जमीयत उलेमा-ए-हिंद सुप्रीम कोर्ट में पक्षपाती मीडिया के खिलाफ मामले में इस शर्मनाक घटना को भी शामिल करेगी: मौलाना अरशद मदनी तरन्नुम अतहर

नई दिल्ली ( करनेजी वॉइस न्यूज़ एजेंसी )  ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेरी रहमतुल्ला अलैह की शान में अपशब्द कहने वाले न्यूज़ एंकर की कठोर शब्दों में निंदा करते हुए उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग करते हुए जमीअत उलमा हिंद के अध्यक्ष मौलाना सय्यद अरशद मदनी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में इस संबंध में पहले से ही मामला विचाराधीन है इसके बावजूद टीवी एंकर मुसलमानों के दिल को चोट पहुंचाने से बाज नहीं आ रहे हैं। मौलाना मदनी ने कहा कि सत्ताधारी लोगों के संरक्षण की वजह से न्यू एंकरों की हिम्मत इतनी बढ़ गई है कि मुसलमान इस्लाम मुसलमानों के तौर तरीके पर उंगली उठाते हुए अब मसाजिद मदारिस और ख़ानक़ाहों तक पहुंच गए हैं।

उन्होंने कहा कि मोईनुल हिन्द हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेरी की शान में एक टीवी चैनल के एंकर ने जिस तरह से अपशब्द कहे और उनको अक्रांता और लुटेरा तक कह डाला है उस से भारत ही नहीं पूरी दुनिया में सभी धर्मों के लोग जो ख्वाजा साहब में अपनी आस्था रखते हैं उनके दिल को ठेस पहुंची है। उन्होंने कहा कि हजरत ख्वाजा अजमेरी सिर्फ मुसलमान ही नहीं बल्कि दुनिया में पाए जाने वाले सभी जात धर्म और समुदायों के एक बड़े हिस्से को प्रिय हैं।

उन्होंने कहा कि हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती इस्लामिक शिक्षा और मानवीय मूल्यों के एक महान वकील और एक निर्विवादित आध्यात्मिक गुरु के रूप में हिंदू-पाक उपमहाद्वीप में एक अद्वितीय स्थान रखते हैं। इस तरह के एक निर्विवाद आध्यात्मिक गुरु का अपमान करना और उन के खिलाफ बोलना संवैधानिक रूप से गलत है। इसलिए, सरकार को तुरंत इस चैनल और विशेष रूप से एंकर के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। ज्ञात रहे कि जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने मुस्लिमों को चोट पहुंचाने, उनके खिलाफ गलत प्रचार करने और उनको कोरोना के लिए दोषी देने के मीडिया के प्रचार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में मामला दायर किया है। जिस पर शुक्रवार 19 जून सुनवाई होगी। जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने हजरत ख्वाजा अजमेरी के अपमान की इस शर्मनाक घटना को भी इसमें शामिल किया है। इस पर सुप्रीम कोर्ट बार काउंसिल के अध्यक्ष दुष्यंत दवे जिरह करेंगे।

18-Jun-2020

Leave a Comment