मीडिया रिपोर्ट 

अहमदाबाद। गुजरात में बीते दिनों विजय रुपाणी ने दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ नितिन पटेल की डिप्टी सीएम समेत कई मंत्रि‍यों ने शपथ ली। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने बीती रात अपनी पहली कैबिनेट बैठक की और मंत्रियों को विभाग आवंटित किए। वहीं, अब गुजरात में सरकार बनने के महज 3 दिन बाद ही मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच अनबन की खबर आ रही है।

दोनों नेताओं के बीच अनबन का सबसे अहम कारण विभागों के बंटवारे को लेकर माना जा रहा है। खबरों की मानें तो सीएम रुपाणी और डिप्टी सीएम नितिन पटेल में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि बीजेपी के विधायक भी काफी नाराज़ हैं। मुख्यमंत्री रूपाणी, उपमुख्यमंत्री पटेल और भाजपा अध्यक्ष जीतू वघानी विवाद को निपटाने के लिहाज से मुख्यमंत्री आवास में मिले।

आजतक की खबर के अनुसार, उपमुख्यमंत्री पटेल विभागों के वितरण से खुश नहीं हैं। वह गृह और शहरी विकास मंत्रालय चाहते थे जो उन्हें नहीं मिला। साथ ही उनको 2 अहम विभाग राजस्व और वित्त विभाग भी नहीं दिए गए। विभागों के वितरण के मामले में माना जा रहा है कि सबसे ज्यादा घाटा पटेल को ही हुआ है। पटेल को सड़क एवं भवन, हेल्थ एवं फैमिली, नर्मदा, कल्पसार, चिकित्सा और शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी मिली है।

वहीं, दूसरी तरफ विधायकों में भी नाराजगी की खबर आ रही है। वडोदरा से विधायक और पूर्व मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने भी विरोध में आवाज उठाई है। उन्होंने मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के सामने वडोदरा से एक भी विधायक को केबिनेट में शामिल नहीं करने जाने पर नाराजगी जताई। उन्होंने 10 विधायकों के साथ पार्टी छोड़ने की धमकी दे डाली।

 

29-Dec-2017

Leave a Comment