पत्रकार से पत्रकार के झगडे को राजनैतिक रूप देकर भ्रम फ़ैलाने की कोशिश की जा रही है !

कांकेर में आज दिनक 26  9 2020 को दोपहर 2 बजे के लगभग कांकेर थाने  के सामने पत्रकार कमल शुक्ल की कुछ पत्रकारों  जो कि अमर सतम्भ और श्रमबिंदु  समाचार के सह संपादक  बताये जा रहे है  इन सब ने मिलकर कमल शुक्ला की  पिटाई कर दी कथित पिटाई के मामले को लेकर 
 कांकेर कुछ  पत्रकार के  द्वारा  पत्रकार कमल शुक्ला समेत कई पत्रकार धरना देने पुलिस थाने पहुचे थे इस दौरान दूसरे पक्ष   ने उनपर हमला कर दिया और मारपीट करने के साथ ही अभद्र व्यवहार किया।मारपीट करने वालो को कांग्रेस संगठन से जुड़ा बताया गया   ,जबकि हमारे प्रतिनिधि का कहना है की  दोनों पक्ष पत्रकारिता से जुड़े हुए है जिसे जानबूझकर  एक राजनैतिक दल विशेष का बताकर झगडे को  तूल दिया गया है  
शोसल मीडिया  में पत्रकार  के द्वारा दूसरे पक्ष पर टिपण्णी और  भडास् निकाल  गया झगडे की मूल वजह  बताई जा रही है , | अपराध पंजी बद्ध हो चूका है अब पुलिस जांच कर रही है वैस भी पीड़ित बताये जाने वाले पत्रकार महोदय का विवादों से पुराना नाता रहा है  कई सारे मामले इन पत्रकार महोदय के खिलाफ पंजी बद्ध है जिसमे एक नव निर्वाचित बस्तर के विधायक से वसूली का भी है  जिसकी राजधानी में खूब चर्चा रही है ,पत्रकारिता के नाम पर इन्ही से ही झगडे और विवाद क्यों होते है यह सोचने वाली बात है पत्र्कार सुरक्षा के नाम पर इनकी अग्रणी भूमिका रहती है ये भी गौर करने वाली बात है
 

26-Sep-2020

Related Posts

Leave a Comment