सुनील रावत
Email  rawat.snlj@gmail.com
twitter   @rawatddream
 

 

 

 

by : indiasamvad.co.in

नई दिल्ली : योगगुरु बाबा रामदेव अब अपने पतंजलि के कारोबार को और फैलाना चाहते हैं। इसी क्रम में पतंजलि अब पेप्सिको, कोका-कोला पार्ले, बिस्लेरी और टाटा ग्लोबल बेवरेजे जैसी कंपनियों को कड़ी टक्कर देना चाहती हैं। ख़बरों की माने तो पतंजली आयुर्वेद लिमिटेड अब बाजार में 'दिव्या जल' पैकेजिंग नाम से मिनिरल वाटर लॉन्च करने जा रही है। पतंजलि का दावा है कि वह हिमालय की तलहटी से भरे हुए जल को इस दिवाली पर बाजार में उतार देगी। 

रामदेव के प्रवक्ता एस के तिजारावाला का कहना है कि वह साल 2018-19 में अपने बोतलबंद पानी के रेवेन्यू को 1000 करोड़ के पार ले जाना चाहते हैं। भारत में अभी बंद बोतल पानी का कारोबार लगभग 14000 करोड़ का है। कपनी शुरुआती तौर पर इसे दिल्ली- एनसीआर में उतारना चाहती है। पतंजलि का कहना है कि वह अपने 'दिव्या जल' को हरिद्वार और लखनऊ की फैक्ट्रियों के जरिये बनाएगी। जिसमे से उसके लखनऊ वाले प्लांट की क्षमता प्रतदिन लाख लीटर की है।   

बाबा रामदेव बेचेंगे पानी के लिए चित्र परिणाम

शोध फर्म यूरोमोनीटर इंटरनेशनल के मुताबिक 2016 में भारत में पेयजल बाजार का कारोबार 7,040 करोड़ रुपये का अनुमान लगाया गया था और 2021 में इसके 15,080 करोड़ रुपये तक पहुंचने का अनुमान है। इसमें से सबसे बड़ा कारोबार बिस्लेरी का है। बिस्लेरी पर मुंबई स्थित व्यापारी रमेश चौहान का स्वमित्व है। जिसकी हिसेदारी 24% की है। जबकि अन्य प्रमुख ब्रांडों में अमेरिकी खाद्य और पेय कंपनी पेप्सिको इंक और किनेले और एक्वाफीना शामिल हैं।

ज्यादातर कंपनियों के पास FSSAI का लाइसेंस नहीं 

FSSAI के अनुसार जून 2016 तक देश में 5,842 पंजीकृत पानी पैकेजिंग इकाइयां थीं, जिनमें से केवल 1,495 इकाइयों ही भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) और एफएसएएसएआई का लाइसेंस प्राप्त था। जबकि शेष 4,347 इकाइयां केवल बीआईएस प्रमाण पत्र के साथ काम कर रही थीं। एफएसएएसएआई ने 23 जून 2016 को कहा था कि सभी बॉटलिंग इकाइयों को FSSAI का लाइसेंस प्राप्त था। 

इससे पहले पतंजलि ने पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के लिए ब्रांडेड कपडे बेचने की बात कही है। और कहा था कि इसकी शुरआत आज अप्रैल 2018 से शुरू करेगा। परिधान ब्रांड नाम से परिधि ने 5000 करोड़ रुपये की बिक्री करने का लक्ष्य रखा है।

30-Aug-2017

Related Posts

Leave a Comment