यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) की सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2020 की तारीख फिर टलने का खतरा पैदा हो गया है। परीक्षा के संबंध में सुप्रीम कोर्ट आज सुनवाई कर रहा है।

सियासत डॉट कॉम की  खबर के अनुसार, सुनवाई के दौरान यूपीएससी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया, सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षाएं टालना ‘असंभव’ है।
कोर्ट ने यूपीएससी को कल मंगलवार को एफिडेविड फाइल करने को कहा है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2020 दो से तीन महीने स्थगित करने को लेकर याचिका लगाई गई है।

यूपीएससी के 20 आवेदकों ने वकील अलख आलोक श्रीवास्तव के जरिए याचिका लगाई है। यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 4 अक्टूबर 2020 को ऑफलाइन मोड पर होनी है।

यूपीएससी से जुड़ी इस याचिका में कोरोना वायरस महामारी और देश के विभिन्न भागों में बाढ़ का हवाला दिया गया है।
यह भी कहा गया है कि परीक्षा के लिए केंद्रों की संख्या भी काफी कम है। मौजूदा हालात भी सामान्य नहीं हैं। ऐसे में उम्मीदवारों को एक जगह से दूसरी जगह जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।
 जस्टिस एएम खानविलकर और संजीव खन्ना की बेंच ने इस मामले पर सुनवाई की। बेंच ने यूपीएससी को नोटिस भेजकर इसपर जवाब मांगा है। साथ ही मामले की अगली सुनवाई के लिए 28 सितंबर 2020 की तारीख दी है।
वर्तमान व्यवस्था के अनुसार, यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 4 अक्टूबर 2020 को ऑफलाइन मोड पर होनी है।
इस परीक्षा के लिए करीब 6 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन किया है। देशभर में 72 शहरों में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं

 
28-Sep-2020

Leave a Comment