पीले रंग ये फूल बालों के लिए वरदान, 7 दिनों में डैंड्रफ होगा गायब,ऐसे करें प्रयोग...

Health News : आमतौर पर लोग फूलों को साज-सज्जा के लिए प्रयोग करते हैं. लेकिन कई ऐसे फूल हैं, जो औषधीय गुण के लिए जाने जाते हैं. उनमे से एक है गेंदे का फूल. गेंदे के फूल में कई औषधीय गुण होते हैं. इन फूलों का उपयोग कई बीमारियों के इलाज में किया जाता है.

पीले रंग ये फूल बालों के लिए वरदान, 7 दिनों में डैंड्रफ होगा गायब,ऐसे करें प्रयोग...

Health News : आमतौर पर लोग फूलों को साज-सज्जा के लिए प्रयोग करते हैं. लेकिन कई ऐसे फूल हैं, जो औषधीय गुण के लिए जाने जाते हैं. उनमे से एक है गेंदे का फूल. गेंदे के फूल में कई औषधीय गुण होते हैं. इन फूलों का उपयोग कई बीमारियों के इलाज में किया जाता है. गेंदे के फूल में विटामिन ए, विटामिन बी, मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं. जो कई प्रकार के रोगों से लड़ने के लिए कारगर होता है. इसका उपयोग प्रमुख रूप से बाल झड़ना ,डैंड्रफ, स्कैल्प में फंगस ,दाद, खाज, खुजली के लिए किया जाता है.

पूर्व जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ़ आशुतोष पंत ने बताया कि गेंदे के पत्तों का इस्तेमाल करने से 5 से 7 दिनों में डैंड्रफ, स्कैल्प में फंगस, सिर में दाने-फुंसी आदि समस्याएं ठीक हो जाती है. ये सभी समसयाएं होने पर लोग गेंदे के पत्तों का रस अपने सिर पर लगा सकते हैं. इसके साथ पायरिया होने पर इस काढ़ा बनाकर सुबह-शाम कुल्ला करना चाहिए.

चोट के दर्द से मिलेगी राहत

डॉ़ आशुतोष पंत ने बताया कि जब किसी को चोट लग जाएं या कहीं पर जल जाएं तो गेंदे पत्तों का पेस्ट बनाकर घाव पर लगाने से तुरंत राहत मिलती है. इसके साथ ही फूल के बीज को सूखकार उसका पाउडर बनाकर दूध और मिश्री के साथ सेवन करने से सांस के रोग और खांसी में भी राहत मिलती है.

ऐसे करें अपयोग

डॉ़ आशुतोष पंत ने बताया कि गेंदे के फूल में कई तरह के औषधि गुण पाए जाते हैं. इसीलिए इसका प्रयोग कई बीमारियों में औषधि के रूप में किया जाता है. दाद, खाज, खुजली में ये सबसे कारगर है. इसके लिए गेंदें के फूल को अच्छी तरह पीसकर दाद, खाज, खुजली वाली जगह पर लेप लगा लें. ऐसा करने से आपको इन रोगों से राहत मिल जाएगी. वहीं बाल झड़ना ,डैंड्रफ, स्कैल्प में फंगस के इलाज में सही गेंदे के पत्तों का रस लगाना चाहिए.

Disclaimer: इस खबर में दी गई जानकारी, राशि-धर्म और शास्त्रों के आधार पर ज्योतिषाचार्य और आचार्यों से बात करके लिखी गई है. किसी भी घटना-दुर्घटना या लाभ-हानि महज संयोग है. ज्योतिषाचार्यों की जानकारी सर्वहित में है. बताई गई किसी भी बात का khulasapost व्यक्तिगत समर्थन नहीं करता है.(एजेंसी)