सूरजपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश व्यापी अटल विकास यात्रा के दौरान 19 सितम्बर को सूरजपुर जिले के विकासखण्ड मुख्यालय प्रतापपुर में विशाल आमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के चंहुमुखी विकास के लिए राज्य सरकार द्वारा लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। इसके फलस्वरूप हर वर्ग के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ रहा है। उन्होंने कहा कि सूरजपुर का जिला बनने के बाद यहां के प्रत्येक क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति दिखाई दे रही है। विकास की राह पर सूरजपुर जिला अब सूरज की तरह दमकने लगा है।

    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने प्रतापपुर में आयोजित आमसभा में 258 करोड़ 47 लाख रूपये की लागत राशि के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण तथा शिलान्यास किया। इनमें 97 करोड़ 66 लाख रूपये की राशि के 44 कार्यों का लोकार्पण और 160 करोड़ 81 लाख रूपये की लागत राशि 17 कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास शामिल है। इस अवसर पर उन्होंने ग्रामीणों को हितग्राही मूलक योजनाओं के तहत् 79 करोड़ 66 लाख रूपये की सामाग्रियां और सहायता राशि के चेक भी वितरित की। मुख्यमंत्री डॉ0 सिंह ने मौके पर शिव मंदिर प्रतापपुर में सामुदायिक शेड के निर्माण के लिए 20 लाख रूपये और ग्राम पंचायत मानपुर के अंतर्गत बाबा बच्छराज कुंवर मंदिर में सामुदायिक भवन के निर्माण के लिए 20 लाख रूपये की राशि प्रदान करने की घोषणा की। इसी तरह शासकीय महाविद्यालय प्रतापपुर के खेल मैदान में अहाता निर्माण के लिए 15 लाख रूपये की राशि प्रदान करने की घोषणा की। इसके अलावा उन्होंने प्रतापपुर में बायपास रोड के निर्माण के लिए भी आश्वस्त किया।

    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने आमसभा में विशाल जन समूह को संबोधित करते हुए कहा कि नवा छत्तीसगढ़-2025 के निर्माण के उद्देश्य के साथ अटल विकास यात्रा के जरिये सरकार जनता के द्वार-द्वार तक पंहुच रही है। यह यात्रा विकास की और विश्वास की यात्रा है। इस यात्रा को गांव-गांव और जगह-जगह जनता का अभूतपूर्व स्नेह मिल रहा है। इस दौरान क्षेत्र की प्रगति और जनसुविधाओं के विस्तार के लिए अनेक विकास कार्यों की सौगातें भी दी जा रही है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बताया कि इस कड़ी में सरकार द्वारा नवगठित सूरजपुर जिले के विकास के लिए हर संभव पहल की जा रही है। यहां जिले में मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना केरता में संचालित है। आज विकास यात्रा के दौरान जिले में पिलखा क्षीर दुग्ध प्रसंस्करण इकाई सिलफिली का भी शुभारंभ किया गया है। ये बड़ी परियोजनाएं जिले और क्षेत्र के किसानों की समृद्धि तथा खुशहाली के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। 

    मुख्यमंत्री डॉ0 सिंह ने कहा कि सूरजपुर जिले में किसानों की उन्नति और उन्हें सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए काफी तादाद् में डबरियों के निर्माण को प्राथमिकता दी गई है। यहां प्रदेश में सबसे ज्यादा चार हजार 799 डबरियों का निर्माण किया जाएगा। सूरजपुर जिले में दिनों-दिन गन्ना उत्पादन के रकबे में बढ़ोत्तरी हो रही है। यहां गत वर्ष साढे़ हजार हेक्टेयर में गन्ने फसल का उत्पादन लिया गया था, जो इस वर्ष बढ़कर साढे़ आठ हजार हेक्टेयर हो गया है। इस तरह किसानों को धान फसल के अलावा अन्य फसल के उत्पादन का भी भरपूर लाभ मिलने लगा है। मुख्यमंत्री ने बताया कि आज विकास यात्रा के दौरान सूरजपुर जिले में लगभग 07 करोड़ रूपये की लागत राशि के चार विद्युत उपकेन्द्रों का खड़गवांकलां, चेन्द्रा, गिरवरगंज और महगवां में लोकार्पण किया गया है। इससे क्षेत्र के 162 गांव लाभांवित होंगे और वहां के लोगों को बिजली की कोई समस्या नहीं होगी। उन्होंने सूरजपुर में नव निर्मित संयुक्त जिला कार्यालय भवन, नवीन जिला चिकित्सालय भवन और शासकीय महाविद्यालय में कन्या छात्रावास भवन तथा लाईवलीहुड कॉलेज भवन का भी उल्लेख किया और इसे नवगठित सूरजपुर जिले के विकास में और गति लाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण बताया। 

    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि प्रदेश में इस वर्ष एक नवंबर से समर्थन मूल्य पर किसानों से धान खरीदी की जायेगी। किसानों को प्रति क्विंटल 300 रूपये बोनस राशि के साथ धान की किस्म के अनुसार दो हजार 50 रूपये और दो हजार 70 रूपये की राशि खाते में जमा की जाएगी। इसी तरह प्रदेश में तेन्दूपत्ता संग्राहकों को एक माह के भीतर 750 करोड़ रूपये का तेन्दूपत्ता बोनस भी वितरित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 12 लाख एकल बत्ती कनेक्शन धारी परिवारों को अब 40 यूनिट से अधिक बिजली खपत करने पर अब उन्हें फ्लेट रेट पर प्रति माह 100 रूपए का भुगतान करना होगा। कार्यक्रम को गृह, जेल एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रामसेवक पैंकरा और सांसद श्री कमलभान सिंह मराबी ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। 

    इस अवसर पर श्रम, खेल एवं युवा कल्याण व सूरजपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री भईयालाल राजवाडे़ सहित क्षेत्र के जनप्रतिनिधि और सरगुजा संभाग के कमिश्नर श्री टामन सिंह सोनवानी, पुलिस महानिरीक्षक श्री हिमांशु गुप्ता, कलेक्टर श्री के.सी. देवसेनापति, पुलिस अधीक्षक श्री जी.एस. जायसवाल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजीव कुमार झा तथा ग्रामीणजन बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

 
 
 
20-Sep-2018

Related Posts

Leave a Comment