एजेंसी 

नई दिल्ली: टीम इंडिया से काफी समय से बाहर चल रहे मुंबई के युवा ओपनर पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) टीम इंडिया में वापसी के लिए पिछले काफी समय से जोर-जोर से दरवाजा खटखटा रहे हैं. मतलब यह कि इस युवा ने घरेलू सीजन में तूफानी बल्लेबाजी की है, लेकिन इतने पर भी सेलेक्टरों का दिल उनके लिए नहीं पसीजा है. और अब आकाश चोपड़ा ने एक खास वजह से पृथ्वी शॉ को न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम में न लेने पर सवाल उठाए हैं. वहीं, यह भी नहीं भूला जा सकता कि पृथ्वी शॉ पिछले घरेलू सीजन की विजय हजारे ट्रॉफी में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. 

चोपड़ा ने पोस्ट किए अपने ट्वीट में कहा कि आज जितना ज्यादा न्यूजीलैंड दौरे पर गयी टीम के बारे में सोचते हैं, तो आप हैरानी जताते हैं कि पृथ्वी शॉ इस टीम में क्यों नहीं है. आप पावर-प्ले में खेलने की शैली में बदलाव चाहते हैं. यह उन बल्लेबाजों के लिए खेलने का मौका है, जो नैसर्गिक रूप से से विध्वसंक हैं.

विश्व कप में रहा पावर-प्ले में बुरा हाल 
बात चोपड़ा की एकदम सही है. सभी ने देखा कि हाल ही में खत्म हुए टी-0 विश्व कप में भारत के पूरे टूर्नामेंट में पावर-प्ले के औसत पर सवाल खड़े हुए हैं. यह वह पहलू है, जिसे लेकर मैनेजमेंट को समीक्षा के दौरान जवाब देना है. शुरुआती छह ओवरों में टूर्नामेंट में भारत का औसत करीब छह रन प्रति ओवर का रहा. ग्रुप स्टेज में यह औसत इस मामले में सबसे फिसड्डी रही यूएई के बाद दूसरे नंबर पर था. इससे आप समझ सकते हैं कि पावर-प्ले में हाल कैसे हैं. ऐसे में जब घरेलू सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज को टीम में जगह नहीं मिलती, तो सवाल तो उठेंगे ही

बेस्ट स्ट्राइक रहा है इस बार  और...

बता दें कि साल 2020-21 में पृथ्वी शॉ घरेलू वनडे सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. उन्होंने 8 मैचों की इतनी ही पारियों में 165.40 के औसत और 138.29 के स्ट्रा.रेट से 827 रन बनाए थे. इसमें उनके चार तक और एक अर्द्धशतक शामिल था. इस साल पृथ्वी सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (T20) में सबसे ज्यादा रन बनाने बालों में दूसरे नंबर पर रहे. पृथ्वी ने 10 मैचों की इतनी ही पारियों में 36.88 के औसत से 332 रन बनाए. उनका स्ट्रा. रेट 181.42 का रहा. 

18-Nov-2022

Leave a Comment