Previous123456789...5556Next
लोकवाणी में इस बार उद्यमिता और जनसशक्तिकरण का छत्तीसगढ़ मॉडल पर होगी बात

लोकवाणी में इस बार उद्यमिता और जनसशक्तिकरण का छत्तीसगढ़ मॉडल पर होगी बात

26-Oct-2021

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

लोकवाणी में इस बार उद्यमिता और जनसशक्तिकरण का छत्तीसगढ़ मॉडल पर होगी बात

27, 28 एवं 29 अक्टूबर को अपरान्ह 3 से 4 बजे के बीच फोन करके करा सकते हैं रिकॉर्डिंग

14 नवंबर को प्रसारित होगी 23 वीं कड़ी

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल लोकवाणी में इस बार उद्यमिता और जनसशक्तिकरण का छत्तीसगढ़ मॉडल पर बातचीत करेंगे। इस संबंध में आप आकाशवाणी रायपुर के दूरभाष नंबर 0771-2430501, 2430502, 2430503 पर 27, 28 एवं 29 अक्टूबर को अपरान्ह 3 से 4 बजे के बीच फोन करके अपने सवाल रिकॉर्ड करा सकते हैं।

 मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मासिक रेडियो वार्ता लोकवाणी की 23वीं कड़ी का प्रसारण 14 नवंबर 2021 को होगा। लोकवाणी का प्रसारण छत्तीसगढ़ स्थित आकाशवाणी के सभी केंद्रों, एफएम रेडियो और क्षेत्रीय समाचार चैनलों से सुबह 10.30 से 11 बजे तक होगा।


महंगी होती स्वास्थ्य सेवाओं को गरीब से गरीब लोगों की पहुंच में लाने का प्रयास : श्री भूपेश बघेल

महंगी होती स्वास्थ्य सेवाओं को गरीब से गरीब लोगों की पहुंच में लाने का प्रयास : श्री भूपेश बघेल

21-Oct-2021

महंगी होती स्वास्थ्य सेवाओं को गरीब से गरीब लोगों की पहुंच में लाने का प्रयास : श्री भूपेश बघेल


मुख्यमंत्री ने श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर योजना का किया शुभारंभ : योजना के अंतर्गत 84 मेडिकल स्टोर हुए शुरू

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि महंगी होती स्वास्थ्य सेवाओं को गरीब से गरीब व्यक्ति की पहंुच में लाने का प्रयास राज्य सरकार द्वारा पूरी संवेदनशीलता के साथ किया जा रहा है। इसके लिए अनेक योजनाएं प्रारंभ की गई हैं। इसी कड़ी में आज श्री धन्वंतरी मेडिकल स्टोर योजना का शुभारंभ किया गया है। इन मेडिकल स्टोर्स में जेनेरिक दवाइयां 50 से 71 प्रतिशत कम कीमत पर उपलब्ध होगी। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास कार्यलय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए श्री धन्वन्तरी जेनरिक मेडिकल स्टोर योजना का शुभारंभ करने के बाद कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस योजना के अंतर्गत राज्य में 84 दुकानों का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री बघेल ने किया। श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर्स से उपभोक्ताओं को सस्ती दर पर गुणवत्तापूर्ण दवाईयां उपलब्ध होगी। उपभोक्ताओं को दवाइयों की एमआरपी पर न्यूनतम 50.09 प्रतिशत और अधिकतम 71 प्रतिशत छूट का लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस अवसर पर दवाइयों के होम किट और ट्रैवल किट का लोकार्पण भी किया। यह किट श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर में विक्रय के लिए उपलब्ध होंगे। दवाइयों के होम किट की कीमत 691 रुपये है, जो इन मेडिकल स्टोर में 290 रुपये के मूल्य पर तथा ट्रेवल किट जिसकी कीमत 311 रुपये है, वह 130 रुपये में उपलब्ध होगा।
नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा संचालित इस योजना में आने वाले समय में प्रदेश के 169 शहरों में 188 मेडिकल स्टोर्स प्रारंभ करने की योजना है। इन मेडिकल स्टोर्स में 251 प्रकार की जेनरिक दवाईयां तथा 27 सर्जिकल उत्पाद की बिक्री अनिवार्य होगी। इसके अलावा वन विभाग के संजीवनी के उत्पाद, सौंदर्य प्रसाधन उत्पाद और शिशु आहार आदि का भी विक्रय किया जाएगा। इन मेडिकल स्टोरों से मिलने वाली जेनेरिक दवाईयां सिपला, एलेम्बिक, रेनबैक्सी, केडिला, फाईजर जैसी 20 ब्रांडेड प्रतिष्ठित कंपनी की होंगी, जो सस्ती होने के साथ-साथ गुणवत्तापूर्ण भी होंगी। इन मेडिकल स्टोर्स में दर्द और ज्वर नाशक, मांसपेशियों को आराम देने वाली दवाई, महिलाओं के मासिक धर्म, गर्भावस्था की दवाई, एलर्जी, आंख, कान, नाक, गला रोग, हृदय रोग, सर्दी-खाँसी- बुखार, लोकल एवं जनरल अनेसथेसिया, थायराइड की दवाइयां, एंटीफंगल दवा, विटामिन की गोलियां एवं त्वचा संबंधी रोगों की दवाई उपलब्ध रहेंगी।
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस अवसर पर कहा कि पूरी दुनिया में महंगी होती स्वास्थ्य सेवाएं चिंता का कारण है। अनेक लोग इलाज के खर्च के कारण कर्ज और महंगाई का शिकार हो जाते हैं। राज्य सरकार द्वारा यूनिवर्सल हेल्थ कव्हरेज के लक्ष्य के साथ दुर्गम स्थानों में बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं पहंुचाने के लिए मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना, शहरी क्षेत्रों में मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना प्रारंभ की गई हैं, जिनमें मोबाइल मेडिकल यूनिट के जरिए अधिक से अधिक जरूरतमंद लोगों तक स्वास्थ्य सेवाएं पहंुच रही हैं। महिलाओं और किशोरी बालिकाओं के लिए दाई-दीदी क्लिनिक योजना प्रारंभ की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा बस्तर से मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान और मलेरिया मुक्त अभियान की शुरूआत कर इसका विस्तार पूरे प्रदेश में किया गया है। विकासखंड स्तर से लेकर जिला स्तर तक अस्पतालों को सर्व सुविधायुक्त बनाया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग में 4000 पदों में नई भर्तियां की जा रही हैं। गरीब से गरीब लोगों को इलाज के लिए सहायता उपलब्ध कराने के उद्देश्य से डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना और मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य योजना प्रारंभ की गई है। इन योजनाओं में इलाज के लिए 5 लाख से 20 लाख रूपए की मदद दी जाती है, ताकि गरीब से गरीब व्यक्ति भी गंभीर बीमारी का इलाज करा सकें। इलाज में पैसे की कमी अवरोध न बने। मुख्यमंत्री इस अवसर पर डॉक्टरों और फार्मासिस्टों से जेनेरिक दवाईयों को लोकप्रिय बनाने में अपना योगदान देने और जनप्रतिनिधियों से इस योजना का प्रचार-प्रसार करने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जंगलों में रहने वाले वनवासियों द्वारा वनोपजों और वनौषधियों का संग्रहण कर आर्गेनिक उत्पाद तैयार किए जा रहे हैं, जो इन मेडिकल स्टोरों में भी उपलब्ध होंगे। उन्होंने इन उत्पादों का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने की अपील इस अवसर पर की।
मुख्यमंत्री ने विभिन्न जिलों से जुड़े कलेक्टर्स, जनप्रतिनिधियों और योजना के हितग्राहियों से मिल रहे लाभ की जानकारी ली। कोरबा के हितग्राही श्री सुमीत कुमार यादव ने बताया कि उन्हें इन मेडिकल स्टोर्स से खरीदी गई दवाईयों से 600 रूपए की बचत हुई है। इसी प्रकार बस्तर के सुश्री पार्वती द्वारा बीपी की दवा 138 रूपए की जगह 50 रूपए में मिलने की जानकारी दी गई।
नगरीय प्रशासन डॉ. शिवकुमार डहरिया और वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया। नगरीय प्रशासन विभाग की सचिव श्रीमती अलरमेलमंगई डी. ने योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्हांेने बताया कि भविष्य में इन मेडिकल स्टोर्स से दवाईयों की घर पहुंच सेवा भी शुरू की जाएगी। उन्हांेने बताया कि मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना 13 अक्टूबर तक 10 लाख से अधिक लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ पहुंचाया जा चुका है। कार्यक्रम में उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेम साय सिंह टेकाम, विधायक श्री मोहन मरकाम, श्री मोहित राम केरकेट्टा और श्री पुरुषोत्तम कंवर, मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन, नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की सचिव श्रीमती अलरमेलमंगई डी, राज्य शहरी विकास अभिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सौमिल रंजन चौबे  उपस्थित थे। वीडियो कांफ्रेंस के जरिए विभिन्न जिलों से विधायक महापौर पार्षद सहित अनेक जनप्रतिनिधि जिले के कलेक्टर भी कार्यक्रम से जुड़े।
धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर योजना के अंतर्गत दुर्ग जिले में 15, जांजगीर-चांपा जिले में 15, धमतरी, कोरबा और रायगढ़ जिले में 6-6, राजनांदगांव मंे 5, बिलासपुर, कोण्डागांव, सुकमा और बीजापुर जिले में 3-3, रायपुर, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही, सूरजपुर और जशपुर जिले में 2-2, महासमंुद, बलौदाबाजार-भाटापारा, गरियाबंद, बेमेतरा, कबीरधाम, सरगुजा, बलरामपुर-रामानुजगंज, बस्तर, नारायणपुर, कांकेर और दंतेवाड़ा जिले में 1-1 मेडिकल स्टोर का आज शुभारंभ हुआ।


अमितेश शुक्ला के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने की बगावत 200 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं  4 जिला कांग्रेस महामंत्री, 2 ब्लॉक कांग्रेस महामंत्री ने अपने पद से इस्तीफा दिया

अमितेश शुक्ला के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने की बगावत 200 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं 4 जिला कांग्रेस महामंत्री, 2 ब्लॉक कांग्रेस महामंत्री ने अपने पद से इस्तीफा दिया

14-Oct-2021

अमितेश शुक्ला के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने की बगावत 200 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं  4 जिला कांग्रेस महामंत्री, 2 ब्लॉक कांग्रेस महामंत्री ने अपने पद से इस्तीफा दिया 
गरियाबंद।  गरियाबंद जिले में कांग्रेस विधायक अमितेश शुक्ला के खिलाफ हुए कांग्रेस के कार्यकर्त्ता जिसका  इसका खुला असर देखने को मिल रहा है। गरियाबंद 4 जिला कांग्रेस महामंत्री, 2 ब्लॉक कांग्रेस महामंत्री ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही 200 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। सभी कांग्रेसी सदस्य एक ही गांव के हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम के नाम सभी कांग्रेसियों ने इस्तीफा सौंपा है। इस्तीफा देने वालों ने गंभीर आरोप भी लगाए हैं।
 
