05-Aug-2021

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 41 साल बाद ओलंपिक पदक जीतकर इतिहास को फिर से लिखा और गुरुवार को यहां चल रहे खेलों के प्ले-ऑफ मैच में जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य पदक जीता।

आठ बार के पूर्व स्वर्ण विजेता, जिन्होंने पिछले चार दशकों में दिल दहला देने वाली मंदी का सामना किया, ने ओलंपिक पदक के साथ पिछले कुछ वर्षों के पुनरुत्थान को सर्वोत्तम संभव तरीके से गिना।

भारत के लिए सिमरनजीत सिंह (17वें, 34वें मिनट) ने गोल किया, जबकि हार्दिक सिंह (27वें मिनट), हरमनप्रीत सिंह (29वें मिनट) और रूपिंदर पाल सिंह (31वें मिनट) ने गोल किया।

जर्मनी की ओर से तैमूर ओरुज (दूसरा), निकलास वेलेन (24वें), बेनेडिक्ट फर्क (25वें) और लुकास विंडफेडर (48वें) ने गोल किए।

पदक जीतने के लिए दृढ़ संकल्प, भारतीयों ने खेल के इतिहास में सबसे यादगार वापसी की, मैच को अपने पक्ष में करने के लिए दो गोल के घाटे से वापस लड़ते हुए।

मनप्रीत सिंह के नेतृत्व में और ऑस्ट्रेलियाई ग्राहम रीड द्वारा प्रशिक्षित भारतीयों के रूप में मैदान पर आंसू और गले थे, ऐतिहासिक क्षण का आनंद लिया।

यह ओलंपिक के इतिहास में भारत का तीसरा हॉकी कांस्य पदक है।

अन्य दो 1968 मैक्सिको सिटी और 1972 म्यूनिख खेलों में आए थे।


 


उपलब्धि: लवलीना ने मुक्केबाजी में जीता कांस्य पदक, भारत की झोली में तीसरा मेडल

उपलब्धि: लवलीना ने मुक्केबाजी में जीता कांस्य पदक, भारत की झोली में तीसरा मेडल

04-Aug-2021

एजेंसी 

नई दिल्ली : भारत की स्टार युवा मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन को टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा है। 22 वर्षीय महिला मुक्केबाज को सेमीफाइनल में मौजूदा विश्व चैंपियन तुर्की की बुसेनाज सुरमेनेली के हाथों हार का सामना करना पड़ा। इस मुकाबले में पहली बार ओलंपिक खेल रही लवलीना ने पूरा जोर लगाया लेकिन बुसेनाज के खिलाफ ज्यादा कुछ नहीं कर पाईं। भारतीय मुक्केबाज को 0-5 से शिकस्त झेलनी पड़ी। 

लवलीना भले ही फाइनल में पहुंचने से चूक गईं, बावजूद इसके वह इतिहास रचने में सफल रहीं। वह अब ओलंपिक इतिहास में पदक जीतने वाली भारत की दूसरी महिला मुक्केबाज बन गई हैं। यही नहीं वह 125 साल के ओलंपिक इतिहास में असम की पहली एथलीट हैं जिन्होंने पदक जीता है।

अब तक देश को तीन पदक और तीनों बेटियों के नाम
लवलीना के कांस्य पदक के साथ ही मेडल्स टैली में भारत के पदकों की संख्या तीन हो गई है। तीनों ही पदक भारतीय बेटियों ने जीते हैं, जिसमें मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में सिल्वर तो वहीं बैडमिंटन और मुक्केबाजी में पीवी सिंधु और लवलीना बोरगोहेन ने कांस्य पदक अपने नाम किए हैं। 

बता दें कि लवलीना से पहले सिर्फ दिग्गज मैरीकॉम और विजेंद्र सिंह ने ही मुक्केबाजी में ओलंपिक मेडल जीते थे। 

हार से मैं सदमे में हूं: लवलीना
अपना पहला ओलंपिक खेलते हुए मुक्केबाजी में कांस्य पदक जीतने वाली लवलीना सेमीफाइनल में मिली हार से निराश हैं लेकिन उन्होंने मजबूत वापसी करने का वादा किया है।

 


अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी श्री सलीम अब्बासी साहब जन्म दिवस की बधाई दी गई !

अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी श्री सलीम अब्बासी साहब जन्म दिवस की बधाई दी गई !

02-Aug-2021

अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी श्री सलीम अब्बासी साहब जन्म दिवस की बधाई दी गई !
आज दिनांक 1अगस्त को श्री सलीम अब्बासी साहब अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी जिन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी खेलों में कॉमनवेल्थ गेम, एशियन गेम्स एवं अन्य राष्ट्रीय स्तर के खेलों में प्रदेश को एवं बीएचईएल को रिप्रेजेंट किया के जन्म दिवस के अवसर पर जो कैंसर से पीड़ित हैं!उनको जन्मदिन की बधाई देने के लिए श्री जलालुद्दीन ओलंपियन एवं अर्जुन अवॉर्डी साथ में भोपाल हॉकी एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री नवाब रजा साहब चेयरमैन महाकौशल शुगर एंड पावर इंडस्ट्रीज लिमिटेड एवं अध्यक्ष भोपाल हॉकी  के साथ अन्य प्रदेश स्तर के एवं राष्ट्रीय स्तर के हॉकी खिलाड़ी की उपस्थिति मेंउनको ₹51000 की मदद राशि दी गई एवं भविष्य में भी उन को आर्थिक सहायता हेतु हर संभव प्रयास किया जाएगा साथ ही मीडिया के माध्यम से उनको प्रदेश की सरकार से एवं केंद्र की सरकार से पेंशन देने हेतु निवेदन किया गया है और हाकी इंडिया से भी निवेदन किया गया है  हॉकी इंडियाइनकी भरपूर आर्थिक सहायता करें इनके परिवार में कोई भी व्यक्ति कमाने वाला नहीं है एवं अन्य कोई आय का स्रोत नहीं है और यह बीएचईएल से सेवानिवृत्त हैं इनको कोई पेंशन आदि नहीं मिलता है ऐसी स्थिति में परिवार पर आर्थिक संकट बना हुआ हैअतः समस्त हाकी खिलाड़ी प्रेमियो एवं प्रदेश की सरकार और केंद्र की सरकार और हाकी इंडिया से वित्तीय सहायता हेतु निवेदन किया गया है और ईश्वर से प्रार्थना किया गया कि सलीम अब्बासी साहब जल्दी स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करें

 


पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने फिर जीता यूरो 2020 गोल्डन बूट !

पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने फिर जीता यूरो 2020 गोल्डन बूट !

12-Jul-2021

पुर्तगाल के फारवर्ड क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने भले ही यूरो 2020 में चार मैच खेले हों, लेकिन इसने उन्हें टूर्नामेंट में शीर्ष स्कोरर के रूप में समाप्त होने से नहीं रोका।

रोनाल्डो ने यूरो कप में पांच गोल किए, जो चेक गणराज्य के हमलावर पैट्रिक स्किक के रूप में संयुक्त रूप से सबसे अधिक गोल थे। हालांकि, पुर्तगाल फारवर्ड ने सहायता के टाई-ब्रेकर के माध्यम से गोल्डन बूट जीता।

जबकि रोनाल्डो के नाम पर एक सहायता थी, शिक ने शून्य सहायता के साथ टूर्नामेंट समाप्त किया। तीसरे स्थान पर फ्रांस के करीम बेंजेमा थे जिन्होंने टूर्नामेंट में चार गोल किए।
रोनाल्डो ने यूरो 2020 में हंगरी के खिलाफ 3-0 की जीत में देर से दो गोल करके अपना खाता खोला, जिससे उनका सर्वकालिक यूरो कप फाइनल 11 के नए रिकॉर्ड तक पहुंच गया।

उन्होंने मैच के दिन 2 पर जर्मनी को 4-2 की हार के शुरुआती लक्ष्य के साथ अपने कुल में एक और जोड़ा और फिर मैच के दिन फ्रांस के साथ 2-2 से ड्रॉ में पेनल्टी स्पॉट से दो बार मारा।

यूईएफए के अनुसार, लेस ब्लेस के खिलाफ उन दो गोलों ने रोनाल्डो को अपने देश के लिए 109 गोल तक पहुंचा दिया, जो ईरान के पूर्व फारवर्ड अली डेई द्वारा निर्धारित विश्व-रिकॉर्ड चिह्न की बराबरी करता है।

और हालांकि चेक गणराज्य के पैट्रिक स्किक ने भी फाइनल में पांच गोल किए, रोनाल्डो जर्मनी के खिलाफ अपनी सहायता के लिए धन्यवाद के साथ बाहर हो गए, उन्होंने भी स्किक से कम मिनट खेले।

इटली ने रविवार (स्थानीय समयानुसार) यहां वेम्बली स्टेडियम में मेजबान इंग्लैंड के यूरो 2020 जीतने के सपने को समाप्त कर दिया। 90 मिनट की सामान्य कार्रवाई 1-1 पर समाप्त होने के बाद अज़ुर्री ने पेनल्टी पर इंग्लैंड को 3-2 से हराया और अतिरिक्त समय भी गतिरोध को तोड़ने में सक्षम नहीं था।


कोविड 19 की दहशत, IPL छोड़कर जाना चाहते हैं विदेशी खिलाड़ी!

कोविड 19 की दहशत, IPL छोड़कर जाना चाहते हैं विदेशी खिलाड़ी!

27-Apr-2021

नई दिल्ली : इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) के लिए यह खबर झटका हो सकती है. खबर है कि आईपीएल में खेल रहे ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट, कोच और कॉमेंटेटर भारत छोड़ने पर विचार कर रहे हैं. भारत में इन दिनों कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते हालात बेकाबू हो चुके हैं. ऐसे में ऑस्ट्रेलिया में मंगलवार को कैबिनेट की राष्ट्रीय सुरक्षा की बैठक पर सभी की निगाहें टिकी हैं. इस मीटिंग में यह फैसला होना है कि भारत में विमानों के परिचालन को कम किया जाए, या इस पर अगले कुछ समय के लिए पूरी तरह बैन लगाया जाए. 

ऐसे में डेविड वॉर्नर (David Warner), स्टीव स्मिथ (Steve Smith) और ग्लेन मैक्सवेल (Glenn Maxwell) समेत कई प्रमुख ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर आईपीएल को इस सीजन के लिए यहीं अलविदा बोल सकते हैं. 9न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार ये सभी क्रिकेटर्स अब बॉर्डर बंद होने से पहले भारत वापस अपने देश लौटना चाहते हैं.

वॉर्नर सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान हैं, जबकि स्टीव स्मिथ दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेल रहे हैं और मैक्सवेल रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेल रहे हैं. इस रिपोर्ट में एक सूत्र के हवाले से दावा किया गया है, ‘हमारे 30 खिलाड़ी, कोच और कॉमेंटेटर हैं, जो स्वाभाविक रूप से भारत से बाहर निकलने के लिए उत्सुक हैं. बिगड़ते हालात को देखते हुए उन्हें देश भर में स्वास्थ्य के लिहाज से इस स्थिति का सामना करना पड़ रहा है. 
इंडियन प्रीमियर लीग में 17 ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी भाग ले रहे थे, जिनमें से तीन – एडम जाम्पा, केन रिचर्डसन (दोनों रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर) और एंड्रयू टाय (राजस्थान रॉयल्स) पहले ही घर लौट चुके हैं. टाय ने क्रिकेट.कॉम.एयू को बताया कि वह देश से बाहर जाना नहीं चाहते हैं.

