कोरबा : कोरबा जिले में एसईसीएल संचालित बसों में केवल एसईसीएल कर्मियों के बच्चों को ही चढ़ने दिया जाता है। समाज के अन्य तबकों के साथ इसे भेदभावपूर्ण बताते हुए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने इसके खिलाफ आईज उठाई है और कोरबा जिले में पढ़ने वाले सभी बच्चों को एसईसीएल संचालित बसों में चढ़ने देने फ्री पास उपलब्ध कराने की मांग की है। इस आशय का ज्ञापन माकपा ने कोरबा जिलाधीश को सौंपा है।

माकपा के कोरबा जिला सचिव प्रशांत झा ने बताया है कि एसईसीएल प्रबंधन द्वारा इस क्षेत्र के चारों एरिया में स्कूल बसें संचालित की जाती है, लेकिन बस सुविधा केवल एसईसीएल कर्मचारियों के बच्चों को ही उपलब्ध कराई जाती है और इस क्षेत्र में अन्य रहवासियों के बच्चों को बसों में चढ़ने नहीं दिया जाता। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में एसईसीएल ने जिन लोगों की जमीन ली है, उन्हीं के बच्चों का ऐसे भेदभाव का शिकार होना अन्यायपूर्ण है। यह एसईसीएल का सामाजिक उत्तरदायित्व है कि इस क्षेत्र के आर्थिक-सामाजिक रूप से कमजोर वर्गों की जमीनी स्तर पर मदद करें, जिनके सामुदायिक विकास के नाम पर हजारों करोड़ रुपये कागजों में बहाए जा रहे हैं। माकपा नेता ने कहा कि जरूरत पड़ने पर सीएसआर मद से बसों की संख्या भी बढ़ाई जा सकती है।

जिलाधीश को ज्ञापन सौंपने वालों में प्रमुख रूप से दीपक, दामोदर श्याम, सुमेन्द्र सिंह कंवर, सनत कश्यप, मंगल, नारायण, जय कौशिक आदि शामिल थे। माकपा ने इस संबंध में एसईसीएल के चारों एरिया के महाप्रबंधकों को भी पत्र लिखा है। माकपा नेताओं ने कहा है कि बच्चों की बस समस्या का समाधान नहीं होने पर माकपा स्कूली बच्चों के साथ मिलकर आंदोलन के लिये बाध्य होगी।

 

08-Aug-2022

Related Posts

Leave a Comment