एजेंसी 

दिल्लीः आजादी के बाद देश में बड़े स्तर पर फिर से स्वदेशी का बिगुल बजाने वाले बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आईपीएल में अपने विज्ञापन नहीं देगी. रामदेव के अनुसार क्रिकेट विदेशी खेल है. इसलिए इस लीग में वह अपने उत्पादों का विज्ञापन आईपीएल में नहीं देंगे. एक तरफ जहां सभी कंपनिया आईपीएल में अपने विज्ञापन प्रसारित करवाना चाहती हैं, बाबा रामदेव का यह कदम निश्चित रूप से साहसिक कहा जा सकता है.

कंपनी के एमडी आचार्य बालकृष्ण ने मीडिया को बताया कि पतंजलि केवल उन खेलों को प्रायोजित करेगी जो कि मूल रुप से भारतीय हैं. बालकृष्ण ने कहा कि पतंजलि ऐसे खेल में निवेश करेगा, जो जमीनी स्तर पर भारतीय हैं कंपनी कुश्ती और कबड्डी जैसे खेलों को बढ़ावा पहले भी देती रही है और आगे भी ऐसा करती रहेगी. गौरतलब है कि पिछले महीने संपन्न हुई प्रो रेसलिंग लीग और पिछले साल हुए कबड्डी विश्व कप में पतंजलि मुख्य प्रायोजक थी.

आपको बता दें कि रामदेव की कंपनी बहुत बड़ी विज्ञापन दाता कंपनी है.  कंपनी के प्रचार प्रसार के लिए करोड़ों रुपए का सालाना बजट होता है. टेलीविजन हो या प्रिंट या वेब, लगभग हर मीडियम में पतंजलि के उत्पादों का प्रचार देखने को मिलता है. कंपनी के हवाले से कहा गया है कि उनकी कंपनी देश में खेलों को जमीनी स्तर पर बढ़ावा देने के लिए कोशिश कर रही है लेकिन क्रिकेट जैसे विदेशी खेल के लिए उनकी कंपनी कभी भी निवेश नहीं करेगी.

16-Mar-2018

Related Posts

Leave a Comment