आज जहां दुनिया तेज़ी से आगे बढ़ रही है और शिक्षा में तकनीकी भी शामिल हो गई है। वहीं समाज में अभी भी शिक्षा के प्रति जागरूकता लाना जरूरी है। इसी उद्देश्य के साथ गोल्डन पैलेस लखनऊ में एक मीटिंग का आयोजन किया गया। यह आयोजन अंजुमन वज़ीफा सादात व मोमेनीन एवं तंज़ीमुल मकातिब के संयुक्त तत्वावधान में किया गया।  इसका विषय था "Be Employable Campaign" इस सभा में इस बात पर चर्चा हुई कि कैसे शिया समुदाय के नवजवानों को शिक्षा विशेष रूप से तकनीकी और अंग्रेजी शिक्षा के प्रति जागरूक किया जाये और कैसे उनको रोजगार मुहैया कराया जाये। 

इस अवसर पर सभी सम्मानित लोगों ने अपनी अपनी राय रखी। कार्यक्रम का शुभारंभ तिलावते कुरआन से हुआ। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए अपनी इफ्तेताही तकरीर में जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डा सैय्यद अफ़ज़ाल  मुर्तजा रिजवी  ने कहा कि तरक़्क़ी के लिए आपसी सोच और समझ का एक होना बहुत जरूरी है। हमें आपस में सबको एक सूत्र में पिरोने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमें उन कोर्सेज की तरफ ज़्यादा ज़ोर देने की जरूरत है जिसकी जरूरत भविष्य में होगी। उन्होंने तकनीकी शिक्षा पर भी जोर दिया और कहा कि आज के युग में बग़ैर तकनीकी शिक्षा के रोजगार के क्षेत्र में सफलता प्राप्त करना बहुत मुश्किल है।   उन्होंने कहा कि अंग्रेजी एक ऐसी भाषा है जिससे सफलता का पैमाना तय किया जा सकता है। 

कार्यक्रम का समापन मौलाना सफ़ी हैदर साहब की तकरीर के साथ हुआ। अपनी तकरीर में मौलाना ने कहा कि क़ौम की तरक्की और कामयाबी के लिए वह हर तरह से तैयार हैं, जज़्बा, ईसार, मेहनत, ताक़त हर तरीके से वह क़ौम की तरक़्क़ी के लिए हाजिर है। अंत में यह तय पाया गया कि तंज़ीमुल मकातिब और अंजुमन वज़ीफा सादात व मोमेनीन की ज़ेरे निगरानी ऐसा इंस्टीट्यूट क़ायम किया जाये जहां अंग्रेजी, तकनीकी एवं पर्सनालिटी डेवलपमेंट की शिक्षा शिया बच्चों को दी जायेगी। साथ ही साथ इसके लिए बहुत जल्द एक और विशेष मीटिंग बुलाई जाये जिसमें कुछ चुने हुए प्रतिनिधियों को चुनें हुये कार्य सौंपे जायें। कार्य का मुख्य उद्देश्य शिया नवजवानों में अंग्रेजी और तकनीकी शिक्षा के प्रति उत्सुकता पैदा करना है।

कार्यक्रम मौलाना सफ़ी हैदर साहब की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम में शिया कालेज के रसायन विज्ञान के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर डा सरवत तक़ी साहब, जनाब जमानत अली साहब, जनाब अली रज़ा साहब, जनाब अशफाक रिज़वी साहब, यूरिट एजुकेशन इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर सैय्यद एम अली तक़वी साहब , जनाब जमाल साहब, चार्टेड एकाउंटेंट जनाब ज़िया अब्बास रिजवी साहब, एस बी आई के ए जी एम जनाब क़मर  अल्ताफ़ साहब, आई सी सी एम् आर टी के असिस्टेंट प्रोफेसर जनाब अंजुम ज़िया रिज़वी साहब, डी ए वी कालेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ महमूदुल हसन साहब, डेप्युटी डायरेक्टर रूरल डेवलपमेंट डॉ फ़रीद हैदर रिज़वी साहब, जनाब अख़लाक़ साहब और बहुत से क्षेत्र के विशेषज्ञ उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन जनाब ऐनुल रज़ा रिजवी साहब ने किया।

08-Jun-2019

Related Posts

Leave a Comment