मीडिया रिपोर्टो से 

नई दिल्ली: अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस ने सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ मतभेदों के बाद इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने एक पत्र में कहा है कि राष्ट्रपति पेंटागन के शीर्ष पद पर किसी ऐसे व्यक्ति को चाहते हैं, जो उनके विचारों से मेल रखता हो. सेवानिवृत्त मरीन जनरल, मैटिस ने यह घोषणा ऐसे समय में की है, जब एक दिन पहले ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि सीरिया से अमेरिकी सैनिकों की पूर्ण वापसी जारी है. मैटिस ने कहा कि वह फरवरी के अंत तक पद से हट जाएंगे.

वाशिंगटन पोस्ट के अनुसार, ट्रंप ने सीरिया से सैनिकों की वापसी पर मैटिस सहित अपने सलाहकारों को दरकिनार कर दिया और इस इस्लामिक राज्य पर जीत की घोषणा कर दी. हालांकि पेंटागन और विदेश विभाग महीनों से कह रहे हैं कि सीरिया में समूहों के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है. राष्ट्रपति ने मैटिस की सिफारिश के विपरीत पेंटागन को यह आदेश भी दिया कि वह अफगानिस्तान में तैनात 14,000 अमेरिकी सैनिकों में से लगभग आधी संख्या को वापस बुलाने की एक योजना तैयार करें. इस कदम से युद्धग्रस्त अफगानिस्तान अतिरिक्त संकट में फंस सकता है.

व्हाइट हाउस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मैटिस ने ट्रंप के साथ आमने-सामने हुई एक बैठक के बाद अपना त्याग-पत्र जारी किया. बैठक में दोनों नेताओं ने अपने मतभेदों पर चर्चा की. मैटिस ने ट्रंप के विपरीत अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन का पक्ष लिया और कहा कि अमेरिका अपने सहयोगियों के साथ अपने संबंधों से अपनी शक्ति हासिल करता है और इसलिए उनके साथ सम्मान से पेश आना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि देश को इस्लामिक स्टेट जैसे समूहों से उत्पन्न खतरों सहित अन्य खतरों को लेकर बिल्कुल स्पष्ट रहना चाहिए.

मैटिस ने लिखा है, "हमें एक ऐसी अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को आगे लाने के लिए यथासंभव सबकुछ करना चाहिए, जो हमारी सुरक्षा, समृद्धि और मूल्यों के सवार्धिक अनुकूल हो और हम हमारे गठबंधन सहयोगियों के जरिए इस प्रयास में मजबूत हुए हैं." पेंटागन ने मैटिस का त्यागपत्र तब जारी किया, जब इसके पहले ट्रंप ने ट्विटर पर घोषणा की कि मैटिस जा रहे है. उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्त मरीन जनरल सेवानिवृत्त होंगे. ट्रंप ने मैटिस के साथ अपने मतभेदों का कोई जिक्र नहीं किया.

 

22-Dec-2018

Related Posts

Leave a Comment