मुंगेली : कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के निर्देश पर जिला स्तरीय टॉस्क फोर्स द्वारा जिले में बाल श्रम, अपशिष्ट संग्राहक, बाल भिक्षावृत्ति एवं नशा में लिप्त बालकों के प्रभावी रोकथाम हेतु अभियान चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में जिला बाल संरक्ष्ज्ञण अधिकारी ने बताया कि अभियान के दौरान जिले में 17 बच्चों का रेस्क्यू किया गया। जिसमें से 04 बच्चे को बाल कल्याण समिति में प्रस्तुत किया गया।

जहां से परिवार को समझाईश देकर उनके सुपुर्द किया गया। इसी तरह 13 बच्चों के परिजनों को समझाईश देकर छोड़ा गया। उन्होने बताया कि लोगों को बालक एवं किशोर श्रम (प्रतिषेध विनियम) अधिनियम 1986 संशोधित अधिनियम 2016 के अंतर्गत 14 वर्ष के कम उम्र के बालकों का नियोजन प्रतिबंधित है। उन्होने बताया कि किशोर न्याय अधिनियम के तहत बच्चों से भीख मंगवाना जुर्म है। जिला बाल संरक्षण अधिकारी ने बताया कि यह अभियान आगे भी सतत जारी रहेगा। अभियान के दौरान जिला बाल संरक्षण इकाई (महिला एवं बाल विकास विभाग), राजस्व विभाग, पुलिस विभाग एवं श्रम विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

20-Jan-2020

Related Posts

Leave a Comment