असम में राज्य की बर्बरता के खिलाफ SIO छत्तीसगढ़ ने अम्बेडकर चौक, रायपुर में किया विरोध प्रदर्शन।

No description available.

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (एसआईओ) छत्तीसगढ़ द्वारा असम के दारंग जिले में पुलिस द्वारा दो मुसलमानों की हत्या के खिलाफ अम्बेडकर चौक, रायपुर में विरोध प्रदर्शन किया। संगठन ने मुसलमानों को प्रताड़ित करने वाले असम पुलिस कर्मियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की है।

दो मुसलमानों का कत्लेआम और एक मृत शव की विटंबना करना फासीवादी हिंदुत्व राज्य के क्रूर और सांप्रदायिक चेहरे को दर्शाता है। एसआईओ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद सलमान अहमद ने अपने बयान में कहा कि इस तरह से मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न असम में लोगों की सुरक्षा पर गंभीर सवाल खड़ा करता है, और इसी के साथ राष्ट्रीय सचिव तहूर अनवर ने प्रदर्शन में आए हुए सभी लोगों के सामने अपनी बात रखी तथा महिला विंग से फाखरा साहिबा ने अपनी बात प्रस्तुत की व अंत में प्रदेश अध्यक्ष मो. इमरान अजीज ने भी सभा को सम्बोधित किया इस मौके पर (एसआईओ) रायपुर के अध्यक्ष एसके अमानुल्लाह व जमात ए इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष रज़ा कुरेशी व अन्य सदस्य अनस, उमर, मो. उबैद इत्यादि लोग उपस्थित थे।

असम में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से उसने अल्पसंख्यक प्रभावित इलाकों से हजारों लोगों को बेदखल करना शुरू कर दिया है दरंग जिले में 900 विस्थापित परिवारों को भोजन, आश्रय और कानूनी सहायता की तत्काल आवश्यकता है। इसके बजाय, राज्य ने उन पर नकेल कसी, जिसमें दो लोग मारे गए और कई घायल हो गए।

एसआईओ ने मांग की है कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करे कि इस तरह के अत्याचारों में शामिल अधिकारियों और पुलिस अधिकारियों को दंडित किया जाए और उन्हें न्याय के दायरे में लाया जाए। संगठन को उम्मीद है कि न्यायिक जांच की रिपोर्ट जल्द से जल्द सार्वजनिक की जाएगी. इसने दोनों पीड़ितों के परिवारों के लिए एक-एक करोड़ रुपये और गंभीर रूप से घायलों के लिए 50 लाख रुपये की भी मांग की।

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ़ इंडिया, छत्तीसगढ़

29-Sep-2021

Related Posts

Leave a Comment