रिकी पॉन्टिंग (दिल्ली कैपिटल), डेविड हसी (कोलकाता नाइट राइडर्स) और साइमन कैटिच (रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर) के साथ-साथ कॉमेंटेटर ब्रेट ली, माइकल स्लेटर और मैथ्यू हेडन भी भारत में हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि खिलाड़ियों को चार्टर्ड विमान से वापस लाने की बातचीत चल रही है. 9न्यूज की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस पर बातचीत चल रही है और इसके लिए एक सुझाव ‘बंद’ कर दिया गया है लेकिन कुछ भी अंतिम रूप नहीं दिया गया है.

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने हालांकि आईएएनएस को बताया कि इस बिंदु पर खिलाड़ियों के लिए चार्टर्ड योजना नहीं है. दूसरे विकल्प पर चर्चा की जा रही है. ऑस्ट्रेलिया पहुंचने से पहले एक तीसरे देश में संगरोध हो सकता है.


MS धोनी के माता-पिता कोरोना वायरस से संक्रमित...

MS धोनी के माता-पिता कोरोना वायरस से संक्रमित...

21-Apr-2021

मिडिया रिपोर्ट 

देश में कोरोना का कहर जारी है. कोरोना की चपेट में आम से लेकर खास हर तरह के लोग आ रहे हैं. इस बीच रिपोर्ट के मुताबिक क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के माता-पिता कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं. India Today की रिपोर्ट के मुताबिक एम एस धोनी (MS Dhoni) की मां देवकी देवी (Devaki Devi) और पिता पान सिंह तोमर (Pan Singh) कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित हो गए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक दोनों को रांची के प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

उधर, बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना के करीब 3 लाख नए केस सामने आए और इस दौरान 2000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. ऐसा पहली बार हुआ है, जब कोरोना से एक दिन में इतने लोगों की मौत हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से बुधवार सुबह जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,95,041 नए मामले सामने औए और इस दौरान 2,023 लोगों की मौत हो गई.


भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन के साथ दुबई पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल में 17 पदक किए पक्के

भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन के साथ दुबई पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल में 17 पदक किए पक्के

03-Apr-2021

दुबई : भारतीय पैरा शटलरों ने यहां जारी तीसरे शेख हमदान बिन राशिद अल मकतौम दुबई पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल 2021 टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करते हुए शनिवार को अपने लिए कम से कम 17 पदक पक्के कर लिए हैं।

अग्रणी शटलर प्रमोद भगत, मनोज सरकार (एमएस एसएल 3 श्रेणी), सुकांत कदम और नितेश कुमार (एमएस एसएल 4), कृष्णा नगर (एमएस एसएच 6), मानसी जोशी और पारुल परमार (डब्ल्यूएस एसएल 3) सभी ने अंतिम-4 चरण में जगह बनाई। संबंधित श्रेणियां, और भगत को छोड़कर, सभी ने अपनी-अपनी श्रेणियों में दो पदक सुनिश्चित कर लिए हैं।

भगत, युवा पलक कोहली (डब्लूएस एसयू 5) और प्रेम कुमार अली (एमएस डब्ल्यूएच 1) ने एकल, युगल और मिश्रित युगल के सेमीफाइनल में अपनी-अपनी श्रेणियों में जगह बनाने के बाद प्रत्येक में तीन पदक सुनिश्चित किए हैं।

भगत, जो गत विश्व चैंपियन हैं, ने इंडोनेशिया के पूर्व महान उकुन रुकेन्डी को पुरुष एकल वर्ग के एसएल 3 मैच में 21-16, 21-13 से हराया और सेमीफाइनल में मलेशियाई मुहम्मद हुजैरी अब्दुल मालेक से भिड़ेंगे।

पुरुष युगल में, भगत और मनोज सरकार (एसएल 3-एसएल 4 श्रेणी) की शीर्ष वरीयता प्राप्त जोड़ी सेमीफाइनल में मोहम्मद अरबाज अंसारी और दीप रंजन बिसोई से भिड़ेगी।

मिश्रित युगल एसएल 3-एसयू 5 श्रेणी में, भगत-पलक कोहली ने हमवतन चिराग बर्था और मनदीप कौर को 21-10, 21-17 से हराया और अब इनको सामना फ्रांस के लुकास मजूर और फॉस्टिन नोएल की जोड़ी से होगा।

सुकांत कदम को मलेशियाई मुहम्मद नोरहल्मी मोहम्मद जैनुद्दीन को 21-17, 21-8 से हराने में केवल 22 मिनट की जरूरत थी। उन्होंने इस जीत के साथ पुरुष एकल एसएल4 के सेमीफाइनल में प्रवेश किया। महाराष्ट्र के 27 वर्षीय नितेश ने पुरुष युगल एसएल3-एसएल4 में भी आगे बढ़े।

मेजबान संयुक्त अरब अमीरात सहित 29 देशों के कुल 127 खिलाड़ी, कोविड -19 महामारी के कारण एक वर्ष से अधिक समय के बाद बीडब्ल्यूएफ पैरा बैडमिंटन टूर्नामेंट में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।


पहली गेंद पर विकेट लेने वाले पहले भारतीय स्पिनर बने रविचंद्रन अश्विन

पहली गेंद पर विकेट लेने वाले पहले भारतीय स्पिनर बने रविचंद्रन अश्विन

08-Feb-2021

नई दिल्ली : अश्विन ने इंग्लैंड के साथ यहां एमए चिदंबरम स्टेडियम में जारी पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन सोमवार को इंग्लैंड की दूसरी की पहली ही गेंद पर विकेट लेकर यह उपलब्धि हासिल की।

