सौम्या तिवारी
Email  tiwarisaumya26@gmail.com
twitter   @SaumyaT34593420
BY : indiasamvad.co.in

नई दिल्ली : दिल्ली में कड़ाके की ठंड और तपती धूप में भी सड़क पर रहने को मजबूर बेघर लोगों के लिए आम आदमी पार्टी (आप) सरकार का नया आइडिया पर काम कर रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार दिल्ली के अंदर खड़ी वीरान बसों को गरीबों के लिए रैन बसेरा में बदल दिया है।

सीएम केजरीवाल की दरियादिली का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वे गरीबों और बेसहारा लोगों को दिल्ली की कड़ाके की ठंड से बचाने के लिए जनता से अपील करने में भी पीछे नहीं हट रहे हैं।

गरीबों के लिए मसीहा बनें CM केजरीवाल,

बता दें कि केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी मजबूर बेघर लोगों के लिए कंबल और बाकी बेसिक सुविधाएं भी मुहैया कराती है। ताकि बेघर लोग कम से कम रात में आराम से सो सकें।

सोशल मीडिया के जरिए भी लोगों से अपील

आम आदमी पार्टी ने ​अपने फेसबुक पेज के माध्यम से यह जानकारी लोगों के साथ साझा की। पार्टी ने लिखा कि 'आप' हमेशा से नागरिकों के लिए कम खर्च और नए विचार के साथ उनके दिक्कतों को दूर करना चाहती है। इतना ही नहीं पार्टी गरीबों की मदद के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। दिल्ली में ठंड में खुले में सोने से किसी भी बेघर व्यक्ति की मौत रोकने के प्रयास के तहत सरकार ने कम से कम 19 हजार लोगों के रहने के लिए रैन बसेरों और तंबुओं का इंतजाम किया है। पार्टी इस बात पर जोर दे रही है कि ठंडी रातों में खुले में सोने से किसी भी व्यक्ति की मौत न हो। पार्टी का एक ही उद्देश्य है कि हम सबको इस दिशा में प्रयास करने की जरूरत है।

गौरतलब है कि दिल्ली के शहरी विकास मंत्री मनीष सिसौदिया ने बताया था कि उनके सर्वे के अनुसार दिल्ली में कुल 212 जगहों पर 4018 लोग खुले में सोते हैं। इसलिए सरकार ने 100 नए रैन बसेरे बनाने का फैसला लिया था।

सोशल मीडिया में हो रही तारीफ- लोग सीएम के इस सराहनीय कार्य की जमकर तारीफ कर रहे हैं। दक्षिणी दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में डीडीए ने महिलाओं और बच्चों के एक रैन-बसेरे को ध्वस्त कर दिया गया था। इसको लेकर रोष और विवाद की स्थिति पैदा हो गई है। शहरी निकाय ने हालांकि अपनी कार्रवाई को ‘कानूनसम्मत’ करार देते हुए कहा था कि अतिक्रमण हटाने के लिए एेसा किया गया था। इसी बीच दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी डीडीए की इस कार्रवाई पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी थी। उन्होंने ट्वीट किया था, ‘‘बहुत दुखद। दिल्ली सरकार के रैन-बसेरे को ध्वस्त कर दिया गया। महिलाओं, बच्चों को आश्रयविहीन छोड़ दिया गया। उनको अन्य रैन-बसेरों में ले जाया जा रहा है।’’

08-Dec-2017

Leave a Comment