निजी सुरक्षा पॉलीक्लिनिक अस्पताल में प्रसव के दौरान डॉक्टर की लापरवाही के चलते जच्चा-बच्चा की मौत, परिवार के लोगों सुरक्षा अस्पताल के डॉक्टर के खिलाफ थाना गंज पुलिस को दी तहरीर |

रामपुर  : रामपुर थाना गंज क्षेत्र के बिलासपुर गेट स्थित निजी सुरक्षा अस्पताल में प्रसव के दौरान डॉक्टर की लापरवाही के चलते मां और बच्चे की मौत परिवार के लोगों द्वारा अस्पताल में हंगामा होते ही डॉक्टर अस्पताल बंद कर मौके से फरार थाना गंज पुलिस को दी मृतका की साफ रुखसाना ने पुलिस को तहरीर जानकारी के अनुसार थाना सिविल लाइन क्षेत्र की पहाड़ी गेट स्थित काशीराम कॉलोनी निवासी रवीश की पत्नी जेवा खान गर्भवती थी परिवार के लोगों ने जेवा को बिलासपुर गेट स्थित सुरक्षा हॉस्पिटल में एडमिट कराया था लेकिन डॉक्टर नॉर्मल डिलीवरी के चक्कर में महिला को तड़पता हुआ देखते रहे और डिलीवरी के समय बच्चे की मौत हो गई बाद में हालत खराब होने पर अस्पताल के डॉक्टर के हाथ पांव फूल गए उन्होंने घबराकर जेबा खान के परिवार वालों को बेहतर इलाज के लिए जिला अस्पताल के लिए भेज दिया लेकिन जेबा खान की सास रुखसाना पत्नी निजामुद्दीन ने बताया कि उनकी बहू का इलाज गुप्ता मेटरनिटी अस्पताल में चल रहा था और 14 मई को बहू की हालत खराब होने पर अपनी बहू को गुप्ता मेटरनिटी अस्पताल ले जाने के लिए कह रही थी तभी जेबा खान के पिता आजम और बहन फरीन बहनोई कपिल और चाची शाहदरा जबरदस्ती जेबा को बिलासपुर के सुरक्षा पॉलीक्लिनिक अस्पताल ले गए जहां पर जेबा खान ने मृत पुत्र को जन्म दिया और 3,4 घंटे बाद जेबा की हालत भी खराब होने लगी और जेबा सुरक्षा पॉलीक्लिनिक नहीं दम तोड़ दिया रुखसाना ने बताया कि उनकी बहू इलाज का सारा पैसा भी रुक जाना नहीं खर्च किया है लेकिन जेबा की मौत के बाद उसके पिता और परिवार के लोगों ने उल्टा रुखसाना और उनके बेटे रवीश को ही बुरा भला गालियां देना  शुरू कर दिया और मृत्य जेबा शब को छीन कर अपने घर ले जाने लगे अस्पताल में हंगामा होते देख लोगों ने शांत कराया तो मृतका के पिता और रिश्तेदारों ने पैसा एठने के लिए के लिए उल्टा मृतका के पति और सांस के खिलाफ थाना सिविल लाइंस में तहरीर दे दी अब मृतका की सास रुखसाना ने थाना सिविल लाइंस पुलिस को तहरीर देकर मामले की जांच करा कर न्याय करने की गुहार की है जिला अस्पताल में मृतका की सास रुखसाना ने मीडिया को बताय की उन्होंने अपने बहू और बच्चे की जान बचाने को डॉक्टर से ऑपरेशन करने के लिए कहती रही लेकिन डॉक्टर जच्चा बच्चा को सही बताते हुए नॉर्मल डिलीवरी के चक्कर में पड़े रहे और अंत में पहले बच्चे और फिर बच्चे की मां दोनों की मौत हो गई,

लेकिन डॉक्टर जच्चा बच्चा के सही होने की बात बताते रहे और डिलीवरी के समय बच्चे की मौत हो गई मौत के बाद ही डॉक्टरों ने घबराकर जेबा खान को अन्य अस्पताल में ले जाने की सलाह दी आनन-फानन में बहू को  के लिए रुखसाना एक निजी अस्पताल में लेकर गई लेकिन महावीर डॉक्टर ना मिलने पर जब तक वह जिला अस्पताल लेकर पहुंची तब डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया,

बहू और पोते की मौत के बाद तो परिवार में कोहराम मच गया लेकिन निजी अस्पताल के डॉक्टर अस्पताल में ताला डाल कर मौके से फरार हो गए बाद में मृतका जेवा खान की सास ने सुरक्षा अस्पताल के डॉक्टर के खिलाफ इलाज में लापरवाही बरते हुए बहू और पोते की हत्या का आरोप लगाया है सूचना मिलने पर भारतीय किसान यूनियन अंबावता की प्रदेश अध्यक्ष नजराना बेगम और  शबाना खान ने बताया कि झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए जो पैसों की खातिर जच्चा बच्चा की जान से खेलते हैं ऑफिस बिगड़ने पर दूसरी जगह इलाज के लिए सफर कर अपने आप को बचा लेते हैं ऐसे निजी अस्पताल और झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए जिससे फिर किसी जच्चा बच्चा की जान ना जा सके |

21-May-2022

Related Posts

Leave a Comment