मोहन मरकाम को लिखे अपने इस्तीफा पत्र में कांग्रेसियों ने विधायक अमितेष शुक्ल के खिलाफ  सहयोग नहीं करने का आरोप लगाया है। विधायक शुक्ल पर भ्रष्टाचार मामलों में घिरी गांव की महिला सरपंच का साथ देने का आरोप भी कांग्रेसियों ने लगाया है। गरियाबंद के कोपरा पंचायत के कांग्रेसियों ने पार्टी से इस्तीफा देकर विधायक के खिलाफ नाराजगी जताई है। इस्तीफा पत्र में उन्होंने लिखा है कि ग्राम पंचायत कोपरा में व्याप्त भ्रष्टाचार के विरोध में लड़ रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं और सदस्यों को पार्टी पदाधिकारियों और विधायक अमितेष शुक्ल का सहयोग नहीं मिल रहा है। जिस कारण कांग्रेस जन हताश होकर पार्टी के पद और कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे रहे हैं।
 
बता दें कि कांग्रेस सरकार में प्रदेश स्तर पर आपसी स्तर पर खींचतान के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। हालही में विधायकों के एक समूह ने अपनी पार्टी की सरकार में मंत्री प्रेम साय सिंह टेकाम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। उनपर कांग्रेसी विधायकों ने ट्रांसफर के नाम पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।

 


तम्बाकू मुक्त शिक्षण संस्थान के लिए कार्यशाला एवं प्रशिक्षण का आयोजन

तम्बाकू मुक्त शिक्षण संस्थान के लिए कार्यशाला एवं प्रशिक्षण का आयोजन

08-Oct-2021

जिले के 3,000 स्कूलों में शिक्षकों को बनाया जाएगा नोडल अधिकारी

दुर्ग,  राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत स्कूलों को तंबाकू मुक्त शिक्षण संस्थान बनाने के लिए कार्यशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन जिला पंचायत दुर्ग के सभागार में किया गया। जिले के 3,000 से ज्यादा शासकीय व निजी स्कूल परिसरों को तंबाकू मुक्त बनाने के प्रथम चरण में 60 शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया गया। इन शिक्षकों को प्रशिक्षण के बाद स्कूल परिसर के अंदर और बाहर 100 गज के दायरे में तंबाकू उत्पाद की बिक्री व सेवन पर अंकुश लगाने हेतु नोडल अधिकारी की जिम्मेदारी दी जा रही है। नोडल अधिकारियों को स्कूलों में तंबाकू उत्पाद के सेवन करने पर शिक्षकों व छात्रों पर 200 रुपए जुर्माना लगाने का अधिकार भी दिया गया है। इसके अतिरिक्त छात्रों के लिए विभिन्न गतिविधियों को आयोजित करते हुए तंबाकू सेवन न करने की शपथ दिलाई  जाएगी। जिले के स्कूलों को 14 नवंबर 2021 तक तंबाकू फ्री शिक्षण संस्थान घोषित करने के लिए स्कूलों का मूल्यांकन 9  बिन्दुओं के आधार पर किया जाएगा।

राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम (एनटीसीपी) की जिला सलाहकार डॉ. सोनल सिंह ने बताया, “तंबाकू मुक्त जिला बनाने के लिए स्कूलों को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाना है। इसके लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.  गंभीर सिह ठाकुर के दिशा निर्देश एवं जिला नोडल अधिकारी (एनटीसीपी) डॉ. आर.के. खण्डेलवाल के मार्गदर्शन सभी स्कूलों के एक-एक शिक्षकों को प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है।“

इस दौरान डॉ. मुनिष भगत के द्वारा कार्यशाला में शिक्षकों को तम्बाकू की उत्पत्ति, तम्बाकू के उद्योग की जानकारी दी गई। साथ ही बताया गया, कि तम्बाकू की लत युवाओं को कैसे लगती है तथा निकोटिन की लत को कैसे छोड़ा जा सकता है। इसके लिए अपनाई जाने वाले तरीकों के बारे में जानकारी दी गई।  डॉ.भगत ने साथ ही तंबाकू उत्पादों उससे होने वाले विभिन्न प्रकार के कैंसर जैसे मुख, नाक, गला, आमाशय, यकृत के बारे में प्रतिभागी शिक्षकों को बताया गया।

राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत डॉ. सोनल सिंह के द्वारा कोट्पा एक्ट 2003 के तहत धारा 04 (सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान पर प्रतिबंध) एवं धारा 06 (नाबालिकों एवं शैक्षणिक संस्थानों के आसपास सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू उत्पादों की बिक्री पर प्रतिबंध) के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई एवं तम्बाकू मुक्त शिक्षण संस्थान में दिये गये निर्देश एवं मापदण्डों जैसे की सभी विद्यालयों में तम्बाकू मुक्त शिक्षण संस्थान का बोर्ड, स्कूल परिसर में तम्बाकू से संबंधित जागरूकता हेतु दीवार लेखन एवं प्रचार-प्रसार सामग्री, स्कूल के 100 गज के आसपास के क्षेत्र में कोई भी तम्बाकू उत्पादों की बिक्री एवं दुकान नहीं  हो। इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी गई।

उक्त कार्यक्रम में स्वास्थ्य विभाग से काउंसलर ललित कुमार साहू एवं सोशल वर्कर कविता ताम्रकार ने बताया,  “संस्था के कर्मचारियों एवं विद्यार्थियों के द्वारा तंबाकू का प्रयोग ना कर संस्था को तंबाकू मुक्त शिक्षण संस्थान के रूप में स्थापित करना मुख्य उद्देश्य है। इसके लिए स्कूलों में हर दूसरे महीने तंबाकू से संबंधित जागरुकता कार्यक्रम एवं पेंटिंग, निबंध प्रतियोगिता आयोजित किए जाएंगे। हर स्कूल में एक- एक बालक एवं बालिका का चयन टोबैको वालिंटियर के तौर पर किया जाना है जो इस दायित्व का निर्वहन कर स्कूल को तंबाकू मुक्त शिक्षण संस्थान बनाने में सहयोग प्रदान करेंगे।“

-----//-----


 150 संभावित हृदय रोगियों की जिला अस्पताल पंडरी में हुई हृदय स्क्रीनिंग  35 हृदय रोगियों को सर्जरी के लिए उच्च केंद्रों पर किया रेफर

150 संभावित हृदय रोगियों की जिला अस्पताल पंडरी में हुई हृदय स्क्रीनिंग 35 हृदय रोगियों को सर्जरी के लिए उच्च केंद्रों पर किया रेफर

01-Oct-2021

 150 संभावित हृदय रोगियों की जिला अस्पताल पंडरी में हुई हृदय स्क्रीनिंग

35 हृदय रोगियों को सर्जरी के लिए उच्च केंद्रों पर किया रेफर

बुजुर्गों से लेकर कम उम्र तक के बच्चों में हृदय से जुड़ी समस्याओं के लिए जिले भर से रेफर किए संभावित हृदय रोगियों की स्क्रीनिंग जिला अस्पताल पंडरी में विशेष शिविर लगाकर की गई। विश्व हृदय दिवस के अवसर पर हृदय स्क्रीनिंग शिविर का आयोजन किया गया।

 जिला नोडल अधिकारी गैर संचारी रोग डॉ. सृष्टि यदु ने बताया, ‘’जिला अस्पताल पंडरी में 150 लोगों की हृदय स्क्रीनिंग की गई इन लोगों को रायपुर जिले के अभनपुर, तिल्दा, आरंग, धरसीवा विकासखंड और रायपुर शहरी क्षेत्र से जिला अस्पताल पंडरी में रेफर किया गया था । इनके लिए विशेष शिविर लगाकर विश्व हृदय दिवस के अवसर पर हृदय की स्क्रीनिंग की गई। डॉ. यदु ने कहा, हृदय स्क्रीनिंग  शिविर में बच्चों के हृदय अस्पताल सत्य साईं ह्रदय अस्पताल से प्रशांत ठाकुर और उनकी टीम ने बच्चों के हृदय की जांच की। वही मेकाहारा की स्मृति श्रीवास्तव और उनकी टीम के साथ  प्रीतम साहनी एम्स (ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस) और उनकी टीम ने युवाओं और बुजुर्गों की स्क्रीनिंग की। उनका ईसीजी भी किया गया । साथ ही गंभीर मरीजों को मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल रायपुर (मेकाहारा) और ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में परामर्श करने के लिए रेफर किया गया । वही बच्चों को सत्य साईं हृदय अस्पताल के लिए परामर्श दिया गया ।  इस शिविर में 35 हृदय रोगियों को हृदय सर्जरी के लिए उच्च केंद्रों पर रेफर किया गया ।“

 

स्क्रीनिंग के उपरांत मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल ने आए हुए लोगों को हृदय रोग के बारे में बताया और उनको जागरूक करने के लिए जानकारियां भी दी।  जिसमें छोटी-छोटी आदतों को सुधार कर हृदय रोग के खतरे को कैसे  टाल सकते हैं के बारे में बताया। उन्होंने कहा, “लोगों के पास अपने शरीर और मन को स्वस्थ और शांत रखने के लिए समय ही नहीं है। इसलिए समाज के हर व्यक्ति को जागरूक होना होगा। आदतों में रात में जल्दी सोने, सुबह जल्दी उठने, रात में भोजन के बाद कम से कम 100 मीटर टहलने, फास्ट फूड और जंक फूड से परहेज, तली भुनी चीजों का कम से कम प्रयोग, अधिक मात्रा में मांसाहार भोजन व धूम्रपान एवं मद्यपान से दूरी, उम्र के हिसाब से सुबह उठ कर योग करना, टहलना, खेलना, व्यायाम करना आदि को शामिल करना चाहिए। डॉ.बघेल ने कहा, हृदय को स्वस्थ रखना हमारे लंबे जीवन के लिए आवश्यक ही नहीं बल्कि निहायत ही जरूरी है। लेकिन अपने आप को स्वस्थ रखने की चाह रखने वाला व्यक्ति भी अपने रहन-सहन और खानपान, तैलीय भोज्य पदार्थों के कारण हृदय रोगी बन रहा है। उन्होंने कहा, इस कार्यक्रम के माध्यम से लोगों को यह बताना है कि ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिये दिनचर्या में कैसे बदलाव लाया जाए ताकि हृदय की बीमारी से बचा जा सके।“

इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ पी के गुप्ता एवं जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनीष मेजरवार मौजूद रहे ।

----------------------

 

 


जशपुर जिले के विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर परिवार के 116 शिक्षित युवक-युवतियों को अतिथि शिक्षक के रूप मिली नियुक्ति

जशपुर जिले के विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर परिवार के 116 शिक्षित युवक-युवतियों को अतिथि शिक्षक के रूप मिली नियुक्ति

29-Sep-2021

जशपुर जिले के विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर परिवार के 116 शिक्षित युवक-युवतियों को अतिथि शिक्षक के रूप मिली नियुक्ति
आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनकर अपने परिवार को भी सहायता कर रहें हैं
नियुक्ति पाने वाले युवाओं ने छत्तीसगढ़ शासन और जिला प्रशासन को धन्यवाद दिया

