Report:Abdul Kalam

Place:Bengal

कोलकाता के लोगों ने इससे सूनी सप्तमी शायद ही अपने जीवनकाल में अबतक देखी हो। पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक समूचा कोलकाता इस दिन सुबह से रात तक वीरान नजर आया। लग ही नहीं रहा था कि बंगाल के सबसे बड़े उत्सव दुर्गापूजा का आयोजन हो रहा है। सड़कें आलोक सज्जा से जगमग रही हैं लेकिन उन्हें निहारने के लिए लोग नहीं हैं। पूजा पंडाल सज-धजकर तैयार हैं लेकिन कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश के कारण उनमें प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। दुर्गा प्रतिमाओं के बाहर से दर्शन करने पड़ रहे हैं। कुछ पंडाल तो ऐसे बने हैं कि देवी के दर्शन तक नहीं हो पा रहे। 

संतोष मित्र स्क्वायर, मोहम्मद अली पार्क, कॉलेज स्क्वायर, जगत मुखर्जी पार्क, एकडालिया एवरग्रीन, अहिरीटोला सार्वजनीन, सुरुचि संघ, त्रिधारा सम्मिलनी, काशी  बोस लेन, देशप्रिय पार्क, भवानीपुर 75 पल्ली,  चेतला अग्रणी, बोसपुकुर समेत सभी बड़े पूजा आयोजकों के पंडालों में वीरानी छाई हुई है।

पूजा आयोजकों को इस बात का सबसे ज्यादा अफसोस है कि अच्छे थीम पर पूजा पंडाल व प्रतिमा का निर्माण करने पर भी लोग उन्हें देख नहीं पा रहे हैं क्योंकि हाईकोर्ट के निर्देशानुसार पूजा पंडालों में दर्शनार्थियों को प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।

अंदाजा लग रहा-अष्टमी और नवमी को भी भीड़ नहीं हाेगी 

अष्टमी और नवमी को भी भीड़ नहीं होने वाली है।

खाली पड़ा चित्तरंजन एवेन्यू, घूमने-फिरने के मूड में नहीं

खाली पड़ा चित्तरंजन एवेन्यू इस बात को बयां करने के लिए काफी है कि लोग इस बार पूजा घूमने-फिरने के मूड में नहीं है। ज्यादातर लोग पूजा पंडालों और प्रतिमाओं के आनलाइन दर्शन कर रहे हैं। हर साल पूजा के दिनों में बेहाल रहने वाले ट्रैफिक पुलिसकर्मी इन दिनों आराम फरमाते नजर आ रहे हैं।

24-Oct-2020

Leave a Comment