अश्विन ने अपनी पहली ही गेंद पर इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज रोरी बर्न्‍स को स्लिप में अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच कराकर विकेट अपने नाम किया।

इससे पहले, इंग्लैंड के लेफ्ट आर्म स्पिनर बोबी पील ने 1888 में एशेज सीरीज के दौरान तीसरे टेस्ट की दूसरी पारी में पहली ही गेंद पर आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज एलेक बैनरमैन का विकेट लिया था।

उनके बाद दक्षिण अफ्रीका के बेर्ट वोगलर ने पील की उपलब्धि को दोहराया था जब उन्होंने लंदन में इंग्लैंड के टॉप हेवर्ड को पहली ही गेंद पर आउट किया था।


बड़ी खबर: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराया, सीरीज पर 2-1 से कब्जा

बड़ी खबर: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराया, सीरीज पर 2-1 से कब्जा

19-Jan-2021

एजेंसी 

नई दिल्ली : ब्रिसबेन टेस्ट में टीम इंडिया ने कमाल कर दिखाया है. भारत ने यहां मेजबान ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराकर बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 2-1 से अपने नाम कर ली है. इस ऐतिहासिक मैदान पर यह टीम इंडिया की पहली जीत है और यहां उसने जो करिश्मा किया है वह टेस्ट इतिहास में आने वाले कई सालों तक याद किया जाएगा. 

रोमांच से भरपूर इस मैच में पल-पल जीत का कांटा इधर-उधर फिसलता रहा लेकिन आखिरकार टीम इंडिया की युवा ब्रिगेड ने भारत की झोली में जीत डाल दी. मैच की चौथी पारी में भारत को 328 रन की दरकार थी. शुबमन गिल (91), चेतेश्वर पुजारा (56) और रिषभ पंत (85*) की बेहतरीन फिफ्टियों की बदौलत भारत ने यहां इतिहास रच दिया. इससे पहले इस मैदान पर कभी भी 250 रन का टारगेट चेज नहीं हुआ था. लेकिन अपने स्टार खिलाड़ियों के बिना खेल रही टीम इंडिया ने यहां यह भी करके दिखाया.


AUSvIND : भारत की सीरीज में वापसी, 8 विकेट से जीता बॉक्सिंग डे टेस्ट

AUSvIND : भारत की सीरीज में वापसी, 8 विकेट से जीता बॉक्सिंग डे टेस्ट

29-Dec-2020

एजेंसी 

नई दिल्ली : भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए चार टेस्ट मैचों की बॉर्डर-गावस्कर सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच आठ विकेट से जीतकर सीरीज में 1-1 की बराबरी हासिल कर ली है। एडिलेड में खेले गए सीरीज के पहले मैच के बाद टीम इंडिया के नियमित कप्तान विराट कोहली पैटरनिटी लीव पर स्वदेश लौट गए और इस मैच में अजिंक्य रहाणे ने टीम की कमान संभाली। मोहम्मद शमी, विराट कोहली जैसे दिग्गज खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में टीम इंडिया ने जिस तरह से यह टेस्ट मैच जीता, उसने क्रिकेट जगत को बता दिया है कि टीम इंडिया किसी एक खिलाड़ी पर निर्भर नहीं है। इस टेस्ट मैच में शुभमन गिल और मोहम्मद सिराज ने डेब्यू किया और दोनों ने ही अपने खेल से सबका दिल जीता।

चलिए एक नजर डालते हैं टीम इंडिया की इस जीत की पांच खास बातों पर-

1- रहाणे की दमदार कप्तानीः  एडिलेड में टीम इंडिया दूसरी पारी में महज 36 रन बना सकी थी और आठ विकेट से मैच हारकर इस मैच में खेलने उतरी। विराट स्वदेश लौट गए थे, ऐसे में रहाणे ने जिस तरह से टीम को फ्रंट से लीड किया, वह सालों तक याद किया जाएगा। टॉस हारने के बाद ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया। रहाणे ने जिस तरह से गेंदबाजी में बदलाव किए और फील्ड सेट की, उन्होंने दुनिया को दिखा दिया कि वह कोई नौसिखिया कप्तान नहीं हैं। इसके बाद बल्लेबाजी की बारी आई तो रहाणे ने सेंचुरी ठोककर टीम को 300 के पार पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। रविंद्र जडेजा की गलती पर रनआउट होकर पवेलियन लौटते हुए रहाणे ने जिस तरह से अपनी प्रतिक्रिया दी, उसने भी क्रिकेट जगत का दिल जीत लिया। 

2- डेब्यू करने वाले शुभमन और सिराज ने जीता दिलः सिराज ने पहली पारी में मार्नस लाबूशेन और कैमरोन ग्रीन के अहम विकेट झटके, इसके बाद दूसरी पारी में उन्होंने ट्रैविस हेड, कैमरोन ग्रीन और नाथन लायन को पवेलियन भेजा। ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी के दौरान उमेश यादव चोटिल हो गए और महज 3.3 ओवर की ही गेंदबाजी कर सके। उमेश यादव के मैदान से बाहर जाने के बाद जसप्रीत बुमराह की अगुवाई में सिराज ने जबर्दस्त गेंदबाजी की। वहीं शुभमन गिल ने पहली पारी में 45 और दूसरी पारी में नॉटआउट 35 रनों की पारी खेली। 

