नई दिल्ली : एक इंवेस्टीगेशन रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि दुनियाभर की तकरीबन 43.5 करोड़ विंडोज, मैक और मोबाइल डिवाइसेज पर इंस्टॉल एवास्ट एंटीवायरस ने यूजर्स के डाटा को गूगल और माइक्रोसॉफ्ट को बेचा है। मदरबोर्ड और पीसीमैग की तरफ से की गई इस संयुक्त पड़ताल में सामने आया कि एवास्ट ने ब्रॉउजर प्लगइंस के जरिए यूजर्स का डाटा एकत्र किया और उसे थर्ड पार्टीज को बेच दिया।

दुनियाभर में Avast एंटी वायरस यूजर्स के डेटा को कंप्यूटर्स से कलेक्ट करने के बाद इसे सहायक कम्पनी Jumpshot में ट्रांसफर किया जाता था। इस डेटा को जंपशॉट एक बंडल में तैयार कर उन कम्पनियों को बेच देती थी जो ग्राहकों के डेटा को अपने प्रॉडक्ट और टारगेटिड ऐड्स में यूज करती हैं। कुछ मामलों में यह डेटा लाखों डॉलर की कीमत में बेचा गया है। 

Avast ने जिन कम्पनियों को डेटा बेचा उनमें गूगल, इनट्रूिट, माइक्रोसॉफ्ट, एक्सपीडिया और लॉरिएल जैसे कंपनियां मौजूद हैं। बेचे गए डेटा में यूजर्स के गूगल सर्च, मैप्स पर लोकेशन सर्च के साथ ही लिंक्डइन व यूट्यूब पर की गई ऐक्टिविटी की जानकारी शामिल है। इतना ही नहीं यूजर्स द्वारा सर्च की गई पॉर्न वेबसाइट्स का डेटा भी कम्पनियों को बेचा गया है। Avast द्वारा डेटा लीक होने की खबर सामने आने पर कुछ कम्पनियों ने इस मामले से किनारा कर लिया है। माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि उसका अब जंपशॉट से कोई संबंध नहीं है। वहीं गूगल ने अब तक इस मामले में अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

29-Jan-2020

Leave a Comment