दिल्ली 

हरियाणा के फर्जी डोमिसाइल सर्टिफिकेट पर 2-2 करोड़ का इनाम लेने वाले दो कबड्‌डी खिलाड़ियों से सरकार ने इनामी राशि वापस लेने के आदेश दिए हैं। इस संबंध में खेल विभाग ने रिकवरी नोटिस भी जारी कर दिया है। अक्सर केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा इनाम दिया जाता है। ठीक इसी तरह साल 2014 के एशियाई खेलों में कबड्डी की टीम ने गोल्ड मेडल जीता था। जिसके बाद खिलाड़ियों को राज्य सरकार के द्वारा इनाम देने की घोषणा की गई थी। इस कबड्डी टीम में मंजीत सिंह छिल्लर और राकेश कुमार भी शामिल थे। ये दोनों ही खिलाड़ी दिल्ली की तरफ से खेलते थे लेकिन इन दोनों ने हरियाणा का फर्जी डोमिसाइल सर्टिफिकेट बनाकर राज्य सरकार से दो-दो करोड़ रुपए इनाम के तौर पर लिए थे।

वहीं जब इस पूरे मामले में इन दोनों ही खिलाड़ियों के डोमिसाइल की जांच की गई तो पता चला की इन्होंने फर्जीवाड़ा किया है। जांच कमेटी की रिपोर्ट में दोनों के डोमिसाइल गलत पाए गए। जिसके बाद इस पूरे मामले में खेल विभाग ने रिकवरी नोटिस जारी किया है। हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने साल 2015 में इन दोनों ही खिलाड़ियों को इनाम के रुप में दो-दो करोड़ रुपए दिए थे। जांच कमेटी ने पाया की मंजीत सिंह छिल्लर ने अर्जुन अवॉर्ड प्रमाण पत्र में दिल्ली का स्थाई पता लिखवाया हुआ था।

बता दें, मूल निवासी के लिए 15 साल से प्रदेश में रहने का प्रमाण होना चाहिए। वहीं राकेश भी दिल्ली में ही रहता है, राकेश ने बहादुरगढ़ में अपने भाई के राशन कार्ड में अपना नाम लिखवाया है। इस पूरे मामले पर हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने कहा कि, ‘दोनों खिलाड़ियों के डोमिसाइल सर्टिफिकेट फर्जी पाए गए हैं। इसलिए दोनों को पुरस्कार में दी गई दो-दो करोड़ रुपए की राशि वापस ली जाएगी। रिकवरी के लिए नोटिस भेज दिया गया है।’

14-Dec-2018

Related Posts

Leave a Comment