3- विराट और शमी के बिना जीत के मायने अलगः इस मैच में विराट कोहली, मोहम्मद शमी, रोहित शर्मा और ईशांत शर्मा जैसे दिग्गज क्रिकेटर्स नहीं खेले, इसके बावजूद टीम इंडिया ने जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर धूल चटाई है, उसकी तारीफ होना लाजमी है। विराट के पैटरनिटी लीव पर जाने के बाद से इस बात की चर्चा हो रही थी कि अब टीम इंडिया यह सीरीज 0-4 से हारेगी, लेकिन टीम इंडिया ने इस मैच में एक यूनिट के तौर पर जबर्दस्त प्रदर्शन किया और ऐसी तमाम भविष्यवाणियों को गलत साबित कर दिया।

4- जडेजा की फिफ्टीः रविंद्र जडेजा पिछले कुछ समय में अपनी बल्लेबाजी के लिए काफी चर्चा में रहे हैं। इस मैच में भी उन्होंने अहम मौके पर कप्तान रहाणे का साथ निभाया और टीम इंडिया को पहली पारी में 100 से ज्यादा रनों की बढ़त दिलाने में अहम भूमिका निभाई। जडेजा ने हाफसेंचुरी ठोकी और साथ ही गेंदबाजी भी अच्छी की। पहली पारी में उन्होंने एक और दूसरी पारी में दो विकेट लिए।

5- डीआरएस को लेकर बवाल और सुधरी हुई फील्डिंगः पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया की फील्डिंग बहुत खराब रही थी और मेलबर्न में फील्डिंग काफी चुस्त नजर आई। इसके अलावा दूसरे टेस्ट मैच में डीआरएस और तीसरे अंपायर के फैसलों को लेकर काफी विवाद हुआ है। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने भी आईसीसी से मांग की है कि डीआरएस पर खासकर अंपायर्स कॉल को लेकर गहराई से काम किया जाना चाहिए।


IPL 2020 Eliminator: हैदराबाद की जीत के साथ खत्म हुआ RCB का सफर

IPL 2020 Eliminator: हैदराबाद की जीत के साथ खत्म हुआ RCB का सफर

07-Nov-2020

नई दिल्ली : इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन (IPL 2020) के एलिमिनेटर मैच में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB,आरसीबी) की टीम को सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) के खिलाफ 6 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ आरसीबी का आईपीएल 2020 में सफर भी समाप्त हो गया। पहले बल्लेबाजी करते हुए बैंगलोर की टीम ने एबी डिविलियर्स (56) की पारी  के दम पर 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 131 रन बनाए। जवाब में हैदराबाद की टीम ने केन विलियमसन (नॉटआउट 50) और जेसन होल्डर (नॉटआउट 24) की पारियों के चलते इस लक्ष्य को 2 गेंद शेष रहते हुए ही अपने नाम कर लिया। आरसीबी टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) टीम के प्रदर्शन से नाखुश नजर आए। 

कोहली ने मैच के बाद कहा, 'अगर हम पहली पारी की बात करें तो मुझे नहीं लगता कि स्कोर बोर्ड पर रन काफी थे। हम दूसरे हाफ में इस मैच को बनाया। यह एक ऐसा गेम था जहां आप चूक नहीं कर सकते थे और अगर वहां केन को पकड़ लिया गया होता, तो यह गेम कुछ अलग होता। हालांकि, उन्होंने पहली पारी में हम पर काफी दबाव बनाया। हमने कुछ खराब शॉट्स के चलते विकेट गंवाए, कुछ वो विकेटों के मामले में वो भाग्यशाली रहे और हम स्कोर बोर्ड पर अच्छा टोटल नहीं लगा सके। हमको बल्ले से और अच्छा काम करने की जरूरत थी। हमने गेंदबाजों को छूट दी कि वो जिस एरिया में चाहे गेंदबाजी कर सकते हैं, उनके ऊपर हमने कोई प्रेशर नहीं बनाया। पिछले दो-तीन मैचों में हमने सीधा गेंद फील्डरों के हाथों में मारी, कुछ शानदार शॉट्स भी फील्डरों के पास गए। पिछले चार-पांच मैचों में एक अजीब तरह का फेस रहा।' 

कोहली ने युवा बल्लेबाज देवदत पडीक्कल की तारीफ करते हुए कहा, 'आरसीबी के लिए कुछ चीजें काफी पॉजिटिव रहीं, जिसमें से देवदत पडीकक्ल एक हैं। वो काफी अच्छे तरीके से आगे आए और 400 से ज्यादा रन बनाना कोई आसान काम नहीं है। उन्होंने टीम के लिए काफी अहम योगदान दिया। बहुत खुश हो उनके लिए। बाकी बल्लेबाजों ने भी बल्ले से योगदान दिया, लेकिन वो काफी नहीं था।'


आज सनराइजर्स हैदराबाद बनाम रॉयल चैलेंजर्स, हारने वाली टीम होगी बाहर!

आज सनराइजर्स हैदराबाद बनाम रॉयल चैलेंजर्स, हारने वाली टीम होगी बाहर!

06-Nov-2020

आईपीएल 2020 में शुक्रवार को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर बनाम सनराइजर्स हैदराबाद के बीच अहम् मुकाबला होने जा रहा है। बतौर कप्तान विराट कोहली के सामने ऑस्ट्रेलियाई डेविड वार्नर होंगे, जो विराट कोहली को पूरी टक्कर देंगे।

द  न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा  के अनुसार, सनराइजर्स हैदराबाद बनाम आरसीबी टीम के बीच हारने वाली टीम का आईपीएल 2020 में सफर खत्म हो जाएगा, तो वहीं जीतने वाली टीम 8 नवंबर को फाइनल में जाने के लिए भिड़ेगी।

प्रेडिक्शन की बात करें तो सनराइजर्स हैदराबाद टीम विराट कोहली की आरसीबी टीम पर भारी नजर आ रही है, गेंदबाजी यूनिट आरसीबी के मुकाबले हैदराबाद की मजबूत है।

