पोकेट में 500 रुपए लेकर किया 58 किलोमीटर का सफर तय/अपनी दोस्त नीलांजना की खराब आंखों को ठीक करने के लिए दान देना चाहती हैं सुप्रिया 150 रुपए खत्म होने के बाद भी नही टूटी है अपनी जान से भी प्यारी दोस्त को ढूंढने की आस

Reprot:Abdul Kalam

Place:Bengal

पश्चिम बंगाल आसनसोल के रेलवे स्टेशन के बाहर लोगों से पूछती और अपनी जिगरी दोस्त की खोज खबर लेती सुप्रिया को देख और उससे मिलने की बेचैनी को देख भले ही लोग उसे पागल समझे पर इस पागल पंती के पीछे की जो कहानी है उस कहानी को जान आप भी हैरान और परेशान हो जाएंगे जी हां कडकों की तरह दिखने वाली उनके तरह भेष भूषा में रहने वाली इस युवती का नाम है सुप्रिया बैनर्जी -सुप्रिया बैनर्जी बांकुड़ा जिले के छतना की रहने वाली है सुप्रिया को कुछ वर्ष पहले ही फ़ोन पर बर्दवान के काटवा की रहने वाली किसी नीलांजना दास से दोस्ती हो गई इन दोनों की दोस्ती फोन पर कुछ इस कदर आगे बढ़ी के दोनों एक दूसरे से बे इम्तिहां प्यार भी करने लगी हालांकि इन दोनों ने एक दूसरे को कभी नही देखा पर फोन के जरिए ये दोनों एक दूसरे के संपर्क में हैं फोन के जरिए ही ये दोनों एक दूसरे से अपनी दिल की हर बातें करती हैं एक दूसरे के सुख दुख के हिंस्सा भी बनती हैं एक दूसरे पर बिना कभी मिले जान भी छिड़कती हैं यही कारण है के जब सुप्रिया को मालूम चला के उसकी जान से भी प्यारी दोस्त नीलांजना की एक आंख में समस्या है और वो उस आंख से सही तरीके से देख नही सकती तो सुप्रिया बिना किसी की परवाह किए बिना किसी की फिक्र किए अपना घर छोड़ अपनी दोस्त को अपनी आंखें दान करने निकल पड़ी है और राह चलते लोगों को अपनी दोस्त का फोटो दिखाकर उसके पास काटवा  पहोंचा देने की गुहार लगाती दिखाई दे रही है पर अपने-अपने जिंदगी में मग्न लोगों के पास इतना समय कहाँ के सुप्रिया की आवाज उनके कानों तक पहोंच सके या फिर कोई उनकी मदद कर सके  सुप्रिया की अगर माने तो वो घर से 500 रुपए लेकर अपनी दोस्त के पास जाने के लिए निकली थी उन पैसों में से करीब 150 रुपए खर्च हो चुके हैं अब मात्र 350 रुपए ही बचे हैं पैशे खत्म होने से पहले उसको अपने दोस्त तक पहोंचना है अगर पैशे खत्म हो गए तो वो कभी भी अपने दोस्त तक नही पहोंच पाएगी और ना ही वो उसकी कोई मदद ही कर पाएगी हालांकि कुछ लोगों ने उसे आसनसोल के साउथ थाने का पता बता दिया और ये कहा के उसको थाने से मदद मिल सकती है वो थाने से संपर्क करे लोगों के कहने पर सुप्रिया साउथ थाना पहोंच अपनी दोस्त से मिलाने की गुहार थाने के अधिकारियों से लगा रही है

18-Sep-2020

Related Posts

Leave a Comment