दिल्ली : दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने एक महिला को गिरफ्तार किया है, जो पुरुषों को फंसाती थी और उन्हें ब्लैकमेल करती थी. एक अधिकारी ने बताया कि आरोपी की पहचान जौहरी जबी उर्फ परवीन (56) के रूप में हुई है, जिसे भोपाल से गिरफ्तार किया गया था. पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) रोहित मीणा ने कहा कि पेशे से डॉक्टर एक व्यक्ति ने 2018 में शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया था कि उसे इलाज के बहाने प्रवीण नाम की एक महिला ने हनीट्रैप में फंसाया था.

शिकायतकर्ता ने यह भी आरोप लगाया कि वह इलाज के लिए उसके क्लिनिक गई और कहा कि वह सऊदी अरब की रहने वाली है और अकेली रहती है. महिला ने इमर्जेसी वाली हालत का हवाला देते हुए उसे अपने आवास पर बुलाया और कोल्ड ड्रिंक में नशीली दवा मिलाकर पिलाने के बाद उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए. वहां पहले से मौजूद उसके साथियों ने महिला के साथ डॉक्टर का वीडियो बनाया और उसके बाद उससे 50 लाख रुपये की मांग करने लगे.शिकायत के अनुसार, जामिया नगर पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता की धारा 384 (जबरन वसूली के लिए सजा) के तहत मामला दर्ज किया गया था और स्थानीय पुलिस द्वारा जांच की गई थी. जांच के दौरान उसके दो साथियों- नूर मझर उर्फ असलम और महेंद्र को अप्रैल, 2019 में स्पेशल सेल द्वारा गिरफ्तार किया गया था. लेकिन महिला को गिरफ्तार नहीं किया जा सका, क्योंकि वह मामला दर्ज होने के तुरंत बाद फरार हो गई थी.
16 जून को क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि महिला झूठी पहचान पर भोपाल में रह रही है. इसके बाद पुलिस टीम का गठन किया गया, जो भोपाल गई और आरोपी महिला को गिरफ्तार किया. पूछताछ के दौरान जौहरी जबी ने खुलासा किया कि वह गिरोह के सरगना के निर्देश पर अमीर लोगों को फंसाती थी, जिसकी पहचान जहांगीर उर्फ शेखू के रूप में हुई है, जबकि गिरोह का एक अन्य सदस्य महेंद्र वीडियो बनाता था.

22-Jun-2022

Related Posts

Leave a Comment