जशपुरनगर / जिला प्रशासन के सार्थक प्रयास से जशपुर जिले के दूरस्थ अंचल क्षेत्रों में निवास करने वाले  विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर परिवारों के शिक्षित युवक-युवतियों को खनिज न्यास निधि के तहत् जिले के चिन्हांकित प्राथमिक एवं माध्यामिक स्कूलों में अतिथि शिक्षक और अतिथि सहायक शिक्षक के रूप में नियुक्त किया गया है। युवाओं को रोजगार तो मिला ही है साथ ही बच्चों को भी अच्छी शिक्षा देकर मुख्य धारा से जोड़ा जा रहा है। जिला प्रशासन का प्रयास है कि जिले में निवासरत् विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर जनजाति के युवाओं को रोजगार से जोड़ा जाए औ उनकों आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जाए।
इसी कड़ी में कुल 116 युवाओं को रोजगार दिया गया है। इनमें 115 पहाड़ी कोरवा और 01 विशेष पिछड़ी जनजाति बिरहोर को नियुक्ति किया गया है। दिसम्बर 2018 के पश्चात् जिला खनिज न्यास निधि अंतर्गत शिक्षा के प्रोत्साहन एवं परिवारों के चहुमुखी उत्थान हेतु प्राथमिक शालाओं में रिक्त पद के विरूद्ध अतिथि सहायक शिक्षक एवं माध्यमिक शालाओं में रिक्त पद के विरूद्ध अतिथि शिक्षक के पद पर वर्ष 2020-21 एवं 2021-22 में नियुक्ति की गई है, नियुक्त किए गए अतिथि शिक्षक एवं अतिथि सहायक शिक्षक के पद पर कार्य कर रहे है। विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर परिवारों के शिक्षित युवक-युवतियों को अतिथि शिक्षक एवं अतिथि सहायक शिक्षक के पद पर नियुक्ति देने से उनके परिवार के आर्थिक स्थिति में सुधार आई है एवं परिवारों में शिक्षा के प्रति रूचि जागृत हुई है।
बगीचा विकासखंड के ग्राम रंगपूर ग्राम पंचायत बुटंगा की विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा महिला श्रीमती मिलो हसदाकर को बगीचा विकासखंड के पूर्व माध्यमिक शाला  मैनी में अतिथि शिक्षक के रूप में रखा गया है। उनकी शैक्षणिक योग्यता बीएससी बायो है। इसी प्रकार नगरपंचायत बगीचा के झापीदरहा के निवासी विशेष पिछड़ी जनजाति युवती पहाड़ी कोरवा अंजनी बाई को अतिथि शिक्षक के रूप में आदिजाति विभाग के अंतर्गत प्राथमिक शाला झगरपुर में नियुक्ति दी गई है। नियुक्ति पाने वाले युवाओं ने छत्तीसगढ़ शासन और जिला प्रशासन को धन्यवाद दिया है।


असम में राज्य की बर्बरता के खिलाफ SIO छत्तीसगढ़ ने अम्बेडकर चौक, रायपुर में किया विरोध प्रदर्शन।

असम में राज्य की बर्बरता के खिलाफ SIO छत्तीसगढ़ ने अम्बेडकर चौक, रायपुर में किया विरोध प्रदर्शन।

29-Sep-2021

असम में राज्य की बर्बरता के खिलाफ SIO छत्तीसगढ़ ने अम्बेडकर चौक, रायपुर में किया विरोध प्रदर्शन।

No description available.

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (एसआईओ) छत्तीसगढ़ द्वारा असम के दारंग जिले में पुलिस द्वारा दो मुसलमानों की हत्या के खिलाफ अम्बेडकर चौक, रायपुर में विरोध प्रदर्शन किया। संगठन ने मुसलमानों को प्रताड़ित करने वाले असम पुलिस कर्मियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की है।

दो मुसलमानों का कत्लेआम और एक मृत शव की विटंबना करना फासीवादी हिंदुत्व राज्य के क्रूर और सांप्रदायिक चेहरे को दर्शाता है। एसआईओ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद सलमान अहमद ने अपने बयान में कहा कि इस तरह से मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न असम में लोगों की सुरक्षा पर गंभीर सवाल खड़ा करता है, और इसी के साथ राष्ट्रीय सचिव तहूर अनवर ने प्रदर्शन में आए हुए सभी लोगों के सामने अपनी बात रखी तथा महिला विंग से फाखरा साहिबा ने अपनी बात प्रस्तुत की व अंत में प्रदेश अध्यक्ष मो. इमरान अजीज ने भी सभा को सम्बोधित किया इस मौके पर (एसआईओ) रायपुर के अध्यक्ष एसके अमानुल्लाह व जमात ए इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष रज़ा कुरेशी व अन्य सदस्य अनस, उमर, मो. उबैद इत्यादि लोग उपस्थित थे।

असम में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से उसने अल्पसंख्यक प्रभावित इलाकों से हजारों लोगों को बेदखल करना शुरू कर दिया है दरंग जिले में 900 विस्थापित परिवारों को भोजन, आश्रय और कानूनी सहायता की तत्काल आवश्यकता है। इसके बजाय, राज्य ने उन पर नकेल कसी, जिसमें दो लोग मारे गए और कई घायल हो गए।

एसआईओ ने मांग की है कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करे कि इस तरह के अत्याचारों में शामिल अधिकारियों और पुलिस अधिकारियों को दंडित किया जाए और उन्हें न्याय के दायरे में लाया जाए। संगठन को उम्मीद है कि न्यायिक जांच की रिपोर्ट जल्द से जल्द सार्वजनिक की जाएगी. इसने दोनों पीड़ितों के परिवारों के लिए एक-एक करोड़ रुपये और गंभीर रूप से घायलों के लिए 50 लाख रुपये की भी मांग की।

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ़ इंडिया, छत्तीसगढ़


सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर 29 सितंबर को मनाया जाएगा विश्व हृदय दिवस

सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर 29 सितंबर को मनाया जाएगा विश्व हृदय दिवस

29-Sep-2021

सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर 29 सितंबर को मनाया जाएगा विश्व हृदय दिवस

-        इस साल की थीम होगी ‘यूज़ हार्ट टू कनैक्ट ‘

-        वेबिनार, जागरुकता कार्यक्रम, प्रतियोगिताएं, नुक्कड़-नाटक, हृदय शिविर किए जाएंगे आयोजित

-        लोग लेंगे 'स्वस्थ हृदय' का संकल्प

रायपुर, 28 सितंबर 2021, देश भर के 77,786 आयुष्मान भारत –हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर 29 सितंबर को पहली बार विश्व हृदय दिवस के रूप में मनाया जाएगा। हृदय संबंधी रोगों (सीवीडी) की रोकथाम को बढ़ावा देने और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को स्वस्थ जीवन शैली अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से सरकार ने अब इस दिन को हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों के वार्षिक स्वास्थ्य कैलेंडर में शामिल कर लिया है।इस साल की थीम 'यूज़ हार्ट टू कनेक्ट' है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संयुक्त सचिव विशाल चौहान ने इस दिवस को मनाने से संबन्धित विस्तृत दिशा-निर्देश जारी करते  हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के अतिरिक्त मुख्य सचिवों, प्रमुख सचिवों और सचिवों को पत्र भेजा है।अपने पत्र में उन्होंने संबन्धित अधिकारियों को युवा एवं खेल विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, स्वयं सहायता समूहों और शहरी और ग्रामीण स्थानीय निकायों के स्थानीय प्रतिनिधियों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए कार्यक्रम का सफल आयोजन सुनिश्चित करने के लिए कहा है।इसके साथ ही कोविड-19 को देखते हुए सभी गतिविधियों के संचालन में कोविड-उपयुक्त व्यवहार का कड़ाई से पालन करने के निर्देश भी दिये हैं।

गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) से होने वाली मौतों की संख्या में एक बड़ा हिस्सा अभी भी हृदय संबंधी रोगों का है। ऐसे में हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर विश्व हृदय दिवस का आयोजन ग्रामीण और शहरी लोगों के बीच हृदय संबंधी रोगों और इनके लक्षणों और बचाव के उपायों  के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए एक आदर्श मंच प्रदान करेगा। श्री चौहान ने कहा है कि इस अवसर पर हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर हृदय संबंधी रोगों की रोकथाम और प्रबंधन में सुधार के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। पत्र के अनुसार,हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर एक दिवसीय हृदय शिविर का आयोजन किया जाएगा, जिसमें योग और प्राणायाम के साथ लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। इसमें उनके ब्लड प्रेशर,ब्लड शुगर, और हीमोग्लोबिन की जांच के साथ-साथ बीएमआई भी लिया जाएगा।

किशोरों में हृदय संबंधी रोगों पर चर्चा और उनके शीघ्र निदान व उपचार पर ज़ोर देते हुए वेबिनार का आयोजन किया जाएगा, जिसमें युवा रोल मॉडल/चैंपियन को भी आमंत्रित किया जाएगा। स्थानीय अनाज और अन्य खाद्य पदार्थों को बढ़ावा देने के लिए आंगनवाड़ी केंद्रों द्वारा स्थानीय स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं के साथ मिलकर रेसिपी प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाएँगी। दूसरी ओर, किशोर-किशोरियों और पियर एजुकेटरों को प्रश्नोत्तरी, पोस्टर प्रतियोगिताओं और रोचक खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

घरों, ऑनलाइन स्कूलों और कॉलेजों, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों और वीएचएनडी आदि के माध्यम से विभिन्न आयु वर्ग के लोगों को 'स्वस्थ हृदय' की प्रतिज्ञा लेने के लिए प्रेरित किया जाएगा। आशा कार्यकर्ता,पंचायती राज सदस्य, शिक्षक, छात्र और  हेल्थ एंड वैलनेस एम्बेसडर मिलकर जागरूकता रैलियां आयोजित करेंगे। आमजन को जागरूक करने के लिए आयोजन से पहले स्वस्थ हृदय के लिए शारीरिक गतिविधि का महत्व बताते हुए नुक्कड़-नाटक भी आयोजित किए जाएंगे। इसके अलावा फेसबुक, ट्विटर जैसे सोश्ल मीडिया माध्यमों के ज़रिये जागरुककता सामग्री साझा करने के लिएभी लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा।उत्तम पोस्ट को राज्य के ट्विटर हैंडल पर साझा किया जाएगा।


गृहणी घर का चूल्हा-चौका के साथ कम क़ीमत के एलईडी बल्ब बनाकर घरों को दे रही रोशनी

गृहणी घर का चूल्हा-चौका के साथ कम क़ीमत के एलईडी बल्ब बनाकर घरों को दे रही रोशनी

28-Sep-2021


द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा से 
अब बड़ी कंपनियों को टक्कर देने में लगी महासमुंद जिले के गांव की महिलाएं
लाइट गुल होने के बाद भी  तीन घंटे तक  देगा उजाला, 6 माह की गारंटी भी

No description available. 

