रेलवे पुलिस सुस्त : न्याय के लिए दर दर भटकता रायपुर में रह रहा पाकिस्तान का सिन्धी परिवार ने प्रशासन से लगाई न्याय की गुहार...

छत्तीसगढ़ : एक पाकिस्तानी परिवार 8 अप्रैल 2022 को छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से अमृतसर जाने के लिए अनुपमनगर से रेलवे स्टेशन के लिए निकले थे. तभी स्टेशन के आस-पास ही उनका 1 शूटकेश गायब हो गया जो कि सफारी कंपनी का था. जिसमे पीड़ित का कीमती समान सहित पासपोर्ट, वीजा जैसे दस्तावेज और गहने एवं नगद पैसे थे. जिसके बाद पीड़ित उमेश कुमार हिंदुजा पिता स्व. ज्ञानचंद हिंदुजा एवं परिवार द्वारा अपनी यात्रा स्थागित कर रेलवे पुलिस को अपने पीड़ा सुनाई और शूटकेश गायब होने की शिकायत  8 अप्रैल 2022 को दर्ज कराई थी. 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक एक पाकिस्तानी परिवार 8 अप्रैल 2022 को छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से अमृतसर जाने के लिए अनुपमनगर से रेलवे स्टेशन के लिए निकले थे. तभी स्टेशन के आस-पास ही उनका 1 शूटकेश गायब हो गया जो कि सफारी कंपनी का था. जिसमे पीड़ित का कीमती समान सहित पासपोर्ट, वीजा जैसे दस्तावेज और गहने एवं नगद पैसे थे. जिसके बाद पीड़ित उमेश कुमार हिंदुजा पिता स्व. ज्ञानचंद हिंदुजा एवं परिवार द्वारा अपनी यात्रा स्थागित कर रेलवे पुलिस को अपने पीड़ा सुनाई और शूटकेश गायब होने की शिकायत  8 अप्रैल 2022 को दर्ज कराई थी. लेकिन बाद दो माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी  रेलवे पुलिस की इस मामले में सुस्त दिखाई पढ़ रहा हैं, जिस पर पीड़ित परिवार ने रेलवे पुलिस पर जानबूझ कर कोई कार्यवाही नहीं करने का आरोप भी लगा रहे हैं.बार-बार पीड़ित परिवार द्वारा पुलिस महकमे के बड़े अधिकारियो के दफ्तरों के चक्कर लगाने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही जबकि 11 अप्रैल 2022 को पीड़ित परिवार के घर में आकर उनके विजा,पासपोर्ट और समस्त समान की जानकारी ली गई और उसका पंचनामा नहीं दिया गया जबकि  अनुपमनगर से निकलने के बाद रास्ते में रेलवे स्टेशन तक जगह जगह CCTV लगे हुए है इसके बाद भी जाँच अधिकारी की जाँच  संदेह स्पद लगती है. अब देखना है की इन पीड़ित परिवार को रेलवे प्रशासन से कब तक मिलेगी न्याय. 

No description available.

13-Jun-2022

Leave a Comment