दिल्ली 

हरियाणा की युवा शूटर मनु भाकर के ट्वीट से उपजे विवाद पर खेल मंत्री अनिल विज ने अपना पक्ष रखा। अनिल विज ने कहा कि मनु भाकर को पब्लिक में ट्वीट करने से पहले खेल विभाग के अधिकारियों से सलाह लेनी चाहिए। अगर मैंने ट्वीट किया तो हम दो करोड़ देंगे। हमने कभी नहीं कहा कि हम नहीं देंगे। बाद में जो अधिसूचना जारी हुई वो भविष्य के लिए है। उनके लिए नहीं है।

बता दें कि हरियाणा की युवा शूटर मनु भाकर ने ट्वीट करते हुए खेल मंत्री अनिल विज पर चुटकी ली थी। बीते वर्ष यूथ ओलंपिक में गोल्ड जीतने पर मनु को दो करोड़ रुपये इनाम देने की अनिल विज ने घोषणा की थी। असल में उस समय विज यूथ ओलंपिक की इनामी राशि भी जूनियर ओलंपिक के बराबर समझ गए थे, जबकि खेल नीति में यूथ ओलंपिक में गोल्ड जीतने पर एक करोड़ रुपये देने का प्रावधान है। गौरतलब है कि पूर्व सरकार में यह राशि मात्र दस लाख रुपये हुआ करती थी, भाजपा सरकार ने बीते वर्ष ही इसमें संशोधन कर दस गुणा बढ़ाया है। 

विज ने दस अक्टूबर 2018 को मनु के जीतने पर अपने ट्विटर अकाउंट पर गोल्ड जीतने के लिए बधाई देते हुए दो करोड़ रुपये देने की घोषणा कर दी थी। विज ने उस समय कहा था कि पूर्व सरकार में सिर्फ दस लाख रुपये दिए जाते थे। उनकी सरकार दो करोड़ रुपये देगी। लेकिन, विज जानकारी के अभाव में भूल गए कि उनकी बनाई खेल नीति में इनामी राशि दो करोड़ नहीं, बल्कि एक करोड़ रुपये है।

05-Jan-2019

Related Posts

Leave a Comment