☸️☸️☸️ ☸️☸️☸️ *भाइयों और बहनों* दिमाग की ऊपरी सतह पर मुश्किल से एक ग्राम वजन का एक जाति नाम का कीड़ा आपसे आगे क्या क्या करवा सकता है- ❓ *1*-एक ग्राम का यह कीड़ा 500 ग्राम का झाड़ू और एक किलो का मटका लटकवा सकता है। *2*-जब तक ये कीड़ा दिमाग मे घूमता रहेगा आपको घुमा फिराकर अंतरजातीय शादी नही करने देगा तो मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर नश्ले पैदा होगी जो आपकी कमाई का अधिकांश हिस्सा दवाई में चला जायेगा। *3*-ये कीड़ा आपकी दवाई पढ़ाई महगाई और रोजगार से वंचित करवाकर वापस मनुतंत्र में एक एक कुंटल का वजन ढोने के लिए मजबूर करवाएगा। *4*-ये कीड़ा आपके बिके हुए नेता को वोट दिलवाएगा और आपको अंत मे घंटा बजाने के अलावा कुछ नही मिलेगा। *5*-ये कीड़ा आपके अधिकारी बन जाने के बाद भी हवा में उड़ने वाले हनुमान जी के दरबार मे पहुचायेगा जो बेचारा 5 सेकंड ठीक से उड़ जाए तो टांग अस्पताल में जुड़वाता हुआ मिलेगा। *6*-ये कीड़ा अपने महापुरुषों को पढ़ने नही देगा क्योकि उसको पता ही नही है कि ये विषमता का कीड़ा समता को स्थापित करने वाले महापुरुषों को इतिहास भूगोल से गायब करके मीडिया और बाबाओ द्वारा विषमता स्थापित करने वाले लोगो को हीरो बना दिया है। *7*-ये कीड़ा एक वायरस है जो मोबाइल की तरह दिमाग को हैंग कर दिया है इसलिए इसको शूद्र नाम के एंटीवायरस से डिलीट किया जा सकता है कि शूद्र सभी (ओबीसी/sc/st/माइनॉरिटी) है जो हिन्दू नाम के एक दो ग्राम कीड़े ने ढक कर रखा है। ❓ जब पढ़ा लिखा आदमी तर्क करता है तो गणेश में मुंडी हाथी की नही लग सकती उसी तरह शूद्र नभ जल थल में सब कुछ बनाकर नीच कैसे हो सकता है। ----------------------------- जाति में ऊंच नीच ब्राह्मण के आगे सारे नीच *तो गर्व से कैसे कहे हम हिन्दू है* *देवेंद्र यादव* *भारतीय शूद्र संघ* *(BSS)*
09-Aug-2020

Leave a Comment