जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है. बताना चाहते है कि केंद्र सरकार ने बुधवार को नागरिकता संशोधन बिल को मंजूरी दे दी है, जिसके बाद इसे संसद में पेश किया जाएगा. वही दूसरी तरफ इस बिल को लेकर विपक्षी पार्टियों ने इसका विरोध शुरू कर दिया है. इसी कड़ी में अब  ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईेएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला है. ओवैसी ने कहा कि  यदि इस लागू किया जाता है  तो “भारत को इजरायल बन जाएगा, जिसे “भेदभाव”  करने के लिए जाना जाता है.  उन्होंने कहा यदि मीडिया रिपोर्ट सही है कि पूर्वोत्तर राज्यों को प्रस्तावित नागरिकता (संशोधन) विधेयक (सीएबी) कानून से छूट दी जाएगी तो यह अपने आप में आर्टिकल 14 का उल्लंघन है. ओवैसी ने कहा कि आपके पास देश में नागरिकता पर 2 कानून नहीं हो सकते.

असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा कि यह कानून अनुच्छेद 14 और 21 का उल्लंघन करता है क्योंकि आप धर्म के आधार पर नागरिकता दे रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि अगर हम इस कानून को पारित करते हैं तो यह महात्मा गांधी और आंबेडकर का अपमान है.

गौरतलब है कि केंद्र की मोदी सरकार ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 समेत छह महत्वपूर्ण विधेयकों को आज हरी झंडी दिखाई है. देश के पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया है.

05-Dec-2019

Leave a Comment