रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के संचालक मण्डल की बैठक ली गयी। उन्होंने राज्य के विकास और हित को ध्यान में रखते हुए खनिज संसाधनों के सही ढंग से दोहन तथा बेहतर उपयोग सुनिश्चित करने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए। 

बैठक में चर्चा करते हुए प्रमुख रूप से राज्य के उत्तर बस्तर (कांकेर) जिले के अंतर्गत आरीडोंगरी लौह अयस्क परियोजना का संचालन शुरू करने के संबंध में निर्णय लिया गया। छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम द्वारा जानकारी दी गयी कि आरीडोंगरी में पाये जाने वाला लौह अयस्क की गिनती उच्च श्रेणी के अयस्कों में की जाती है। इसके अलावा सरगुजा जिले के मेनपाट तहसील के अंतर्गत ग्राम पथराई में बाक्साईट खनिज के खनन तथा विपणन के संबंध में भी निर्णय लिया गया। इसी तरह कबीरधाम तथा सरगुजा जिले स्थित बाक्साईट धारित क्षेत्रों और आरीडोंगरी आयरन ओर ब्लॉक के अन्वेषण के कार्य को प्राथमिकता के आधार पर किए जाने का निर्णय लिया गया।

 बैठक में लिए गए इन महत्वपूर्ण निर्णयों से छत्तीसगढ़ राज्य में लौह और बॉक्साईट आधारित उद्योगों को उच्च तथा अच्छी श्रेणी के अयस्कों के कम परिवहन लागत पर सुगम उपलब्धता सुनिश्चित होगी। विभागीय काम-काज में और गति लाने के लिए अटल नगर (नया रायपुर) के सेक्टर-24 में निर्मित ऑफिस कॉम्प्लेक्स में छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के मुख्य कार्यालय के संचालन किए जाने के संबंध में भी चर्चा हुई। 

इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री सुनील कुमार कुजूर, सचिव खनिज श्री गौरव द्विवेदी, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री मुदित कुमार सिंह, खनिज विभाग के प्रबंध संचालक श्रीमती अलरमेल मंगई डी, सचिव वित्त डॉ. कमलप्रीत सिंह, ऊर्जा विभाग के विशेष सचिव श्री अंकित आनंद, महाप्रबंधक श्री पी.एस. यादव सहित संचालक मण्डल के सदस्य उपस्थित थे।

18-Jan-2019

Related Posts

Leave a Comment