नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 के बीच तेजप्रताप यादव को बड़ा झटका लगा है. बिहार के शिवहर लोकसभा सीट से तेजप्रताप यादव गुट के उम्मीदवार अंगेश कुमार सिंह का नामांकन रद्द हो गया है. नामांकन रद्द होने के बाद अंगेश ने इसे साजिश करार दिया है. अंगेश सिंह ने कहा कि वह इस मामले को लेकर हाई कोर्ट में जाएंगे. दरअसल, अंगेश सिंह ने नामाकंन पत्र में उस कॉलम में भी क्रॉस का निशान लगा दिया था जिसे खाली छोड़ना होता है. क्रॉस को आधार बनाते हुए अधिकारी उनका पर्चा रद्द कर दिया. अंगेश सिंह के अलावा यहां से अन्य 8 उम्मीदवारों का नामांकन रद्द हुआ है.

पूर्वी चम्पारण के जिला निर्वाची पदाधिकारी ने बताया कि नामाकंन पत्रों की जांच के दौरान शिवहर से आठ प्रत्याशियों के नामाकंन पत्रों में गलती और कागजातों में कमी पाई गई. शिवहर से 26 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया था. 8 प्रत्याशियों के नामांकन रद्द होने के बाद अब यहां मैदान में कुल 18 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं. अभी तक किसी भी प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र वापस नहीं लिया है. नाम वापस लेने का आज आखिरी दिन है. अंगेश के नामांकन में खुद तेज प्रताप भी पहुंचे थे और वहां अपने उम्मीदवार के लिए लोगों से वोट देने की अपील की थी. अंगेश की ओर से आयोजित रोड शो में भी तेज प्रताप साथ थे. ऐसे में उनका नामांकन रद्द होना तेज प्रताप के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

बता दें कि पारिवारिक कारणों से तेज प्रताप यादव शिवहर और जहानाबाद की सीट अपने दोस्त के लिए मांग रहे थे. वह चाहते थे कि शिवहर सीट से आरजेडी के टिकट पर अंगेश को उतारा जाए जबकि जहानाबाद सीट से चंद्रप्रकाश को टिकट दिया जाए. हालांकि, पार्टी ने शिवहर से सैयद फैलस अली को टिकट दिया है जबकि जहानाबाद में पार्टी ने फिर से सुरेंद्र यादव पर भरोसा जताया है. शिवहर में छठे चरण में 12 मई जबकि जहानाबाद में सांतवें चरण में 19 मई को मतदान है. राज्य में कुल 40 लोकसभा सीट हैं. यहां से आरजेडी 19 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि अन्य सीटें गठबंधन सहयोगियों को दिया है. गठबंधन में कांग्रेस 9, आरएलएसपी 5, हम 3, वीआईपी 3 और सीपीएमएल 1 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.

25-Apr-2019

Related Posts

Leave a Comment