 महासमुंद / आजकल देश में इलेक्ट्रॉनिक बाजार में मशहूर मल्टी नेशनल कंपनियों के बीच बड़ी प्रतिस्पर्धा है। लेकिन अब आपको जानकर हैरानी होगी कि महासमुंद जिले के ब्लॉक बागबहारा के ग्राम मरार कसही बाहरा में बिहान के अंतर्गत गठित सखी सहेली समूह स्व सहायता समूह की ग्रामीण इलाके की कुछ घरेलू महिलाओं ने अपने हौंसलों के दम पर इन कंपनियों को कड़ी टक्कर देने में जुटी हैं। स्वसहायता समूहों को मार्केटिंग के स्तर पर थोड़ा और सरकार का साथ मिल जाए, तो ये महिलाएं अंधरे को रोशनी में तब्दील कर सकती हैं। वैसे शासन और ज़िला प्रशासन इनका ज़रूरी पूरा सहयोग कर रहा है। 
  श्रीमती राजेश्वरी चंद्राकर और यशवानी साहू सखी सहेली  स्वयं सहायता समूह का हिस्सा है,जो अपने दम पर कई जगह रोशनी बांट रही हैं,ग्राम मरार कसही 10-12 महिलाओं का एक स्वयं सहायता समूह है। जिन्होंने हाल ही में  एलईडी बल्ब, बैटरी बल्ब (बत्ती जाने पर 3 घंटे रोशनी)  देते है । बिजली की माला, नाइट लैम्प झूमर बनाने का काम शुरू किया और 15-20 दिन में 10 हज़ार के बल्ब बेचें ।
    समूह की अध्यक्ष श्रीमती राजेश्वरी ने बताया कि उन्हें उनके पति और उनके पारिवारिक मित्र से इसका प्रशिक्षण (ट्रेनिंग)  ली । वे  रॉ मैटेरियल यानी कच्चा माल दिल्ली से लायी  है। जिसके बाद महिलाएं खुद इनको असेम्बल करने में जुट जाती हैं. ये महिलाएं सस्ते दाम पर एलईडी बल्ब,बैटरी बल्ब जो बिजली जाने के बाद भी 3  घंटे तक रोशनी देते है  बनाती है । इसके अलावा कलरफूल,नाइट लैम्प बिजली की झालर औऱ झूमर तैयार कर रही हैं, जिसकी चमक इन महिलाओं के चेहरे पर देखी जा सकती है। उन्होंने बताया कि वे 9 वॉट का एलईटी बल्ब 30 रुपए का और बेटरी बल्ब की क़ीमत 270 रुपए है । बैटरी बल्ब की 6 माह की गारंटी भी देती है । वे बताती है प्रचार के लिए दो लड़के भी रखें है जो गाँव-बाज़ार में इसका प्रचार और मार्केट उपलब्ध कराने में मदद कर रहे है । जिन महिलाओं के हाथ कभी चूल्हा-चौका,खेती किसानी तक ही सीमित रहते थे, वो आज दूसरों को रोशनी देने का काम भी कर रहे हैं। महिलाओं को आशा है कि सरकार मार्केट के स्तर पर इन लोगों के लिए कुछ बेहतर पहल करें, ताकि ये महिलाएं भी बड़ी-बड़ी कंपनियों को मात दे सके।उनका कहना है ज़िला प्रशासन सरकारी कार्यालय,स्कूल, शाला आश्रमों और कालेज आदि में बनाए गए बल्ब ख़रीदने के निर्देश दें। यह सस्ते और लाइट जाने पर तीन घंटे तक रोशनी देते है ।
  जिन ग्रामीण महिलाओं के हाथ कभी चूल्हे -चौका खेती-किसानी  तक ही सीमित रहते थे, वो आज दूसरों को रोशनी देने का काम भी कर रहे है । महिलाओं को आशा है कि सरकार मार्केट के स्तर और कुछ बेहतर पहल करें। ताकि वे भी बड़ी-बड़ी कंपनियों को मात दे सके। ये महिलाएं अपने दम पर एलईडी बल्ब समेत अन्य आइटम खुद असेम्बल कर रही हैं, जिनकी सप्लाई ज़िले और आसपास के ज़िलों तक की जाने की तैयारी है। समूह में जुड़ने से पहले अधिकांश सदस्य खेती मजदूरी का काम कर रही थी। बिहान से जुड़कर सभी महिला सदस्य नियमित बचत,बैठक आदि करती थी एवं सदस्य व्यक्तिगत कार्य के अलावा सामूहिक आजीविका करने हेतु तत्पर थी। अच्छे समूह का पहचान पाकर बिहान क्रेडर द्वारा इन समूह का आर एफ 150000 फॉर्म भरा तथा सीआईएफ 60000 फॉर्म भरकर उन्हें लाभ प्राप्त करवाया।
   इस  राशि में से सखी सहेली समूह एलईडी लाईट बनाने का कार्य शुरू किया। लेकिन इन्हें इसके लिए और राशि की आवश्यकता हुई एफएलसीआरपी द्वारा इस समूह को बैंक लिंकेज एक लाख रुपए बैंक द्वारा प्राप्त हुआ तथा रिन्यूअल दो लाख का भी कराया और आज इनका समूह  बड़ी बजट में एलईडी लाईट बनाने का कार्य कर रही हैं। सखी सहेली समूह के सभी सदस्य अपने स्तर में गांव -गांव जाकर प्रचार प्रसार भी कर रहे हैं। साथ ही जनपद पंचायत बागबाहरा में जनपद अध्यक्ष,सीईओ एवं अन्य विभागों में प्रचार प्रसार किया जा रहा है तथा बिक्री भी हो रही है।
 सखी सहेली समूह की दीदियों का कहना है कि आज हमारा समूह जो भी कार्य कर रहा है बिहान का महत्वपूर्ण योगदान है।बस सरकार से और मदद की उम्मीद कर रही है। बनाई गयी सामग्री पर ब्रांड का उल्लेख नही होने से सामग्री बिक्री में थोड़ी दिक़्क़त है। सामग्री पर नाम अंकित करने के लिए एक प्रिंटर की ज़रूरत है। जिसकी क़ीमत लगभग ढाई लाख रुपए है ।उन्होंने इसके लिए ज़िला पंचायत और प्रशासन से प्रिंटर के लिए राशि का आग्रह किया है ताकि इसकी विश्वनियता और बढ़े ।


सूरजपुर : अवैध रेत परिवहन रोकने खनिज एवं राजस्व विभाग की संयुक्त कार्रवाई

सूरजपुर : अवैध रेत परिवहन रोकने खनिज एवं राजस्व विभाग की संयुक्त कार्रवाई

25-Sep-2021

द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा 

सूरजपुर : कलेक्टर डॉ. गौरव कुमार सिंह के द्वारा जिले में अवैध रेत खनन और अवैध रेत परिवहन रोकने के निर्देश दिए गए है इसके परिपालन में खनिज विभाग एवं राजस्व विभाग के संयुक्त दल ने 23 सितम्बर 2021 को आकस्मिक निरीक्षण के दौरान ग्राम बंजा, गेलहापारा तहसील भैयाथान स्थित कोलुहा नदी में कार्यवाही करते हुए जेसीबी ऑपरेटर छुबुलपाल निवासी कुसमुसी, वाहन मालिक अद्राज सिंह बंजा निवासी के सोनालिका ट्रेक्टर से 3 घनमीटर एवं संजय सिंह निवासी बंजा भैयाथान के महेन्द्रा ट्रेक्टर से 3 घनमीटर एवं इन्हीं के जेसीबी के द्वारा रेत खनन करते मौके पर पाया गया दोनोें ट्रेक्टर सहित जेसीबी जप्त करते हुए थाना बसदेई को सुपुर्द कर प्रकरण दर्ज की कार्रवाई की गई।


राजनांदगांव  के बहुचर्चित भाजपा नेता व ठेकेदार संजीव जैन आत्महत्या कांड में पुलिस ने हैरान करने वाला खुलासा ?

राजनांदगांव के बहुचर्चित भाजपा नेता व ठेकेदार संजीव जैन आत्महत्या कांड में पुलिस ने हैरान करने वाला खुलासा ?

13-Sep-2021

राजनांदगांव TNIS  के जिला प्रतिनिधि की रिपोर्ट के अनुसार राजनांदगांव जिले के बहुचर्चित भाजपा नेता व ठेकेदार संजीव जैन आत्महत्या कांड में पुलिस ने बड़ा  खुलासा किया है। पुलिस ने बीजेपी नेता को आत्महत्या के लिए उकसाने के पीछे अनैतिक सम्बन्ध से ब्लैक मेल और ठगी  को कारण बताया है। पुलिस का दावा है कि मामले में मुख्य आरोपी मानसी यादव नाम की महिला है। वह रायपुर की रहने वाली है। पुलिस के मुताबिक मानसी यादव द्वारा संजीव जैन से फोनकॉल के माध्यम से दोस्ती की गई। इसके बाद रिश्ते बढ़ाकर ब्लैकमेलिंग का सिलसिला शुरू किया गया। इस पूरी साजिश को महिला के पति और देवर ने उसके साथ मिलकर रचा। बीजेपी नेता संजीव जैन से आरोपियों ने करीब 1 करोड़ 75 लाख रुपये ठग लिए थे।
राजनांदगांव के बीजेपी नेता व ठेकेदार 56 वर्षीय संजीव जैन का बीते 10 अगस्त को फांसी के फंदे पर लटका हुआ शव बरामद किया गया था। पुलिस ने इस मामले में बीते 11 सितंबर को बड़ा खुलासा किया। इस चर्चित सुसाइड केस में मानसी यादव और उसके पति ललित सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मामले का एक अन्य आरोपी मानसी यादव का देवर कौशल सिंह अब भी फरार है। ललित सिंह और कौशल सिंह मूलत: उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। बताया जा रहा है कि संजीव जैन को तीनों आरोपी पिछले 8 साल से ब्लैकमेल कर रहे थे। पूरी वारदात को फिल्मी अंदाज में अंजाम दिया गया।
 
राजनांदगांव की एडिशनल एसपी प्रज्ञा मेश्राम ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में बड़े खुलासे किए हैं। ब्लैकमेलिंग की स्क्रिप्ट मानसी यादव, उसके पति और देवर ने मिलकर तैयार की थी। इसके तहत मानसी द्वारा संजीव जैन के मोबाइल फोन पर कॉल किया गया और फिर रॉन्ग नंबर कहकर कॉल कट कर दिया गया। इसके बाद लगातार कॉलिंग होती रही और इसी तरह मानसी ने संजीव से दोस्ती कर ली। फोन पर की गई ये दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदल गई और फिर दोनों के बीच शारीरिक संबंध बनने शुरू हो गए।
 
पुलिस मुताबिक संजीव जैन से संबंध बनने के बाद मानसी, उसके पति और देवर ने ब्लैकमेलिंग शुरू की। मानसी यादव अपने अकाउंट में धीरे-धीरे कर संजीव जैन से करीब पौने 2 करोड़ रुपये ट्रांसफर करवा लिये। पैसे लेने के पीछे मानसी अपनी सरकारी नौकरी, कार व घर खरीदने का हवाला देती थी। पुलिस ने बताया कि 8 सालों से मानसी की डिमांड पूरी करते-करते संजीव परेशान हो गया था। पैसे नहीं देने पर आरोपी उसके घर में संबंधों की बात कहने और दूसरे तरीकों से ब्लैकमेल करते थे। इससे तंग आकर ही संजीव जैन ने आत्महत्या कर ली थी। सुसाइड नोट और बैंक अकाउंट के आधार पर पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
 
पुलिस के मुताबिक मानसी यादव रायपुर की रहने वाली है, जिसकी शादी मेरठ में रहने वाले ललित सिंह से हुई है। ललित सिंह आठवीं बटालियन राजनांदगांव में आरक्षक के रूप में पदस्थ था और उसका देवर कौशल सिंह उत्तर प्रदेश के मेरठ में रहता है। बताया जा रहा है कि राजनांदगांव में रहते हुए ही उसको संजीव जैन के बारे में पता चला था। संजीव की आत्महत्या के बाद बसंतपुर पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही थी। पुलिस ने मानसी यादव को रायपुर से गिरफ्तार किया है, जब वह अपने घर तीजा मनाने आई थी और उसके पति भी उसके साथ ही था।