टीम में टी नटराजन जैसे परफेक्ट यॉर्कर गेंदबाज है तो अनुभवी राशिद खान कभी भी अकेले मैच का रुख पलट सकने में सक्षम है। जेसन होल्डर के प्लेइंग 11 में आ जाने से टीम में गेंदबाजी और बल्लेबाजी, दोनों को ताकत मिली है।

बल्लेबाजी की बात करें तो रिद्धिमान साहा के आ जाने से हैदराबाद की ओपनिंग जोड़ी कमाल हो गई है, वहीं आगे मनीष पांडेय और जेसन होल्डर के रूप में टीम के पास अच्छे मिडिल आर्डर बल्लेबाज है।

हालांकि टीम विराट कोहली की अगुवाई वाली आरसीबी को हलके में नहीं ले सकती, क्योंकि उनके पास चहल की फिरकी और मिस्टर 360 डिग्री कहे जाने वाले एबी डिविलियर्स है।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर प्लेइंग 11 

देवदत्त पडिकल, जोश फिलिप, विराट कोहली, एबी डिविलियर्स, शिवम् दुबे, वाशिंगटन सुंदर, क्रिस मोरिस, ईसरु उडाना, नवदीप सैनी, मोहम्मद सिराज, युजवेंद्र चहल

सनराइजर्स हैदराबाद प्लेइंग 11 

डेविड वार्नर, रिद्धिमान साहा, मनीष पांडेय, केन विलियम्सन, अब्दुल समद, जेसन होल्डर, प्रियम गर्ग, राशिद खान, शादाब नदीम, संदीप शर्मा, टी नटराजन

 
 

IND vs AUS: सूर्यकुमार यादव को टीम इंडिया में जगह न मिलने पर भड़के हरभजन सिंह

IND vs AUS: सूर्यकुमार यादव को टीम इंडिया में जगह न मिलने पर भड़के हरभजन सिंह

28-Oct-2020

नई दिल्ली : दुनिया के सबसे धनी क्रिकेट बोर्ड बीसीसीआई ने सोमवार को ऑस्ट्रेलियाई दौरे के लिए टीम इंडिया की घोषणा कर दी। कोविड-19 महामारी के बाद टीम इंडिया का यह पहला इंटरनेशनल दौरा होगा। टीम के खिलाड़ियों ने इससे पहले आईपीएल जैसे टूर्नामेंट में ही भाग लिया है। इस दौरे पर लिमिटेड ओवर क्रिकेट में टीम के उप-कप्तान रोहित शर्मा चोट की वजह से नहीं जा रहे हैं। इसके अलावा युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत की वनडे और टी-20 से छुट्टी कर दी गई है। ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम चयन से पहले हर कोई उम्मीद कर रहा था कि इस बड़े दौरे के लिए आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिए शानदार प्रदर्शन कर रहे सूर्यकुमार यादव को जगह मिलेगी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका और उनकी एक बार फिर अनदेखी कर दी गई। उनके न चुने जाने पर दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने नाराजगी जताई है।

सूर्यकुमार यादव को ऑस्ट्रेलियाई दौरे के लिए टीम इंडिया में जगह न मिलने पर उन्होंने ट्वीट किया और लिखा, ''सूर्यकुमार यादव ऐसा क्या करें कि उन्हें टीम में चुन लिया जाए। वो आइपीएल के हर सीजन में और रणजी सीजन में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। टीम में चयन के लिए अलग लोगों के लिए अलग नियम हैं। मैं बीसीसीआई से अनुरोध करूंगा कि वो एक बार उनका रिकॉर्ड चेक करें।''

आईपीएल की बात करें तो यहां सूर्यकुमार यादव का सफर शानदार रहा है। अब तक खेले 11 मैचों में उन्होंने 149 की स्ट्राइक रेट से 283 रन बनाए हैं। उन्होंने इस दौरान दो फिफ्टी जड़ अपनी टीम को मिडिल ऑर्डर में मजबूती दी है। टीम इंडिया के इस दौरे पर मुंबई इंडिंयस के कप्तान रोहित शर्मा को भी जगह नहीं दी गई है। बीसीसीआई ने यह फैसला उनकी चोट की वजह से लिया है। उनकी अनुपस्थिति में लिमिटेड ओवर क्रिकेट में केएल राहुल को टीम इंडिया का उपकप्तान बनाया गया है। राहुल को यह मौका उनके आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से किए गए शानदार प्रदर्शन की बदौलत मिला है।


धोनी ने रचा इतिहास, IPL में ऐसा कारनामा करने वाले बने पहले खिलाड़ी

धोनी ने रचा इतिहास, IPL में ऐसा कारनामा करने वाले बने पहले खिलाड़ी

20-Oct-2020

यूएई में जारी इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) में बेशक तीन बार की चैम्पियन चेन्नई सुपर किंग्स का प्रदर्शन अच्छा न रहा हो लेकिन आज राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ होने वाले मुकाबले में सबकी नजरें टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर होंगी। इसके पीछे की वजह बेहद खास है क्योंकि आज धोनी आईपीएल इतिहास का अपना 200वां मैच खेल रहे हैं। इस खास कारनामे को अपने नाम करने वाले धोनी दुनिया के पहले क्रिकेटर हैं।

धोनी 2008 में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम में जुड़े थे और उसके बाद हर सीजन(2016 और 2017 छोड़कर) में उन्होंने टीम की कप्तानी की है। 2016 और 2017 में चेन्नई टीम के आईपीएल खेलने पर बैन लग गया था। इन दो सालों में धोनी राइजिंग पुणे सुपर जाइंट्स की तरफ से खेले थे। इस दौरान उन्होंने कुल 30 मुकाबले खेले। 2016 में उन्होंने टीम की कप्तानी संभाली लेकिन अगले साल टीम मैनेजमेंट ने उनकी जगह ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ को कप्तानी का जिम्मा दे दिया था।

