मोदी सरकार की किसान विरोधी नीतियों और आर्थिक फैसलों का खुलकर विरोध करने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा को सोमवार (4 दिसंबर) को महाराष्ट्र पुलिस ने अकोला जिले में गिरफ्तार कर लिया। हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया, लेकिन वह वापस फिर से प्रदर्शन पर बैठ गए। सिन्हा सैकड़ों विदर्भ क्षेत्र के किसानों के प्रति महाराष्ट्र सरकार की ‘बेरूखी’का विरोध कर रहे थे। बता दें कि राज्य में उनकी ही पार्टी बीजेपी की सरकार है।

अब यशवंत सिन्हा के समर्थन में विपक्ष के दो मुख्यमंत्री खुलकर सामने आ गए हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर बीजेपी नेता सिन्हा का समर्थन किया है। बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘मैं पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा जी के जेल जाने के बारे में सुनकर चिंतित हूं। मैं अपने सांसद दिनेश त्रिवेदी को उनसे मिलने के लिए भेजूंगी। वह किसानों की हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्हें हमारा पूरा समर्थन है।’ वहीं, दूसरी तरफ दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी सिन्हा के समर्थन में ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘यशवंत सिन्हाजी को क्यों गिरफ्तार किया गया? उन्हें जल्द से जल्द रिहा किया जाना चाहिए।

अकोला के जिला पुलिस अधीक्षक राकेश कालासागर ने न्यूज एजेंसी PTI से कहा कि, ‘‘हमने बंबई पुलिस कानून की धारा 68 के प्रावधानों के तहत जिला कलेक्ट्रेट के बाहर करीब 250 किसानों के साथ सिन्हा को हिरासत में लिया।’’ आईपीएस अधिकारी ने कहा कि हिरासत में लिये गए लोगों को अकोला जिला पुलिस मुख्यालय मैदान ले लाया गया।
आपको बता दें कि सैकड़ों किसानों के साथ सिन्हा अकोला जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर कपास और सोयाबीन पैदा करने वाले किसानों के प्रति राज्य सरकार की कथित बेरूखी का विरोध कर रहे थे।

 

06-Dec-2017

Leave a Comment