नई दिल्ली 

कृषि मंत्रालय की नकली वेबसाइट बनाकर नौकरी का फर्जी विज्ञापन देकर पांच हजार से ज्यादा बेरोजगार युवाओं को ठगने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। क्राइम ब्रांच ने सोमवार को इस फर्जीवाड़े में लिप्त गिरोह का पर्दाफाश करते हुए कल्याणपुरी से दो ठगों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि उनके तीन साथियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है।

मामले की जांच से जुड़े डीसीपी भीष्म सिंह ने बताया कि ठगों ने कृषि मंत्रालय की फर्जी वेबसाइट बनाई और उस पर मंत्रालय में विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे। इसके बाद ठगों द्वारा वेबसाइट पर दिए गए कृषि भवन के  पते पर आवेदकों के फॉर्म पहुंचने लगे तो मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के कान खड़े हो गए। विभागीय जांच में इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ। इसके बाद मंत्रालय के अधिकारियों ने 15 अक्तूबर को फर्जीवाड़े की शिकायत क्राइम ब्रांच को दी। मामले की जांच के दौरान पुलिस ने सोमवार को इस गिरोह से जुड़े दो लोगों को यमुनापार के कल्याणपुरी इलाके से गिरफ्तार कर लिया। दोनों से पूछताछ के बाद पुलिस इनके फरार साथियों की तलाश में छापेमारी कर रही है।
 
गिरोह अब तक 5000 से अधिक बेरोजगार युवकों को ठग चुका था। गिरोह ने आवेदन फीस के नाम पर प्रत्येक पीड़ित से 500 रुपये का बैंक ड्राफ्ट मंगवाया था। इस तरह से गिरोह ने बेरोजगारों को लगभग 25 लाख रुपये का चूना लगा दिया। पुलिस के मुताबिक, गिरोह ने फर्जी वेबसाइट पर 6 अक्तूबर को नौकरी के लिए विज्ञापन दिया था और फॉर्म भरने की आखिरी तिथि 28 अक्तूबर निर्धारित की गई थी। आरोपियों ने पूछताछ में खुलासा किया कि इन्होंने कुछ दिन पहले फर्जी विज्ञापन के जरिए एक गिरोह द्वारा ठगी करने की खबर अखबारों में पढ़ी थी। इसके बाद इनके मन में भी इस तरह से फर्जीवाड़ा कर लोगों को ठगने का विचार आया।
24-Oct-2018

Related Posts

Leave a Comment