 

 


जागरूकता ही बचाएगी डेंगू के डंक से  दिन के समय रखें विशेष ध्यान

जागरूकता ही बचाएगी डेंगू के डंक से दिन के समय रखें विशेष ध्यान

11-Sep-2021

रायपुर KPN 

कोविड संक्रमण काल में मच्छर जनित रोगों से जागरूक होकर ही लड़ा जा सकता है। आसपास सफाई के साथ-साथ पानी एकत्रित नहीं होने पाए इसका सभी को विशेष ध्यान रखना होगा । इसके लिए स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम द्वारा कोरोना वायरस के साथ-साथ डेंगू के प्रसार को भी रोकने का प्रयास किया जा रहा है ।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मीरा बघेल ने कहा, ‘’जागरूकता ही डेंगू के डंक से बचाती है, डेंगू एडीज एजिप्टी रोग वाहक मच्छर के द्वारा फैलता है। इस रोग का प्रसार अधिकतर जुलाई से नवंबर माह के मध्य तक होता है। यह मच्छर घर के अंदर और उसके आसपास के स्थानों पर रहता है, वहीं पर पलता है और केवल दिन के समय में ही काटता है।

यह एक प्रभावित व्यक्ति से दूसरे स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में तेजी से प्रसार करता है। डेंगू बुखार की रोकथाम एवं निवारण में जागरूकता की महत्वपूर्ण भूमिका है।  डेंगू में रोगी के शरीर पर बुखार के साथ साथ लाल दाने निकल आते हैं। दो से सात दिनों की अवधि के तीव्र ज्वर के साथ सिरदर्द, आंखों के पीछे दर्द, बदन दर्द, शरीर पर महीन दाने एवं खराश होने पर रोगी संदेहात्मक श्रेणी में होता है। प्रारंभिक लक्षण तथा परीक्षण जांच के आधार पर डेंगू के संभावित रोगियों की पहचान की जाती है।“

डॉ. बघेल कहती है,  “वर्तमान समय में रुक-रुक कर हो रही बारिश भी डेंगू के लार्वा को पनपने के लिए एक अनुकूल मौसम प्रदान कर रही है मलेरिया विभाग द्वारा मच्छर के अंडे, लार्वा को नष्ट करने के लिए पूर्व से ही उचित कार्रवाई की जा रही है । क्योंकि रुक रुक कर होने वाली वर्षा में लार्वा को पनपने के लिए स्वच्छ पानी मिल जाता है और वह तेजी से विकसित हो जाते हैं ।

डेंगू नियंत्रण के लिए लोगों को नियमित रूप से घरों की छत और घर में रखे गमले की ट्रे, कूलर, पानी की टंकी को खाली कर सुखाने के पश्चात उपयोग करना चाहिए। मच्छरों को पनपने से रोकने के लिए घर और आसपास पुराने टायर, मटके, कबाड़ आदि में बरसात का पानी एकत्रित ना होने दें । घर के बाहर छोटे गड्ढों में मिट्टी का भराव करें। जिससे मच्छरों के प्रजनन को कम किया जा सके। पानी के फैलाव को रोकने के लिए नियमित रूप से साफ-सफाई और दवाई का छिड़काव करते रहें। साथ ही नालियों की साफ-सफाई और घर के आस-पास पानी के टैंकों की नियमित रूप से साफ-सफाई रखें।“

डेंगू बीमारी के लक्षण

तेज बुखार, उल्टी आना, शरीर पर लाल चकते पड़ना है। बुखार को कन्ट्रोल करने के लिए चिकित्सीय परामर्श लें। हर बुखार डेंगू का नही होता है, डेंगू के लक्षण होने पर समय से डॉक्टर की सलाह लें और डॉक्टर की सलाह पर ही दवा का सेवन करें।

-----------------------

 


मिला सहारा, जिंदगी चली दुबारा  स्पर्श क्लीनिक से मिली नई जिंदगी

मिला सहारा, जिंदगी चली दुबारा स्पर्श क्लीनिक से मिली नई जिंदगी

10-Sep-2021

मिला सहारा, जिंदगी चली दुबारा

स्पर्श क्लीनिक से मिली नई जिंदगी

पति के किसी अन्य महिला से रिश्ते को लेकर डिप्रेशन में गई सुचिता (बदला हुआ नाम) को जीवन लीला समाप्त करना ही अंतिम विकल्प लग रहा था । दिन भर रोना, उदास रहना, खाने पीने में मन न  लगना, और चिड़चिड़ापन इतना बढ़ गया की  बात-बात पर आत्महत्या के ख्याल आने लगे ।

इसी बीच सुचिता की सहेली ने उससे जिला अस्पताल, पंडरी में स्थित स्पर्श क्लीनिक जाकर अपनी समस्या बताएँ तो निश्चित रूप से उसकी मानसिक समस्या का निराकरण होगा ।

 शादीशुदा सुचिता (40) को अपने विवाह के 7 साल बाद पता चला  कि  उनके पति का किसी अन्य महिला से संबंध है ।

संबंधों के शक को लेकर बात बढ़ती गई और एक दिन उन्होंने इन सब संबंधों का राज पता चल गया  जिस के बाद धीरे धीरे सुचिता डिप्रेशन में चली गई और अपनी जीवन लीला को समाप्त करने का विचार उसके मन में आने लगा ।

स्पर्श क्लीनिक की साइकोलॉजिस्ट ममता गिरी गोस्वामी कहती हैं ‘’जब सुचिता  उसके  पास आई तो  सबसे पहले  उसका पीएचयू (पेशेंट हेल्थ क्वेश्चनायर ) भरवाया गया जो आत्महत्या की ओर बढ़ रहे लोगों के लिए एक टूल होता है । ``जब हमने उनसे चर्चा कर नतीजा निकाला तो वह मॉडरेट लेवल का डिप्रेशन में थी ।  इस प्रश्नावली  में रोजमर्रा  से जुड़े सवाल होते हैं  जिसमें  अंक दिये जाते  है ।‘’ 

 विश्लेषण में पाया गया सुचिता आत्मग्लानि और असफल महसूस कर रही थी । किसी भी काम में उनका मन  नहीं था।  बातचीत के दौरान उनमें एकाग्रता  की कमी भी थी । ``इस बातचीत के दौरान हमने पाया की वह अपने बच्चों से बहुत प्यार करती थी  और तब  हमें वह चाबी  मिल गई जिससे हम उन्हें आत्महत्या की  सोच  से बाहर निकाल पाए,’’ ममता गिरी ने बताया ।

 ``हमने उनकी 15 -15  दिन के अंतराल से चार बार काउंसलिंग की गई और साथ में उनके पति को  भी एक बार काउंसलिंग  के लिए बुलाया गया । पति को  यह  समझाया गया कि अगर वह  पत्नी का सहयोग नहीं करते हैं और इस बीच  पत्नी ने कोई कदम उठा लिया तो  उसकी सरकारी नौकरी भी जा सकती है साथ ही   न्यायिक परेशानियों से भी परेशान हो सकते हैं,’’ ममता गिरी ने बताया  ।

सुचिता कहती है समय रहते उनको  सहेली से सहारा मिला जिसने  उससे  जिला अस्पताल पंडरी में स्थित स्पर्श क्लीनिक के बारे में बताया  जहां उससे  सहारा मिल और जिंदगी  दुबारा चल पड़ी ।


छत्तीसगढ़ में पूंजी निवेश की अपार संभावनाएं : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ में पूंजी निवेश की अपार संभावनाएं : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

03-Sep-2021

ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट ’इन्वेस्टगढ़ छत्तीसगढ़ 2022’ का आयोजन नवा रायपुर में 27 जनवरी से 1 फरवरी 2022 तक 

राज्य सरकार की नयी औद्योगिक नीति से पूंजी निवेश  के लिए बना सकारात्मक वातावरण

No description available.

पौने तीन साल में 132 एमओयू के जरिए 58,950 करोड़ रुपए का पूंजी निवेश 
प्रस्तावित, 1564 नयी औद्योगिक इकाईयां हुई स्थापित

 छत्तीसगढ़ में वैश्विक निवेश आकर्षित करने के लिए नवा रायपुर में ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट 2022 ’इन्वेस्टगढ़ छत्तीसगढ़’ का आयोजन 27 जनवरी 2022 से 01 फरवरी 2022 तक किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित ’इन्वेस्टगढ़ छत्तीसगढ़ परियोजना’ के उद्घाटन समारोह में ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट 2022 की औपचारिक घोषणा की। उन्होंने इस अवसर पर इन्वेस्टगढ़-छत्तीसगढ़ का लोगो (प्रतीक चिन्ह) और वेबसाइट लांच की। 

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में औद्योगिक विकास और पूंजी निवेश की अपार संभावनाएं हैं। राज्य सरकार ने उद्योग हितैषी नई औद्योगिक नीति तैयार की है। राज्य में अधिक से अधिक निवेश आकर्षित करने के लिए आवंटित भूमि की दरों में 30 प्रतिशत तथा लीज रेंट की दरों में एक प्रतिशत की कमी करने के साथ औद्योगिक भूमि को फ्री-होल्ड, आंशिक हस्तांतरण की प्रक्रिया को सरल किया गया है। उद्योगों के लिए सिंगल विन्डो स्थापित करने के साथ अनेक रियायतें और विशेष पैकेज तथा परिवहन अनुदान की सुविधा देने जैसे कदम उठाए गए है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में निवेश के फायदों की जानकारी देते हुए कहा कि राज्य शासन की ओर से दिए जा रहे प्रोत्साहन के साथ अच्छी परिवहन प्रणाली, बढ़िया कानून व्यवस्था, भरपूर पानी, देश के प्रमुख बाजारों तक आसान पहुंच, कम उत्पादन लागत जैसे बहुत से लाभ उद्योगों को मिलते है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के बावजूद छत्तीसगढ़ में अर्थव्यवस्था गतिशील बनी रही। कृषि जैसे अनेक महत्वपूर्ण काम रूकने नहीं दिया गया। श्री बघेल ने कहा कि ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट के दौरान राज्य सरकार द्वारा स्थानीय कम्पनियों और उद्योगों के लिए ‘गो-ग्लोबल‘ की पहल की जाएगी ताकि स्थानीय उद्योगपति भी वैश्विक स्तर पर अपने व्यवसाय का प्रसार कर सके। 
 
इस अवसर पर उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू, उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोज कुमार पिंगुआ, मुख्यमंत्री के सचिव श्री सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री अरूण प्रसाद, उद्योग विभाग के संचालक श्री अनिल टुटेजा भी उपस्थित थे। इस कार्यक्रम से वियतनाम, मलेशिया, सिंगापुर, लंदन, यूएसए, दुबई, इजिप्ट आदि अनेक देशों से निवेशक समुदाय के प्रतिनिधि वर्चुअल रूप से जुड़े।

    मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अगुवाई में छत्तीसगढ़ वाणिज्य एवं उद्योग विभाग द्वारा ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट 2022 का आयोजन किया जा रहा है। ’इन्वेस्टगढ़ छत्तीसगढ़’ के आयोजन के माध्यम से राज्य में 50 बिलियन डॉलर से अधिक वैश्विक निवेश आकर्षित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। नया रायपुर में आयोजित होने वाले ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट, 2022 की मेजबानी अंतर्राष्ट्रीय स्तर की कंसलटेंसी फर्म मेसर्स एडूविजन इंडिया प्रायवेट लिमिटेड ब्रैण्डनेम ’विएक्सपोइंडिया’ द्वारा की जाएगी। आज इस कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा ’विएक्सपोइंडिया’ के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। राज्य सरकार की ओर से उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोज कुमार पिंगुआ और विएक्सपोइंडिया के सीईओ श्री के. विनोथ कुमार ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए। उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोज कुमार पिंगुआ ने ग्लोबल इंनवेस्टर्स मीट के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। विएक्सपोइंडिया के सीईओ श्री विनोथ कुमार और श्री जैसन राजकुमार ने भी अपने विचार व्यक्त किए। 

    कंसलटेंसी फर्म मेसर्स एडूविजन इंडिया प्रायवेट लिमिटेड, ने कई हाईप्रोफाइल प्रोजेक्ट का नेतृत्व किया है। इस फर्म ने वर्ल्ड बैंक एवं तेलंगाना सरकार के साथ भी कार्य किया है। ’विएक्सपोइंडिया’ द्वारा ’इन्वेस्टगढ़ छत्तीसगढ़’ परियोजना के आयोजन के लिए विस्तृत परियोजना प्लान तैयार किया गया है। कम्पनी द्वारा परियोजना की पूरी लागत सरकार का सहयोग प्राप्त कर प्रायोजकों के माध्यम से जुटाई जायेगी। एमओयू के तहत राज्य शासन द्वारा ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट, 2022 के आयोजन के लिए ’विएक्सपोइंडिया’ को नवा रायपुर में स्थल निःशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट 2022 का फोकस मुख्य रूप से एग्रीकल्चर, माईनिंग, हैवी इंजीनियरिंग एण्ड फैब्रिकेशन, ग्रीन एनर्जी के साथ फार्मासियूटिकल और आटोमोबाइल क्षेत्र में निवेश आकर्षित करने में होगा। विएक्सपोइंडिया द्वारा ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के संबंध में प्रस्तुतिकरण भी दिया गया। 

’इन्वेस्टगढ़ छत्तीसगढ़’ परियोजना का कुल बजट लगभग रूपये 107 करोड़ प्रस्तावित किया गया है। इस परियोजना के माध्यम से चरणबद्ध तरीके से राज्य में 50 बिलियन डालर का निवेश आकर्षित करने का लक्ष्य रखा गया है। छत्तीसगढ़ में निवेश को बढ़ावा देने के लिए आयोजित की जा रही ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के माध्यम से विश्व के प्रमुख निवेशक समुदायों, कंपनियों, बिजनेस लीडर, राज्य सरकार के अधिकारी, स्थानीय उद्योगपतियों को एक ही मंच पर आने का अवसर मिलेगा, इससे राज्य के औद्योगिक विकास को गति मिलेगी और रोजगार के नये अवसर सृजित होंगे। विएक्सपोइंडिया द्वारा ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट में शामिल होने वाले निवेशक समुदायों और वैश्विक कम्पनियों को छत्तीसगढ़ में निवेश की संभावनाओं और इससे मिलने वाले लाभ, राज्य सरकार की नीति, प्रक्रिया, नियमों की जानकारी देने के साथ उनकी जिज्ञासाओं का समाधान करेगी। 

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2018 में छत्तीसगढ़ में नयी सरकार के गठन के बाद नये औद्योगिक और आर्थिक वातावरण का निर्माण हुआ है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार ने नयी उद्योग नीति का निर्माण कर कृषि और वन आधारित उद्योगों को प्राथमिकता देने के साथ-साथ निवेश के लिए अनुकूल वातावरण के निर्माण के लिए विशेष पैकेज और रियायतें दी हैं। साथ ही उद्योगों की स्थापना तथा संचालन के नियमों का भी सरलीकरण किया है। 

राज्य में 1 जनवरी 2019 से 6 अगस्त 2021 तक नये उद्योगों की स्थापना के लिए 132 एमओयू किए गए हैं, जिसमें 58 हजार 950 करोड़ रूपए का पूंजी निवेश प्रस्तावित है। इससे 78 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। इसमें कोर सेक्टर के साथ ही साथ एथेनॉल, फूड सेक्टर, फार्मास्युटिकल, इलेक्ट्रानिक्स, डिफेंस, सोलर आदि क्षेत्रों की परियोजनाएं शामिल हैं। राज्य में इस अवधि में 1564 नयी औद्योगिक इकाईयां स्थापित हुई हैं, जिसमें 30 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिला है। वर्तमान में राज्य की महत्वाकांक्षी औद्योगिक परियोजना बायो एथेनॉल संयंत्र की स्थापना हेतु 13 एमओयू किए गए हैं, जिसमें लगभग 2 हजार 202 करोड़ रूपए का पूंजी निवेश प्रस्तावित है। 

 


जमीन के विवाद को सांप्रदायिक रंग देकर् असमाजिक तत्वों के द्वारा सामाजिक सौहार्द बिगाडने का प्रयास ?

जमीन के विवाद को सांप्रदायिक रंग देकर् असमाजिक तत्वों के द्वारा सामाजिक सौहार्द बिगाडने का प्रयास ?

01-Sep-2021

जमीन के विवाद को सांप्रदायिक रंग देकर् असमाजिक तत्वों के द्वारा सामाजिक सौहार्द बिगाडने का प्रयास ?
शांत प्रिय छत्तीसगढ़ राज्य मे भगवा आतंक की दस्तक

No description available.
मामला जशपुर जिले के ग्राम - पोस्ट चेटवा तहसील बटाइ केला में  प्रार्थी  अशरफ सलीम अंसारी पिता हनीफ अंसारी जिस का प्रकरण न्यायालय में लंबित चल रहा है, जिस पर भूमि के दूसरे पक्ष् के द्वारा कथित असमाजिक तत्वों के साथ मिल कर उक्त जमीन जिसमे प्रार्थी ढाबा संचालन कर रहा था वहाँ सांप्रदायिक माहौल बना कर आशांति फ़ैलाने का का प्रयास करते हुए आतंक की स्थिति बनाई जा रही हैं वहाँ असमाजिक तत्वों के द्वारा वर्ग विशेष के विरुद्ध सांप्रदायिक नारे लगा कर माहौल बना कर आतंक फैलाने का कार्य किया जा रहा  है 
 ये सभी असमाजिक तत्व उक्त भूमि विवाद से जुड़े  ब्रिज मोहन पिता अगानु के साथी बताये जा रहे है । जिन्हे बुलाकर निजी विवाद को सांप्रदायिक रूप देने का प्रायस किया जा रहा है जबकि इस घटना लिखित शिकायत जशपुर जिले के कलेक्टर और पुलिस आधीक्ष् क से की जा चुकी हैं ऐसी स्थिति मे पुलिस की उपस्थिति मे कथित असमाजिक तत्वों  के द्वारा नारे बाजी और गाली गलौज किया जाना किसी भी अप्रिय घटना का संकेत दे रहा है वही पुलिस विभाग की कोई कार्यवाही का नहीं होने से उन असामाजिक तत्वों के हौसले  है ,निजी समपत्ति  विवाद को एक वर्ग विशेष से जोड़ कर  आपत्ति जनक टिप्पणी और अभद्र व्यवहार  कथित असमाजिक तत्वों के द्वारा किया गया है वहाँ  भय और आतंक फैला कर डराया जा रहा है जिससे कथित असमाजिक तत्वों के हौसला बढ़ाने का ही काम कर रहा था जबकी स्थिति वहाँ बल प्रयोग करने जैसा था जिसे गंभीरता से प्रशासन नही लिया कल किसी भी अप्रिय घटना का जिम्मेदार कौन होगा इन लोगों गिरिफ्तरि नही होने की स्थिति में समाज के प्रतिनिधि उक्त घटना   जानकारी माननीय  मुख्य मंत्री जी के संज्ञान में भी लाने जल्द ही भेट करने वाले है 

 


छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का अहम् फैसला पत्‍नी के साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाना बलात्कार नहीं !

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का अहम् फैसला पत्‍नी के साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाना बलात्कार नहीं !

28-Aug-2021

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का अहम् फैसला पत्‍नी के साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाना बलात्कार नहीं !

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने पत्नी के साथ रेप के मामले में बड़ा फैसला सुनाया है। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने कहा है कि अगर पत्नी कानूनी तौर पर विवाहित है और उसकी उम्र 18 साल से अधिक है तो पत्नी के साथ बलपूर्वक या उसकी इच्छा के विरुद्ध यौन संबंध या यौन क्रिया बलात्कार नहीं है। कोर्ट ने पति को बलात्कार के मामले में आरोपमुक्त कर दिया। हालांकि उसके ऊपर लगे अन्य आरोपों के मामले में आरोप तय कर दिए गए हैं। यह फैसला छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के जस्टिस एनके चन्द्रवंशी की कोर्ट ने दिया है।
 
बेमेतरा जिला निवासी एक महिला ने अपने 37 वर्षीय पति पर उसके साथ जबरदस्ती व उसकी मर्जी के खिलाफ शारीरिक संबंध बनाने का केस दर्ज कराया था। पत्नी ने पति और उसके परिवार के कुछ लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का केस भी दर्ज कराया गया था। पत्नी का आरोप था कि साल 2017 में उसके विवाह के बाद पति ने उसके साथ कई बार उसकी मर्जी के खिलाफ शारीरिक संबंध बनाए और दहेज के लिए प्रताड़ित किया। कोर्ट ने इस मामले में कहा कि चूंकि पत्नी की उम्र 18 साल से अधिक हैं, ऐसे में किसी पुरुष द्वारा अपनी पत्नी के साथ यौन संबंध या यौन क्रिया बलात्कार नहीं है। पत्नी ने अपनी शिकायत में कहा था कि उसका पति उसके साथ अप्राकृतिक कृत्य करता है। इसके तहत वे उसके प्राइवेट पार्ट में उंगली डालता है और इतना ही नहीं एक बार उसने उसके निजी अंगों में मूली भी डाल थी। इस मामले में कोर्ट ने धारा 377 के तहत पति पर आरोप तय किए हैं। कोर्ट ने कहा है कि किसी भी तरह से अप्राकृतिक यौन संबंध बनाना अपराध है।


शत प्रतिशत कोविड का पहला डोज लगाने वाला राज्य का पहला जिला बना रायगढ़

शत प्रतिशत कोविड का पहला डोज लगाने वाला राज्य का पहला जिला बना रायगढ़

23-Aug-2021

सभी के साझा प्रयास से कोविड टीकाकरण में रायगढ़ जिला अव्वल

शत प्रतिशत कोविड का पहला डोज लगाने वाला राज्य का पहला जिला बना रायगढ़

दूसरे डोज को भी शत प्रतिशत जल्द हासिल करेंगे : सीएमएचओ डॉ. केसरी

टीका मिलना, योजना से बांटना, प्रचार-प्रसार और जागरूकता का योगदान : जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. भानू पटेल

