रोज करें योग का संदेश देते हुए मनाया गया “योग दिवस”

नियमित योग करने से तनाव होता है कम, आती है सकारात्मकता तब मिलती है राहत

बलौदाबाजार, 21 जून 2021। कोविड-19 महामारी के इस दौर में सकारात्मक ऊर्जा और बेहतर रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए सोमवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस नई थीम- “योग के साथ रहें, घर पर रहें” के तहत मनाया गया। बलौदाबाजार नवीन कोविड अस्पताल परिसर में विशेष योगाभ्यास का आयोजन किया गया। इस दौरान नर्सिंग स्टाफ, चिकित्सकों द्वारा योगाभ्यास और प्राणायाम किया गया। इसके साथ ही अस्पताल के भीतर ऑन ड्यूटी स्टाफ के मार्गदर्शन में कोविड संक्रमित मरीजों ने भी योगाभ्यास किया।

No description available.

इस दौरान लगभग 50 लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सा लेकर स्वस्थ जीवन जीने के लिए योग किया। वहीं सीएमएचओ डॉ. खेमराज सोनवानी भी ऑनलाइन इस कार्यक्रम में शामिल हुए। कोरोना संक्रमण के दौर में भी योगाभ्यास के कई फायदे सामने आए हैं। कोरोना संक्रमण के खतरे को लेकर एहतियात बरतते हुए योगाभ्यास विभिन्न कोविड सेंटरों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों में भी किया जा रहा है। जिला नोडल अधिकारी गैर संचारी रोग प्रकोष्ठ डॉ. राकेश कुमार प्रेमी के मार्गदर्शन में योग सत्र का आयोजन जिला सलाहकार डॉ. सुजाता पांडेय द्वारा कराया गया। इस दौरान मानसिक तनाव, अवसाद, चिंता को दूर करने, फेफड़ों को मजबूती प्रदान करने, सकारात्मकता लाने एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने संबंधी योगासन और प्राणायाम करवाए गए। डॉ. राकेश कुमार प्रेमी ने बताया “कोविड महामारी के दौरान नियमित रूप से योगाभ्यास करने की सलाह कोविड सेंटर के मरीजों और अस्पताल पहुंचने वाले सभी लोगों को दी जा रही है क्योंकि नियमित योग करने से बहुत लाभ मिलता है और सकारात्मकता के साथ-साथ आंतरिक क्षमता भी विकसित होती है। योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है। यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक भी है।  इसलिए सभी को योग करने की सलाह दी जाती है।“ उल्लेखनीय है योग की महत्वता को लेकर भारत के प्रयासों के चलते दुनिया भर के देशों ने इसे संयुक्त राष्ट्र महासभा में स्वीकारा और 21 जून 2015 में पहली बार  विश्व स्तर पर योग दिवस मनाया गया। तब से लेकर हर वर्ष उक्त दिवस स्वस्थ्य तन और मन को रखने के लिए मनाया जाता है।

 

इनका नियमित करें अभ्यास- योगाभ्यास की विशेष ट्रेनर डॉ. सुजाता पांडेय ने  योगाभ्यास के दौरान शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाने, तनावमुक्ति एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करने के लिए कई तरह के आसन प्राणायाम करवाए। साथ ही लोगों को रोगों से लड़ने के लिए योग को इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में अपनाने और नियमित रूप से योगाभ्यास करने की सलाह भी दी। इस दौरान मुख्य रूप से दो आसन ताड़ासन और उत्तासन, प्राणायाम में ओंकार मंत्र, कपालभाती, भस्तिका, अनुलोम विलोम नाणीशोधन प्राणायाम, नादम अनुसंधानम यानि अपनी आवाज की खोज करें, मन बुद्धि को एकाग्र करना भी बताया। डॉ. सुजाता ने बताया “कोविड महामारी से ही मैंने नियमित योग करना शुरू किया है। योग करने से शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है, मन प्रसन्न रहता है, नींद आती है, भूख भी लगती है। शरीर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होने से स्फूर्ति बनी रहती है और कामकाज में भी मन लगता है।“

22-Jun-2021

Related Posts

Leave a Comment