KHULASAPOST MAGAZINE ARTICLE

आजकल गलत काम करने वालों से कुछ लोग पत्रकार बनकर जमकर वसूली करते हैं और गलत काम करने वाला मजबूरी में कुछ बोल भी नहीं पाता है. आगरा में एक ऐसे ही मामले का भंडा़फोड़ हुआ है जिसमें करीब दस लोग पत्रकार बनकर हर महीने नकली खाद्य तेल बेचने वाले एक कारोबारी से लाखों रुपये वसूलते थे. न देने पर कैमरा लेकर आते और रिकार्डिंग करने लग जाते. फिर धमकी देते कि वह शासन प्रशासन को दिखाकर नकली तेल के कारबोरा की पोल खोल देंगे. इससे डरा कारोबारी उन्हें मुंहमांगी रकम दे देता. 

पत्रकार के लिए चित्र परिणाम

चलिए हम आपको खबर को विस्तार से बताते हैं दरअसल मामला 14 अक्टूबर का आगरा शहर का है जहाँ नकली खाद्य तेल और घी के काले कारोबार के पकड़े जाने के बाद बड़े खेल का खुलासा हुआ नकली तेल-घी बनाने वाले एक कारोबारी ने खुलासा किया की नकली खाद्य बनाने का खुलासा नहीं करने के एवज में कथित पत्रकार उनसे हर महीने दो लाख रुपए वसूलते थे वे कथित पत्रकार कारोबारी को धमकी देते की अगर पैसे नहीं दिए तो हम तुम्हे फंसवा देंगे हमारी सेटिंग छापा मारने वाले टीम से है.   

नकली खाद्य के कारोबारी भी अपना भांडा न फूटे के डर से कथित पत्रकारों को रकम देता था और अपन काले कारोबार को आराम से अंजाम दे रहा था वह एक प्रकार से बेफिक्र हो गया था क्योंकि कथित पत्रकारों ने खाद्य विभाग के कुछ अधिकारियो से सेटिंग होने की बात कही थी 

लेकिन एफएसडीए की टीम ने नुनिहाई स्थित मार्को इंटरनेशनल नामक कंपनी पर छापा डालकर नकली घी का कारोबार पकड़ा और कारोबारी के खुलासे से अधिकारी भी दंग रह गए कारोबारी ने एफएसडीए के अधिकारीयों को एक सूची सौंपी जिसमें दस कथित पत्रकारों के नाम हैं ये कथित पत्रकार कारोबारी से हर महीने लाखों रूपये की वसूली करते थे और पैसा न देने पर कैमरा लेकर आते थे,वीडियो बनाते थे और प्रशासन को दिखाने की धमकी देते थे खैर "चोर का माल चंडाल खाए" यह कहावत कारोबारी और कथित पत्रकार पर बिलकुल फिट बैठता है क्योंकि कारोबारी चोरी यानि नकली घी बनाकर मार्केट में सप्लाई करता था तो उसे उस बेईमानी की कमाई में कथित पत्रकार भी चंडाल बनकर अपना हिस्सा लेने आ जाते थे और कारोबारी अपने कारनामो को छिपाने के लिए कथित पत्रकारों के मुंह में लाखों रुपए रकम ढूंस देता था कारोबारी ने रकम देने की बात को साबित करने के लिए अपने गोदाम और घर में लगे सीसीटीवी फुटेज दिखाने की भी बात कही खैर यह खबर तो यूपी की है

लेकिन ऐसा कदापि नहीं है की ये कथित पत्रकार केवल एक राज्य या शहर में पाएं जाते हो यह हर राज्य में है और किसी चोर यानि काले कारनामो को अंजाम देने वाले व्यापारी के साथ एक प्रकार से पार्टनर बनकर बैठे हुए हैं ।  

 ( आकाश भट्ट की कलम से )

 

13-Nov-2017

Leave a Comment