नई दिल्ली : अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में दमदार प्रदर्शन करने वाले बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट जैसे पहलवानों को भी विश्व चैम्पियनशिप के लिए चयन परीक्षण (ट्रायल) से गुजरना होगा। भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने कहा कि वह सभी पहलवानों को टोक्यो ओलंपिक के लिए ‘क्वालीफाई करने का समान अवसर’ देना चाहता है। डब्ल्यूएफआई 25 जुलाई को सोनीपत में पुरुषों के चयन परीक्षण का आयोजन करेगा, जबकि महिलाओं का चयन परीक्षण 26 जुलाई को लखनऊ में होगा।

विश्व चैम्पियनशिप का आयोजन कजाखस्तान में 14 से 22 सिंतबर तक होगा। यह टूर्नामेंट ओलंपिक क्वालीफाइंग प्रतियोगिता है। विनेश ने नए 53 किग्रा वर्ग में यासर डोगू और स्पेन ग्रां प्री में लगातार 2 स्वर्ण पदक जीते हैं- जबकि बजरंग ने अपने पिछले 10 अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में सिर्फ एक मुकाबला गंवाया है। वह 2018 विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में हार गए थे। डब्ल्यूएफआई के सहायक सचिव विनोद तोमर ने कहा कि निष्पक्षता के लिए जरूरी है कि सभी वर्गों के लिए परीक्षण आयोजित किए जाए।

No Exemption for Vinesh Phogat, Bajrang Punia From Trail

उन्होंने पीटीआई से कहा- हम किसी भी पहलवान के ओलंपिक में खेलने के सपने को नहीं तोडऩा चाहते। विश्व चैम्पियनशिप इस मामले में काफी अहम है। हर वर्ग में पहलवान अपनी जगह बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे है। ऐसे में विनेश और बजरंग सहित सभी पहलवानों को चयन परीक्षण से गुजरना होगा। उनसे जब अनुभवी लेकिन संघर्ष कर रहे पहलवान सुशील कुमार 74 किग्रा में परीक्षण में भाग लेने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएफआई उन्हें प्रतिस्पर्धा में भाग लेने से नहीं रोकेगा।

उन्होंने कहा- अगर वह इसमें भाग लेना चाहते है तो हम उसे अनुमति देंगे। उन्होंने हालांकि इसमें भाग लेने के बारे में हमें सूचित नहीं किया है। वह रूस में प्रशिक्षण ले रहा है और उनके दिमाग में विश्व चैम्पियनशिप जरूर होगी। वह अगर हमें 23 जुलाई तक सूचित करते हैं तो भी परीक्षण में भाग ले सकते हैं।

17-Jul-2019

Leave a Comment