भारतीय क्रिकेट के महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने एक ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट बैट बनाने वाली कंपनी के खिलाफ एक सिविल केस दायर किया है। इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि वह कंपनी अपने उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए उनके नाम और छवि का इस्तेमाल कर रही है और अब तक उन्हें रॉयल्टी के रूप में 2 मिलियन डॉलर(लगभग 14 करोड़) का भुगतान करने में विफल रही है।

फेडरल कोर्ट के कागजात में इस महीने दायर की गई समीक्षा पर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने कहा कि सिडनी स्थित स्पार्टन स्पोर्ट्स इंटरनेशनल ने 2016 में उनकी नाम, लोगो, कपड़े को बेचने और प्रचार सेवाओं का यूज करने के लिए उन्हें सालाना कम से कम एक मिलियन डॉलर(लगभग सात करोड़) का भुगतान करने के लिए सहमति जताई थी।

डॉक्यूमेंट्स से पता चला है कि संन्यास ले चुके स्टार बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर जल्द ही संबंधित कंपनी के प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने के लिए काम करने लगे और लंदन और भारतीय वित्तीय केंद्र जैसे जगहों पर प्रचार कार्यक्रमों में दिखाई भी दिए।

हालांकि, सितंबर 2018 तक, स्पार्टन कंपनी कुछ भी बकाया भुगतान करने में विफल रही। इस पर तेंदुलकर ने कहा कि उन्होंने भुगतान के लिए कंपनी से औपचारिक अनुरोध किया। जब वहां से कोई जबाव नहीं आया, तो उन्होंने एग्रीमेंट को खत्म कर दिया और कंपनी से अपने नाम का इस्तेमाल बंद करने के लिए कहा।

बता दें कि सचिन तेंदुलकर ने 2013 में अपने 24 साल के करियर को अलविदा कह दिया था। जिसमें उन्होंने 34,000 से अधिक रन और 100 शतकों के साथ टेस्ट और वन-डे इंटरनेशनल में सबसे ज्यादा रन बनाए।

साभार : livehindustan.com से 

14-Jun-2019

Leave a Comment