नई दिल्ली। एक भारतीय दपंत्ति ने यूरोप की बड़ी एयरलाइन कंपनी पर नस्लभेदी टिप्पणियां करने और उन्हें फ्लाइट से उतारने का आरोप लगाया है। भारतीय दंपत्ति का कहना है कि उनके 3 साल के बेटे के रोने के कारण क्रू ने उन्हें फ्लाइट से उतार दिया और उनपर नस्लभेदी टिप्पणियां भी कीं। दंपत्ति ने ब्रिटिश एयरवेज पर कार्रवाई की मांग करते हुए विमानन मंत्री सुरेश प्रभु को चिट्ठी लिखी है। 

भारतीय दंपत्ति ने यूरोप की प्रतिष्ठित ब्रिटिश एयरवेज के क्रू पर आरोप लगाया है कि उन्होंने बच्चे के रोने के कारण उन्हें फ्लाइट से उतार दिया। दंपत्ति ने बताया कि बच्चे की मां उसे चुप कराने की कोशिश कर रही थी, तभी क्रू के एक सदस्य ने बच्चे को जोर से चुप होने के लिए कहा। इससे बच्चा डर गया और जोर-जोर से रोने लगा। इसके बाद फ्लाइट को वापस टर्मिनल के पास ले जाया गया जहां दंपत्ति समेत कुछ और भारतीय परिवारों को उतार दिया गया। 

ये घटना 23 जुलाई को ब्रिटिश एयरवेज लंदन-बर्लिन फ्लाइट BA 8495 में इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेज 1984 बैच के एक अधिकारी के साथ घटी। सड़क परिवहन मंत्रालय में कार्ररत इस अधिकारी और उसके परिवार समेत कुछ भारतीय परिवारों को इस फ्लाइट से लंदन एयरपोर्ट पर बोर्डिंग के बाद उतार दिया गया। अधिकारी ने विमानन मंत्री सुरेश प्रभु को चिट्ठी लिखकर कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने एयरलाइंस पर अपमान और नस्लीय व्यवहार का आरोप लगाया है। 

अपनी चिट्ठी में अधिकारी ने लिखा, 'सिक्योरिटी अनाउंसमेंट के बाद मेरी पत्नी तीन साल के बेटे की सीट बेल्ट बांधने लग गई। मेरे बेटे को अजीब लगा और वो रोने लग गया। मेरी पत्नी ने उसे अपनी गोद में लेकर चुप कराने की कोशिश की कि तभी क्रू के एक पुरुष सदस्य ने आकर हमपर चिल्लान शुरू कर दिया। वो मेरे बेटे पर भी चिल्लाया और उसे अपनी सीट पर जाने के लिए कहा। मेरा बेटा इससे और डर गया और जोर-जोर से रोने लगा। पीछे बैठे एक और भारतीय परिवार ने उसे बिस्किट देकर शांत करने की कोशिश की।' अधिकारी ने आगे लिखा की बेटे के रोने के बावजूद उनकी पत्नी ने उसे सीट पर बैठा दिया।

इसके बाद फ्लाइट वापस रनवे की तरफ जाने लगी। 'क्रू का वो सदस्य फिर से आया और आकर मेरे बेटे पर चिल्लाने लगा। उसने कहा कि तुम चुप हो जाओ नहीं तो तुम्हें खिड़की से बाहर फेंक दिया जाएगा और परिवार को विमान से नीचे उतार दिया जाएगा। हम काफी डर गए थे।' इसके बाद विमान को वापस टर्मिनल के पास लाया गया और परिवार को नीचे उतार दिया गया। एक सिक्योरिटी गार्ड ने अधिकारी के परिवार और उनके पीछे बैठे भारतीय परिवार से उनके बोर्डिंग पास वापस लिए और उन्हें नीचे उतार दिया। इसके बाद परिवार को एयरपोर्ट से लंदन का जाने का इंतजाम भी खुद करना पड़ा।

अधिकारी ने सुरेश प्रभु को लिखा कि क्रू के सदस्य ने भारतीयों के खिलाफ नस्लभेदी टिप्पणिायां की हैं इसलिए वो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग करते हैं। वहीं दूसरी तरफ एयरलाइंस के प्रवक्ता ने कहा कि वो इन आरोपों को गंभीरता से लेते हैं और किसी भी तरह का भेदभाव नहीं सहा जाएगा। ब्रिटिश एयरवेज का कहना है कि उन्होंने इस मामले में जांच शुरू कर दी है और सीधा कस्टमर से संपर्क कर रहे हैं।

साभार : hindi.oneindia.com

09-Aug-2018

Related Posts

Leave a Comment