दुर्ग : स्वदेशी उत्पादों के प्रणेता रहे भारत स्वाभिमान आंदोलन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव दीक्षित की मौत की जाँच के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय ने निर्देश दिया है अब राजीव दीक्षित की मौत की जाँच नए सिरे से होगी एक दुर्ग के प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी ने पीएमओ से जांच के लिए पत्र आने की पुष्टि करते हुए कहा कि जांच के लिए दुर्ग पुलिस अधीक्षक के पास इसे भेजा जा रहा है। आपको बता दें कि  29-30 नवंबर 2010 की दरम्यानी रात को भिलाई के बीएसआर अपोलो अस्पताल में राजीव दीक्षित की मौत हो गई थी। भिलाई में प्रवास के दौरान हुई उनकी अचानक मौत पर तत्कालीन जिला प्रशासन ने उनका पोस्टमार्टम कराए बिना ही अंतिम संस्कार हेतु गृहनगर भेज दिया था। जबकि कई लोगों का यह कहना था कि उनका शव नीला पड़ गया था आपको बता दें कि राजीव दीक्षित एलोपैथी चिकित्सा के धुर विरोधी थे वह स्वदेशी दवाइयों से उपचार पर जोर दिया करते थे फिलहाल इस जाँच से यही उम्मीद लगाया जा रहा है की राजीव दीक्षित की मौत पर नया खुलासा हो सकता है 

 

23-Jan-2019

Related Posts

Leave a Comment