रायपुर, 21 अगस्त 2021, राज्य में कोविड टीकाकरण के पहले लक्षित डोज को शत प्रतिशत प्राप्त करने वाला रायगढ़ पहला जिला बन गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर जिले के स्वास्थ्य अमले, प्रशासनिक व्यवस्था और जागरूक लोगों बधाई दी है। रायगढ़ कलेक्टर भीम सिंह ने इसे अधिकारियों-कर्मचारियों और लोगों की साझा मेहनत का परिणाम बताया है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले की कुल आबादी 16.94 लाख में से 10.42 लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया था। 19 अगस्त तक 99.8 प्रतिशत लोगों को टीका लग चुका था शेष 0.2 प्रतिशत लोगों को 20 अगस्त को टीका लगने के साथ ही शत प्रतिशत लोगों को टीके का पहला डोज लग गया। सारंगढ़ ब्लाक में आखिरी दिन 1,780 लोगों को टीका लगाया गया।

स्वास्थ्य विभाग में लक्षित डोज को समय से प्राप्त करने पर हर्ष व्याप्त है। बीते डेढ़ साल में विभाग में खुशी मनाने का यही एक मौका मिला है। लक्ष्य की प्राप्ति में सबसे महती भूमिका खंड चिकित्सा अधिकारी और खंड कार्यक्रम प्रबंधकों की रही जिन्होंने सबसे निचले स्तर पर कार्य किया और वैक्सीन लगवाने की पूरी  योजना बनायीं ।

कलेक्टर भीम सिंह ने भी इस उपलब्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जिस समय अन्य जिले 2,000-4,000 डोज के लिए राज्य स्तर पर वैक्सीन पाने के लिए संघर्ष कर रहे थे तब उन्होंने जिले को 1 लाख डोज तक दिलाया। 26 जून को टीका महाभियान चलवाया और पूरे टीकाकरण पर बराबर नजर रखे हुए हैं फिर चाहे वह सांरगढ़ जाकर लोगों को डोर-टू-डोर समझाना या फिर लैलूंगा में टीके के फायदे गिनवाना। जिला पंचायत सीईओ डा. रवि मित्तल ने जिला स्तरीय योजना बनाने और अपने विभाग के कर्मचारियों को इस टीकाकरण कार्य में लगाए रखा और सतत निगरानी करते रहे।

कोल्ड चैन को मेंटेन करते हुए रायपुर से कोविड वैक्सीन लाना और फिर उसे टीकाकरण केंद्रों तक बांटना भी चुनौतीपूर्ण था लेकिन स्वास्थ्य विभाग के टेक्नीशियन हलधर यादव, डीआईओ के सहायक चोलेश्वर पटेल और वाहन चालक लीनूस केरकेट्टा जो एक आदेश में रायगढ़ के धरमजगढ़ से रायपुर तक की दूरी बिना थके नाप देते और टीकाकरण सत्र शुरू होने से पहले आवश्यक डोज केंद्रों तक पहुंचा देते।

सभी का साझा प्रयास : डीआईओ डॉ. पटेल

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. भानू पटेल बताते हैं, “शत प्रतिशत टीकाकरण सभी का साझा प्रयास है। इसमें अधिकारी हैं, कर्मचारी हैं और जागरूक लोग। सबसे पहले टीके की उपलब्धता जिसे जिलाधीश महोदय ने सबसे ज्यादा और सबसे पहले करवाया फिर उसे केंद्रों तक पहुंचाना, टीकाकरण केंद्र खोलना और वहां वैक्सीनेटर व बाकी स्टाफ रखना सभी शामिल हैं । अन्य विभागों से कर्मचारियों का सहयोग मिलना। इसके बाद लोगों को प्रेरित करना हर कदम पर सभी ने अपना भरपूर योगदान दिया। शहरी क्षेत्र में पार्षदों और ग्रामीण क्षेत्रों में पंच-सरपंचों ने स्वास्थ्य विभाग का सहयोग किया है”।

 

 

 

प्लानिंग के साथ सत्र रखा : सीएमएचओ डॉ. केसरी

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसएन केसरी ने बताया,  “रायगढ़वासियों को बहुत-बहुत बधाई। सभी के सहयोग से जिल ने कोविड वैक्सीनेशन का पहला डोज शत प्रतिशत प्राप्त कर लिया है। हम छत्तीसगढ़ में पहले जिले हैं जिन्होंने यह लक्ष्य प्राप्त किया है। आप सभी के सहयोग से दूसरी डोज भी शत प्रतिशत पूरा करेंगे। कोविड वैक्सीनेशन के मामले में रायगढ़ जिला शुरुआत से ही बेहतर रहा है और हमने प्लानिंग के साथ टीकाकरण सत्र रखे और इसकी सतत निगरानी की। पूरे प्रशासनिक अमले और जनप्रतिनिधियों का हमें सहयोग मिला। लोगों की जागरूकता भी बड़ा फैक्टर है। “

मीडिया का सहयोग और डेटा एनालिसिस

सीएमएचओ कार्यालय के जिला डेटा मैनेजर लखन उरांव की मुस्तैदी टीकाकरण के प्रत्येक सेशन पर नजर रखे हुए थे। हर दो घंटे में जिला स्तर डेटा मुहैया कराना उन्ही की ही जिम्मेदारी है जिसके आधार पर आगे की प्लानिंग की जाती है। लखन और उनकी टीम ने समय रहते डेटा दिये और जिसके आधार पर कम समय में अधिक लक्ष्य हासिल हो पाया। वहीं स्वास्थ्य महकमा मीडिया को बराबर श्रेय देता है। उनके मुताबिक माडिया ने टीकाकरण के सत्र से लेकर जरूरत सब को बेहतर तरीके से कवर किया और टीके से संबंधित जानकारियों को समय रहते लोगों को तक पहुंचाया। लोगों को पता रहता था कि किस दिन कहां और कितने सेशन लगेंगे, इससे एक बड़ी आबादी प्रभावित हुई। 


अकलतरा जिला जांजगीर-चांपा से आई महिला के साथ गैंग रेप महिला काम की तलाश में रायपुर आयी थी

अकलतरा जिला जांजगीर-चांपा से आई महिला के साथ गैंग रेप महिला काम की तलाश में रायपुर आयी थी

19-Aug-2021

अकलतरा जिला जांजगीर-चांपा से आई महिला के साथ गैंग रेप महिला काम की तलाश में रायपुर आयी थी 

रायपुर। क्राइम बयूरो खुलासपोस्ट की खबर के अनुसार एक महिला निवासी अकलतरा जिला जांजगीर-चांपा ने थाना खमतराई में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह दिनांक 11.08.21 को अपने पति के साथ काम की तलाश में रायपुर आयी थी तथा अपने पति के साथ रात्रि लगभग 8 बजे एक परिचित से मिलने बंजारी मंदिर पास गये थे। इसी दौरान तीन लड़के प्रार्थिया एवं उसके पति का पीछा कर रहे थे। रात होने से प्रार्थिया अपने पति के साथ बंजारी मंदिर में जहां लोग सोते हैं, वहां पर बैठी थी कि रात्रि करीबन 12 बजे दो लड़के प्रार्थिया के पति के पास आए जो प्रार्थिया के पति को बुलाकर ले गए तथा एक लड़का बाहर खड़ा था। प्रार्थिया के पति को लेकर जाने के बाद तीनों लड़के रात्रि करीबन 12.40 बजे पुनः प्रार्थिया के पास आए तथा बोले कि तुमको तुम्हारे पति बुला रहे हैं। जिस प्रार्थिया उनके साथ जाकर पिकअप वाहन में बैठ गयी। इसी दौरान तीनों लड़के प्रार्थिया को पिकअप वाहन में बैठाकर खेत की ओर ले गये तथा दो लड़के प्रार्थिया के साथ बारी-बारी सामूहिक दुष्कर्म किये तथा एक लड़का रास्ते में उतरकर चला गया।
 
प्रार्थिया उन लड़कों से बोली उसे अपने पति के पास जाना है, तो वह लड़के बोले पुलिस को नहीं बताओगे तो तुम्हारे पति को छोड़ देंगे एवं प्रार्थिया को बंजारी मंदिर पास लाकर छोड़ दिए। प्रार्थिया मंदिर के पास पुलिस चौकी में गई, तब उसे पता चला कि उसका पति उन लोगों से स्वयं को छुड़ाकर भागकर थाना गया है एवं प्रार्थिया का मुलाकात उसके पति से थाना में हुआ। तब प्रार्थिया का पति बताया कि तीनों लड़के उसे पकड़कर कहीं ले जा रहे थे एवं उसका मोबाईल फोन भी लूट लिये थे। इसी दौरान प्रार्थिया का पति किसी प्रकार से स्वयं को उनसे छुड़ाकर भाग गया। जिस पर तीनों अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थाना खमतराई में अपराध क्रमांक 492/21 धारा 376, 376डी, 506बी, 392 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया। घटना को पुलिस उपमहानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस महोदय अजय यादव द्वारा गंभीरता से लेते हुये अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर तारकेश्वर पटेल, नगर पुलिस अधीक्षक उरला विश्वदीपक त्रिपाठी एवं थाना प्रभारी खमतराई विनीत दुबे को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर जल्द से जल्द गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।
 
जिस पर थाना प्रभारी खमतराई विनीत दुबे के नेतृत्व में थाना खमतराई की एक विशेष टीम का गठन कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी प्रारंभ किया गया। घटना के संबंध में प्रार्थिया एवं उसके पति से विस्तृत पूछताछ की गई। टीम के सदस्यों द्वारा बंजारी मंदिर एवं उसके आसपास लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजेस का अवलोकन करने के साथ ही तकनीकी विश्लेषण के माध्यम से भी अज्ञात आरोपियों की पहचान सुनिश्चित करने के प्रयास किये जा रहे थे। अज्ञात आरोपियों की पतासाजी के संबंध में मुखबीर भी लगाए गए। इसी दौरान अज्ञात आरोपियों की गिरफ्तारी में लगी टीम को घटना में संलिप्त आजाद नगर रावाभांठा खमतराई निवासी आरोपी राजेश कुमार साहू के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई, जिस पर टीम के सदस्यों द्वारा आरोपी की पतासाजी कर आरोपी राजेश कुमार साहू को पकड़ने में सफलता मिली।
 
प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर टीम के सदस्यों द्वारा आरोपी राजेश कुमार साहू से कड़ाई से पूछताछ करने पर आरोपी द्वारा अपने अन्य दो साथी मुकेश साहू एवं संतोष बेलदार के साथ मिलकर उक्त घटना को कारित करना स्वीकार किया। जिस पर टीम के सदस्यों द्वारा घटना में संलिप्त आरोपी मुकेश साहू एवं संतोष बेलदार को भी पकड़ा गया। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि दिनांक घटना को तीनों ने पहले प्रार्थिया के पति को बुलाकर उसे पकड़कर पिकअप वाहन में बैठाकर उसके मोबाईल फोन को लूट लिए एवं आउटर क्षेत्र में ले जा रहे थे। इसी दौरान प्रार्थिया का पति स्वयं को छुड़ाकर भाग गया। तीनों आरोपी पुनः बंजारी मंदिर आए एवं प्रार्थिया को पिकअप वाहन में बैठाकर आउटर क्षेत्र में ले जाकर आरोपी राजेश कुमार साहू एवं मुकेश साहू ने बारी-बारी प्रार्थिया के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया तथा आरोपी संतोष बेलदार रास्ते में उतरकर चला गया। आरोपी राजेश कुमार साहू एवं मुकेश साहू ने प्रार्थिया को पुनः बंजारी मंदिर पास ले जाकर छोड़ दिया।
 
तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही पर कब्जे से लूट की 01 नग मोबाईल फोन एवं घटना में प्रयुक्त पिकअप वाहन को जप्त किया। आरोपी राजेश कुमार साहू पिता भरत साहू उम्र 37 साल निवासी आजाद नगर रावाभांठा खमतराई रायपुर, मुकेश साहू पिता सेवा राम साहू उम्र 24 साल निवासी फुलवारी चौक रावाभांठा खमतराई रायपुर, संतोष बेलदार पिता कुंजल बेलदार उम्र 30 साल निवासी आजाद नगर रावाभांठा खमतराई रायपुर को गिरफ्तार करने में निरीक्षक विनीत दुबे थाना प्रभारी खमतराई, उपनिरीक्षक कमल नारायण शर्मा थाना खमतराई, सायबर सेल से प्रधान आरक्षक महेन्द्र राजपूत, सुरेश देशमुख, थाना खमतराई से आरक्षक सुदीप मिश्रा, पुष्पराज परिहार, सुनील सिलवाल, दीपक मिश्रा, विकास सिंह एवं आदित परिहार की महत्वपूर्ण भूमिका रही।


जिला मुख्यालयों में आयोजित मुख्य समारोह में विधानसभा अध्यक्ष, मंत्रीगण और संसदीय सचिव फहराएंगे तिरंगा

जिला मुख्यालयों में आयोजित मुख्य समारोह में विधानसभा अध्यक्ष, मंत्रीगण और संसदीय सचिव फहराएंगे तिरंगा

11-Aug-2021

स्वतंत्रता दिवस समारोह - 2021 : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल राजधानी रायपुर में करेंगे ध्वजारोहण

जिला मुख्यालयों में आयोजित मुख्य समारोह में विधानसभा अध्यक्ष, मंत्रीगण और संसदीय सचिव फहराएंगे तिरंगा

रायपुर : प्रदेश में 15 अगस्त 2021 को स्वतंत्रता दिवस पूरी गरिमा और उत्साह के साथ मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल राजधानी रायपुर के पुलिस परेड ग्राऊण्ड में आयोजित मुख्य समारोह में ध्वजारोहण करेंगे। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत कोरिया जिला मुख्यालय में एवं उपाध्यक्ष श्री मनोज सिंह मण्डावी कोण्डागांव जिला मुख्यालय में आयोजित मुख्य समारोह में ध्वजारोहण करेंगे। अन्य जिला मुख्यालयों में मंत्रीगण और संसदीय सचिव राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे और मुख्यमंत्री का प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन करेंगे।

 राज्य शासन के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा प्रदेश के जिला मुख्यालयों में ध्वजारोहण हेतु मुख्य अतिथियों की सूची जारी कर दी गई है। गृह एवं लोक निर्माण मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू महासमुंद में, पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव कबीरधाम में, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री श्री रविन्द्र चौबे रायगढ़ में, वन एवं परिवहन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर दुर्ग में, स्कूल शिक्षा तथा अनुसूचित जाति तथा आदिम जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम कोरबा में, उद्योग एवं आबकारी मंत्री श्री कवासी लखमा बस्तर में, नगरीय प्रशासन एवं श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया सरगुजा में, खाद्य एवं संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत राजनांदगांव में, उच्च शिक्षा एवं खेल मंत्री श्री उमेश पटेल बलौदाबाजार-भाटापारा में, राजस्व एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल बिलासपुर में तथा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री गुरू रूद्रकुमार मुंगेली मंे, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया कांकेर जिला मुख्यालय में आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में ध्वजारोहण करने के पश्चात मुख्यमंत्री का प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन करेंगे।

     इसी प्रकार संसदीय सचिव श्री यू.डी. मिंज बलरामपुर में, श्री विकास उपाध्याय बेमेतरा में, श्री रेखचंद जैन सुकमा में, श्री इन्द्रशाह मंडावी दंतेवाड़ा में, श्री विनोद सेवनलाल चन्द्राकर धमतरी में, श्री चिन्तामणि महाराज जशपुर में, श्री द्वारिकाधीश यादव गरियाबंद में, श्री शिशुपाल सोरी बीजापुर में, श्री पारसनाथ राजवाड़े गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में, सुश्री शकुंतला साहू सूरजपुर में, श्री गुरूदयाल सिंह बंजारे नारायणपुर में, डॉ. श्रीमती रश्मि आशीष सिंह बालोद में एवं श्री चन्द्रदेव प्रसाद राय जांजगीर-चांपा जिला मुख्यालय में आयोजित 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में ध्वजारोहण करने के बाद मुख्यमंत्री का प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन करेंगे।


भारत बचाओ आंदोलन  *छत्तीसगढ़ किसान सभा (CGKS)

भारत बचाओ आंदोलन *छत्तीसगढ़ किसान सभा (CGKS)

10-Aug-2021

*छत्तीसगढ़ किसान सभा (CGKS)*
*(अ. भा. किसान सभा - AIKS से संबद्ध)*
*नूरानी चौक, राजा तालाब, रायपुर, छग*

*केंद्र-राज्य की कॉर्पोरेटपरस्ती के खिलाफ पूरे प्रदेश में हुए धरना-प्रदर्शन, जलाई गई कृषि कानूनों की प्रतियां : खाद-बीज की कमी-कालाबाज़ारी और आदिवासियों पर राजकीय दमन का भी विरोध*

संयुक्त किसान मोर्चा, अखिल भारतीय किसान संघर्ष समिति और विभिन्न ट्रेड यूनियन संगठनों के आह्वान पर आज 9 अगस्त को पूरे छत्तीसगढ़ में भी 'भारत बचाओ, कॉर्पोरेट भगाओ' के नारे के साथ आंदोलन हुआ। यह आंदोलन कॉर्पोरेटपरस्त तीन किसान विरोधी कानूनों तथा मजदूर विरोधी श्रम संहिता को वापस लेने, फसल की सी-2 लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करने और किसानों की पूरी फसल की सरकारी खरीदी का कानून बनाने, बिजली कानून में जन विरोधी संशोधनों को वापस लेने, छत्तीसगढ़ में खाद-बीज-दवाई की कमी और बाजार में इसकी कालाबाज़ारी पर रोक लगाने, बिजली दरों में की गई वृद्धि वापस लेने, आदिवासियों पर हो रहे राज्य प्रायोजित दमन तथा विस्थापन पर रोक लगाने तथा इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों को सजा देने, प्रदेश के कोयला खदानों की नीलामी पर रोक लगाने, वनाधिकार कानून, पेसा और 5वीं अनुसूची के प्रावधान लागू करने, मनरेगा में 200 दिन काम देने, आयकर दायरे से बाहर हर परिवार को प्रति माह 7500 रुपये की नगद मदद करने तथा प्रति व्यक्ति हर माह 10 किलो अनाज सहित राशन किट मुफ्त देने की मांग पर आयोजित किया गया।

यह जानकारी छत्तीसगढ़ किसान सभा के प्रदेश अध्यक्ष संजय पराते और महासचिव ऋषि गुप्ता ने दी। उन्होंने बताया कि आदिवासी एकता महासभा के साथ मिलकर किसान सभा ने प्रदेश के अधिकांश जगहों पर स्वतंत्र रूप से, तो कुछ जगहों पर ट्रेड यूनियनों के साथ मिलकर धरना और प्रदर्शन आयोजित किये गए तथा अनेकों जगहों पर किसान-मजदूर विरोधी कृषि कानूनों और श्रम संहिता की प्रतियां जलाई गई। उनकी इस कार्यवाही को मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी सहित सभी वामपंथी पार्टियों का भी समर्थन प्राप्त था और वामपंथी कार्यकर्ता भी इन आंदोलनों में शामिल हुए। रायपुर, कोरबा, सरगुजा, सूरजपुर, रायगढ़, जांजगीर, बस्तर, बिलासपुर, मरवाही, कांकेर, राजनांदगांव, धमतरी सहित 20 से ज्यादा जिलों में ये आंदोलन आयोजित किये गए। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से पूर्व सांसद हन्नान मोल्ला ने सफल विरोध कार्यवाहियां आयोजित करने के लिए प्रदेश की आम जनता और मजदूर-किसानों को बधाई दी है।

किसान सभा नेताओं ने कहा कि मोदी सरकार ने जिस तरह संसदीय प्रक्रिया को ताक पर रखकर और देश के किसानों व राज्यों से बिना विचार-विमर्श किये तीन कृषि कानून बनाये हैं, ये कानून अपनी ही खेती पर किसानों को कॉरपोरेटों का गुलाम बनाने का कानून है। इन कानूनों के कारण निकट भविष्य में देश की खाद्यान्न आत्म-निर्भरता ख़त्म हो जाएगी, क्योंकि जब सरकारी खरीद रूक जायेगी, तो इसके भंडारण और सार्वजनिक वितरण प्रणाली की व्यवस्था भी समाप्त हो जायेगी। इसका सबसे बड़ा नुकसान देश के गरीबों, भूमिहीन खेत मजदूरों और सीमांत व लघु किसानों को उठाना पड़ेगा। इसलिए इन कानूनों की वापसी तक छत्तीसगढ़ में भी आंदोलन जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि जब देश की जनता और अर्थव्यवस्था कोरोना संकट से बर्बाद हो रही है और आम जनता अपनी रोजी-रोटी गंवा रही है, उसे मुफ्त अनाज और नगद राशि से मदद करने के बजाय संघपरस्त मोदी सरकार ने अपनी तिजोरियों का मुंह देशी-विदेशी कॉरपोरेटों के लिए खोल दिया है और देश के प्राकृतिक संसाधनों और सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों को उन्हें सौंपने की मुहिम चला रही है। इसका नतीजा है कि केवल अडानी और अंबानी मिलकर हर घंटे औसतन 200 करोड़ रुपये कमा रहे हैं, जबकि मोदी और भाजपा के पिछले सात सालों के राज में हर घंटे दो किसान आत्महत्या कर रहे हैं। किसान सभा नेताओं ने कहा कि इसलिए यह आंदोलन स्वतंत्र भारत के इतिहास में कार्पोरेट लूट के खिलाफ सबसे बड़ा जन आंदोलन है।

इस आंदोलन के जरिये राज्य की कांग्रेस सरकार की आदिवासी विरोधी नीतियों का भी विरोध किया गया। किसान सभा नेताओं ने कहा कि प्रदेश में कॉरपोरेटों द्वारा जल-जंगल-जमीन की लूट को आसान बनाने के लिए उन्हें अपनी भूमि से विस्थापित करने की नीति अपनाई जा रही है। प्रदेश के 17 कोयला खदानों की नीलामी से और बस्तर में नक्सलियों से निपटने के नाम पर आदिवासियों के संवैधानिक प्रावधानों को ताक पर रखकर उन पर गोलियां चलाये जाने से यह स्पष्ट है। 

*संजय पराते*, अध्यक्ष
(मो) 094242-31650
*ऋषि गुप्ता*, महासचिव
(मो) 094062-21661


Previous123456789...5556Next