नई दिल्ली : बीजेपी के एक उम्मीदवार को ईवीएम तोड़ने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है. मामला ओडिशा के गंजाम जिले का है. यहां बृहस्पतिवार को दूसरे चरण के मतदान के दौरान सोरादा विधानसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार नीलमणि बिसोई ने अपने समर्थकों के साथ कथित रूप से सोरादा थानांतर्गत रेनती गांव में एक मतदान केन्द्र में प्रवेश किया और मतदान अधिकारियों को अपने कर्तव्य का निर्वहन करने से रोका.

पुलिस ने कहा घटना मतदान खत्म होने से एक घंटे पहले हुई, तब तक उस मतदान केन्द्र के कुल 539 में से 414 मतदाता वोट दे चुके थे. बिसोई को मतदान केन्द्र के पीठासीन अधिकारी पीके जेना और असका के अनुविभागीय पुलिस अधिकारी सूर्यमणि प्रधान से शिकायत मिलने के बाद गिरफ्तार किया गया. कलेक्टर-सह-जिला निर्वाचन अधिकारी विजय अमृता कुलंगे ने कहा, "ईवीएम को पूरी तरह तोड़ दिया गया. हमने मतदान केन्द्र के पीठासीन अधिकारी की रिपोर्ट को मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेज दिया है. 

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग मतदान केन्द्र पर दोबारा चुनाव कराने पर अंतिम फैसला लेगा. नीलमणि के भाई बसंत कुमार बिसोई ने हालांकि दावा किया कि सत्ताधारी बीजू जनता दल के कार्यकर्ताओं ने ईवीम को तोड़ा ना कि नीलमणि ने. ओडिशा में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ हो रहे हैं.  इससे पहले आंध्र प्रदेश में जन सेना पार्टी के एक उम्मीदवार ने लोकसभा और विधानसभा चुनाव के लिए हो रहे मतदान के दौरान ईवीएम मशीन को तोड़ दिया था, इसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने बताया कि मधुसूदन गुप्ता नाम के उम्मीदवार ने अनंतपुर जिले की गुंटाकल विधानसभा सीट के एक पोलिंग बूथ में ईवीएम को उठाकर जमीन पर फेंक दिया. न्यूज एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक गुप्ता गुट्टी में पोलिंग बूथ पर अपना वोट डालने आए थे, वहां पर वह चुनाव कर्मचारियों पर गुस्सा हो गए, क्योंकि उनका कहना था कि ईवीएम में संसदीय और विधानसभा सीट सही से नहीं दिख रही थी.

साभार : KHABAR.NDTV से 

20-Apr-2019

Related Posts

Leave a Comment