विरासत, रंगीला और मन जैसी फिल्‍मों में नजर आने वाले कॉमेडी एक्‍टर नीरज वोरा गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं. वे पिछले 10 महीने से कोमा में हैं. नीरज वोरा 19 अक्टूबर, 2016 को ब्रेन स्ट्रोक के शिकार हुए थे. इसके बाद उन्‍हें दिल्ली स्थित एम्स में एडमिट कराया गया था. उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. बाद में हालत में कुछ सुधार के बाद उनके दोस्त फिरोज नाडियाडवाला मार्च, 2017 में उन्हें मुंबई वापस लाए. उसी समय से नीरज अपने दोस्‍त के यहां रह रहे हैं.

नीरज वोरा के लिए चित्र परिणाम

दोस्त फिरोज नाडियाडवाला उन्हें मुंबई ले आए और अपने जुहू स्थित घर के एक कमरे को आईसीयू में बदल कर नीरज को वहीं रखा। इस कमरे की दीवारों पर नीरज की तमाम फिल्मों की तस्वीरें लगाई गईं, ताकि उन्हें देखकर शायद उनकी याद्दाश्त ठीक हो सके। कमरे के एक कोने में टीवी के साथ उनकी फिल्मों की तमाम डीवीडी भी रखी गई हैं, जिस पर उनकी फिल्में चलाई जाती हैं। फिरोज के अनुसार, 11 मार्च से नीरज वहीं रह रहे हैं। 24 घंटे एक नर्स, एक वॉर्ड बॉय और एक कुक नीरज के साथ रहता है। इसके अलावा फिजियोथेरपिस्ट, न्यूरो सर्जन, एक्यूपंक्चर थेरपिस्ट और जनरल फिजिशन भी हर हफ्ते विजिट करते हैं। हालांकि नीरज की इस हालत के चलते उनकी आगामी फिल्म 'हेराफेरी 3' का काम फिलहाल रुक गया है।

नीरज एक उम्दा ऐक्टर होने के साथ-साथ बेहतरीन राइटर और डायरेक्टर भी हैं। उन्होंने 'हेराफेरी', 'खिलाड़ी 420', 'फिर हेराफेरी' जैसी हिट फिल्मों का निर्देशन भी किया है। साथ ही 'रंगीला', 'अकेले हम अकेले तुम', 'ताल', 'जोश', 'चोरी चोरी चुपके चुपके', 'अवारा पागल दीवाना' जैसी कई फिल्मों के डायलॉग भी लिखे हैं। नीरज के करीबी दोस्तों में से एक निर्देशक अनीज बज्मी ने बताया, 'जब मैं लंदन में अपनी फिल्म 'मुबारकां' की शूटिंग कर रहा था, तब परेश रावल ने मुझे यह खबर बताई। मुझे बहुत दु:ख हुआ, लेकिन शूटिंग को बीच में छोड़कर आना मेरे लिए संभव नहीं था। नीरज को मैं अपना अच्छा दोस्त मानता हूं।

मैंने उनके लिए एक फिल्म की स्क्रिप्ट भी लिखी थी। वह मेरे करीबी इसलिए भी हैं, क्योंकि हम राइटिंग के दिनों से एक-दूसरे को जानते हैं। इसलिए जब मुझे पता चला कि वह कोमा में है, तो मुझे ऐसा लगा मानो मेरे किसी फैमिली मेंबर के साथ कुछ हुआ हो। मैंने अपने एक दोस्त को नीरज का हालचाल जानने के लिए भी भेजा। फिर मुझे पता चला कि नीरज को फिरोज नाडियाडवाला के यहां शिफ्ट कर दिया गया है। चूंकि मेरी और फिरोज की बनती नहीं है, इसलिए मैं अभी तक उनसे मिलने नहीं जा पाया हूं। नीरज एक बेहतरीन राइटर हैं और इंडस्ट्री को उनके जैसे राइटर्स की जरूरत है।

मैं यही कामना करता हूं कि वह जल्दी से ठीक हो जाएं और फिर से हमारे साथ काम करने लगें।' नीरज के एक अन्य दोस्त का दावा है कि उनकी स्थिति में अब सुधार हो रहा है और वह अपने आस-पास के माहौल को देखकर थोड़ा रिस्पॉन्ड करने लगे हैं। नीरज के करीबी लोगों का कहना है कि कुछ साल पहले नीरज की पत्नी का निधन हो गया था और उनके बच्चे भी नहीं हैं, इसलिए फिलहाल वह पूरी तरह अपने दोस्तों पर ही निर्भर हैं।

30-Aug-2017

Related Posts

Leave a Comment