दिल्ली 

चुनाव में सेना का इस्तेमाल होने पर अब पूर्व सैनिकों ने आपत्ति जताई है. पूर्व सेना प्रमुखों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखकर इस बात का जिक्र किया है. सेना प्रमुखों ने चुनाव आयोग से भी इसकी शिकायत की है. इसमें मोदी जी की सेना वाले बयान का जिक्र किया गया है. इसके साथ ही विंग कमांडर अभिनंदन की फोटो चुनावी बैनरों में लगाए जाने पर भी शिकायत की गई है.

पूर्व सेना प्रमुखों और सैनिकों का कहना है कि नेता सेना के ऑपरेशन का क्रेडिट ले रहे हैं. कुल 156 पूर्व सैनिकों की इस चिट्ठी में नेताओं के सेना को लेकर दिए गए अलग-अलग बयानों का जिक्र किया गया है. इसमें कहा गया है कि अपनी राजनीति चमकाने के लिए सेना का नाम लिया जा रहा है.

इस चिट्ठी में पूर्व सैनिकों ने कहा है कि हम सभी ने युद्ध के मैदान से लेकर देश के कई इलाकों में सालों तक ड्यूटी की है. सभी सैनिक बिना किसी पक्षपात के भारतीय सेना के लिए अपनी ड्यूटी निभाते हैं.

पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखकर कहा कि राष्ट्रपति ही सेना के सुप्रीम कमांडर होते हैं. हम हमेशा राष्ट्रपति के दिए आदेशों का पालन करते हैं. पूर्व सैनिको ने राष्ट्रपति को लिखा, आप इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि सर्विस में रहने के दौरान कोई भी सैनिक किसी भी मुद्दे पर अपनी आवाज सार्वजनिक तौर पर नहीं उठाता है. क्योंकि यहां मिलिट्री के हर नियम का पालन होता है. हम पूर्व सैनिक हमेशा सेना की नब्ज टटोलते रहते हैं और उनके मुद्दों पर बात करते हैं. इसीलिए हम आपको लेटर लिख रहे हैं.

पूर्व सैनिकों की इस शिकायत में भारतीय सेना को मोदी जी की सेना बुलाने वाले योगी आदित्यनाथ का भी जिक्र किया गया है. पूर्व सैनिकों ने लिखा है, हमने नेवल स्टाफ के पूर्व चीफ के साथ मिलकर चुनाव आयोग को भी शिकायत की है. जिसमें यूपी से सीएम योगी आदित्यनाथ समेत सभी गैरजिम्मेदाराना बयानों पर सफाई मांगी गई है.

 

12-Apr-2019

Related Posts

Leave a Comment