दो सालों के बाद चेन्नई की एक बार फिर आईपीएल में एंट्री हुई और एक बार फिर से टीम मैनेजमेंट ने धोनी पर भरोसा जताते हुए उन्हें कप्तान बनाया। धोनी के कप्तानी में सीएसके के टूर्नामेंट में रिकॉर्ड्स शानदार हैं। उनकी कप्तानी में चेन्नई ने रिकॉर्ड आठ बार फाइनल खेला है और तीन बार खिताब जीतने में भी सफलता प्राप्त की है। पिछले साल के आईपीएल फाइनल में चेन्नई को मुंबई इंडियंस के हाथों फाइनल में एक रन से हार का सामना करना पड़ा था।

धोनी की बल्लेबाजी की बात करें तो उन्होंने अब तक आईपीएल में 4568 रन बनाए हैं जिसमें चेन्नई की तरफ से 3994 रन दर्ज हैं। इसके अलावा दो साल पुणे की तरफ से खेलते हुए उन्होंने 17 पारियों में 574 रन बनाए। कप्तान के तौर  पर उन्होंने दो टीमों की तरफ से 183 मैचों में कप्तानी की है। चेन्नई की तरफ से धोनी ने अपनी कप्तानी में 169 मैचों में से 102 में जीत दिलाई है।

 
 

IPL-2020: दिनेश कार्तिक ने छोड़ी KKR की कप्तानी, इयोन मॉर्गन होंगे नए कैप्टन

IPL-2020: दिनेश कार्तिक ने छोड़ी KKR की कप्तानी, इयोन मॉर्गन होंगे नए कैप्टन

16-Oct-2020

नई दिल्ली : दिनेश कार्तिक ने कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) की कप्तानी छोड़ने का फैसला कर लिया है. उन्होंने टीम प्रबंधन को अपने फैसले के बारे में बताया.  कार्तिक ने इंग्लैंड के सीमित ओवरों के कप्तान इयोन मॉर्गन को कप्तानी सौंपने की इच्छा जताई. आज (शुक्रवार) अबु धाबी में मुंबई इंडियंस के खिलाफ होने वाले मैच में मॉर्गन ही टीम की अगुवाई करेंगे. मोर्गन अब तक उपकप्तान की भूमिका निभा रहे थे.

टीम के अब तक के लचर प्रदर्शन के कारण दिनेश कार्तिक की कप्तानी की आलोचना हो रही थी. कार्तिक ने केकेआर प्रबंधन को सूचित किया कि वह बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करने और टीम के उद्देश्य में अधिक योगदान देने के लिए टीम की कप्तानी इयोन मॉर्गन को सौंपना चाहते हैं.

केकेआर के सीईओ वेंकी मैसूर ने कहा, 'हम भाग्यशाली हैं कि हमारे पास डीके (दिनेश कार्तिक) जैसा नेतृत्वकर्ता हैं. उन्होंने हमेशा टीम को पहले रखा है. उनके जैसा निर्णय लेने के लिए बहुत साहस चाहिए. हम उनके इस फैसले से आश्चर्यचकित हैं. हम उनकी इच्छाओं का सम्मान करते हैं. हम भाग्यशाली हैं कि 2019 विश्व कप विजेता कप्तान इयोन मॉर्गन अब टीम का नेतृत्व करेंगे.'

मैसूर ने कहा, ‘कार्तिक ओर इयोन ने इस टूर्नामेंट के दौरान मिलकर बहुत अच्छा काम किया. अब भले ही इयोन कप्तानी संभाल रहे हैं, लेकिन यह एकतरह से भूमिकाओं की अदला-बदली है और हमें उम्मीद है कि यह बदलाव सहजता से काम करेगा.’

उन्होंने कहा, ‘कोलकाता नाइट राइडर्स से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति की तरफ से हम दिनेश कार्तिक का पिछले ढाई वर्षों में कप्तान के रूप में उनके योगदान के लिए आभार व्यक्त करते हैं और इयोन को शुभकामनाएं देते हैं.’

मौजूदा आईपीएल में कोलकाता की टीम अंक तालिका में चौथे स्थान पर है. उसने अब तक 7 में से 4 मुकाबले जीते हैं. शुक्रवार को KKR अपने 8वें मैच में मुंबई इंडियंस का सामना करेगी.

दिनेश कार्तिक के प्रदर्शन की बात करें, तो उन्होंने अब तक 7 मैचों में 15.42 के एवरेज से बल्लेबाजी की और एक अर्धशतक के साथ 108 रन बनाए. उनकी बल्लेबाजी में निरंतरता नहीं दिखी. साथ ही कप्तान के तौर पर उनके फैसलों पर भी उंगली उठी.

केकेआर का सबसे बड़ी परेशानी उसके बल्लेबाजों का निरंतर एक जैसा प्रदर्शन नहीं कर पाना है. आंद्रे रसेल का खराब फॉर्म उसके लिए चिंता का विषय है. रसेल ने अब तक 7 मैचों में केवल 71 रन बनाए हैं.

कोलकाता के पास कई ऐसे बल्लेबाज हैं जो किसी भी आक्रमण की धज्जियां उड़ा सकते हैं. इनमें युवा शुभमन गिल, खुद इयोन मॉर्गन, नितीश राणा और दिनेश कार्तिक प्रमुख हैं, लेकिन कुछ मैचों को छोड़कर वे लगातार लंबी पारियां नहीं खेल पाए. अब मॉर्गन के पास टीम को संवारने का मौका है.


