भोपाल : घर-घर शौचालय की बात करने वाली बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह और मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को जिस दलित कार्यकर्ता के घर खाना खाया उस कार्यकर्ता के घर शौचालय नहीं है। उसके घर के सभी लोगों को शौच के लिए बाहर खुले में जाना पड़ता है। 

दरअसल बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह इन दिनों दलित और आदिवासियों के बीच अपनी पार्टी का जनाधार मजबूत करने के लिए उनके घरों में खाना खा रहे हैं। इसी कड़ी में रविवार को मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान और अमित शाह राजधानी भोपाल से लगे सेवनिया गौंड में अपने कार्यकर्ता कमलसिंह उइके के घर पर पहुंचे और वहां दोनों ने खाना भी खाया। लेकिन बताया जा रहा है कि बीजेपी के उस कार्यकर्ता के घर पर शौचालय नहीं है और पूरे घर वालों को खुले में शौच करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। 

ये हालात तब है जब स्वच्छ भारत की रैंकिंग में भोपाल का नाम दूसरे नंबर पर आता है। बताया जा रहा है कि बीजेपी कार्यकर्ता कमलसिंह उइके ने करीब 6 माह पहले शौचालय के लिए आवेदन किया था, लेकिन आज तक उसके यहां शौचालय नहीं बन पाया है। अब सवाल उठ रहे हैं कि हाल ही में स्वच्छ भारत अभियान के सर्वे में भोपाल को देश भर में नंबर दो का तमगा हासिल हुआ था, लेकिन ओडीएफ की हकीकत ये है।

अपनी पार्टी के अध्यक्ष के भोजन के लिए कमलसिंह की मां ने दाल बाटी और कडी चावल पकाया था। जिसे अमित शाह सहित सीएम शिवराजसिंह और कई मंत्रियों ने जमीन पर बैठकर दोना पत्तल में बड़े चाव से खाया। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि मल और उसका परिवार घर से करीब आधा किलोमीटर दूर खुले में शौच करने जाता है।

24-Aug-2017

Related Posts

Leave a Comment