IPL 2020 : केकेआर को लगा बड़ा झटका, अली खान हुए टूर्नामेंट से बाहर

IPL 2020 : केकेआर को लगा बड़ा झटका, अली खान हुए टूर्नामेंट से बाहर

07-Oct-2020

नई दिल्ली: कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) ने अली खान को एक तेज गेंदबाज के रूप में टीम में शामिल किया था लेकिन अब उन्हें चोट के चलते टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा है। इससे पहले, खान संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएई) के पहले ऐसे गेंदबाज बने थे जो आईपीएल का हिस्सा बने थे। अली खान को इंग्लैंड के पेसर हैरी गुरनी की जगह टीम में रखा गया था, जिन्होंने कंधे की सर्जरी से गुजरने के लिए खुद को लीग से बाहर रखा। हालांकि अली खान को एक भी मैच खेलने का माैका नहीं मिला। केकेआर ने एक बयान जारी करते हुए कहा, ''अली खान आईपीएल में सिलेक्ट होने वाले अमेरिका के पहले खिलाड़ी बने थे, लेकिन अली खान चोट की वजह से टूर्नामेंट में नहीं खेल पाएंगे। अली खान ने प्रैक्टिस के दौरान खुद को घायल कर लिया।''

बता दें कि केकेआर के मालिक शाहरुख खान ने ही अली खान को टीम में शामिल किया। हाल ही में समाप्त हुई कैरेबियन प्रीमियर लीग में ट्रिनबागो नाइट राइडर्स (TKR) के लिए कुछ शानदार प्रदर्शनों के साथ अली खान नजर आ रहे थे। ट्रिनबागो नाइट राइडर्स सीजन-2020 में फाइनल में जीत हासिल कर चाैथी बार खिताब जीता था, जिसमें अली खान ने 8 मैचों में 7.43 की इकोनोमी से 8 विकेट हासिल किए। अली खान के लिए वैसे भी प्लेइंग इलेवन में शामिल होना थोड़ा मुश्किल दिख रहा है। इस सीजन में केकेआर लाइन-अप में इयोन मॉर्गन, टॉम बैंटन, पैट कमिंस, आंद्रे रसेल, क्रिस ग्रीन, सुनील नारायण और लॉकी फर्ग्यूसन की पसंद उनकी विदेशी टुकड़ी है।


IPL 2020: मुंबई की आंधी में उड़ी पंजाब, जाने हार के तीन बड़े कारण

IPL 2020: मुंबई की आंधी में उड़ी पंजाब, जाने हार के तीन बड़े कारण

02-Oct-2020

नई दिल्ली : रोहित शर्मा के शानदार अर्धशतक, आखिरी ओवरों में कीरोन पोलार्ड की आतिशी पारी और फिर जसप्रीत बुमराह की बेहतरीन गेंदबाज के दम पर मुंबई इंडियंस ने गुरुवार को इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब को 48 रन से हराकर एकतरफा जीत दर्ज की। मुंबई ने पहले बल्लेबाजी के लिए भेजे जाने पर चार विकेट पर 191 रन बनाए। जवाब में पंजाब की टीम आठ विकेट पर 143 रन ही बना सकी। डेथ ओवरों के विशेषज्ञ बुमराह ने चार ओवर में सिर्फ 18 रन देकर दो विकेट लिए। मयंक अग्रवाल 18 गेंद में 25 रन बनाकर बुमराह का शिकार हुए। किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान कप्तान केएल राहुल भी कुछ खास नहीं कर सके और 17 के स्कोर पर राहुल चाहर को रिटर्न कैच दे बैठे। आइए नजर डालते हैं उन कारणों पर जिनके चलते पंजाब को इस मैच में हार का सामना करना पड़ा।

टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का फैसला
यूएई में हो रहे पिछले कुछ मैचों में यह देखा गया है कि टॉस जीतकर फील्डिंग करने वाली टीमों को इस आईपीएल में हार का सामना करना पड़ा है। पहले बल्लेबाजी करने पर दबाव नहीं होता और खिलाड़ी खुलकर खेल सकते हैं। इसके अलावा अब यूएई की पिचें बाद में बल्लेबाजी के दौरान धीमी होती जा रही है। ऐसे में बाद में बल्लेबाजी करना मुश्किल हो जाता है। भले ही ओस का फैक्टर देखा गया हो लेकिन यहां इतना असर ओस का दिखा नहीं है।

आखिरी ओवर में कृष्णप्पा गौतम की पिटाई 
अंतिम ओवर किंग्स इलेवन पंजाब के लिए कृष्णप्पा गौतम ने किया जिसे मुंबई इंडियंस के बल्लेबाज किरोन पोलार्ड और हार्दिक पांड्या ने धो दिया। पोलार्ड ने तीन लगातार छक्के जड़े। उनके अलावा पांड्या ने भी एक छक्का जड़ा। अंतिम ओवर में कुल 25 रन जड़कर मुंबई ने स्कोर 190 के पार पहुंचा दिया और किंग्स इलेवन पंजाब के लिए यह ओवर भारी पड़ा।

मयंक-केएल राहुल न चल पाना
पंजाब के सलामी बल्लेबाज केएल राहुल और मंयक अग्रवाल दोनों अच्छी फॉर्म में हैं लेकिन इस बार उनका बल्ला नहीं चला। हालांकि शुरुआत तो अच्छी हुई थी लेकिन बाद में दोनों आउट हो गए। मयंक ने जहां 25 रन का योगदान दिया वहीं केएल राहुल ने 17 रन बनाए। इसके बाद निकोलस पूरन के अलावा किंग्स इलेवन का कोई भी बल्लेबाज क्रीज पर नहीं टिका। उन्होंने 27 गेंद में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 44 रन बनाए। उन्हें जेम्स पेटिंसन ने विकेट के पीछे क्विंटन डिकॉक के हाथों लपकवाया। ग्लेन मैक्सवेल और जेम्स नीशम जैसे ऑलराउंडर भी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सके।